चिंता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चिंता
Emperor Traianus Decius (Mary Harrsch).jpg

मार्बल का बना हुआ एक रोमन राजा डेसियस from the कैपिटोलिन म्यूज़ियम से. यह चित्र का कहना है "कंवेय्स ऐन इम्प्रेशन ऑफ़ एन्जाइटी एंड अवेयरनेस, ऐज़ ऑफ़ अ मैन शोल्डरिंग हेवी [स्टेट] रेस्पोंसिबिलिटी."[1]
ICD-9 300
MeSH D001007

चिंता संज्ञानात्मक, शारीरिक, भावनात्मक और व्यवहारिक विशेषतावाले घटकों की मनोवैज्ञानिक और शारीरिक दशा है।[2] यह घटक एक अप्रिय भाव बनाने के लिए जुड़ते हैं जो की आम तौर पर बेचैनी, आशंका, डर और क्लेश से सम्बंधित हैं। चिंता एक सामान्यकृत मनोदशा है जो कि प्रायः न पहचाने जाने योग्य किसी उपन द्वारा उत्पन्न हो सकती है। देखा जाए तो, यह भय से कुछ अलग है, जो कि किसी ज्ञात खतरे के कारण उत्पन्न होता है। इसके अतिरिक्त भय, भागने और परिहार, के विशिष्ट व्यवहारों से संबंधित है, जबकि चिंता अनुभव किये गये अनियंत्रित या अपरिहार्य खतरों का परिणाम है।[3]

एक अन्य दृष्टिकोण यह है कि चिन्ता "एक भविष्य उन्मुख मनोदशा है, जिसमें एक व्यक्ति आगामी नकारात्मक घटनाओं का सामना करने का प्रयास करने के लिये इच्छुक या तैयार होता है”[4] जो कि यह सुझाव देता है कि भविष्य बनाम उपस्थित खतरों के बीच एक अंतर है जो भय और चिन्ता को विभाजित करता है। चिंता को तनाव की एक सामान्य प्रतिक्रिया माना जाता है। यह किसी व्यक्ति कि किसी मुश्किल स्थिति, काम पर या स्कूल में किसी को इससे निपटने के लिए उत्साहित करने पर, से निपटने में मदद कर सकती है। अधिक चिंता करने पर, व्यक्ति दुष्चिन्ता विकार का शिकार हो सकता है।[5]

विवरण[संपादित करें]

चिंता के शारीरिक प्रभाव में दिल का पल्पिटेशन (palpitations), मांसपेशियों में कमजोरी, तनाव, थकान, मिचली, सीने में दर्द, सांस की कमी, पेट में दर्द या सिर दर्द शामिल हो सकते हैं जब शरीर खतरों से निपटने के लिए होता है: तब रक्तचाप और दिल की गति की दर बढ़ जाती है, पसीना बढ़ जाता है, प्रमुख मांसपेशी समूहों के लिए रक्त का बहाव बढ़ जाता है और प्रतिरक्षा और पाचन तंत्र प्रणालीयां में रुकावट आ जाती है (लड़ो या भागो का प्रतिक्रिया). पीली त्वचा, पसीना, कांप और पपीलअरी (pupillary) फैलाव चिंता के बाहरी लक्षणाँ में शामिल हो सकते हैं। कोई, जिसे चिंता है इसे भय या आतंक का भाव के रूप में अनुभव कर सकता है। हालांकि हर व्यक्ति जिसे चिंता आतंक के दौरे अनुभव नहीं करता, ये एक आम लक्षण है। आतंक के दौरे आम तौर पर बिना चेतावनी के आते हैं और यद्यपि आम तौर पर डर तर्कहीन है, परंतु खतरे की धारणा बहुत वास्तविक है। एक व्यक्ति जो आतंक के दौरे का अनुभव कर रहा हो, अक्सर ऐसा मह्सूस करता है जैसे वह मरने या गुज़रनेवाला/गुज़रनेवाली है।

