कोलकाता ध्वज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कोलकाता ध्वज

कलकत्ता ध्वज प्रथम भारतीय अनाधिकारिक ध्वज था। इसकी अभिकल्पना शचिन्द्र प्रसाद बोस ने की थी। इसे ७ अगस्त, १९०६ को पारसी बागान स्क्वेयर(ग्रीन पार्क), कोलकाता में फहराया गया था

झंडे में बराबर चौड़ाई के की तीन क्षैतिज पट्टियां थीं। शीर्ष धारी नारंगी, केंद्र धारी पीला और नीचली पट्टी हरे रंग की थी। शिर्ष पट्टी पर ब्रिटिश-शासित भारत के आठ प्रांतों का प्रतिनिधित्व करते आठ आधे खुले कमल के फूल थे और निचली पट्टी पर बाईं तरफ सूर्य और दाईं तरफ़ एक वर्धमान चाँद की तसवीर अंकित थी। ध्वज के केंद्र में "वन्दे मातरम्" का नारा अंकित किया गया था।

देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Listen to this article · (info)
Spoken Wikipedia
This is an audio file which was created from an article revision dated 2006-05-07, and does not reflect subsequent edits to the article. (Audio help)
ये एक आवाज़-लेख है, जो इस लेख का 2006-05-07 दिनांक को बना आवाज़ प्रतिरूप है । इसे आप सुन सकते हैं ।
अंग्रेज़ी के और आवाज़-लेख हिन्दी के और आवाज़-लेख