पिनांग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Penang
Pulau Pinang
槟城
பினாங்கு
State
Flag of Penang Pulau Pinang 槟城 பினாங்கு
Flag
उपनाम: Pearl of The Orient,
Pulau Pinang Pulau Mutiara (Pearl Island of Penang)
ध्येय: Bersatu dan Setia
("United and Loyal").
"Let Penang Lead" (unofficial)[1]
गान: Untuk Negeri Kita ("For Our State")
   Penang in    Malaysia
   Penang in    Malaysia
Capitalजॉर्ज टाउन
शासन
 • Ruling partyPakatan Rakyat
 • GovernorTYT Tun Datuk Seri Utama
Abdul Rahman bin Haji Abbas
 • Chief MinisterLim Guan Eng
(11 मार्च 2008 – present)
क्षेत्रफल
 • कुल1046.3 किमी2 (404.0 वर्गमील)
जनसंख्या (2010 est.)[a]
 • कुल17,73,442
 • घनत्व1,700 किमी2 (4,400 वर्गमील)
Human Development Index
 • HDI (2009)0.851 (high)
समय मण्डलMST (यूटीसी+8)
 • ग्रीष्मकालीन (दि॰ब॰स॰)Not observed (UTC)
Postal code10000 - 19500
Calling code+604
वाहन पंजीकरणP
Ceded by Kedah to British11 अगस्त 1786
Japanese occupation19 दिसम्बर 1942
Accession into Federation of Malaya31 जनवरी 1948
Independence from the United Kingdom (through the Federation of Malaya)31 अगस्त 1957
वेबसाइटhttp://www.penang.gov.my
^[a] 2,935 people per km² on Penang Island
and 1,208 people per km² in Seberang Perai

पिनांग

मलेशिया का एक राज्य है जो मलक्का के जलडमरुमध्य के साथ प्रायद्वीपीय मलेशिया के पश्चिमोत्तर तट पर स्थित है।


क्षेत्र के हिसाब से पिनांग पेर्लिस के बाद मलेशिया का दूसरा सबसे छोटा और आठवां सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य है। पिनांग के निवासी को बोलचाल की भाषा में पेननगाइट के रूप में जाना जाता है।

अनुक्रम

नाम[संपादित करें]

चीन के मिंग-राजवंश के एडमिरल चे ही ने 15वीं सदी में दक्षिण सागरों में साहसिक अभियानों में प्रयुक्त नौवहन रेखाचित्रों में पिनांग द्वीप को बिनलांग यू (

  1. REDIRECTअंग्रेज़ी भाषा
अंग्रेज़ी
English
बोली जाती है संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ़्रीका, फ़िजी, न्यूज़ीलैंड, ज़िम्बाबवे समेत विश्व के अन्य कई देशों में।
कुल बोलने वाले ५३ देश
संयुक्त राष्ट्र
यूरोपीय संघ
राष्ट्रमण्डल
नाटो
नाफ्टा
भाषा परिवार हिन्द यूरोपीय भाषा
  • जर्मनिक
    • पश्चिमी जर्मनिक उपशाखा
      • ऍंग्लो फ़्रिसियन
        • अंग्रेज़ी
भाषा कूट
ISO 639-1 en
ISO 639-2 eng
ISO 639-3 eng

अंग्रेज़ी भाषा (अंग्रेज़ी: English हिन्दी उच्चारण: इंग्लिश) हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार में आती है और इस दृष्टि से हिंदी, उर्दू, फ़ारसी आदि के साथ इसका दूर का संबंध बनता है। ये इस परिवार की जर्मनिक शाखा में रखी जाती है। इसे दुनिया की सर्वप्रथम अन्तरराष्ट्रीय भाषा माना जाता है। ये दुनिया के कई देशों की मुख्य राजभाषा है और आज के दौर में कई देशों में (मुख्यतः भूतपूर्व ब्रिटिश उपनिवेशों में) विज्ञान, कम्प्यूटर, साहित्य, राजनीति और उच्च शिक्षा की भी मुख्य भाषा है। अंग्रेज़ी भाषा रोमन लिपि में लिखी जाती है।

यह एक पश्चिम जर्मेनिक भाषा है जिसकी उत्पत्ति एंग्लो-सेक्सन इंग्लैंड में हुई थी। संयुक्त राज्य अमेरिका के 19 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध[तथ्य वांछित] और ब्रिटिश साम्राज्य के 18 वीं, 19 वीं और 20 वीं शताब्दी के सैन्य, वैज्ञानिक, राजनीतिक, आर्थिक और सांस्कृतिक प्रभाव के परिणाम स्वरूप यह दुनिया के कई भागों में सामान्य (बोलचाल की) भाषा बन गई है।[2] कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों और राष्ट्रमंडल देशों में बड़े पैमाने पर इसका इस्तेमाल एक द्वितीय भाषा और अधिकारिक भाषा के रूप में होता है।

ऐतिहासिक दृष्टि से, अंग्रेजी भाषा की उत्पत्ति ५वीं शताब्दी की शुरुआत से इंग्लैंड में बसने वाले एंग्लो-सेक्सन लोगों द्वारा लायी गयी अनेक बोलियों, जिन्हें अब पुरानी अंग्रेजी कहा जाता है, से हुई है। वाइकिंग हमलावरों की प्राचीन नोर्स भाषा का अंग्रेजी भाषा पर गहरा प्रभाव पड़ा है। नॉर्मन विजय के बाद पुरानी अंग्रेजी का विकास मध्य अंग्रेजी के रूप में हुआ, इसके लिए नॉर्मन शब्दावली और वर्तनी के नियमों का भारी मात्र में उपयोग हुआ। वहां से आधुनिक अंग्रेजी का विकास हुआ और अभी भी इसमें अनेक भाषाओँ से विदेशी शब्दों को अपनाने और साथ ही साथ नए शब्दों को गढ़ने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। एक बड़ी मात्र में अंग्रेजी के शब्दों, खासकर तकनीकी शब्दों, का गठन प्राचीन ग्रीक और लैटिन की जड़ों पर आधारित है।

महत्व[संपादित करें]

आधुनिक अंग्रेजी, जिसको कभी - कभी प्रथम वैश्विक सामान्य भाषा के तौर पर भी वर्णित किया जाता है,[3][4]संचार, विज्ञान, व्यापार,[3] विमानन, मनोरंजन, रेडियो और कूटनीति के क्षेत्रों की प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय भाषा है।[5][5]ब्रिटिश द्वीपों के परे इसके विस्तार का प्रारंभ ब्रिटिश साम्राज्य के विकास के साथ हुआ और 19 वीं सदी के अंत तक इसकी पहुँच सही मायने में वैश्विक हो चुकी थी।[6][7] यह संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रमुख भाषा है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से अमेरिका की एक वैश्विक महाशक्ति के रूप में पहचान और उसके बढ़ते आर्थिक और सांस्कृतिक प्रभाव के कारण अंग्रेजी भाषा के प्रसार में महत्त्वपूर्ण गति आयी है।[4]

अंग्रेजी भाषा का काम चलाऊ ज्ञान अनेक क्षेत्रों, जैसे की चिकित्सा और कंप्यूटर, के लिए एक आवश्यकता बन चुका है; परिणामस्वरूप एक अरब से ज्यादा लोग कम से कम बुनियादी स्तर की अंग्रेजी बोल लेते हैं (देखें: अंग्रेजी भाषा को सीखना और सिखाना). यह संयुक्त राष्ट्रकी छह आधिकारिक भाषाओं में से भी एक है।

डेविड क्रिस्टल जैसे भाषाविदों के अनुसार अंग्रेजी के बड़े पैमाने पर प्रसार का एक असर, जैसा की अन्य वैश्विक भाषाओँ के साथ भी हुआ है, दुनिया के अनेक हिस्सों में स्थानीय भाषाओँ की विविधता को कम करने के रूप में दिखाई देता है, विशेष तौर पर यह असर ऑस्ट्रेलेशिया और उत्तरी अमेरिका में दिखता है और इसका भारी भरकम प्रभाव भाषा के संघर्षण (एट्ट्रीशन) में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निरंतर अदा कर रहा है।[8] इसी प्रकार ऐतिहासी भाषाविद, जो की भाषा परिवर्तन की जटिलता और गतिशीलता से अवगत हैं, अंग्रेजी भाषा द्वारा अलग भाषाओँ के एक नए परिवार का निर्माण करने की इसकी असीम संभावनाओं के प्रति हमेशा अवगत रहते हैं। इन भाषाविदों के अनुसार इसका कारण है अंग्रेजी भाषा का विशाल आकार और इसका इस्तेमाल करने वाले समुदायों का प्रसार और इसकी प्राकृतिक आंतरिक विविधता, जैसे की इसके क्रीओल्स (creoles) और पिजिंस (pidgins).[9]o

इतिहास[संपादित करें]

इंग्लिश एक वेस्ट जर्मेनिक भाषा है जिसकी उत्पत्ति एन्ग्लो-फ्रिशियन और लोअर सेक्सन बोलियों से हुई है। इन बोलियों को ब्रिटेन में 5 वीं शताब्दी में जर्मन खानाबदोशों और रोमन सहायक सेनाओं द्वारा वर्त्तमान के उत्तर पश्चिमी जर्मनी और उत्तरी नीदरलैण्ड[तथ्य वांछित] के विभिन्न भागों से लाया गया था। इन जर्मेनिक जनजातियों में से एक थी एन्ग्लेस[10], जो संभवतः एन्गल्न से आये थे। बीड ने लिखा है कि उनका पूरा देश ही, अपनी पुरानी भूमि को छोड़कर, ब्रिटेन[11] आ गया था।'इंग्लैंड'(एन्ग्लालैंड) और 'इंग्लिश ' नाम इस जनजाति के नाम से ही प्राप्त हुए हैं।
एंग्लो सेक्संस ने 449 ई. में डेनमार्क और जूटलैंड से आक्रमण करना प्रारंभ किया था,[12][13] उनके आगमन से पहले इंग्लैंड के स्थानीय लोग ब्रायोथोनिक, एक सेल्टिक भाषा, बोलते थे।[14] हालाँकि बोली में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन 1066 के नॉर्मन आक्रमण के पश्चात् ही आये, परन्तु भाषा ने अपने नाम को बनाये रखा और नॉर्मन आक्रमण पूर्व की बोली को अब पुरानी अंग्रेजी कहा जाता है।[15]

शुरुआत में पुरानी अंग्रेजी विविध बोलियों का एक समूह थी जो की ग्रेट ब्रिटेन के एंग्लो-सेक्सन राज्यों की विविधता को दर्शाती है।[16] इनमें से एक बोली, लेट वेस्ट सेक्सन, अंततः अपना वर्चस्व स्थापित करने में सफल हुई. मूल पुरानी अंग्रेज़ी भाषा फिर आक्रमण की दो लहरों से प्रभावित हुई. पहला जर्मेनिक परिवार के उत्तरी जर्मेनिक शाखा के भाषा बोलने वालों द्वारा था; उन्होंने 8 वीं और 9 वीं सदी में ब्रिटिश द्वीपों के कुछ हिस्सों को जीतकर उपनिवेश बना दिया. दूसरा 11 वीं सदी के नोर्मंस थे, जो की पुरानी नॉर्मन भाषा बोलते थे और इसकी एंग्लो-नॉर्मन नमक एक अंग्रेजी किस्म का विकास किया। (सदियाँ बीतने के साथ, इसने अपने विशिष्ट नॉर्मन तत्व को पैरिसियन फ्रेंच और, तत्पश्चात, अंग्रेजी के प्रभाव के कारण खो दिया. अंततः यह एंग्लो-फ्रेंच विशिष्ट बोली में तब्दील हो गयी।) इन दो हमलों के कारण अंग्रेजी कुछ हद तक "मिश्रित" हो गयी (हालाँकि विशुद्ध भाषाई अर्थ में यह कभी भी एक वास्तविक मिश्रित भाषा नहीं रही; मिश्रित भाषाओँ की उत्पत्ति अलग अलग भाषाओँ को बोलने वालों के मिश्रण से होती है। वे लोग आपसी बातचीत के लिए एक मिलीजुली जबान का विकास कर लेते हैं).

स्कैंदिनेवियंस के साथ सहनिवास के परिणामस्वरूप अंग्रेजी भाषा के एंग्लो-फ़्रिसियन कोर का शाब्दिक अनुपूरण हुआ; बाद के नॉर्मन कब्जे के परिणामस्वरूप भाषा के जर्मनिक कोर का सुन्दरीकरण हुआ, इसमें रोमांस भाषाओँ से कई सुन्दर शब्दों को समाविष्ट किया गया। यह नोर्मन प्रभाव मुख्यतया अदालतों और सरकार के माध्यम से अंग्रेजी में प्रविष्ट हो गया। इस प्रकार, अंग्रेजी एक "उधार" की भाषा के रूप में विकसित हुई जिसमें लचीलापन और एक विशाल शब्दावली थी।

ब्रिटिश साम्राज्य के उदय और विस्तार और साथ ही संयुक्त राज्य अमेरिका के एक महान शक्ति के रूप में उभरने के परिणामस्वरूप अंग्रेजी का प्रसार दुनिया भर में हुआ।[तथ्य वांछित]

अंग्रेज़ी शब्दावली का इतिहास[संपादित करें]

पाँचवीं और छठी सदी में ब्रिटेन के द्वीपों पर उत्तर की ओर से एंगल और सेक्सन क़बीलों ने हमला किया था और उन्होंने केल्टिक भाषाएँ बोलने वाले स्थानीय लोगों को स्कॉटलैंड, आयरलैंड और वेल्स की ओर धकेल दिया था।

आठवीं और नवीं सदी में उत्तर से वाइकिंग्स और नोर्स क़बीलों के हमले भी आरंभ हो गए थे और इस प्रकार वर्तमान इंगलैंड का क्षेत्र कई प्रकार की भाषा बोलने वालों का देश बन गया और कई पुराने शब्दों को नए अर्थ मिल गए। जैसे – ड्रीम (dream) का अर्थ उस समय तक आनंद लेना था लेकिन उत्तर के वाइकिंग्स ने इसे सपने का अर्थ दे दिया। इसी प्रकार स्कर्ट का शब्द भी उत्तरी हमलावरों के साथ यहाँ आया। लेकिन इसका रूप बदल कर शर्ट (shirt) हो गया। बाद में दोनों शब्द अलग-अलग अर्थों में प्रयुक्त होने लगे और आज तक हो रहे हैं।

सन् ५०० से लेकर ११०० तक के काल को पुरानी अंग्रेज़ी का दौर कहा जाता है। १०६६ ईस्वी में ड्यूक ऑफ़ नॉरमंडी ने इंगलैंड पर हमला किया और यहाँ के एंग्लो-सैक्सॉन क़बीलों पर विजय पाई। इस प्रकार पुरानी फ़्रांसीसी भाषा के शब्द स्थानीय भाषा में मिलने लगे। अंग्रेज़ी का यह दौर ११०० से १५०० तक जारी रहा और इसे अंग्रेज़ी का विस्तार वाला दौर मध्यकालीन अंग्रेज़ी कहा जाता है। क़ानून और अपराध-दंड से संबंध रखने वाले बहुत से अंग्रेज़ी शब्द इसी काल में प्रचलित हुए। अंग्रेज़ी साहित्य में चौसर (Chaucer) की शायरी को इस भाषा का महत्त्वपूर्ण उदाहरण बताया जाता है।

सन् १५०० के बाद अंग्रेज़ी का आधुनिक काल आरंभ होता है जिसमें यूनानी भाषा के कुछ शब्दों ने मिलना आरंभ किया। यह दौर का शेक्सपियर जैसे साहित्यकार के नाम से आरंभ होता है और ये दौर सन १८०० तक चलता है। उसके बाद अंग्रेज़ी का आधुनिकतम दौर कहलाता है जिसमें अंग्रेज़ी व्याकरण सरल हो चुका है और उसमें अंग्रेज़ों के नए औपनिवेशिक एशियाई और अफ्रीक़ी लोगों की भाषाओं के बहुत से शब्द शामिल हो चुके हैं।
विश्व राजनीति, साहित्य, व्यवसाय आदि में अमरीका के बढ़ती हुए प्रभाव से अमरीकी अंग्रेज़ी ने भी विशेष स्थान प्राप्त कर लिया है। इसका दूसरा कारण ब्रिटिश लोगों का साम्राज्यवाद भी था। वर्तनी की सरलता और बात करने की सरल और सुगम शैली अमरीकी अंग्रेज़ी की विशेषताएँ हैं।

वर्गीकरण और संबंधित भाषाएँ[संपादित करें]

अंग्रेजी भाषा इंडो-यूरोपीय भाषा परिवार के जर्मनिक शाखा के पश्चिमी उप-शाखा की सदस्य है। अंग्रेजी के निकटतम जीवित सम्बन्धियों में दो ही नाम हैं, या तो स्कॉट्स, जो मुख्यतया स्कॉटलैंड अथवा उत्तरी आयरलैंड के हिस्सों में बोली जाती है, या फ़्रिसियन. चूँकि, स्कॉट्स को भाषाविद या तो एक पृथक भाषा या अंग्रेजी की बोलियों के एक समूह के रूप में देखते हैं, इसलिए अक्सर स्कॉट्स की अपेक्षा फ़्रिसियन को अंग्रेजी का निकटतम सम्बन्धी कहा जाता है। इनके बाद अन्य जर्मेनिक भाषाओँ का नंबर आता है जिनका नाता थोड़ा दूर का है, वे हैं, पश्चिमी यूरोपीय भाषाएँ (डच, अफ़्रीकांस, निम्न जर्मन, उच्च जर्मन) और उत्तरी जर्मेनिक भाषाएँ (स्वीडिश,डेनिश, नॉर्वेजियन, आईस्लैंडिक्) और फ़ारोईस. स्कॉट्स और संभवतः फ़्रिसियन के अपवाद के सिवा इनमें से किसी भी भाषा का अंग्रेजी के साथ पारस्परिक मेल नहीं बैठता है। इसका कारण शब्द भण्डारण, वाक्यविन्यास, शब्दार्थ विज्ञान और ध्वनी विoज्ञान में भिन्नता का होना है।[तथ्य वांछित]

अन्य जर्मेनिक भाषाओँ के साथ अंग्रेजी के शब्द भण्डारण में अंतर का मुख्य कारण अंग्रेजी में बड़ी मात्रा में लैटिन शब्दों का उपयोग है (उदाहरण के तौर पर, "एग्जिट" बनाम डच उइत्गैंग) (जिसका शाब्दिक अर्थ है "आउट गैंग", जहाँ "गैंग वैसा ही है जैसे की "गैंगवे" में) और फ्रेंच ("चेंज" बनाम जर्मन शब्द आन्देरुंग, "मूवमेंट" बनाम जर्मन बेवेगुंग (शब्दार्थ, "अथारिंग" और "बे-वे-इंग" ("रस्ते पर बढ़ते रहना")) जर्मन और अंग्रेजी का वाक्यविन्यास भी अंग्रेजी से काफी अलग है, वाक्यों को बनाने के लिए अलग नियम हैं (उदाहरण, जर्मन इच हबे नोच नी एत्वास ऑफ डेम प्लात्ज़ गेसेहें' ', बनाम अंग्रेजी " आई हेव स्टिल नेवर सीन एनिथिंग इन दी स्क्वेर "). शब्दार्थ विज्ञान अंग्रेजी और उसके सम्बन्धियों के बिच झूठी दोस्तियों का कारण है। ध्वनी के अंतर मूल रूप से सम्बंधित शब्दों को भी धुंधला देते हैं ("इनफ" बनाम जर्मन गेनुग), और कभी कभार ध्वनी और शब्दार्थ दोनों ही अलग होते हैं (जर्मन ज़ीत, "समय", अंग्रेजी के "टाइड" से सम्बंधित है, लेकिन अंग्रेजी शब्द का अर्थ ज्वार भाटा हो गया है).[तथ्य वांछित]

१५०० सौ से ज्यादा वर्षों से अंग्रेजी में यौगिक शब्दों के निर्माण और मौजूदा शब्दों में सुधार की क्रिया अपने अलग अंदाज में, जर्मनिक भाषाओँ से पृथक, चल रही है। उदहारण के तौर पर, अंग्रेजी में मूल शब्दों में -हुड, -शिप, -डम, -नेस जैसे प्रत्ययों को जोड़कर एबस्ट्रेक्ट संज्ञा का गठन हो सकता है। लगभग सभी जर्मेनिक भाषाओँ में इन सभी के सजातीय प्रत्यय मौजूद हैं लेकिन उनके उपयोग भिन्न हो गए हैं, जैसे की जर्मन "फ्री-हीत" बनाम अंग्रेजी "फ्री-डम" (-हीत प्रत्यय अंग्रेजी -हुड का सजातीय है, जबकि अंग्रेजी -डम प्रत्यय जर्मन -तुम का)

एक अंग्रेजी बोलने वाला अनेक फ्रेंच शब्दों को भी सुगमता से पढ़ सकता है (हालाँकि अक्सर उनका उच्चारण काफी अलग होता है) क्योंकि अंग्रेजी में फ्रेंच और नॉर्मन शब्दों का बड़ी मात्रा में समायोजन है। यह समायोजन नॉर्मन विजय के बाद एंग्लो-नॉर्मन भाषा से और बाद की सदियों में सीधे फ्रेंच भाषा से शब्दों को उठाने के कारण है। परिणामस्वरूप, अंग्रेजी शब्दावली का एक बड़ा भाग फ्रेंच भाषा से आता है, कुछ मामूली वर्तनी के अंतर (शब्दांत, पुरानी फ्रेंच वर्तनी का प्रयोग आदि) और तथाकथित झूठे दोस्तों के अर्थों में अंतर के साथ. अधिकांश फ्रेंच एकल शब्दों का अंग्रेजी उच्चारण (मिराज ' और कूप डी’इतट ' जैसे वाक्यांशों के अपवाद के सिवाय) पूर्णतया अंग्रेजीकृत हो गया है और जोर देने की विशिष्ट अंग्रेजी पद्धति का अनुसरण करता है।[तथ्य वांछित]डेनिश आक्रमण के फलस्वरूप कुछ उत्तरी जर्मेनिक शब्द भी अंग्रेजी भाषा में आ गए (डेनलौ देखें); इनमें शामिल हैं "स्काई", "विंडो", "एग" और "दे" (और उसके प्रकार) भी और "आर" ("टू बी" का वर्त्तमान बहुवचन)[तथ्य वांछित]

भौगोलिक वितरण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: जनसंख्या के आधार पर विश्व के अंग्रेज़ बोलने वाले देशों की सूची
दुनिया के प्रमुख अंग्रेजी भाषी देशों के स्थानीय अंग्रेजी वक्ताओं की सम्बंधित संख्या को दर्शाता पाई चार्ट

लगभग 37.5 करोड़ लोग अंग्रेजी को प्रथम भाषा के रूप में बोलते हैं।[17] स्थानीय वक्ताओं की संख्या के हिसाब से मंदारिन चीनी और स्पेनिश के बाद वर्त्तमान में संभवतः अंग्रेजी ही तीसरे नंबर पर आती है।[18][19] हालाँकि यदि स्थानीय और गैर स्थानीय वक्ताओं को मिला दिया जाये तो यह संभवतः दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा बन जायेगी, परन्तु यदि चीनी भाषा के मिश्रणों को जोड़ा जाये तो यह संभवतः दूसरे स्थान पर रहेगी (यह इस बात पर निर्भर करेगा की चीनी भाषा के मिश्रणों को "भाषा" कहा जाये की "बोली").[20]

सर्वाधिक वक्ताओं (जिनकी मात्रभाषा अंग्रेजी है) की संख्या के हिसाब से, घटते हुए क्रम से, देश इस प्रकार हैं: संयुक्त राज्य (21.5 करोड़),[21] यूनाइटेड किंगडम (6.1 करोड़)[22], कनाडा (1.82 करोड़)[23], ऑस्ट्रेलिया (1.55 करोड़)[24], आयरलैंड (38 लाख),[22] दक्षिण अफ्रीका (37 लाख)[25] और न्यूजीलैंड (30-37 लाख)[26]. जमैका और नाईजीरिया जैसे जैसे देशों में भी लाखों की संख्या में कोन्टिन्युआ बोली के स्थानीय वक्ता हैं। यह बोली अंग्रेजी आधारित क्रियोल से लेकर अंग्रेजी के एक शुद्ध स्वरूप तक का इस्तेमाल करती है। भारत में अंग्रेजी का द्वितीय भाषा के रूप में उपयोग करने वालों की संख्या सबसे अधिक है ('भारतीय अंग्रेजी'). क्रिस्टल का दावा है कि यदि स्थानीय और गैर स्थानीय वक्ताओं को जोड़ दिया जाये तो वर्त्तमान में भारत में अंग्रेजी को बोलने और समझने वालों की संख्या विश्व में सबसे अधिक है।[27] इसके बाद चीन गणराज्य का नंबर आता है।[28]

कुल वक्ताओं की संख्या के अनुसार देशों का क्रम[संपादित करें]

रैंक देश कुल जनसंख्या का प्रतिशत प्रथम भाषा एक अतिरिक्त भाषा के रूप में जनसंख्या टिप्पणी
1 संयुक्त राज्य अमरिकासंयुक्त राज्य अमेरिका 251,388,301 96% 215,423,557 35,964,744 262,375,152 स्रोत: अमेरिकी जनगणना 2000: भाषा का प्रयोग और अंग्रेजी बोलने की योग्यता: 2000, टैबिल 1. दूसरी भाषा बोलने वालों की संख्या में वे लोग शामिल हैं जिन्होंने कहा की वे घर पर अंग्रेजी का प्रयोग नहीं करते हैं परन्तु "अच्छी" तरह या "बहुत अच्छी" तरह इसे जानते हैं। नोट: आंकडों में 5 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को ही शामिल किया गया है
2 भारत 90,000,000 8% 78,598 65,000,000 द्वितीय भाषा के रूप में बोलने वाले.
25,000,000 तृतीय भाषा के रूप में बोलने वाले
1,028,737,436 आंकडों में दोनों शामिल हैं, अंग्रेजी को दूसरी और तीसरी भाषा के रूप में '''''''''बोलने वाले .1991 के आंकडे.[29][30] आंकडों में अंग्रेजी बोलने वाले शामिल हैं लेकिन अंग्रेजी का इस्तेमाल करने वाले नहीं.[31]
3 नाइजीरिया 79,000,000 53% 4,000,000 >75,000,000 148,000,000 आंकडे नाईजीरिया की पिगिन बोलने वालों के हैं, यह एक अंग्रेजी आधारित पिगिन या क्रियोल है। इहीमेयर के अनुसार 3 से 5 लाख स्थानीय वक्ता हैं; तालिका में इस सीमा के मध्य बिंदु का प्रयोग किया गया है। Ihemere, Kelechukwu Uchechukwu. 2006"एक बुनियादी विवरण और विश्लेषणात्मक उपचार संज्ञा खण्ड के नाइजीरिया पिडगिन में." नॉर्डिक जर्नल ऑफ अफ्रीकन स्टडीज 15 (3): 296-313
4 यूनाइटेड किंगडम 59,600,000 98% 58,100,000 1,500,000 60,000,000 स्रोत: क्रिस्टल (2005), पी. 109
5 फिलिपींस 45,900,000 52% 27000 42500000 88000000 कुल वक्ता : जनगणना 2000, आंकडों के ऊपर लेखन फिगर 7. 5 वर्ष या उससे अधिक आयु के 6.67 करोड़ लोगों में से 63.71% लोग अंग्रेजी बोल सकते हैं। स्थानीय वक्ताओं: जनगणना 1995, एंड्रयू गोंजालेज द्वारा फिलिपींस में भाषा प्लानिंग परिस्थिति में उद्घृत, बहुभाषी तथा बहुसांस्कृतिक विकास जर्नल, 19 (5 और 6), 487-525(1998)
6 कनाडा 25,246,220 85% 17,694,830 7,551,390 29,639,030 स्रोत: 2001 की जनगणना - ज्ञान राजभाषा और मातृ भाषा की. इस जन्म का वक्ताओं आंकड़ा दोनों फ्रेंच और एक मातृभाषा के रूप में अंग्रेजी, प्लस अंग्रेजी के साथ 17.572.170 लोगों और एक मातृभाषा के रूप में फ्रांस के साथ नहीं 122660 लोग शामिल हैं।
7 (ऑस्ट्रेलिया) 18,172,989 92% 15,581,329 2,591,660 19,855,288 स्रोत: 2006 की जनगणना.[32] यह आंकड़ा पहली भाषा में वास्तव में जो केवल घर पर अंग्रेजी बोलने ऑस्ट्रेलियाई निवासियों की संख्या है अंग्रेजी बोलने वालों कॉलम दिखाया. अतिरिक्त भाषा कॉलम "कौन" अच्छी तरह से "या" बहुत अच्छी तरह से अंग्रेजी बोलने का दावा अन्य निवासियों की संख्या दर्शाता है। निवासियों का एक अन्य 5% उनके घर या अंग्रेजी भाषा प्रवीणता राज्य नहीं था।
नोट: कुल = पहली भाषा + अन्य भाषा; प्रतिशत = कुल / जनसंख्या

अंग्रेजी इन देशों की प्राथमिक भाषा है : एंगुइला, एंटीगुआ और बारबुडा, ऑस्ट्रेलिया (ऑस्ट्रेलियन अंग्रेज़ी), बहामा, बारबाडोस, बरमूडा, बेलीज (बेलिजिया क्रीओल), ब्रिटिश हिंद महासागरीय क्षेत्र, ब्रिटिश वर्जिन द्वीप, कनाडा (कनाडियन अंग्रेज़ी), केमैन द्वीप, फ़ॉकलैंड द्वीप, जिब्राल्टर, ग्रेनेडा, गुआम, ग्वेर्नसे (चैनल द्वीप अंग्रेजी), गुयाना, आयरलैंड (हिबेर्नो -अंग्रेजी), आइल ऑफ मैन (मानद्वीप की अंग्रेजी), जमैका (जमैका अंग्रेजी), जर्सी, मोंटेसेराट, नॉरू, न्यूज़ीलैंड (न्यूजीलैंड अंग्रेजी), पिटकेर्न द्वीप, सेंट हेलेना, सेंट किट्स और नेविस, सेंट विंसेंट और द ग्रेनाडाइन्स, सिंगापुर,दक्षिण जॉर्जिया और दक्षिण सैंडविच द्वीप, त्रिनिदाद और टोबैगो, तुर्क और कोइकोस द्वीप समूह, ब्रिटेन, अमेरिका वर्जिन द्वीप समूह और संयुक्त राज्य अमेरिका.

