वायु प्रदूषण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वायु प्रदूषण रसायनों, सूक्ष्म पदार्थ, या जैविक पदार्थ के वातावरण में, मानव की भूमिका है, जो मानव को या अन्य जीव जंतुओं को या पर्यावरण को नुकसान पहुँचाता है.[1]

वायु प्रदूषण के कारण मौतें[2] और श्वांस रोग (respiratory disease).[3] वायु प्रदुषण की पहचान ज्यादातर प्रमुख स्थायी स्त्रोतों (major stationary source) से की जाती है, पर उत्सर्जन का सबसे बड़ा स्त्रोत (source of emissions) मोबाइल, ऑटोमोबाइल्स है.[4]कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैसें, जो ग्लोबल वार्मिंग के लिए सहायक है, को हाल ही में प्राप्त मान्यता के रूप में मौसम वैज्ञानिक प्रदूषक के रूप में जानते हैं, जबकि वे जानते हैं, कि कार्बन डाइऑक्साइड प्रकाश संश्लेषण के द्वारा पेड़-पौधों को जीवन प्रदान करता है.

यह वातावरण एक जटिल, गतिशील प्राकृतिक वायु तंत्र है जो पृथ्वी गृह पर जीवन के लिए आवश्यक है. वायु प्रदुषण के कारण समतापमंडल (Stratosphere) से हुए ओज़ोन रिक्तीकरण (ozone depletion) को बहुत पहले से मानव स्वास्थ्य के साथ साथ पृथ्वी के पारस्थिकी तंत्र (ecosystems) के लिए खतरे के रूप में पहचाना गया है

प्रदूषक[संपादित करें]

फ़्लू गैस desulfurization के प्रारम्भ (flue gas desulfurization) होने के पहले मेक्सिको में इस पॉवर प्लांट से होने वाले उत्सर्जन में बहुत अधिक मात्रा में सल्फरडाइऑक्साइड होता था.

वायु में बहुत से तत्त्व होते हैं जो पौधों और पशुओं (मानव समेत) का स्वास्थ्य कर सकते हैं या नजर ख़राब कर सकते हैं यह प्राकृतिक प्रक्रियाओं तथा मानव गतिविधियों दोनों से उत्पन्न होते हैं. वायु में प्राकृतिक रूप से नहीं पाए जाने वाले तत्व या अधिक सांद्रता के साथ या सामान्य से अलग तत्वों को प्रदूषक कहा जाता है.

प्रदूषकों को प्राथमिक या द्वितीयक के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है.प्राथमिक प्रदूषक वे तत्व हैं जो सीधे एक प्रक्रिया से उत्सर्जित हुए हैं जैसे ज्वालामुखी विस्फोट से राख, मोटर गाड़ी से कार्बन मोनो ऑक्साइड गैस, कारखानों से निकलने वाली सल्फर डाइऑक्साइड गैस.

द्वितीयक प्रदूषक सीधे उत्सर्जित नहीं होते हैं. बल्कि जब प्राथमिक प्रदूषक आपस में क्रिया या प्रतिक्रिया करते हैं जब वे वायु में बनते हैं. द्वितीयक प्रदूषक का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है जमीनी स्तर की ओज़ोन- बहुत से द्वितीयक प्रदूषकों में एक जो प्रकाश-रसायनिक धूम कोहरा बनाती है.

ध्यान रखें कि कुछ प्रदूषक प्राथमिक और द्वितीयक दोनों हो सकते है, यानि वे सीधे भी उत्सर्जित हो सकते हैं और अन्य प्राथमिक प्रदूषकों से बन सकते हैं.

मानव गतिविधियों से उत्पन्न प्रमुख प्राथमिक प्रदूषकों में शामिल है:

द्वितीयक प्रदूषकों में शामिल है:

सुक्ष्म वायु प्रदूषकों में शामिल है:

स्त्रोत[संपादित करें]

स्ट्रेटफोर्ड, टेक्सास की और आने वाली धूल भरी आंधी (Stratford, Texas)

.

दक्षिण जॉर्जिया के (controlled burn)एक खेत में वसंत रोपण के लिए नियंत्रित दहन का उपयोग.
सूर्यास्त के समय शंघाई का पुक्सी क्षेत्र अब तक सूरज अपने क्षितिज के नीचे तक नहीं डूबा है बल्कि यह धूम कोहरा (smog) की रेखा तक पहुँच गया है.

वायु प्रदुषण के स्त्रोत विभिन्न स्थान, गतिविधि या घटक सूचित करते हैं जो वातावरण में प्रदूषकों को मुक्त करने के लिए जिम्मेदार है.इन स्त्रोतों को दो प्रमुख श्रेणी में वर्गीकृत किया जा सकता है जो हैं:

विभिन्न प्रकार के इंधन के दहन से सम्बद्ध मानवजनित स्त्रोत (मानव गतिविधि ) (fuel)

प्राकृतिक स्रोत

उत्सर्जन के घटक[संपादित करें]

वायु प्रदूषक उत्सर्जन घटक वे प्रतिनिधिक मान हैं जो उस प्रदूषक के उत्सर्जन से सम्बंधित गतिविधि द्वारा व्यापक वायु में उत्सर्जित प्रदूषकों की मात्रा बताती है. इन घटकों को आमतौर पर प्रदूषकों के वजन मान, परिणाम, दूरी या प्रदूषक के उत्सर्जन गतिविधि की अवधि की एक इकाई से विभाजित कर व्यक्त किया जाता है ( जैसे जले हुए प्रति मेगाग्राम कोयले से उत्सर्जित सुक्ष्म उत्सर्जन).इस प्रकार के घटक वायु प्रदूषण के विभिन्न स्त्रोतों से उत्सर्जित उत्सर्जन का अनुमान लगाने में सुविधा प्रदान करते हैं. अधिकतर मामले में, ये घटक स्वीकार्य गुणवत्ता के उपलब्ध आंकडों के औसत है, और आमतौर पर दीर्घ अवधि औसत माने जाते है.