चिंता केवल भौतिक प्रभाव ही नहीं रखती बल्कि इसमें कई भावनात्मक प्रभाव भी शामिल हैं करती है। इसमें “आशंका या भय की भावनाओं, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई, तनाव या उछाल की भावना, निकृष्ट्तम का अनुमान, चिड़चिड़ापन, बेचैनी, खतरे या घटना के संकेतों (और घटित होने) को देखना (और इंतजार करना) शामिल हैं और महसूस करना जैसे कि तुम्हारा मस्तिष्क शून्य हो गया हो”[6] और साथ ही साथ ”दुस्वप्न/ बुरे सपने, उत्तेजना के बारे में दुराग्रह, मस्तिष्क की भावनाओं इन एक फन्दा, देजा-वू (Deja Vu) और भावना की सब कुछ डरावना लग रहा है।"[7]

चिंता के संज्ञानात्मक प्रभाव में, आशंकित खतरों के विचार, जैसे मृत्यु का डर भी शामिल हो सकता है। "तुम डर सकते हो कि सीने में दर्द [चिंता के शारीरिक लक्षण हैं] घातक दिल का दौरा है या सिर में शूटिंग दर्द [चिंता का एक और शारीरिक लक्षण] ट्यूमर या धमनीविस्फार का परिणाम हैं। आप गहन भय का भाव अनुभव करते हैं जब आप मरने की सोंचते हैं या आप इस के विषय में सामान्य.से अक्सर अधिक सोंचते हैं या इसे अपने मस्तिष्क से बाहर नहीं कर सकते हैं।"[8]

जैविक आधार[संपादित करें]

चिंता का विचार प्रमस्तिष्कखंड और हिप्पोकैम्पस में शामिल तंत्रिका किर्कुइत्र्य के नीचे कायम है।[9] जब अप्रिय और संभावित हानिकारक उद्दीपन (स्तिमुली) जैसे कि दूषित ओडोर्स या स्वाद के साथ सामना किया है, पीईटी स्कैन-शो प्रमस्तिष्कखंड में ब्लडफ्लो (रक्त प्रवाह) में वृद्धि दिखाते हैं।[10][11] इन अध्ययनों में, प्रतिभागियों ने भी उदारवादी चिंता की सूचना दी। यह् संकेत हो सकता है कि चिंता, संभावित हानिकारक व्यवहारों में जीव को उलझाने से रोकने के लिए डिज़ाइन एक सुरक्षात्मक में तंत्र है।

किशोर, जब वे शिशु थे, अत्याधिक आशंकित, सतर्क और डरे हुए थे परन्तु अनुसंधान ने पाया कि जब उन्हें एक कार्य करने के लिये चुना गया जिससे ये तय हुआ कि क्या उन्होने कोई इनाम प्राप्त किया है तो दूसरे लोगों के मुकाबले उनके नाभिकीय ऐकम्बेंस (accumbens) अधिक संवेदनशील पाये गये।[12] यह उत्सुक लोगों में सर्किट के बीच एक कड़ी का सुझाव देता है जो इस डर और इनाम के लिए भी जिम्मेदार है। शोधकर्ताओं के नोट में स्वभाव की दृष्टि से असंकोची (Noninhibited) किशोरों की तुलना में संकोची (inhibited) किशोरों में अनिश्चितता (संभाव्य परिणाम) के संदर्भ में “’जिम्मेदारी’ का एह्सास या आत्म एजेंसी एपेटेटिव् (अप्पेतितिवे) प्रेरणा (अर्थात् नाभिकीय accumbens) में अंतर्निहित तंत्रिका प्रणाली को अधिक जोरदार रूप चलाते हैं।"[12]

हालांकि एकल जीन जटिल लक्षण पर थोड़ा ही प्रभाव रखते हैं और खुद आपस में तथा बाह्य कारकों दोनों के साथ अत्याधिक प्रतिक्रिया देते हैं चिंता में अंतर्निहित सम्भाव्य आणविक तंत्र और कोमोर्बिद परिस्थितियों को स्पष्ट करने के लिए अनुसंधान चल रहा है। PLXNA2, बहुरूपता के साथ एक उम्मीदवार जीन है, जो चिंता को प्रभावित करता है।[13]

नैदानिक पैमाने (क्लीनिकल स्केल्स)[संपादित करें]