कई अन्य देशों में, जहां अंग्रेजी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा नहीं है, यह एक आधिकारिक भाषा है;ये देश हैं: बोत्सवाना, कैमरून, डोमिनिका, फिजी, माइक्रोनेशिया के फ़ेडेरेटेद राज्य, घाना, जाम्बिया, भारत, केन्या, किरिबाती, लेसोथो, लाइबेरिया, मैडागास्कर, माल्टा, मार्शल द्वीप, मॉरीशस, नामीबिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान, पलाऊ, पापुआ न्यू गिनी, फिलीपिंस (फिलीपीन अंग्रेजी), पर्टो रीको, रवांडा, सोलोमन द्वीप, सेंट लूसिया, समोआ, सेशेल्स, सियरालेओन, श्रीलंका श्रीलंका, स्वाजीलैंड, तंजानिया, युगांडा, जाम्बिया और जिम्बाब्वे. यह दक्षिण अफ्रीका (दक्षिण अफ्रीकी अंग्रेजी) कि 11 आधिकारिक भाषाओं में से एक है जिन्हें बराबर का दर्जा दिया जाता है। अंग्रेजी इन जगहों की भी अधिकारिक भाषा है: ऑस्ट्रेलिया के मौजूदा निर्भर क्षेत्रों (नॉरफ़ॉक आइलैंड, क्रिसमस द्वीप और कोकोस द्वीप) और संयुक्त राज्य (उत्तरी मारियाना द्वीप समूह, अमेरिकन समोआ और पर्टो रीको),[33] ब्रिटेन के पूर्व के उपनिवेश हाँग काँग और नीदरलैंड्स एंटिलीज़.

अंग्रेजी यूनाइटेड किंगडम के कई पूर्व उपनिवेशों और संरक्षित स्थानों की एक महत्त्वपूर्ण भाषा है परन्तु इसे आधिकारिक दर्जा प्राप्त नहीं है। ऐसे स्थानों में शामिल हैं: मलेशिया, ब्रुनेई, संयुक्त अरब अमीरात, बंगलादेश और बहरीन. अंग्रेजी अमेरिका और ब्रिटेन में भी अधिकारिक भाषा नहीं है।[34][35] यद्यपि संयुक्त राज्य अमेरिका की संघीय सरकार की कोई आधिकारिक भाषा नहीं है, इसकी 50 में से 30 राज्य सरकारों द्वारा अंग्रेजी को अधिकारिक दर्जा दिया गया है।[36] हालाँकि अंग्रेजी इसराइल की एक विधि सम्मत आधिकारिक भाषा नहीं है, लेकिन देश ने ब्रिटिश जनादेश के बाद से अधिकारिक भाषा के तौर पर इसके वास्तविक उपयोग को बनाये रखा है।[37]

अंग्रेजी एक वैश्विक भाषा के रूप में[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: अंतर्राष्ट्रीय अंग्रेज़ी एवं विश्व भाषा

अंग्रेजी के प्रयोग के इतना विस्तृत होने के कारण इसे अक्सर "वैश्विक भाषा" भी कहा जाता है, आधुनिक युग की सामान्य भाषा .[4] हालाँकि अधिकांश देशों में यह अधिकारिक भाषा नहीं है, फिर भी वर्त्तमान में दुनिया भर में अक्सर इसको द्वितीय भाषा के रूप में सिखाया जाता है। कुछ भाषाविदों (जैसे की डेविड ग्रादोल) का विश्वास है कि यह अब "स्थानीय अंग्रेजी वक्ताओं" की सांस्कृतिक संपत्ति नहीं रह गयी है, बल्कि अपने निरंतर विकास के साथ यह दुनिया भर की संस्कृतियों का अपने में समायोजन कर रही है।[4] अंतर्राष्ट्रीय संधि के द्वारा यह हवाई और समुद्री संचार के लिए आधिकारिक भाषा है।[38] अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति सहित संयुक्त राष्ट्र और कई अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों की एक आधिकारिक भाषा है।

एक विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेजी का सर्वाधिक अध्ययन यूरोपीय संघ में (89% स्कूली बच्चों द्वारा) होता है, इसके बाद नंबर आता है फ्रेंच (32%), जर्मन (18%), स्पेनिश (8%) और रूसियों का; यूरोपियों में विदेशी भाषाओँ कि उपयोगिता कि धरना का क्रम इस प्रकार है: 68% अंग्रेजी, फ्रेंच 25%, 22% जर्मन और 16% स्पेनिश.[39] अंग्रेजी न बोलने वाले यूरोपीय संघ के देशों में जनसँख्या का एक बड़ा प्रतिशत अंग्रेजी में बातचीत करने का सक्षम होने का दावा करता है, इनका क्रम इस प्रकार है: नीदरलैंड (87%), स्वीडन (85%), डेनमार्क (83%), लक्समबर्ग (66%), फिनलैंड (60%), स्लोवेनिया (56%), ऑस्ट्रिया (53%), बेल्जियम (52%) और जर्मनी (51%).[40] नॉर्वे और आइसलैंड भी-सक्षम अंग्रेजी बोलने वालों का एक बड़ा बहुमत है।[तथ्य वांछित]

दुनिया भर के कई देशों में अंग्रेजी में लिखित किताबें, पत्रिकाएं और अख़बार उपलब्ध होते हैं। विज्ञान के क्षेत्र में भी अंग्रेजी भाषा का ही प्रयोग सबसे अधिक होता है।[4] 1997 में, विज्ञान प्रशस्ति पत्र सूचकांक के अनुसार उसके 95% लेख अंग्रेजी में थे, हालाँकि इनमें से केवल आधे ही अंग्रेजी बोलने वाले देशों के लेखकों के थे।

बोलियाँ और क्षेत्रीय किस्में[संपादित करें]

ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से अमेरिका के प्रभुत्व के कारण दुनिया भर में अंग्रेजी का प्रसार हुआ।[4] इस वैश्विक प्रसार के कारण अनेक अंग्रेजी बोलियों और अंग्रेजी आधारित क्रीओल भाषाओँ और पिजिंस का विकास हुआ।

अंग्रेजी की दो शिक्षित स्थानीय बोलियों को दुनिया के अधिकांश हिस्सों में एक मानक के तौर पर स्वीकृत किया जाता है- एक शिक्षित दक्षिणी ब्रिटिश पर आधारित है और दूसरी शिक्षित मध्यपश्चिमी अमेरिकन पर आधारित है। पहले वाले को कभी कभार BBC (या रानी की) अंग्रेजी कहा जाता है, "प्राप्त उच्चारण" के प्रति अपने झुकाव की वजह से यह कबीले गौर है; यह कैम्ब्रिज मॉडल का अनुसरण करती है। यह मॉडल यूरोप, अफ्रीका भारतीय उपमहाद्वीप और अन्य क्षेत्रों जो की या तो ब्रिटिश राष्ट्रमंडल से प्रभावित हैं या फिर अमेरिका के साथ पहचानकृत होने के उनिच्चुक हैं, में अन्य भाषाओँ को बोलने वालों को अंग्रेजी सिखाने के लिए एक मानक के तौर पर काम करती है। बाद वाली बोली, जनरल अमेरिकी, संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के अधिकांश हिस्सों में फैली हुई है। यह अमेरिकी महाद्वीपों और अमेरिका के निकट सम्बन्ध में रहे अथवा उसकी इच्छा रखने वाले क्षेत्रों (जैसे की फिलीपींस) के लिए एक मॉडल के तौर पर इस्तेमाल होती है। इन दो प्रमुख बोलियों के आलावा अंग्रेजी की अनेक किस्में हैं, जिनमे से अधिकांश में कई उप-प्रकार शामिल हैं, जैसे की ब्रिटिश अंग्रेजी के तहत कोकनी, स्काउस और जिओर्डी; कनाडियन अंग्रेजी के तहत न्यूफ़ाउंडलैंड अंग्रेजी; और अमेरिकी अंग्रेजी के तहत अफ्रीकन अमेरिकन स्थानीय अंग्रेजी ("एबोनिक्स") और दक्षिणी अमेरिकी अंग्रेजी. अंग्रेजी एक बहुकेंद्रित भाषा है और इसमें फ्रांस की 'एकेदिमिया फ्रान्काई' की तरह कोई केन्द्रीय भाषा प्राधिकरण नहीं है; इसलिए किसी एक किस्म को "सही" अथवा "गलत" नहीं माना जाता है।

स्कॉट्स का विकास, मुख्यतः स्वतन्त्र रूप से[तथ्य वांछित], समान मूल से हुआ था लेकिन संघ के अधिनियम 1707(Acts of Union 1707) के पश्चात् भाषा संघर्षण की एक प्रक्रिया आरंभ हुई जिसके तहत उत्तरोत्तर पीढियों ने अंग्रेजी के ज्यादा से ज्यादा लक्षणों को अपनाया इसके परिणामस्वरूप यह अंग्रेजी की एक बोली के रूप में विक्सित हो गयी। वर्त्तमान में इस बात पर विवाद चल रहा है कि यह एक पृथक भाषा है अथवा अंग्रेजी की एक बोली मात्र है जिसे स्कॉटिश अंग्रेजी का नाम दिया गया है। पारंपरिक प्रकारों के उच्चारण, व्याकरण और शब्द भंडार अंग्रेजी की अन्य किस्मों से भिन्न, कभी कभार भारी मात्रा में, हैं।

अंग्रेजी के दूसरी भाषा के रूप में व्यापक प्रयोग के कारण इसके वक्ताओं के लहजेभी भिन्न प्रकार के होते हैं जिनसे वक्ता की स्थानीय बोली अथवा भाषा का पता चलता है। क्षेत्रीय लहजों की अधिक विशिष्ट विशेषताओं के लिए 'अंग्रेजी के क्षेत्रीय लहजों' को देखें और क्षेत्रीय बोलियों की अधिक विशिष्ट विशेषताओं के लिए अंग्रेजी भाषा की बोलियों की सूचि को देखें. इंग्लैंड में, व्याकरण या शब्दकोश के बजाय अंतर अब उच्चारण तक ही सीमित रह गया है। अंग्रेजी बोलियों के सर्वेक्षण के दौरान देश भर में व्याकरण और शब्कोष में भिन्नता पाई गयी, परन्तु शब्द भण्डारण के एट्रिशन की एक प्रक्रिया के कारण अधिकांश भिन्नताएं समाप्त हो गयी हैं।[41]

जिस प्रकार अंग्रेजी ने अपने इतिहास के दौरान स्वयं दुनिया के कई हिस्सों से शब्दों का इस्तेमाल किया है, उसी प्रकार अंग्रेजी के उधारशब्द भी दुनिया की कई भाषाओँ में दिखाई देते हैं। यह इसके वक्ताओं के तकनीकी और सांस्कृतिक प्रभाव को इंगित करता है। अंग्रेजी आधारित अनेक पिजिन और क्रेओल भाषाओँ का गठन किया गया है, जैसे की जमैकन पेटोईस, नाइजीरियन पिजिन और टोक पिसिन. अंग्रेजी शब्दों की भरमार वाली गैर अंग्रेजी भाषाओँ के प्रकारों का वर्णन करने के लिए अंग्रेजी भाषा में अनेक शब्दों की रचना की गयी है।

अंग्रेजी की निर्माण किस्में[संपादित करें]

  • बुनियादी अंग्रेजी का आसान अंतरराष्ट्रीय उपयोग के लिए सरलीकरण किया गया है। निर्माता और अन्य अंतरराष्ट्रीय व्यवसाय मैनुअल लिखने और संवाद करने के लिए बुनियादी अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं। एशिया में कुछ स्कूल इसका उपयोग नौसिखियों को व्यवहारिक अंग्रेजी सिखाने के लिए करते हैं।
  • क्रिया टू बी के प्रकार ई-प्राइम में शामिल नहीं होते हैं।
  • अंग्रेजी सुधार अंग्रेजी भाषा को बेहतर बनाने का एक सामूहिक प्रयास है।
  • मनुष्य द्वारा कोडित अंग्रेजी  – अंग्रेजी भाषा को हस्त संकेतों द्वारा दर्शाने के लिए अनेक प्रणालियाँ विकसित की गयी हैं जिनका उपयोग मुख्यतया बधिरों की शिक्षा के लिए किया जाता है। एन्ग्लोफ़ोन देशों में प्रयुक्त ब्रिटिश सांकेतिक भाषा और अमेरिकी सांकेतिक भाषा से इनको भ्रमित नहीं करना चाहिए. ये सांकेतिक भाषाएँ स्वतन्त्र हैं और अंग्रेजी पर आधारित नहीं हैं।
  • विशिष्ट क्षेत्रों में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और संचार के सहायतार्थ, 1980 के दशक में एडवर्ड जॉनसन द्वारा सीमित शब्दकोश पर आधारित सीस्पीक और सम्बंधित एयरस्पीक और पुलिसस्पीक की रचना की गयी थी। चैनल सुरंग में प्रयोग के लिए एक टनलस्पीक भी है।
  • विशेष अंग्रेजी वोईस ऑफ अमेरिकाद्वारा प्रयुक्त अंग्रेजी का एक सरलीकृत संस्करण है यह सिर्फ 1500 शब्दों की शब्दावली का प्रयोग करता है।

ध्वनीज्ञान[संपादित करें]

स्वर[संपादित करें]

IPA विवरण हिन्दी उच्चारण (लगभग) अंग्रेज़ी शब्द अंग्रेज़ी स्पेलिंग के अक्षर
en:monophthongs
i/iː en:Close front unrounded vowel machine e, ee, ea, ie, i, ey, eo
ɪ en:Near-close near-front unrounded vowel bit i, e, y, a, u, ee, ey, ia, ai, ui, ei
ɛ en:Open-mid front unrounded vowel *छोटा ऍ red e, ea, a, u, ie, ei, ai, ay
æ en:Near-open front unrounded vowel *ऐ cat a
ɒ en:Open back rounded vowel *छोटा ऑ hot o, ua, au, ou, ow
ɔ en:Open-mid back rounded vowel *औ c'aught a, or, our, ore, ough, oor, aw, al, oar, ough, o, ar
ɑ/ɑː en:Open back unrounded vowel father a, au, e, ea
ʊ en:Near-close near-back rounded vowel put u, o, ou, oo, oe
u/uː en:Close back rounded vowel rule u, oo, o, ou, ui, ew, eau, oe, wo
ʌ/ɐ en:Open-mid back unrounded vowel, en:Near-open central vowel *छोटा आ cut u, o, ou, oo, oe
ɝ/ɜː en:Open-mid central unrounded vowel लम्बा अ bird er, ir, ur, or, ear, our
ə en:Schwa above a, ar, e, er, o (unstressed)
ɨ en:Close central unrounded vowel *छोटा इ rosez es, i
en:diphthongs
en:Close-mid front unrounded vowel
en:Close front unrounded vowel
*एइ gate a, ay, ai, ey, ea
oʊ/əʊ en:Close-mid back rounded vowel
en:Near-close near-back rounded vowel
*ओउ home o, ow, oa, ou
en:Open front unrounded vowel
en:Near-close near-front rounded vowel
आइ time i, y, igh, ei, uy
en:Open front unrounded vowel
en:Near-close near-back rounded vowel
आउ house ou, ow
ɔɪ en:Open-mid back rounded vowel
en:Close front unrounded vowel
*ऑइ spoil oi, oy

व्यंजन[संपादित करें]

bilabial ओष्ठ्य Labiodental दन्त्योष्ठ्य dental दन्त्य alveolar वर्त्स्य post-
alveolar परा-वर्त्स
palatal तालव्य velar कण्ठ्य glottal काकल्य
plosive स्पर्श p प b ब t *त--ट d *द--ड k क g ग
nasal अनुनासिक m म n न ŋ ङ
flap उत्क्षिपित ɾ *र
fricative संघर्षी f *फ़ v *व θ *थ ð *द s स z *ज़ ʃ *श ʒ *श्झ h *ह
affricate स्पर्श-संघर्षी tʃ *च dʒ *ज
en:approximant अर्धस्वर w *व ɹ *र j य
lateral approximant पार्श्विक l ल, ɫ *ल

यहाँ * का अर्थ उन स्वरों पर निशान लगाना है जो हिन्दी के ध्वनि-तन्त्र में नहीं होते, या जिनका शुद्ध उच्चारण अधिकांश भारतीय नहीं कर पाते।

ध्वनि-अक्षरमाला सम्बन्ध[संपादित करें]

IPA वर्ण्माला का अक्षर अन्य बोलियों में
p p
b b
t t, th (rarely) thyme, Thames th thing (African-American, New York)
d d th that (African-American, New York)
k c (+ a, o, u, consonants), k, ck, ch, qu (rarely) conquer, kh (in foreign words)
g g, gh, gu (+ a, e, i), gue (final position)
m m
n n
ŋ n (before g or k), ng
f f, ph, gh (final, infrequent) laugh, rough th thing (many forms of English used in England)
v v th with (en:Cockney, en:Estuary English)
θ th : there is no obvious way to identify which is which from the spelling.
ð
s s, c (+ e, i, y), sc (+ e, i, y)
z z, s (finally or occasionally medially),


सप्रा-सेग्मेंटल विशेषताएँ[संपादित करें]

टोन समूह[संपादित करें]

अंग्रेजी एक इन्टोनेशन भाषा है। इसका अर्थ यह है की वाणी के उतार चढाव को परिस्थिति के अनुसार इस्तेमाल किया जाता है। उदहारण के तौर पर, आश्चर्य अथवा व्यंग्य व्यक्त करना, या एक वक्तव्य को प्रश्न में बदलना.

अंग्रेजी में, इन्टोनेशन पैटर्न शब्दों के समूह पर होते हैं जिन्हें टोन समूह, टोन इकाई, इन्टोनेशन समूह या इन्द्रिय समूहों के नाम से जाना जाता है। टोन समूहों को एक ही सांस में कहा जाता है, इस कारण से इनकी लम्बाई सीमित रहती है। ये औसतन पांच शब्द लम्बे होते हैं और लगभग दो सेकंड में ख़तम हो जाते हैं। उदाहरण के लिए (प्राप्त उच्चारण में बोला गया):

/duː juː niːd ˈɛnɪˌθɪŋ/डू यू नीड एनिथिंग ?
/aɪ dəʊnt | nəʊ/आई डोंट, नो
/aɪ dəʊnt nəʊ/आई डोंट नो (उदहारण के लिए, घटाकर, -[220]या [221]/ ड्न्नो आम बोलचाल की भाषा में, यहाँ डोंट और नो के बीच के अंतर को और अधिक घटा दिया गया है)

इन्टोनेशन के अभिलक्षण[संपादित करें]

अंग्रेजी एक बहुत जोर दे कर बोलने वाली भाषा है। शब्दों और वाक्यों, दोनों के कुछ शब्दांशों को उच्चारण के समय अपेक्षाकृत अधिक महत्त्व/ जोर मिलता है जबकि अन्य को नहीं. पहले प्रकार के शब्दांशों को एक्सेंचुएटेड/ स्ट्रेस्ड कहा जाता है और बाद वालों को अनएक्सेंचुएटेड/ अनस्ट्रेस्ड .

इस प्रकार एक वाक्य में प्रत्येक टोन समूह को शब्दांशों में विभाजित किया जा सकता है जो की या तो स्ट्रेस्ड (शक्तिशाली) होंगे या अनस्ट्रेस्ड (कमजोर). स्ट्रेस्ड शब्दांश न्यूक्लियर शब्दांश कहा जाता है। उदाहरण के लिए:

दैट

वास द बेस्ट थिंग यू कुड हेव डन !'

यहां सारे शब्दांश अनस्ट्रेस्ड हैं, सिवाय बेस्ट और डन के, जो की स्ट्रेस्ड हैं। बेस्ट पर जोर (स्ट्रेस) थोड़ा अधिक दिया गया है इसलिए यह न्यूक्लियर शब्दांश है।

न्यूक्लियर शब्दांश वक्ता के मुख्य बिंदु का वर्णन करता है। उदाहरण के लिए:

जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... (किसी और ने.)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... किसी ने कहा की उसने ही चुराया है। या ...उस समय नहीं, पर बाद में उसने ऐसा किया।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... उसने पैसों को किसी और तरीके से हासिल किया है।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... उसने कोई अन्य पैसों को चुराया है।)
जोन ने उस पैसे को नहीं चुराया है। (... वह कुछ और चोरी किया था।)

यह भी

मैंने उसे वह नहीं बताया. (... उसे किसी और ने बताया.)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... तुमने कहा था की मैंने बताया. या ...अब मैं बताउंगी)
मैंने उसे वह नहीं बताया . (... मैंने ऐसा नहीं कहा; उसने ऐसा मतलब निकल लिया होगा, आदि)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... मैंने किसी और को कहा)
मैंने उसे वह नहीं बताया. (... मैंने उसे उसे कुछ और कहा)

यह भावना व्यक्त करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है:

ओह सचमुच? (...मुझे यह नहीं पता था)
ओह, सचमुच ? (...मुझे तुमपर विश्वास नहीं है। या ... यह तो एकदम स्पष्ट है)

न्यूक्लियर शब्दांशों को ज्यादा ऊँचे स्वर में बोला जाता है और इनको बोलने के लहजे में एक विशिष्ट बदलाव होता है। इस लहजे के सबसे सामान्य बदलाव हैं आवाज को ऊँचा करना (rising pitch) और आवाज को निचा करना (falling pitch), हालाँकि गिरती-चढ़ती आवाज (fall-rising pitch) और चढ़ती-गिरती आवाज (rise-falling pitch) का भी यदा कदा इस्तेमाल होता है। अन्य भाषाओँ की अपेक्षा अंग्रेजी भाषा में आवाज को ऊँचा और नीचा करने का महत्त्व कहीं अधिक है। नीची आवाज में बोलना निश्चितता दर्शाता है और ऊँची आवाज में बोलना अनिश्चितता. इसका अर्थ पर एक महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है, खासकर सकारात्मक अथवा नकारात्मक दृष्टिकोण को दर्शाने में; नीची आवाज में बोलने का मतलब है आपका "दृष्टिकोण (सकारात्मक/ नकारात्मक) ज्ञात" है और चढ़ती हुई आवाज का मतलब "दृष्टिकोण अज्ञात" है। हाँ/ नहीं वाले प्रश्नों की चढ़ती हुई आवाज के पीछे भी यही है। उदाहरण के लिए:

आप भुगतान कब पाना चाहते हैं?
अभी ? (ऊँची आवाज. इस मामले में यह एक प्रश्न को दर्शाता है: "क्या मेरा भुगतान अभी किया जा सकता है?" या "क्या अभी भुगतान करने की आपकी इच्छा है?")
अभी. (गिरती आवाज. इस मामले में यह एक वक्तव्य को दर्शाता है: "मेरी इच्छा अभी भुगतान पाने की है।")

स्वर[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: IPA chart for English dialects

स्वर प्रत्येक क्षेत्र में भिन्न भिन्न होते हैं।

जहाँ प्रतीक जोड़े में दृश्य हैं, पहला अमेरिकी अंग्रेजी के सामान्य अमेरिकी उच्चारण से मेल खाता है, दूसरा ब्रिटिश अंग्रेजी के प्राप्त उच्चारण से मेल खाता है।

IPA विवरण शब्द
मोनोफ्थोंग्स
i(ː) बंद मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɪ निकट-बंद निकट-मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɛ खुला-मध्य मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
æ निकट-खुला मुख अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɒ खुला पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएक्स[vn 1]
ɔ(ː) खुला-मध्य पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएक्स[vn 2]
ɑ(ː) खुला पिछला अगोलाकर स्वर बीआर साँचा:Bold dark red
ʊ निकट-बंद निकट-पिछला स्वर जी साँचा:Bold dark redडी
u(ː) बंद पिछला गोलाकार स्वर बी साँचा:Bold dark redएड[vn 3]
ʌ खुला-मध्य पिछला अगोलाकर स्वर, निकट- खुला केन्द्रीय स्वर बी साँचा:Bold dark redडी
ɝ/ɜː खुला-मध्य केन्द्रीय अगोलाकर स्वर बी साँचा:Bold dark redडी[vn 4]
ə स्च्वा Ros[128]'s[vn 5]
ɨ बंद केन्द्रीय अगोलाकर स्वर आर ओ एस साँचा:Bold dark redएस[vn 5][vn 6]
डिप्थोन्ग्स
e(ɪ)/eɪ बंद -मध्य मुख अगोलाकर स्वर
बंद मुख अगोलाकर स्वर
b[138]ed[vn 7]
o(ʊ)/əʊ बंद -मध्य पिछला गोलाकार स्वर
निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
b[145]de[vn 7]
खुला मुख अगोलाकर स्वर
निकट-बंद निकट-मुख अगोलाकर स्वर
cr[148][vn 8]
खुला मुख अगोलाकर स्वर
निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
c[151]
ɔɪ खुला-मध्य पिछला गोलाकार स्वर
बंद मुख अगोलाकर स्वर
b[153]
ʊɚ/ʊə निकट-बंद निकट-पिछला स्वर
स्च्वा
b[155][vn 9]
ɛɚ/ɛə खुला-मध्य मुख अगोलाकर स्वर
स्च्वा
f[160][vn 10]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. [94] ^ कुछ अमेरिकी अंग्रेजी बोलियों में इस ध्वनि का अभाव होता है ; इस ध्वनि वाले शब्दों का उच्चारण /ɑ/ या /ɔ/के साथ होता है।देखें, "लौट-क्लोथ स्प्लिट"
  2. [97] ^ उत्तरी अमेरिकी अंग्रेजी की कुछ बोलियों में यह स्वर नहीं होता है। देखें "cot-caught merger"
  3. [121] ^ अक्षर <यू> प्रतिनिधित्व कर सकता हैं /u/या आयोटेटेड स्वर का/ju/ BRP, अगर यह आयोतेतेद स्वर /ju/ [108], के बाद /t/ /d/ /s/ या /z/ यह अक्सर व्यंजन, पूर्ववर्ती [111] के लिए, [112], इसे बदल के /ʨ/ /ʥ/ /ɕ/ और /ʑ/ क्रमश, टयून, ड्यूरिंग, शुगर और एज्यूर. अमेरिकी अंग्रेजी में, पेलेटलाइज़ेशन आमतौर पर जब तक कि [115 नहीं होता] r द्वारा /ju/ जाता है, परिणाम है कि [116 के साथ] [117] /(t, d,s, z)jur/ बारी /tʃɚ/ /dʒɚ/ /ʃɚ/ /ʒɚ/ क्रमश, नेचर वेर्ड्यूर श्योर और ट्रेज़र.
  4. [126] ^ इस आवाज के उत्तरी अमेरिकी भिन्नरूप एक रोटिक स्वर है।
  5. [130] ^ उत्तरी अमेरिकी अंग्रेजी के कई वक्ता इन दो निर्बल स्वर के बीच अंतर नहीं करते हैं। उन के लिए, गुलाब और रोजा का उच्चारण एक ही तरह से किया जाता है और प्रतीक आमतौर पर इस्तेमाल किया स्च्वा /ə/
  6. [136] ^ यह आवाज अक्सर /i/ या /ɪ/ ट्रांसक्राइब की जाती है।
  7. [143] ^ दिफ्थोंग्स /eɪ/ और /oʊ/ कई अमेरिकी जनरल वक्ताओं के लिए, /eː/ के रूप /eː/ और /oː/ मोनोफ्थोंगल रहे /oː/
  8. [149] ^ स्वर लंबाई और अंग्रेजी बोलियों के बहुमत में एक ध्वन्यात्मक भूमिका निभाता है ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड अंग्रेजी जैसे कुछ बोलियों में फोनेमिक होने के लिए कहा है। आधुनिक अंग्रेजी भाषा के कुछ बोलियों में, उदाहरण के लिए सामान्य अमेरिकी में, वहाँ अल्लोफोनिक स्वर लंबाई होती है: स्वर फोनेमेस एक शब्दांश के कोडा में आवाज उठाई व्यंजन फोनेमेस पहले लंबे स्वर अल्लोफोनेस के रूप में महसूस कर रहे हैं। महान स्वर शिफ्ट से पहले, स्वर लंबाई फोनेमिकलि कोन्त्रास्तिव था।
  9. [158] ^ यह ध्वनि केवल गैर में होता है-रोटिक लहजा कुछ लहजों में, यह ध्वनि हो सकता है [156] /ɔː/ इसके बजाय /ʊə/ देखो अंग्रेजी-ऐतिहासिक r पहले भाषा स्वर परिवर्तन.
  10. [163] ^ यह ध्वनि केवल गैर रोटिक लहजों में होती है। कुछ लहजों में, [१६१] के स्च्वा ऑफ़ग्लाइड /ɛə/ छोड़े जा सकते हैं, ध्वनि को /ɛː/ में मोनोफ़्थाइज़ और लम्बा करके.

