प्रजनन दर के आधार पर भारत के राज्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत के राज्यों की यह सूची प्रति महिला पर होने बाले बच्चों के आधार पर है। इस अध्ययनानुसार सात भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश, गोआ, तमिल नाडु, हिमाचल प्रदेश, केरल, पंजाब और सिक्किम अब भारत के जनसंख्या विस्फोट में भागीदार नहीं हैं। वस्तुतः यदि जनसंख्या प्रजनन दर की यही प्रवृत्ति जारी रहती है तो आंध्र प्रदेश, गोआ, तमिल नाडु, हिमाचल प्रदेश और केरल की जनसंख्या में आने वाले दशकों में गिरावट आएगी। रोचक रूप से, दक्षिण भारत के चारों राज्यों, आंध्र प्रदेश, तमिल नाडु, केरल और कर्णाटक में जन्म दर निर्णायक २ बहुत कम है कर्णाटक को छोड़कर जहाँ भी यह दर २.१ ही है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है।[1]

स्थान राज्य प्रजनन दर
आंध्र प्रदेश १.८
गोआ १.८
तमिल नाडु १.८
केरल १.९
हिमाचल प्रदेश १.९
पंजाब
सिक्किम
कर्णाटक २.१
महाराष्ट्र २.१
१० पश्चिम बंगाल २.३
११ असम २.४
११ उडी़सा २.४
११ गुजरात २.४
११ जम्मू और कश्मीर २.४
११ त्रिपुरा २.४
१६ उत्तराखंड २.६
१६ छत्तीसगढ़ २.६
- पूर्ण भारत २.७
१८ हरियाणा २.७
१९ मणिपुर २.८
२० मिज़ोरम २.९
२१ अरुणाचल प्रदेश
२२ मध्य प्रदेश ३.१
२३ राजस्थान ३.२
२४ झारखंड ३.३
२५ नागालैंड ३.७
२६ उत्तर प्रदेश ३.८
२७ मेघालय ३.८
२८ बिहार

वैज्ञानिक दृश्यीकरण[संपादित करें]

कुल प्रजनन दर बनाम क्षेत्रफल बनाम जनसंख्या

सन्दर्भ[संपादित करें]