HAM-A (एक हैमिल्टन चिंता स्केल)[14], 14 मापदंडों पर आधारित, एक व्यापक रूप से प्रयोग किया जानेवाला साक्षात्कार पैमाना है जो एक मरीज की चिंता की गंभीरता को मापने के लिये, इसमें उत्सुक मूड, तनाव, भय, अनिद्रा, शारीरिक शिकायतें और साक्षात्कार के समय व्यवहार शामिल है।

किस्में (प्रकार)[संपादित करें]

चिंता, एक चिकित्सा लक्षण या शर्त के रूप में[संपादित करें]

चिंता, एक अंतर्निहित स्वास्थ के मुद्दे जैसे कि फेफड़े का क्रोनिक अवरोधक रोग (सीओपीडी), दिल की विफलता या दिल के लयहीन (अर्र्यथ्मिया) का लक्षण हो सकता है।[15] असामान्य और पैथलौजी सम्बन्धी चिंता या भय स्वंय में ही एक चिकित्सा दशा हो सकती है जिसके अन्तर्गत दुष्चिन्ता विकारकी शब्दावली में सब ढक़ जाये। ऐसी स्थिति 19 वीं शताब्दी[16] के अंत में मनोरोग के तहत आयी और वर्तमान मनोरोग नैदानिक मानदंड के विकारों के अनेक विशिष्ट रूपों की पहचान बन गयी। हाल के सर्वेक्षण ने पाया है कि से कम 18% अमेरीकी उनमें से एक या अधिक से प्रभावित हो सकता हैं।[17]

अस्तित्व की चिंता[संपादित करें]

दार्शनिक, सोरेन किएर्केगार्द ने चिंता की संकल्पना में चिंता या भय को स्वतंत्रता की भ्रामक्ता से जोड़ा और जिम्मेदारी के प्रति स्वयं सजग अभ्यास व चुनाव द्वारा चिंता के सकारात्मक समाधान की संभावना पर सुझाव दिया। मनोवैज्ञानिक ओट्टो रैंक ने कला और कलाकार (1932), में लिखा है कि जन्म के मनोवैज्ञानिक आघात अस्तित्व की चिंता के प्रख्यात मानवीय प्रतीक थे और रचनात्मक व्यक्ति के जुदाई, अकेलेपन (individuation) और भेदभाव के समांनतर डर -और इच्छा -को घेरे रहते हैं।

थेअलोजियन पॉल टीलीच ने अस्तित्व की चिंता की विशेषता का वर्णन [29] इस प्रकार किया “एक ऐसी दशा जिसमें अस्तित्व, संभावित अस्तित्वहीनता (nonbeing) के बारे में जागरूक रहता है” और उन्होने अस्तित्वहीनता (nonbeing) को तीन श्रेणियों में सूचीबद्ध किया: ओन्टिक (ontic) (भाग्य और मौत), नैतिक (अपराध और निंदा) और आध्यात्मिक (खालीपन और अर्थहीनता). टीलीच के अनुसार, इन तीन प्रकार के अस्तित्व चिंता में से आखिरी, यानी आध्यात्मिक चिंता, आधुनिक समय में प्रमुख है, जबकि अन्य पहले के समय में प्रमुख थीं। टीलीच का तर्क है कि इस चिंता को मानव की स्थिति के भाग के रूप में स्वीकार किया जा सकता है या इसका विरोध किया जा सकता है लेकिन नकारात्मक परिणामों के साथ। आध्यात्मिक चिंता अपनी रोगात्मक स्थिती में "व्यक्ति को अर्थपूर्ण सिस्टम में निश्चितता का निर्माण करने की दिशा में अग्रसर कर सकती हैं जो परंपरा और अधिकार द्वारा.समर्थित हैं" हालांकि यह “असंदिग्ध निश्चितता वास्तविकता की चट्टान पर नहीं बनायी गयी है।"

अर्थ के लिए मैन की खोज के लेखक विक्टर फ्रैंकल के अनुसार, जब सबसे नश्वर खतरों का सामना करना पड़ा तब सभी मानवों में बुनियादी इच्छा, अस्तित्वहीन (nonbeing) होने के आघात से मुकाबला करने के लिए जीवन का अर्थ खोजना है जबकि मौत अति निकट है।