व्यंजन[संपादित करें]

यह अंग्रेजी व्यंजन प्रणाली है जो अंतर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला(IPA) से प्रतीकों का प्रयोग कर रही है।

  बिलाबियल लेबियो -
डेंटल
डेंटल एल्विओलर पोस्ट -
एल्विओलर
पेलेतल वेलर लेबिअल -
वेलर
ग्लोट्टल
नेजल m     n     ŋ[167][cn 1][169]  
प्लोसिव p  b     t  d     k  ɡ  
एफ्रिकेट         [173][cn 2]      
फ्रिकेतिव   f  v θ  ð[cn 3] s  z [181][cn 2] [183][cn 4] [185][cn 5] h
फ्लेप       ɾ[cn 6]        
एप्रोक्सिमेंट       [195][cn 2]   j   [198][cn 7]  
लेटरल       l        

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. [169] ^ कुछ उत्तरी ब्रिटिश लहजों में वेलर नेसल [ŋ] /n/ का गैर फोनेमिक एलोफोन है, जो केवल /k/ और /g/ के पहले आता है। हालांकि यह सिर्फ शब्दांश कोडा में होता है अन्य सभी बोलियों में यह एक अलग फोनेम, है
  2. [176] ^ ध्वनी /ʃ/, /ʒ/, and /ɹ/ कुछ बोलियों में लेबिअलाइस्ड होती है। लेबिअलाइज़ेशन प्रारंभिक स्थिति में कभी कन्ट्रस्टिव नहीं होता है इसलिए कभी कभी इसे ट्रन्स्क्राइब नहीं करते हैं। अमेरिकी जनरल के अधिकांश वक्ताओं एहसास <r> (हमेशा) का रेत्रोफ्लेक्स एप्प्रोक्सिमंत [175] के रूप में, /ɻ/ उसी जबकि स्कॉटिश अंग्रेजी, इस दंतउलूखल त्रिल आदि के रूप में महसूस किया है।
  3. [179] ^ कुछ बोलियों में, कोकनी, इंटरदेंतल्स / θ जैसे / और / ð / आमतौर / च के साथ विलय कर रहे हैं / और / दूसरों / और ध्, अफ्रीकी अमेरिकी देशी भाषा अंग्रेजी, जैसे / ð / के साथ विलय कर दिया है दंत / घ /. कुछ आयरिश प्रकारों में /θ/ और /ð/ सम्बंधित डेंटल प्लोसिव्स बन जाते हैं, जो आम एल्विओलर प्लोसिव्स से कंट्रास्ट खाते हैं।
  4. [184] ^ ध्वनी रहित पेलेतिव फ्रिकेतिव /ç/ अधिकांश लहजों में /j/ से पहले /h/ का एलोफोन मात्र है। उदहारण, ह्यूमन /çjuːmən/. हालांकि, कुछ लहजों में (इसेदेखें), /j/ छोड़ दिया जाता है, लेकिन प्रारंभिक व्यंजन समान रहता है।
  5. [191] ^ बेज़बान फ्रिकातिव वेलर / x/ स्कॉटिश या स्कॉट्स के लिए अंग्रेजी का वेल्श वक्ताओं द्वारा प्रयोग किया जाता है / गेलिक शब्दों झील जैसे [186] या /lɒx/ से उधर शब्द और हिब्रू बक तरह के लिए कुछ वक्ताओं /bax/ या चानुका द्वारा / जानुका/x / एक्स / भी दक्षिण अफ्रीकी अंग्रेजी में किया जाता है। कुछ बोलियों जैसे की स्काउस(लिवेर्पूल) या [x]या एफ्रिकेट[kx] /क/ के एलोफोन की तरह इस्तेमाल हो सकते हैं, उदहारण डोकर . [dɒkxə]अधिकांश स्थानीय वक्ताओं को विदेशी भाषा सीखते वक्त इसके उच्चारण के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ती है। अधिकांश वक्ताओं ने आवाज़ [k] और [j] का प्रयोग करते हैं।
  6. The alveolar tap [ɾ] is an allophone of /t/ and /d/ in unstressed syllables in North American English and Australian English.[42] This is the sound of tt or dd in the words latter and ladder, which are homophones for many speakers of North American English. In some accents such as Scottish English and Indian English it replaces /ɹ/. This is the same sound represented by single r in most varieties of Spanish.
  7. [200] ^ बेज़बान W [ʍ] स्कॉटिश और आयरिश अंग्रेजी में पाया जाता है, साथ ही में अमेरिका, न्यूजीलैंड और ब्रिटेन की अंग्रेजी की कुछ किस्मों में. अधिकांश बोलियों में इसे /w/ के साथ मिला दिया जाता है, स्कोट्स की कुछ बोलियों में इसे /f/ के साथ मिला दिया जाता है।

वाणी और एस्पिरेशंस[संपादित करें]

अंग्रेजी में स्टाप व्यंजनों की वाणी और एस्पिरेशंस बोली और सन्दर्भ पर निर्भर करती है, लेकिन कुछ ही सामान्य नियम दिए जा सकते हैं:

  • बेज़बान प्लोसिव्स और एफ्रिकेट्स(/[203]/, /[204]/, /[205]/ और /[206]/) को एस्पिरेतेड तब करते हैं जब वे शब्द की शुरुआत में होते हैं अथवा स्ट्रेस्ड शब्दांश को शुरू करते वक्त [207] तुलना करें पिन [208] और स्पिन [209], क्रेप [210] और स्क्रेप [211].
    • कुछ बोलियों में, एस्पिरेशंस की पहुँच तनावरहित शब्दांशों तक भी होती है।
    • अन्य बोलियों में, जैसे की भारतीय अंग्रेजी, सभी वाणीरहित अवरोध गैर एस्पिरेतेड रहते हैं।
  • कुछ बोलियों में शब्द-आरंभिक वाणीकृत प्लोसिव्स वाणीरहित हो सकते हैं।
  • शब्द-टर्मिनल वाणी रहित प्लोसिव्स कुछ बोलियों में ग्लोतल स्टाप के साथ पाए जा सकते हैं; उदहारण; टेप tʰæp̚[212], सेक sæk̚[213]
  • शब्द-टर्मिनल वाणीकृत प्लोसिव्स कुछ बोलियों में वाणी रहित भी हो सकते हैं (उदहारण, अमेरिकी अंग्रेजी की कुछ किस्में)[214] उदहारण: सेड 215, बेग 216.अन्य बोलियों में, अंतिम स्थान पर वे पूर्णतया वाणीकृत होते हैं, लेकिन शुरुआती स्थान पर केवल आंशिक रूप से वाणीकृत होते हैं।

व्याकरण[संपादित करें]

अन्य इंडो-यूरोपियन भाषाओँ की तुलना में अंग्रेजी में न्यूनतम मोड़(घुमाव/बदलाव) होते हैं। उदाहरण के लिए, आधुनिक जर्मन या डच और रोमांस भाषाओं के विपरीत आधुनिक अंग्रेजी में लिंग व्याकरण और विशेषण समझौते का अभाव है। केस मार्किंग (अंकन) भाषा से लगभग गायब हो चुकी है और आज इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से सर्वनाम में ही किया जाता है। जर्मनिक मूल से प्राप्त मजबूत (स्पीक/स्पोक/स्पोकेन) बनाम कमजोर क्रिया के स्वरूप का आधुनिक अंग्रेजी में महत्त्व घाट गया है और घुमाव के अवशेषों (जैसे की बहुवचन अंकन) का उपयोग बढ़ गया है।

वर्त्तमान में भाषा अधिक विश्लेषणात्मकबन गयी है और अर्थ स्पष्ट करने के लिएद्योतक क्रिया और शब्द क्रम जैसे साधनों का विकास हुआ है। सहायक क्रियायें प्रश्नों, नकारात्मकता, पैसिव वोईस और प्रगतिशील पहलुओं को दर्शाती हैं।

शब्दावली[संपादित करें]

चूँकी अंग्रेज़ी एक जर्मनिक भाषा है, उसकी अधिकतर दैनिक उपयोग की शब्दावली प्राचीन जर्मन से आयी है। इसके अतिरिक्त भी अंग्रेज़ी में कई ऋणशब्द हैं। एक सर्वेक्षण के अनुसार स्थिति ये है:

अंग्रेजी के मूल शब्द लगभग १०,००० हैं

अंग्रेजी शब्दावली सदियाँ बीतने के साथ काफी बदल गयी है।[43]

प्रोटो-इंडो-यूरोपियन (PIE) से निकली अनेक भाषाओँ की तरह अंग्रेजी के सबसे आम शब्दों के मूल (जर्मनिक शाखा के द्वारा) को PIE में खोजा जा सकता है। इन शब्दों में शामिल हैं बुनियादी सर्वनाम ' जैसे आई, पुरानी अंग्रेजी के शब्द आईसी से, (cf. लैटिन ईगो, ग्रीक ईगो, संस्कृत अहम्), मी (cf. लैटिन मी, ग्रीक इमे, संस्कृत मम्), संख्यायें (उदहारण, वन, टू, थ्री, cf. लैटिन उनस, ड्यूओ, त्रेस, ग्रीक ओइनोस "एस (पांसे पर)", ड्यूओ, त्रीस), सामान्य पारिवारिक सम्बन्ध जैसे की माता, पिता, भाई, बहन आदि (cf. ग्रीक "मीतर", लैटिन "मातर" संस्कृत "मात्र"; माता), कई जानवरों के नाम (cf. संस्कृत मूस, ग्रीक मिस, लैटिन मुस ; माउस) और कई आम क्रियायें (cf. ग्रीक गिग्नोमी, लैटिन नोसियर, हिट्टी केन्स ; टू नो).

जर्मेनिक शब्द (आमतौर पर पुरानी अंग्रेजी और कुछ कम हद तक नॉर्स मूल के शब्द) अंग्रेजी के लैटिन शब्दों से ज्यादा छोटे होते हैं और सामान्य बोलचाल में इनका उपयोग ज्यादा आम है। इसमें लगभग सभी बुनियादी सर्वनाम, पूर्वसर्ग, संयोजक, द्योतक क्रियायें आदि शामिल हैं जो की अंग्रेजी के बुनियादी वाक्यविन्यास और व्याकरण को बनाती हैं। लम्बे लैटिन शब्दों को अक्सर ज्यादा अलंकृत और शिक्षित माना जाता है। हालाँकि लैटिन शब्दों के जरुरत से ज्यादा प्रयोग को दिखावटी अथवा मुद्दा छिपाने की एक कोशिश माना जाता है। जोर्ज ओरवेल का निबंध "राजनीती और अंग्रेजी" इस चीज और भाषा के अन्य कथित दुरूपयोगों की आलोचना करता है। इस निबंध को अंग्रेजी भाषा की एक महत्त्वपूर्ण समीक्षा माना जाता है।

एक अंग्रेजी भाषी को लैटिन और जर्मेनिक पर्यायवाचियों में से चयन करने की सुविधा मिलती है: कम या एराइव ; साईट या विज़न ; फ्रीडम या लिबर्टी . कुछ मामलों में, एक जर्मेनिक व्युत्पन्न शब्द (ओवरसी), एक लैटिन व्युत्पन्न शब्द (सुपरवाइज़) और समान लैटिन शब्द (सर्वे) से व्युत्पन्न एक फ्रेंच शब्द में से चयन करने का विकल्प रहता है। विविध अर्थों और बारीकियों को समेटे ये पर्यायवाची शब्द वक्ताओं को बारीक़ भेद और विचारों की भिन्नता को व्यक्त करने में सहायक होते हैं। पर्यायवाची शब्द समूहों के इतिहास का ज्ञान अंग्रजी वक्ता को अपनीभाषा पर अधिक नियंत्रण प्रदान कर सकता है।देखें: अंग्रेजी में जर्मेनिक और लैटिन समकक्षों की सूचि.

इस बात का एक अपवाद और एक विशेषता है जो शायद केवल अंग्रजी भाषा में ही पाई जाती है। वह यह है की, गोश्त की संज्ञा आमतौर पर उसे प्रदान करने वाले जानवर की संज्ञा से भिन्न और असंबंधित होती है। जानवर का आमतौर पर जर्मेनिक नाम होता है और गोश्त का फ्रेंच से व्युत्पन्न होता है। उदहारण, हिरन और वेनिसन ; गाय और बीफ ; सूअर/पिग और पोर्क, तथा भेड़ और मटन . इसे नॉर्मन आक्रमण का परिणाम माना जाता है, जहाँ एंग्लो-सेक्सन निम्न वर्ग द्वारा प्रदान किये गए गोश्त को फ्रेंच बोलने वाले अभिजात वर्ग के लोग खाते थे।[तथ्य वांछित]

किसी बहस के दौरान अपनी बात को सीधे तौर पर प्रकट करने के लिए वक्ता इन शब्दों का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं क्योंकि अनौपचारिक परिवेश में प्रयुक्त अधिकांश शब्द आमतौर पर जर्मेनिक होते हैं। अधिकांश लैटिन शब्दों का प्रयोग आमतौर पर औपचारिक भाषण अथवा लेखन में होता है, जैसे की एक अदालत अथवा एक विश्वकोश लेख.[तथ्य वांछित] हालाँकि अन्य लैटिन शब्द भी हैं जिनका उपयोग आमतौर पर सामान्य बोलचाल में किया जाता है और वे ज्यादा औपचारिक भी प्रतीत नहीं होते हैं; ये शब्द मुख्यता अवधारणाओं के लिए हैं जिनका कोई जर्मेनिक शब्द अब नहीं बचा है। सन्दर्भ से इनका तालमेल बेहतर होता है और कई मामलों में ये लैटिन भी प्रतीत नहीं होते हैं। उदहारण, ये सभी शब्द लैटिन हैं: पहाड़, तराई, नदी, चाची, चाचा, चलना, उपयोग धक्का और रहना .

अंग्रेजी आसानी से तकनीकी शब्दों को स्वीकार करती है और अक्सर नए शब्दों और वाक्यों को आयात भी करती है। इसके उदहारण हैं, समकालीन शब्द जैसे की कूकी, इन्टरनेट और URL (तकनीकी शब्द),जेनर, उबेर, लिंगुआ फ्रांका और एमिगो (फ्रेंच, इतालवी, जर्मन और स्पेनिश से क्रमशः आयातित शब्द). इसके अलावा, ठेठ शब्द (स्लैंग) अक्सर पुराने शब्दों और वाक्यांशों को नया अर्थ प्रदान करते हैं। वास्तव में, यह द्रव्यता इतनी स्पष्ट है की अंग्रेजी के समकालीन उपयोग और उसके औपचारिक प्रकारों में अक्सर भेद करने की आवश्यकता होती है।

इन्हें भी देखें: सामाजिक भाषा ज्ञान

अंग्रेजी में शब्दों की संख्या[संपादित करें]

ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी शब्दकोष का शुरुआती स्पष्टीकरण :

The Vocabulary of a widely diffused and highly cultivated living language is not a fixed quantity circumscribed by definite limits... there is absolutely no defining line in any direction: the circle of the English language has a well-defined centre but no discernible circumference.

अंग्रेजी शब्दावली बेशक विशाल है, परन्तु इसको एक संख्या प्रदान करना गणना से अधिक परिभाषा के तहत आयेगा. फ्रेंच, जर्मन, इतालवी और स्पेनिश भाषाओँ के विपरीत, अंग्रेजी भाषा के लिए अधिकारिक तौर पर स्वीकृत शब्दों और मात्राओं को परिभाषित करने के लिए कोई अकादमी नहीं है। चिकित्सा, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अन्य क्षेत्रों में नियमित रूप से निओलोजिज़्म गढे जा रहे हैं और नए स्लैंग निरंतर विकसित हो रहे हैं। इनमें से कुछ नए शब्दों का व्यापक इएतेमाल होता है; अन्य छोटे दायरों तक ही सीमित रहते हैं। अप्रवासी समुदायों में प्रयुक्त विदेशी शब्द अक्सर व्यापक अंग्रेजी उपयोग में अपना स्थान बना लेते हैं। प्राचीन, उपबोली और क्षेत्रीय शब्दों को व्यापक तौर पर "अंग्रेजी" कहा भी जा सकता है और नहीं भी.

ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी शब्दकोष, द्वितीय संस्करण (OED2) में ६ लाख से अधिक परिभाषाएं शामिल हैं, ज्यादा ही समग्र निति का अनुसरण करते हुए:

It embraces not only the standard language of literature and conversation, whether current at the moment, or obsolete, or archaic, but also the main technical vocabulary, and a large measure of dialectal usage and slang (Supplement to the OED, 1933).[44]

वेबस्टर के तीसरे नए अंतर्राष्ट्रीय शब्दकोश, बिना छंटनी के (475,000 प्रमुख शब्द), के संपादकों ने अपनी प्रस्तावना में इस संख्या के कहीं अधिक होने का अनुमान लगाया है। ऐसा अनुमान है की लगभग 25,000 शब्द हर साल भाषा में जुड़ते हैं।[45]

शब्दों के मूल[संपादित करें]

फ्रेंच प्रभाव का एक परिणाम यह है की कुछ हद तक अंग्रेजी की शब्दावली जर्मेनिक (उत्तरी जर्मेनिक शाखा के लघु प्रभाव वाले मुख्यतया पश्चिमी जर्मेनिक शब्द) और लैटिन (लैटिन व्युत्पन्न, सीधे तौर पर अथवा नॉर्मन फ्रेंच या अन्य रोमांस भाषाओँ से) शब्दों में विभाजित हो गयी है।

अंग्रेजी के 1000 सबसे आम शब्दों में से 83% और 100 सबसे आम में से पूरे 100 जर्मेनिक हैं।[46] इसके उलट, विज्ञान, दर्शन, गणित जैसे विषयों के अधिक उन्नत शब्दों में से अधिकांश लैटिन अथवा ग्रीक से आये हैं। खगोल विज्ञान, गणित और रसायन विज्ञान से उल्लेखनीय संख्या में शब्द अरबी से आये हैं।

अंग्रेजी शब्दावली के अनुपाती मूलों को प्रदर्शित करने के लिए अनेक आंकडे प्रस्तुत किये गए हैं। अधिकांश भाषाविदों के अनुसार अभी तक इनमे से कोई भी निश्चित नहीं है।

थॉमस फिन्केंस्तात और डीटर वोल्फ (1973)[47] द्वारा और्डर्ड प्रोफ़्युज़न में पुरानी लघु ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी (तृतीय संस्करण) के लगभग 80,000 शब्दों का कम्प्यूटरीकृत सर्वेक्षण प्रकाशित हुआ था, इसने अंग्रेजी शब्दों की उत्पत्ति का अनुमान इस प्रकार लगाया था:

अंग्रेजी शब्दावली में प्रभाव

जोसफ एम. विलियम्स द्वारा ओरिजिंस ऑफ़ द इंग्लिश लैंग्वेज में हजारों व्यवसायिक पत्रों से लिए गए 10,000 शब्दों के एक सर्वेक्षण ने ये आंकडे प्रस्तुत किये:[48]

  • फ्रेंच (langue d'oïl): 41%
  • "मूल" अंग्रेजी: 33%
  • लाटिन: 15%
  • ओल्ड नॉर्स: 2%
  • डच: 1%
  • अन्य: 10%

डच मूल[संपादित करें]

नौसेना, जहाजों के प्रकार, अन्य वस्तुएं और जल क्रियाओं का वर्णन करने वाले अनेक शब्द डच मूल के हैं। उदहारण, यौट (जात), स्किपर (शिपर) और क्रूसर (क्रूसर). डच का अंग्रेजी स्लैंग में भी योगदान है, उदहारण, स्पूक, अब अप्रचलित शब्द स्नाइडर (दरजी) और स्तिवर (छोटा सिक्का).

फ्रेंच मूल[संपादित करें]

अंग्रेजी शब्दावली का एक बड़ा हिस्सा फ्रेंच (Langues d'oïl) मूल का है, अधिकांश शब्द एंग्लो-नॉर्मन से निकल कर आये हैं। एंग्लो-नॉर्मन भाषा नॉर्मन की इंग्लैंड विजय के बाद उच्च वर्गों द्वारा सैकडों सालों तक बोली जाती थी। उदहारण, कोम्पतीशन, आर्ट, टेबल, पब्लिसिटी, पोलिस, रोल, रोटीन, मशीन, फोर्स, और अनेक अन्य शब्द जिनका अंग्रेजीकरण या तो हो चुका है या हो रहा है; कई का उच्चारण अब फ्रेंच के बजाय अंग्रेजी के ध्वनी विज्ञान के नियमों के तहत किया जाता है (कुछ अपवाद भी हैं, जैसे की फेकेड और अफेयर दी सिउर).

