चीता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
चीता[1]
जीवाश्म काल: देर प्लायोसीन से वर्तमान
TheCheethcat.jpg
संरक्षण स्थिति
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
संघ: कशेरुकी
वर्ग: स्तनपायी
गण: मांसाहारी
कुल: फॅ़लिडी
उपकुल: फ़ॅलिनी
प्रजाति: ऍसिनॉनिक्स
जाति: ए. जुबैटस
द्विपद नाम
ऍसिनॉनिक्स जुबैटस
(श्रॅबर, १७७५)
प्रजाति प्रकार
Acinonyx venator
ब्रुक्स, १८२८ (= Felis jubata, श्रॅबर, १७७५) by monotypy
चीते का वास क्षेत्र
चीते का वास क्षेत्र
Subspecies

See text.

बिल्ली के कुल (विडाल) में आने वाला चीता (एसीनोनिक्स जुबेटस ) अपनी अदभुत फूर्ती और रफ्तार के लिए पहचाना जाता है। यह एसीनोनिक्स प्रजाति के अंतर्गत रहने वाला एकमात्र जीवित सदस्य है, जो कि अपने पंजों की बनावट के रूपांतरण के कारण पहचाने जाते हैं। इसी कारण, यह इकलौता विडाल वंशी है जिसके पंजे बंद नहीं होते हैं और जिसकी वजह से इसकी पकड़ कमज़ोर रहती है (अतः वृक्षों में नहीं चढ़ सकता है हालांकि अपनी फुर्ती के कारण नीची टहनियों में चला जाता है)। ज़मीन पर रहने वाला ये सबसे तेज़ जानवर है जो एक छोटी सी छलांग में १२० कि.मी. प्रति घंटे[3][4] तक की गति प्राप्त कर लेता है और ४६० मी. तक की दूरी तय कर सकता है, और मात्र तीन सेकेंड के अंदर ये अपनी रफ्तार में १०३ कि.मी. प्रति घंटे का इज़ाफ़ा कर लेता है, जो अधिकांश सुपरकार की रफ्तार से भी तेज़ है.[5] हालिया अध्ययन से ये साबित हो चुका है कि धरती पर रहने वाला चीता सबसे तेज़ जानवर है.[6]

चीता शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द चित्रकायः से हुई है जो हिंदी चीता के माध्यम से आई है और जिसका अर्थ होता है बहुरंगी शरीर वाला.[7]

आनुवांशिकी और वर्गीकरण[संपादित करें]

चीते की प्रजातियों को ग्रीक शब्द में एसीनोनिक्स कहते हैं, जिसका अर्थ होता है न घूमने वाला पंजा, वहीं लातिन में इसकी जाति को जुबेटस कहते हैं , जिसका मतलब होता है अयाल, जो शायद शावकों की गर्दन में पाये जाने वाले बालों की वजह से पड़ा हो।

शावक के साथ माँ

चीता में असामान्य रूप से आनुवांशिक विभिन्नता कम होती है जिसके कारण वीर्य में बहुत कम शुक्राणु पाये जाते हैं जो कम गतिशील होते हैं क्योंकि आनुवांशिक कमज़ोरी के कारण वह विकृत कशाभिका (पूँछ) से ग्रस्त होते हैं.[8] इस तथ्य को इस तरह समझा जा सकता है कि जब दो असंबद्ध चीतों के बीच त्वचा प्रतिरोपण किया जाता है तो आदाता को प्रदाता की त्वचा की कोई अस्वीकृति नहीं होती है। यह सोचा जाता है कि इसका कारण यह है कि पिछले हिम युग के दौरान आनुवांशिक मार्गावरोध के कारण आंतरिक प्रजनन लंबी अवधि तक चलता रहा। चीता शायद एशिया प्रवास से पहले अफ़्रीका में मायोसीन (२.६ करोड़-७५ लाख वर्ष पहले) काल में विकसित हुआ है। हाल ही में वॉरेन जॉनसन और स्टीफन औब्रेन की अगुवाई में एक दल ने जीनोमिक डाइवरसिटी की प्रयोगशाला (फ्रेडरिक, मेरीलैंड, संयुक्त राज्य) के नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट में एक नया अनुसंधान किया है और एशिया में रहने वाले 1.1 करोड़ वर्ष के रूप में सभी मौजूदा प्रजातियों के पिछले आम पूर्वजों को रखा है जो संशोधन और चीता विकास के बारे में मौजूदा विचारों के शोधन के लिए नेतृत्व कर सकते हैं. लुप्त प्रजातियों में अब शामिल हैं: एसिनोनिक्स परडिनेनसिस (प्लियोसिन) काल जो आधुनिक चीता से भी काफी बड़ा होता है और यूरोप, भारत और चीन में पाया जाता है; एसिनोनिक्स इंटरमिडियस , (प्लिस्टोसेन अवधि के मध्य), में एक ही दूरी पर मिला था. विलुप्त जीनस मिरासिनोनिक्स बिलकुल चीता जैसा ही दिखने वाला प्राणी था, लेकिन हाल ही में DNA विश्लेषण ने प्रमाणित किया है कि मिरासिनोनिक्स इनेक्सपेकटेटस , मिरासिनोनिक्स स्टुडेरी और मिरासिनोनिक्स ट्रुमनी , (प्लिस्टोसेन काल के अंत के प्रारंभ) उत्तर अमेरिका में पाए गए थे और जिसे "उत्तर अमेरिकी चीता" कहा जाता था लेकिन वे वास्तविक चीता नहीं थे, बल्कि वे कौगर के निकट जाती के थे.

प्रजातियां[संपादित करें]

हालांकि कई स्रोतों ने चीता के छह या उससे अधिक प्रजातियों को सूचीबद्ध किया है, लेकिन अधिकांश प्रजातियों के वर्गीकरण की स्थिति अनसुलझे हैं. एसिनोनिक्स रेक्स -किंग चीता (नीचे देखें)- से अलग की खोज के बाद इसे परित्यक्त कर दिया गया था क्योंकि यह केवल अप्रभावी जीन था. अप्रभावी जीन के कारण एसिनोनिक्स जुबेटस गुटाटुस प्रजाति के ऊनी चीता का भी शायद बदलाव होता रहा है. सबसे अधिक मान्यता प्राप्त कुछ प्रजातियों में शामिल हैं:[9]

विवरण[संपादित करें]

चीता का वक्षस्थल सुदृढ़ और उसकी कमर पतली होती है. चीता की लघु चर्म पर काले रंग के मोटे-मोटे गोल धब्बे होते हैं जिसका आकार 2.79 के उसके पूरे शरीर पर होते हैं और शिकार करते समय वह इससे आसानी से छलावरण करता है. इसके सफेद तल पर कोई दाग नहीं होते, लेकिन पूंछ में धब्बे होते हैं और पूंछ के अंत में चार से छः काले गोले होते हैं. आम तौर पर इसका पूंछ एक घना सफेद गुच्छा के साथ समाप्त होता है. बड़ी-बड़ी आंखो के साथ चीता का एक छोटा सा सिर होता है. इसके काले रंग के "आँसू चिह्न" इसके आंख के कोने वाले भाग से नाक के नीचे उसके मुंह तक होती है जिससे वह अपने आंख से सूर्य की रौशनी को दूर रखता है और शिकार करने में इससे उसे काफी सहायता मिलती है और साथ ही इसके कारण वह काफी दूर तक देख सकता है. हालांकि यह काफी तेज गति से दौड़ सकता है लेकिन इसका शरीर लंबी दूरी की दौड़ को बर्दाश्त नहीं कर सकता. अर्थात यह एक तेज धावक है.