संयुक्त राज्य अमेरिका पर्यावरण सुरक्षा पर्यावरण एजेंसी (United States Environmental Protection Agency)ने औद्योगिक स्रोत के लिए वायु प्रदूषकों के उत्सर्जन घटकों का एक संकलन प्रकाशित किया है[5]. यूरोपीय पर्यावरण एजेंसी की तरह यूनाइटेड किंगडम , ऑस्ट्रेलिया , कनाडा और अन्य देशों ने भी इस तरह के संकलन प्रकाशित किए हैं (European Environment Agency)[6][7]. [8][9] [10]

आंतरिक हवाई गुणवत्ता ( IAQ )[संपादित करें]

निकासी की कमी से भीतर वायु प्रदुषण हो जाता है जहाँ लोग अपना ज्यादातर समय व्यतीत करते हैं.रेडॉन ( आर एन ) गैस , एक कार्सिनोजेन (carcinogen), है जो पृथ्वी से कुछ स्थानों से निकलती है और घरों में भर जाती है. भवन सामग्री जैसे कालीन (carpet) और प्लायवुड (plywood) से फार्मलडिहाइड (formaldehyde) (H2CO) गैस उत्सर्जित होती हैं .पेंट और विलायक सूखने पर वाष्पशील जैविक योगिक (volatile organic compounds) (VOCs) छोड़ते हैं. सीसे (Lead) का पेंट धूल (dust) में बदल सकता है और साँस के द्वारा शरीर के भीतर जा सकता है. वांछित वायु प्रदुषण एयर फ्रेशनर (air freshener), धूप (incense) और अन्य सुगन्धित वस्तुओं से उत्पन्न किया जाता है. नियंत्रित लकड़ी (wood) आग में चूल्हा (stove)और s आग जलाने की जगह (fireplace)पर होने वाला धुआ भीतर और बाहर हवा में उल्लेखनीय मात्र में धुम्रपान के तत्व जोड़ सकता है. बिना उचित वेंटीलेशन के कीटनाशकों और रासायनिक स्प्रे से आंतरिक प्रदूषण के घातक परिणाम हो सकते हैं.

दोषपूर्ण चिमनी (Carbon monoxide)और निकासी के कारन या भीतर चारकोल (charcoal) को जलने से अनेक बार कार्बन मोनोऑक्साइड ( CO ) विषाक्तता और घातक परिणाम हो जाता हैं. ख़राब तरीके से संयोजित पायलट प्रकाश से भी कार्बन मोनोऑक्साइड की तीव्र विषाक्तता हो सकती (pilot light)है. सभी घरेलु नलसाजी (plumbing)में सीवर गैस औरहाइड्रोजन सल्फाइड (hydrogen sulfide) को रिसने से रोकने के लिए जाल लगाये जाते हैं. वस्त्र शुष्क सफाई के बाद टेट्राक्लोरोइथेलीन (tetrachloroethylene), या अन्य शुष्क सफाई के दृव्य उत्सर्जित करतें हैं (dry cleaning).

हालाँकि इसके इस्तेमाल पर अनेक देशों में रोक लगा दी गई है परन्तु पिछले समय में इसके औद्योगिक और घरेलु वातावरण में इसके व्यापक इस्तेमाल के कारन अनेक स्थानों में बहुत खतरनाक सामान छोड़ दिया है. एस्बेस्टोसिस (Asbestosis) फेफडो (lung) के ऊतकों (inflammatory) की स्वस्थ्य स्थिति को गंभीर रूप से प्रभावित करने वाला तत्व है.यह लंबे समय तक एस्बेस्टोसिस वाली सामग्री के संपर्क में रहने के कारण हो जाता है.पीड़ितों को गंभीर dyspnea (dyspnea) (सांस की कमी) और विभिन्न प्रकार के फ़ेफ़ड़ों के केंसर (lung cancer) होने का खतरा हो सकता है.

क्योंकि गैर-तकनीकी साहित्य में इसकी स्पष्ट व्याख्या नहीं है, इसलिए सम्बन्धित रोगों के अनेक स्वरूपों के बीच अन्तर स्पष्ट करना होगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, इन्हे एसबेस्टोसिस (asbestosis), फेफड़ों के कैंसर, और मेसोथेलिओमा (mesothelioma)(आम तौर पर एक बहुत ही दुर्लभ कैंसर) के रूप में परिभाषित कर सकते हैं, जब ये अधिक व्यापक हो जाते हैं तब ये अधिकतर एसबेस्टस से सम्बन्धित ही रहते हैं.

वायु प्रदूषण के जैविक स्त्रोत भीतर भी पाए जाते हैं क्योंकि गैस और वायुजनित तत्व होते हैं. पालतू जानवर (Pet)रूसी, लोगों की सूक्ष्म त्वचा और बालों से धूल, (mite)बिस्तर, फर्नीचर और कमरे के फ़र्श पर बिछे क़ालीन से एंजाइम और मैक्रो मीटर -आकार के फेकल बीट उत्पन्न होते हैं, रहवासी मीथेन (methane)उत्सर्जित करते हैं, दीवारों में फफूंद जम जाती है (mold)जो छिद्रों में मायकोटॉक्सिन (mycotoxins)बनती है, वातानुकूलन यंत्रों (air conditioning)से लेगिनेरिएस रोग (Legionnaires' disease)और फफूंद हो सकती है और घरेलु पौधों (houseplant)से और आसपास के बगीचों (gardens)से धूल (pollen), फफूंद और पराग उत्पन्न हो सकता है. भीतर हवा के प्रवाह की कमी के कारण ये वायुजनित प्रदूषक उससे कहीं अधिक जमा हो जाते हैं जितने वे सामान्य स्थिति में प्रकृति में रहते हैं.