लेखन प्रणाली[संपादित करें]

नौवीं शताब्दी के आसपास से अंग्रेजी के लेखन के लिए एंग्लो-सेक्सन रून्स के स्थान पर लैटिन वर्णमाला का प्रयोग हो रहा है। वर्तनी प्रणाली, अथवा ओर्थोग्राफी, बहुस्तरीय है। इसमें स्थानीय जर्मेनिक प्रणाली के ऊपर फ्रेंच, ग्रीक और लैटिन वर्तनी के तत्व शामिल हैं; भाषा के ध्वनी विज्ञान से यह काफी हट गया है। शब्दों के उच्चारण और उनकी वर्तनी में अक्सर काफी अंतर पाया जाता है।

हालाँकि अक्षर और ध्वनी अलगाव में मेल नहीं खाते हैं, फिर भी शब्द संरचना, ध्वनी और लहजों को ध्यान में रखकर बनाये गए वर्तनी नियम 75% विश्वसनीय हैं।[49] कुछ ध्वन्यात्मक वर्तनी अधिवक्ताओं का दावा है की अंग्रेजी 80% से ज्यादा ध्वन्यात्मक है।[50] हालाँकि अन्य भाषाओँ की अपेक्षा अंग्रेजी में अक्षर और ध्वनी के बीच सम्बन्ध उतना प्रगाढ़ नहीं है; उदहारण, ध्वनी अनुक्रम आउघ को सात भिन्न प्रकारों से उच्चारित किया जा सकता है। इस जटिल ओर्थोग्रफिक इतिहास का परिणाम यह है की पढ़ना एक चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है।[51] ग्रीक, फ्रेंच और स्पेनिश और कई अन्य भाषाओँ की तुलना में, एक छात्र को अंग्रेजी पाठन का पारंगत बनने में ज्यादा वक्त लगता है।[52]

बुनियादी ध्वनि-अक्षर मेल[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Hard and soft C एवं Hard and soft G

सिर्फ व्यंजन अक्षरों का उच्चारण ही अपेक्षाकृत नियमित तरीके से किया जाता है:

अक्षरात्मक प्रतिनिधित्व बोली विशिष्ट
P P
b b
t t, th (शायद ही कभी) थाइम, थेम्स th थिंग (अफ्रीकी अमेरिकी, न्यू यार्क)
d d th दैट (अफ्रीकी अमेरिकी, न्यू यार्क
k c (+ a, o, u, व्यंजन ), k, ck, ch, qu ((शायद ही कभी) कौन्कर , kh ((विदेशी शब्दों में)
g g, gh, gu (+ a, e, i), ग्यू (अंतिम स्थान )
m m
n n
ŋ n (g या क से पहले ), ng
f f, ph, gh ((अंतिम, यदा कदा) लाफ, रफ th थिंग (इंग्लैंड में अंग्रेजी भाषा के अनेक प्रकार)
v v th विद (कोकनी, एस्तुअरी इंग्लिश)
θ ' th थिक, थिंक, थ्रू (/0}
ð th दैट, दिस, दी
s s, c (+ e, i, y), sc (+ e, i, y), ç (फेकेद )
Z z, s (अंतिम अथवा यदा कदा मध्यवर्ती), ss ((शायद ही कभी) पोस्सेस, देस्सेर्ट, शुरुआती-शब्द x ज़ाइलोफ़ोन
ʃ sh, sch, ti (स्वर से पहले) पोर्शन, ci/ce (स्वर से पहले) सस्पिशन, ओशन ; si/ssi (स्वर से पहले) टेंशन, मिशन ; ch ((खास कर फ्रेंच मूल के शब्दों में ); शायद ही कभी s/ss u से पहले शुगर, इशू ; chsi केवल फुचसिया
ʒ मध्यवर्ती si (स्वर से पहले) डिविजन, मध्यवर्ती s ("ur" से पहले) प्लेज़र, zh (विदेशी शब्दों में ), z उ से पहले azure, g (फ्रेंच मूल के शब्दों में) (+e, i, y) जेनर
X kh, ch, h (विदेशी शब्दों में ) कभी कभार ch लोच (स्कॉटिश इंग्लिश, वेल्श इंग्लिश)
h h (शब्दांश-शुरुआत में, अन्यथा चुप )
ch, tch, t u से पहले फ्यूचर , कल्चर t (+ u, ue, eu) टयून, टयूस्डे, ट्यूटोनिक (कई बोलियाँ - अंग्रेजी व्यंजन समूहों की ध्वनि इतिहास देखें)
j, g (+ e, i, y), dg (+ e, i, व्यंजन) बैज, जज (e) मेंट d (+ u, ue, ew) दयून, ड्यू, ड्यू (कई बोलियाँ - योड संघीकरण का एक और उदाहरण )
((IPA | ɹ)) r, wr (शुरुआती) रैन्गल
j y (या शुरुआत में या स्वरों से घिरा हुआ )
l l
w W
ʍ wh (उच्चारित hw) स्कॉटिश और आयरिश अंग्रेजी, साथ ही अमेरिका, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की अंग्रेजी की कुछ किस्मे,

लिखित लहजे[संपादित करें]

अधिकांश जर्मेनिक भाषाओँ के विपरीत, अंग्रेजी में डायाक्रिटिक्स, सिवाय विदेशी उधारशब्दों के (जैसे की कैफे का तीव्र लहजा), लगभग नहीं के बराबर हैं और दो स्वरों के उच्चारण को एक ध्वनी (नाईव, ज़ो) की बजाय पृथक दर्शाने के लिए डायारिसिस निशान के असामान्य उपयोग में (अक्सर औपचारिक लेखन में).डेकोर, कैफे, रेस्यूम, एंट्री, फिअंसी और नाइव जैसे शब्द अक्सर दोनों तरीकों से लिखे जाते हैं। विशेषक चिह्न अक्सर शब्द के साथ उनको "उच्च कोटि" का दर्शाने के लिए जोड़े जाते हैं। हाल में, अंग्रेजी भाषित देशों में कई कंप्यूटर कुंजीपटलों में प्रभावी विशेषक कुंजियों के आभाव के कारण caf'e या cafe' जैसे कंप्यूटर से उत्पन्न चिह्नों का प्रचलन बढ़ गया है।[तथ्य वांछित]

कुछ अंग्रेजी शब्द अपने को पृथक दर्शाने के लिए डायाक्रिटिक्स को बनाये रखते हैं। उदहारण, animé, exposé, lamé, öre, øre, pâté, piqué, and rosé, हालाँकि अक्सर इनको छोड़ भी दिया जाता है (उदहारण के तौर पर 'résumé /resumé को अमेरिका में रिज्यूमे लिखा जाता है). उच्चारण को स्पष्ट करने के लिए कुछ उधार शब्द डायाक्रिटिक का उपयोग कर सकते हैं, हालाँकि मूल शब्द में यह मौजूद नहीं था। उदहारण, maté, स्पेनिश yerba mate से)

औपचारिक लिखित अंग्रेजी[संपादित करें]

दुनिया भर के शिक्षित अंग्रेजी वक्ताओं द्वारा लगभग सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत भाषा के एक संस्करण को औपचारिक लिखित अंग्रेजी कहा जाता है। लगभग हर जगह इसका लिखित प्रकार समान ही रहता है, इसके विपरीत भाषित अंग्रेजी बोलियों, लहजों, स्लैंग के प्रकारों, स्थानीय और क्षेत्रीय अभिव्यक्तियों के अनुसार भिन्न भिन्न होती है। भाषा के औपचारिक लिखित संस्करण में स्थानीय भिन्नताएं काफी सीमित हैं। इस भिन्नता का दायरा मुख्यतः ब्रिटिश और अमेरिकी अंग्रेजी के वर्तनी अंतर तक ही सिमटा हुआ है।

बुनियादी और सरलीकृत संस्करण[संपादित करें]

अंग्रेजी पाठन को आसन करने के लिए इसके कुछ सरलीकृत संस्करण भी मौजूद हैं। इनमें से एक है बेसिक इंग्लिश, सीमित शब्दों के साथ चार्ल्स के ओग्डेन ने इसका गठन किया और अपनी किताब बेसिक इंग्लिश: ए जनरल इन्ट्रोडक्शन विद रूल्स एंड ग्रामर (१९३०) में इसका वर्णन किया। यह भाषा अंग्रेजी के एक सरलीकृत संस्करण पर आधारित है। ओग्डेन का कहना था की अंग्रेजी सीखने के लिए सात वर्ष लगेंगे, एस्पेरेन्तो के लिए सात महीने और बेसिक इंग्लिश के लिए केवल सात दिन. कम्पनियाँ जिनको अंतर्राष्ट्रीय उपयोग के लिए जटिल पुस्तकों की आवश्यकता हो और साथ ही स्कूल जिनको कम अवधि में लोगों को बुनियादी अंग्रेजी सिखानी हो, वे बेसिक इंग्लिश का उपयोग कर सकते हैं।

ओग्डेन ने बेसिक इंग्लिश में ऐसा कोई शब्द नहीं डाला जिसे कुछ अन्य शब्दों के साथ बोला जा सके और अन्य भाषाओँ के वक्ताओं के लिए भी ये शब्द काम करें, इस बात का भी उसने ख्याल रखा. अपने शब्दों के समूह पर उसने बड़ी संख्या में परीक्षण और सुधार किये. उसने न सिर्फ व्याकरण को सरल बनाया, वरन उपयोगकर्ताओं के लिए व्याकरण को सामान्य रखने की भी कोशिश की.

द्वितीय विश्व युद्ध के तुंरत बाद विश्व शांति के लिए एक औजार के रूप में इसको खूब प्रचार मिला.[तथ्य वांछित] हालाँकि इसको एक प्रोग्राम में तब्दील नहीं किया गया, लेकिन विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय उपयोगों के लिए इसी प्रकार के अन्य संस्करण बनाये गए।

एक अन्य संस्करण, सरलीकृत अंग्रेजी, मौजूद है जो की एक नियंत्रित भाषा है जिसका गठन मूल रूप से एयरोस्पेस उद्योग के रखरखाव मैनुअल के लिए किया गया था। यह अंग्रेजी के एक सीमित और मानकीकृत उपसमूह को उपलब्ध[कौन?] कराता है। सरलीकृत अंग्रेजी में अनुमोदित शब्दों का एक शब्दकोश है और उन शब्दों को कुछ विशिष्ट मायनों में ही इस्तेमाल किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, शब्द क्लोज़ का उपयोग इस वाक्यांश में हो सकता है "क्लोज़ द डोर " पर "डू नोट गो क्लोज़ टू द लैंडिंग गियर" में इसका उपयोग नहीं हो सकता है।

भाषाई साम्राज्यवाद एवं अंग्रेज़ी[संपादित करें]

अंग्रेज़ों ने दुनिया के अनेक देशों को राजनीतिक रूप से अपना उपनिवेश बनाया। इसके साथ ही उन्होंने उन देशों पर बड़ी चालाकी से अंग्रेज़ी भी लाद दी। इसी का परिणाम है कि आज ब्रिटेन के बाहर सं रा अमेरिका, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, कनाडा, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश्, दक्षिण अफ्रिका आदि अनेक देशों में अंग्रेज़ी का वर्चस्व है। अंग्रेज़ी ने यहां कि देशी भाषाओं को बुरी तरह पंगु बना रखा है। ब्रिटिश काउन्सिल जैसी संस्थायें इस अंग्रेज़ी के प्रसार के लिये तरह-तरह के दुष्प्रचार एवं गुप्त अभियान करती रहतीं हैं। परंतु मातृभाषा के तौर पर हिंदी और चीनी भाषा अंग्रेजी से कोसों आगे निकल चुकी है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

ग्रन्थसूची[संपादित करें]

  • Baugh, Albert C.; Thomas Cable (2002). A history of the English language (5th संस्करण). Routledge. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-28099-0.
  • Bragg, Melvyn (2004). The Adventure of English: The Biography of a Language. Arcade Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-55970-710-0.
  • Crystal, David (1997). English as a Global Language. Cambridge: Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-53032-6.
  • Crystal, David (2003). The Cambridge encyclopedia of the English language (2nd संस्करण). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-53033-4.
  • Crystal, David (2004). The Stories of English. Allen Lane. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7139-9752-4.
  • Halliday, MAK (1994). An introduction to functional grammar (2nd संस्करण). London: Edward Arnold. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-340-55782-6.
  • Hayford, Harrison; Howard P. Vincent (1954). Reader and Writer. Houghton Mifflin Company. http://www.archive.org/details/readerandwriter030101mbp
  • केन्यन, जॉन शमूएल और क्नोत्त, थॉमस अल्बर्ट, अमेरिकी अंग्रेजी का एक उच्चारण शब्दकोष, जी और सी मरियम कंपनी, स्प्रिंगफील्ड, मास, अमरीका, 1953.
  • McArthur, T. (ed.) (1992). The Oxford Companion to the English Language. Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-214183-X.
  • Plotkin, Vulf (2006). The Language System of English. BrownWalker Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-58112-993-9.
  • Robinson, Orrin (1992). Old English and Its Closest Relatives. Stanford Univ. Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8047-2221-8.
शब्दकोश

टिप्पड़ीसूचना[संपादित करें]

  1. "Journal of the parliaments of the Commonwealth". Journal of the Parliaments of the Commonwealth. Commonwealth Parliamentary Association, General Council. 34. 1953.
  2. http://www.bartleby.com/224/1501.html
  3. "Global English: gift or curse?". अभिगमन तिथि 2005-04-04.
  4. David Graddol (1997). "The Future of English?" (PDF). The British Council. अभिगमन तिथि 2007-04-15.
  5. "The triumph of English". The Economist. 2001-12-20. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  6. "Lecture 7: World-Wide English". EHistLing. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  7. "Lecture 7: World-Wide English". EHistLing. अभिगमन तिथि 2007-03-26.
  8. Crystal, David (2002). Language Death. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0521012716. डीओआइ:10.2277/0521012716.
  9. Cheshire, Jenny (1991). English Around The World: Sociolinguistic Perspectives. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0521395658. डीओआइ:10.2277/0521395658.
  10. [18] ^ अंग्लिक अंग्रेजी भाषा संसाधन
  11. http://www.ccel.org/ccel/bede/history.vixiv.html
  12. भाषाविज्ञान अनुसंधान केंद्र टेक्सास विश्वविद्यालय
  13. [21] ^ पश्चिमी यूरोप पर जर्मेनिक आक्रमण, कैलगरी विश्वविद्यालय
  14. अंग्रेजी भाषा विशेषज्ञ
  15. अंग्रेजी का इतिहास, अध्याय 5 "पुराने से मध्यम अंग्रेजी तक"
  16. डेविड ग्रदोल, दिक् लीथ और जुआन स्वान, इंग्लिश: हिस्ट्री, डाईवर्सिटी एंड चेंज (न्यू यार्क: रूटलेज, 1996), 101.
  17. कर्टिस, एंडी. रंग, रेस और अंग्रेजी भाषा शिक्षण: अर्थ के रंग . 2006, पृष्ठ 192.
  18. [33] ^ एथ्नोलोगुए, 1999
  19. [https: / / www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook/fields/2098.html सीआईए दुनिया Factbook], फील्ड लिस्टिंग - भाषाएँ (दुनिया).
  20. [35] ^ दुनिया की भाषाएँ (चार्ट), कामरी (1998), वेबर (1997), और ग्रीष्मकालीन संस्थान भाषाविज्ञान (एसआईएल) 1999 एथ्नोलोग सर्वेक्षण. दुनिया की सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषाओँ पर उपलब्ध
  21. "U.S. Census Bureau, Statistical Abstract of the United States: 2003, Section 1 Population" (pdf) (अंग्रेज़ी में). U.S. Census Bureau. पपृ॰ 59 pages.टैबिल 47 214809000 पंच साल या उससे ऊपर के उन लोगों का आंकडा देता है जो घर पर केवल अंग्रेजी बोलते हैं। अमेरिकी समुदाय के सर्वेक्षण पर आधारित, इन परिणामों में वे लोग शामिल नहीं हैं जो समूह में रहते हैं (जैसे की महाविद्यालय शयनगृह, संसथान और सामूहिक गृह) और परिभाषा के अर्न्तगत उन लोगों को भी छोड़ता है को घर पर एक से अधिक भाषा का प्रयोग करते हैं।
  22. [46] ^ अंग्रेजी भाषा का कैम्ब्रिज विश्वकोश, द्वितीय संस्करण, क्रिस्टल, डेविड, कैंब्रिज, ब्रिटेन: कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, [1995] (2003/08/03).
  23. कनाडा, प्रांतों और क्षेत्रों-20% नमूना डेटा, जनगणना 2006 के लिए मातृभाषा और आयु समूहों, 2006 मायने, द्वारा जनसंख्या, सांख्यिकी कनाडॉ॰
  24. [48] ^ जनगणना डाटा ऑस्ट्रेलियाई सांख्यिकी ब्यूरो का घर पर बोली जाने वाली मुख्य भाषा. यह आंकड़ा घर पर केवल अंग्रेजी बोलने वालों की संख्या का है।
  25. [50] ^ जनगणना संक्षिप्त में, पृष्ठ 15 (टैबिल 2.5), 2001 की जनगणना, सांख्यिकी दक्षिण अफ्रीका की.
  26. [51] ^ बोली जाने वाली भाषाएँ, 2006 की जनगणना, सांख्यिकी न्यूजीलैंड की. स्थानीय भाषियों के लिए कोई आंकडे प्रदान नहीं किये गए हैं, लेकिन यह केवल अंग्रेजी बोलने वालों (3,008,058) और अंग्रेजी बोलने वालो की कुल संख्या (3,673,623) के बीच का कोई आंकडा होगा, यदि आप उन 197,187 लोगों को छोड़ दें जिन्होंने प्रयोज्य जवाब नहीं दिया है।
  27. [52] ^ 1355064,00.html उपमहाद्वीप अपनी आवाज बुलंद करता है, क्रिस्टल, डेविड, गार्जियन साप्ताहिक: शुक्रवार 19 नवम्बर 2004.
  28. [53] ^ येओंग झाओ; कीथ पी. कैम्पबेल (1995). "चीन में अंग्रेजी". दुनिया की अंग्रेजियाँ 14 (3): 377-390. हाँग काँग द्वारा 2.5 लाख अतिरिक्त वक्ताओं का योगदान दिया जाता है -(१९९६ जनगणना द्वारा).
  29. [54] ^ जनगणना भारत की भारतीय जनगणना, अंक 10, 2003, पीपी 8-10, (फ़ीचर: जनगणना और सर्वेक्षण में पश्चिम बंगाल की भाषाएँ, द्विभाषीय और त्रिभाषीय).
  30. [55] ^ त्रोफ़, हरबर्ट एस 2004. भारत और इसकी भाषाएँ. सीमंस एजी, म्यूनिख
  31. "अंग्रेजी का उपयोग करने वालों" और "अंग्रेजी बोलने वालों" के बीच का अंतर, देखें: TESOL- भारत (अन्य भाषा बोलने वालों के लिए अंग्रेजी के अध्यापक).

    Wikipedia's India estimate of 350 million includes two categories - "English Speakers" and "English Users". The distinction between the Speakers and Users is that Users only know how to read English words while Speakers know how to read English, understand spoken English as well as form their own sentences to converse in English. The distinction becomes clear when you consider the China numbers. China has over 200~350 million users that can read English words but, as anyone can see on the streets of China, only handful of million who are English speakers.

    उनका लेख विकिपीडिया के पूर्व के लेख में दी गयी संख्या 35 करोड़ और एक ज्यादा उचित संख्या 9 करोड़ के अंतर को स्पष्ट करता है।
  32. [58] ^ ऑस्ट्रेलियाई सांख्यिकी ब्यूरो
  33. Nancy Morris (1995), Puerto Rico: Culture, Politics, and Identity, Praeger/Greenwood, पृ॰ 62, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0275952282
  34. [61] ^ अमेरिका में बोली जाने वाली भाषाएँ , राष्ट्रीय वर्चुअल अनुवाद केन्द्र, 2006.
  35. [63] ^ अमेरिकी अंग्रेजी फाउंडेशन, राजभाषा रिसर्च  – ब्रिटेन.
  36. [64] ^ अमेरिकी अंग्रेजी,Inc
  37. [65] ^ [65] ^ इस्राइल में बहुभाषावाद, भाषा नीति अनुसंधान केंद्र
  38. अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन
  39. यूरोबैरोमीटर द्वारा 2006 सर्वेक्षण, यूरोपीय संघ की आधिकारिक भाषाओँ की वेबसाइट में
  40. यूरोपीय संघ
  41. [77] ^ पीटर त्रजिल, इंग्लैंड की बोलियाँ द्वितीय संस्करण, पृष्ठ 125, ब्लैकवेल, ऑक्सफोर्ड, 2002
  42. Cox, Felicity (2006). "Australian English Pronunciation into the 21st century" (PDF). Prospect. 21: 3–21. अभिगमन तिथि 2007-07-22.
  43. अंग्रेजी शब्दावली परिवर्तन की प्रक्रियाएं और ट्रिगर्स cf. अंग्रेजी और सामान्य ऐतिहासिक कोशकला(जोकिम ग्रेगा और मेरिओं शोनर द्वारा)
  44. It went on to clarify,

    Hence we exclude all words that had become obsolete by 1150 [the end of the Old English era] . . . Dialectal words and forms which occur since 1500 are not admitted, except when they continue the history of the word or sense once in general use, illustrate the history of a word, or have themselves a certain literary currency.

  45. [229] ^ किस्टर, केन. "शब्दकोष परिभाषित"लाइब्रेरी जर्नल, 6/15/92, Vol. 117 अंक 11, p43, 4p, 2bw
  46. पुरानी अंग्रेजी ऑनलाइन
  47. Finkenstaedt, Thomas; Dieter Wolff (1973). Ordered profusion; studies in dictionaries and the English lexicon. C. Winter. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 3-533-02253-6.
  48. [234] ^ जोसफ एम. विललाम्स, Amazon.com में अंग्रेजी भाषा के मूल
  49. [238] ^ अब्बोत्त, एम. (2000). शब्द वर्तनी के लिए विश्वसनीय समान्यीकरण की पहचान: बहुस्तर विश्लेषण का महत्व. प्राथमिक स्कूल जर्नल 101 (2), 233-245.
  50. [239] ^ मोअट्स, एल.एम्.((२००१).भाषण से मुद्रित करने के लिए: भाषा के शिक्षकों के लिए अनिवार्य. बाल्टीमोर, एमडी: पॉल एच. ब्रूक्स कंपनी.
  51. [240] ^ डियन ंक्ग़ुइन्नेस्स, क्यों हमारे बच्चे नहीं पढ़ सकते (न्यूयॉर्क: टचस्टोन, 1997) पीपी. 156-169
  52. [241] ^ जिएग्लेर, जे.सी. और गोस्वामी, यू (,2005.भाषाओँ की सीमा के परे पाठन अधिग्रहण, विकास डिसलेक्सिया और कुशल पाठनमनोवैज्ञानिक बुलेटिन, 131 (1), 3-29.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

) के रूप में सन्दर्भित किया है।

पंद्रहवीं सदी में गोवा से मसाला द्वीप को जाते समय पुर्तगाली नाविक अक्सर द्वीप पर रूका करते थे जिसे वे पुलू पिनॉम के नाम से बुलाया करते थे।[1][2] लिंगा और केडाह के बीच व्यापारिक समुद्री मार्ग में पड़ने वाला सबसे बड़ा द्वीप होने के कारण प्रारम्भिक मलायी इसे पुलाऊ का-सातू या "प्रथम द्वीप" के नाम से पुकारते थे।[3]


"पिनांग" नाम आधुनिक मलय नाम पुलाऊ पिनांग से आता है जिसका अर्थ है सुपारी ताड़ का द्वीप (सुपारी कत्था, ताड़ परिवार).

पिनांग नाम या तो पिनांग द्वीप पुलाऊ पिनांग या पिनांग के राज्य

(नेगेरी पुलाऊ पिनांग) का उल्लेख हो सकता है। मलय में, पिनांग की राजधानी जॉर्ज टाउन को तट पर लगे अनेक पुनगा पेड़ों (अलेक्ज़ेंड्रियन लॉरेल्स, कालोफ़ाइलम आइनोफ़ाइलम के नाम से भी विख्यात) के नाम पर पुराने नक्शों में तनजुंग पिनंगा (केप पेनैगरे) कहा जाता था और दर्ज है लेकिन अब आमतौर पर छोटे रूप में तनजुंग (केप) कहा जाता है।[4][5]

पिनांग को अक्सर है "ओरिएंट के मोती", "东方花园" और पुलाऊ पिनांग पुलाऊ मुटिआरा (मोतियों का द्वीप पिनांग) के रूप में जाना जाता है। मलय में पिनांग का संक्षिप्त रूप "पीजी" या "पीपी" है।[6]

पिनांग द्वीप की संध्या का हवाई दृश्य.

इतिहास[संपादित करें]

पुरातात्विक साक्ष्य से पता चलता है कि पिनांग (द्वीप और इसका मुख्य भूमि क्षेत्र) में जुरू और येन वंश, दोनों को ही अब विलुप्त संस्कृतियां माना जाता है, के सेमंग-पैंगन वास करते थे।

वे नेगरितू कुटुंब के छोटे कद-काठी और गहरे रंग के शिकारी थे जिन्हें मलायी लोगों ने 900 वर्ष पहले दूर भगा दिया था।

पिनांग में बसे आदिवासियों का अंतिम अभिलेख कुबंग सेमंग में 1920 के दशक में था।[7]

मूलतः केडाह के मलय सल्तनत का हिस्सा, आधुनिक पिनांग का इतिहास तब शुरू हुआ जब केडाह के लिए खतरा बनी सियामी और बर्मी सेनाओं से सुरक्षा के बदले में मद्रास स्थित फ़र्म जॉरडेन सुलिवान और डी सूज़ा में कार्यरत अंग्रेज़ व्यापारी-साहसिक यात्राएं करने वाले कप्तान फ्रांसिस लाइट को द्वीप पट्टे पर दिया गया था।

11 अगस्त 1786 को फ्रांसिस लाइट पिनांग पर उतरा जिसे बाद में फ़ोर्ट कॉर्नवॉलिस पुकारा गया और ब्रिटिश राज्य के उत्तराधिकारी के सम्मान में द्वीप का नाम बदलकर प्रिन्स ऑफ़ वेल्स आइलैंड रखा गया।[8][9]

मलेशिया के इतिहास में, इस अवसर से मलाया में सदी से भी अधिक समय के लिए अंग्रेजों की भागीदारी की शुरुआत हुई.

केडाह के सुल्तान अब्दुल्ला की जानकारी के बगैर, कंपनी के अनुमोदन के बिना लाइट ने सैन्य सुरक्षा का वादा कर दिया. जब लाइट अपने वादे से मुकर गया तो सुलतान ने 1790 में इस द्वीप के पुनर्ग्रहण की कोशिश की. प्रयास असफल रहा और सुल्तान को 6,000 स्पेनिश डॉलर प्रतिवर्ष के मानदेय के लिए मजबूरन द्वीप कंपनी को देना पड़ा. नज़दीकी व्यापारिक डच चौकियों से व्यापारियों को दूर हटाने के लिए लाइट ने पिनांग की स्थापना एक मुक्त बंदरगाह के रूप में की.

जितनी भूमि साफ़ कर सकें उतनी भूमि का वादा कर उसने आप्रवासियों को भी प्रोत्साहित किया।

कहा जाता है कि प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए उसने अपने जहाज़ की तोपों से गहरे जंगल में चांदी के डॉलर दागे.

लाइट सहित कई प्रारंभिक बाशिन्दे मलेरिया के शिकार हो गए जिससे प्रारंभिक पिनांग को "सफ़ेद आदमी की कब्र" का विशेषण मिला.[10][11]

प्रथम विश्व युद्ध के बाद एस्प्लेनेड में शहीदों की स्मृति में बनाया गया स्मारक

लाइट के निधन के बाद लेफ्टिनेंट कर्नल आर्थर वेलेस्ले द्वीप की सेनाओं के साथ समन्वय के लिए पिनांग पहुंचे। 1800 में, लेफ्टिनेंट गवर्नर सर जॉर्ज लीथ ने हमलों के खिलाफ़ एक बफर के रूप में चैनल के पार भूमि के हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया और इसे प्रांत वेलेस्ले (सेबेरंग प्रायी) का नाम दिया. अधिग्रहण के बाद केडाह के सुल्तान का वार्षिक भुगतान बढ़ाकर 10,000 स्पेनिश डॉलर प्रतिवर्ष कर दिया गया। आज भी पिनांग राज्य सरकार 18,800.00 मलेशियाई रुपए सालाना का भुगतान केडाह के सुल्तान को करती है।[8]

1826 में मलक्का और सिंगापुर के साथ साथ पिनांग भारत में ब्रिटिश प्रशासन के अधीन जलडमरूमध्य बस्तियों का हिस्सा बना और 1867 में सीधे ही ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के अधीन आ गया। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान पिनांग की लड़ाई में जर्मन क्रूजर एसएमएस एमडेन ने जॉर्ज टाउन के तट पर दो मित्र युद्धपोतों को डुबो दिया.[12]

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान पिनांग को विनाशक हवाई बमबारी का सामना करना पड़ा और अंत में जब अंग्रेज़ जॉर्ज टाउन को मुक्त शहर घोषित कर सिंगापुर को वापस चले गए तो 17 दिसम्बर 1941 को जापानी सेनाओं से हार गया।[13] जापानी शासन के तहत पिनांग में व्यापक भय, भूख और नरसंहार हुआ जिसका शिकार बनी स्थानीय चीनी आबादी.[14][15]

में शामिल दिनांक
जलडमरूमध्य बस्तियां 1826
क्राउन कॉलोनी 1867
जापानी कब्ज़ा 19 दिसम्बर 1941
मलायी संघ 1 अप्रैल 1946
मलाया संघ 31 जनवरी 1948
स्वतंत्रता 31 अगस्त 1957
मलेशिया 16 सितम्बर 1963

युद्ध समाप्ति पर ब्रिटिश लौट आए और 1948 में फ़ेडरेशन ऑफ़ मलाया का राज्य जो 1957 में स्वतंत्रत हुआ और बाद में 1963 में मलेशिया का हिस्सा बना, बनने से पहले 1946 में पिनांग को मलायी संघ में पुनर्गठित किया गया।[8]


एमसीए पार्टी के वोंग पाउ नी पिनांग के पहले मुख्यमंत्री बने.[16]

1969 तक द्वीप एक मुक्त बंदरगाह था।[17] द्वीप की मुक्त बंदरगाह के निरसन के बावजूद 1970 से 1990 के दशक तक मुख्यमंत्री लिम चोंग इयू के प्रशासन के तहत राज्य ने द्वीप के दक्षिणपूर्वी भाग में स्थित बयान लेपास में एशिया के सबसे बड़े इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण मुख्यालयों में से एक फ़्री ट्रेड ज़ोन की स्थापना की.[18]



2004 की मुक्केबाजी दिवस पर पिनांग द्वीप के पश्चिमी और उत्तरी तटों पर आने वाली हिंद महासागर सुनामी में 52 (मलेशिया में 68 में से) लोगों की जानें गईं.[19]

7 जुलाई 2008 को पिनांग की ऐतिहासिक राजधानी जॉर्ज टाउन को मलक्का के साथ औपचारिक रूप से यूनेस्को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया।

इसे आधिकारिक तौर पर "पूर्वी और दक्षिणपूर्वी एशिया में अतुल्य अद्वितीय वास्तुशिल्प और सांस्कृतिक शहर " के रूप में मान्यता दी गई है।[20]

भूगोल[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन राजधानी के नाम के साथ पिनांग राज्य का नक्शा

स्थलाकृति[संपादित करें]

भौगोलिक दृष्टि से राज्य दो वर्गों में विभाजित है:

  • पिनांग द्वीप (मलय में पुलाऊ पिनांग): मलक्का जलडमरूमध्य में स्थित 293 वर्ग किलोमीटर का एक द्वीप और
  • प्रांत वेलेस्ले (मलय में सेबेरंग पेरायी के नाम से भी जाना जाता है): एक संकीर्ण चैनल जिसकी छोटी से छोटी चौड़ाई 4 किमी (2.5 मील) है, के प्रायद्वीप पर 753 वर्ग किलोमीटर एक संकीर्ण भीतरी प्रदेश.

