शिथिलता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शिथिलता एक ऐसा व्यवहार है जिसे किन्हीं क्रियाओं या कार्यों को परवर्ती समय के लिए स्थगन द्वारा परिलक्ष्यित किया जाता है। मनोवैज्ञानिक प्रायः शिथिलता को किसी कार्य या फैसले के आरंभ या समाप्ति से जुड़ी चिंता के साथ मुकाबला करने की एक क्रियाविधि के रूप में उद्धृत करते हैं। [1] मनोविज्ञान के शोधकर्ता भी शिथिलता को वर्गीकृत करने के लिए तीन मानदंडों का उपयोग करते हैं। किसी भी व्यवहार को शिथिलता के रूप में वर्गीकृत करने के लिए उसका उत्पादकविहीन, अनावश्यक तथा विलंबकारी होना अत्यंत आवश्यक है।[2]

शिथिलता के परिणामस्वरूप किसी भी व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारियों या वादों को पूरा नहीं कर पाने की स्थिति में तनाव, अपराध बोध, व्यक्तिगत उत्पादकता की हानि, संकट की सृष्टि और अन्य व्यक्तियों की असहमति का सामना करना पड़ सकता है। इन संयुक्त भावनाओं से शिथिलता को और अधिक प्रोत्साहन मिल सकता है। हालांकि लोगों के लिए कुछ हद तक शिथिलता दिखलाना सामान्य है, लेकिन यह उस समय एक समस्या का रूप धारण कर लेता है जब यह सामान्य क्रियाकलापों में बाधा उत्पन्न करने लगता है। दीर्घकालीन शिथिलता किसी अंतर्निहित मनोवैज्ञानिक विकार का एक संकेत हो सकता है।

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

यह शब्द स्वयं लैटिन शब्द प्रोक्रास्टिनेटस : प्रो- (आगे) और क्रास्टिनेटस (कल का) से आया है। इस संज्ञा की पहली ज्ञात उपस्थिति एडवर्ड हॉल की द यूनियन ऑफ़ द नोबल ऐंड इलुस्ट्रेट फैमेलीज़ ऑफ़ लैंकास्टर ऐंड यॉर्क में मिली जो प्रायः 1548 से पहले प्रकाशित हुई थी।[3] धर्मोपदेश में शिथिलता को कार्य करने में टालमटोल या विलम्ब, उल्लंघन या अनिच्छा और पाप माना गया है।

शिथिलता के कारण[संपादित करें]

मानसिक[संपादित करें]

शिथिलता के मनोवैज्ञानिक कारणों में बहुत ज्यादा अंतर हैं, लेकिन साधारणतया इसमें चिंता का विषय, आत्म-मूल्य की हीन भावना और आत्म-पराजय की मानसिकता शामिल हैं[4]. ऐसा माना जाता है कि शिथिलकों में भी सामान्य स्तर की तुलना में कम अंतर्विवेकशीलता होती है जो अधिकतर अपनी बाध्यता तथा संभाव्यता के वास्तविक अधिमूल्यन की तुलना में पूर्णता या उपलब्धि के "स्वप्नों और इच्छाओं" पर आधारित होते हैं।[5]

लेखक डेविड एलन कार्य और जीवन में शिथिलता के दो प्रमुख मनोवैज्ञानिक कारणों की चर्चा करते हैं जो चिंता से संबंधित है, न कि आलस्य से.[तथ्य वांछित] पहली श्रेणी में ऐसी बातें शामिल हैं जो इतनी छोटी हैं कि उनके लिए चिंतित होने की आवश्यकता नहीं हैं, ऐसे कार्य जो चीजों के प्रवाह में रुकावट डालते हैं और बहुत कम प्रभाव वाले कामकाज से जुड़े हैं, जिसका एक उदाहरण है गंदे कमरे को ठीक करना। दूसरी श्रेणी में ऐसी बातें शामिल हैं जो इतनी बड़ी हैं कि उन पर नियंत्रण पाना मुश्किल हैं, ऐसे कार्य जिससे एक व्यक्ति डर सकता है या जिसका किसी व्यक्ति के जीवन पर एक बड़ा प्रभाव पड़ने का अनुमान हो; जिसका एक उदाहरण यह हो सकता है कि एक बूढ़े होते माता या पिता के वयस्क बच्चों को यह तय करना है कि उनके रहन-सहन के लिए कौन सी व्यवस्था सबसे अच्छी होगी या एक छात्र जो अपनी पढ़ाई के लिए एक महत्वपूर्ण परीक्षा दे रहा हो।