परीक्षण और प्रदर्शन की चिंता[संपादित करें]

यार्केस-डोडसन नियम के अनुसार एक कार्य को सर्वश्रेष्ठ रूप में पूरा करने के लिए उत्तेजना का एक इष्टतम स्तर, आवश्यक है जैसे कि एक परीक्षा, प्रदर्शन या प्रतिस्पर्धी घटना।. हालांकि, जब चिंता या उत्तेजना के स्तर इष्टतम से अधिक होता है, तब परिणाम प्रदर्शन में गिरावट होता है।

असफलता से डरे हुए छात्रों में महसूस की जाने वाली बेचैनी, आशंका, या घबराहट, परीक्षा की चिंता है। छात्र जिन्हें परीक्षण चिंता है निम्न में से कुछ भी अनुभव कर सकते हैं व्यक्तिगत मूल्य का ग्रेड के साथ जुड़ना, शिक्षक द्वारा परेशान किये जाने का भय, माता –पिता या मित्रों से अलगाव का भय समय का दबाव या नियन्त्रण खोने का भाव। पसीना, चक्कर आना, सिर दर्द, रेसिंग दिल की धड़कन, मतली, व्यग्र होना और एक डेस्क बजाना सब सामान्य हैं। क्योंकि परीक्षण चिंता नकारात्मक मूल्यांकन के डर पर टिकी होती है, बहस मौजूद है कि क्या परीक्षण चिंता अपने आप में एक अनूठा दुष्चिन्ता विकार या क्या यह सामाजिक भय की एक विशिष्ट प्रकार है।

जबकि शब्द "परीक्षण चिंता" विशेष रूप से छात्रों के संबंध में संदर्भित है, कई कार्यकर्ता उसी अनुभव को अपने कैरियर या व्यवसाय में समान रूप से मह्सूस करते हैं। एक कार्य के असफल रहने का भय और उस के लिए नकारात्मक मूल्यांकन किया जाना वयस्क पर भी एक इसी तरह नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

अजनबी और सामाजिक चिंता[संपादित करें]

जब अज्ञात लोगों के साथ मिलते या बातचीत करते समय चिंता युवा लोगों में विकास की एक आम अवस्था है। दूसरों में, यह वयस्कता तक बनी रह्ती है और सामाजिक चिंता या सामाजिक भय बन जाती है। छोटे बच्चों में " अजनबी चिंता" एक डर नहीं है। बल्कि, यह लड़खड़ा के चलने वालों (toddlers) और पूर्वस्कूली बच्चों का, उनसे जो माता-पिता या परिवार के सदस्य नहीं हैं, एक उन्नतशील (developmentally) उपयुक्त डर है। वयस्कों में, अन्य लोगों से अत्यधिक डर एक सामान्य् उन्नतशील (developmentally) अवस्था नहीं है यह एक सामाजिक चिंता कहलाती है।

लक्षण चिंता (ट्रेट चिंता)[संपादित करें]

चिंता या तो एक छोटी अवधि की 'दशा' या एक लंबी अवधि के "लक्षण" हो सकती है। धमकी की प्रत्याशा में चिंता की अवस्था का प्रत्युत्तर देने के लिये लक्षण चिंता स्थिर प्रवृत्तियों को परावर्तित करती हैं। [33] यह नयोरोटोसिस्म (neuroticism) के लक्षण वाले व्यक्तित्व से निकटता से संबंधित है।

पसंद या निर्णय चिंता[संपादित करें]

लोगों और संगठनों के लिए समान विकल्पों के बीच चयन की आवश्यकता द्वारा उत्पन्न चिंता तेजी से पहचानी जा रही है। [35] [36]

"आज हम सब अपने विकल्पों पर विचार या सही सलाह करने के लिए अधिक विकल्प, अधिक प्रतियोगिता और समय की कमी का सामना कर रहे हैं"[37]

असत्यवत चिंता[संपादित करें]

