भूमंडलीय ऊष्मीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वैश्‍विक माध्‍य सतह का ताप 1961-1990 के सापेक्ष से भिन्‍न है
1995 से 2004 के दौरान औसत धरातलीय तापमान 1940 से 1980 तक के औसत तापमान से भिन्‍न है

भूमंडलीय ऊष्मीकरण (ग्‍लोबल वॉर्मिंग) का अर्थ पृथ्‍वी की निकटस्‍थ-सतह वायु और महासागर के औसत तापमान (average measured temperature) में 20वीं शताब्‍दी से हो रही वृद्धि और उसकी अनुमानित निरंतरता है।

पृथ्‍वी की सतह के निकट विश्व की वायु के औसत तापमान में 2005 तक 100 वर्षों के दौरान 0.74 ± (±) 0.18 °C (1.33 ± 0.32 °F) की वृद्धि हुई है।[1] जलवायु परिवर्तन पर बैठे अंतरसरकार पैनल (Intergovernmental Panel on Climate Change)(IPCC) ने निष्कर्ष निकला है कि "२० वीं शताब्दी के मध्य से संसार के औसतन तापमान में जो वृद्धि हुई है उसका मुख्य (due to) कारण एंथ्‍रोपोजेनिक (anthropogenic) (मनुष्य द्वारा निर्मित) ग्रीनहाउस गैसों (greenhouse gas) की अधिक मात्रा के कारण हुआ"[1] ग्रीनहाउस का असर हैI ज्वालामुखी के साथ मिलकर सौर परिवर्तन (solar variation) जैसी प्राकृतिक घटनाएं 1950 से पहले वाले औद्योगिक काल तक कम गर्मी के प्रभाव दिखाई देते थे तथा 1950 के बाद इसके ठंडा होने के अल्प प्रभाव दिखाई देते थे।[2][3]

इन निष्कर्षों की पुष्टि प्रमुख औद्योगिक देशों (scientific societies and academies of science)[4] की सभी राष्ट्रीय वैज्ञानिक अकादमियों सहित कम से कम 30 वैज्ञानिक समितियों और विज्ञान अकादमियों ने की है।[5][6][7] जहाँ एक ओर कुछ निजी वैज्ञानिकों (individual scientists) ने आईपीसीसी की कुछ खोजों के प्रति असहमति व्यक्त की है,[8] वहीं दूसरी ओर जलवायु परिवर्तन पर कार्य कर रहे अधिकांश वैज्ञानिकों ने आईपीसीसी के प्रमुख निष्कर्षों पर सहमति जताई है।[9][10] जैसा कि नाम से ही साफ है, ग्लोबल वार्मिंग धरती के वातावरण के तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी है। हमारी धरती प्राकृतिक तौर पर सूर्य की किरणों से उष्मा (हीट, गर्मी) प्राप्त करती है। ये किरणें वायुमंडल (एटमास्पिफयर) से गुजरती हुईं धरती की सतह (जमीन, बेस) से टकराती हैं और फिर वहीं से परावर्तित (रिफलेक्शन) होकर पुन: लौट जाती हैं। धरती का वायुमंडल कई गैसों से मिलकर बना है जिनमें कुछ ग्रीनहाउस गैसें भी शामिल हैं। इनमें से अधिकांश (मोस्ट आफ देम, बहुत अधिक) धरती के ऊपर एक प्रकार से एक प्राकृतिक आवरण (लेयर, कवर) बना लेती हैं। यह आवरण लौटती किरणों के एक हिस्से को रोक लेता है और इस प्रकार धरती के वातावरण को गर्म बनाए रखता है। गौरतलब (इट इस रिकाल्ड, मालूम होना) है कि मनुष्यों, प्राणियों और पौधों के जीवित रहने के लिए कम से कम 16 डिग्री सेल्शियस तापमान आवश्यक होता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ग्रीनहाउस गैसों में बढ़ोतरी होने पर यह आवरण और भी सघन (अधिक मोटा होना) या मोटा होता जाता है। ऐसे में यह आवरण सूर्य की अधिक किरणों को रोकने लगता है और फिर यहीं से शुरू हो जाते हैं ग्लोबल वार्मिंग के दुष्प्रभाव (साइड इफेक्ट)। आईपीसीसी द्वारा सारगर्भित जलवायु प्रतिमान के (Climate model) प्रतिरूपण इंगित करते हैं कि धरातल का औसत ग्लोबल तापमान 21वीं शताब्दी[1] के दौरान और अधिक बढ़ सकता है। परिणामो में इतनी भिन्ता (scenarios) का कारन है ग्रीन्हौसे गैसों (greenhouse gas) के उत्सर्जन के अलग-अलग मापदंड इस्तेमाल किए जा रहे हैं और जलवायु संवेदनशीलता (climate sensitivity) के भी अलग-अलग पैमाने बनाये गए हैं हालांकि अधिकतर अध्‍ययन 2100 तक की अवधि पर केद्रित हैं, फिर भी भले ही ग्रीनहाउस गैस के स्‍तर स्थिर हो जाएं तब भी वार्मिंग तथा समुद्र के स्‍तर में वृद्वि होने की लगातार आशा की जाती है।ेमहासागरों की विशाल गर्मी के परिणाम के कारण ही संतुलन तक पहुंचने में विलंब होती है[1]

सारे संसार के तापमान में वृद्धि से समुद्र के स्तर (sea level to rise) से वृद्धि, मौसम की तीव्रता (extreme weather) में वृद्धि और अवक्षेपण (precipitation) की मात्रा और रचना में महत्वपूर्ण बदलाव आ सकता है ग्लोबल वार्मिंग के अन्य प्रभावों (effects of global warming) में कृषि उपज (agricultural yield) में परिवर्तन, व्यापार मार्गों में संशोधन, ग्लेशियर का पीछे हटना (glacier retreat), प्रजातिये विलोपन (extinctions) और बिमारिओं में वृद्धि (disease vectors) शामिल हैं

शेष वैज्ञानिक अनिश्चितताओं (uncertainties) में भविष्‍य का गर्म तापमान और पूरे विश्व के अलग-अलग भागों में गर्मी और संबंधित परिवर्तनों की भिन्‍नता शामिल है।ज्यादातर राष्ट्रीय सरकारों (Most national governments) ने क्योटो प्रोटोकॉल (Kyoto Protocol) पर हस्ताक्षर कर दिए हैं और उसकी तस्दीक़ भी कर दी है। क्योटो प्रोटोकॉल का उद्देश्य ग्रीनहाउस गैसों ओ कम करना है, पर सारे संसार में राजनितिक (political) और लोक बहस (public debate) छिडी हुई है की कोई कदम उठाना चाहिए के नही ताकि भविष्य में वार्मिंग को कम किया जा सके या उलटाया (reduce or reverse) जा सके या उसके असर को ढाला (adapt) जा सके

शब्दावली[संपादित करें]

"ग्लोबल वॉर्मिंग" से आशय हाल ही के दशकों में हुई वार्मिंग और इसके निरंतर बने रहने के अनुमान और इसके अप्रत्‍यक्ष रूप से मानव पर पड़ने वाले प्रभाव से है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र समझौते की रूपरेखा में "मानव द्वारा किए गए परिवर्तनों के लिए "जलवायु परिवर्तन और अन्‍य परिवर्तनो के लिए "जलवायु परिवर्तनशीलता" शब्‍द का इस्तेमाल किया है। यह शब्द " जलवायु परिवर्तन " मानता है कि बढ़ते तापमान ही एकमात्र प्रभाव नहीं हैं यह शब्द " एन्थ्‍रोपोजेनिक ग्लोबल वॉर्मिंग " कई बार प्रयोग उस समय प्रयोग किया जाता है जब मानव प्रेरित परिवर्तन पर ध्यान केंद्रित होता है।

कारण[संपादित करें]