यह उत्तर और पूर्व में केडाह मुडा नदी द्वारा सीमांकित) से घिरा हुआ है और दक्षिण में पेराक से.


द्वीप पिनांग और प्रांत वेलेस्ले के बीच के जल संग्रह जॉर्ज टाउन के उत्तर में उत्तरी चैनल और दक्षिण में दक्षिणी चैनल हैं। पिनांग द्वीप का आकार अनियमित है पथरीला, पहाड़ी और ज़्यादातर वन प्रदेश है। तटीय मैदान संकीर्ण हैं और सबसे व्यापक उत्तर पूर्व में है। सामान्य रूप से, द्वीप को पांच क्षेत्रों में बांटा जा सकता है:

  • पूर्वोत्तर मैदान जहां राज्य की राजधानी स्थित है, त्रिकोणीय उच्च अंतरीप बनाते हैं। यह घनी आबादी वाला भीतरी शहर पिनांग का प्रशासनिक, वाणिज्यिक और सांस्कृतिक केंद्र है।
  • दक्षिणपूर्व जो कभी चावल के खेतों और मैंग्रोव से भरपूर था अब पूरी तरह से नए शहर और औद्योगिक क्षेत्र में तब्दील हो गया है।
  • पश्चिमोत्तर रिसॉर्ट होटलों वाला रेतीले किनारे का समुद्री तट है।
  • दक्षिण पश्चिम मछुआरों के गांवों, फलों के बगीचे और मैंग्रोव के प्राकृतिक नज़ारों वाला सुंदर देहात है।
  • मध्य पहाड़ी रेंज जिसका समुद्र तल से 830 मीटर ऊपर, वेस्टर्न हिल (पिनांग हिल का भाग) उच्चतम बिंदु है, एक महत्वपूर्ण वनीय

जलग्रहण क्षेत्र है।[21]

वेलेस्ले प्रांत जो पिनांग के भू-क्षेत्र का आधे से अधिक है, की स्थलाकृति बुकिट मर्ताजम नाम की पहाड़ी और उसकी तलहटी में उसी नाम के शहर के अलावा ज़्यादातर समतल है।[22] इसका लंबा समुद्री तट है अधिकांश के साथ-साथ मैंग्रोव है। प्रांत वेलेस्ले का मुख्य शहर बटरवर्थ, पेरायी नदी के चौड़े मुहाने के साथ-साथ और चैनल के पार पूर्व की ओर 3 किमी (2 मील) की दूरी पर जॉर्ज टाउन के सामने पड़ता है।

पिनांग में विकासशील भूमि की कमी के कारण कुछ भूमि पुनर्ग्रहण की परियोजनाएं लागू की गई हैं ताकि तनजुंग टॉकॉन्ग, जेल्यूटॉन्ग (जेल्यूटॉन्ग एक्सप्रेसवे का निर्माण) और क्वीन्सबे जैसे उच्च मांग वाले क्षेत्रों में उपयुक्त निम्नस्थ भूमि मुहैया करायी जा सके.

माना जाता है कि इन परियोजनाओं के कारण पिनांग द्वीप के तटीय क्षेत्रों के साथ ज्वार का प्रवाह परिवर्तित हुआ है और तनजुंग टॉकॉन्ग पुनर्ग्रहण के बाद गर्नी ड्राइव का अवसादन हुआ है।[23]


कस्बे[संपादित करें]

पिनांग द्वीप

आयर इतम - बालिक पुलाऊ - बंदर बारू आयर इतम -

बातू फेरिंघी - बातू मॉन्ग - बातू लन्चांग - बायन बारू - बायन लेपास - गेल्यूगॉर - जॉर्ज टाउन - ग्रीन लेन - गरनी ड्राइव - तनजुंग टॉकॉन्ग - जेल्यूटॉन्ग - पन्ताई आचे - पाया टेरुबॉन्ग - पुलाऊ टिकुस - पुलाऊ बेटॉन्ग - सुन्गाई आरा - सुन्गाई दुआ - सुन्गाई निबॉन्ग - तनजुंग बंगा - तनजुंग टॉकॉन्ग - टेलुक बहान्ग

प्रांत वेलेस्ले

अल्मा - बागान आजम - बागान लुआर - बातू कावान - बुकिट मर्ताजम - बुकिट मिन्याक - बटरवर्थ - जावी - जुरू - केपला बतास - मैक मैन्डिन - निबॉन्ग टिबल - पर्माटंग पॉह - पेरायी - सेबेरंग जया - सिम्पांग अम्पैट - सुन्गाई बकप - बुकिट टैम्बन - पिनाग - पर्माटंग टिंगी

पिनांग का ग्रेटर मेट्रोपोलिटन एरिया (जॉर्ज टाउन का उपनगरीय विस्तार)[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन और आसपास के क्षेत्रों में जॉर्ज टाउन का उपनगरीय विस्तार मलेशिया की राष्ट्रीय भौतिक योजना में शामिल है। अधिक से अधिक पिनांग के वृह्त महानगरीय क्षेत्र में अत्याधिक शहरी पिनांग द्वीप, सेबेरंग प्रायी, सुन्गाई पेटानी, कुलिम और आसपास के क्षेत्र शामिल हैं।

पिनांग द्वीप के उत्तरपूर्वी हिस्से पर गेल्यूगॉर और जॉर्ज टाउन का हवाई दृश्य.

लगभग बीस लाख की आबादी के साथ, कुआला लम्पुर (क्लैंग घाटी) के बाद यह मलेशिया का दूसरा सबसे बड़ा महानगरीय क्षेत्र है।[24]

इस शहरी क्षेत्र की सीमाएं नौवीं मलेशिया योजना (एक पंच-वर्षीय राष्ट्रीय विकास योजना) के पुनर्गठन के तहत प्रायद्वीपीय मलेशिया में विकास हेतु चुने गए तीन क्षेत्रों में से एक उत्तरी कॉरिडोर आर्थिक क्षेत्र (एनसीईआर) से साझी हैं।

एनसीईआर में शामिल हैं पिनांग (पिनांग द्वीप और सेबेरंग प्रायी), केडाह (एलॉर स्टार, सुन्गाई पेटानी और कुलिम), पेर्लिस (कांगार) और उत्तरी पेराक.[25] हालांकि बैरिसन नेसिऑनल नियंत्रित संघीय सरकार ने 2008 में राज्य की सरकार बदलने पर आर्थिक तंगी का हवाला देते हुए पिनांग आउटर रिंग रोड और पिनांग मोनोरेल परियोजना को स्थगित करने का फैसला किया।[26]

पिनांग ग्लोबल सिटी केन्द्र (पी जी सी सी), भावी ऐतिहासिक जुड़वां टावरों वाली एनसीईआर की अति प्रभावशाली परियोजना भी सितम्बर 2008 में पिनांग नगरपालिका परिषद की अस्वीकृति के कारण ठप्प पड़ गई है।

अब यह देखना है कि पी जी सी सी का पुनःउत्थान किया जाएगा या नहीं.[27]

दूरस्थ टापू[संपादित करें]

पिनांग के तट से परे अनेक छोटे-छोटे टापू हैं जिनमें सबसे बड़ा पुलाऊ जेरेजक पिनांग द्वीप और मुख्य भूमि के बीच संकीर्ण चैनल में स्थित है।

यह पहले एक कोढ़ियों और दंड की बस्ती था लेकिन अब जंगली पगडंडियों और स्पा रीसॉर्ट वाला पर्यटकों का आकर्षण स्थल है। अन्य द्वीपों में शामिल हैं:

पुलाऊ अमन - पुलाऊ बीटॉन्ग - पुलाऊ गेदुंग - पुलाऊ केंडी (कोरल द्वीप) - पुलाऊ रिमाऊ

जलवायु[संपादित करें]

पिनांग में साल भर उष्णकटिबंधीय वर्षा के वन का मौसम रहता है जो गर्म और धूप वाला होता है तथा भरपूर मात्रा में वर्षा भी होती है विशेष रूप से अप्रैल-सितम्बर तक दक्षिण पश्चिम मानसून के दौरान.

जलवायु अधिकतर आसपास के समुद्र और हवा प्रणाली से निर्धारित होती है। सुमात्रा, इंडोनेशिया से पिनांग की निकटता के कारण, बारहमासी चलायमान दावानल से वायु जो धूल कण लाती है उससे धुन्ध पैदा होती है।[28]

बायन लेपास क्षेत्रीय मौसम विज्ञान कार्यालय उत्तरी प्रायद्वीपीय मलेशिया में मौसम की भविष्यवाणी के लिए प्राथमिक केंद्र है।[29]

तापमान (दिन) 27 डिग्री सेल्सियस - 30 डिग्री सेल्सियस
तापमान (रात) 22 डिग्री सेल्सियस - 24 डिग्री सेल्सियस
औसत वार्षिक वर्षा 2670 मिमी
सापेक्ष आर्द्रता 70% -90%
Penang के जलवायु आँकड़ें
माह जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितम्बर अक्टूबर नवम्बर दिसम्बर वर्ष
औसत उच्च तापमान °C (°F) 31.6
(88.9)
32.2
(90)
32.2
(90)
31.9
(89.4)
31.6
(88.9)
31.4
(88.5)
31.0
(87.8)
30.9
(87.6)
30.4
(86.7)
30.4
(86.7)
30.4
(86.7)
30.7
(87.3)
31.2
(88.2)
औसत निम्न तापमान °C (°F) 23.2
(73.8)
23.5
(74.3)
23.7
(74.7)
24.1
(75.4)
24.2
(75.6)
23.8
(74.8)
23.4
(74.1)
23.4
(74.1)
23.2
(73.8)
23.3
(73.9)
23.3
(73.9)
23.4
(74.1)
23.5
(74.3)
औसत वर्षा मिमी (inches) 68.7
(2.705)
71.7
(2.823)
146.4
(5.764)
220.5
(8.681)
203.4
(8.008)
178.0
(7.008)
192.1
(7.563)
242.4
(9.543)
356.1
(14.02)
383.0
(15.079)
231.8
(9.126)
113.5
(4.469)
2,407.6
(94.789)
औसत वर्षाकाल (≥ 1.0 mm) 5 6 9 14 14 11 12 14 18 19 15 9 146
माध्य मासिक धूप के घण्टे 248.0 234.5 235.6 225.0 204.6 201.0 204.6 189.1 162.0 170.5 183.0 207.7 2,465.6
स्रोत #1: National Environment Agency
स्रोत #2: Hong Kong Observatory[30]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

पिनांग की
ऐतिहासिक जनसंख्या
जनगणना
जनसंख्या
1786
<100[31]
1812
26,107[32]
1820
35,035[32]
1842
40,499[32]
1860
124,772[32]
1871
133,230[32]
1881
188,245[32]
1891
232,003[32]
1901
248,207[33]
1921
292,484[34]
1931
340,259[35]
1941
419,047[36]
1947
446,321[36]
1957
572,100[35]
1970
776,124[37]
1980
900,772[37]
1991
1,064,166[37]
2000
1,313,449[37]
2010(est.)
1,773,442[37]

यह मलेशिया का सबसे ज्यादा सघन आबादी वाला राज्य है। पूरे पिनांग राज्य का घनत्व 1695 लोग प्रति वर्ग किलोमीटर है और आबादी 1,773,442 है।

  • पिनांग द्वीप की अनुमानित जनसंख्या 860,000 है और घनत्व 2935 लोग प्रति वर्ग किलोमीटर है। पिनांग द्वीप मलेशिया का सर्वाधिक आबादी वाला और देश का उच्चतम घनत्व वाला द्वीप है।
  • प्रांत वेलेस्ले या सेबेरंग प्रायी की अनुमानित आबादी 910,000 है और घनत्व 1,208 लोग प्रति वर्ग किलोमीटर है।

2010[38] में जातीय संयोजन था:

  • मलायी:762,580 (43%)
  • चीनी: 727,112 (41%)
  • भारतीय: 168,447 (9.5%)
  • अन्य:
    • बुमीपुत्र - मलायी के अलावा अन्य: 8,867 (0.5%)
    • अन्य नस्लें: 8,867 (0.5%)
    • गैर मलेशियाई नागरिक: 97,539 (5.5%)

मलेशिया में पिनांग ही ऐसा राज्य है जहां जातीय चीनी बहुलता में हैं लेकिन हाल के सांख्यिकीय रुझान से पता चलता है कि संख्या में मलायी समुदाय चीनी से आगे निकल गया है।

जनसंख्या में चीनी वंश के लोगों के प्रतिशत में 2010 के अंत तक 40.9% गिरावट आने की संभावना है जबकि मलायी प्रतिशत में 43% वृद्धि होगी.[39] फिर भी, चीनी अधिक दिखाई देते हैं क्योंकि उनमें से ज़्यादातर शहरी इलाकों में रहते हैं।

जॉर्ज टाउन में यहूदी कब्रिस्तान
आर्मीनियाई स्ट्रीट (लेबुह आर्मीनियाई)

पीछे मुड़कर देखें तो उपनिवेशीय पिनांग वास्तव में एक सर्वदेशीय जगह थी। यूरोपीय और पहले से ही बहुजातीय नागरिकों के अलावा स्यामी, बर्मी, फ़िलिपिनो, सिलोनी, यूरेशियाई, जापानी, सुमात्रा, अरबी, आर्मीनियाई और पारसी लोगों के समुदाय थे।[40][41] एक छोटा सा लेकिन व्यावसायिक तौर पर महत्वपूर्ण जर्मन व्यापारियों का समुदाय भी पिनांग में मौजूद था।[42] हालांकि ये समुदाय अब नहीं रहे लेकिन बर्मी बौद्ध मंदिर, सियाम रोड, आर्मीनियाई स्ट्रीट, आचीन स्ट्रीट और गॉटलिएब रोड जैसे मार्ग और स्थानों के नामों को अपनी विरासत प्रदान की है।


द्वितीय विश्व युद्ध से पहले पिनांग में एक एन्क्लेव यहूदी था लेकिन अब कुछ यहूदी ही रहते हैं।[43][44] वर्तमान में पिनांग में काफ़ी बड़ी प्रवासी जनसंख्या विशेष रूप से जापान, विभिन्न एशियाई देशों और ब्रिटेन से रहती है जिनमें से बहुत से मलेशिया मेरा दूसरा गृह कार्यक्रम के हिस्से के रूप में सेवानिवृत्ति के बाद पिनांग में बस जाते हैं।[45]

पेरानाकन[संपादित करें]

बाबा-न्योन्या भोजन परोसते हुए एक रेस्टोरेंट.

पेरानाकन जिन्हें जलडमरूमध्य के चीनी या बाबा न्योन्या के रूप में भी जाना जाता है वे पिनांग, मलक्का और सिंगापुर को प्रारम्भिक आप्रवासियों के वंशज हैं। उन्होंने आंशिक रूप से मलायी रीति-रिवाज़ों को अपना लिया है और चीनी-मलायी व्युत्पन्न भाषा बोलते हैं जिसके कई शब्द पिनांग होकिएन में भी शामिल हुए (जैसे "आह बाह " जिसका मतलब है मिस्टर, आदमी को "बाबा " कहकर बुलाने के लिए).

भोजन, कपड़े, संस्कार, शिल्प और संस्कृति के मामले में पेरानाकन समुदाय की अपनी एक अलग पहचान है। अधिकांश चीनी पेरानाकन मुसलमान नहीं हैं लेकिन पूर्वज पूजा और चीनी धर्म का उदार रूप मानते हैं जबकि कुछ ईसाई थे।[46] उन्हें अपने एंग्लोफोन होने पर गर्व है और नए पहुंचे प्रवासी चीनी या सिन्खे से खुद को अलग समझते हैं।

हालांकि चीनी समुदाय जिसका पाश्चत्यकरण हो रहा है, की मुख्य धारा में पुनः अवशोषण की वजह से पेरानाकन आज लगभग विलुप्त हो रहे हैं। फिर भी, उनकी विरासत उनके विशिष्ट वास्तुकला (इसका उदाहरण हैं पिनांग पेरानाकन हवेली[47] और चियांग फ़ाट ज़े हवेली[48]), भोजन, शानदार न्योन्या केबाया पोशाक और उत्तम हस्तशिल्प में जीवित है।[49][50]


भाषा[संपादित करें]

सामाजिक वर्गों, सामाजिक दायरे और जातीय पृष्ठभूमि के आधार पर पिनांग की आम भाषाएं हैं अंग्रेज़ी, मैन्डरिन, मलय, पिनांग होकिएन और तमिल.


मैन्डरिन जो राज्य के चीनी माध्यम स्कूलों में पढ़ायी जाती है उसके बोलने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।[51]

पिनांग होकिएन एक प्रकार का मिनान है और प्रारम्भिक चीनी बाशिन्दों के वंशजों की पिनांग आबादी के एक बड़े अनुपात द्वारा बोली जाती है। इंडोनेशिया के मेडन शहर में रहने वाले चीनियों द्वारा बोली जाने वाली भाषा से यह बहुत मिलती-जुलती है और फ़ुजियान प्रांत, चीन में झांगझऊ प्रशासक प्रान्त की मिनान बोली पर आधारित है।

इसमें मलय और अंग्रेज़ी के विदेशी शब्द बड़ी संख्या में शामिल हैं। होकिएन भाषा के पाठ्यक्रम में भाग लेने वाले कुछ गैर-चीनी पुलिस अधिकारियों सहित कई पिनांगवासी जो मूलतः चीनी नहीं हैं वे भी होकिएन बोल लेते हैं।[52] अधिकतर पिनांग होकिएन वक्ता होकिएन में शिक्षित नहीं है बल्कि मानक (मैन्डरिन), चीनी और अंग्रेज़ी / या मलय पढ़ते और लिखते हैं।[53] केन्टोनीज़ और हक्का सहित अन्य चीनी बोलियां भी राज्य में बोली जाती हैं। टियोच्यू पिनांग द्वीप से अधिक सेबेरंग पेरायी में सुनी जाती है।

स्वदेशी जनसंख्या की भाषा और अधिकांश स्कूलों में शिक्षा का माध्यम मलय विशेष शब्दों जैसे "हैंग", "देपा" और "कुपांग" के साथ उत्तरी उच्चारण में बोली जाती है।


अकारान्त में "अ" पर खास बल दिया जाता है।

औपनिवेशिक विरासत अंग्रेज़ी, वाणिज्य, शिक्षा और कला में व्यापक रूप से प्रयुक्त कार्यकारी भाषा है। सरकारी या औपचारिक सन्दर्भ में प्रयुक्त अंग्रेज़ी अमेरिकी प्रभाव वाली मुख्यतः ब्रिटिश अंग्रेज़ी है। बोली जाने वाली अंग्रेज़ी, मलेशिया के बाकी हिस्सों की तरह मंगलिश (बोलचाल की मलेशियाई अंग्रेज़ी) ही है।


कांग हॉक केआंग मंदिर, दया की देवी के मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। चीनी बौद्ध धर्म पिनांग के मुख्य धर्मों में से एक है

धर्म[संपादित करें]

मलेशिया का आधिकारिक धर्म इस्लाम है (60.4%, 2000) और इस्लाम का प्रमुख यांग डिपरटुआन एगॉन्ग है लेकिन अन्य धर्मों को पूरी आज़ादी मिलती हैं। इनमें शामिल हैं बौद्ध धर्म (33.6%, 2000), थेरवड में महायान और तेज़ी से फैलती वज्रयान परंपराएं भी, ताओवाद, चीनी लोक धर्म, हिंदू धर्म (8.7%), कैथोलिक, प्रोटेस्टेंट (जिनमें सबसे बड़ी संख्या में मेथोडिस्ट, सेवन्थ-डे एडवेन्टिस्ट, अंगरेज़ी प्रेस्बिटेरियन और बैप्टिस्ट शामिल हैं) और सिख धर्म-जो पिनांग की विविध जातीय और सामाजिक-सांस्कृतिक समामेलन को दर्शाते हैं।



पिनांग में यहूदियों का एक छोटा और अल्पज्ञात समुदाय है, मुख्य रूप से जालान ज़ैनल एबिदीन (पूर्व में जालान यहूदी या यहूदी स्ट्रीट) के साथ-साथ.[54]


दीवान श्री पिनांग

शासन और कानून[संपादित करें]

राज्य की अपनी राज्य विधायिका और कार्यपालिका है लेकिन मलेशियाई संघीय सरकार की तुलना में मुख्यतः राजस्व और कराधान के क्षेत्र में अपेक्षाकृत सीमित शक्तियां है।

कार्यकारी[संपादित करें]

भूतपूर्व ब्रिटिश बस्ती होने के कारण पिनांग मलेशिया के उन मात्र चार राज्यों में से एक है जहां वंशानुगत मलय शासक या सुल्तान नहीं है।

अन्य तीन हैं मलक्का, यह भी एक ब्रिटिश बस्ती है जिसकी सल्तनत 1511 में पुर्तगाली विजय से समाप्त हुई और सबा और सरवाक के बोर्नियो राज्य.



राज्य कार्यकारी के प्रधान हैं यांग डी-पर्टुअन एगॉन्ग (मलेशिया के राजा) के द्वारा नियुक्त यांग डी-पर्टुआ नेगेरी (राज्यपाल). वर्तमान राज्यपाल तुन दातो' सेरी हाजी अब्दुल रहमान बिन हाजी अब्बास हैं। चुनाव की स्थिति में विधानसभा भंग करने के लिए उनकी सहमति आवश्यक है। व्यवहार में राज्यपाल ऐसा प्रमुख है जिसका कार्य मुख्यतः प्रतीकात्मक और औपचारिक है। वास्तविक कार्यकारी शक्तियाँ मुख्यमंत्री और राज्य कार्यकारिणी परिषद के पास होती हैं जिसके सदस्यों की नियुक्ति वह विधान सभा से करता है। राज्य सचिवालय पिनांग सिविल सेवा के विभिन्न विभागों और एजेंसियों के साथ समन्वय करता है।

पिनांग के मुख्यमंत्री डेमोक्रेटिक एक्शन पार्टी (डीएपी) के लिम गुआन इंग[[]] हैं। 8 मार्च 2008 को 12वें आम चुनावों के बाद डीएपी और पार्टी कीडिलन राक्यत (पीकेआर) के गठबंधन ने राज्य सरकार का गठन किया और राज्य विधायिका में अकेली सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण मुख्यमंत्री का पद पहले वाली को मिला. पिनांग मलेशिया का एकमात्र राज्य है जिसमें मुख्यमंत्री का पद स्वतंत्रता के बाद से लगातार गैर-मलय जातीय चीनी ने ही संभाला है।


स्थानीय प्राधिकरण[संपादित करें]

सिटी हॉल आवास पिनांग द्वीप की नगर परिषद
राज्य विधानसभा भवन

हालांकि पिनांग 1951 में स्थानीय चुनाव कराने वाला मलाया का पहला राज्य है, इन्डोनेशियाई टकराव के परिणामस्वरूप 1965 में मलेशिया में स्थानीय चुनाव समाप्त कर दिए जाने के बाद से स्थानीय पार्षदों की नियुक्ति राज्य सरकार द्वारा की जाती है।[55] पिनांग में दो स्थानीय प्राधिकरण हैं, पिनांग द्वीप की नगरपालिका परिषद (मजलिस पेरबंदरन पुलाऊ पिनांग) [2] और वेलेस्ले प्रांत की नगरपालिका परिषद (मजलिस पेरबंदरन सेबेरंग पेरायी) [3]. दोनों नगरपालिका परिषदों के लिए एक अध्यक्ष, नगर निगम के एक सचिव और 24 पार्षद होते हैं। राज्य सरकार द्वारा अध्यक्ष की नियुक्ति दो साल जबकि पार्षदों की नियुक्ति एक साल के कार्यकाल के लिए की जाती है।[56] राज्य 5 प्रशासनिक क्षेत्रों में विभाजित है, प्रत्येक का मुखिया एक जिला अधिकारी होता है:

  • पिनांग द्वीप :
    • पूर्वोत्तर जिला (डायराह टिमूर लाउट)
    • दक्षिण पश्चिम जिला (डायराह बाराट दया)
  • सेबेरंग पेरायी (पूर्व वेलेस्ले प्रांत):
    • उत्तरी सेबेरंग पेरायी जिला (डायराह पेरायी सेबेरंग उटारा)
    • केंद्रीय सेबेरंग पेरायी जिला (डायराह सेबेरंग पेरायी तंगाह)
    • दक्षिणी सेबेरंग पेरायी जिला (डायराह सेबेरंग पेरायी सेलातन)

विधानमंडल[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: State Seats Representatives, 12th Malaysian General Election#Penang
राजनीतिक पार्टी /
गठबंधन
राज्य विधान
सभा
दीवान
राक्यत
बैरिसन नेसिऑनल 11 (27.5%) 2 (15.4%)
पाकटन राक्यत 29 (72.5%) 9 (69.2%)
निर्दलीय 0 (0%) 2 (15.4%)
स्रोत: मलेशिया का निर्वाचन आयोग.
जॉर्ज टाउन में उच्च न्यायालय भवन

एकल सभा राज्य विधायिका जिसके सदस्यों को सभासद कहा जाता है, लाइट स्ट्रीट में निओक्लासिकल पिनांग राज्य विधानसभा भवन (दीवान उन्डैंगन नेगेरी) में आयोजित होती है। इसकी 40 सीटें है और 2008 आम चुनावों के बाद से जिसमें से 19 डेमोक्रेटिक एक्शन पार्टी, 11 बैरिसन नेसिऑनलके, नौ पार्टी कीडिलन राक्यत के और एक पीएएस के पास है।

2004 आम चुनावों में 38 सीटों से तीव्र गिरावट और स्वतंत्रता के बाद, 1969 से दूसरी बार राज्य गैर-बी एन नियंत्रणाधीन हुआ।[57]


मलेशिया संसद में पिनांग का प्रतिनिधित्व दीवान राक्यत (हाउस ऑफ़ रेप्रेज़ेन्टिव्स) में, संसद के 13 निर्वाचित विधानसभा सदस्यों द्वारा पांच वर्ष के कार्यकाल के दौरान किया जाता है और दीवान नेगारा (सीनेट) में दो सीनेटर होते हैं, दोनों की नियुक्ति तीन साल के कार्यकाल के लिए राज्य विधान सभा द्वारा की जाती है।