स्वास्थ्य प्रभाव[संपादित करें]

MOPITT satellite computer image of carbon monoxide in March 2010.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हर साल २-४ लाख लोगों की मौत का कारण सीधे सीधे वायु प्रदूषण है जबकि इनमे से १-५ लाख लोग आतंरिक वायु प्रदूषण से मारे जाते हैं (indoor air pollution).[3]बर्मिंघम विश्वविद्यालय (University of Birmingham) का एक अध्ययन दिखाता है कि निमोनिया (pneumonia) से होने वाली मौतें और मोटर गाड़ी से होने वाले वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों में पक्का सम्बन्ध है. [11] दुनिया भर में हर साल मोटर गाड़ी (automobile)से होने वाली मौतों की तुलना में वायु प्रदुषण से होने वाली मौतें अधिक है. २००५ में प्रकाशित यह बताता है की हर साल ३१०,००० यूरोपियन वायु प्रदुषण से मर जाते हैं. वायु प्रदुषण के प्रत्यक्ष कारण से जुड़ी मौतों में शामिल है अस्थमा (asthma), ब्रोन्काइटिस (bronchitis), वातस्फीति (emphysema), फेफड़ों और हृदय रोग, और सांस की एलर्जी.US EPA (US EPA)का आंकलन है की डीजल इंजिन की तकनीक में (एक प्रस्तावित परिवर्तन) अमेरिका में हर साल १२,००० असमय मौतों, १५,००० असमय हदय आघात, अस्थमा से पीड़ित ६,००० (heart attack)बच्चों की असमय पीडा (emergency room), ८९०० श्वास रोग से पीड़ित लोगों को (asthma)दवाखाने में भरती होने से रोक सकता है.

भारत में सबसे भयंकर नागरिक प्रदुषण आपदा १९८४ में भोपाल आपदा थी (Bhopal Disaster). [12]संयुक्त राज्य अमरीका की यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री कारखाने से रिसने वाली औद्योगिक वाष्प से २००० से अधिक लोग मारे गए और १५०,००० से ६००,००० दुसरे लोग घायल हो गए जिनमे से ६,००० लोग बाद में मारे गए. इंग्लॅण्ड को अपना सबसे बुरा नुकसान जब हुआ तब दिसम्बर १९५२ (Great Smog of 1952)को लन्दन में भारी धूम कोहरा की घटना हुई. छ : दिन में ४००० से अधिक लोग मारे गए, और बाद के महीनों के भीतर८००० और लोगों की मृत्यु हो गई. १९७९ में पूर्व सोवियत संघ में स्वर्डर्लोव्स्क (anthrax)के पास एक (biological warfare)जैविक युद्ध कारखाने से अन्थ्राक्स (USSR)के रिसाव से यह (Sverdlovsk)माना जाता है को सेकडों लोगों की मृत्यु हो गयी. अमेरिका में वायु प्रदुषण की सबसे भीषण घटना डोनोरा , पेनसिल्वेनिया (Donora, Pennsylvania)में १९४८ के अक्टूबर के अन्तिम दिनों में हुई जिसमे २० लोग मरे गए और ७,००० लोग घायल हो गए[13].

वायु प्रदुषण से होने वाले स्वस्थ्य प्रभाव जैविक रसायन और शारीरिक परिवर्तन से लेकर श्वास में परेशानी, घरघराहट, खांसी और विद्यमान श्वास तथा ह्रदय की परेशानी हो सकती है. ं इन प्रभावों का परिणाम दवाओं के उपयोग में वृद्धि होती है, चिकित्सक के पास या आपातकालीन कक्ष में ज्यादा जाना, ज्यादा अस्पताल में भरती होना और असामयिक मृत्यु के रूप में आता है.वायु की ख़राब गुणवत्ता के प्रभाव दूरगामी है परन्तु यह सैधांतिक रूप से शरीर की श्वास प्रणाली और ह्रदय व्यवस्था को प्रभावित करता है. वायु प्रदुषण की व्यक्तिगत प्रतिक्रिया उस प्रदूषक पर, उसकी मात्रा पर, व्यक्ति के स्वास्थय की स्थिति और अनुवांशिकी पर निर्भर करती है जिससे वह व्यक्ति संपर्क में रहता है.

पुटीय तंतुमयता पर प्रभाव[संपादित करें]

वाशिंगटन विश्वविद्यालय द्वारा १९९९ से २००० के बीच किए एक अध्ययन के अनुसार (University of Washington)सूक्ष्म वातावरण, वायु प्रदुषण में रहने वाले मरीजों को फेफडो के संक्रमण का जोखिम अधिक है. [14]विशिष्ट प्रदूषक एरुगिनोसा या बी सिपेसिया और इसके साथ इसकी सामाजिक आर्थिक स्थिति के लिए इनकी मात्रा के अध्ययन के पूर्व रोगियों की जाँच की गई थी. भाग लेने वाले प्रतिभागी संयुक्त राज्य अमेरिका के होकर एक पर्यावरण सुरक्षा एजेंसी के निकट संपर्क में थे (Environmental Protection Agency). अध्ययन के दौरान ११७ मौतें वायु प्रदूषण से संबंधित थी. एक प्रवृत्ति यह देखी गई कि बड़े महानगरों में रहने वाले रोगी जिन्हें चिकित्सा सहायता आसानी से उपलब्ध है, भी बड़े शहरों में होने वाले अत्यधिक उत्सर्जन के कारन प्रदूषकों के उच्च स्तर से पीड़ित थे. सिस्टिक फिब्रोसिस के मरीजों में जो पहले से ही फेफडो के संक्रमण से पीड़ित हैं, में मोटर गाड़ी, तम्बाखू के धुम्रपान और भीतरी ऊष्मा उपकरणों के अनुचित इस्तेमाल से होने वाले उत्सर्जन से फेफडो के कार्यों में कमीं आ सकती है.[15]