एक वयस्क चीता का नाप 36 से होता है. इसके पूरे शरीर की लंबाई 115 से होता है जबकि पूंछ की लंबाई 84 cm (33 इंच) से माप सकते हैं. चीता की कंधे तक की ऊंचाई 67 होती है. नर चीते मादा चीते से आकार में थोड़े बड़े होते हैं और इनका सिर भी थोड़ा सा बड़ा होता है, लेकिन चीता के आकार में कुछ ज्यादा अंतर नहीं होता और यदि उन्हें अलग-अलग देखा जाए तो दोनों में अंतर करना मुश्किल होगा. समान आकार के तेन्दुएं की तुलना में आम तौर पर चीता का शरीर छोटा होता है लेकिन इसकी पूंछ लम्बी होती है और चीता उनसे ऊंचाई में भी ज्यादा होता है (औसतन 90 cm (35 इंच) लंबाई होती है) और इसलिए यह अधिक सुव्यवस्थित लगता है.

कुछ चीतों में दुर्लभ चर्म पैटर्न परिवर्तन होते हैं: बड़े, धब्बेदार, मिले हुए दाग वाले चीतों को "किंग चीता" के रूप में जाना जाता है. एक बार के लिए तो इसे एक अलग प्रजाति ही मान लिया गया था, लेकिन यह महज अफ्रीकी चीता का एक परिवर्तन है. "किंग चीता" को केवल कुछ ही समय के लिए जंगल में देखा जाता है, लेकिन इसका पालन-पोषण कैद में किया जाता है.

एक चीता.

चीता के पंजे में अर्ध सिकुड़न योग्य नाखुन होते हैं [8], (यह प्रवृति केवल तीन अन्य बिल्ली प्रजातियों में ही पाया जाता है: मत्स्य ग्रहण बिल्ली, चिपटे-सिर वाली बिल्ली और इरियोमोट बिल्ली) जिससे उसे उच्च गति में अतिरिक्त पकड़ मिलती है. चीता के पंजे का अस्थिबंध संरचना अन्य बिल्लियों के ही समान होते हैं, और केवल त्वचा के आवरण का अभाव होता है और अन्य किस्मों में चर्म रहते हैं और इसलिए डिवक्लॉ के अपवाद के साथ पंजे हमेशा दिखाई देते हैं. डिवक्लॉ बहुत छोटे होते हैं और अन्य बिल्लियों की तुलना में सीधे होते हैं.

चीता की रचना कुछ इस प्रकार से हुई है कि यह काफी तेज दौड़ने में सक्षम होता है, इसके तेज दौड़ने के कारणों में इसका वृहद नासाद्वार है जो ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन लेने की अनुमति प्रदान करती है और इसमें एक विस्तृत दिल और फेफड़े होते हैं जो ऑक्सीजन को कुशलतापूर्वक परिचालित करने के लिए एक साथ कार्य करते हैं. जब यह शिकार का तेजी के साथ पीछा करता है तो इसका श्वास दर प्रति मिनट 60 से बढ़ कर 150 हो जाता है.[8] अर्द्ध सिकुड़न योग्य नाखुन होने के कारण ज़मीन पर पकड़ के साथ यह दौड़ सकता है, चीता अपनी पूंछ का उपयोग एक दिशा नियंत्रक के रूप में करता है, अर्थात स्टीयरिंग[कृपया उद्धरण जोड़ें] के अर्थ में करता है जो इसे तेजी से मुड़ने की अनुमति देता है, और यह शिकार पर पीछे से हमला करने के लिए आवश्यक होता है क्योंकि शिकार अक्सर बचने के लिए वैसे घुमाव का प्रयोग करते हैं.

बड़ी बिल्ली के विपरीत चीता घुरघुराहट के रूप में सांस लेते हैं, पर गर्जन नहीं कर सकते हैं. इसके विपरीत, केवल सांस लेने के समय के अलावा बड़ी बिल्लियां गर्जन कर सकती हैं लेकिन घुरघुराहट नहीं कर सकती. हालांकि, अभी भी कुछ लोगों द्वारा चीता को बड़ी बिल्लियों की सबसे छोटी प्रजाति के रूप में माना जाता है. और अक्सर गलती से चीता को तेंदुआ मान लिया जाता है जबकि चीता की विशेषताएं उससे भिन्न है, उदाहरण स्वरूप चीता में लम्बी आंसू-चिह्न रेखा होती है जो उसके आंख के कोने वाले हिस्से से उसके मुंह तक लम्बी होती है. चीता का शारीरिक ढांचा भी तेंदुआ से काफी अलग होता है, खासकर इसकी पतली और लंबी पूंछ और तेंदुए के विपरीत इसके धब्बे गुलाब फूल की नक्काशी की तरह व्यवस्थित नहीं होते.

चीता एक संवेदनशील प्रजाति है. सभी बड़ी बिल्ली प्रजातियों में यह एक ऐसी प्रजाति है जो नए वातावरण को जल्दी से स्वीकार नहीं करती है. इसने हमेशा ही साबित किया है कि इसे कैद में रखना मुश्किल है, हालांकि हाल ही में कुछ चिड़ियाघर इसके पालन-पोषण में सफल हुए हैं . इसके खाल के लिए व्यापक रूप से इसका शिकार करने के कारण चीता अब प्राकृतिक वास और शिकार करने दोनों में असक्षम होते जा रहे हैं.

पूर्व में बिल्लियों के बीच चीता को विशेष रूप से आदिम माना जाता था और लगभग 18 मिलियन वर्ष पहले ये प्रकट हुए थे. हालांकि नए अनुसंधान से यह पता चलता है कि मौजूदा बिल्ली की 40 प्रजातियों का उदय इतना पुराना नहीं है-लगभग 11 मिलियन साल पहले ये प्रकट हुए थे. वही अनुसंधान इंगित करता है कि आकृति विज्ञान के आधार पर चीता व्युत्पन्न है, जो पांच करोड़ साल पहले के आसपास विशेष रूप से प्राचीन वंश के रहने वाले चीता अपने करीबी रिश्तेदारों से अलग होते हैं (पुमा कोनकोलोर , कौगर, और पुमा यागुआरोंडी , जेगुएरुंडी [10][11] पुराकालीन दस्तावेजों में जब से ये दिखाई देती हैं तब से काफी मात्रा में इन प्रजातियों में परिवर्तन नहीं हुआ है.

आकार और भिन्नरूप[संपादित करें]

किंग चीता[संपादित करें]

अपनी अनूठी कोट पैटर्न दिखाते हुए एक किंग चीता.