पृथ्वी की जलवायु बाहरी दबाव के (orbital forcing),[11][12],[13] चलते परिवर्तित होती रहती है जिसमें सूर्य के चारों ओर इसके अपनी कक्षा में होने वाले परिवर्तनभी शामिल हैं। कक्षा पर पड्ने वाले दबाव सौर चमक (solar luminosity), ज्वालामुखी उदगार,[14] तथा वायुमंडलीसय ग्रीनहाउस गैसों के अभिकेंद्रण (greenhouse gas) को भी परिवर्तित करता है। वैज्ञानिक आम सहमति (scientific consensus) होने के बाद भी हाल ही में हुई गर्मी में वृद्धि के विस्तृत कारण (causes of the recent warming) शोध का विषय होते हैं[15][16] यह है कि मानवीय गतिविधियों के कारण वातावरण की ग्रीनहाउस गैसों में वृद्धि से होने वाली अधिकांश गर्मी को औद्योगिक युग की शुरुआत के बाद से देखा गया। हाल ही के 50 वर्षो को यह श्रेय स्पष्‍ट तौर पर जाता है जिसके लिए आंकडा उपलब्ध हैं। आम सहमति के विचार से अलग कुछ अन्य संकल्पनाओं (hypotheses) का सुझाव अधिकांश तापमान वृद्धि की व्याख्‍या करने के लिए दिया जाता है। ऐसी ही एक परिकल्पना का प्रस्ताव है कि गर्मी अलग अलग रूपों में सौर गातिविधि का परिणाम हो सकती है।[17][18][19]

बाध्‍यता का कोई भी प्रभाव तात्कालिक नहीं है। धरती के महासागरों का ताप जड़त्व (thermal inertia) और कई अप्रत्यक्ष प्रभावों की धीमी प्रतिक्रिया का मतलब है धरती का वर्तमान तापमान उसपर डाले गए दबाव के साथ संतुलन में नही है जलवायु वचनबद्धता (Climate commitment) के अध्‍ययनों से प्रदर्शित्‍ होता है कि यदि ग्रीनहाउस गैसों को 2000 स्‍तर पर स्थिर कर दिया जाए तो इससे आगे भी कुछ सीमा तक। गर्मी दिखाई देगी[20]

वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैसें[संपादित करें]

ग्रीनहाउस प्रभाव की खोज 1824 में जोसेफ फोरियर द्वारा की गई थी तथा 1896 में पहली बार स्वेन्‍टी आरहेनेस (Svante Arrhenius) द्वारा इसकी मात्रात्मक जांच की गई थी। यह प्रक्रिया द्वारा जो अवशोषण (absorption) और उत्सर्जन के अवरक्त विकिरण द्वारा वातावरण में गर्म गैसें वातावरण में एक और ग्रह की सतह कम है।

वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड में हाल ही में होने वाली बढोतरी (CO2) .मासिक CO2 मापन यह दर्शाते हैं कि अगर सारे वर्ष को देखा जाए तो छोटे-छोटे मौसमी परिवर्तन देखने को मिलते हैं ; हर साल यह परिवर्तन उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में वसव्त मौसम के आख़िर में अधिक हो जाते हैं और जब उत्तरी गोलार्ध में फसलें बीजने का समय होता है तो यह परिवर्तन कम हो जाते हैं क्यूंकि पौधे वातावरण में से कुछ CO2 हटा लेते हैंI

ग्रीनहाउस प्रभाव के रूप में अस्तित्व इस प्रकार विवादित नहीं है। स्वाभाविक रूप से ग्रीन हाउस गैसों के पास होने का मतलब है एक गर्मी के प्रभाव के बारे में 33 डिग्री सेल्सियस (59 °F), जो पृथ्वी पर रहने योग्य[21][22] नहीं होंगे। .पृथ्वी पर महत्वपूर्ण ग्रीन्हौसे गैसें हैं, जल-वाष्प (water vapor), जो कि 36–७० प्रतिशत तक greenhouse प्रभाव पैदा करता है (बादल इसमे शामिल नही हैं (not including clouds)) ; carbon dioxide (CO2) जो ९-२६ प्रतिशत तक greenhouse प्रभाव पैदा करता है; methane (methane) (CH4) ४-९ प्रतिशत तक और ozone, जो ३-७ प्रतिशत तक प्रभाव पैदा करती है I[23][24] मुद्दा यह है कि मानवीय गतिविधियों से जब कुछ ग्रीनहाउस गैसों की वायुमंडलीय सांद्रता बढ़ती है तब ग्रीनहाउस प्रभाव की शक्ति कैसे परिवर्तित होती है।

औद्योगिक क्रांति के बाद से मानवी गतिविधि में वृद्धि हुई है जिसके कारन ग्रीन हाउस गैसों कि मात्रा में बहुत जियादा वृद्धि हुई है, इसके कारन विकरणशील बाध्य (radiative forcing) CO से2, मीथेन (methane), tropospheric ओजोन, सीएफसी (CFC) और s nitrous भी बहुत बढ़ गए हैं (nitrous oxide)Iअगर अणु (Molecule) कि दृष्टि से देखें तो मीथेन ग्रीनहाउस गैसcarbon dioxide की तुलना में अधिक प्रभावी है, पर उसकी सांद्रता इतनी कम है कि उसका विकरणशील ज़ोर (radiative forcing) कार्बन डाइऑक्‍साइड कि तुलना में केवल एक चौथाई है प्राक़तिक रूप से उत्पन्न होने वाली कुछ दूसरी गैसे ग्रीनहाउस प्रभाव में योगदान देती हैं। इन्‍में से एक नाइट्रस ऑक्साइड (nitrous oxide) (N2O) कृषि जैसी मानवीय गतिविधियों के कारण अपना विकास कर रही है!CO2 और CH4 की वातावरण सांद्रता (atmospheric concentrations) 1700 वीं सदी के मध्‍य में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत के बाद से क्रमशः 31% और 149% बढ़ गई है। पिछले 650,000 वर्षों के दौरान किसी भी समय से इन स्तरों को काफी अधिक माना जा रहा है। यह वह अवधि है जिसके लिए विश्वसनीय आंकड़े आइस कोर् (ice core)s.[25] से निकाले गए हैं। कम प्रत्यक्ष भूवैज्ञानिक प्रमाण से यह माना जाता है कि CO2 की इतनी ज्यादा मात्रा पिछली बार २० करोड़ वर्ष पहले हुई थी।[26] जीवाश्‍म ईंधन (Fossil fuel) के जलने से पिछले 20 वर्षों में मानवीय गतिविधियों से CO2 में हुई बढोतरी में कम से कम एक तिहाई वृद्धि है। शेष कार्य भूमि के उपयोग में परिवर्तन के कारण से होता है विशेषकर वनों की कटाई से ऐसा होता है। (deforestation)[27]

वातावरण की CO2 में वार्षिक वृद्धि: १९६० में औसत वार्षिक वृद्धि २००० से २००७ के बीच हुई वृद्धि के ३७% ही थी।[28]

CO2 की वर्तमान वासयुमंडलीय सांद्रता आयतनUNIQ352bb476e7852ca3-nowiki-0000005E-QINU29UNIQ352bb476e7852ca3-nowiki-0000005F-QINU की दृष्टि से लगभग 385 प्रति दस लाख ( (ppm) पीपीएम) है। भविष्य में CO2 का स्तर ज्यादा होने कि आशंका है क्यूंकि जीवाश्म ईंधन और भूमि के उपयोग में काफ़ी परिवर्तन आ रहे हैं वृद्धि क दर अनिश्चित आर्थिक, सामाजिक (sociological), तकनीकी और प्राकृतिक घटनाओं पर निर्भर करेगी पर शायद आखिरकार जीवाश्म ईंधन की उपलब्धता ही निर्णायक साबित हो आईपीसीसी की उत्सर्जन परिदृश्‍यों पर विशेष रिपोर्ट (Special Report on Emissions Scenarios) भविष्य के कई CO2 परिदृश्‍यो के बारे में बताती है जो २१०० के आख़िर तक ५४१ से लेकर ९७० पीपीएम तक हो सकते हैं।[30] इस स्तर तक पहुंचने के लिए तथा 2100 के बाद भी उत्सर्जन जारी रखने के लिए जीवाश्म ईंधन के पर्याप्त भंडार हैं, यदि कोयला (coal), बालू रेत (tar sands) या मीथेन क्लेथ्‍रेट (methane clathrate) का व्यापक प्रयोग[31] किया जाता है।

पुननिर्वेशन[संपादित करें]