COPD पर प्रभाव[संपादित करें]

फेफड़े में लगातार रूकावट की बीमारी (Chronic obstructive pulmonary disease)( COPD ) में शामिल हैं चिरकालिक ब्रॉन्काइटिस (chronic bronchitis), वातस्फीति (emphysema), और कुछ प्रकार के अस्थमा जैसे रोग. (asthma).[16]१९५२ की विकराल धूम कोहरा (Great Smog of 1952)के दौरान हॉलैंड और रीड, दो शोधकर्ताओं ने लन्दन के २९३ पुरूष डाक कर्मचारी तथा ग्रामीण क्षेत्र के ४८८ पुरूष डाक कर्मचारी पर एक शोध कार्य संपन्न किया. शहरी कर्मचारियों में FEV1 प्रदूषक की मात्रा महत्वपूर्ण तरीके से कम थी हालाँकि उनके फेफडो की क्षमता कार के धुए और धुम्रपान जैसे शहरी प्रदुषण की वजह से कम पाई गई.[17] यह माना जाता है की शहरी इलाकों में रहने से पुटीय तंतुमयता (cystic fibrosis), जैसे गंभीर स्वास्थ्य जोखिम ज्यादा देखने में आते हैं. अध्ययन बताते हैं कि शहरी क्षेत्रों में मरीज बलगम की अधिकता, फेफड़ों की क्षमता कम होना और गंभीर खांसी तथा वातस्फीति .[18] से अधिक पीड़ित रहते हैं.

बच्चों पर प्रभाव[संपादित करें]

दुनिया भर के अत्यधिक वायु प्रदुषण वाले शहरों में ऐसी संभावना है कि उनमे रहने वाले बच्चों में कम जन्म दर के अतिरिक्त अस्थमा (asthma), निमोनिया (pneumonia) और दूसरी श्वास सम्बन्धी परेशानियाँ विकसित हो सकती है. युवाओं के स्वास्थ्य के प्रति सुरक्षा उपायों को सुनिश्चित करने के लिए नई दिल्ली, भारत (New Delhi, India) जैसे शहरों में बसें अब संपीडित प्राकृतिक गैस का उपयोग प्रारंभ किया गया है.[19][[विश्व स्वास्थ्य संगठन]who] द्वारा किए गए अनुसंधान बताते हैं की कम आर्थिक संसाधन वाले देशों में जहाँ सूक्ष्म तत्वों की मात्रा बहुत ज्यादा है, बहुत ज्यादा गरीबी है और जनसँख्या की उच्च दर है. इन देशों के उदाहरण में शामिल हैं मिस्र, सूडान, मंगोलिया, और इंडोनेशिया.स्वच्छ वायु अधिनियम (Clean Air Act) १९७० में पारित किया गया था , लेकिन २००२ में कम से कम १४६ मिलियन अमेरिकी ऐसे क्षेत्रों में रहते थे जो १९९७ के राष्ट्रीय परिवेश वायु गुणवत्ता मानकों में से एक "प्रदूषक मानदंड" को भी पूरा नहीं करते थे.[20] उन प्रदूषकों में शामिल हैं, ओज़ोन, सुक्ष्म तत्व, सल्फर डाइआक्साइड, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, और सीसा क्योंकि बच्चे ज्यादातर समय बाहर गुजारते हैं इसलिए वे वायु प्रदुषण के खतरों के प्रति अधिक संवेदनशील है. ७इयियुओउपिग्ज्ग्य्फ्ह्फ्य्, फ्य्९इओउय्त्ग्त्फ्७८००९गेस्वे००पिपिओइग्घ्फ्रेउहिकु;;ओ;

कटौती के प्रयास[संपादित करें]

वायु प्रदुषण को कम करने के लिए विभिन्न प्रदुषण नियंत्रण तकनीक तथा शहरी योजना (urban planning)रणनीति उपलब्ध है.

मोटर गाड़ी से होने वाले प्रदुषण को कम करने के लिए किए जाने वाले प्रयासों में शामिल है प्राथमिक नियामक ( अनेक देशों में अनुमत नियामक हैं), नए स्त्रोतों के लिए विस्तार नियामक (जैसे क्रूज़ (cruise)और परिवहन जहाज, कृषि उपकरण और गैस से चलने वाले छोटे उपकरण जैसे लान त्रिमर, चेंसा (chainsaw) और स्नोमोबाइल (snowmobiles)) बड़ी हुई इंधन क्षमता (जैसे संकर वाहन (hybrid vehicle) का इस्तेमाल, स्वस्छ इंधन में रूपांतरण ( जैसे बयोएथ्नोल (bioethanol), बायोडीजल या विद्युत गाड़ियों में रूपांतरण)

नियंत्रण उपकरण[संपादित करें]

उद्योग या परिवहन उपकरणों के अंतर्गत सामान्यतः प्रदूषण नियंत्रण उपकरणों के रूप में निम्नलिखित मदों का प्रयोग किया जाता हैं. वे या तो दूषणकारी तत्व को नष्ट कर सकते हैं या इन्हे वातावरण में उत्सर्जित करने के पहले एक निकास स्ट्रीम से हटा दिया जाता है.