एक विशिष्ट खाल पद्धति विशेषता के चलते किंग चीता दूसरों चीतों से बिलकुल अलग और दुर्लभ होते हैं. पहली बार 1926 में जिम्बाब्वे में इसकी खोज की गई थी. 1927 में प्रकृतिवादी रेजिनाल्ड इन्नेस पॉकॉक ने इसके एक अलग प्रजाति होने की घोषणा की थी, लेकिन सबूत की कमी के कारण 1939 में इस फैसले को खण्डित कर दिया गया था, लेकिन 1928 में, एक वाल्टर रोथ्सचिल्ड द्वारा खरीदी त्वचा में उन्होंने किंग चीता और धब्बेदार चीता में अंतर पाया और अबेल चैपमैन ने धब्बेदार चीता के रंग रूप पर विचार किया. 1926 और 1974 के बीच ऐसे ही करीब बाईस खाल पाए गए. 1927 के बाद से जंगल में पांच गुना अधिक किंग चीता के होने को सूचित किया गया था. हालांकि अफ्रीका से अजीब चिह्नित खाल बरामद हुए थे, हालांकि 1974 तक दक्षिण अफ्रीका के क्रूगर नेशनल पार्क में जिंदा किंग चीता दिखाई नहीं दिए थे. प्रच्छन्न प्राणीविज्ञानी पौल और लेना बोटरिएल ने 1975 में एक अभियान के दौरान एक फोटो लिया था. साथ ही वे कुछ और नमूने प्राप्त करने में भी सफल रहे थे. यह एक धब्बेदार चीता से काफी बड़ा लग रहा था और उसके खाल की बनावट बिलकुल अलग थी. सात वर्षों में पहली बार 1986 में एक और जंगल निरीक्षण किया गया था. 1987 तक अड़तीस नमूने दर्ज किए गए थे जिसमें से कई खाल नमूने थे.

ठोस रूप से इस प्रजाति के होने की स्थिति का पता 1981 में चला जब दक्षिण अफ्रीका के डी विल्ड्ट चीता एण्ड वाइल्ड लाइफ सेंटर में किंग चीता का जन्म हुआ था. मई 1981 में दो धब्बेदार मादा चीतों ने वहां चीते को जन्म दिया है और जिसमें एक किंग चीता था. दोनों मादा चीता को नर चीतों के साथ ट्रांसवाल क्षेत्र के जंगल से पकड़ा गया था (जहां किंग चीतों के होने की संभावना जताई गई थी). इसके अलावा उसके बाद भी सेंटर पर किंग चीतों का जन्म हुआ था. जिम्बाब्वे, बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका के ट्रांसवाल प्रांत के उत्तरी भाग में उनके मौजूद होने का ज्ञात किया गया. एक प्रतिसारी जीन का वंशागत जरूर इस पद्धति से दोनों माता-पिता से हुआ होगा जो उनके दुर्लभ होने का एक कारण है.

अन्य भिन्न रंग[संपादित करें]

अन्य दुर्लभ रंग के प्रजातियों में चित्ती आकार, मेलेनिनता अवर्णता और ग्रे रंगाई के चीते शामिल हैं. ज्यादातर भारतीय चीतों में इसे सूचित किया गया है, विशेष रूप से बंदी बने चीते में यह पाया जाता है जिसे शिकार के लिए रखा जाता है.

1608 में भारत के मुगल सम्राट जहांगीर के पास सफेद चीता होने का प्रमाण दर्ज किया गया है. तुज़्के-ए-जहांगीर के वृतांत में, सम्राट का कहना है कि उनके राज्य के तीसरे वर्ष में: राजा बीर सिंह देव एक सफेद चीता मुझे दिखाने के लिए लाए थे.हालांकि प्राणियों के अन्य प्रकारों में पक्षियों और दूसरे जानवरों के सफेद किस्मों के थे.... लेकिन मैंने सफेद चीता कभी नहीं देखा था. इसके धब्बे, जो (आमतौर पर) काले होते हैं, नीले रंग के थे, और उसके शरीर के सफेदी रंग पर नीले रंग का छाया था. यह संकेत देता है कि चिनचिला उत्परिवर्तन जो बाल शाफ्ट पर रंजक की मात्रा को सीमित करता है. हालांकि धब्बे काले रंग के हो जाते है और कम घने रंजकता एक धुंधले, और भूरा प्रभाव देता था. साथ ही आगरा पर जहांगीर के सफेद चीता, गुग्गिसबर्ग के अनुसार प्रारंभिक अवर्णता की रिपोर्ट बिउफोर्ट पश्चिम से आया था.

1925 में एच एफ स्टोनहेम ने "नेचर इन इस्ट अफ्रीका" को एक पत्र में केनिया के ट्रांस-ज़ोइया जिले में मेलेनिनता चीता (भूत चिह्नों के साथ काले रंग की) के होने की बात बताई. वेसे फिजराल्ड़ ने जाम्बिया में धब्बेदार चीतों की कम्पनी में एक मेलेनिनता चीते को देखा गया था. लाल (एरीथ्रिस्टिक) चीतों में सुनहरे पृष्ठभूमि पर गहरे पीले रंग के धब्बे होते हैं. क्रीम (इसाबेल्लीन) चीतों में पीली पृष्ठभूमि पर लाल पीले धब्बे होते है. कुछ रेगिस्तान क्षेत्र के चीते असामान्य रूप से पीले होते हैं; संभवतः वे आसानी से छूप जाते हैं और इसलिए वे एक बेहतर शिकारी होते हैं और उनमें अधिक नस्ल की संभावना होती है और वे अपने इस पीले रंग को बरकरार रखते हैं. नीले (माल्टीज़ या भूरे) चीतों को विभिन्न सफेद-भूरे-नीले (चिनचिला) धब्बे के साथ सफेद रंग या गहरे भूरे धब्बे के साथ पीले भूरे चीतों (माल्टीज़ उत्परिवर्तन) के रूप में वर्णित किया गया है. 1921 में तंजानिया में (पॉकॉक) में बिलकुल कम धब्बों के साथ एक चीता को पाया गया था, इसके गर्दन और पृष्ठभूमि के कुछ स्थानों में बहुत कम धब्बे थे और ये धब्बे काफी छोटे थे.

क्रम विस्तार एवं प्राकृतिक वास[संपादित करें]

सेरेनगेटी नेशनल पार्क, तंजानिया में एक चीता.

भौगोलिक द्रष्टि से अफ्रीका और दक्षिण पश्चिम एशिया में चीतों की ऐसी आबादी मौजूद है जो अलग-थलग रहती है। इनकी एक छोटी आबादी (लगभग पचास के आसपास) ईरान के खुरासान प्रदेश में भी रहती है, चीतों के संरक्षण का कार्यभार देख रहा समूह इन्हे बचाने के प्रयास में पूरी तत्परता से जुटा हुआ है.[12] सम्भव है कि इनकी कुछ संख्या भारत में भी मौजूद हो, लेकिन इस बारे में विश्वास के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता. अपुष्ट रिपोर्टों के अनुसार पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान राज्य में भी कुछ एशियाई मूल के चीते मौजूद हैं, हाल ही में इस क्षेत्र से एक मृत चीता पाया गया था.[13]

चीतो की नस्ल उन क्षेत्रों में अधिक पनपती है जहां मैदानी इलाक़ा काफी बड़ा होता है, और इसमें शिकार की संख्या भी अधिक होती है. चीता खुले मैदानों और अर्धमरूभूमि, घास का बड़ा मैदान और मोटी झाड़ियों के बीच में रहना ज्यादा पसंद करता है, हालांकि अलग-अलग क्षेत्रों में इनके रहने का स्थान अलग-अलग होता है. मिसाल के तौर पर नामीबिया में ये घासभूमि, सवाना के जंगलों, घास के बड़े मैदानों और पहाड़ी भूभाग में रहते हैं.