जलवायु पर बाध्‍क घटकों के प्रभाव विभिन्न प्रक्रियाओं द्वारा जटिल हो जाते हैं।

सर्वाधिक स्पश्‍ट प्रत्युत्तरों में से एक का संबंध्‍ जल के वाष्पीकरण से है। कार्बन डाई ऑक्साइड जैसी दीर्घकालीन ग्रीनहाउस प्रभाव वाली गैसों के मिलने से पैदा होने वाली गर्मी वायुमंडल में जल के अधिक मात्रा में वाष्‍पीकरण का कारण बनता है। क्यूंकि जल-वाष्प ख़ुद एक ग्रीनहाउस गैस है, इसलिए इससे वातावरण और भी ज्यादा गर्म हो जाता है और इससे और बी ज्यादा पानी वाष्प में बदलता है (क सकारात्मक पुननिर्वेशन (positive feedback)) और यह प्रतिक्रिया चलती रहती है जबतक कि पुननिर्वेशन चक्र पर रोक न लग जाए.अकेले कार्बन डाई आक्साइड से होने वाले इसका प्रभाव बहुत विशाल होगा। यद्यपि प्रत्युत्तर की यह प्रक्रिया वायु की नमी के कणों में बढोतरी करती है, तब भी सापेक्ष आर्द्रता (relative humidity) या तो स्थिर रहती है या थोड़ी सी घट जाती है क्योंकि वायु गर्म[32] हो जाती है। प्रत्युत्तर का यह प्रभाव केवल धीरे धीरे ही उल्टा हो सकता है क्योंकि कार्बन डाई आक्साइड में दीर्घकालीन वायुमंडलीय जीवनावधि (atmospheric lifetime) होती है।

बादलों से प्रभावित होने वाले प्रत्युत्तर एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। नीचे से देखा है, बादल को वापस उत्सर्जन अवरक्त विकिरण की सतह और एक इतनी गर्मी प्रभाव डालती है, ऊपर से देखा है, बादल और सूर्य के प्रकाश उत्सर्जन अवरक्त विकिरण प्रतिबिंबित करने के लिए जगह है और इसलिए एक शीतलन प्रभाव डालती है। शुद्ध प्रभाव क्या गर्म अथवा ठंडा है यह बादल की किस्म (type) और उंचाई जैसे विवरणों पर निर्भर करता है। जलवायु के प्रतिमानों पर इन विवरणों को प्रदर्शित करना कठिन होता है क्योंकि जलवायु प्रतिमानों[32] के संगणक खानों पर रिक्त स्थानों के बिंदुओं के बीच की तुलना में बादल बहुत छोटे होते हैं।

जैसे जैसे वायुमंडल गर्म होता जाता है वैसे वैसे परामर्शी प्रत्युत्तर की प्रक्रिया चूक दर (lapse rate) में परिवर्तन से संबंधित होती है।क्षोभमंडल (troposphere) उंचाई में बढोतरी होने के साथ-साथ वायुमंडल का तापमान घटता जाता है। अवरक्त विकिरण का उत्सर्जन तापमान की चौथी शक्ति पर निर्भर करता है, वातावरण की उपरी तह से ज्यादा लम्बी विकिरण (longwave radiation) उत्सर्जित होती है और निचली तह से यह कम होती है। ज्यादातर विकिरण जो उपरी वातावरण से उत्सर्जित होती है खला में चली जाती है, जबकि निचले वातावरण से उत्सर्जित होने वाली विकिरण दोबारा वतावारव द्वारा सोख ली जाती है। इस प्रकार, ग्रीन हाउस प्रभाव वातावरण में तापमान के ऊंचाई के साथ कम होने की रफ़्तार पे निर्भर करता है, अगर तापमान की दर कम है तो ग्रीन हाउस असर ज्यादा होगा और अगर तापमान गिरने की दर कम है तो ग्रीन हाउस असर कम होगा .सिद्धांत और मॉडल दोनों यह संकेत करते हैं की वार्मिंग से ऊंचाई के साथ तापमान का गिरना कम हो जाएगा, जिससे एक नकारात्मक lapse rate feedback पैदा हो जाएगा और इससे ग्रीन हाउस असर कमज़ोर होगा .ऊंचाई के साथ तापमान परिवर्तन की दर का मापन छोटी-छोटी त्रुटियों के प्रति बहुत सवेंदेंशील होता है, इससे यह पता करना बहुत मुश्किल हो जाता है की मॉडल हकीकत से मेल खाता है के नही .[33]


एक और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है आइस'अल्बेडो प्रत्युत्तर[34] जब वैश्विक तापमान में वृद्धि होती है, तब ध्रुवों के पास बर्फ तेज दर से पिघलने लगती है। जैसे जैसे बर्फ पिघलती है वैसे वैसे भूमि अथवा खुला जल उसका स्‍थ्‍स्थान ले लेता है। भूमि और जल दोनों ही बर्फ की तुलना में कम परावर्तक होते हैं और इसीलिए सौर विकिरण को अधिक मात्रा में सोख लेते हैं। इससे अधिक गर्मी हो जाती है जिसके कारण और अधिक बर्फ पिघलने लगती है तथा यह चक्र चलता रहता है।

सकरामातक पुननिर्वेशन (Positive feedback) जो की CO2 और CH4 के उत्सर्जन के कारन होता है एक अन्य कारण है जो वार्मिंग को बढाता है। यह गैसें जमते हुए पेर्मफ्रोस्त (permafrost) जैसे की जमा हुई लकड़ी (peat), siberia (bog) में दलदल (Siberia) से पैदा होती हैं .[35] इसी तरह मीथेन clathrate (methane clathrate), जो की महासागरों में पाया जाता है, से जो भारी मात्रा में CH4 निकलती है, वार्मिंग का एक मुख्य कारण हो सकती है, जैसा की clathrate gun hypothesis (clathrate gun hypothesis) कहता है।

जैसे जैसे समुद्र गर्म होता जाता है वैसे वैसे कार्बन को अलग करने की क्षमता घटती जाती है। ऐसा इसलिए है क्यूंकि mesopelagic क्षेत्र (mesopelagic zone) (लगभग 200 से 1000 मीटर की गहराई तक) में पोषकों का गिरता हुआ स्तर डायटम (diatom) के विकास में भादक होता है और छोटे phytoplankton (phytoplankton) के हक़ में होता है जो की कार्बन[36] के biological pump (biological pump) स हैं

सौर परिवर्तन[संपादित करें]

पिछले 30 वर्षों से

सौर परिवर्तन

कुछ कागजात सुझाव देते हैं कि सूर्य के योगदान का कम आकलन किया गया है। Duke University (Duke University) के दो शोधकर्ताओं, Bruce West और Nicola Scafetta ने यह अनुमान लगाया है की सूर्य ने १९००-२००० तक शायद ४५-५० प्रतिशत तक तापमान बढ़ाने में योगदान दिया है और १९८० और २०००[37] के बीच में लगभग २५-३५ प्रतिशत तक तापमान बढाया है। पीटर स्कॉट और अन्य शोधकर्ताओं द्वारा पता चला है जलवायु मॉडल ग्रीन हाउस गैसों के प्रभाव को जिआदा आंकते हैं और सोलर फोर्सिंग को जिअदा महत्व नही देते, वे यह भी सुझाव देते हैं ज्वालामुखी धूल और सुल्फाते एरोसोल्स ओ भी कम आँका गया है[38] फिर भी वे मानते हैं की सोलर फोर्सिंग होने के बावजूद, जिअदातर वार्मिंग ग्रीन हाउस गैसों के कारन होने की संभावना है, ख़ास कर के 20 वीं सदी के मध्य से लेकर .