विधिक नियम[संपादित करें]

कैरो में धूम कोहरा

सामान्य तौर पर , वायु गुणवत्ता मानक दो तरह के होते हैं. मानकों की प्रथम श्रेणी (जैसे अमेरिकन राष्ट्रीय परिवेश वायु गुणवत्ता मानक (National Ambient Air Quality Standards)) विशिष्ट प्रदूषकों के लिए अधिकतम सांद्रता निर्धारित करता है.) पर्यावरण एजेंसियां नियम अधिनियमित करती है जिनसे अपेक्षा होती है की इनसे लक्षित स्तर प्राप्त होंगे. दूसरी श्रेणी ( जैसे की उत्तर अमेरिका का वायु गुणवत्ता सूचकांक (Air Quality Index)) जो विभिन्न सीमाओं के साथ एक पैमाने का रूप ले लेता है जिसे जनता को बाहरी गतिविधि से सम्बद्ध जोखिमों से अवगत कराने के लिया उपयोग में लाया जाता है. यह पैमाना विभिन्न प्रदूषकों के बीच भेद कर भी सकता है और नहीं भी कर सकता है.

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा में आमतौर पर हवा की गुणवत्ता का मूल्यांकन, पर्यावरण के लिए जिम्मेदार प्रांतीय और क्षेत्रीय मंत्री, संघ का एक अंतर सरकारी निकाय, कनाडा के पर्यावरण मंत्रियों की परिषद (Canadian Council of Ministers of the Environment)(CCME) द्वारा निर्धारित मानकों के अनुसार किया जाता है. CCME ने कनाडा को (Canada Wide Standards)(CWS) मानकों के तहत रखा है.[21][22] ये हैं :

  • CWS के लिए PM2.5 = 30 μg/m3 (२४ घंटा औसत समय ,वर्ष २०१० तक,९८ प्रतिशत परिवेश की वार्षिक माप पर आधारित,३ लगातार सालों से अधिक औसत )
  • CWS के लिए ओजोन = 65 ppb वर्ष ( 8 घंटे की औसत समय, वर्ष 2010 तक उपलब्धि सालाना 4 सर्वोच्च माप,औसत 3 से अधिक सालों पर आधारित है.

ध्यान रखें कि, इन मानकों को प्राप्त न करने का कनाडा में कोई महत्व नहीं है. इसके अलावा ये केवल १००००० से अधिक की जनसँख्या वाले स्थानों पर लागू होते हैं इसके अलावा राज्य और क्षेत्र सीसीएम ई द्वारा तय किए मानको से अधिक कड़े मानक तय कर सकती हैं

यूरोपीय संघ[संपादित करें]

कुछ वायुमंडलीय प्रदूषक राष्ट्रीय उत्सर्जन सीमा (NEC) के लिए २००१/८१/EC (NECD) के निर्देशों से नियमित होते हैं.[23]एन ई सी डी के संसोधन से जुड़ें तैयारी कार्य के हिस्से,यूरोपीय आयोग (European Commission)NECPI कार्य समूह से सहायता ( राष्ट्रीय एमिशन सीलिंग से -- नीति उपकरण )[24]

यूनाइटेड किंगडम[संपादित करें]

ब्रिटेन के पर्यावरण, खाद्य और ग्रामीण मामलों के (DEFRA) विभाग (UK's Department for Environment, Food and Rural Affairs (DEFRA)) से तय वायु गुणवत्ता लक्ष्य ज्यादातर स्थानीय सरकार के प्रतिनिधियों पर केंद्रित है जो शहरों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है जहाँ वायु गुणवत्ता प्रबंधन सबसे आवश्यक हैब्रिटेन ने एक हवा की गुणवत्ता का नेटवर्क स्थापित किया है जहा मुख्य प्रदूषक [25] के स्तर निगरानी केन्द्रों द्वारा प्रकाशित हैं [26]ऑक्सफोर्ड (Oxford), बाथ (Bath) और लन्दन[27] में वायु की गुणवत्ता खासकर खराब है. कैलर गैस कंपनी (Calor Gas company)द्वारा प्रर्दशित और गार्जियन समाचार पत्र (the Guardian newspaper)में प्रकाशित एक विवादास्पद अध्ययन [28] ने ऑक्सफोर्ड (Oxford) में एक औसत दिन चलने को ६० जलती हुई सिगरेट पीने के बराबर माना है.

और अधिक सटीक तुलना ब्रिटेन के वायु गुणवत्ता पुरालेख से एकत्र की जा सकती है[29] जो उपयोगकर्ता को नगर प्रदूषक प्रबंधन में राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता लक्ष्यों के खिलाफ़ [30] 2000 में DEFRA के द्वारा तय.


स्थानीयकृत शीर्ष मूल्य प्रायः देखे जाते हैं पर औसत मूल्य भी मानवीय स्वस्थ्य के लिए जरूरी हैं ब्रिटेन का राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता पुरालेख ब्रिटेन के अनेक शहरों और कस्बों के लिए "वर्तमान अधिकतम "वायु प्रदूषण मापन के वास्तविक समय की जाँच का प्रस्ताव देता है.[31] यह स्रोत एक व्यापक श्रेणी के निरंतर अद्यतन डाटा प्रदान करता है जिनमें शामिल हैं

  • औसत ओज़ोन घंटा ( g μ / m³ )
  • घंटा औसत डाइऑक्साइड नाइट्रोजन ( g μ / m³ )
  • अधिकतम १५ मिनट औसत सल्फर डाइआक्साइड ( g μ / m³ )
  • ८ घंटे की औसत कार्बन मोनोऑक्साइड ( मिलीग्राम / m³ )
  • २४ घंटे की औसत PM१० ( g μ / m³ Grav Equiv )

DEFRA बताता है की वायु प्रदूषण का स्वास्थ्य पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव है और सरल सूचकांक बैंडिंग[32] को दैनिक चेतावनी प्रणाली के उपयोग के लिए बनाया है जो बीबीसी द्वारा मौसम सेवा को वायु प्रदूषण के स्तर [33] के लिए जारी किया गया है डीई ऍफ़ आर ऐ ने श्वसन और हृदय रोग से पीड़ित लोगों के लिए दिशा निर्देश प्रकाशित किया है [34]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

ग्रिफ़िथ वेधशाला (Griffith Observatory) को हॉलीवुड की पहाडियों (Hollywood Hills) से

नीचे देखने पर सामने की पहाडी के मैदान में दोपहर

के बाद वायु प्रदूषण साफ साफ़ लोस अन्जेल्स में दिखता है .