जिस तरह आज छोटे जानवरों के शिकार में शिकारी कुत्तों का उपयोग किया जाता है, उसी तरह अभिजात वर्ग के उस समय हिरण या चिकारा के शिकार में चीते का उपयोग किया करते थे.

प्रजनन एवं व्यवहार[संपादित करें]

चीता शावक.

मादा चीता बीस से चौबीस महीने के अंदर व्यस्क हो जाती है जबकि नर चीते में एक वर्ष की आयु में ही परिपक्वता आ जाती हैं (हालांकि नर चीता तीन वर्ष की आयु से पहले संभोग नहीं करता) और संभोग पूरा साल भर होता है. सेरेनगटी में पाए जाने वाले चीतों पर तैयार रिपोर्ट से पता चलता है कि मादा चीता स्वच्छंद प्रवृत्ति की होती हैं, यही वजह है कि उसके बच्चों के बाप भी अलग-अलग होते हैं.[14]

मादा चीता गर्भ धारण करने के बाद एक से लेकर नौ बच्चों को जन्म दे सकती है लेकिन औसतन ये तीन से पांच बच्चों को जन्म देती है. मादा चीता का गर्भकाल 150.3 दिनों का होता है बिल्ली परिवारों के दूसरे जानवरों के विपरीत चीता जन्म से ही अपने शरीर पर विशिष्ट लक्षण लेकर पैदा होता है। पैदाईश के समय से ही चीते की गर्दन पर रोएंदार और मुलायम बाल होते हैं, पीठ के बीच तक फैले इस मुलायम रोएं को मेंटल भी कहते हैं। ये मुलायम और रोएंदार बाल इसे अयाल होने का आभास देते हैं, जैसे-जैसे चीते की उम्र बढ़ती है, इसके बाल झड़ने लगते हैं. ऐसा अनुमान किया जाता है कि अयाल (रेटल) के कारण चीते के बच्चे हनी बेजर के सम्भावित आक्रमणकारी के भय से मुक्त हो जाते हैं.[15] चीते का बच्चा अपने जन्म के तेरहवें से लेकर बीसवें महीने के अंदर अपनी मां का साथ छोड़ देता है. एक आज़ाद चीते की आयु बारह जबकि पिंजड़े में कैद चीते की अधिकतम उम्र बीस वर्ष तक हो सकती है.

नर चीते की तुलना में मादा चीते अकेले रहती हैं औऱ प्राय एक दूसरे से कतराती हैं, हांलाकि मां और पुत्री के कुछ जोड़े थोड़े समय के लिए एक साथ ज़रुर रहते हैं. चीतों का सामाजिक ढ़ांचा अदभुत और अनोखा होता है. बच्चों की परवरिश करते समय को छोड़ दिया जाए तो मादा चीते अकेले रहती है. चीते के बच्चे के शुरुआती अट्ठारह महीने काफी महत्वपूर्ण होते हैं, इस दौरान बच्चे अपनी मां से जीने का हुनर सीखते हैं, मां उन्हें शिकार करने से लेकर दुश्मनों से बचने का गुर सिखाती है. जन्म के डेढ़ साल बाद मां अपने बच्चों का साथ छोड़ देती है, उसके बाद ये बच्चे अपन भाइयों का अलग समूह बनाते हैं, ये समूह अगले छह महीनों तक साथ रहता है. दो वर्षों के बाद मादा चीता इस समूह से अलग हो जाती है जबकि नर चीते हमेशा साथ रहते हैं.

क्षेत्र[संपादित करें]

नर[संपादित करें]

चीतों में सामुदायिक एवं पारिवारिक भाव प्रचूर मात्रा में होता है, नर चीते आमतौर पर अपने पारिवारिक सदस्यों के साथ रहते हैं, अगर परिवार में एक ही नर चीता है तो वो दूसरे परिवार के नर चीतों के साथ मिलकर एक समूह बना लेते है, या फिर वो दूसरे समूहों में शामिल हो जाता है. इन समूहों को संगठन भी कह सकते हैं. कैरो एवं कोलिंस द्वारा तंज़ानिया के मैदानी इलाकों में पाए जाने वाले चीतों पर किये गए अध्ययन के अनुसार 41 प्रतिशत चीते अकेले रहते हैं, जबकि 40 प्रतिशत जोड़ों और 19 प्रतिशत तिकड़ी के रुप में रहते हैं.[16]

संगठित रुप से रहने वाले चीते अपने क्षेत्र को अधिक समय तक अपने नियंत्रण में रखते हैं, दूसरी तरफ़ अकेले रहने वाला चीता अपने क्षेत्रों को परस्पर बदलता रहता है, हांलाकि अध्यन से पता चलता है कि संगठित रुप से रहने वाले और अकेले रहने वाले दोनों अपने अधिकार क्षेत्रों पर समान समय तक नियंत्रण रखते हैं, नियंत्रण की ये अवधि चार से लेकर साढ़े चार साल तक के बीच की होती है।

नर चीते एक निश्चिति परीधि में रहना पसन्द करते हैं. जिन स्थानों पर मादा चीते रहते हैं, उनका क्षेत्रफल बड़ा हो सकता है, ये इसी के आसापास अपना क्षेत्र बनाते हैं, लेकिन बड़े क्षेत्रफल सुरक्षा की द्रष्टि से खतरनाक सिद्ध हो सकते हैं. इसलिए नर चीते मादा चीतों के कुछ होम रेंजेस का चयन करते हैं, इन स्थानों की सुरक्षा करना आसान होता है, इसकी वजह से प्रजनन की प्रक्रिया भी चरम पर होती है, यानी इन्हे संतान उत्पत्ति के अधिक अवसर मिलते हैं. समूह का ये प्रयास होता है कि क्षेत्र में नर और मादा चीते आसानी से मिल सके. इन इलाकों का क्षेत्रफल कितना बड़ा हो इसका दारोमदार अफ्रीका के हिस्सों में मौजूद मूलभूत सुविधाओं पर निर्धारित करता है.37.

नर चीते अपने इलाके को चिह्नित और उसकी सीमा निश्चित करने के लिए किसी विशेष वस्तु पर अपना मुत्र विसर्जित करते हैं, ये पेड़ , लकड़ी का लट्ठा या फिर मिट्टी की कोई मुंडेर हो सकती है. इस प्रक्रिया में पूरा समूह सहयोग करता है. अपनी सीमा में प्रवेश करने वाले किसी भी बाहरी जानवरों को चीता सहन नहीं करता, किसी अजनबी के प्रवेश की सूरत में चीता उसकी जान तक ले सकता है।

मादा[संपादित करें]

गोरंगगोरो संरक्षण क्षेत्र में मादा चीता और शावक.

