कोण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

"यदि कोई रेखा अपने एक सिरे को स्थिर रखकर घूमती हुई अपनी स्थिति में परिवर्तन करती है, तो रेखा के परिक्रमण की माप को कोण कहते है। "

∠, कोण का प्रतीक

ज्यामिति में कोण (Angle) वह आकृति है जो एकबिन्दु से दो सरल रेखाओं के निकलने पर बनती है।

कोणों के चिन्ह (धन एवं ऋण) :[संपादित करें]

कोई भी कोण परिक्रामी रेखा (Revolving Line) द्वारा दो प्रकार से अनुरेखित किया जा सकता है -

"यदि परिक्रामी रेखा वामावर्त (Anti Clock Wise) दिशा घूमकर कोण बनाती है तो इस प्रकार से बना कोण धनात्मक (Positive) होता है ।"

"यदि परिक्रामी रेखा दक्षिणावर्त(Clock Wise) दिशा घूमकर कोण बनाती है तो इस प्रकार से बना कोण ऋणात्मक (Nagative) होता है ।"

धन एवं ऋण कोणों को उनकी राशियों के आगे '+' या '-' का चिह्न लगाकर प्रदर्शित किया जाता है ।

कोणों के प्रकार:------

1:- शून्य कोण:- वह कोण जिसका मान 0° होता है उसे शून्य कोण कहते हैं|


2-न्यूनकोण:- वह कोण जो 0° से बड़ा और 90° से छोटा होता है उसे न्यूनकोण कहते हैं|

3:- समकोण:- वह कोण जिसका मान 90° का होता है उसे समकोण कहते हैं|

4:- अधिककोण:- वह कोण जो 90° से बड़ा और 180° से छोटा होता है उसे अधिक कोण कहते हैं|

5:ऋजुरेखीय कोण:- वह कोण जिसका मान 180° का होता है उसे ऋजुरेखीय कोण कहते हैं|

6:- वृहत्त कोण:- वह कोण जो 180° से बड़ा और 360° से छोटा होता है उसे वृहत्तकोण कहते हैं|

7:- पूर्ण कोण:- वह कोण जिसका मान 360°का होता है उसे पूर्ण कोण कहते हैं|

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]