१९६०, ७० और ९० में संयुक्त राज्य अमेरिका की कांग्रेस (United States Congress) ने साफ़ वायु अधिनियम (Clean Air Act) की श्रृंखला को पारित किया जिसने वायु प्रदूषण के नियम को मजबूत किया व्यक्तिगत अमेरिकी राज्यों,कुछ यूरोपीय देशों और यूरोपीय संघ ने इन पहल का पालन किया स्वच्छ वायु अधिनियम सीमा संख्यात्मक हवा प्रदूषक के बुनियादी समूह के सेट को निश्चित करता है और रिपोर्टिंग और प्रवर्तन तंत्र को प्रदान करता है

१९९९ में संयुक्त राज्य अमेरिका EPA (EPA) ने वायु गुणवत्ता सूचकांक ( AQI ) (Air Quality Index)के साथ प्रदूषण के मानक सूचकांक ( PSI ) को नए PM२.५ और ओज़ोन मानकों से बदल दिया

इन कानूनों का प्रभाव बहुत ही सकारात्मक किया गया है .१९७० से २००६ के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका में नागरिको को प्रदूषण के उत्सर्जन [35]को कम करने से मज़ा आया

  • कार्बन मोनोऑक्साइड उत्सर्जन १९७ लाख टन से गिरकर ८९ मिलियन टन हो गया
  • नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जन २७ लाख टन से गिरकर १९ मिलियन टन हो गयामिलियन टन हो गया
  • सल्फर डाइऑक्साइड के उत्सर्जन ३१ मिलियन टन से गिरकर १५ मिलियन टन हो गया
  • सूक्ष्म उत्सर्जन ८० % तक गिर गया
  • सीसा उत्सर्जन ९८ % से अधिक गिर गया

अक्टूबर २००६ में EPA (EPA) को भेजे एक पत्र में, एजेंसी के स्वतंत्र वैज्ञानिक सलाहकार ने चेतावनी दी कि ओज़ोन धुंध मानक "काफी कम करने की जरूरत है" और वर्तमान कमजोर मानक बनाए रखने के "वैज्ञानिक औचित्य नहीं है". वैज्ञानिकों ने सबूत के गहेरे पूर्ण परिक्षण के पश्चात एकमत होकर यह सुझाव दिया की धुंद और धुआ की सीमा ६० से ७० पीपीबी होनी चाहिए. [36]

EPA (EPA)ने जून २००७ में ७५ पीपीबी का नया सीमा प्रस्तावित किया यह वैज्ञानिक सिफारिश से कम है लेकिन मौजूदा स्तर में सुधार है

प्रदूषणकारी उद्योगों की पैरोकारी ( कमजोर ) मानकों को चालू रखने के लिए प्रयासरत है पर्यावरणविद् और लोक स्वास्थ्य सलाहकार वैज्ञानिक सिफ़ारिशों के अनुपालन समर्थन के लिए जुटे हुए हैं.

राष्ट्रीय परिवेश वायु गुणवत्ता मानक (National Ambient Air Quality Standards) प्रदूषण के थ्रेसहोल्ड होते हैं जो राज्य और स्थानीय सरकारों द्वारा चलाये गए उपचार योजनाओं को एप के अधीन लागू करने के लिए दबाव डालती है

मानव निर्मित सल्फ़ेट, ढूंढ, औद्योगिक धुआँ, कार्बन और नाइट्रेट्स के धूल भरे उदगार प्रशांत महासागर को जलवायु को तेज हवाओं से एशियाई अर्थव्यवस्थाओं को बदलते हैं लॉस एंजिल्स औरसेन फ्रांसिस्को (San Francisco) पर लगभग एक तिहाई से अधिक हवा का एशिया में सीधे पता लगाया जा सकता हैकाले कार्बन सूक्ष्म प्रदूषण जो पश्चिम तट (West Coast)[37]पर तीन चौथाई काले हिस्से से आता है

सांख्यिकी[संपादित करें]

सबसे प्रदूषित नगर[संपादित करें]

विश्व के अधिकांश प्रदूषित शहरों को प्रधानमंत्री द्वारा[38]
सूक्ष्म (Particulate)
पदार्थ
μg/m³ ( २००४ )
नगर
१६९ काहिरा , मिस्र (Cairo, Egypt)
संरेखण = केन्द्र १५० दिल्ली , भारत
१२८ कोलकाता , भारत ( कलकत्ता )
१२५ तिआनजिन , चीन
१२३ चूंगचींग , चीन (Chongqing, China)
१०९ कानपुर , भारत
संरेखण = केन्द्र १०९ लखनऊ , भारत
१०४ जकार्ता , इंडोनेशिया
१०१ शेनयांग , चीन (Shenyang, China)

वायु प्रदूषण आमतौर पर महानगरीय क्षेत्र घनी आबादी में , विशेष रूप से विकासशील देशों में केंद्रित है जहाँ पर्यावरण के नियम कमजोर हैं यहां तक कि विकसित देशों की आबादी वाले क्षेत्रों में प्रदूषण का स्तर अस्वस्थ है

कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन[संपादित करें]

कुल CO2 उत्सर्जन

१० टन CO2 प्रति वर्ष :[39]