न्यायपालिका[संपादित करें]

मलेशियाई कानून व्यवस्था की जड़ें उन्नीसवीं सदी के पिनांग में हैं। 1807 में, पिनांग को एक रॉयल चार्टर प्रदान किया गया था जिसने एक उच्चतम न्यायालय की स्थापना का प्रावधान किया। इसके बाद "रिकॉर्डर" के रूप में नामित उच्चतम न्यायालय के पहले न्यायाधीश की नियुक्ति हुई. पिनांग का उच्चतम न्यायालय पहले पहल फ़ोर्ट कॉर्नवॉलिस में 31 मई 1808 को खोला गया। मलाया में सुपीरियर कोर्ट के पहले न्यायाधीश पिनांग से ही हुए जब 1808 में पिनांग में उच्चतम न्यायालय के पहले रिकॉर्डर (बाद में न्यायाधीश) के रूप में सर एडमंड स्टेनली ने पद ग्रहण किया। बाद में पिनांग की कानून व्यवस्था उत्तरोत्तर बढ़कर 1951 तक पूरे ब्रिटिश मलाया में फैल गई।[58] स्वतंत्रता के बाद, मलेशियाई न्यायपालिका काफी हद तक केंद्रीकृत हो गयी है। पिनांग की अदालतों में मजिस्ट्रेट, सत्र और उच्च न्यायालय शामिल हैं। सीरियाह अदालत एक समानांतर अदालत है जो इस्लामी न्यायशास्त्र से संबंधित मामलों की सुनवाई करती है।

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

उद्योग क्रमानुसार पिनांग में रोजगार (%), 2008-2009 (Q3)[59]
उद्योग
2008
2009
कृषि, शिकार और वानिकी 1.4 1.3
मत्स्य पालन 1.0 1.0
खनन और उत्खनन 0.1 0.2
विनिर्माण 34.7 29.9
बिजली, गैस और जल आपूर्ति 0.6 0.4
निर्माण 7.8 6.4
थोक व खुदरा व्यापार, मोटर की मरम्मत
वाहन और व्यक्तिगत और घरेलू सामान
14.0 17.6
होटल और रेस्तरां 9.4 8.7
परिवहन, भंडारण और संचार 5.1 7.2
वित्तीय मध्यस्थता 2.2 3.0
अचल संपत्ति, किराया और व्यावसायिक गतिविधियां 5.5 6.7
लोक प्रशासन और रक्षा;
अनिवार्य सामाजिक सुरक्षा
4.2 3.8
शिक्षा 4.9 5.1
स्वास्थ्य और सामाजिक कार्य 3.5 2.8
अन्य सामुदायिक, सामाजिक और व्यक्तिगत सेवा 2.9 2.6
कार्यरत व्यक्तियों के पास निजी घर 2.8 3.4
कुल 100.0 100.0

उद्योग[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन के मध्य में प्रतिष्ठित 65 मंजिला कोमटार टॉवर पिनांग की सबसे ऊंची इमारत है

सेलॉन्गॉर और जोहोर के बाद पिनांग की अर्थव्यवस्था मलेशिया के राज्यों में तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।[60] विनिर्माण पिनांग अर्थव्यवस्था का सबसे महत्वपूर्ण घटक है, राज्य के सकल घरेलू उत्पाद में 45.9% (2000) का योगदान देता है। द्वीप का दक्षिणी हिस्सा अत्याधिक औद्योगिक है बायन लेपास मुक्त औद्योगिक अंचल में स्थित उच्च-तकनीक वाले इलेक्ट्रॉनिक्स संयंत्रों (जैसे डेल, इंटेल, एएमडी, अल्टेरा, मोटोरोला, एजिलेंट, हितैची, ओस्राम, प्लेक्सस, बॉश और सीगेट) ने पिनांग को सिलिकॉन द्वीप का उपनाम दिया है।[61]

जनवरी 2005 में, पिनांग को औपचारिक रूप से प्रतियोगात्मक अनुसंधान करने वाले उच्च-प्रौद्योगिकी औद्योगिक पार्क बनने के उद्देश्य के साथ साइबरजया से बाहर पहला मल्टीमीडिया सुपर कॉरिडोर साइबर सिटी का दर्जा दिया गया।[62] हालांकि हाल के वर्षों में भारत और चीन में सस्ती श्रम लागत जैसे कारकों की वजह से राज्य को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में क्रमिक गिरावट का सामना कर पड़ रहा है।[63][64]


कुछ हद तक पिनांग के मुक्त बंदरगाह का दर्जा खोने के कारण और संघीय राजधानी कुआला लम्पुर के निकट पोर्ट क्लैंग के सक्रिय विकास के कारण भी बाज़ार व्यापार में भारी कमी आई है। हालांकि, बटरवर्थ में उत्तरी क्षेत्र के लिए एक कंटेनर टर्मिनल है।

पिनांग की अर्थव्यवस्था के अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं पर्यटन, वित्त, जहाज़रानी और अन्य सेवाएं.

पिनांग विकास निगम (पीडीसी) एक स्व-पोषित सांविधिक निकाय है जिसका लक्ष्य पिनांग के सामाजिक-आर्थिक विकास को बढ़ाना और रोजगार के अवसर[65] पैदा करना है जबकि इनवेस्टपिनांग पिनांग में निवेश को बढ़ावा देने के एकमात्र उद्देश्य वाली राज्य सरकार की लाभरहित इकाई है।[66]

कृषि[संपादित करें]

2008 में कृषि भूमि (कुल अवरोही क्षेत्र में) ताड़ (13,504 हेक्टेयर), धान (12,782), रबर (10,838), फल (7,009), नारियल (1,966), सब्जियां (489), नकदी फसलें (198) मसाले (197), कोको (9) और अन्य (41) के लिए प्रयोग की गई।[67] दो स्थानीय उपज जिसके लिए पिनांग प्रसिद्ध है वे हैं डरिएन औरजायफल. पशुधन में मुर्गीपालन और घरेलू सुअर का प्रभुत्व है। अन्य क्षेत्रों में मत्स्य पालन और एक्वाकल्चर और सजावटी मछली और फूलों की खेती जैसे नए उभरते उद्योग शामिल हैं।[68]

1 डाउनिंग स्ट्रीट पर एचएसबीसी भवन के साथ बीच स्ट्रीट का दृश्य

सीमित भूमि आकार और पिनांग अर्थव्यवस्था की उच्च औद्योगिक प्रकृति के कारण कृषि पर थोड़ा कम ज़ोर दिया जाता है। वास्तव में, राज्य में नकारात्मक वृद्धि दर्ज करने वाला एकमात्र क्षेत्र कृषि है, 2000 के राज्य के सकल घरेलू उत्पाद में केवल 1.3% का योगदान किया।[68] राष्ट्रीय धान क्षेत्र में पिनांग के धान क्षेत्र का हिस्सा 4.9% ही है।[68]

बैंकिंग[संपादित करें]

पिनांग थाइपुसम महोत्सव
पिनांग नौ सम्राट परमेश्वर महोत्सव

जब कुआला लम्पुर एक छोटी सी चौकी था तब पिनांग मलेशिया का बैंकिंग केंद्र था।

मलेशिया के सबसे पुराने बैंक, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक (तब चार्टर्ड बैंक ऑफ़ इंडिया, ऑस्ट्रेलिया और चीन) ने 1875 में प्रारम्भिक यूरोपीय व्यापारियों की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने दरवाज़े खोले.[69] अब एचएसबीसी के नाम से विख्यात हांगकांग और शंघाई बैंकिंग कॉरपोरेशन ने 1885 में पिनांग में अपनी पहली शाखा खोली.[61] फिर 1888 में आया ब्रिटेन स्थित रॉयल बैंक ऑफ़ स्कॉटलैंड (तब एबीएन एमरो). अधिकांश पुराने बैंकों के स्थानीय मुख्यालय अभी भी जॉर्ज टाउन के पुराने व्यापारिक केंद्र, बीच स्ट्रीट पर हैं।

आज पिनांग सिटी बैंक, युनाइटेड ओवरसीज बैंक की शाखाओं और बैंक नेगरा मलेशिया (मलेशियन सेंट्रल बैंक) तथा पब्लिक बैंक, मेबैंक, एमबैंक और सीआईएम बैंक जैसे स्थानीय बैंकों के साथ एक बैंकिंग केंद्र का रूप धारण किए हुए है।


संस्कृति और विरासत[संपादित करें]

कला[संपादित करें]

पिनांग में दो प्रमुख पश्चिमी आर्केस्ट्रा हैं- पिनांग स्टेट सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा एंड कोरस (PESSOC) और पिनांग सिम्फनी आर्केस्ट्रा (PSO).[70][71] प्रोआर्ट चीनी आर्केस्ट्रा पारंपरिक चीनी वाद्य संगीत जाता है।[72] कई अन्य चैंबर और विद्यालय आधारित संगीत समूह भी हैं। ग्रीनहाल में एक्टर्स स्टूडियो एक थिएटर ग्रुप है जो 2002 में शुरू हुआ।[73]

बंग्सावन मलय थिएटर (अक्सर मलय ओपेरा कहा जाता है) कला का रूप है जो भारत में जन्मा, भारतीय, पश्चिमी, इस्लामी, चीनी और इन्डोनेशियाई प्रभाव के साथ पिनांग में विकसित हुआ।

20वीं सदी के उत्तरार्द्ध के दशकों में इसमें गिरावट आई और आज यह एक मृत कला है।[74][75] बोरिया पिनांग का एक और स्वदेशी पारंपरिक नृत्य नाटक है जिसकी विशेषता है वायलिन, मराकस और तबले के साथ गायन.[76]

चीनी ओपेरा (आमतौर पर टियोच्यू और होकिएन संस्करण) पिनांग में अक्सर प्रदर्शित किया जाता है, अक्सर विशेष रूप से निर्मित प्लेटफार्मों में, खासकर वार्षिक हंगरी घोस्ट फ़ेस्टिवल के दौरान.

कठपुतली प्रदर्शन भी होते हैं हालांकि आजकल उनका प्रदर्शन कम हो रहा है।

संग्रहालय और दीर्घाएं[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन में पिनांग म्युज़ियम एंड आर्ट गैलरी में अवशेष, तस्वीरें, नक्शे और अन्य कलाकृतियां रखी हुई हैं जो पिनांग और इसके वासियों के इतिहास और संस्कृति का अभिलेख हैं।[77] पूर्व सैयद एटलस मैन्शन में पिनांग इस्लामिक म्युज़ियम में पिनांग में शुरुआत से लेकर आज तक इस्लाम के इतिहास पर प्रकाश डाला गया है। जल-थल से जापानी आक्रमण जो कभी हुआ ही नहीं, की पूर्व प्रत्याशा में अंग्रेज़ों द्वारा निर्मित किले में स्थित पिनांग वॉर म्युज़ियम में द्वितीय विश्व युद्ध की त्रासदी को मुखरता से चित्रित किया गया है।

विश्वविद्यालय परिसर में स्थित यूनीवर्सिटी सैन्स मलेशिया म्युज़ियम एंड गैलरी में जातिगत और करतब कला तथा मलेशियाई कलाकारों की विभिन्न कलाकृतियों व्यापक रूप से प्रदर्शित हैं।[78] तनजुंग बंगाह में एक खिलौना संग्रहालय और टेलुक बहान्ग फ़ॉरेस्ट पार्क के भीतर एक वानिकी संग्रहालय भी है।[79] दीवान श्री पिनांग में पिनांग स्टेट आर्ट गैलरी में स्थानीय कलाकारों के स्थायी संग्रह के साथ-साथ विशेष प्रदर्शनियां भी प्रदर्शित की जाती हैं। मलेशिया के सुविख्यात गायक-अभिनेता पी. रम्ली के जन्मस्थान को बहाल कर उसे संग्रहालय बना दिया गया है।

वास्तुकला[संपादित करें]

पिनांग की वास्तुकला उसके इतिहास का एक टिकाऊ वसीयतनामा है-डेढ़ सदी से अधिक ब्रिटिश उपस्थिति और साथ ही आप्रवासियों और उनकी संस्कृति जो वे अपने साथ लाए, के संगम की परिणति है। एस्प्लेनेड में फ़ोर्ट कॉर्नवॉलिस पिनांग में ब्रिटिश द्वारा निर्मित पहली संरचना है।[80][81] औपनिवेशिक काल के भवनों के उत्कृष्ट उदाहरण में शामिल हैं नगर परिषद और टाउन हॉल, पुराने वाणिज्यिक जिले के भवन, पिनांग म्युज़ियम, ईस्टर्न एंड ओरिएंटल होटल, सेंट जॉर्ज ऐंग्लिकन चर्च - ये सब यूनेस्को विश्व विरासत स्थल का हिस्सा हैं।


आयर इतम नदी के तट पर स्थित पिनांग के ब्रिटिश गवर्नरों का पूर्व निवास सफ़ॉक हाउस एंग्लो-इंडियन बगीचे वाले घर का एक उदाहरण है।[82] कई अलंकृत कबीले मकानों, मंदिरों, युद्ध पूर्व दुकान वाले मकानों और चियांग फ़ाट ज़े हवेली जैसी हवेलियों पर चीनी प्रभाव साफ़ दिखता है। वेल्ड क्वे में कबीले के घाट जल-गांवों का एक संग्रह है। भारतीय समुदाय ने महामरिम्मा मंदिर जैसे कई शानदार मंदिरों का निर्माण किया है जबकि कपिटन केलिंग मस्जिद, अकेह मस्जिद और पिनांग इस्लामिक म्युज़ियम पर मुस्लिम प्रभाव देखा जा सकता है। पी. रम्ली म्युज़ियम पारंपरिक मलय पाबाँसा घरों का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। शयन कर रहे बुद्ध और धर्मीकर्मा मंदिरों में स्यामी और बर्मी वास्तुकला की सराहना की जा सकती है। आधुनिक ढांचे और गगनचुंबी इमारतें भी पिनांग में प्रचुर मात्रा में है, कभी-कभी ऐतिहासिक इमारतों की बगल में होती हैं। उल्लेखनीय उदाहरण में शामिल हैं कोमतार टॉवर, उम्नो टावर और मुटिआरा मेसेनिआगा भवन.[83]

एक जलडमरू-चीनी कला सज्जा संकलक वास्तुकला के साथ औपनिवेशिक युग का एक घर

त्योहार[संपादित करें]

पिनांग के सांस्कृतिक ताने-बाने में स्वाभाविक रूप से अनेक त्योहार मनाए जाते हैं।

चीनी लोग अन्य के साथ मनाते हैं चीनी नव वर्ष, मध्याह्न पतझड़ महोत्सव, भूखा भूत महोत्सव, क्विंग मिंग और विभिन्न देवताओं के दावत के दिन. मलायी और मुसलमान मनाते हैं हरि राया ऐदिलफ़ितरी, हरि राया हाजी और मौलीदर रसूल जबकि भारतीय मनाते हैं दीपावली, थाईपुसम और थाई पोंगल. क्रिसमस, गुड फ्राइडे और ईस्टर ईसाइयों द्वारा मनाये जाते हैं। वार्षिक सेंट ऐनी का नोवेना और पर्व के कारण हजारों कैथोलिक बुकिट मर्ताजम को जाते हैं।[84][85] बौद्ध वेसाक दिवस जबकि सिख बैसाखी मनाते है। इनमें से त्योहार बड़े पैमाने में मनाये जाते हैं और उनकी पिनांग में सार्वजनिक छुट्टियां भी होती हैं।

भोजन[संपादित करें]

एक फेरीवाला चिंराट और मिर्च के पेस्ट में फल का पकवान रोजक बेचते हुए
गर्नी ड्राइव पर हॉकर भोजन केंद्र.

मलेशिया की खाद्य राजधानी के रूप में चिरपरिचित पिनांग बढ़िया और विविध भोजन के लिए प्रसिद्ध है और अधिकतर मलेशियाई दावा करते हैं कि सबसे अच्छा खाना यहाँ पाया जाता है। 2004 में टाइम पत्रिका ने एशिया की सर्वश्रेष्ठ स्ट्रीट फूड के रूप में पिनांग को यह कहते हुए मान्यता दी कि "कहीं और इतना स्वादिष्ट भोजन इतने सस्ते में नहीं मिल सकता".[86] पिनांग का भोजन मलेशिया में चीनी, न्योन्या, मलय और भारतीय जातीय मिश्रण और थोड़ा थाईलैंड के प्रभाव को भी दर्शाता है। यहां का "फेरीवाला खाना", कईयों द्वारा परोसा जाने वाला अल फ़्रेस्को, खास नूडल्स, मसाले और ताजा समुद्री खाना विशेष रूप से प्रसिद्ध है। पिनांग के भोजन का लुत्फ़ उठाने के लिए सर्वोत्तम स्थानों में शामिल हैं गर्नी ड्राइव, पुलाऊ टिकुस, न्यू लेन, न्यू वर्ल्ड पार्क, पिनांग रोड और चुलिआ स्ट्रीट. स्थानीय चीनी रेस्तरां भी उत्कृष्ट मेले लगाते हैं।

पिनांग बोटैनिक गार्डन्स

पर्यटन[संपादित करें]

अनेक में से सोमरसेट मौघम, रुडयार्ड किपलिंग, नोएल कॉवर्ड और एलिज़ाबिथ द्वितीय जैसे आगुन्तकों से साथ पिनांग हमेशा से देशीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों का लोकप्रिय पर्यटन स्थल रहा है।[87][88][89] 2009 में, पिनांग ने 5.96 मिलियन पर्यटकों को आकर्षित किया और पर्यटक आगमन में मलेशिया में तीसरे स्थान पर रहा.[90] पिनांग अपनी समृद्ध विरासत, बहुसांस्कृतिक समाज और अपनी जीवंत संस्कृति, अपनी पहाड़ियों, पार्क और समुद्री तटों, खरीदारी और अच्छे भोजन के लिए जाना जाता है।

केक लोक साई मंदिर

समुद्री तट[संपादित करें]

पिनांग के सबसे लोकप्रिय समुद्री तट तनजुंग बंगा बातू फेरिंघी और टेलुक बहान्ग में स्थित हैं और इन सटे हुए तटों पर प्रसिद्ध होटल और रिज़ॉर्ट स्थित हैं। और अधिक एकांत में मुका हैड जिसमें प्रकाश स्तंभ और समुद्री अनुसंधान केन्द्र है और मंकी बीच -दोनों पिनांग नेशनल पार्क में हैं- का जल और भी निर्मल है।


बरसों के प्रदूषण ने समुद्री तटों की सुंदरता को कम कर दिया है और इससे लगातार अधिकाधिक पर्यटक लैंगकॉवी और पंगकोर की ओर मुड़ते जा रहे हैं।


अकुशल मल निपटान और अनियंत्रित वाणिज्यिक गतिविधियों को प्रदूषण के स्रोत के रूप में पहचाना गया है।[91] [92]

उद्यान, उपवन और प्राकृतिक पर्यावरण[संपादित करें]

अपने सीमित भूमि आकार और घनी आबादी के बावजूद, पिनांग प्राकृतिक वातावरण के एक काफी क्षेत्र को बनाए रखने में कामयाब रहा है। जॉर्ज टाउन के किनारे, पिनांग हिल के चरणों में दो समीपवर्ती हरियाले क्षेत्र हैं-पिनांग म्युनिसिपल पार्क (यूथ पार्क के रूप में विख्यात) और पिनांग बोटैनिक गार्डन्स.

विकास के अतिक्रमण के बावजूद पिनांग हिल में सघन जंगल और हरी-भरी हरियाली बनी हुई है।[93] रेलाऊ मेट्रोपॉलिटन पार्क 2003 में खोला गया था। रोबिना बीच पार्क बटरवर्थ समुद्र तट के पास एक पार्क है।

पिनांग द्वीप के पश्चिमोत्तर छोर पर स्थित, 2003 में राजपत्रित पिनांग नेशनल पार्क (2562 हेक्टेयर का सबसे छोटा) तराई डिप्टरोकार्प जंगल, कच्छ वनस्पति, आर्द्र प्रदेश, स्तरित झील, कीचड़दार भूमि, मूंगे की चट्टानें और कछुओं के नीड़ वाले समुद्री तटों के अलावा पक्षी जीवन की समृद्ध विविधता से सम्पन्न है।[94] इस के अलावा बुकिट रेलाऊ, टेलुक बहान्ग, बुकिट पेनारा, बुकिट मर्ताजम बुकिट पंचोर और सुन्गाई टुकुन में प्राकृतिक परिरक्षित भी हैं।

एक छोटा जंगली पेड़, एल्कोरनिया रोडोफ़िला, लगभग विलुप्त पेड़ मेनगाया मलायाना और मेंढक एन्सोनिया पिनान्जेनेसिस केवल पिनांग द्वीप के लिए ही स्थानिक है।[95][96][97]

टेलुक बहान्ग में पिनांग तितली फार्म दुनिया में अपनी तरह के फार्मों में से एक है, विशाल विभिन्न प्रकार की तितलियों का वास, प्रजनन और संरक्षण केंद्र है।[98] सेबेरंग जया में पिनांग बर्ड पार्क मलेशिया की पहली पक्षीशाला है।[99] अन्य रोचक स्थान हैं टेलुक बहान्ग में ट्रॉपिकल स्पाइस गार्डन और ट्रॉपिकल फ़्रूट फार्म और बुकिट जाम्बुल आर्किड और हिबिस्कस गार्डन.

खरीदारी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Category:Shopping malls in Penang

मलेशिया के उत्तरी क्षेत्र में पिनांग एक प्रमुख खरीदारी गंतव्य है। अनेक प्रकार के सामान के कई आधुनिक शॉपिंग मॉल हैं। पिनांग द्वीप पर अधिक लोकप्रिय वालों में हैं क्वीन्सबे मॉल (पिनांग का सबसे बड़ा), प्रसिद्ध गर्नी ड्राइव पर गर्नी प्लाज़ा, कोमतार (पिनांग का पहला आधुनिक शॉपिंग मॉल) और पिनांग टाइम्स स्क्वायर (कोमतार के निकट एक एकीकृत वाणिज्यिक और आवासीय कॉम्पलेक्स). सेबेरंग पेरायी में उल्लेखनीय शॉपिंग मॉल हैं सेबेरंग जया में सनवे कार्निवल मॉल और बंदर पेरडा में सेबेरंग प्रायी सिटी पेरडाना मॉल.


पारंपरिक बाजार जैसे चौरास्ता मार्केट और कैम्पबेल स्ट्रीट और पसार मालम के रूप में सुपरिचित खुली हवा में रात्रि बाजार आज के शॉपिंग मॉल के पूर्ववर्ती हैं। इनमें विभिन्न प्रकार के आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक्स और वस्त्रों से लेकर खाद्य पदार्थ और स्थानीय उत्पाद मिल जाते हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

विद्यालय[संपादित करें]

देश के कुछ प्रारंभिक विद्यालय इसमें स्थापित होने के कारण, पिनांग मलेशिया में शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी था। पब्लिक विद्यालय प्रणाली में राष्ट्रीय विद्यालय, स्थानीय भाषा (चीनी और तमिल) के विद्यालय, व्यावसायिक विद्यालय और धार्मिक विद्यालय शामिल हैं। वहाँ भी दलत इंटरनेशनल स्कूल, श्री पिनांग स्कूल, द इंटरनेशनल स्कूल ऑफ़ पिनांग (ऊंची जगह पर) और पिनांग जापानी स्कूल जैसे कुछ अंतरराष्ट्रीय विद्यालय भी हैं। राज्य में पांच स्वतंत्र चीनी विद्यालय हैं।

चीनी विद्यालय[संपादित करें]

पिनांग लंबे समय से सुविकसित चीनी भाषा की स्कूली शिक्षा प्रणाली का केंद्र रहा है। इन विद्यालयों को स्थानीय चीनी संघों द्वारा परोपकारियों के दान से स्थापित किया गया था और इन्होंने थाईलैंड और इंडोनेशिया जहां चीनी शिक्षा पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, से ऐतिहासिक रूप से चीनी समुदायों के छात्रों को आकर्षित किया है। ये विद्यालय समुदाय द्वारा समर्थित हैं और कई लगातार अच्छा परिणाम देते आ रहे हैं जिससे गैर चीनी छात्र भी आकर्षित होते हैं। पिनांग में 90 चीनी प्राथमिक विद्यालय और 10 चीनी सेकेंडरी विद्यालय हैं। उनमें से हैं चुंग लिंग हाई स्कूल (1917 में स्थापित), पिनांग चाइनीज़ गर्ल्स हाई स्कूल (1920 में स्थापित), युनियन हाई स्कूल (1928 में स्थापित), चुंग वा कन्फ्यूशियस स्कूल (1904 में स्थापित), फ़ोर ते हाई स्कूल (1940 में स्थापित मलेशिया का प्रथम बौद्ध स्कूल), जीत सिन हाई स्कूल (1949 में स्थापित) और हान चियांग स्कूल (1919 में स्थापित).

