सुकरात

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
सुकरात
Socrate du Louvre.jpg
लूव्र में सुकरात का संगमरमर से बिना सिर (यह लिसिप्पस के कांस्य से बने सिर की प्रतिलिपि है)
जन्म ल. 470 ई॰पू॰
देमे, अलोपिके, एथेंस
मृत्यु 399 ई॰पू॰ (लगभग 71 वर्ष)
एथेंस
मृत्यु का कारण मृत्युदंड, जहर पिलाकर
जीवनसाथी क्सान्थिप्पे,मिर्तो
बच्चे लैम्प्रोकल्स, मेनेक्सेनस, सोफ्रोनिस्कस

सुकरात ( युनानी- Σωκράτης ;  470-399 ईसा पूर्व ) एथेंस के एक प्राचीन यूनानी दार्शनिक थे , इसके सीसिया अरस्तू था।जिन्हें पाश्चात्य दर्शन के संस्थापक और पहले नैतिक दार्शनिकों में से एक के रूप में श्रेय दिया जाता है । सुकरात ने स्वयं कोई ग्रंथ नहीं लिखा, इसलिये उन्हें, मुख्य रूप से शास्त्रीय लेखकों , विशेष रूप से उनके छात्र प्लेटो और ज़ेनोफ़न के मरणोपरांत वृतान्तों के माध्यम से जाना जाता है। प्लेटो द्वारा रचित ये वृत्तांत, संवाद के रूप में लिखे गए हैं , जिसमें सुकरात और उनके वार्ताकार, प्रश्न और उत्तर की शैली में किसी विषय की समिक्षा करते हैं; उन्होंने सुकरातीय संवाद, साहित्यिक शैली को जन्म दिया । एथेनियन समाज में सुकरात एक विवादित व्यक्ति थे, इतना अधिक कि, हास्य नाटककारों के नाटकों में उनका अक्सर मजाक उड़ाया जाता था।  (अरिस्टोफेन्स् द्वारा रचित नेफेलाइ ("बादलें") उसका सबसे प्रसिद्ध उदाहरण है।) 399 ईसा पूर्व में, उन पर युवाओं को भ्रष्ट करने और धर्मपरायणहीनता करने का आरोप लगाया गया था ।एक दिन तक चले अभियोग के बाद , उन्हें मृत्यु की सजा सुनाई गई थी ।

प्राचीन काल से बचे प्लेटो के संवाद सुकरात के सबसे व्यापक उल्लेखों में से हैं। ये संवाद तर्कवाद और नैतिकता सहित दर्शन के क्षेत्रों के लिए सुकरातीय दृष्टिकोण का प्रदर्शन करते हैं । प्लेटोनीय सुकरात ने सुकरातीय पद्धति या एलेन्चस को प्रतिपादित किया जो,  युक्तिपुर्ण संवाद(Argumentative dialogue), या द्वंद्वात्मकता के माध्यम से दार्शनिक विमर्श करता है। पूछताछ की सुकरातीय पद्धति , छोटे प्रश्नों और उत्तरों का उपयोग करते हुए संवाद में आकार लेती है, जो उन प्लेटोनिक ग्रंथों के प्रतीक हैं, जिनमें सुकरात और उनके वार्ताकार किसी मुद्दे या अमूर्त अर्थ के विभिन्न पहलुओं की विश्लेषण करते हैं,( जो आमतौर, पर किसी सद्गुणों में से, एक से संबंधित होते हैं), और स्वयं को गतिरोध में पाते हैं। जो उन्होंने क्या सोचा था कि वे समझ गए हैं,वे उसको परिभाषित करने में पूरी तरह से असमर्थ रहते हैं । सुकरात अपनी पूर्ण अज्ञानता की घोषणा के लिए जाने जाते हैं ; वह कहते थे कि केवल एक चीज जिसे वह जानते थे, वह यह थी उनकी अज्ञानता का बोध दर्शनशास्त्र का पहला कदम है।