एक अनुमान यह है कि अलग अलग अलग रूपों में सौर निर्गम (solar output), जो की बादलों के बंनने से, जो की गालाक्टिक ब्रह्मांडीय किरणों (galactic cosmic ray) द्वारा बनते हैं, ने भी हाल की वार्मिंग[39] में हिस्सेदारी की है। यह भी सुझाव दिया गया है ki सूर्य में जो चुंबकीय गतिविधि है वह भी ब्रह्मांडीय किरणों को प्रवर्तित करती है जिससे बादलों के संघनन नाभिक प्रभावित होते हैं और जलवायु[40] भी प्रभावित होती है।

सूर्य की गतिविधि का एक असर यह भी होगा की इससे स्ट्रैटोस्फियर (stratosphere) गर्म हो जायेगी, जबकी ग्रीन हाउस गैस सिद्धांत (greenhouse gas theory) वहां[41] पर शीतलन की भविष्यवाणी करता है। यह रुझान देखा गया है 1960 के बाद से लेकर स्ट्रैटोस्फियर[42] ठंडा ही हुआ है।स्त्रतोस्फेरिक ओजोन की कटौती (Reduction of stratospheric ozone) के कारण शीतलता भी पैदा होती है, पर ओजोन रिक्तीकरण 1970[43] के दशक के अंत तक नही हुआ .सौर विभिन्नता और ज्वालामुखी गतिविधि० के कारण औद्योगिक युग से लेकर १९५० तक गर्मी नही बढ़ी बल्कि शीतलन ही हुआ है।[1] 2006 में पीटर फौकल और संयुक्त राज्य अमेरिका, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड के अन्य शोधकर्ताओं ने पाया की सूर्य की चमक में पिछले १००० सालों से कोई (net increase) परिवर्तन नही आया है।सौर चक्र (Solar cycle) के कारण पिछले ३० सालों में केवल ०.०७ प्रतिशत की ही वृद्धि हुई है। ग्लोबल वार्मिंग के लिए यह बहुत छोटा तथा महत्वपूर्ण योगदान देने वाला प्रभाव है।[44][45] माइक लोक्क्वूद और क्लाउस फ्रोहलीच के एक शोध ने पाया की १९८५ से लेकर अब तक ग्लोबल वार्मिंग और सौर विकिरण में कोई सम्बन्ध नही है, चाहे वह सौर उर्जा की बात हो या ब्रह्मांडीय किरणों (cosmic ray) की .[46]Henrik Svensmark (Henrik Svensmark) और Eigil Friis - Christensen (Eigil Friis-Christensen), जो की बादलों को पैदा करने (cloud seeding) के संस्थापक हैं, ने अपने इस अनुमान[47] की आलोचना की है २००७ में एक शोध से पाया गया की पिछले बीस सालों में धरती पर आने वाली ब्रह्मांडीय किरणों और बादलों और तापमान[48][49][50] में कोई संभंध नही नही .

तापमान में परिवर्तन[संपादित करें]

दो सहस्राब्दियों के तापमान अलग-अलग तरीकों से देखे गए, प्रत्येक तरीके में दशक को पैमाना बनाया गया .२००४ की सालाना गणना संदर्भ के लिए अन्क्बध की गयी है

हाल में[संपादित करें]

वाद्य तापमान रिकार्ड (instrumental temperature record) के अनुसार पृथ्वी का तापमान, चाहे वो ज़मीन पर हो या समुद्र में, १८६०-१९०० के मुकाबले बढ़ा है यह तापमान में वृद्धि शहरी गर्मी द्वीप (urban heat island) प्रभाव[51] से प्रभावित नही होता १०७९ से, ज़मीन का तापमान समुद्र के तापमान के मुकाबले लगभग दुगना बड़ा है (0.25 °C प्रति दशक बनिस्पत 0.13 °क प्रति दशक)[52] निचले त्रोपोस्फेरे (troposphere) में तापमान 0.12 और 0.22 °C ((0.22 और 0.4 °F) के बीच में प्रति दशक बड़ा है, जैसा की उपग्रह के आंकडे बताते हैं . (satellite temperature measurements) यह माना जाता है कि १८५० से पहले पिछले एक या दो हज़ार सालों (one or two thousand years) से तापमान अपेक्षाकृत स्थिर रहा है, कुछ क्षेत्रीये उतार -चडाव जैसे की मध्यकालीन गर्म काल (Medieval Warm Period) या अल्प बर्फीला युग (Little Ice Age)

समुद्र में तापमान ज़मीन के मुकाबले धीरे बड़ते हैं क्यूंकि महासागरों की अधिक heat कैपसिटी अधिक होती है और वे वाष्पीकरण से जिआदा गर्मी खो सकते हैं[53]उतरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में ज़मीन जिआदा है इसलिए वह दक्षिणी गोलार्ध (Southern Hemisphere) की तुलना में जल्दी गर्म होता है उतरी गोलार्ध में मौसमी बर्फ और समुद्री बर्फ के व्यापक इलाके हैं जो की ice-albedo फीडबैक पर निर्भर करते हैं उतरी गोलार्ध में दक्षिणी गोलार्ध के मुकाबले अधिक ग्रीन हाउस गैसें उत्सर्जित की जाती हैं, पर यह गर्मी में अन्तर के लिए जिम्मेदार नही है क्यूंकि प्रमुख ग्रीन हाउस गैसें काफ़ी समय तक रहती हैं और दोनों गोलार्धो में अच्छी तरह घुल-मिल जाती हैं

NASA's गोद्दर्द अन्तरिक्ष अध्ययन संस्थान (Goddard Institute for Space Studies), के अनुमानों पर आधारित, २००५ सबसे गर्म साल था, जबसे मापन के साधन १८०० के अंत में उपलब्ध हुए तब से, १९९८ के रिकॉर्ड को इसने एक डिग्री के कुछ सौवें भाग से तोडा[54] विश्व मौसम विज्ञान संगठन (World Meteorological Organization) और जलवायु अनुसंधान एकक (Climatic Research Unit) द्वारा तैयार किए गए अंदाजों से निष्कर्ष निकाला गया की २००५, १९९८ के बाद दूसरा सबसे जिआदा गर्म साल था[55][56] १९९८ में तापमान असामान्य रूप से जिआदा इसलिए था क्यूंकि उस साल अल Niño के दक्षिणी दोलन (El Niño-Southern Oscillation) घटित हुए थे[57]

Anthropogenic उत्सर्जन के अन्य प्रदूषक -विशेषकर सल्फेट एरोसोल (aerosol) स-ठंडा करने वाला प्रभाव डालते हैं क्यूंकि यह आती हुई सूर्य की रौशनी को प्रतिबिंबित कर देते हैं यह एक आंशिक कारण है उस शीतलन का जो बीसवी सदी के मध्य में पाया गया[58] हालांकि प्रा‍कृतिक परिवर्तनशीलता के कारण भी ठंडापन हो सकता है।जेम्स Hansen (James Hansen) और उनके सहयोगियों ने प्रस्ताव रखा है की जीवाश्म ईंधन के जलने से जो पदार्थ निकलते हैं -CO2 और एरोसोल्स ने एक दूसरे प्रभाव को खत्म कर दिया है, इसलिए गर्मी जिआदातर गैर CO2 ग्रीनहाउस गैसों के कारण ही है।[59]

Paleoclimatologist विलियम रूडीमेन (William Ruddiman) मानव ने तर्क दिया कि दुनिया भर में जलवायु पर मानवी प्रभाव लगभग 8000 साल पहले शुरू हुआ जब इंसानों ने कृषि के लिए वन साफ़ करने शुरू कर दिए और ५००० साल पहले शुरू हुई एशिया के चावल की सिंचाई ने भी इसमे योगदान दिया[60] Ruddiman की ऐतिहासिक रिकॉर्ड की व्याख्या को मिथेन के आंकड़ों की तुलना में विवादित बताया गया है[61]

मानव पूर्व जलवायु की भिन्‍नता[संपादित करें]

अंटार्कटिका में दो स्थानों पर लिए गए तापमान के आंकड़ों के कर्वे और सारे विश्व का ग्लासिअल बर्फ की विभिन्ताओं का रिकॉर्ड आज की तिथि बाईं ओर के ग्राफ .पर है।

पृथ्वी ने पहले भी कई बार गर्मी और सर्दी महसूस की है। हाल ही का अंटार्कटिक EPICA (EPICA) आइस कोर ८००००० साल का लेखा-जोखा रखता है, जिसमे आठ ग्लासिअल (interglacial) चक्र परिक्रमण भिन्नरूप (orbital variations) के साथ दिए गए हैं जो वर्तमान तापमानों के साथ तुलना करते हैं[62]