पूर्व में मिशनरी विद्यालय[संपादित करें]

पिनांग में औपचारिक शिक्षा ब्रिटिश प्रशासन के प्रारंभिक दिनों से शुरू है। पिनांग के कई पब्लिक विद्यालय देश के और यहां तक कि पूरे क्षेत्र के पुराने विद्यालयों में से हैं लेकिन बाद में इन्हें राष्ट्रीय विद्यालयों में बदल दिया गया। देश के इतिहास की महत्वपूर्ण शख्सियतों की पीढ़ियां इनमें शिक्षित हुई जैसे मलय शासक, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, सांसद, खिलाड़ी, कलाकार और संगीतकार. इनमें से सबसे उल्लेखनीय हैं पिनांग फ़्री स्कूल (1816 में स्थापित देश का सबसे पुराना अंग्रेज़ी विद्यालय)[100], सेंट जॉर्ज गर्ल्स स्कूल (1885 में स्थापित), मेथोडिस्ट बॉयज़ स्कूल (1891 में स्थापित), सेंट जेवियर्स इंस्टिटयूशन (1852 में स्थापित) और कॉन्वेंट लाइट स्ट्रीट (1852 में स्थापित मलेशिया में केवल लड़कियों के लिए पहला विद्यालय)

राष्ट्रीय, व्यावसायिक और धार्मिक विद्यालय[संपादित करें]

राष्ट्रीय विद्यालय शिक्षा के माध्यम के रूप में मलय भाषा का प्रयोग करते हैं। प्रारंभिक चीनी और मिशनरी विद्यालयों के विपरीत, राष्ट्रीय विद्यालय ज़्यादातर सरकार द्वारा निर्मित और वित्त पोषित होते हैं। इन विद्यालयों में छात्रों की जनसंख्या और अधिक बहुजातीय हो जाती है। उदाहरण हैं बुकिट जाम्बुल सेकेंडरी विद्यालय, श्री मुटिआरा सेकेंडरी विद्यालय और आयर इतम सेकेंडरी विद्यालय हैं। टुंकू अब्दुल रहमान टेक्निकल इंस्टिट्यूट और बातू लन्चांग वोकेशनल स्कूल पिनांग के दो व्यावसायिक विद्यालय हैं। अल-मशहूर स्कूल पिनांग में एक धार्मिक विद्यालय है।

महाविद्यालय और विश्वविद्यालय[संपादित करें]

पिनांग में दो मेडिकल विद्यालय, दो शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय और कई निजी और सामुदायिक कॉलेज है। पिनांग में दो सार्वजनिक विश्वविद्यालय हैं गेल्यूगॉर में यूनीवर्सिटी सैन्स मलेशिया और पर्माटंग पॉह में यूनीवर्सिटी टेक्नोलॉजी MARA.[101][102]

वावासन ओपन युनिवर्सिटी घर बैठे अध्ययन को समर्पित प्राइवेट विश्वविद्यालय है।[103] पिनांग में दक्षिणपूर्व एशिया में विज्ञान और गणित शिक्षा की वृद्धि के लिए एक अनुसंधान और प्रशिक्षण संस्थान SEAMEO RECSAM भी है।


पुस्तकालय[संपादित करें]

1817 में स्थापित पिनांग लाइब्रेरी को 1973 में पिनांग पब्लिक लाइब्रेरी निगम ने प्रतिस्थापित किया।[104] यह सेबेरंग प्रायी में मुख्य पिनांग पब्लिक लाइब्रेरी, जॉर्ज टाउन शाखा पुस्तकालय और तीन छोटे पुस्तकालयों को संचालित करता है।[105]


स्वास्थ्य सेवा[संपादित करें]

पिनांग में स्वास्थ्य सेवा सार्वजनिक और साथ ही निजी अस्पतालों द्वारा प्रदान की जाती है। स्थानीय चीनी धर्मार्थ संस्थाओं और रोमन कैथोलिक और सेवेन्थ-डे एडवेन्टिस्ट जैसे मिशनरियों द्वारा प्रदान की गई स्वास्थ्यसेवा शुरू में औपनिवेशिक अधिकारियों द्वारा स्थापित सार्वजनिक स्वास्थ्यसेवा प्रणाली का पूरक थी।

आज सार्वजनिक अस्पताल स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा प्रशासित और वित्त पोषित हैं . सार्वजनिक अस्पतालों के अतिरिक्त अनेक छोटे सामुदायिक क्लीनिक और निजी प्रैक्टिस वाले क्लीनिक (क्लीनिक केसिहाटां) हैं। निजी अस्पतालों में बेहतर सुविधाएं और त्वरित देखभाल होती है। ये अस्पताल न केवल स्थानीय आबादी के लिए बल्कि अन्य राज्यों और इंडोनेशिया जैसे पड़ोसी देशों से स्वास्थ्य के लिए आने वाले मरीजों को भी सेवा उपलब्ध कराते हैं। पिनांग सक्रिय रूप से स्वास्थ्य पर्यटन को बढ़ावा दे रहा है। लंबे समय और अन्त्य रोगी की देखभाल के लिए मरणासन्न रोगियों के अस्पताल भी पसंद किए जा रहे हैं। वर्तमान में शिशु मृत्यु दर 0.4% है जबकि जन्म के समय जीवन प्रत्याशा पुरुषों के लिए 71.8 वर्ष और महिलाओं के लिए 76.3 वर्ष है।[106]

सार्वजनिक अस्पताल पिनांग द्वीप वेलेस्ले प्रांत
  • पिनांग सार्वजनिक अस्पताल (मुख्य)
  • बालिक पुलाऊ अस्पताल
निजी अस्पताल पिनांग द्वीप वेलेस्ले प्रांत
  • ट्रॉपिकाना मेडिकल सेंटर पिनांग
  • द्वीप अस्पताल
  • ग्लेनीग्लस मेडिकल सेंटर
  • पन्ताई मुटिआरा अस्पताल
  • लोह गुआन लाई स्पेशलिस्ट सेंटर
  • लैम वाह ई हॉस्पिटल
  • पिनांग एडवेन्टिस्ट हॉस्पिटल
  • तनजुंग मेडिकल सेंटर
  • माउंट मिरियम हॉस्पिटल

परिवहन[संपादित करें]

मलेशिया के भीतर और बाहर दोनों तरह से पिनांग पहुंचना आसान है क्योंकि पिनांग सड़क, रेल, समुद्र और हवा से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। कुआला लम्पुर से पिनांग को स्थानीय वाहक जैसे एयरएशिया की उड़ाने उपलब्ध हैं।[107]


पुल, सड़कें और राजमार्ग[संपादित करें]

13.5 किमी लंबा पिनांग पुल

पिनांग द्वीप 13.5-किलोमीटर, तीन लेन, दोहरे वहनमार्ग वाले एशिया के सबसे लंबे पुलों में से एक पिनांग ब्रिज (1985 में पूरा) से मुख्य भूमि से जुड़ा हुआ है। 31 मार्च 2006 को मलेशियाई सरकार ने एक दूसरे पुल की परियोजना की घोषणा की और इसे अंनंतिम रूप से नाम दिया पिनांग सेकेंड ब्रिज. इस समय पुल निर्माणाधीन है और 2013 के अंत तक पूरा हो जाने की उम्मीद है।[108]

वेलेस्ले प्रांत की ओर से पिनांग 966 किमी लंबे एक्सप्रेसवे, नॉर्थ-साउथ एक्सप्रेसवे (लेबुहराया अतारा-सलातन) से जुड़ा हुआ है जो प्रमुख कस्बों और शहरों को जोड़ता हुआ प्रायद्वीपीय मलेशिया के पश्चिमी हिस्से को तय करता है।

एक्सप्रेसवे में पिनांग ब्रिज भी शामिल हैं।

पिनांग आउटर रिंग रोड (PORR) द्वीप के पूर्वी भाग की यात्रा के समय में कटौती करने के लिए प्रस्तावित की गई थी। संबद्ध नागरिकों ने शांत आवासीय क्षेत्रों के बीच में से होकर पर्यावरण पर कुप्रभाव डालने वाले निर्दिष्ट मार्ग के विरोध में आवाज़ उठाई.[109] 26 जून 2008 को, मलेशिया के प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि नौवीं मलेशिया योजना की मध्यावधि समीक्षा में परियोजना आस्थगित कर दी गई है क्योंकि यह कहा गया था कि यह लोगों के हित में नहीं है और पिनांग के निवासियों पर इसका तत्काल कोई प्रभाव नहीं होगा.[110]

द्वीप के पूर्वी भाग में तटीय राजमार्ग जेल्यूटॉन्ग एक्सप्रेस, पिनांग ब्रिज को जॉर्ज टाउन से जोड़ता है। बटरवर्थ आउटर रिंग रोड (BORR) टोल वाला एक 14 किमी एक्सप्रेसवे है जो गहन शहरी और औद्योगिक विकास के कारण यातायात में तीव्र वृद्धि को सुगम बनाने के लिए मुख्य रूप से बटरवर्थ और बुकिट मर्ताजम के लिए सुलभ है।


सार्वजनिक परिवहन[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन में बसें और टैक्सियां

घोड़ा ट्राम, भाप ट्राम, बिजली ट्राम, ट्रॉलीबसें और डबल डेकर पिनांग की सड़कों पर चला करती थीं। पहला भाप ट्रामवे 1880 के दशक में चालू हुआ और कुछ समय के लिए घोड़े द्वारा खींची जाने वाली कारें भी आईं. बिजली का ट्राम 1905 में शुरू किया गया। ट्रॉलीबसें 1925 में शुरू हुईं और धीरे-धीरे उन्होंने ट्रामों की जगह ले ली लेकिन 1961 में वे बंद हो गए और तब से आज तक नियमित बसें ही सार्वजनिक परिवहन का एकमात्र ज़रिया हैं।[111][112] पिनांग हिल रेलवे, पिनांग हिल की चोटी के लिए एक रस्से से चलाया जानेवाला रेलवे जब 1923 में पूरा हुआ तो एक तरह से इंजीनियरिंग का कमाल था। प्रणाली के उन्नयन के लिए इसे फ़रवरी 2010 में बंद कर दिया गया था और जनवरी 2011 में फिर से खोले जाने की उम्मीद है।[113]

एक लंबे समय तक पिनांग सार्वजनिक बस सेवा असंतोषजनक थी।[114][115][116] 1 अप्रैल 2006 को, पिनांग राज्य सरकार ने राज्य में बस सेवा को सुधारने की उम्मीद में पूरे बस नेटवर्क का पुर्नोत्थान किया। नये मार्गों के तहत, "ट्रंक" मार्गों के लिए बड़ी बसें जबकि "सहायक" मार्गों के लिए मिनी बसें चलाई गई जो ट्रंक मार्गों तक चलने लगीं लेकिन स्थिति में सुधार नहीं हुआ।

20 फ़रवरी 2007 को सरकार ने घोषणा की कि रैपिड केएल इसी उद्देश्य के लिए बनाई गई नई इकाई रैपिड पिनांग के तहत सार्वजनिक बस सेवा चलाएगा.


रैपिड पिनांग ने 31 जुलाई 2007 को द्वीप और मुख्य भूमि पर 28 मार्गों पर 150 बसें चलाकर शुरूआत की. तब से इस सेवा को विस्तारित किया गया है। रैपिड पिनांग के आने के बाद से पिनांग में सार्वजनिक परिवहन में सुधार हुआ है और यह अब बेहतर है। 2007 में मामूली से 30,000 यात्री प्रति दिन से लेकर 2010 में 75,000 यात्री प्रति दिन, राज्य में सार्वजनिक परिवहन के उपयोग में भी वृद्धि हुई है।[117] वर्तमान में, राज्य भर के 41 मार्गों पर 350 बसें चलती हैं (पिनांग द्वीप पर 30 मार्गों, सेबेरंग प्रायी में 9 मार्गों और पिनांग द्वीप और सेबेरंग प्रायी को जोड़ने वाले 2 मार्गों पर . व्यस्त घंटों के दौरान शहर में यातायात जाम के कारण सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कम होता है।[118] इसके प्रकाश में, भीड़ कम करने के लिए नगर परिषद ने शहर के अंदर ही थोड़ी दूरी की यात्रा के लिए मुफ़्त शटल बस सेवा चालू की है।[114]

अंतर-राज्य एक्सप्रेस कोच के लिए दो मुख्य बस टर्मिनल हैं। एक प्रांत वेलेस्ले में नौका टर्मिनल पर स्थित है और एक द्वीप पर सुन्गाई निबॉन्ग पर.

कमर्शिअल व्हीक्ल लाइसेंसिंग बोर्ड की आवश्यकतानुसार पिनांग में टैक्सियां मीटर का उपयोग न कर तय किया हुआ किराया वसूल करती हैं।[119]

अतीत की विरासत, निराला तीन पहियों वाला त्रिशा अभी भी जॉर्ज टाउन के कुछ हिस्सों में चलता है। किसी ज़माने में स्थानीय लोगों द्वारा भरपूर प्रयोग किए जाने वाले, आज इनका उपयोग मुख्यत: शहर के दौरे के लिए किया जाता है।[120]

रेल और मोनोरेल[संपादित करें]

पिनांग में सीमा के अंदर 34.9 किमी की रेल पटरी बिछी हुई है।[121] केरेतापी ताना मेलायू (KTM) या मलायन रेलवे वेस्ट कोस्ट लाइन जो पेर्लिस में मलेशिया-थाईलैंड सीमा पर पडांग बसार से सिंगापुर को जाती है, बटरवर्थ रेलवे स्टेशन की देखभाल करती है।

सेनाडंग लैंगकॉवी बटरवर्थ से होते हुए कुआला लम्पुर से हाद्याई को जाने वाली दैनिक रात्रि एक्सप्रेस है।


1999 से मोनोरेल का प्रस्ताव पिनांग के विचाराधीन था। अंत में 31 मार्च 2006 को नौवीं मलेशिया योजना के तहत पिनांग मोनोरेल परियोजना अनुमोदित की गई लेकिन संघीय सरकार द्वारा अनिश्चित काल के लिए आस्थगित कर दी गई।[122]


हवाई अड्डा[संपादित करें]

पिनांग अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (पेन) द्वीप के दक्षिण में बायन लेपास पर स्थित है। हवाई अड्डा मलेशिया के उत्तरी प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है और मलेशिया एयरलाइंस तथा एयरएशिया के पू्र्ण स्वामित्व अधीन कम लागत वाले मलेशिया के अग्रणी वाहक फ़ायर फ़्लाई का अनुषंगी केंद्र है।


पिनांग में चालू अन्य एयरलाइनें हैं राष्ट्रीय ध्वज वाहक मलेशिया एयरलाइंस, सिल्कएयर (सिंगापुर एयरलाइंस की एक सहायक), थाई एयरवेज़ इंटरनेशनल, टाइगर एयरवेज़, जेटस्टार एशिया एयरवेज़, हांगकांग स्थित कैथे पेसेफ़िक और ड्रैगन एयर, ताइवान स्थित चायना एयरलाइंस, चायना सदर्न एयरलाइंस तथा इन्डोनेशियाई एयरलाइनें लायन एयर, कार्तिका एयरलाइंस, श्रीविजया एयर और विंग्स एयर.

पिनांग हवाई अड्डे से अन्य मलेशियाई शहरों अर्थात कुआला लम्पुर, कचिंग, कोटा किनाबालु, जोहोर बाहरू,लैंगकॉवी को सीधी उड़ानें हैं और बैंकॉक, जकार्ता, सिंगापुर, हांगकांग, ताइपे, गुआंगज़ौ, मकाओ और चेन्नई जैसे प्रमुख एशियाई शहरों के लिए नियमित कनेक्शन हैं।

फ़्री ट्रेड ज़ोन में अनेक बहुराष्ट्रीय कारखाने होने और प्रायद्वीपीय मलेशिया के उत्तरी राज्यों की सेवा करने के कारण हवाई अड्डा एक महत्वपूर्ण कारगो केंद्र के रूप में भी कार्य करता है।


नौका और बंदरगाहें[संपादित करें]

भोर में पिनांग
बटरवर्थ घाट पर एक पिनांग नौका गोदी पर पहुंचते हुए

पिनांग फ़ेरी सर्विस द्वारा प्रदत्त चैनल-पार फ़ेरी सेवाएं जॉर्ज टाउन और बटरवर्थ को जोड़ती हैं और 1985 में पुल बनने से पहले द्वीप और मुख्य भूमि को जोड़ने वाली एकमात्र कड़ी थीं। लैंगकॉवी के द्वीप रिज़ॉर्ट, उत्तर में केडाह और मेडन को भी रोज़ाना उच्च गति की फ़ेरी उपलब्ध हैं।


पिनांग की बंदरगाह का संचालन पोर्ट पिनांग आयोग करता है। चार टर्मिनल हैं, एक पिनांग द्वीप पर (स्वैटनहैम पियर) और तीन मुख्य भूमि पर हैं अर्थात नॉर्थ बटरवर्थ कंटेनर टर्मिनल (NBCT), बटरवर्थ डीप वाटर व्हार्व्ज़ (BDWW) और प्रायी बल्क कार्गो टर्मिनल (PBCT). मलेशिया 13वां सबसे बड़ा निर्यातक राष्ट्र होने के नाते, दुनिया भर में 200 से अधिक बंदरगाहों के साथ पिनांग को जोड़कर पिनांग की बंदरगाह देश के जहाज़रानी उद्योग में एक प्रमुख भूमिका निभाती है।

स्वैटनहैम पियर पोर्ट क्रूइज़ जहाज़ोंऔर कभी-कभी युद्धपोतों को भी जगह देती है।

जनोपयोगी सेवाएं[संपादित करें]

राज्य के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली जल आपूर्ति का पूर्ण प्रबंधन राज्य के स्वामित्व वाली लेकिन स्वायत्त PBA Holdings Bhd जिसकी एकमात्र सहायक पेरबदनन बेकालन एयर पुलाऊ पिनांग Sdn Bhd (PBAPP) है, के द्वारा किया जाता है।

यह पब्लिक लिमिटेड कंपनी राज्यभर में चौबीसों घंटे विश्वसनीय पीने का पानी प्रदान करती है। सफल सार्वजनिक जल योजना के अध्ययन के मामले के रूप में विश्व विकास आंदोलन द्वारा पिनांग को उद्धृत किया गया था।[कृपया उद्धरण जोड़ें]PBA की पानी की दरें भी दुनिया में सबसे कम हैं[123] पिनांग के पानी की आपूर्ति के स्रोत हैं आयर इतम बांध, मेंकुआंग बांध, टेलुक बहांग बांध, बुकिट पंचोर बांध, बेरापिट बांध, चेरोक टोक कुन बांध, झरना जलाशय (पिनांग बोटैनिक गार्डन्स में), ग्विलमर्ड जलाशय और केडाह की मुडा नदी.


पिनांग पहली पनबिजली योजना पूरी होने पर 1905 में विद्युतीकृत होने वाले मलाया के पहले राज्यों में से था।[8] वर्तमान में, घरेलू और औद्योगिक खपत के लिए बिजली राष्ट्रीय बिजली उपयोगिता कंपनी, टेनगा नेसिऑनल बर्हड (TNB) द्वारा प्रदान की जाती है।

टेलीकॉम मलेशिया बर्हड राज्य में लैंडलाइन टेलीफोन सेवा और एक इंटरनेट सेवा प्रदाता(आईएसपी) है। मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरोंऔर मोबाइल इंटरनेट सेवा प्रदाताओं में शामिल हैं मैक्सिस, डिजी, सेल्कॉम और यू मोबाइल. वर्तमान में, पिनांग में राज्यव्यापी वाई-फ़ाई अधिष्ठापन चल रहा है। वाई-फ़ाई इंटरनेट कनेक्शन पिनांग राज्य सरकार द्वारा मुफ़्त प्रदान किया जाएगा. पिनांग फ़्री वाई-फ़ाई नामक वाई-फ़ाई सेवा कुछ वाणिज्यिक स्थलों और राज्य के सरकारी कार्यालय सहित कुछ क्षेत्रों, पिनांग द्वीप पर कोमतार और सेबेरंग प्रायी के कुछ वाणिज्यिक स्थलों में आ चुकी है। पूरा हो जाने पर, पिनांग निवासियों को मुफ़्त इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करने वाला मलेशिया का पहला राज्य होगा.[124]

पिनांग में मलजल प्रशोधन राष्ट्रीय सीवरेज कंपनी इंडाह वाटर कॉन्सॉर्शियम द्वारा प्रबंधित है। व्यवस्थित सीवरेज पाइपिंग और प्रशोधन से पहले अपशिष्ट जल को जैसे-तैसे ठिकाने लगाया जाता था, ज़्यादातर समुद्र में डाल दिया जाता था जिससे समुद्री जल अशुद्ध हो जाता था।[125]

सहायक शहर[संपादित करें]

सैन्य प्रतिष्ठान[संपादित करें]

सेना[संपादित करें]

द्वीप पर बुकिट गेडॉन्ग में तुन रज़ाक शिविर (मलय: Kem Tun Razak) मलेशियाई सेना की 2 इन्फ़ेंट्री डिवीज़न का घर है जबकि जॉर्ज टाउन में पील एवेन्यू शिविर (मलय: Kem Lebuhraya Peel) में रेजीमन असकर वाटानियाह की 509वीं रेजिमेंट स्थित है।


गेल्यूगॉर में मिन्डेन बैरक्स जो वर्तमान में यूनीवर्सिटी सैन्स मलेशिया का स्थल है वह पहले 1939 से 1939 तक ओवरसीज़ राष्ट्रमंडल भूमि बल (मलाया) का शिविर हुआ करता था।


वायु सेना[संपादित करें]

बटरवर्थ में RMAF बटरवर्थ (मलय: TUDM Butterworth) एक रॉयल मलेशियाई एयर फ़ोर्स शिविर है। यह संस्थापना फ़ाईव पावर डिफ़ेंस एरेंजमेंट (FPDA) का एकीकृत वायु रक्षा प्रणाली (IADS) कमांड सेंटर भी है। एयरबेस में चार RMAF स्क्वाड्रन स्थित हैं और FPDA को ऑस्ट्रेलिया की प्रतिबद्धता के रूप में रॉयल ऑस्ट्रेलियन एयर फ़ोर्सस्क्वाड्रन की मेज़बानी करता है।[126][127]

गैर सरकारी संगठन (एनजीओ)[संपादित करें]

पिनांग देश में सामाजिक सक्रियता का अड्डा है। दुनिया के अग्रणी सामाजिक अभिवक्ताओं में से एक अनवर फज़ल ने अन्य कई व्यक्तियों के साथ मिलकर 1969 में उपभोक्ता एसोसिएशन पिनांग (CAP) की स्थापना की. देश के सबसे मुखर और सक्रिय उपभोक्ता संरक्षण समूह, कैप उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने का प्रयास करता है। यह उटुसन कॉन्स्युमर, उटुसन पिनांगुना, उटुसन साइना, उटुसन तमिल और मजलाह पिनांगुना कनक-कनक प्रकाशित करता है।

वर्ल्ड एलायंस फ़ॉर ब्रैस्टफ़ीडिंग एक्शन पिनांग स्थित एक संगठन है जिसका उद्देश्य विश्व स्तर पर स्तनपान की रक्षा करना, बढ़ावा और समर्थन देना है।


पिनांग हेरिटेज ट्रस्ट एक गैर सरकारी संगठन है जिसका उद्देश्य पिनांग की विरासत के संरक्षण को बढ़ावा देना और पिनांग के इतिहास और विरासत के बारे में सांस्कृतिक शिक्षा को प्रोत्साहित करना है। PHT ने जॉर्ज टाउन के ऐतिहासिक एन्क्लेव को विश्व विरासत स्थल के रूप में सूचीबद्ध कराने के लिए काम किया और पिनांग की कई ऐतिहासिक इमारतों को गिराए जाने से बचाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

फ़्रेंड्स ऑफ़ द पिनांग बोटैनिक गार्डन्स सोसायटी पिनांग के वनस्पति बगीचों के वनस्पातिक, बागवानी, शैक्षिक और मनोरंजनात्मक उद्देश्यों को समर्थन देने के लिए समर्पित संगठन है।


खेलकूद[संपादित करें]

तनजुंग सिटी मरीना

राज्य में खेलकूद की अच्छी सुविधाएं हैं जिनमें शामिल हैं दो स्टेडियम-जॉर्ज टाउन में सिटी स्टेडियम और दक्षिणी प्रांत वेलेस्ले में बातू कावन.


रेलाऊ में पिनांग इंटरनैशनल स्पोर्ट्स एरिना (पीसा) में इनडोर स्टेडियम और यह जलीय खेलकूद का केंद्र है


पिनांग में 18-होल बुकिट जाम्बुल कंट्री क्लब (द्वीप पर), 36-होल बुकिट जावी गोल्फ़ रिज़ॉर्ट, 36-होल पिनांग गोल्फ रिज़ॉर्ट और 18-होल क्रिस्टल गोल्फ़ रिज़ॉर्ट नामक 4 गोल्फ़ कोर्स हैं।

पिनांग के खेलकूद क्लबों में बुकिट मर्ताजम कंट्री क्लब, पिनांग क्लब, चाइनीज़ रीक्रिएशन क्लब (सीआरसी), पिनांग स्पोर्ट्स क्लब, पिनांग राइफ़ल क्लब, पिनांग पोलो क्लब, पिनांग स्वीमिंग क्लब, चाइनीज़ स्वीमिंग क्लब और पिनांग स्क्वैश सेंटर शामिल हैं। तनजुंग सिटी मरीना जो 140 नौकाओं और विभिन्न आकारों की नौकाओं को समायोजित कर सकता है वह ऐतिहासिक वेल्ड क्वे में स्थित है। 1864 में स्थापित पिनांग टर्फ़ क्लब, मलेशिया का सबसे पुराना घुड़दौड़ और घुड़सवारी का कैंद्र है।

1979 से चंद्रमा कैलेंडर के पांचवें चांद के करीब पांचवें दिन हर साल पिनांग में अंतर्राष्ट्रीय ड्रैगन बोट फेस्टिवल आयोजित किया जाता है।[128] पिनांग इंटरनैशनल ड्रैगन बोट फेस्टिवल (PIDBF) जो सफलतापूर्वक खेलकूद का विकास करता है, ने टेलुक बहांग बांध पर विश्व क्लब क्रू चैम्पियनशिप 2008 आयोजित की. आम तौर पर, राज्य एक वर्ष में दो दौड़ों का आयोजन करता है, पिनांग इंटरनैशनल ड्रैगन बोट फेस्टिवल जून के और पिनांग पेस्टा ड्रैगन बोट रेस दिसंबर महीने के शुरू में.

पिनांग ब्रिज मैराथन एक लोकप्रिय वार्षिक घटना है। पूर्ण मैराथन मार्ग क्वीन्सबे मॉल के पास से शुरू होकर बायन लेपास एक्सप्रेसवे और फिर पिनांग ब्रिज की 13.5 किमी लंबाई और अंत में खत्म करने के लिए प्रारंभ बिंदु पर वापस आता है। इस घटना ने 2008 में 16,000 से अधिक धावकों की मेज़बानी की.

पिनांग अद्वितीय चिंगे जुलूस की भी मेज़बानी करता है जो 1919 में इसकी पहली परेड के साथ शुरू हुआ। यह चीनी देवताओं के जन्मदिन के उत्सव या दया की देवी (गुआन यिन) के जुलूस के रूप में आयोजित किया जाता है जुलूस पिनांग में सालाना तौर पर क्रिसमस की रात को या चीनी नव वर्ष या पिनांग की अन्य प्रमुख घटनाओं जैसे चीनी त्योहारों के दौरान देखा जा सकता है।


पिनांग में प्रथम[संपादित करें]

जॉर्ज टाउन में फ़ोर्ट कॉर्नवॉलिस, ब्रिटिश चौकी
सेंट जॉर्ज चर्च, दक्षिणपूर्व एशिया में पहली अंग्रेज़ी चर्च
2 बीच स्ट्रीट में स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक भवन
  • पिनांग तत्कालीन मलाया और दक्षिण पूर्व एशिया में 1786 में पहली ब्रिटिश चौकी बना.
  • देश का पहला अखबार द प्रिन्स ऑफ़ वेल्स आईलैंड गज़ेट - 1805 में पिनांग से निकला.

इसके बाद पिनांग गज़ेट, पहली बार 1837 में प्रकाशित हुआ।[129]

  • जब किंग जॉर्ज III ने पुलिस बल और न्यायालय बनाने के लिए पिनांग को 1807 में 'चार्टर ऑफ़ जस्टिस' से सम्मानित किया तब रॉयल मलेशियाई पुलिस स्थापित हुई.


  • रेव स्पार्क हचिंग्स द्वारा 1816 में स्थापित पिनांग नि: शुल्क विद्यालय

दक्षिणपूर्वी एशिया का सबसे पहला और सबसे पुराना अंग्रेज़ी विद्यालय है।

  • 1816 में फ़ारक्वाहर स्ट्रीट पर स्थापित सेंट जॉर्जस एंग्लिकन चर्च, दक्षिणपूर्वी एशिया का सबसे पुरानी एंग्लिकन चर्च है और पिनांग की एकमात्र इमारत है जिसे मलेशिया सरकार के द्वारा 50 राष्ट्रीय खजाने में से एक घोषित किया गया।
  • 1826 में पिनांग में स्थापित सेकोलाह केबांगसान गेल्यूगॉर मलेशिया में स्थापित किया जाने वाला पहला मलायी विद्यालय है। [4]
  • 1852 में स्थापित सेंट जेवियर्स संस्था, ला सैल ब्रदर्स द्वारा प्रशासित और उनके पूर्ण स्वामित्व वाला मलेशिया में स्थापित पहला विद्यालय है।[130]
  • 1852 में फ़्रेंच सिस्टर्स मिशन द्वारा स्थापित लड़कियों का विद्यालय कान्वेंट लाइट स्ट्रीट या कॉन्वेंट इन्फ़ैंट जीसस दक्षिणपूर्व एशिया में सबसे पुराना लड़कियों का विद्यालय है।
  • 1904 में चियांग फ़ाट ज़े द्वारा स्थापित चुंग वा कन्फ्यूशियस विद्यालय 1900 के प्रारंभ में चीन में शैक्षिक सुधारों के प्रभाव के परिणाम के रूप में दक्षिणपूर्वी एशिया में स्थापित सबसे पुराने औपचारिक चीनी स्कूलों में से एक है।

विद्यालय में शिक्षा का माध्यम मैन्डरिन है।

स्थापित जॉर्ज टाउन की नगरपालिका परिषद के बाद स्थापित हुई.