यदि शिथिलता एक आदत बन जाती है तो व्यक्ति अनजाने में किसी कार्य के महत्त्व का अधिमूल्यांकन या निम्नमूल्यांकन कर सकता है।[तथ्य वांछित]

व्यवहारिक मनोविज्ञान की दृष्टि से, जेम्स माज़ुर ने कहा है कि शिथिलता आत्म-नियंत्रण के विरूद्ध "लालसा" का एक विशेष विषय है।[तथ्य वांछित]माज़ुर कहते है कि शिथिलता किसी दंडदाता के एक अस्थायी छूट के कारण होती है, क्योंकि यह किसी सुदृढ़कर्ता के लिए अस्थायी छूट के साथ होती है। जैसा कि माज़ुर कहते हैं, शिथिलता तब होती है जब बाद के एक बड़े कार्य और पहले के एक छोटे कार्य में से किसी एक को चुनना पड़ता है; क्योंकि उस कार्य के असीम मूल्य को समय द्वारा छूट मिल जाता है, एक ऐसी विषय-वस्तु जो बाद वाले बड़े कार्य का चयन करती है।[तथ्य वांछित]

जॉन पेरी[6] कहते हैं कि शिथिलता "किसी कार्य को अधिक महत्वपूर्ण ढंग से नहीं करने का एक तरीका" है, एक ऐसा विवरण जिसका उपयोग किसी अन्य कठिन, समयानुसार और महत्वपूर्ण कार्यों में किया जा सकता है, कुछ ऐसा कार्य जो वह इस प्रविष्टि के लेखन में कर रहे थे (और जिसे, हास्यपूर्ण ढंग से, वह अंत में अपनी वेबसाइट को डिज़ाइन करते हुए अपनी पोती का उद्धरण देते हैं, "जबकि उसकी साहित्यिक परीक्षा के कठिन कार्यभार को टाल दिया जाता है।"

शारीरिक[संपादित करें]

शिथिलता के शारीरिक कारणों पर किए गए शोध में अधिकांशतः मस्तिष्काग्र की बाह्य परत की भूमिका शामिल है। मस्तिष्क का यह क्षेत्र कार्यकारी मस्तिष्क कार्यों के लिए उत्तरदायी होता है जैसे योजना निर्माण, आवेग नियंत्रण, ध्यान, तथा यह मस्तिष्क के अन्य क्षेत्रों से विचलित उत्तेजनाओं को कम करके एक फिल्टर के रूप में काम करने लगता है। इस क्षेत्र में हुई कोई भी क्षति या निम्न सक्रियण एक व्यक्ति की विचलित उत्तेजनाओं को फिल्टर करने की क्षमता को कम कर सकता है। अंततः बदतर निर्माण, ध्यान में कमी और शिथिलता में वृद्धि जैसे परिणाम सामने आते हैं। यह ध्यान-अभाव अतिक्रियाशीलता विकार (ADHD) में प्रिफ्रंटल लॉब की भूमिका के समान है जहां अंतर-सक्रियण एक आम बात है।[5]

शिथिलता एवं मानसिक स्वास्थ्य[संपादित करें]

शिथिलता कुछ लोगों में एक सतत् तथा दुर्बल करने वाला एक विकार पैदा कर सकती है जिसके कारण महत्वपूर्ण मानसिक विकलांगता और अकर्मता की सृष्टि होती है। ये लोग वास्तव में अवसाद या ADHD जैसी किसी अंतर्निहित मानसिक स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित हो सकते हैं।

