सिंधफणा नदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सिंधफणा नदी
नदी
देश भारत
राज्य महाराष्ट्र
क्षेत्र मराठवाड़ा
जिले बीड, परभणी
उपनदियाँ
 - बाएँ किन्हा नदी
 - दाएँ बिंदुसारा नदी, कुंडलिका नदी
स्रोत चिंचोली पहाड़ी
 - स्थान पटोदा तालुका, बीड जिला, महाराष्ट्र, भारत
 - ऊँचाई 528 मी. (1,732 फीट)
मुहाना गोदावरी नदी
 - ऊँचाई 407 मी. (1,335 फीट)
लंबाई 122 कि.मी. (76 मील)

सिंधफणा नदी, गोदावरी नदी की सहायक नदी है जो महाराष्ट्र के बीड के पातोदा तालुका के चिनचोली पहाड़ी के आसपास से निकलती है।[1] पश्चिम से पूर्व में इसकी जल निकासी बेसिन में बीड जिले का करीब 80% हिस्सा आता है। इस कारण यह बीड जिले की सबसे महत्वपूर्ण नदी है। नदी के पार निर्मित माजलगाव बांध, बीड, परभानी और नांदेड़ जिलों में 93885 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करता है।

उद्गम[संपादित करें]

बीड जिले के पटोदा तालुक में बालागत पठार के उत्तर-पश्चिम के शीर्ष पर चिंचोल पहाड़ी में सिंधफन वृद्धि होती है।

जलमार्ग[संपादित करें]

मूल से नदी पूर्व में अमलनेर,एक छोटे से गांव पातोदा तालुका में बहती है। चावरवाड़ी के नीचे एक किलोमीटर यह उत्तर-पश्चिमी दिशा का पालन करके सिंधफाना गांव में बहती है जहां सिंधफाना बांध स्थापित है| यहां, यह एक बार फिर उत्तर-ईश्वरीय कोर्स शुरू करती है। किन्हा,एक अन्य सहायक नदी के संगम के बाद, सिंधफाना का काफी लंबा पूर्वकाल जलमार्ग है, कई गांवों के साथ, येलंब, पिंपरी और हिरपुर इसके आगे से यह एक अपनी सहायक नदी बिंदुसारा से जुड़ जाती है| इसका प्रवाह माजलगाव में मजलगाव बांध द्वारा बाधित होता है, जिसके बाद यह उत्तर-पूर्व और उत्तर की ओर बहती है और गोदवादी मे शामिल होती है[2]|

सहायक नदियाँ[संपादित करें]

बायाँ किनारा[संपादित करें]

केवल अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदी[3] सिंधफाना का बाएं किनारे पर पश्चिमी भाग में अड़, बेलपार और किन्हा हैं| पूर्वी भाग में, उत्तर से बहती बाईं ओर की सहायक नदियां बहुत छोटी आकार की धाराएं हैं।

  • कोटान द्वारा चिंचोली पहाड़ियों की उत्तरी ढलान पर बहती अड़ सहायक नदी सिंधफाना बांध द्वारा बनाई गई जलाशय में गिर जाती है|
  • बेल्पर का अड़ के पश्चिम में चिंचोली पहाड़ियों के उत्तरी ढलान पर उगता होता है। हटोला बहने के बाद, यह अहमदनगर के बाहरी जिले मे जिले में बहती है गोमलवाड़ा में सिंधफाना में शामिल होने के लिए|
  • किन्ह नदी की पश्चिम में पांगरी गांव के पहाड़ी में वृद्धि होती है| किंहा में कई छोटी उपनदियां हैं जैसे मणिकर्णिका जो मैनेर की ओर बहती है और यक्रिडा द्वारा बहती नंदिदारा |

दाहिना किनारा[संपादित करें]

सिंधफणा नदी की कई सारी दाहिना कोण की उपनदियां हैं| बालाघाट ढलान से बहते हुए, पूर्व के क्रम में हैं रामोहो द्वारा बहती उथला, खोकर्मो और खलापुरी द्वारा बहती उत्ताली, डोंम्बरी, उखंडा और राजुरी द्वारा बहती डोंबरी| इनमें से बेंदुरा और कुंडलिका काफी आकार और लंबाई की हैं|

सन्दर्भ[संपादित करें]