आरंभिक जुरास्सिक (Jurassic) काल (लग-भाग १८० करोड़ वर्ष पहले) में ग्रीन हाउस गैसों में वृद्धि होने के कारण औसत तापमान 5 °C (9 °F).तक बड़ गए मुक्त विश्वविद्यालय (Open University) के अनुसन्धान से संकेत मिले हैं की वार्मिंग के कारण चट्टानों की अपक्षय (weathering) दर् ४०० प्रतिशत तक बढ़ गई इस तरह से अपक्षय कार्बन को कैल्सीटेट (calcite) और डोलोमाइट (dolomite) में बाँध देती है, CO2 का स्तर अगले १५०००० सालों में वापिस आम स्तर तक आया[63][64]

मिथेन का clathrate compound (clathrate compound)s (the clathrate gun hypothesis (clathrate gun hypothesis)) से अचानक निकास उन कारणों में से एक माना जाता है जिसके कारण भूतकाल में वार्मिंग हुई, इसमे Permian–Triassic extinction event (Permian–Triassic extinction event) (लग-भाग २ करोड़ ५१ लाख साल पहले) और the Paleocene–Eocene Thermal Maximum (Paleocene–Eocene Thermal Maximum) (लग-भाग 55 करोड़ साल पहले).

जलवायु प्रतिमान[संपादित करें]

२००१ या उससे पहले की गई

ग्लोबल वार्मिंग की गणना, जिसमे कई तरह के जलवायु मॉडल (climate model)SRES (SRES) उत्सर्जन परिदृश्य के अंतर्गत, शामिल किए गए हैं, यह मानते हैं की उत्सर्जन को कम करने के लिए कार्रवाई नही की जायेगी

२१ वीसदी के दौरान सतह की गर्मी का

भौगोलिक वितरण HadCM3 (HadCM3) क्‍लाइमेट मॉडल के द्वारा मापा गया जबकि सामान्‍य परिदृश्‍य में कोई व्‍यवसाय आर्थिक विकास और ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का कारण माना जाता हो.इस आंकडे में, विश्व स्तर की वार्मिंग 3.0 °C (5.4 °F). से मेल खाती है

वैज्ञानिकों ने जलवायु के कंप्यूटर मॉडल (computer models) सहित ग्‍लोबल वार्मिंग का अध्‍ययन किया है। ये मोडल्स द्रव गतिशीलता के भौतिक सिद्धांतों, विकरणशील हस्तांतरण (radiative transfer) और अन्य प्रक्रियाओं पर आधारित हैं, कटी जगाहाओं पर सरलीकरण किया गया है क्यूंकि कंप्यूटर की अपनी सीमाएं होती हैं और जल्यायु प्रणाली बहुत ही जटिल (complexity) है सरे आधुनिक जलवायु मॉडल अपने में एक वतावार्नेय मॉडल लिए होते हैं और यह समुद्र के मॉडल और भूमि तथा समुद्र पर बर्फ के मॉडल के साथ जुदा होता है कुछ मॉडलों में रासायनिक और जैविक प्रक्रियाओं के उपचार भी शम्मिल होते हैं[65] यह मॉडल पता लगाते हैं कि ग्रीनहाउस गैसों का प्रभाव अगर जोड़ा जाए तो एक गर्म जलवायु प्राप्त होती है[66] फिर भी, जब ये धारणा इस्तेमाल की जाती है तो भी जलवायु संवेदनशीलता (climate sensitivity) का बहुत बड़ा रोल रहता है

ग्रीनहाउस गैसों की सांद्रता में भविष्य की अनिश्चितताओं को ध्‍यान में रखते हुए आईपीसीसी २१ वी सदी के अंत तक अक चेतावनी की परिकल्पना करती है, १९८०-१९९९ के मुकाबले[1] मॉडल का इस्तेमाल हाल के जलवायु परिवर्तन के कारणों (causes of recent climate change) की जांच करने के लिए भी किया गया है, इसके लिए मापे हुए परिवर्तनों की तुलना मॉडल के द्वारा बताये गए परिवर्तनों के साथ की जाती है

जलवायु के वर्तमान मॉडल अवलोकन के साथ अच्छी तरह मेल खाते हैं पर जलवायु के सभी पहलुओं की नक़ल नही कर पाते[67] ये माडल उस वार्मिंग जो की १९१० से १९४५ तक हुई थी को अच्छी तरह समझा नही पाते, की वह प्राकृतिक परिवर्तन या मानव प्रभाव के कारन हुई ; फिर भी, वे यह सुझाव देते हैं की १९७५ के बाद से होने वाली वार्मिंग ग्रीन हाउस गैसों (greenhouse gas) के उत्सर्जन के कारन ही है

वैश्विक जलवायु मॉडल के अनुमान उन ग्रीनहाउस गैस परिदृश्यों से प्रभावित होते हैं जिनको आईपीसीसी (उत्सर्जन पर विशेष रिपोर्ट (Special Report on Emissions Scenarios)) (SRES) ने अपनी रिपोर्ट में दर्शाया है चाहे सामन्य न हो पर मॉडल में कार्बन चक्र (carbon cycle) का अनुकरण भी किया जाता है, यह ज्यादातर सकारात्मक प्रतिक्रिया दर्शाता है, चाहे यह प्रतिक्रिया (A2 SRES परिदृश्य के अंतर्गत, प्रतिक्रियाओं में 20 और 200 पीपीएम CO2 का अन्तर होता है) अनिश्चित है कुछ पर्यवेक्षण अध्ययनों से एक सकारात्मक प्रतिक्रिया[68][69][70]} देखने को मिली है।

मई २००८ में यह भविष्यवाणी की गई की " विशव का तापमान चाहे अगले दशक में न बड़े क्यूंकि उत्तरी अटलांटिक और प्रशांत उष्णकटिबंधीय क्षत्रों में जो जलवायु परिवर्तन होंगे वे अस्थायी तौर पर अन्थ्रोपोगेनिक वॉर्मिंग को कम कर देंगे " यह भविष्यवाणी समुद्र के तापमान की गणना पर आधारित था[71]

वर्तमान पीढ़ी के मॉडल में बादलों को दर्शाया जाना अनिश्चितता का एक बड़ा कारन है, यद्यपि इस पर कार्य किया जा रहा है[72]

हाल के एक अध्ययन के द्वारा दाऊद डगलस (David Douglass), जॉन क्रिस्टी (John Christy) और बिन्यामीन Pearson और फ्रेड गायक (Fred Singer) ने पाया की अगर हम वास्तविक जलवायु मॉडलों के साथ २२ प्रमुख वैश्विक जलवायु मॉडलों की तुलना करें तो यह पाया जाता है की यह उष्णकटिबंधीय troposphere में हुए परिवर्तनों पर खरे नही बैठते .लेखक इस बात पर गौर करते हैं की उनकी परिणाम हाल ही में हुए प्रकाशनों के परिणामो से मेल नही खाता[73]

अपेक्षित एवं आशातीत प्रभाव[संपादित करें]

विरल रिकॉर्ड यह भी दर्शाते हैं की हिमनद शुरुआती १८००स से पीछे हट रहे हैं १९५० में हिमनद की बर्फ का मापन शुरू हुआ और रिपोर्ट WGMS (WGMS) और NSIDC को पेश की गई (NSIDC).