बिल्ली से दिखने वाले दूसरे जानवरों और नर चीते की तुलना में मादा चीता अपने रहने के लिए कोई क्षेत्र निर्धारित नही करती. मादा चीता उन स्थानों पर रहने को प्राथमिकता देती हैं, जहां घर जैसा एहसास होता है, इसे होम रेंज कह सकते हैं. इन स्थानों पर परिवार के दूसरे मादा सदस्यों जैसे उसकी मां, बहनें और पुत्री साथ साथ रहते हैं. मादा चीते हमेशा अकेले शिकार करना पसंद करते हैं, लेकिन शिकार के दौरान वो अपने बच्चों को साथ रखती है, ताकि वो शिकार करने का तरीक़ा सीख सकें, जन्म के लगभग डेढ़ महीने बाद ही मादा चीता अपने बच्चों को शिकार पर ले जना शुरु कर देती है.

होम रेंज की सीमा पूर्ण रुप से शिकार करने की उपलब्धता पर निर्भर करता है. दक्षिणी अफ्रीकी वुडलैंड में चीते की सीमा कम से कम 34 कि.मी. (13 वर्ग मील) जबकि नामीबिया के कुछ भागों में 1,500 कि.मी. (580 वर्ग मील) तक पहुंच सकते हैं.

स्वरोच्चारण[संपादित करें]

चीता शेर की तरह दहाड़ नहीं सकता, लेकिन इसकी गुर्राहट किसी भी तरह शेर से कम भयावह नहीं होती, चीते की आवाज़ को हम निम्न स्वरों से पहचान सकते हैं:

  • - चिर्पिंग - चीता अपने साथियों और मादा चीता अपने बच्चों की तलाश के दौरान जोर-जोर से आवाज़ लगाती है जिसे चिर्पिंग कहते हैं. चीते का बच्चा जब आवाज़ निकालता है तो ये चिड़ियों की चहचहाट जैसा स्वर पैदा करता है, यही कारण है इसे चिर्पिंग कहते हैं।
  • चरिंग या स्टटरिंग - यह वोकलिज़ेशन सामाजिक बैठकों के दौरान चीता द्वारा उत्सर्जित होता है.

नर और मादा चीते जब मिलते हैं तो उनके स्वर में हकलाहट आ जाती है, ये भाव एक दूसरे के प्रति दिलचस्पी, पसंद और अनिश्चितता का सूचक होते हैं (हालांकि प्रत्येक लिंग विभिन्न कारणों के लिए चर्रस करते हैं).

  • गुर्राहट - चीता जब नाराज़ होता है तो ये गुर्राने और फुफकारने लगता है, इसके नथुनों से थूक भी निकलने लगता है, ऐसे स्वर चीते की झल्लाहट को दर्शाते हैं, चीता जब खतरे में होता है तब भी इसी तरह के स्वर निकालता है.
  • आर्तनाद - खतरे में घिरे चीते को जब बचकर निकलने की सूरत नज़र नहीं आती तो उसकी फुफकार चिल्लाहट में बदल जाती है.
  • घुरघुराहट - मादा चीता जब अपने बच्चों के साथ होती है, बिल्ली जैसी आवाज़ निकालती है (ज्यादातर बच्चे और उनकी माताओं के बीच). घुरघुराहट जैसी ये आवाज़ आक्रामकता और शिथिलता दोनों का आभास कराती है. चीता की घुरघुराहट रॉबर्ट एक्लुंड के इंग्रेसिव स्पीच वेबसाइट [1] या रॉबर्ट एक्लुंड वाइल्डलाइफ पेज [2] पर सुना जा सकता.

आहार और शिकार[संपादित करें]

इम्पाला मार के साथ एक चीता.

मूलरुप से चीता मांसाहारी होता है, ये अधिकतक स्तनपायी के अन्तर्गत 40 कि॰ग्रा॰ (88 पौंड) जानवरों का शिकार करता है, जो अपने बच्चों को दूध पिलाते हैं, इसमें थॉमसन चिकारे, ग्रांट चिकारे, एक प्रकार का हरिण और इम्पला शामिल हैं. बड़े स्तनधारियों के युवा रूपों जैसे अफ्रीकी हिरण और ज़ेबरा और वयस्को का भी शिकार कर लेता जब चीते अपने समूह में होते हैं. चीता खरगोश और एक प्रकार की अफ्रीकी चिड़िया गुनियाफॉल का भी शिकार करता है. आमतौर पर बिल्ली का प्रजातियों वाले जानवर रात को शिकार करते हैं, लेकिन चीता दिन का शिकारी है. चीता या तो सवेरे के समय शिकार करता है, या फिर देर शाम को, ये ऐसा समय होता है जबकि न तो ज्यादा गर्मी होती है, और न ही अधिक अंधेरा होता है.

चीता अपने शिकार को उसकी गंध से नहीं बल्कि उसकी छाया से शिकार करता है. चीता पहले अपने शिकार के पीछे चुपके चुपके चलता है 10. फिर अचानक उसका पीछा करना शुरु कर देता है, ये सारी प्रक्रिया मिनटों के अंदर होती है, अगर चीता अपने शिकार को पहले हमले में नहीं पकड़ पाता तो फिर वो उसे छोड़ देता है. यही कारण है कि चीता के शिकार करने की औसतन सफलता दर लगभग 50% है.[8]

उसके 112 के रफ्तार से दौड़ने के कारण चीता के शरीर पर ज्यादा दबाव पड़ता है. जब ये अपनी पूरी रफ्तार से दौड़ता है तो इसके शरीर का तापमान इतना अधिक होता है कि ये उसके लिए घातक भी साबित हो सकता है। यही कारण है कि शिकार के बाद चीता काफ़ी देर तक आराम करता है। कभी-कभी तो आराम की अविधि आधे घंटे या उससे भी अधिक हो सकती है. चीता अपने शिकार को पीछा करते समय मारता है, फिर उसके बाद शिकार के गले पर प्रहार करता है, ताकि उसका दम घुट जाए, चीता के लिए चार पैरों वाले जानवरों का गला घोंटना आसान नहीं होता. इस दुविधा से पार करने के लिए ही वो इनके गले के श्वासनली में पंजो और दांतो से हमला करता है. जिसके चलते शिकार कमज़ोर पड़ता जाता है, इसके बाद चीता परभक्षी द्वारा उसके शिकार को ले जाने से पहले ही जितना जल्दी संभव हो अपने शिकार को निगलने में देर नहीं करता .

चीता का भोजन उसके परिवेश पर आधारित होता है. मिसाल के तौर पर पूर्वी अफ्रीका के मैदानी ईलाकों में ये हिरण या चिंकारा का शिकार करना पसंद करता है ये चीता की तुलना में छोटा होता है (लगभग 53 उंचा और 70 लम्बाई) इसके अलावा इसकी रफ्तार भी चीते से कम होती है (सिर्फ 80 km/h (50 mph) तक) यही वजह है कि चीता इसे आसानी से शिकार कर लेता है, चीता अपने शिकार के लिए उन जानवरों को चुनता है जो आमतौर पर अपने झुंड से अलग चलते हैं. ये ज़रुरी नहीं है कि चीता अपने शिकार के लिए कमज़ोर और वृद्ध जानवरों को ही निशाना बनाये, आम तौर पर चीता अपने शिकार के लिए उन जानवरों का चुनता है जो अपने झुंड से अलग चलते हैं.