हालांकि शिथिलता एक व्यवहारिक अवस्था है, लेकिन फिर भी इन अंतर्निहित मानसिक स्वास्थ्य विकारों को औषधि-प्रयोग और/या रोगोपचार की सहायता से ठीक किया जा सकता है। रोगोपचार किसी व्यक्ति को नए व्यवहार सीखने, डर और चिंता पर काबू पाने तथा जीवन की एक उन्नत गुणवत्ता को प्राप्त करने में मदद करने वाला एक उपयोगी साधन हो सकता है। इस तरह, यह आवश्यक है कि जो लोग दीर्घ काल से दुर्बल करने वाली शिथिलता से जूझ रहे हैं, वे जाकर किसी प्रशिक्षित रोगोपचारक या मनोचिकित्सक से मिलें और अंतर्निहित मानसिक स्वास्थ्य के विषय की मौजूदगी का पता लगाएं.

जो लोग शिथिलता और कम आवेग नियंत्रण का प्रदर्शन करते हैं, वे इंटरनेट आसक्ति के इच्छुक लगते हैं।[7]

परिपूर्णतावाद[संपादित करें]

परंपरागत रूप से, शिथिलता परिपूर्णतावाद से जुड़ी हुई है जो नकारात्मक ढंग से निर्णय और अपने खुद के प्रदर्शन, अत्यधिक डर और दूसरों के द्वारा अपनी योग्यताओं के मूल्यांकन में टाल-मटोल, अत्यधिक सामाजिक आत्म-चेतना और चिंता, आवर्तक मंद चित्त और कार्यासक्ति को मूल्यांकित करने की एक प्रवृत्ति है। स्लैने (1996) ने देखा कि अपरिपूर्णतावादियों की तुलना में अनुकूलित परिपूर्णतावादियों (जब परिपूर्णतावाद अहं-समस्वरित होता है) में कम शिथिलता थी, जबकि कु-अनुकूलित परिपूर्णतावादियों (जो लोग अपनी परिपूर्णतावाद को एक समस्या समझते थे; अर्थात्, जब परिपूर्णतावाद अहं-विषमस्वरित होता है) में उच्च स्तरीय शिथिलता (और चिंता भी) थी।[8]

अकादमिक शिथिलता[संपादित करें]

हालांकि अकादमिक शिथिलता कोई विशेष प्रकार की शिथिलता नहीं हैं, बल्कि ऐसा माना जाता है कि शिथिलता खास तौर पर अकादमिक व्यवस्था में प्रचलित है, जहां छात्रों को अपने समय और ध्यान के लिए घटनाओं और कार्यकलापों से भरे माहौल में कार्यभार और परीक्षाओं की समय-सीमा तक पहुंचना आवश्यक होता है। और अधिक विशेष रूप से, 1992 में किए गए एक अध्ययन से साबित हो गया है कि "सर्वेक्षित छात्रों में से 52% छात्रों में संबंधित शिथिलता की मदद के लिए अत्यधिक आवश्यकता के लिए संयत होने का संकेत मिला".[9] ऐसा मूल्यांकन किया गया है कि 80%-95% कॉलेज छात्रों में शिथिलता पायी जाती है जबकि उनमें से लगभग 75% खुद को शिथिलक समझते हैं।[10]

शिथिलता का एक स्रोत शोध का विश्लेषण करने के लिए आवश्यक समय का निम्नमूल्यांकन करना है। कई छात्र एक विषय-पत्र के शोध में कई सप्ताह समर्पित कर देते हैं, लेकिन फिर भी इसे लिखने के काम को समाप्त करने में असमर्थ हो जाते हैं क्योंकि उस विषय पर अपने खुद के परिप्रेक्ष्य को पेश करने से पहले उन्हें कई प्रतिकूल विचारों की समीक्षा करनी पड़ती हैं। संसाधनों की सम्मति की जानकारी होने के बावजूद वे अपने खुद के विश्लेषण को प्रस्तुत करने के लिए संघर्ष करते हैं।[11]

छात्र संलक्षण एक ऐसी घटना को सूचित करता है जिसमें कई छात्र ठीक समय-सीमा से पहले सिर्फ एक कार्य में अपने आप को पूरी तरह से लगाना शुरू कर देंगे। यह किसी भी प्रतिरोधक को बरबादी तक ले जाता है जो व्यक्तिगत कार्य अवधि मूल्यांकन में स्थापित होता है। सिद्धांत को ऐजाइल सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में भी संबोधित किया गया है।