  • 1864 में स्थापित पिनांग टर्फ क्लब मलेशिया का सबसे पुराना घुड़दौड़ और घुड़सवारी का केंद्र है।
  • मलेशिया के सबसे पुराने बैंक स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक ने 1875 में अपने दरवाजे खोले.
  • 1905 में पिनांग ने अपनी पहली पनबिजली योजना पूरी की.
  • 1906 में पिनांग में पहली इलेक्ट्रिक ट्रामवे आई.
  • आज भी प्रचलन में मलेशिया का सबसे पुराना चीनी समाचार पत्र कॉन्ग वा यिट पोह या कॉन्ग वाह डेली (光华日报) पिनांग में 20 दिसम्बर 1910 को डॉ॰ सन येट-सेन द्वारा शुरू किया गया।
  • मलेशिया में सबसे पुराने अंग्रेज़ी शौकिया थियेटर समूह द्वारा स्थापित पिनांग प्लेयर्स म्युज़िक एंड ड्रामा सोसायटी की शुरुआत 1950 के दशक के प्रारंभ में पिनांग में रहने वाले प्रवासियों के एक समूह द्वारा की गई।
  • पिनांग राज्य की राजधानी जॉर्ज टाउन 1 जनवरी 1957 को महारानी

एलिज़ाबिथ द्वितीय द्वारा दिए गए एक शाही चार्टर द्वारा शहर बना, यह मलाया संघ का पहला शहर था। (विवादित शहर की आगे की चर्चा पर, पिनांग द्वीप की नगर परिषद देखें.)

  • पिनांग में पानी की दरें/शुल्क मलेशिया में सबसे कम हैं (अन्य स्थान केलान्तन)
  • 738 किमी ² में फैली सेबेरंग पेरायी नगरपालिका परिषद (मजलिस पेरबंदरन सेबेरंग पेरायी) मलेशिया का सबसे बड़ा स्थानीय प्राधिकरण है।
  • 2003 में राजपत्रित टेलुक बहांग में 2562 हेक्टेयर का पिनांग राष्ट्रीय पार्क दुनिया का सबसे छोटा राष्ट्रीय पार्क है।[131]
  • 1884 में स्थापित पिनांग बोटैनिक्ल गार्डन मलेशिया का पहला वनस्पति उद्यान है।
  • 1940 में स्थापित फ़ोर तय हाई स्कूल मलेशिया का पहला बौद्ध विद्यालय है।
  • 1955 में लम्पुर कुआला की आर्चडायोसिस और पिनांग की डायोसिस पहली कैथोलिक डायोसिस हैं जहां के कर्ताधर्ता बिशप हैं।


  • 1665 में अयुथया, थाईलैंड में स्थापित और फिर 1808 में पिनांग

को स्थानांतरित कॉलेज जनरल प्रायद्वीपीय मलेशिया का पहला और एकमात्र कैथोलिक मदरसा है।

  • 1985 में पिनांग पुल पूरा होने पर भूपरिवहन के माध्यम से मुख्य भूमि से जुड़ने वाला मलेशिया का पहला और एकमात्र द्वीप पिनांग द्वीप है।


  • पिनांग द्वीप पर जॉर्ज टाउन को वेलेस्ले प्रांत में बटरवर्थ से

जोड़ने वाली पिनांग फेरी सेवामलेशिया की सबसे पुरानी नौका सेवा है।

  • 1923 में चालू पिनांग हिल रेलवे मलेशिया में पहाड़ी में रस्से से चलाया जाने वाला पहला रेलवे है।
  • जॉर्ज टाउन औषधालय तत्कालीन मलाया का प्रारम्भिक औषधालय था। यह 1895 में खोला गया था।

प्रसिद्ध पिनांगवासी[संपादित करें]

  • मलेशिया के पहले प्रधानमंत्री टुंकू अब्दुल रहमान पिनांग नि:शुल्क विद्यालय में पढ़े और पिनांग में सेवानिवृत्त हुए.
  • मलेशिया के पांचवे प्रधानमंत्री टुन अब्दुल्ला अहमद बदावी केपला बतास, पिनांग शहर के निवासी हैं।
  • आह नियू, मलेशिया, सिंगापुर, ताइवान और चीन में लोकप्रिय कलाकार.
  • एलीकैट्स 1960 में गठित लोकप्रिय मलेशियाई बैंड.
  • अनवर फज़लजिसकी मदर अर्थ न्यूज़ को 1983 में, "विश्व व्यापी उपभोक्ता आंदोलन में शायद सबसे अधिक प्रभावशाली आंकड़े" कहा गया था।

[5]

  • अनवर इब्राहिम, पूर्व उप प्रधान मंत्री, वर्तमान में पर्माटंग पॉह का प्रतिनिधित्व करने वाले सांसद और संसदीय विपक्ष के नेता.
  • जिल बेनेट (1931-1990), पिनांग में जन्मी अभिनेत्री.

चियांग फ़ाट ज़े (1840-1916), 1890 में पिनांग में सम्राट किंग के चीनी सलाहकार. पिनांग में एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखा गया है।

  • निबॉन्ग टिबल से प्रोफेसर चिन फंग की पिनांग ब्रिज के डिज़ाइनर
  • जिमी शू प्रसिद्ध जूता डिज़ाइनर.
  • एडी चूंग चार बार ऑल इंग्लैंड चैंपियन [6]
  • चुंग केंग क्वी
  • चुंग ताई फिन
  • गू होंगमिंग (1857-1928), पिनांग के प्रसिद्ध चीनी विद्वान.
  • होन सुई सेन (1916-1983), 1970 से 1983 तक सिंगापुर के वित्त मंत्री. पिनांग में जन्मे एक हक्का, सेंट जेवियर्स इंस्टिटयूट, पिनांग में शिक्षा प्राप्त की.
  • खॉ बून वान, 2004 से अब तक सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री. पिनांग में जन्मे और चुंग लिंग हाई स्कूल, पिनांग में शिक्षा पाई.
  • कोह त्सू कून, पिनांग के पूर्व मुख्यमंत्री, अब प्रधान मंत्री विभाग के संघीय मंत्री.
  • ली चोंग वेई, वर्तमान में दुनिया में नंबर 1 बैडमिंटन खिलाड़ी माना गया (22 जनवरी 2009)
  • लिम चोंग ईयू पिनांग के पूर्व मुख्यमंत्री.
  • लोह बून सियू (1915-1995), बून सियू

होंडा के संस्थापक और मलेशिया में होंडा मोटरसाइकिलों के एकमात्र वितरक.

  • निकोल डेविड, महिला स्क्वैश विश्व चैंपियन.
  • नूर मोहम्मद याकोप, वर्तमान में प्रधानमंत्री विभाग में मंत्री. पिनांग में जन्मे और सेंट जेवियर्स इंस्टिटयूट, पिनांग में शिक्षित
  • डैनी क्वाह, अर्थशास्त्री, अर्थशास्त्र विभाग के प्रमुख (2006-2009), अर्थशास्त्र के प्रोफेसर और लंदन स्कूल ऑफ़ इक्नॉमिक्स एंड पॉलिटिक्ल साइंस, यूके में ग्लोबल गवर्नेंस के सह निदेशक, परिषद के सदस्य, मलेशिया की राष्ट्रीय आर्थिक सलाहकार परिषद (2009 -)
  • पी. रम्ली (1929-1973), मलेशिया के महान अभिनेता / गायक / निर्देशक.
  • टैन टवैंग ईंग, उपन्यासकार, द गिफ़्ट ऑफ़ रेन के लिए 2007 मैन बुकर पुरस्कार के लिए नामित.
  • लिलिएन टू, फेंग शुई सलाहकार और फेंग शुई पुस्तकों की सबसे अधिक बिकने वाली लेखक.
  • जॉन एच. वाइट (1928-1990), पिनांग में जन्मे एक राजनीतिक वैज्ञानिक.
  • टैन श्री वाँग पाउ नी (1911-2002), पिनांग के पूर्व मुख्यमंत्री
  • वू लिएन-टे (1879-1960), प्रसिद्ध प्लेग सेनानी और चीन की जन स्वास्थ्य प्रणाली के आधुनिकीकरण में अग्रणी.
  • केन यआंग, गगनचुंबी इमारतों के लिए प्रसिद्ध वास्तुकार.
  • यीप चोर ई (1867-1952), प्रमुख व्यवसायी और परोपकारी.
  • योंग मुन सेन (1896-1962), अग्रणी कलाकार, मलेशियाई चित्रकारी के पिता.

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

उद्धरण[संपादित करें]

As one lands on Penang one is impressed even before reaching the shore by the blaze of colour in the costumes of the crowds which throng the jetty.

Isabella Bird, 19th century English traveller and writer.

लोकप्रिय संस्कृति में सन्दर्भ[संपादित करें]

  • पिनांग में कई फिल्मों की शूटिंग हुई, खास तौर पर:
  1. कैथरीन डिनोवो और विन्सेन्ट पेरेज़ की एंदोशीन (फ़्रांस, 1992)
  2. बियोंड रंगून (अमरीका / ब्रिटेन, 1995).
  3. ग्लेन क्लोज़ और फ्रांसिस मैक्डोरमंड अभिनीत

पैराडाइज़ रोड (संयुक्त राज्य अमेरिका/ऑस्ट्रेलिया - 1997)

  1. जोडी फ़ॉस्टर और चाउ युन-फ़ैट अभिनीत एना एंड द किंग (संयुक्त राज्य अमेरिका, 1999).
  2. मिशेल योह की द टच (हाँग काँग, 2002)
  3. एंग ली द्वारा निर्देशित लस्ट, कॉशन (ताइवान, 2007).
  4. विंस्टन चाओ और ऐंजलिका ली अभिनीत

सन येट-सेन की जीवनी फिल्म रोड टू डॉन (चीन, 2007).

  • पिनांग को पुस्तकों में चित्रित किया गया था या सन्दर्भित किया गया जैसे:
  1. फ्रेडरिक मैरियट (1792-1848) की द फ़ैंटम शिप .[132]
  2. रिचर्ड हेनरी डाना, जूनियर द्वारा टू ईयर्स बिफ़ोर द मास्ट (1815-1882).[133]
  3. प्रोटेस्टेंट मिशनरी जे. हडसन टेलर (1832-1905) द्वारा ए रेटरेस्पेक्ट जिसमें बताया गया कि उसने कैसे चायना इन्लैंड मिशन

(1964 में नाम बदलकर ओवरसीज़ मिशनरी फ़ैलोशिप और अब OMF इंटरनेशनल) की स्थापना की.[134]

  1. जॉन कॉनरॉय हचसन (1840-1897) द्वारा द पिनांग पायरेट .
  2. जोसेफ़ कॉनरैड (1857-1924) द्वारा एन आउटकास्ट ऑफ़ द आईलैंड्स .[135]
  3. सर आर्थर कॉनन डॉयल (1859-1930) द्वारा द हाउंड ऑफ़ द बैस्करविल्स .[136]
  4. अमेरिकी महिला पत्रकार नीली बलाई (जन्म का नाम एलिज़ाबिथ कोहरेन सीमैन, 1864-1922) द्वारा अराउन्ड द वर्ल्ड इन सेवन्टी टू डेज़ .

यह 1889 में उसकी यात्रा की सच्ची कहानी है जो उसने यह देखने के लिए की कि क्या वह जूल्स वर्ने के 1873 के उपन्यास अराउन्ड द वर्ल्ड ईन एटी डेज़ की काल्पनिक यात्रा को झुठला सकती है।[137]


  1. ऐच.जी.वेल्स (1866-1946) द्वारा द मैन हू कुड वर्क मिरैकल्स .[138]
  2. जे अल्बर्ट रप्प द्वारा थ्रैशहोल्ड ऑफ़ हैल, यूएसएस ग्रैंडियर

SS210 पनडुब्बी के चालक दल के सदस्य जिसे अन्य 75 के साथ अप्रैल 1941 को जापानियों ने पकड़ लिया था, पुस्तक में उन विषाद भरे दिनों के बारे में लिखा है जब वह पिनांग में कॉन्वेंट लाइट स्ट्रीट में बंदी थे।


  1. द्वितीय विश्व युद्ध में पिनांग की पृष्ठभूमि में टैन ट्वैन ईंग द्वारा द गिफ़्ट ऑफ़ रेन को 2007 में मैन बुकर पुरस्कार

के लिए नामांकित किया गया था।


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • पिनांग की वास्तुकला
  • ब्रिटिश मलाया
  • पिनांग की लड़ाई
  • जॉर्ज टाउन, पिनांग के स्ट्रीट नाम

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.articlesbase.com/travel-articles/the-history-of-penang-245011.html
  2. Hakluyt, Richard: The Tudor venturer in Lancaster's Voyage to the East Indies, p.264. पढ़ें किताबें, 2010
  3. http://www.penangmuseum.gov.my/
  4. http://tanjungpenaga.blogspot.com/
  5. http://thestar.com.my/metro/story.asp?file=/2008/7/28/north/21930010&sec=north
  6. "Pulau Pinang Pulau Mutiara". Perpustakaan Negara Malaysia. 2000. अभिगमन तिथि 2008-07-14.
  7. http://www.mandailing.org/Eng/rootsofpenmal.html
  8. http://www.visitpenang.gov.my/portal3/about-penang/history.html
  9. http://books.google.co.id/books?id=hS0_GehsGPwC&pg=PA187&lpg=PA187&dq=Jourdain+Sullivan+and+de+Souza&source=bl&ots=LyTkKbOXmO&sig=-kST1lAnSOaUwy6qDA_6wDrpDVc&hl=id&ei=TpGhTMnsIY3-vQON_5WcBA&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=3&ved=0CB8Q6AEwAg#v=onepage&q=Jourdain%20Sullivan%20and%20de%20Souza&f=false
  10. Eliot, Joshua; Bickersteth, Jane (2002). Malaysia Handbook: The Travel Guide. Footprint Travel Guides. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1903471273. |title= में बाहरी कड़ी (मदद)
  11. http://www.asiaexplorers.com/malaysia/francislight_biography.htm
  12. Mücke, Hellmuth von. The Emden-Ayesha Adventure: German Raiders in the South Seas and Beyond, 1914. अन्नापोलिस: नौसेना संस्थान प्रेस, 2000. ISBN 1-55750-873-9
  13. [21]
  14. http://ww2db.com/battle_spec.php?battle_id=47
  15. http://webcache.googleusercontent.com/search?q=cache:rKb-xcoeDvQJ:penangstory.net.my/docs/Abs-PaulHKratoska.doc+penang+japanese+occupation+suffer&cd=3&hl=id&ct=clnk&gl=id&client=opera
  16. http://www.highbeam.com/doc/1P1-82687504.html
  17. http://www.igeorgetownpenang.com/opinion/333-rekindling-a-ports-glory-days
  18. http://www.mymalaysiabooks.com/penang/mypenang_history.htm
  19. http://www.geoscience-environment.com/tsunami/tsunami_intro.pdf
  20. "Eight new sites, from the Straits of Malacca, to Papua New Guinea and San Marino, added to युनेस्को's World Heritage List". युनेस्को. 2008-07-07. अभिगमन तिथि 2008-07-07.
  21. Nasution, Khoo: The sustainable Penang initiative. पिनांग: IIED,2001 |
  22. www.penang-traveltips.com/geography.htm
  23. http://www.thesundaily.com/article.cfm?id=42518
  24. "Malaysia: metropolitan areas". World Gazetteer. मूल से 2012-12-05 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-07-14.
  25. http://www.ncer.com.my/
  26. "Projects 'will go on in good times'". The Star (Malaysia).
  27. "Guan Eng: PGCC as good as dead". The Star (Malaysia).
  28. "Sumatra haze blankets northern Malaysia". Planet Ark. 2002-09-23. अभिगमन तिथि 2008-07-19.
  29. http://www.met.gov.my/index.php?option=com_content&task=view&id=93&Itemid=201
  30. "Climatological Information for Penang, Malaysia". Hong Kong Observatory. अभिगमन तिथि 2010-10-30.
  31. http://books.google.co.id/books?id=PaUNAAAAQAAJ&pg=PA404&lpg=PA404&dq=penang+population+1829&source=bl&ots=2hTXU6Ycvk&sig=SwYWEdhH0ihbNsgzorU6Tfe5feU&hl=id&ei=F9OqTLiNHomsvgOVo8SIBw&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=9&ved=0CDsQ6AEwCA#v=onepage&q=penang%20population%201829&f=false
  32. http://www.eastwestcenter.org/fileadmin/stored/pdfs/IGSCwp027.pdf
  33. http://www.1911encyclopedia.org/Penang
  34. http://books.google.co.id/books?id=wXawDquOlowC&pg=PA895&lpg=PA895&dq=penang+population+1920&source=bl&ots=cSDWABoOW1&sig=brGaNllLCosj_o8D_3y-gBEGcro&hl=id&ei=UBKnTOyyMZOuvgPQst3BDA&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=2&ved=0CBYQ6AEwAQ#v=onepage&q=penang%20population%201920&f=false [57] ^ http://www.statoids.com/umy.html
  35. http://www.statoids.com/umy.html
  36. http://web.archive.org/web/20140810062218/http://penangstory.net.my/docs/Abs-PaulHKratoska.doc
  37. http://www.oecd.org/dataoecd/42/8/39700724.pdf
  38. "Penang Statistics (Quarter 1, 2008)" (PDF). Socio-Economic & Environmental Research Institute. 2008. अभिगमन तिथि 2008-07-19.
  39. पिनांग में चीनी बहुमत दौड़ से बाहर
  40. http://www.penangstory.net.my/mino-content-papermanecksha.html
  41. http://rihlah.nl.sg/Paper/Abdur-Razzaq% 20Lubis.pdf
  42. Nasution, Khoo Salma. मोर दैन मर्चेंट्स . मलेशिया: एरेका बुक्स, 2006. ISBN 978-983-42834-1-4
  43. http://www.penangstory.net.my/mino-content-paperhimanshu.html
  44. http://www.jewishtimesasia.org/community-spotlight-topmenu-43/malaysia/330-penang-communities/1497-one-familys-world-of-judaism-in-malaysia
  45. http://www.penangexpat.com/index.php?option=com_content&view=article&id=53&Itemid=30
  46. http://thestar.com.my/metro/story.asp?file=/2007/9/28/north/19015751&sec=north
  47. www.pinangperanakanmansion.com.my
  48. http://www.penang-vacations.com/pinang-peranakan-mansion.html
  49. http://www.hbp.usm.my/conservation/SeminarPaper/peranakan%20cina.html
  50. Cheah Hwei-Fe'n. Phoenix Rising: Narratives in Nonya Beadwork from the Straits Settlements: Malaysia, 2010. ISBN 978-9971-69-468-5
  51. "Penang: The Language". Introducing Penang. penangnet.com. 2007. अभिगमन तिथि 2008-07-18.
  52. http://thestar.com.my/metro/story.asp?file=/2009/7/30/north/4383309&sec=North
  53. "Penang Hokkien in peril". The Star. 2008-07-16. अभिगमन तिथि 2008-07-18.
  54. Raimy Ché-Ross (April 2002). "A Penang Kaddish: The Jewish Cemetery in Georgetown - A case study of the Jewish Diaspora in Penang (1830s-1970s)" (Word Document). The Penang Story – International Conference 2002. अभिगमन तिथि 2008-06-28.
  55. http://www.mysinchew.com/node/36823
  56. http://www.mppp.gov.my/latarbelakang
  57. http://thestar.com.my/election/results/results.html
  58. http://www.penangbar.org/history.php
  59. श्रम बल सर्वेक्षण, सांख्यिकी विभाग, मलेशिया (2009)
  60. http://penangonlinedirectory.com/Navigation_first6/penang_economy_news.htm
  61. http://www.fullcontact.nl/whymalaysia.php
  62. http://www.investpenang.gov.my/bs/mscpcc.php
  63. http://www.globalservicesmedia.com/Destinations/Asia/Outsourcing-to-Penang/25/22/8990/destinations-more200912017802
  64. http://www.econ.ucdavis.edu/faculty/woo/woo.us-china% 20statement.1feb04.pdf |चीन के प्रमुख व्यापारी राष्ट्र के रूप में उभरने के आर्थिक प्रभाव
  65. http://www.pdc.gov.my/index.php?option=com_content&view=article&id=49&catid=34
  66. http://www.investpenang.gov.my/portal/
  67. पिनांग कृषि विभाग, मलेशियाई पाम तेल Bhd, रबर उद्योग लघुधारक विकास प्राधिकरण (RISDA)
  68. Tengku Mohd Ariff Tengku Ahmad (2001-11-29). "The Agriculture Sector in Penang: Trends and Future Prospects" (PDF). मूल (PDF) से 2008-05-28 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-07-19.
  69. http://www.standardchartered.com.my/about-us/en/
  70. http://pessoc.com/
  71. http://www.woonviolincollections.com/pso.htm
  72. http://proart.com.my/pgco/en/aboutus.html
  73. http://www.theactorsstudio.com.my/past-venues/green-hall-penang-seating-and-pictures/
  74. http://www.angelfire.com/ga/Jannat/Bangsawan.html
  75. http://www.igeorgetownpenang.com/features/208-the-case-for-bangsawan-
  76. http://www.musicmall-asia.com/malaysia/folk/boria.html
  77. http://www.asiarooms.com/en/travel-guide/malaysia/penang/penang-parks-&-gardens/penang-museums/index.html
  78. http://www.penang.world-guides.com/penang_art_galleries.html
  79. http://www.penang-traveltips.com/penang-forestry-museum.htm
  80. http://www.virtualmalaysia.com/destination/fort%20cornwallis.html
  81. http://www.asiaexplorers.com/malaysia/fortcornwallis.htm
  82. http://cipa.icomos.org/text% 20files/antalya/25.pdf
  83. http://www.mesiniaga.com.my/mutiara_mesiniaga.html
  84. http://article.wn.com/view/2010/08/02/Candlelight_communion/
  85. http://article.wn.com/view/2010/08/02/Big_turnout_for_St_Annes/
  86. http://web.archive.org/web/20041117003151/http://www.time.com/time/asia/2004/boa/boa_body_food.html
  87. http://www.nytimes.com/1985/06/30/travel/correspondent-s-choice-on-penang-island-a-legend-lives.html
  88. http://mattviews.wordpress.com/2007/10/30/following-maughams-footsteps-malaysia/
  89. http://www.uplands.org/UPLANDS/History
  90. http://www.mysinchew.com/node/40002
  91. "Penang to restore and landscape sites in Batu Ferringhi". The Star. 2007-11-15. अभिगमन तिथि 2008-07-10.
  92. "Penang's polluted beaches keeping tourists away". The Star. 2007-11-14. अभिगमन तिथि 2008-07-10.
  93. http://www.emeraldinsight.com/journals.htm?articleid=870939&show=pdf
  94. http://www.penang-traveltips.com/penang-national-park.htm
  95. http://www.nationaalherbarium.nl/euphorbs/specA/Alchornea.htm
  96. http://www.archive.org/stream/floramalesiana104stee/floramalesiana104stee_djvu.txt
  97. http://www.nhm.ku.edu/rbrown/Rafes%% 20PDF 20publications/Matsui.et.al.2010.pdf
  98. http://www.butterfly-insect.com/whoweare.php
  99. http://www.penangbirdpark.com.my/
  100. पिनांग यात्रा युक्तियाँ: [1] (URL last accessed 11 जून 2010)
  101. http://www.usm.my/bi/main.asp?tag=sejarah
  102. http://penang.uitm.edu.my/
  103. http://www.wou.edu.my/about_overview.aspx
  104. http://www.penanglib.gov.my/
  105. http://www.penanglib.gov.my/index.php?option=com_content&view=category&layout=blog&id=48&Itemid=82
  106. http://www.penangmyhome.com/Page1.pdf
  107. http://www.airasia.com
  108. http://www.themalaysianinsider.com/malaysia/article/guan-eng-6-factors-causing-penangs-second-bridge-delay/
  109. http://porr.penang.gov.my/50reason_cat1.htm
  110. http://findarticles.com/p/news-articles/new-straits-times/mi_8016/is_20080630/consult-penang-govt-mega-projects/ai_n44406388/
  111. फ्रांसिस रिक और गैन्ली, कॉलिन: पिनांग ट्राम ट्रॉलीबस और रेलवे: नगर निगम का परिवहन इतिहास, 1880s-1963. एरेका बुक्स: पिनांग, 2006
  112. http://thestar.com.my/news/story.asp?file=/2006/3/29/penangbusservice/13736245&sec=penangbusservice
  113. http://www.themalaysianinsider.com/malaysia/article/penang-hill-train-service-to-resume-next-year/
  114. "Penang - The Pearl of the Orient". Equator Academy of Art. अभिगमन तिथि 2008-07-27.
  115. http://thestar.com.my/news/story.asp?file=/2006/3/30/penangbusservice/13798908&sec=penangbusservice
  116. http://thestar.com.my/news/story.asp?file=/2006/8/12/penangbusservice/15124759&sec=penangbusservice
  117. http://reference.findtarget.com/search/Rapid% 20Penang /
  118. http://www.unescap.org/ttdw/Publications/TPTS_pubs/TxBulletin_68/bulletin68_b.pdf
  119. https://archive.is/20120716124855/www.accessmylibrary.com/article-1G1-66837690/cap-dont-back-down.html
  120. http://www.penang-vacations.com/trishaw.html
  121. कराजान नेगेरी पुलाऊ पिनांग
  122. http://www.visitpenang.gov.my/portal3/penang-tourism-news/144-penang-may-consider-taking-porr-and-monorail-projects-private.html
  123. http://www.wdm.org.uk/campaigns/aid/casestudies/malaysia.htm
  124. http://thestar.com.my/news/story.asp?file=/2008/11/23/nation/2625368&sec=nation
  125. http://cat.inist.fr/?aModele=afficheN&cpsidt=2709523%7C मलेशिया, पिनांग के जॉर्ज टाउन से सीवेज निर्वहन का तटीय जल की गुणवत्ता पर प्रभाव का नमूना
  126. http://www.airforce.gov.au/bases/butterworth.aspx
  127. http://www.airforce.gov.au/units/324css.aspx
  128. Bhatt, Himanshu (2008-01-28). "Race of the Ancients; Penang Dragons". Penang Forward Sports Club. अभिगमन तिथि 2008-07-19.
  129. http://www.penang.gov.my/index.php?ch=16&pg=99&ac=2&lang=eng&format
  130. "St Xavier's marks a new chapter after 156 years". The Star (Malaysia).
  131. http://thestar.com.my/news/story.asp?file=/2006/5/30/north/14387263&sec
  132. s:Phantom Ship/Chapter XXXIX
  133. s:Two Years Before the Mast/Twenty Four Years Later: Part III
  134. s:A Retrospect
  135. s:An Outcast of the Islands/Part III/Chapter II
  136. s:The Hound of the Baskervilles/Chapter I
  137. s:Around the World in Seventy-Two Days/Chapter X
  138. s:The Man Who Could Work Miracles

स्रोत[संपादित करें]

  • खू सलमा Nasution: मोर दैन मर्चेंट्स: ए हिस्टरी ऑफ़ द जर्मन-स्पीकिंग कम्युनिटी इन पिनांग 1800-1940 एरेका बुक्स 2006
  • Www.penang-artists.com/Yong 20Mun% 20Sen.htm

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]