दरार (1996 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दरार
दरार.jpg
दरार का पोस्टर
निर्देशक अब्बास-मस्तान
निर्माता सुजीत कुमार
लेखक आदेश के॰ अर्जुन (संवाद)
पटकथा सचिन भौमिक
अभिनेता जूही चावला,
अरबाज़ ख़ान,
ऋषि कपूर,
जॉनी लीवर
संगीतकार अनु मलिक
प्रदर्शन तिथि(याँ) 5 जुलाई, 1996
देश भारत
भाषा हिन्दी

दरार 1996 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्देशन अब्बास-मस्तान ने किया और मुख्य भूमिकाओं में जूही चावला, ऋषि कपूर और अरबाज़ ख़ान हैं। ये जूलिया राबर्ट्स अभिनीत स्लीपिंग विद द एनीमी (1991) की रीमेक है। इसके पहले जारी हुई मनीषा कोइराला अभिनीत अग्नि साक्षी (1996) और माधुरी दीक्षित अभिनीत याराना (1995) भी इसी पर आधारित थीं।

संक्षेप[संपादित करें]

विक्रम (अरबाज़ ख़ान) अत्यधिक शक्की और अत्याचारी पति है। वह अपने क्रोध और रोष को नियंत्रित नहीं कर पाता है और लगातार अपनी नई-नवेली पत्नी प्रिया (जूही चावला) को पीटता है। वह प्रिया का इलाज करने वाले डॉक्टर की हत्या तक कर देता है जो उसकी माँ की मदद करने की कोशिश कर रहा था। एक दिन, विक्रम और प्रिया अपने जन्मदिन को किसी नाव पर मनाने के लिए जाते हैं। लेकिन नाव एक तूफान में फँस जाती है और प्रिया इस दौरान भाग जाती है। विक्रम सोचता है कि वह डूब गई। इसके बजाय, वह शिमला चली जाती है।

वहाँ, वह राज मल्होत्रा ​​(ऋषि कपूर) से मिलती है। वह उसके साथ प्यार में पड़ जाता है, लेकिन वह हमेशा उससे दूर भागती है। बाद में, जब वह उसके कारण बीमार हो जाता है, तो वह अपनी माँ से पूछती है कि उसे क्या करना चाहिए। उसकी माँ ने उसे अपनी शादी के बारे में सच बताने को कहा। फिर उसकी मर्जी होगी कि वह उसे स्वीकार करेगा या नहीं। प्रिया ने अपने पिछले जीवन के बारे में एक पत्र लिखा। वह उस पत्र को राज को देने के लिए हरि (जॉनी लीवर) से कहती है। हरि पत्र को खो देता है और किसी से नया लिखने के लिए कहता है। राज को यह दूसरा पत्र मिलता है जिसमें एक कविता के अलावा कुछ भी नहीं होता। जब उसे पता चलता है कि वह विवाहित है, तो वह उसे छोड़ देता है। फिर हरि को मूल पत्र मिल जाता है और वह उसे राज को देता है। राज उससे शादी करने का फैसला करता है।

एक दिन, विक्रम ने समाचार पत्र में प्रिया की तस्वीर देखी और उसे पता चला कि वह जिंदा है। वह गोवा के लिए अपना टिकट रद्द कर देता है और शिमला पहुँच जाता है। शिमला में वह उसे खोजता है। यह पता लगने पर कि वह शादी कर रही है, वह राज को मारने की कोशिश करता है लेकिन असफल रहता है। तो वह राज को जेल भिजवा देता है। बाद में, वह प्रिया के घर जाता है और उसके दोस्त को मार देता है और प्रिया को भी मारने का प्रयास करता है।

फिल्म के अंत में, विक्रम की राज के साथ लड़ाई होती है जिसमें राज विक्रम द्वारा प्रिया को मारने से बचाने की कोशिश करता है। राज ने पानी से भरे बाथटब में विक्रम को डुबा दिया। विक्रम को मरा हुआ मानकर राज और प्रिया पास के रेलवे स्टेशन पर पहुँच जाते हैं। विक्रम उन पर हमला करता है और राज को धक्का दे देता है। वहाँ, प्रिया का पीछा करते हुए विक्रम के पैर रेलवे ट्रैक पर फँस जाते हैं। यह देखकर, प्रिया विक्रम को बचाने की कोशिश करती है क्योंकि ट्रेन तेजी से उनके पास आ रही होती है। अपने अत्याचारी व्यवहार के बावजूद प्रिया के प्यार को देखकर, वह ट्रेन के उससे टकराने से पहले उसे धक्का दे देता है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत अनु मलिक द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."ये प्यार प्यार क्या है"राहत इन्दौरीकविता कृष्णमूर्ति, अभिजीत7:44
2."तू ही मेरी मंजिल"राहत इन्दौरीकुमार सानु, अलका याज्ञिक,7:35
3."ऐसी मिली निगाहें"रानी मलिककुमार सानु, अलका याज्ञिक7:36
4."तेरा चाँद चेहरा"शहीन इकबालकुमार सानु, अलका याज्ञिक6:06
5."मैं ही मैं हर तरफ"मजरुह सुल्तानपुरीशंकर महादेवन, अलका याज्ञिक6:52
6."मैंने कहा चल चल"हसरत जयपुरीउदित नारायण6:22
7."एक लड़की मेरा नाम"राहत इन्दौरीउदित नारायण, अलका याज्ञिक7:19
8."दीवाना दीवाना"राहत इन्दौरीअभिजीत, साधना सरगम8:24
कुल अवधि:57:58

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]