दार्शनिक सुकरात वैसे ही बने हुए हैं, जैसे वे अपने जीवनकाल में थे, एक पहेली, एक अचूक व्यक्ति, जो कुछ भी नहीं लिखे जाने के बावजूद, उन्हें, उन मुट्ठी भर दार्शनिकों में से एक माना जाता है जिन्होंने हमेशा के लिए दर्शनशास्त्र की परिकल्पना बदल दी। उनके बारे में, हमारी सारी जानकारी पुरानी है और इसमें से अधिकांश अत्यंत विवादास्पद है, लेकिन तब भी, एथेनियन लोकतंत्र के हाथों से उसका परीक्षण और तदोपरान्त मृत्यु, दर्शनशास्त्र के अधिविद्य विधा का संस्थापक मिथक है,एवं उसका प्रभाव दर्शन से कहीं दूर,हर युग में, महसूस किया गया है।

सुकरात ने बाद की पुरातनता में दार्शनिकों पर एक मजबूत प्रभाव डाला और आधुनिक युग में भी ऐसा करना जारी रखा है । सुकरात का अध्ययन मध्ययुगीन और इस्लामी विद्वानों द्वारा किया गया था और विशेष रूप से मानवतावादी आंदोलन के भीतर इतालवी पुनर्जागरण के विचार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी । सुकरात में रुचि बेरोकटोक जारी रही, जैसा कि सोरेन कीर्केगार्ड और फ्रेडरिक नीस्चे के कार्यों में परिलक्षित होता है । कला, साहित्य और लोकप्रिय संस्कृति में सुकरात के चित्रण ने उन्हें पश्चिमी दार्शनिक परंपरा में एक व्यापक रूप से ज्ञात व्यक्ति बना दिया है।  

जीवन परिचय[संपादित करें]

सुकरात/सोक्रातेस् (Σωκράτης) को मौलिक शिक्षा और आचार द्वारा उदाहरण देना ही पसंद था। साधारण शिक्षा तथा मानव सदाचार पर वह जोर देता था और उन्हीं की तरह पुरानी रूढ़ियों पर प्रहार करता था। वह कहता था, सच्चा ज्ञान संभव है बशर्ते उसके लिए ठीक तौर पर प्रयत्न किया जाए; जो बातें हमारी समझ में आती हैं या हमारे सामने आई हैं, उन्हें तत्संबंधी घटनाओं पर हम परखें, इस तरह अनेक परखों के बाद हम एक सचाई पर पहुँच सकते हैं। ज्ञान के समान पवित्रतम कोई वस्तु नहीं हैं।'

बुद्ध की भाँति सुकरात ने भी कोई ग्रन्थ नही लिखा। बुद्ध के शिष्यों ने उनके जीवनकाल में ही उपदेशों को कंठस्थ करना शुरु किया था जिससे हम उनके उपदेशों को बहुत कुछ सीधे तौर पर जान सकते हैं; किंतु सुकरात के उपदेशों के बारे में यह भी सुविधा नहीं। सुकरात का क्या जीवनदर्शन था यह उसके आचरण से ही मालूम होता है, लेकिन उसकी व्याख्या भिन्न-भिन्न लेखक भिन्न-भिन्न ढंग से करते हैं। कुछ लेखक सुक्रात की प्रसन्नमुखता और मर्यादित जीवनयोपभोग को दिखलाकर कहते हैं कि वह भोगी था। दूसरे लेखक शारीरिक कष्टों की ओर से उसकी बेपर्वाही तथा आवश्यकता पड़ने पर जीवनसुख को भी छोड़ने के लिए तैयार रहने को दिखलाकर उसे सादा जीवन का पक्षपाती बतलाते हैं। सुकरात को हवाई बहस पसंद न थी। वह अथेन्स के बहुत ही गरीब घर में पैदा हुआ था। गंभीर विद्वान् और ख्यातिप्राप्त हो जाने पर भी उसने वैवाहिक जीवन की लालसा नहीं रखी। ज्ञान का संग्रह और प्रसार, ये ही उसके जीवन के मुख्य लक्ष्य थे। उसके अधूरे कार्य को उसके शिष्य अफलातून और अरस्तू ने पूरा किया। इसके दर्शन को दो भागों में बाँटा जा सकता है, पहला सुक्रात का गुरु-शिष्य-यथार्थवाद और दूसरा अरस्तू का प्रयोगवाद।