थॉमसन के चिंकारे की खोज करता एक चीता. गोरंगोरो ज्वालामुखी, तंजानिया.

अंतर्विशिष्ट हिंसक सम्बन्ध[संपादित करें]

अपनी गति और शिकार करने की कौशल होने के बावजूद, मोटे तौर पर उसकी सीमा के अधिकांश दूसरे बड़े परभक्षियों द्वारा चीता को छांट दिया जाता हैं. क्योंकि वे कुछ समय के लिए अत्यधिक गति से दौड़ तो सकते हैं लेकिन पेड़ों पर चढ़ नहीं सकते और अफ्रीका के अधिकांश शिकारी प्रजातियों के खिलाफ अपनी रक्षा नहीं कर सकते हैं. आम तौर पर वे लड़ाई से बचने की कोशिश करते हैं और ज़ख्मी होने के खतरे के बजाए वे बहुत जल्दी ही अपने द्वारा शिकार किए गए जानवर का समर्पण कर देते हैं, यहां तक कि अपने द्वारा तत्काल शिकार किए गए एक लकड़बग्घे को भी अर्पण कर देते हैं. क्योंकि चीतों को भरोसा होता है कि वे अपनी गति के आधार पर भोजन प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन यदि किसी प्रकार से वे चोटिल हो गए तो उनकी गति कम हो जाएगी और अनिवार्य रूप से जीवन का खतरा भी हो सकता है.

चीता द्वारा किए गए शिकार का अन्य शिकारियों को सौंप देने की संभावना लगभग 50% होती है.[8] दिन के विभिन्न समयों में चीता शिकार करने का संघर्ष और शिकार करने के बाद तुरंत ही खाने से बचने की कोशिश करता है. उपलब्ध रेंज के रूप में कटौति होने के चलते अफ्रीका में जानवरों की कमी हुई है और यही कारण है कि हाल के वर्षों में चीता को अन्य देशी अफ्रीकी शिकारियों से अधिक दबाव का सामना करना पड़ रहा है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

जीवन के शुरुआती सप्ताह के दौरान ही अधिकांश चीतों की मृत्यु हो जाती है; शुरूआती समय के दौरान 90% तक चीता शावकों को शेर, तेंदुए, लकड़बग्घे, जंगली कुत्तों या चील द्वारा मार दिए जाते हैं. यही कारण है कि चीता शावक अक्सर सुरक्षा के लिए मोटे झाड़ियों में छिप जाते हैं. मादा चीता अपने शावकों की रक्षा करती है और कभी-कभी शिकारियों को अपने शावकों से दूर तक खदेड़ने में सफल भी होती है. कभी-कभी नर चीतों की मदद से भी दूसरे शिकारियों को दूर खदेड़ सकती है लेकिन इसके लिए उसके आपसी मेल और शिकारियों के आकार और संख्या निर्भर करते हैं. एक स्वस्थ वयस्क चीता के गति के कारण उसके काफी कम परभक्षी होते हैं.[17]

मनुष्यों के साथ संबंध[संपादित करें]

आर्थिक महत्व[संपादित करें]

एक चीता के साथ एक मंगोल योद्धा.

चीता के खाल को पहले प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता था. आज चीता इकोपर्यटन के लिए एक बढ़ती आर्थिक प्रतिष्ठा है और वे चिड़ियाघर में भी पाए जाते हैं. अन्य बिल्ली के प्रजातियों प्रकारों में चीता सबसे कम आक्रामक होता है और उसे शिक्षित भी किया जा सकता है यही कारण है कि चीता शावकों को कभी-कभी अवैध रूप से पालतू जानवर के रूप में बेचा जाता है.

पहले और कभी-कभी आज भी चीतों को मारा जाता है क्योंकि कई किसानों का मानना है कि चीता पशुओं को खा जाते हैं. जब इस प्रजाति के लगभग लुप्त हो जाने के खतरे सामने आए तब किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए कई अभियानों को चलाया गया था और चीता के संरक्षण के लिए उन्हें प्रोत्साहित करना शुरू किया गया था. हाल ही में प्रामाणित किया गया है कि चीते पालतू पशुओं का शिकार करके नहीं खाते चूंकि वे जंगली शिकारों को पसंद करते हैं इसलिए चीतों को न मारा जाए. हालांकि अपने क्षेत्र के हिस्से में खेत के शामिल हो जाने से भी चीतों को कोई समस्या नहीं होती और वे संघर्ष के लिए तैयार रहते हैं.

प्राचीन मिस्र के निवासी अक्सर चीतों को पालतू जानवर के रूप में पालते थे और पालने के साथ-साथ उन्हें शिकार करने के लिए प्रशिक्षित करते थे. चीते के आंखों पर पट्टी बांध कर शिकार के लिए छोटे पहिए वाले गाड़ियों पर या हुडदार घोड़े पर शिकार क्षेत्र में ले जाया जाता था और उन्हें चेन से बांध दिया जाता था जबकि कुत्ते उनके शिकार से उत्तेजित हो जाते थे. जब शिकार काफी निकट होता था तब चीतों के मुंह से पट्टी हटाकर उसे छोड़ दिया जाता था. यह परंपरा प्राचीन फारसियों तक पहुंचा और फिर वहीं से इसने भारत में प्रवेश किया और बीसवीं शाताब्दी तक भारतीय राजाओं ने इस परम्परा का निर्वाह किया. प्रतिष्ठा और शिष्टता के साथ चीता का जुड़ा रहना जारी रहा, साथ ही साथ पालतू जानवर के रूप में चीतों को पालने के पीछे चीतों के शिकार करने का अद्भूत कौशल था. अन्य राजकुमारों और राजाओं ने चीता को पालतू जानवर के रूप में रखा जिसमें चंगेज खान और चार्लेमग्ने शामिल हैं जो चीतों को अपने महल के मैदान के भीतर खुला रखते थे और उसे अपना शान मानते थे. मुगल साम्राज्य के महान राजा अकबर, जिनका शासन 1556 से 1605 तक था, उन्होंने करीब 1000 चीतों को रखा था.[8] हाल ही में 1930 के दशक तक इथियोपिया के सम्राट हेली सेलासिए को अक्सर एक चेन में बंधे चीता के आगे चलते हुए फोटो को दिखाया गया है.

