भारत में मोटापा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत में मोटापा २१ वीं शताब्दी में महामारी अनुपात तक पहुंच गया है, जो की देश की ५% आबादी को प्रभावित करता है।[1] वैश्विक खाद्य बाजारों में भारत के निरंतर एकीकरण के बाद अस्वास्थ्यकर, संसाधित भोजन अधिक सुलभ हो गया है। इसके करण प्रति व्यक्ति औसत कैलोरी सेवन बढ़ रहा है।[2] मोटापे हृदय रोग के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है, भारतीय हृदय संघ जैसे एनजीओ इस मुद्दे के बारे में जागरूकता बढ़ा रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, २५ किलोग्राम / एम २ से अधिक बीएमआई को अधिकवजन माना जाता है।

एनएफएचएस डेटा[संपादित करें]

यह २००७ के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों के आधार पर भारत के राज्यों की एक सूची है जो अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त लोगों के प्रतिशत के क्रम में है।[3]

राज्य पुरुष (%) पुरुष श्रेणी महिलाए (%) महिलाए श्रेणी
भारत 12.1 14 16 15
दिल्ली 45 - 49.8 -
पंजाब (भारत) 30.3 1 37.5 1
केरल 24.3 2 34 2
गोवा 20.8 3 27 3
तमिल नाडु 19.8 4 24.4 4
आंध्र प्रदेश 17.6 5 22.7 10
सिक्किम 17.3 6 21 8
मिजोरम 16.9 7 20.3 17
हिमाचल प्रदेश 16 8 19.5 12
महाराष्ट्र 15.9 9 18.1 13
गुजरात 15.4 10 17.7 7
हरयाणा 14.4 11 17.6 6
कर्नाटक 14 12 17.3 9
मणिपुर 13.4 13 17.1 11
उत्तर प्रदेश 11.4 15 14.8 14
अरुणाचल प्रदेश 10.6 16 12.5 19
उत्तराखण्ड 4.9 17 12 18
जम्मू और कश्मीर 8.7 18 11.1 5
बिहार 8.5 19 10.5 29
नागालैण्ड 8.4 20 10.2 22
राजस्थान 8.4 20 9 20
मेघालय 8.2 22 8.9 26
ओडिशा 6.9 23 8.6 25
असम 6.7 24 7.8 21
छत्तीसगढ़ 6.5 25 7.6 27
पश्चिम बंगाल 6.1 26 7.1 16
मध्य प्रदेश 5.4 27 6.7 23
झारखंड 5.3 28 5.9 28
तेलंगाना 5.2 29 5.3 24
त्रिपुरा 5.1 30 5.2 27

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "India facing obesity epidemic: experts". The Hindu. 2007-10-12.
  2. Gulati, S; Misra, A (2017). "Abdominal obesity and type 2 diabetes in Asian Indians: Dietary strategies including edible oils, cooking practices and sugar intake". European Journal of Clinical Nutrition. 71 (7): 850–857. PMID 28612831. डीओआइ:10.1038/ejcn.2017.92.
  3. "National Family Health Survey, 2005-06". Mumbai: International Institute for Population Sciences. 2007.