यद्यपि विशेष मौसम घटनाओं को ग्लोबल वार्मिंग के साथ जोड़ना मुश्किल है, फिर भी विश्व के तापमान में वृद्धि से व्यापक परिवर्तन (changes) सहित बर्फ पीछे हटना (glacial retreat), आर्कटिक shrinkage (Arctic shrinkage) और दुनिया भर में समुद्र के स्तर वृद्धि (sea level rise) हो सकती है।अवक्षेपण (precipitation) की मात्र में परिवर्तन बाढ़ और सूखे (drought) को जनम दे सकता है। चरम मौसम की घटनाओं की आवृत्ति एवं त्रीवता में भी परिवर्तन हो सकते (extreme weather) है। अन्य प्रभावों में कृषि पैदावार में कमी, अलावा व्यापार के नए मार्गों[74] का जुड़ना, छोटी गर्मियां, streamflow (streamflow), प्रजातियों का ख़तम (extinctions) होना और रोगों के वेक्टर (disease vectors) में वृद्धि शामिल हैं

प्राकृतिक वातावरण (natural environment) और मानव जीवन (human life) पर कुछ असर कुछ हद तक ग्लोबल वार्मिंग की वजह से माने जा रहे हैं IPCC की एक रिपोर्ट के अनुसार glacier का पीछे हटना (glacier retreat), ice shelf का ख़तम होना (ice shelf disruption) जैसा की Larsen Ice Shelf (Larsen Ice Shelf), में हुआ समुद्र के स्टार का बड़ना (sea level rise), बारिश में परिवर्तन और बहुत ही ख़राब मौसम (extreme weather events), ग्लोबल वार्मिंग[75] के कारन माने जा रहे हैं समग्र पैटर्न, तीव्रता और आवृत्ति के लिए परिवर्तन संभावित हैं, यह कहना मुश्किल है की यह सब ग्लोबल वार्मिंग के कारण है। अन्य प्रभावों में शामिल हैं कुछ क्षेत्रों में पानी की कमी, कुछ में अवक्षेपण का बड़ना, पर्वत snowpack में परिवर्तन और गरम मौसम के कारण और स्वास्थ्य के प्रतिकूल प्रभाव[76]

बढ़ती हुई मौतों, displacements और आर्थिक नुकसान, जो की अतिवादी मौसम (extreme weather) के कारण संभावित हैं, बढती हुई जनसँख्या (growing population) के कारण और भी बदतर हो सकते हैं . हालांकि शीतोष्ण क्षेत्र में इसके कुछ फैदे भी हो सकते हैं जैसे की ठंड[77] की वजह से कम मौतें होना . आईपीसीसी तीसरी मूल्यांकन रिपोर्ट (IPCC Third Assessment Report) के लिए द्वितीय कार्यकारी समूह द्वारा .[75] बनाई गई रिपोर्ट में संभावित प्रभाव की समझ और इनका सारांश पाया जा सकता है। नई IPCC Fourth Assessment Report (IPCC Fourth Assessment Report) के अनुसार, ऐसा प्रमाण मिलता है की उतरी प्रशांत महासागर में १९७० से tropical cyclone (tropical cyclone) की तेज़ गतिविधि पाई गई है Atlantic Multidecadal Oscillation (Atlantic Multidecadal Oscillation)), के संध्र्ब में, पर लम्बी दूरी के प्रभावों का पता लगना, ख़ास कर के उपग्रह गणनाओं से पहले, बहुत मुश्किल है सारांश यह भी स्पष्ट नहीं करता की उष्णकटिबंधीय चक्रवातों की दुनिया भर में वार्षिक संख्या में कोई सम्बन्ध है या नही[1]

कुछ और संभावित असर हैं समुद्र का १९९० से २१००[78] के बीच बढ़ना, खेती पर असर (repercussions to agriculture), thermohaline सिर्कुलेशन का धीमा होना (possible slowing of the thermohaline circulation), ओजोन परत (ozone layer) में कमी चक्रवातों और[79] ख़राब मौसम की (hurricanes and extreme weather events) तीव्रता में इजाफा (पर यह देर बाद आएँगे), महासागर pH (lowering) का नीचा होना (pH) और मलेरिया और dengue बुखार जैसी बिमारियों का फैलना . एक अध्ययन की भविष्यवाणी के अनुसार २०५० तक १८% से ३५% पशु और पौधों की प्रजातियाँ विलुप्त (extinct) हो जाएँगी, यह बात ११०३ पशु और पौधों के एक नमूने पर आधारित है[80] लेकिन, कुछ ही यंत्रवत अध्ययनों ने जलवायु परिवर्तन[81] के कारण जीवों विलुप्त होने का अनुमान लगाया है और एक शुद्ध तो यह दर्शाता है की विलुप्त होने का अनुमान अनिश्चित हैं .[82]

ग्लोबल वार्मिंग कसे भौगोलिक क्षमता तथा उसकी प्रचंडता में वृद्धि होने की आशा है। उष्णकटिबंधीय बीमारियां (tropical disease)[83] संपूर्ण यूरोप, उत्तरी अमरीका तथा उत्तरी एशिया[84] में जलवायु परिवर्तन कीड़ो से पैदा होने वाले रोगों में बढोतरी कर सकता है जैसे मलेरिया{

आर्थिक[संपादित करें]

कुछ अर्थशास्त्रियों ने अनुमान करने की कोशिश की है की दुनिया भर के जलवायु परिवर्तन से कुल कितनी आर्थिक क्षति होगी अभी तक इस तरह के अनुमान कोई निर्णायक निष्कर्ष नही निकल पाए हैं, 100 अनुमानों के एक सर्वेक्षण में यह पाया गया की आंकडे अमरीकी डॉलरप्रति टन कार्बन -10 (टीसी) (अमेरिकी डॉलर प्रति टन कार्बन डाइऑक्साइड -3) लेकर अमरीकी डॉलर350/tC (95 अमेरिकी डॉलर प्रति टन कार्बन डाइऑक्साइड) तक हैं, इनकी औसत 43 अमेरिकी डॉलर प्रति टन कार्बन (12 अमेरिकी डॉलर प्रति टन कार्बन डाइऑक्साइड) .[77] निकलती है।

Stern Review (Stern Review) संभावित आर्थिक प्रभाव पर एक व्यापक रूप से प्रचारित रिपोर्ट है ; यह सुझाव देती है की दुनिया भर में अत्यधिक कठोर मौसम कम हो सकता है, कुल domestic product एक प्रतिशत तक बड़ सकता है और बुरी से बुरी हालत में प्रति व्यक्ति (per capita) खपत 20 प्रतिशत गिर सकती है।[85] इस रिपोर्ट की पद्धति और निष्कर्ष की कई अर्थशास्त्रियों द्वारा आलोचना की है, मुख्यतः इसमे जो धारणाए हैं उनकी जैसे की छूट (discounting) और इसकी स्थितियों के विकल्प,[86] जबकि अन्य ने आर्थिक जोखिम की गणना का समर्थन किया है, चाहे वे उनकी संखयों से सहमत नही है[87][88]

प्रारंभिक अध्ययन दर्शाते हैं की ग्लोबल वार्मिंग को कम करने की लागत और लाभ मोटे तौर पर एक दूसरे से तुलना के योग्य हैं[89]

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (United Nations Environment Programme) (यूएनईपी) के अनुसार, आर्थिक क्षेत्रों जिनको कठिनाइयों का सामना करने की संभावना हैं, उनमे शामिल हैं बैंकs, कृषि (agriculture), परिवहन और अन्य .[90] विकासशील देश जो की कृषि पर निर्भर करते हैं ग्लोबल वार्मिंग द्वारा ख़ास तौर से प्रभावित होंगे .[91]

अनुकूलन और शमन[संपादित करें]

मौसम वैज्ञानिकों के बीच जो एक तरह का व्यापक समझौता (broad agreement) है की वैश्विक तापमान में वृद्धि होगी, ने कुछ राष्ट्रs, राज्य (state)s, निगम (corporation)s और व्यक्तियों को गतिविधि करने पर मजबूर किया है की ग्लोबल वार्मिंग को कम किया जाए या उसे समायोजित किया जाए .बहुत से पर्यावरण समूह ग्लोबल वार्मिंग के विरूद्ध व्यक्तिगत कार्यों (individual action) को प्रोत्साहित करते हैं किंतु ऐसा प्राय: उपभोक्ता एवं क्षेत्रीय संगठनों द्वारा संपन्न होता है। कुछ ने सुझाव दिया है की दुनिया भर में जीवाश्म ईंधन के उत्पादन पर एक कोटा (quota) होना चाहिए क्यूंकि वे मानते हैं की इसका सीधा सम्बन्ध CO2 के उत्सर्जन[92][93] से है।

जलवायु परिवर्तन पर कारोबारी कारर्वाई (business action on climate change) भी हुई है जैसे की ऊर्जा दक्षता को बडाना और वैकल्पिक ईंधन (alternative fuels) का इस्तेमाल करना .हाल ही में विकसित की गई अवधारणा यह है कि ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन व्यापार (emissions trading) की जाए, इसमे कंपनियां सरकार के साथ मिल के उत्सर्जन को kaab