संरक्षण स्थिति[संपादित करें]

अनुवांशिक कारकों और चीता के बड़े प्रतिद्वंदि जानवरों जैसे शेर और लकड़बग्घे के कारण चीता शावकों के मृत्यु दर काफी अधिक होते हैं. हाल ही में आंतरिक प्रजनन के कारणों के चलते चीते काफी मिलती जुलती अनुवांशिक रूपरेखा का सहभागी होते हैं. जिसके चलते इनमें कमजोर शुक्राणु, जन्म दोष, तंग दांत, सिंकुड़े पूंछ, और बंकित अंग होते हैं. कुछ जीव विज्ञानी का अब मानना है कि एक प्रजाति के रूप में उनका पनपना सहज हैं.[18]

चीता इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर (IUCN) में चीता को असुरक्षित प्रजातियों की सूची में शामिल किया है (अफ्रीकी उप-प्रजातियां संकट में, एशियाई उप-प्रजातियां की स्थिति गंभीर) साथ ही साथ अमेरिका के लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम पर: CITES के परिशिष्ट में प्रजातियां के संकट में होने - के बारे में बताया है (अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर विलुप्तप्राय प्रजाति में समझौता). पच्चीस अफ्रीकी देशों के जंगलों में लगभग 12,400 चीते बचे हुए हैं, लगभग 2,500 चीतों के साथ नामीबिया में सबसे अधिक हैं. गंभीर रूप से संकटग्रस्त करीब पचास से साठ एशियाई चीते ईरान में बचे हुए हैं. दुनिया भर के चिड़ियाघरों में इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के उपयोग के साथ-साथ प्रजनन कार्यक्रम सम्पन्न कराए जा रहे हैं.
1990 में नामीबिया में स्थापित चीता कंजरवेशन फन्ड का मिशन चीता और पर्यावरण व्यवस्था पर अनुसंधान और शिक्षा के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट और मान्यता प्राप्त केंद्र बनाना है, इसलिए दुनिया भर के चीतो के संरक्षण और प्रबंधन के लिए हितधारकों के साथ कार्य कर रहे हैं.
साथ ही CCF ने दक्षिण अफ्रीका के चारों ओर स्टेशनों की स्थापना की है ताकि संरक्षण के प्रयास जारी रहें.
चीता की सुरक्षा के लिए वर्ष 1993 में दक्षिण अफ्रीका पर आधारित चीता संरक्षण फाउंडेशन नामक एक संगठन को स्थापित किया गया था.

पुनर्जंगलीकरण परियोजना[संपादित करें]

भारत में कई वर्षों से चीतों के होने का ज्ञात किया गया है. लेकिन शिकार और अन्य प्रयोजनों के कारण बीसवीं सदी के पहले चीता विलुप्त हो गए थे. इसलिए भारत सरकार ने एक फिर से चीता के लिए पुनर्जंगलीकरण के लिए योजना बना रही है. गुरुवार, जुलाई 9, 2009 में TOI के पृष्ठ संख्या 11 पर एक लेख में स्पष्ट रूप से भारत में चीतों के आयात का सलाह दिया है जहां उनका पालन पोषण अधीनता में किया जाएगा. 1940 के दशक के बाद से भारत में चीते विलुप्त होते गए और इसलिए सरकार इस परियोजना पर योजना बना रही है. चीता केवल जानवर है कि भारत में लुप्त पिछले वर्णित पर्यावरण और वन मंत्री जयराम रमेश जुलाई 7 कि 2009 में राज्य सभा में बताया कि "चीता एकमात्र ऐसा जानवर है जो पिछले 100 वर्षों में भारत में लुप्त होता गया है. हमें उन्हें विदेशों से लाकर इस प्रजाति की जनसंख्या को फिर से बढ़ाना चाहिए." प्रतिक्रिया स्वरूप भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजीव प्रताप रूडी से उन्होंने ध्यानाकर्षण सूचना प्राप्त किया. इस योजना का उद्देश्य उन चीतों का वापस लाना है जिसका अंधाधुंध शिकार और एक नाजुक प्रजनन पद्धति की जटिलता के कारण लुप्त हो रहे हैं और जो बाघ संरक्षण को ट्रस्ट करने वाली समस्याओं को घेरती है. दिव्य भानुसिंह और एम के रणजीत सिंह नामक दो प्रकृतिवादियों ने अफ्रीका से चीतों के आयात करने का सुझाव दिया. आयात के बाद बंदी के रूप में उनका पालन-पोषण किया जाएगा और समय की एक निश्चित अवधि के बाद उन्हें जंगलों में छोड़ा जाएगा.

लोकप्रिय संस्कृति में[संपादित करें]

टीटियन द्वारा लिखित बच्चुस और एरिएडने, 1523.
फ़र्नांड नोफ्फ द्वारा लिखित द केयरेस, 1887.
  • टीटियन के बच्चुस और एरियाड्ने (1523), में भगवान के रथ का वहन चीतों द्वारा किया जाता है (जो इटली के पुनर्जागरण में जानवरों के शिकार के रूप में इस्तेमाल किया गया था). भगवान डियोनिसस के साथ चीता अक्सर जुड़े होते थे और इस भगवान को रोमन बच्चुस के नाम से पूजा करते थे.
  • जॉर्ज स्टुब्ब के चीता विथ टू इंडियन अटेन्डेंट्स एण्ड ए स्टैग (1764-1765) में चीता को शिकारी जानवर दिखाया गया है और साथ ही मद्रास के ब्रिटिश राज्यपाल, सर जॉर्ज पिजोट द्वारा जॉर्ज III को चीता के उपहार को एक स्मृति बनते दिखाया गया है.
  • बेल्जियम प्रतीकवादी चित्रकार फ़र्नांड नोफ्फ (1858-1921) द्वारा द केयरेस (1896), ईडिपस और स्फिंक्स और एक महिला के सिर के साथ प्राणी चित्रण और चीता शरीर (अक्सर एक तेंदुआ के रूप में गलत समझा जाता है) के मिथक का प्रतिनिधित्व करता है.
  • आन्ड्रे मेर्सिएर के अवर फ्रेंड याम्बो (1961) एक फ्रांसीसी दंपती द्वारा अपनाए गए चीता की एक अनोखा जीवनी है, जो पेरिस में रहता है. इसे बोर्न फ्री (1960), का फ्रेंच जवाब के रूप में देखा जाता है जिनके लेखक जोय एडम्सन ने अपने ही चीता की जीवनी लिखी थी जिसका शीर्षक था द स्पोटेड स्फिंक्स (1969).
  • एनिमेटेड श्रृंखला थंडरकैट्स में एक मुख्य पात्र है जो एक मानव रूपी चीता था जिसका नाम चीतारा था.
  • 1986 में फ्रिटो-ले ने एक मानवरूपी चीता, चेस्टर चीता की शुरूआत अपने चीतोस के लिए शुभंकर के रूप में किया.
  • हेरोल्ड एण्ड कुमार गो टू व्हाइट केसल के उप-कथानक में एक पलायन चीता है, जो बाद में जोड़ी के साथ मारिजुआना धूम्रपान करता है और उन्हें सवारी करने की अनुमति देता है.
  • 2005 की फिल्म ड्यूमा दक्षिण अफ्रीका के एक युवा की कहानी है जो कई साहसिक कारनामों के साथ अपने पालतू चीता, ड्यूमा, को जंगल में छोड़ने की कोशिश करता है. यह फिल्म केरोल कौथरा होपक्राफ्ट और जैन होपक्राफ्ट द्वारा अफ्रीका की एक सच्ची कहानी पर आधारित "हाउ इट वाज विथ डुम्स पुस्तक पर आधारित है.
  • पैट्रिक ओ'ब्राइन द्वारा लिखित [[हुसैन, एन एंटर्रटेनमेंट उपन्यास में भारत के ब्रिटिश राज के दौरान भारत|हुसैन, एन एंटर्रटेनमेंट[[उपन्यास में भारत के ब्रिटिश राज के दौरान भारत]]]] में स्थापित रॉयल्टी को रखने का प्रयास और चीतों को हिरण के शिकार का प्रशिक्षण को दिखाया गया है.