शिथिलकों के प्रकार[संपादित करें]

सुस्त प्रकार[संपादित करें]

सुस्त प्रकार के शिथिलक अपनी जिम्मेदारियों को नकारात्मक ढंग से देखते हैं और अन्य कार्यों में अपनी शक्ति का उपयोग करते हुए उन्हें टाल देते हैं। उदाहरणस्वरूप, अपने विद्यालय के कार्य को त्याग देना सुस्त प्रकार के शिथिलतापरक बच्चों के लिए एक आम बात है, लेकिन अपने सामाजिक जीवन को नहीं। छात्र, परियोजनाओं को छोटे-छोटे भागों में तोड़कर देखने के बजाय प्रायः एक संपूर्ण रूप में देखते हैं। इस प्रकार की शिथिलता इनकार या अवगुण का एक रूप है; इसलिए आम तौर पर किसी मदद की मांग नहीं की जा रही है। इसके अलावा, वे परितोषण को स्थगित करने में भी असमर्थ होते हैं। शिथिलक उन स्थितियों को टालते रहते हैं जो अप्रसन्नता का कारण होता है। इसके बजाय वे और अधिक मनोरंजक क्रियाकलापों में लिप्त रहते हैं। फ्रियूडियन संज्ञाओं में, ऐसे शिथिलक, वास्तविकता के सिद्धांत को न्योछावर करने के बजाय आनंद के सिद्धांत को त्यागने से इनकार करते हैं। वे काम और समय-सीमा को लेकर चिंतित नहीं लगते हैं, बल्कि यह तो केवल काम का एक बहाना है जिसे पूरा करने की आवश्यकता होती है।[12]

परेशान-भयभीत प्रकार[संपादित करें]

परेशान-भयभीत प्रकार के शिथिलक साधारणतः दबाव से अभिभूत, समय के प्रति अवास्तविक, लक्ष्यों के प्रति अनिश्चित और कई अन्य नकारात्मक भावनाओं को महसूस करते हैं। उन्हें अस्वस्थता की भावना का अहसास हो सकता है। जब उन्हें ऐसा लगता है कि उनमें अपने काम को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए आवश्यक क्षमता या ध्यान की कमी हैं तो वे अपने आप से यही कहते हैं कि उन्हें अब निश्चिंत होकर आराम करने की आवश्यकता हैं, उदाहरणस्वरूप, आज इसकी चिंता नहीं करके सुबह में इसे नए सिरे से शुरू करना ही बेहतर है। साधारणतः उनके पास दिखावटी योजनाएं होती हैं जो वास्तविक नहीं होती हैं। उनके 'आराम' प्रायः अस्थायी व अप्रभावी होते हैं, तथा समय निकल जाने एवं समय-सीमा निकट आने पर उन्हें और अधिक तनाव होने लगता हैं और व्यक्ति उत्तरोत्तर अपराधी एवं आशंकावान लगने लगता है। यह व्यवहार विफलता और विलंब का एक चक्र बन जाता है क्योंकि योजनाओं और लक्ष्यों को बार-बार डायरी में अगले दिन या सप्ताह के लिए लिखकर टाल दिया जाता हैं। यह उनके व्यक्तिगत जीवन और संबंधों पर एक गंभीर प्रभाव डाल सकता है। चूंकि वे अपने लक्ष्य के प्रति अनिश्चित होते हैं, इसलिए उन्हें ऐसे लोगों के साथ प्रायः अजीब लगता हैं जो विश्वासी और लक्ष्य-उन्मुख प्रतीत होते हैं, जो उन्हें अवसाद तक ले जा सकते हैं। परेशान-भयभीत शिथिलक प्रायः अपने घनिष्ठ मित्रों के साथ भी अपने संपर्क को नजरंदाज़ करते हुए सामाजिक जीवन से मुंह फेर लेते हैं।[12]

छः शैलियां[संपादित करें]