अतिरिक्त सूचनार्थ: ध्यान के विपरीत प्रभाव

असत्यवत चिंता तरीकों या तकनीक से उतपन्न चिंता है जो सामान्य रूप से चिंता को कम करने के लिये प्रयोग कि जाती हैं। इसमें विश्राम या ध्यान की तकनीक भी शामिल है।[40] इसके साथ साथ कुछ निश्चित दवायें भी उपयोग की जाती हैं।[42] कुछ बौद्ध ध्यान साहित्य में इस प्रकार वर्णित है कि कुछ है जो स्वाभाविक रूप से उठता है और उसे भावनाओं की प्रकृति का पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने तथा आत्मा की प्रकृति को और अधिक गहराई से जानने के लिये, सावधानी से विस्तारित कर, मोड़ देना चहिये, हालांकि लेखन के धार्मिक संदर्भ के कारण यह प्रभाव वहाँ चिंता के रूप में संदर्भित नहीं किया गया है। [44]

सकारात्मक मनोविज्ञान में चिंता[संपादित करें]

सकारात्मक मनोविज्ञान में, चिंता को एक ऐसी मुश्किल चुनौती के लिए जवाबी कार्रवाई के रूप में वर्णित किया गया है, जिसका सामना करने के लिये व्यक्ति अपर्याप्त कौशल रखता है।[46]

संभावित कारणों[संपादित करें]

बोस्टन विश्वविद्यालय के मनोविज्ञानी Barlow डेविड एच.ने एक अध्ययन. आयोजित किया जिसने दीर्घकालिक चिंता से ग्रसित लोगों में तीन सामान्य विशेषताओं को दिखाया, जिनकी विशेषता उन्होने "एक सामान्यकृत जैविक भेद्यता", "एक सामान्यकृत मनोवैज्ञानिक भेद्यता" और "एक विशिष्ट मनोवैज्ञानिक भेद्यता" के रूप में बतायी।[48] जब मस्तिष्क में रसायन उत्पन्न होते हैं जो चिंता परिणामित करते हैं (विशेष रूप से जीन से उत्पन्न) अच्छी तरह से प्रलेखित हैं, यह अध्ययन एक अतिरिक्त पर्यावरणीय कारक जो ऐसे माता पिता द्वारा उत्पन्न किया जाता है जो स्वंय दीर्घकालिक चिंता से पीड़ित हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • कैटेस्ट्रोफिज़एशन (अतस्त्रोफिज़तिओन)
  • आतंक का दौरा
  • मानसिक उन्माद
  • सामाजिक चिंता
  • चिंता जाल

