समाज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

समाज एक से अधिक लोगों के समुदाय को कहते हैं जिसमें सभी व्यक्ति मानवीय क्रियाकलाप करते हैं।जो मानवीय क्रियाकलाप में आचरण, सामाजिक सुरक्षा और निर्वाह आदि की क्रियाएं सम्मिलित होती हैं। समाज लोगों का ऐसा समूह होता है जो अपने अंदर के लोगों के मुकाबले अन्य समूहों से काफी कम मेलजोल रखता है। किसी समाज के अंतर्गत आने वाले व्यक्ति एक दूसरे के प्रति परस्पर स्नेह तथा सहृदयता का भाव रखते हैं। दुनिया के सभी समाज अपनी एक अलग पहचान बनाते हुए अलग-अलग रस्मों-रिवाज़ों का पालन करते हैं।

परिचय[संपादित करें]

समाज उपयोगी शिक्षा का सामान्य अर्थ है ' वातावर्ण स्वच्छ रखना' से है

समाज मानवीसमाज मानवीय अंत:क्रियाओं के प्रक्रम की एक प्रणाली है। मानवीय क्रियाएँ चेतन और अचेतन दोनों स्थितियों में साभिप्राय होती हैं। व्यक्ति का व्यवहार कुछ निश्चित लक्ष्यों की पूर्ति के प्रयास की अभिव्यक्ति है। उसकी कुछ नैसर्गिक तथा अर्जित आवश्यकताएँ होती हैं। जैसे काम, क्षुधा, सुरक्षा आदि। इन अवश्यकताओं की पूर्ति के अभाव में व्यक्ति में कुंठा और मानसिक तनाव से ग्रसित हो जाता है। वह इनकी पूर्ति स्वयं करने में सक्षम नहीं होता है। अत: इन आवश्यकताओं की सम्यक् संतुष्टि के लिए अपने दीर्घ विकास क्रम में मनुष्य ने एक समष्टिगत व्यवस्था को विकसित किया है। इस व्यवस्था को ही हम समाज के नाम से सम्बोधित करते हैं। यह व्यक्तियों का ऐसा संकलन है जिसमें वे निश्चित संबंध और विशिष्ट व्यवहार द्वारा एक दूसरे से बँधे होते हैं। व्यक्तियों की वह संगठित व्यवस्था विभिन्न कार्यों के लिए विभिन्न मानदंडों को विकसित करती है, जिनके कुछ व्यवहार अनुमन्य और कुछ निषिद्ध होते हैं।

समाज में विभिन्न कर्ताओं का समावेश होता है, जिनमें अंत:क्रिया होती है। इस अंत:क्रिया का भौतिक और पर्यावरणात्मक आधार होता है। प्रत्येक कर्ता अधिकतम संतुष्टि की ओर उन्मुख होता है। सार्वभौमिक आवश्यकताओं की पूर्ति समाज के अस्तित्व को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए अनिवार्य है। तादात्म्यजनित आवश्यकताएँ संरचनात्मक तत्वों के सहअस्तित्व के क्षेत्र का नियमन करती हैं। क्रिया के उन्मेष की प्रणाली तथा स्थितिजन्य तत्व, जिनकी ओर क्रिया उन्मुख है, समाज की संरचना का निर्धारण करते हैं। संयोजक तत्व अंत:क्रिया की प्रक्रिया को संतुलित करते हैं। वियोजक तत्व सामाजिक संतुलन में व्यवधान उपस्थित करते हैं। वियोजक तत्वों के नियंत्रण हेतु संस्थाकरण द्वारा कर्ताओं के संबंधों तथा क्रियाओं का समायोजन होता है। इससे पारस्परिक सहयोग की वृद्धि होती है और अंतर्विरोधों का शमन होता है। सामाजिक प्रणाली में व्यक्ति को कार्य और पद, दंड और पुरस्कर, योग्यता तथा गुणों से संबंधित सामान्य नियमों और स्वीकृत मानदंडों के आधार पर प्रदान किए जाते हैं। इन अवधारणाओं की विसंगति की स्थिति में व्यक्ति समाज की मान्यताओं और विधाओं के अनुसार अपना व्यवस्थापन नहीं कर पाता और उसका सामाजिक व्यवहार विफल हो जाता है। ऐसी स्थिति उत्पन्न होने पर उसके लक्ष्य की सिद्धि नहीं हो पाती है। कारण यह कि उसे समाज के अन्य सदस्यों का सहयोग नहीं प्राप्त होता। सामाजिक दंड के इसी भय से सामान्यतः व्यक्ति समाज में प्रचलित मान्य परंपराओं की उपेक्षा नहीं कर पाता है। वह उनसे समायोजन का हर संभव प्रयास करता है।

