द्विघात समीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गणित मे द्विघात समीकरण द्वितीय घात का एक बहुपद समीकरण होता है जिसका मानक समीकरण

ax^2+bx+c=0,\,\!--यह होता है

जहाँ अनिवार्यत: a ≠ 0(अन्यथा यह एक घातीय रेखीय समी० हो जायेगा)

वर्ण a, b और c गुणांक कहलाते हैं।

द्विघात समीकरण के मूल[संपादित करें]

किसी द्विघात समीकरण के दो (अलग होना आवश्यक नही) हल होते हैं जिन्हे द्विघात समीकरण के मूल या हल कह्ते हैं जिन्हे समी- x = \frac{-b \pm \sqrt {b^2-4ac}}{2a}, के द्वारा दिया जाता है जहां चिन्ह ± यह दर्शाता है कि

x_+ = \frac{-b + \sqrt {b^2-4ac}}{2a} और \ x_- = \frac{-b - \sqrt {b^2-4ac}}{2a}

दोनो ही हल हैं

विविक्तिकर[संपादित करें]

उपरोक्त हल मै वर्गमूल के अन्द‍र की राशि :\Delta = b^2 - 4ac,  \,\! को द्विघात समीकरण का विविक्तिकर (सारणिक मान) कह्ते हैं।
यह प्राप्त मूलों की प्रकृति के बारे मे जानकरी देता है जो कि :\Delta</=/>0 के अनुसार होती है