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Chris Scarre, Chronicle of the Roman Emperors, Thames & Hudson, 1995. pp.168-169.
  2. सेलिगमैन, एम्.इ.पी., वॉकर, इ.ऍफ़. एवं रोसनहन, डी.एल). असामान्य मनोविज्ञान, {4 एड.) न्यूयॉर्क: डब्लू. डब्लू. नोर्टन एंड कंपनी, इंक.
  3. ओहमैन, ए. (2000). भय और चिंता: विकासवादी, संज्ञानात्मक और नैदानिक दृष्टिकोण. एम. लुईस और जे. एम. हवीलैंड-जोन्स (एड्स.). भावनाओं की हस्तपुस्तिका. (पीपी.573-593). न्यूयॉर्क: द गिल्डफोर्ड प्रेस.
  4. Barlow, David H. (2002). "Unraveling the mysteries of anxiety and its disorders from the perspective of emotion theory" (PDF). American Psychologist: 1247–63. मूल (PDF) से 17 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अगस्त 2010. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  5. राष्ट्रीय संस्थान मानसिक स्वास्थ्य Archived 27 जुलाई 2016 at the वेबैक मशीन. 3 सितंबर 2008 को पुनःप्राप्त.
  6. स्मिथ, मेलिंडा (2008, जून). चिंता के हमले और विकार: चिन्हों, लक्षणों और उपचार के विकल्पों के लिए गाइड करते हैं। हेल्पगाइड वेबसाइट पर 3 मार्च 2009 को पुनःप्राप्त: http://www.helpguide.org/mental/anxiety_types_symptoms_treatment.htm Archived 27 सितंबर 2014 at the वेबैक मशीन.>
  7. (1987-2008). चिंता लक्षण, चिंता के हमले का लक्षण (आतंक हमला लक्षण) चिंता के लक्षण. चिंता सैंटर वेबसाइट से 3 मार्च 2009 को लिया गया: http://www.anxietycentre.com/anxiety-symptoms.shtml Archived 9 मई 2020 at the वेबैक मशीन.
  8. (1987-2008). चिंता लक्षण - मरने का डर. चिंता सैंटर वेबसाइट से 3 मार्च 2009 को पुनःप्राप्त: http://www.anxietycentre.com/anxiety-symptoms/fear-of-dying.shtml Archived 18 जुलाई 2019 at the वेबैक मशीन.
  9. Rosen JB, Schulkin J (1998). "From normal fear to pathological anxiety". Psychol Rev. 105 (2): 325–50. PMID 9577241. डीओआइ:10.1037/0033-295X.105.2.325.
  10. Zald, D.H.; Pardo, JV (1997). "Emotion, olfaction, and the human amygdala: amygdala activation during aversive olfactory stimulation". Proc Nat'l Acad Sci. USA. 94 (8): 4119–24. PMC 20578. PMID 9108115. डीओआइ:10.1073/pnas.94.8.4119.
  11. Zald, D.H.; Hagen, M.C.; & Pardo, J.V (1 फ़रवरी 2002). "Neural correlates of tasting concentrated quinine and sugar solutions". J. Neurophysiol. 87 (2): 1068–75. PMID 11826070. मूल से 21 सितंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अगस्त 2010.
  12. बार-हैम वाई, फॉक्स एनए, बेन्सन बी, गायर एई, विलियम्स ए, नेल्सन ईई, पेरेस-एडगर के, पाइन डीएस, अर्नस्ट एम. (2009). संकोची स्वभाव का एक इतिहास रखने वाले किशोरों में तंत्रिका इनाम प्रसंस्करण के साथ संबद्ध हो जाती है। साइकोल विज्ञान. 20(8):1009-18. PMID 19594857
  13. Wray NR, James MR, Mah SP, Nelson M, Andrews G, Sullivan PF, Montgomery GW, Birley AJ, Braun A, Martin NG (2007). "Anxiety and comorbid measures associated with PLXNA2". Arch. Gen. Psychiatry. 64 (3): 318–26. PMID 17339520. डीओआइ:10.1001/archpsyc.64.3.318. मूल से 20 जुलाई 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अगस्त 2010. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  14. मनश्चिकित्सीय टाइम्स. नैदानिक उपयोगी मनोरोग स्केल: हैम-ए (हैमिल्टन चिंता स्केल) Archived 22 अगस्त 2010 at the वेबैक मशीन.. 6 मार्च 2009 को पुनःप्राप्त.
  15. NPS अभ्यासकी समीक्षा 48: चिंता विकार (2009) http://www.nps.org.au/health_professionals/publications/prescribing_practice_review/current/prescribing_practice_review_48 Archived 29 जून 2010 at the वेबैक मशीन. पर उपलब्ध
  16. Berrios GE (1999). "Anxiety Disorders: a conceptual history". J Affect Disord. 56 (2–3): 83–94. PMID 10701465. डीओआइ:10.1016/S0165-0327(99)00036-1.
  17. Kessler RC, Chiu WT, Demler O, Merikangas KR, Walters EE (2005). "Prevalence, severity, and comorbidity of 12-month DSM-IV disorders in the National Comorbidity Survey Replication". Arch. Gen. Psychiatry. 62 (6): 617–27. PMC 2847357. PMID 15939839. डीओआइ:10.1001/archpsyc.62.6.617. मूल से 26 अप्रैल 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अगस्त 2010. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)

HJHLLL;N

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Spoken Wikipedia
This is an audio file which was created from an article revision dated [[जून 27, 2006 (2006-06-27)]], and does not reflect subsequent edits to the article. (Audio help)
ये एक आवाज़-लेख है, जो इस लेख का [[जून 27, 2006 (2006-06-27)]] दिनांक को बना आवाज़ प्रतिरूप है । इसे आप सुन सकते हैं ।