खातेगांव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

खातेगांव मध्य प्रदेश के देवास जिले के आखिरी छोर पर स्थित प्रमुख व्यापारिक केंद्र है। पूर्व में इसका नाम हरिगंज था, जो मराठा होल्कर राजघराने के नेमावर जिले से संबद्ध था। खातेगाँव इंदौर बैतूल राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 59 ए पर स्थित है, जो सीधा नागपुर से इंदौर को अमरावती और जलगांव होते हुए जोड़ता है। इसके अलावा पास ही स्थिर संदलपुर, जो इसी राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है, खातेगाँव को दो अन्य अलग मार्गों से जोड़ता है; एक रेहटी के रास्ते भोपाल की ओर, तो दूसरा रेहटी के ही रास्ते सलकनपुर, बुधनी होते हुए होशंगाबाद को जोड़ता है, जो संदलपुर से जबलपुर तक राजमार्ग संख्या 22 कहलाता है। होशंगाबाद से ही यह मार्ग जबलपुर की ओर जाता है और खातेगाँव को जबलपुर से जोड़ता है, दूसरी ओर खातेगाँव से एक मार्ग सतवास होकर सीधे दोनों ओर निमाड़ क्षेत्र से जुड़ जाता है एक सतवास से पुनासा होकर खंडवा तो दूसरा काँटाफोड़, पुंजापुरा, उदयनगर, काटकुट होते हुए बड़वाह सनावद के रास्ते खरगोन की ओर जाता है, मुख्य रूप से इंदौर की ओर जाने वाला मार्ग अधिकतम व्यस्त है क्योंकि इंदौर से कई अन्य मार्गों द्वारा खातेगाँव जुड़ जाता है ! खातेगाँव उपसम्भाग एवं तहसील के साथ ही विकास खंड भी है जो जिला मुख्यालय से 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यही इसकी अजीब वजह है कि जिला मुख्यालय से इतना दूर और आखिरी छोर पर स्थित होने के बाद भी इतना विकासशील होते हुए भी स्वयं जिला नहीं है! खातेगाँव विदिशा लोकसभा के अंतर्गत आने वाले विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 173 है, यँहा से सुषमा स्वराज लोकसभा सांसद और आशीष शर्मा क्षेत्रीय विधायक हैं, अविभाजित मध्यप्रदेश के समय एवं वर्ष 2003 तक यह भोपाल संसदीय क्षेत्र में शामिल हुआ करता था परंतु नवीन परिसीमन मे इसे विदिशा में शामिल कर दिया गया जो ना सिर्फ दूर है बल्कि किसी भी आधार पर मेल नहीं खाता! खातेगाँव वर्ष 1952 से ही विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र रहा है

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

२००१ की जनगणना के अनुसार इसकी जनसंख्या 21,018 थी जिसमें 52.5% पुरुष और 47.5% महिलाएँ थीं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]