तरुणों को बिगाड़ने, देवनिंदा और नास्तिक होने का झूठा दोष उसपर लगाया गया था और उसके लिए उसे जहर देकर मारने का दंड मिला था।

सुकरात ने जहर का प्याला खुशी-खुशी पिया और जान दे दी। उसे कारागार से भाग जाने का आग्रह उसे शिष्यों तथा स्नेहियों ने किया किंतु उसने कहा-

भाइयो, तुम्हारे इस प्रस्ताव का मैं आदर करता हूँ कि मैं यहाँ से भाग जाऊँ। प्रत्येक व्यक्ति को जीवन और प्राण के प्रति मोह होता है। भला प्राण देना कौन चाहता है? किंतु यह उन साधारण लोगों के लिए हैं जो लोग इस नश्वर शरीर को ही सब कुछ मानते हैं। आत्मा अमर है फिर इस शरीर से क्या डरना? हमारे शरीर में जो निवास करता है क्या उसका कोई कुछ बिगाड़ सकता है? आत्मा ऐसे शरीर को बार बार धारण करती है अत: इस क्षणिक शरीर की रक्षा के लिए भागना उचित नहीं है। क्या मैंने कोई अपराध किया है? जिन लोगों ने इसे अपराध बताया है उनकी बुद्धि पर अज्ञान का प्रकोप है। मैंने उस समय कहा था-विश्व कभी भी एक ही सिद्धांत की परिधि में नहीं बाँधा जा सकता। मानव मस्तिष्क की अपनी सीमाएँ हैं। विश्व को जानने और समझने के लिए अपने अंतस् के तम को हटा देना चाहिए। मनुष्य यह नश्वर कायामात्र नहीं, वह सजग और चेतन आत्मा में निवास करता है। इसलिए हमें आत्मानुसंधान की ओर ही मुख्य रूप से प्रवृत्त होना चाहिए। यह आवश्यक है कि हम अपने जीवन में सत्य, न्याय और ईमानदारी का अवलंबन करें। हमें यह बात मानकर ही आगे बढ़ना है कि शरीर नश्वर है। अच्छा है, नश्वर शरीर अपनी सीमा समाप्त कर चुका। टहलते-टहलते थक चुका हूँ। अब संसार रूपी रात्रि में लेटकर आराम कर रहा हूँ। सोने के बाद मेरे ऊपर चादर ओढा देना।

सुकरात ने अपनी शिक्षाओं का दस्तावेजीकरण नहीं किया। हम उसके बारे में केवल दूसरों के वृत्तांतों से जानते हैं: मुख्यतः दार्शनिक प्लेटो और इतिहासकार ज़ेनोफ़न, जो उनके दोनों शिष्य थे; एथेनियन हास्य नाटककार अरिस्टोफेन्स (सुकरात के समकालीन);और प्लेटो के शिष्य अरस्तू, जो सुकरात की मृत्यु के बाद पैदा हुए थे। इन प्राचीन वृत्तांतों की अक्सर विरोधाभासी कहानियाँ केवल सुकरात के सच्चे विचारों को मज़बूती से फिर से संगठित करने की विद्वानों की क्षमता को जटिल बनाती हैं, एक ऐसी स्थिति जिसे सुकराती समस्या के रूप में जाना जाता है। प्लेटो, ज़ेनोफ़ोन और अन्य लेखकों की रचनाएँ जो सुकरात के चरित्र को एक खोजी उपकरण के रूप में उपयोग करते हैं, सुकरात और उनके वार्ताकारों के बीच एक संवाद के रूप में लिखे गए हैं और सुकरात के जीवन और विचार पर जानकारी का मुख्य स्रोत प्रदान करते हैं। सुकराती संवाद (लोगो सोक्राटिकोस) इस नवगठित साहित्यिक शैली का वर्णन करने के लिए अरस्तू द्वारा गढ़ा गया एक शब्द था। जबकि उनकी रचना की सटीक तिथियां अज्ञात हैं, कुछ शायद सुकरात की मृत्यु के बाद लिखी गई थीं। जैसा कि अरस्तू ने पहले उल्लेख किया था, जिस हद तक संवाद सुकरात को प्रामाणिक रूप से चित्रित करते हैं, वह कुछ बहस का विषय है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]