  • संयुक्त राज्य अमेरिका : २.७९०
  • चीन : २.६८०
  • रूस : ६६१
  • भारत : ५८३
  • जापान : ४००
  • जर्मनी : ३५६
  • ऑस्ट्रेलिया : २२६
  • दक्षिण अफ्रीका : २२२
  • यूनाइटेड किंगडम : २१२
  • दक्षिण कोरिया : १८५
प्रति व्यक्ति CO2 उत्सर्जन

CO2 टन प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति :[39]

  • ऑस्ट्रेलिया : १०
  • संयुक्त राज्य अमेरिका : ८,२
  • यूनाइटेड किंगडम : ३,२
  • चीन : १,८
  • भारत : ०, ५

वायुमंडलीय प्रकीर्णन[संपादित करें]

वायु प्रदूषण का विश्लेषण के लिए मूल प्रौद्योगिकी गणितीय मॉडल के प्रयोग से निचले हिस्से प्रदूषक हवा के परिवहन के लिए की भविष्यवाणी का प्रयोग इस तरीके में मुख्य सिद्धांत हैं :

किसी त्वरणशील गाऊसी वायु प्रदूषण प्रकीर्णन चिन्ह के दृश्यीकरण का उपयोग वायुमण्डलीय प्रकीर्णन मॉडल के रूप में किया जाता है

बिन्दु श्रुत समस्या सर्वश्रेष्ठ समझा जाता है क्योंकि इसमे सरल गणित के अध्ययन को एक लंबी अवधि के समय को शामिल किया गया है वापस डेटिंग के बारे में वर्ष १९०० हैयह गाऊसी (Gaussian) प्रकीर्णन के लिए मॉडल के लिए वायु प्रदूषण की भविष्यवाणी के लिए भविष्यवाणी (isopleths)पवन वेग के साथ विचार करने को दिया है ( एक उपाय के वायुमंडलीय अस्तव्यस्तता (turbulence)).[40][41]इस नमूने को व्यापक रूप से मान्य किया गया है और सभी प्रकार के परिवेशीय स्थितियों के लिए प्रायोगिक डेटा के साथ समायोजित किया गया है.

सड़क वायुमण्डलीय प्रकीर्णन मॉडल (roadway air dispersion model)राष्ट्रीय पर्यावरण नीति अधिनियम (National Environmental Policy Act) और अमेरिका के परिवहन विभाग (U.S. Department of Transportation)की जरूरत के लिए १९५० के अंत में और १९६० के शुरू में विकसित हुआ ( तब राजमार्ग संघीय प्रशासन के नाम से जाना गया )राजमार्गों पर नई हवा की गुणवत्ता , विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में हैकई अनुसंधान समूह नमूने विकास में सक्रिय रहे, जिनमें से कुछ निम्न थे: लेक्सिंगटन, मैसाच्युएट्स (Lexington, Massachusetts) का एन्वायरनमेंटल रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी (ERT) ग्रुप, सनीवेल, कैलिफ़ॉर्निया (Sunnyvale, California) का ESL इंक. Inc. ग्रुप और सैक्रामेंटो, कैलिफ़ॉर्निया (Sacramento, California) का कैलिफ़ॉर्निया एयर रिसॉर्सेस बोर्ड (California Air Resources Board) ग्रुप.ई एस एल समूह के शोध संयुक्त राज्य अमेरिका पर्यावरण सुरक्षा एजेंसी (United States Environmental Protection Agency) से सल्फर हेक्जाफ्लोराइड (sulfur hexafluoride) अनुरेखक गैस के रूप में मान्यता के लिए बढावा देता है यह कार्यक्रम ESL inc के द्वारा विकसित लाइन स्रोत मॉडल में सफ़ल था. नमूने के पुराने उपयोगों में से कुछ मामले अदालत में हैं जिनमें हाइवे वायु प्रदूषण शामिल थे अर्लिंग्टन, वर्जीनिया वर्जीनिया (Arlington, Virginia) अंर्तराज्यीय 66 (Interstate 66) का भाग न्यू जर्सी का शुल्क मार्ग (New Jersey Turnpike) पूर्वी ब्रंस्विक, न्यू जर्सी (East Brunswick, New Jersey) के विस्तारित मार्ग प्रोजेक्ट.


ईआरटी ESL समूह द्वारा १९७१ से १९७४ के बीच क्षेत्र स्रोत माध्यम विकसित किए गए पर इन्होने कुल वायु प्रदूषण उत्सर्जन के एक छोटे से हिस्से का ही समाधान किया, इसलिए इनके प्रयोग और आवश्यकता इतनी नहीं पड़ी जितनी रेखा स्रोत मॉडल की थी, जिसने १९७० के दशक के शुरू में सेकडों सफल अनुप्रयोग किए. इसी प्रकार प्रकाश-रसायनिक मॉडल 1970 और 1960 के दशक में विकसित किए गए, पर उन्हें अधिक विशिष्ट क्षेत्रीय जरूरतों के लिए उपयोग किया गया, जैसे लॉस एंजिल्स,कैलीफ़ोर्निया में अंडरस्टेंडिंग धुंध फ़ॉर्मेशन.