ग्लोबल वार्मिंग को काबू करने के लिए विश्व का प्राथमिक अंतरराष्ट्रीय समझौता है क्योटो प्रोटोकॉल (Kyoto Protocol), एक संशोधन UNFCCC (UNFCCC) का, जो 1997 में सामने आया .इस प्रोटोकोल के अंतर्गत अब 160 से अधिक देश और विश्व स्तर पर वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन ५५ प्रतिशत भाग है।[94] केवल संयुक्त राज्य अमेरिका और कज़ाकस्तान ने इस संधि की पुष्टि नहीं की है, जबकि अमरीका ग्रीन हाउस गैसों को पैदा करने वाला (largest emitter) सबसे बड़ा देश है। यह संधि 2012 में समाप्त हो रही है और अंतरराष्ट्रीय वार्ता मई 2007 (May 2007) में शुरू हो रही हैं, उस संधि पर जो मौजूदा संधि की जगह लेगी .[95]

अमेरिका अर्थव्यवस्था को भारी नुक्सान और ८० प्रतिशत दुनिया जैसे की चीन और भारत का संधि में से छोडा जाना अमेरिकी राष्ट्रपति (U.S. President)जॉर्ज डब्ल्यू को बुश (George W. Bush) का क्योटो प्रोटोकॉल के लिए कहना है कहना है कि यह अनुचित है और अप्रभावी है[96] बुश ने ऊर्जा प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहित दिया है,[97] और संयुक्त राज्य अमेरिका के भीतर विभिन्न राज्य और नगर सरकारों ने क्योटो प्रोटोकोल को लागू करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं ;इस का एक उदाहरण है क्षेत्रीय ग्रीनहाउस गैस पहल (Regional Greenhouse Gas Initiative).[98]अमेरिका विज्ञान जलवायु परिवर्तन कार्यक्रम (U.S. Climate Change Science Program) एक संयुक्त कार्यक्रम है जिसमे 20 से अधिक अमरीकी संघीय एजेंसियों की भागेदारी है

चीन और भारत, हालांकि इसके प्रावधानों से अछूते हैं, ने क्योटो प्रोटोकोल की विकासशील देशों (developing countries) के रूप में इसकी तस्दीक़ की हैहाल के कुछ अध्ययन[99] के अनुसार चीन ने ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन में अमरीका को भी मात दे दी है। चीनी प्रीमियर वेन जियाबाओ (Wen Jiabao) ने अपने देश से कहा है की वह प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग है।[100] से निपटने के लिए अपने प्रयास दुगने कर दे .

आईपीसीसी का कार्य समूह III ग्लोबल वार्मिंग की लागत और लाभ के विभिन्न दृष्टिकोणों के बारे में रिपोर्ट बनाने के लिए 2007 की आईपीसीसी चौथा मूल्यांकन रिपोर्ट (IPCC Fourth Assessment Report) में यह निष्कर्ष नीकाला गया की कोई एक प्रौद्योगिकी या सेक्टर ग्लोबल वार्मिंग को खत्म करने के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार नही है। वे पाते हैं की प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों, जैसे ऊर्जा आपूर्ति (energy supply), परिवहन (transport)ation, उद्योग (industry) और कृषि, में कुछ प्रमुख प्रथाओं को लागू किया जाना चाहिए .अनुमान है कि 2030 तक कार्बन डाइऑक्साइड समकक्ष (carbon dioxide equivalent) का स्थिरीकरण, 445 और 710 ppm के बीच, सकल घरेलू उत्पाद.[101] में ०.६ से ३ प्रतिशत तक कमी या इजाफा ला सकता है। कार्य समूह III के अनुसार २ डिग्री सेल्सियस तक अगर बढ़ते तापमान को रोकना है तो विकसित देशों के एक समूह को अपने उत्सर्जन को कम करना होगा और २०२० तक उत्सर्जन १९९० के उत्सर्जन से कम होना चाहिए (सबसे अधिक माने जाने वाले क्षेत्रों में 1990 के स्‍तरों से 10 से 40 प्रतिशत तक कम) और २०५० तक उससे भी कम (1990 के स्‍तरों से 40 से 90 प्रतिशत तक कम), चाहे विकासशील देश काफ़ी कटौती क्यूँ न करें.[102]

सामाजिक और राजनीतिक बहस[संपादित करें]

2000 में

प्रति व्यक्ति ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन, जिसमें भूमि का उपयोग (land-use change)

परिवर्तन शामिल है। २००० में

प्रति देश ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन जिसमें भूमि का उपयोग

परिवर्तन है।

वैज्ञानिक निष्कर्ष के प्रचार के कारन दुनिया में राजनीतिक और आर्थिक बहस चिद गई है।[103] गरीब क्षेत्रों, खासकर अफ्रीका, पर बडा जोखिम दिखाई देता है जबकि उनके उत्सर्जन विकसित देशों की तुलना में काफी कम रहे हैं .[104] इसके साथ ही, विकासशील देश (developing country) की क्योटो प्रोटोकॉल (Kyoto Protocol) के प्रावधानों से छूट संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया, द्वारा नकारी गई है और इसको अमेरिका के अनुसमर्थन[105] का एक मुद्दा बनाया गया है। पश्चिमी दुनिया (Western world) में संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में है।[106][107] की तुलना में यूरोप में यह विचार की मानव का जलवायु पर बहुत प्रभाव पड़ता है जिआदा बलवान है।

जलवायु परिवर्तन का मुद्दा एक नया विवाद ले आया है की ग्रीनहाउस गैस (greenhouse gas) के औद्योगिक (industrial)उत्सर्जन (emissions) ओ कम करना फाइदेमंद है या उस पर होने वाला खर्च (costs) जिअदा नुकसानदेह है कई देशों में चर्चा की गई है की वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों (alternative energy sources) को अपनाने में कितना खर्च आएगा और उसका कितना लाभ होगा[108].प्रतियोगी Enterprise संस्थान (Competitive Enterprise Institute) और ExxonMobil (ExxonMobil) जैसी कम्पनिओं ने यह कहा है की हमें जलवायु की जिअदा बुरी हालत की कल्पना कर के ऐसे कदम नही उठाने हैं जो बहुत जिअदा खर्चीले हों.[109][110][111][112] इसी तरह, पर्यावरण की विभिन्न सार्वजनिक लॉबी और कई लोगों ने अभियान शुरू किए हैं जो जलवायु परिवर्तन का जोखिम (risks of climate change) पर ज़ोर डालते हैं और कड़े नियंत्रण करने की वकालत करते हैं .जीवाश्म ईंधन की कुछ कंपनियों ने अपने प्रयासों को हाल के वर्षों[113] में कम किया है यां ग्लोबल वार्मिंग[114] के लिए नीतियों की वकालत की है।

विवाद का एक और मुद्दा है की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं (emerging economies) जैसे भारत और चीन से कैसी उम्मीद की जानी चाहिए की वेह अपने उत्सर्जन को कितना कम करें .हाल की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के सकल राष्ट्रीय CO 2 < / उप > उत्सर्जन (gross national CO2 emissions) अमरीका से जिअदा हो सकते हैं, पर चीन ने कहा है की प्रति व्यक्ति उत्सर्जन (per capita emissions) अमरीका[115] से पाँच गुना कम है इसलिए उस पर यह बंदिश नही होनी चाहिए[116] भारत ने भी इसी बात को दोहराया है जिसे क्‍योटो प्रतिबंधों से छूट प्राप्त है और जो औद्योगिक उत्सर्जन का सबसे बड़ा स्रोत है।[117] However, the U.S. contends that if they must bear the cost of reducing emissions, then China should do the same.[118]

जलवायु संबंधित मुद्दे[संपादित करें]