डॉ॰ लिंडा सैपॉडिन कृत इट्स अबाउट टाइम के अनुसार, शिथिलता के छः प्रकार हैं जो किसी व्यक्ति में एकमात्र या संयुक्त रूप से पाया जा सकता है। ये शैलियां हैं - परिपूर्णतावादी, संकट-निर्माता, स्वप्नद्रष्टा, अवहेलक, चिंता-कर्ता और अति-कर्ता. प्रत्येक शीर्षक स्व-व्याख्यात्मक है जबकि प्रत्येक का प्रत्येक प्रकार पर काबू पाने का एक अनोखा तरीका है।[13]

कलंक एवं गलतफहमी[संपादित करें]

शिथिलता की चरम सीमा पर पहुंचने की गंभीर गलतफहमी और कलंक के कारण शिथिलकों को मदद मांगने या सहारे का एक समझदार स्रोत ढूंढने में प्रायः बहुत कष्ट होता है। मनोवैज्ञानिकों को ज्ञात लक्षणों में से एक लक्षण कार्य-विमुखीपन है जिसका मात्र आलस्य, इच्छा-शक्ति के अभाव या महत्वाकांक्षा में कमी के रूप में प्रायः गलत परिलक्षण किया जाता है।[14]

एक और कलंक है कि शिथिलक आलसी और/या मूर्ख होते हैं। यह भी कोई विशेष विषय नहीं है क्योंकि अधिकतर वास्तविक रूप से पूर्णतया होनहार या बुद्धिमान होते हैं।[13]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Fiore, Neil A (2006). The Now Habit: A Strategic Program for Overcoming Procrastination and Enjoying Guilt- Free Play. New York: Penguin Group. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781585425525. पृष्ठ 5
  2. श्रॉ, जी., वॉडकिंस, टी., & ऑलैफ्सन, एल. (2007). डूइंग द थिंग्स वी डू: अकादमिक शिथिलता का एक आधारभूत सिद्धांत [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण]. जर्नल ऑफ़ एजूकेशनल साइकॉलॉजी, खंड 99(1), 12-25.
  3. शिथिलता. ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी, दूसरा संस्करण (1989).
  4. * Burka, Yuen (1983, 2008). Procrastination: Why You Do It, What To Do About It Now. New York: Da Capo Lifelong Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780738211701. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  5. स्ट्रब, आर. एल. (1989). द्विपक्षीय ग्लोबस पैलिडस घाव वाले एक रोगी में फ्रंटल लॉब सिंड्रोम आर्किव्स ऑफ़ न्यूरोलॉजी 46, 1024-1027.
  6. http://www.structuredprocrastionation.com
  7. Yellowlees, P.M. (2007). "Problematic Internet use or Internet addiction?". Computers in Human Behavior. 23 (3): 1447–1453. डीओआइ:10.1016/j.chb.2005.05.004. अभिगमन तिथि 11 जून 2008. नामालूम प्राचल |coauthors= की उपेक्षा की गयी (|author= सुझावित है) (मदद)
  8. मैकगार्वे. जेसन ए. (1996) द ऑलमोस्ट परफेक्ट डिफिनिशन
  9. आर.पी. गैलॉगर, एस. बॉर्ग, ए. गॉलिन और के. केलहर (1992), जर्नल ऑफ़ कॉलेज स्टुडेंट डेवलपमेंट, 33 (4), 301-10.
  10. अमेरिकन साइकॉलॉजिकल एसोसिएशन, स्टील 1[तथ्य वांछित]
  11. बर्का, जेन बी. प्रोक्रास्टिनेशन व्हाइ यू डू इट, व्हाट टु डू अबाउट इट . कैम्ब्रिज, MA: दा कैपो पी, 2008.
  12. प्रोक्रास्टिनेशन, हाउ टु स्टॉप प्रोक्रास्टिनेटिंग
  13. Steel, Piers (1996). "It's about Time: The 6 styles of procrastination and How to Overcome them". Penguin Group. अभिगमन तिथि अगस्त 18, 2009.
  14. Steel, Piers (जनवरी 2007). "The nature of procrastination: A meta-analytic and theoretical review of quintessential self-regulatory failure". American Psychological Association. Psychological Bulletin. Vol 133(1). अभिगमन तिथि February 5, 2009.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

[[श्रेणी:ध्यान-अभाव अतिक्रियाशीलता विकार]]