उत्पीड़न भ्रांति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

उत्पीड़न भ्रांति एक प्रकार की मानसिक विकृति है जिसमें रोगी के मन में लगातार इस प्रकार के भाव उठते रहते हैं कि वह चारों ओर अपने शत्रुओें से घिरा है, सब व्यक्ति उसका मखौल उड़ा रहे हैं, उसे यातना पहुँचाना चाहते हैं, उसके विरुद्ध षड्यंत्र रच रहे हैं आदि। फ्रायड ने उत्पीड़न भ्रांति का कारण कामग्रंथि को माना है जब कि एडलर इसके मूल में हीन ग्रंथि की सक्रियता मानते हैं।