पर्यावरणीय प्रभाव[संपादित करें]

ग्रीनहाउस प्रभाव एक घटना है जिससे ग्रीनहाउस गैस (greenhouse gas) ऊपरी वातावरण (atmosphere) पर एक स्थिति का निर्माण करता है जिससे ताप को बढ़ा कर क्षोभमण्डल (tropospheric) ताप को कम कर सकता है यह इस गुन के साथ अन्य गैसों{ (other gases) सबसे बड़ा समग्र बाध्य (forcing) पृथ्वी पर से आने वाले जल वाष्प (water vapour) से साझा करता है अन्य ग्रीन हाउस गैसों में शामिल हैं मीथेन (methane), हाइड्रोफ़्लोरोकार्बन (hydrofluorocarbon), परफ़्लोरोकार्बन (perfluorocarbon),क्लोरोफ़्लोरोकार्बन (chlorofluorocarbon), NOx (NOx), और ओज़ोन. बहुत से ग्रीन हाउस गैसों , जिनमें कार्बन, और उस से कुछ जीवाश्म ईंधन (fossil fuel) शामिल है

यह प्रभाव वैज्ञानिकों के लिए एक सदी से पता है और इस अवधि के दौरान प्रौद्योगिकी में विस्तार और गहराई से संबंधित आंकड़ों को बढ़ाने में मदद मिली है वर्तमान में, वैज्ञानिक ग्रीन हाउस गैसों से प्राकृतिक स्रोतों के लिए एन्थ्रोपोजेनिक प्रभाव और जलवायु परिवर्तन (climate change) का अध्ययन कर रहे हैं

कई अध्ययनों द्वारा पर्यावरणीय कार्बन डाइऑक्साइड के उत्पन्न होने वाले दीर्घगामी स्तरों की संभावना की भी जाँच की गई है जो समुद्री जल की अम्लीयता में अल्प वृद्धि (increases in the acidity of ocean waters) और समुद्रीय पर्यावरण प्रणाली के संभावित प्रभावों का कारण होते हैं.यद्दपि कार्बोनिक एसिड (carbonic acid)एक बहुत ही कमजोर अम्ल है और इसका इस्तेमाल प्रकाश संश्लेषण के दौरान जीवधारी द्वारा किया जाता है

यह भी देखिए[संपादित करें]



संदर्भ[संपादित करें]

  1. प्रदुषण[1]से शुरू - परिभाषा मारीआम-वेबस्टर ऑनलाइन शब्दकोष से
  2. वायु प्रदूषण, ह़दय रोग एवं आघात ५ जनवरी, २००८, अमरीकी हृदय संगठन की वेबसाइट से
  3. अनुमानित मौते और DALYs, पर्यावरण के चुनिन्दा जोखिम तत्वों के कारण, विश्व स्वास्थ्य संगठन के राज्य सचिव द्वारा
  4. National Research Council: Committee on Air Quality Management in the United States, Board on Environmental Studies and Toxicology, Board on Atmospheric Sciences and Climate, Division on Earth and Life Studies (2004). Air Quality Management in the United States. National Academies Press. ISBN 0-309-08932-8. 
  5. एपी 42, भाग 1
  6. इंग्लॅण्ड के उत्सर्जन घटकों के आंकडे
  7. http://reports.eea.eu.int/EMEPCORINAIR4/enयूरोपीय पर्यावरण एजेंसी २००५ उत्सर्जन सूची मार्गदर्शिका
  8. राष्ट्रीय ग्रीनहाउस गैस सूची के लिए आईपीसीसी संशोधित दिशा निर्देश १९९६ (संदर्भ पुस्तिका)
  9. ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय प्रदूषक सूची उत्सर्जन आकलन तकनीक मार्गदर्शिका[मृत कड़ियाँ]
  10. कनाडा की जीएचजी सूची विधियां[मृत कड़ियाँ]
  11. हॉलैंड WW , रीड डीडी .क्रोनिक ब्रोन्काइटिस का शहरी घटक नौकदार .1965;I:445-448.
  12. कनाडा-में-मानक
  13. सूक्ष्म वातावरण (PM) और ओज़ोन के लिया कनाडा में प्रभावी मानक .
  14. यूरोपीय संसद के परिषद के 2001/81/EC निर्देश और वायुमण्डलीय प्रदूषण के लिए 23 अक्टूबर 2001 को राष्ट्रीय उत्सर्जन सीलिंग पर
  15. }} -->
  16. पर्यावरण, अन्न एवं ग्रामीण मामले विभाग (DEFRA) :वायु प्रदूषक
  17. LAQM वायु गुणवत्ता प्रबंधन क्षेत्र
  18. लंदन
  19. {http://www.guardian.co.uk/uk_news/story/0१२९२५२४ .०० एच टी एम् एल ऑक्सफोर्ड हवा ६० दिनों के आदत }[मृत कड़ियाँ](गार्जियन (The Guardian)अखबार में एक लेख
  20. ब्रिटेन वायु गुणवत्ता पुरालेख
  21. ब्रिटेन के राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता उद्देश्य
  22. वर्तमान वायु प्रदूषण बुलेटिन
  23. वायु प्रदूषण विस्तार और अनुक्रमणिका
  24. बीबीसी मौसम सेवा[मृत कड़ियाँ]
  25. वायु प्रदूषण - आपके स्वास्थ्य के लिए इसका क्या मतलब है[मृत कड़ियाँ]
  26. वाल स्ट्रीट जर्नल लेख, २३ मई, २००६
  27. अमेरिकी फेफड़े संघ २ जून २००७ [मृत कड़ियाँ]
  28. वाल स्ट्रीट जर्नल लेख में , २० जुलाई, २००७
  29. विश्व बैंक की सांख्यिकी
  30. इन आंकड़ों के स्रोत वैश्विक विकास के लिए केंद्र (Center for Global Development) से उत्पन्न डेटाबेस कार्बन जाँच की कार्यवाही है. CARMA , भौगोलिक क्षेत्र
  31. www.crcpress.com[मृत कड़ियाँ]
  32. www.air - dispersion.com

बाहरी संपर्क[संपादित करें]

वायु की गुणवत्ता विज्ञान और सामान्य जानकारी


वायु की गुणवत्ता मॉडलिंग
मानव स्वास्थ्य पर प्रभाव