चूँकि समाज व्यक्तियों के पारस्परिक संबंधों की एक व्यवस्था है इसलिए इसका कोई मूर्त स्वरूप नहीं होता। इसकी अवधारणा अनुभूतिमूलक है। पर इसके सदस्यों में एक दूसरे की सत्ता और अस्तित्व की प्रतीति होती है। ज्ञान और प्रतीति के अभाव में सामाजिक संबंधों का विकास संभव नहीं है। पारस्परिक सहयोग एवं संबंध का आधार समान स्वार्थ होता है। समान स्वार्थ की सिद्धि समान आचरण से ही संभव होती है। इस प्रकार का सामूहिक आचरण समाज द्वारा निर्धारित और निर्देशित होता है। वर्तमान सामाजिक मान्यताओं की समान लक्ष्यों से संगति के संबंध में सहमति अनिवार्य होती है। यह सहमति पारस्परिक विमर्श तथा सामाजिक प्रतीकों के आत्मीकरण पर आधारित होती है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक सदस्य को यह विश्वास रहता है कि वह जिन सामाजिक विधाओं को उचित मानता और उनका पालन करता है, उनका पालन दूसरे भी करते हैं। इस प्रकार की सहमति, विश्वास एवं तदनुरूप आचरण सामाजिक व्यवस्था को स्थिर रखते हैं। व्यक्तियों द्वारा सीमित आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु स्थापित विभिन्न संस्थाएँ इस प्रकार कार्य करती हैं, जिससे एक समवेत इकाई के रूप में समाज का संगठन अप्रभावित रहता है। असहमति की स्थिति अंतर्वैयक्तिक एवं अंत:संस्थात्मक संघर्षों को जन्म देती है जो समाज के विघटन के कारण बनते हैं। यह असहमति उस स्थिति में पैदा होती है जब व्यक्ति सामूहिकता के साथ आत्मीकरण में असफल रहता है। आत्मीकरण और नियमों को स्वीकार करने में विफलता कुलगति अधिकारों एवं सीमित सदस्यों के प्रभुत्व के प्रति मूलभूत अभिवृत्तियों से संबद्ध की जा सकती है। इसके अतिरिक्त ध्येय निश्चित हो जाने के पश्चात अवसर इस विफलता का कारण बनता है। सामाजिक संगठन का स्वरूप कभी शाश्वत नहीं रहता। समाज व्यक्तियों का समुच्चय है। यह विभिन्न लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए विभिन्न समूहों में विभक्त है। अत: मानव मन और समूह मन की गतिशीलता उसे निरंतर प्रभावित करती रहती है। परिणामस्वरूप समाज परिवर्तनशील होता है। उसकी यह गतिशीलता ही उसके विकास का मूल है। सामाजिक विकास परिवर्तन की एक चिरंतन प्रक्रिया है जो सदस्यों की आकांक्षाओं और पुनर्निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति की दिशा में उन्मुख रहती है। संक्रमण की निरंतरता में सदस्यों का उपक्रम, उनकी सहमति और नूतनता से अनुकूलन की प्रवृत्ति क्रियाशील रहती है। प्रसिद्ध फ्रांसीसी समाजशास्त्री, एमिल दुर्खीम है, जिनको "समाज को अपने आपमें एक वास्तविकता के रूप में स्वीकारने" का श्रेय दिया जाता है। कहने का तात्पर्य है कि यह केवल "जिसके बारे में हैम नही जानते है या अच्छी तरह से नही जानते है" के लिए मात्र एक मासूम "ढांपने वाला शब्द" नही है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

विश्व में अधिकांश मनुष्य अपने संस्कृति और समाजिक परिवेश के अनुसार जीवनयापन करते है ।

परन्तु कुछ मनुष्य असभ्यता और आसमाजिकता से जीवनयापन करते है ::::: समझौता == कुछ मनुष्य अपने जीवनसाथी बच्चे रिश्तेदारों और कार्यक्षेत्र में उपस्थित अश्लील व्यक्तित्व हिंसक प्रवृति के लोगों से प्रताड़ित रहते हुए भी जीवनयापन उनके ही बीच करते है । बेरोजगारी == अधिकांश मनुष्य अपने परिवारिक सम्पन्नता और प्रतिष्ठता के कारण छोटे काम धंधा नहीं करते कुछ शिक्षा किसी कार्य में अयोग्य होने के कारण बेरोजगार रहते है परन्तु मनुष्य को वक्त के साथ समझौता करना ही पड़ता है चाहे समाज में छोटे मोटे काम धंधा भी क्यो ना करना पड़े यही जीवन है । अनैतिकता == समाज में ऐसे भी मनुष्य है जो प्रेम प्रसंग सम्बन्ध कही भी किसी के साथ भी करते है उन्हें घर परिवार समाज में किसी भी प्रकार का शर्मिंदा नहीं महसूस करते है कुछ तो किसी भी स्थान पर गली गलोच मारपीट लडाई झगड़े करते है । सहनशीलता === कुछ मनुष्य छेड़छड घर परिवार वालों का हिंसा सहन करते भी जीवनयापन करते है । आत्महत्या === कुछ मनुष्य घर परिवार लोगों व अपने गरीबी असफलता से परेशान या त्रस्त होकर आत्महत्या भी कर लेते है ।

सभी मनुष्यों के संस्कृति रहन सहन भिन्न है इसलिए किसी को किसी की प्रेम प्रसंग रहन सहन खानपान पहनावा असभ्य और आसमाजिक लग सकती है स्वयं के संस्कृति सोच विचार के कारण लोगों में एक दूसरे के दिनचार्य जीवनशैली और जीवनी में बहुत अंतर हो सकता है ।

परन्तु कुछ लोग समाज में स्वयं के कई प्रेम प्रसंग को उजागर होने नहीं देते है तथा स्वयं को विनम्र शालीन सभ्य दिखते है ऐसे ही लोग समाज में सबसे निच तुच्छ है क्योंकि समाज में मनुष्य जो है उसे उजागर कर देना चाहिए कोई भी किसी के भी निजी जीवन में हस्तक्षेप नहीं करता क्योंकि सभी अपने संसारिक जीवन में व्यस्त रहते है अधिकांशता प्रेमी और प्रेमिका के मध्य गलतफेमी रहती है की वहां कैसा है इसका जवाब बस इतना है की तुम जैसे हो वहां भी वैसा ही है । शिल === बौद्ध धर्म का एक शब्द है जिसका अर्थात है किसी के भी निजी जीवन निजी सोच विचार में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए ।