राजा बाबू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राजा बाबू
राजा बाबू.jpg
राजा बाबू का पोस्टर
निर्देशक डेविड धवन
निर्माता नन्दू जी. तोलानी
लेखक अनीस बज़्मी (संवाद)
अभिनेता गोविन्दा,
करिश्मा कपूर,
शक्ति कपूर,
अरुणा ईरानी,
गुलशन ग्रोवर,
प्रेम चोपड़ा,
कादर ख़ान,
समीर खाकर,
संगीतकार आनंद-मिलिंद
प्रदर्शन तिथि(याँ) 21 जनवरी, 1994
देश भारत
भाषा हिन्दी

राजा बाबू 1994 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। यह डेविड धवन द्वारा निर्देशित भारतीय हिंदी एक्शन कॉमेडी फिल्म है। फिल्म में करिश्मा कपूर, गोविंदा, शक्ति कपूर, कादर ख़ान, अरुणा ईरानी, प्रेम चोपड़ा और गुलशन ग्रोवर मुख्य कलाकार हैं। यह के. भाग्यराज की तमिल कॉमेडी फिल्म रासुकुट्टी की रीमेक है।

संक्षेप[संपादित करें]

राजा बाबू (गोविंदा) गांव के अमीर जोड़े (कादर ख़ान और अरुणा ईरानी) द्वारा अपनाया गया एक गरीब अनाथ है। वह एक ठेठ देहाती है, दिल का तो अच्छा है लेकिन उसमें शहरी शिष्टाचार की कमी है। वह हमेशा अपने दिली दोस्त नंदू, (शक्ति कपूर) के साथ रहता है। जब वह स्टूडियो में मधु (करिश्मा कपूर) की तस्वीर देखता है तो वह प्यार में पड़ जाता है। उसकी शान से रहन-सहन और प्रभावशाली बातों को देखकर, मधु भी उसे अपने प्यार का सहारा देती है। लेकिन जब वे जान जाती है कि वह उसके उग्र, अच्छी तरह से शिक्षित आत्म से मेल नहीं खाता है तो सभी ग्रामीणों के सामने उसकी बेइज़्ज़ती करती है। यह विशेष रूप से उसके पिता के लिए अपमानजनक था क्योंकि वाह उन ग्रामीणों के सामने हुआ जो उनका बहुत सम्मान करते हैं।

राजा अभी भी मधु से शादी करना चाहता है, भले ही उसने उसके पिता को अपमानित किया हो। हालांकि, उसे पता चला कि वह अपने माता-पिता का जैविक पुत्र नहीं है और उसे वास्तव में अपनाया गया था। वह कृतज्ञता से उबर गया और मधु को भूलने का फैसला करता है। उसके पिता मानसिक रूप से विकलांग लड़की के साथ उसकी शादी की व्यवस्था करते हैं। राजा सहमत है, क्योंकि वह अपने पिता को परेशान करने के लिए कुछ नहीं करना चाहता है। इस बीच, मधु ने फैसला किया कि वह राजा के साथ प्यार में पड़ गई है और उसके पीछे पड़ना शुरू कर देती है। राजा ने उसे बताया कि वह अब उसमें रूचि नहीं रखता है, लेकिन वह सुनने से इंकार कर देती है। इस बीच, राजा का बुरा चाचा (प्रेम चोपड़ा) अपने परिवार को मारने और उनकी संपत्ति पर नियंत्रण रखने की योजना बना रहा है। अंततः राजा के पिता ने उसे घर से बाहर फेंक दिया क्योंकि उन्हें लगता है कि वह अभी भी मधु से जुड़ा हुआ है। इसका लाभ उठाते हुए, दुष्ट चाचा और उसके बेटे ने राजा के माता-पिता का अपहरण कर लिया। हालांकि, राजा उन्हें बचाता है और वे मधु के साथ उसकी शादी से सहमत हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत आनंद-मिलिंद द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."मेरा दिल ना तोडो" (पुरुष)अभिजीत4:55
2."सरकाइलो लो खटिया"कुमार सानु, पूर्णिमा4:22
3."पक चिक पक राजा बाबू"विनोद राठोड़, जॉली मुखर्जी, आनंद5:02
4."आजा आजा याद सताए"उदित नारायण, कविता कृष्णमूर्ति6:59
5."मेरा दिल ना तोडो" (महिला)पूर्णिमा4:57
6."उई अम्मा उई अम्मा"पूर्णिमा5:05
7."अइया अइया अइया मस्ती छा गई"पूर्णिमा4:39

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]