संदर्भ[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. Wozencraft, W. Christopher (16 November 2005). "Order Carnivora (pp. 532-628)". In Wilson, Don E., and Reeder, DeeAnn M., eds. Mammal Species of the World: A Taxonomic and Geographic Reference (3rd ed.). Baltimore: Johns Hopkins University Press, 2 vols. (2142 pp.). pp. 532–533. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8018-8221-0. OCLC 62265494. http://www.bucknell.edu/msw3. 
  2. Bauer, H., Belbachir, F., Durant, S., Hunter, L., Marker, L., Packer, K. & Purchase, N. (2008). Acinonyx jubatus. 2008 संकटग्रस्त प्रजातियों की IUCN लाल सूची. IUCN 2008. Retrieved on 9 October 2008.
  3. Sharp, N. C. (1994). "Timed running speed of a cheetah (Acinonyx jubatus)". Journal of Zoology, London 241: 493–494. 
  4. Milton Hildebrand (1959). "Motions of Cheetah and Horse". Journal of Mammalogy. http://www.jstor.org/view/00222372/ap050163/05a00030/12?frame=noframe&userID=83e69956@siu.edu/01cce4405a00501cdc4b9&dpi=3&config=jstor. अभिगमन तिथि: 2007-10-30.  ऑलदो एकोर्डिंग टू चीता, ल्यूक हंटर और डेव हम्मनMilton Hildebrand (1959). "Motions of Cheetah and Horse". Journal of Mammalogy. http://www.jstor.org/view/00222372/ap050163/05a00030/12?frame=noframe&userID=83e69956@siu.edu/01cce4405a00501cdc4b9&dpi=3&config=jstor. अभिगमन तिथि: 2007-10-30.  (स्ट्रुइक प्रकाशक, 2003), pp. 37-38, है चीता की सर्वाधिक तेज गति 110 km/h (68 mph) दर्ज की थी.
  5. Kruszelnicki, Karl S. (1999). "Fake Flies and Cheating Cheetahs". Australian Broadcasting Corporation. http://www.abc.net.au/science/k2/moments/gmis9911.htm. अभिगमन तिथि: 2007-12-07. 
  6. Garland, T., Jr. (1983). "The relation between maximal running speed and body mass in terrestrial mammals". Journal of Zoology, London 199: 155–170. http://www.biology.ucr.edu/people/faculty/Garland/Garl1983_JZL.pdf. 
  7. cheetah (n.d.). The American Heritage Dictionary of the English Language, Fourth Edition. http://dictionary.reference.com/browse/cheetah. अभिगमन तिथि: 2007-04-16. 
  8. O'Brien, S., D. Wildt, M. Bush (1986). "The Cheetah in Genetic Peril". Scientific American 254: 68–76. 
  9. Wilson, Don E.; Reeder, DeeAnn M., सं (2005). Mammal Species of the World (3rd ed.). Baltimore: Johns Hopkins University Press, 2 vols. (2142 pp.). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8018-8221-0. OCLC 62265494. http://www.bucknell.edu/msw3. 
  10. Mattern, M. Y., D. A. McLennan (2000). "Phylogeny and Speciation of Felids". Cladistics 16: 232–253. doi:10.1111/j.1096-0031.2000.tb00354.x. 
  11. Johnson, W. E., E. Eizirik, J. Pecon-Slattery, W. J. Murphy, A. Antunes, E. Teeling, S. J. O'Brien (2006). "The Late Miocene Radiation of Modern Felidae: A Genetic Assessment". Science 311: 73–77. doi:10.1126/science.1122277. PMID 16400146. 
  12. "Asiatic Cheetah". Wild About Cats. http://www.wildaboutcats.org/asiatic.htm. अभिगमन तिथि: 2007-12-07. 
  13. "Asiatic Cheetah". WWF-Pakistan. http://www.wwfpak.org/sc_asiaticcheetah.php. अभिगमन तिथि: 2007-12-07. 
  14. "Scandal on the Serengeti: New light has been shed on the extent of female cheetahs' unfaithfulness to their male partners.". inthenews.co.uk. May 30, 2007. http://www.inthenews.co.uk/infocus/features/in-focus/scandal-on-serengeti-$1090967.htm. अभिगमन तिथि: 2007-12-07. 
  15. इटोन, रान्डेल एल (1976) ए पोसिबल केस ऑफ मिमिकरी इन लार्जर ममाल्स इवोल्यूशन 30(4) :853-856 doi 10.2307/2407827
  16. रिचर्ड एस्तेस, फोरवर्ड बाए एडवर्ड ओसबोर्न विल्सन (1991) द बिहेवियर गाइड टू अफ्रीकन ममाल्स. कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी प्रेस. पृष्ठ 371.
  17. M. W. Hayward, M. Hofmeyr, J. O'Brien & G. I. H. Kerley (2006). "Prey preferences of the cheetah (Acinonyx jubatus) (Felidae: Carnivora): morphological limitations or the need to capture rapidly consumable prey before kleptoparasites arrive?". Journal of Zoology. http://www3.interscience.wiley.com/journal/118624020/abstract?CRETRY=1&SRETRY=0. अभिगमन तिथि: 2008-10-05. 
  18. Gugliotta, Guy (2008-02). "Rare Breed". Smithsonian Magazine. http://www.smithsonianmag.com/science-nature/rare-breed.html. अभिगमन तिथि: 2008-03-07. 

ग्रंथ सूची[संपादित करें]

  • ग्रेट कैट्स, मेजेस्टिक क्रिएचर्स ऑप द वाइल्ड, ed. जॉन सिएडेनस्टीकर, इलुस. फ्रैंक नाइट, (रोडेल प्रेस, 1991), ISBN 0-87857-965-6
  • चीता , कैथेरीन (या कैथरीन) और कार्ल अम्मन, अर्को पब, (1985), ISBN 0-668-06259-2.
  • चीता (बीग कैट डायरी) , जोनाथन स्कॉट, एंजेला स्कॉट, (हार्परकोल्लिंस, 2005), ISBN 0-00-714920-4
  • साइंस (Vol 311, p 73)
  • चीता , ल्यूक हंटर और डेव हम्मन, (स्ट्रुइक्र प्रकाशक, 2003), ISBN 1-86872-719-X
  • एलसेन, थॉमस टी. (2006). "नेचुरल हिस्ट्री एण्ड कल्चर्ल हिस्ट्री: द सर्कुलेशन ऑफ हंटिग लिपार्ड्स इन यूरेशिया, सेवेन्थ-सेवेन्टीन्थ सेंचुरिज". इन: कॉन्टेक्ट एण्ड एक्सचेंज इन द एंसिएंट वर्ल्ड . Ed. विक्टर एच. मेर. हवाई विश्वविद्यालय प्रेस. pp. 116–135. ISBN ISBN 978-0-8248-2884-4; ISBN ISBN 0-8248-2884-4

अतिरिक्त जानकारी के लिए[संपादित करें]

बाह्य लिंक[संपादित करें]

साँचा:Carnivora