ग्लोबल वार्मिंग के संबंध में अक्सर कई तरह के मुद्दे उठाए जाते हैं। इनमें से एक महासागरीय अम्लीकरण है। (ocean acidification) वातावरण में बढ़ती CO2 CO की मात्रा से CO 2 की मात्रा महासागरों में भी बड़ जाती है।[119] CO2 समुद्र में पानी के साथ प्रतिक्रिया करता है और कार्बोनिक एसिड (carbonic acid), बनाता है जिससे अम्लीकरण में वृद्धि होती है महासागर की सतह का पीएच (pH) अनुमान है की २००४ तक ८.१४ ही रह गया है जब की औद्योगिक युग की शुरुआत में यह ८.२५ था[120] इसके और भी ज्यादा घटने के आसार हैं, २१०० तक यह ०.१४ से ०.५ तक कम हो सकता है क्‍योंकि महासागर और ज्यादा CO2.[1][121] सोख लेंगे. चूंकि जीवधारी हैं और पारितंत्रों ने अपने आप को कम pH पर ढाला है, इससे उनके विलुप्त होने (extinction) का ख़तरा बढ़ गया है, CO2 का बढ़ना खाद्य जालियाँ (food webs) और मनाव समाज, जो की समुद्र पर निर्भर करता है, को खतरे में दाल सकता है।[122]

धरती पर प्रकाश के आने ने, जिसको irradiance (irradiance) कहते हैं हो सकता हिया की २० वे दशक में ग्लोबल वार्मिंग (Global dimming) को कम किया हो, क्यूंकि तब कम प्रकाश धरती पर आया था 1960 से 1990 तक मानव निर्मित एरोसोल्स ने इस असर को और भी बढाया वैज्ञानिकों ने कहा है कि ६६-९० प्रतिशत विश्‍वास के साथ कहा है की मानव निर्मित एरोसोल्स, ज्वालामुखी गतिविधि सहित ग्लोबल वार्मिंग को कुछ कम करते हैं और ग्रीनहाउस गैसें वार्मिंग को अभी तक जितना देखा गया है उससे और अधिक बढ़ाएँगी यदि ये कम करने वाले कारक न हो.[1]

ओजोन रिक्तीकरण (Ozone depletion) जिसमे पृथ्वी की स्ट्रैटोस्फियर (stratosphere) में ओजोन की कमी हो जाती है, ने ग्लोबल वार्मिंग को बढावा दिया है यद्यपि इन क्षेत्रों के संबंध (areas of linkage) हैं, पर दोनों के बीच के संबंध को मजबूत नहीं कहा जा सकता .

और देखिये[संपादित करें]

अब क् गन् मरोगे

नोट्स और संदर्भ[संपादित करें]

  1. 2001 के संयुक्त बयान पर हस्ताक्षर करने वाली वैज्ञानिक अकादमियों में ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम (Belgium), ब्राज़ील, कनाडा, कैरिबियाई (the Caribbean), चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, आयरलैंड (Ireland), इटली, मलेशिया, न्यूजीलैंड, स्वीडन और यूके हैं। 2005 बयान में जापान, रूस और यूएस को भी शामिल कर लिया गया था। 2007 बयान में मेक्सिकों और दक्षिणी अफ्रीका भी इसमें जौड़ दिए गए थे। व्यावसायिक समितियों में अमरीकी मौसम विज्ञान समिति, अमरीकी भूभौतिकी संघ, अमरीकी भौतिकी संस्‍थान, अमरीकी खगोलीय समिति, विज्ञान की प्रगति के लिए अमरीकी संघ, लंदन की भौगोलिक समिति का ‍टेरीटीग्राफी आयोग, अमरीका की भौगोलिक समिति, अमरीकी रसायन समिति तथा इंजीनियर्स असस्‍टटेलियार
  2. रोबोक, ऐलन तथा क्‍लाइव ओपेनहेमर, एड्स2003 ज्वालामुखी और वायुमंडल, भूभौतिकी मोनोग्राफ 139, अमरीकी भ्‍भौतिकी संघ, वाशिंगटन डीसी, 360 पीपी
  3. ध्यान दें कि ग्रीनहाउस प्रभाव लगभग 33 डिग्री सेल्सियस (59 °F) कि वृद्धि करता है और यह वृद्धि ब्लैक बॉडी पूर्वानुमानों के संधर्भ में है न कि असल में 33 डिग्री सेल्सियस (91 °F) है, जो कि ज्यादा है सतह का औसत तापमान लगभग 14 डिग्री सेल्सियस है (57 °F) .यह भी ध्यान दें कि दोनों फ़ारेनहाइट और सेल्सियस तापमान दो महतवपूर्ण नम्बरों तक ही दर्शाए जाते हैं चाहे रूपांतरण फार्मूला ३ नम्बर दर्शाता है I
  4. Neftel, ए, ई.मूर, एच.ओसगर तथा बीस्तौफ्फेर (1985) ."पिछली दो शताब्दियों में वायुमंडलीय कार्बन डाई आक्साइड में बढोतरी के लिए ध्रुवीय बर्फ के छिद्रों के साक्ष्य हैं "प्रकृति 315:45-47 .
  5. डॉ॰ Pieter Tans (3 मई (3 May)2008) " वार्षिक वृद्धि CO2 तिल अंश (पीपीएम) " के लिए 1959-2007राष्ट्रीय समुद्रीय वायुमंडल और प्रशासन (National Oceanic and Atmospheric Administration) पृथ्वी प्रणाली अनुसंधान प्रयोगशाला, ग्लोबल निगरानी विभाग (अतिरिक्त विवरण.)
  6. जलवायु परिवर्तन प्रत्युत्रर पर पैनल, जलवायु शोध समिति, राष्ट्रीय शोध परिष्‍द 2004, जलवायु परिवर्तन प्रत्युत्तरों की समझ
  7. ओजोन इतिहास
  8. लोक्क्वूद और फ्रोह्लिच्व्ह को उत्तर- सूर्य की जलवायु फोर्सिंग में लगातार भूमिका - Spacecenter
  9. इस कागज का प्रीप्रिंट यहां पाया जा सकता है
  10. कार्यकारी समूह एक, 2007 IPPC का खंड 3.2.2.2, पृष्ठ 243
  11. ग्लोगल वार्मिंग से रोग फैल सकते हैं, जैसे जैसे तापमान बढता है वैसे वैसे अध्ययन : रोगजनकों का नए क्षेत्रों पर हमला हो सकता है। सीबीबी समाचार
  12. ग्लोबल वार्मिंग से मलेरिया पोषित होता है।
  13. Tol और Yohe (2006) " स्टर्न की एक समीक्षा " विश्व अर्थशास्त्र 7(4) : 233-50 .विश्व अर्थशास्त्र में अन्य आलोचनाओं का भी अवलोकन करें।'''
  14. जलवायु वार्ता और अंतरराष्ट्रीय बाधाओं का सामना , आर्थर द्वारा Max, एसोसिएटेड प्रेस, 5/14/07 .
  15. संघ राज्य का संबोधन,2008-01-28 को प्राप्त किया गया ." संयुक्त राज्य अमेरिका हमारी ऊर्जा सुरक्षा और वैश्विक जलवायु परिवर्तन को मजबूत बनाने के लिए वचनबद्ध है। और इन लक्ष्यों को पूरा करने का सबसे अच्छा तरीका है की अमरीका साफ़ और उरला को कम इस्तेमाल करने वाली प्रौद्योगिकी विकसित करे .
  16. ; ; ;
  17. चीन और अमेरिका को जलवायु पर नेतृत्व करना चाहिए, माइकल कासे, एसोसिएटेड प्रेस, via newsvine.com 12/7/07 .
  18. भारत के हिमनद गंभीर वॉर्मिंग का संदेश देते हैं , Somni सेनगुप्ता, 7/17/07, न्यूयॉर्क टाइम्स के द्वारा oregonlive.com .
  19. चीनी ने किया जलवायु मसुदा का खंडन , बीबीसी, 5/1/07 ; अमेरिका के लिए युद्ध में कार्बन कैप्स, आंखें और प्रयास चीन पर फोकस, स्टीवन Mufson, वाशिंगटन पोस्ट, 6/6/07 .

और ज्यादा पढ़ना[संपादित करें]

  • (ऑनलाइन संस्करण में पंजीकरण की आवश्यकता होती है)
  • (ऑनलाइन संस्करण में पंजीकरण की आवश्यकता होती है)

बाहरी लिंक[संपादित करें]

वैज्ञानिक
शैक्षिक
अन्य