सलमान ख़ान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
P culture yellow.png
सलमान ख़ान
سلمان خان
Salmanrampwalk.png
सलमान खान २००९ में
जन्म अब्दुल रशीद सलीम सलमान खान
27 दिसम्बर 1965 (1965-12-27) (आयु 48)
इन्दौर, मध्य प्रदेश, भारत
रहवास बांद्रा, मुम्बई
अन्य नाम सल्लू
व्यवसाय अभिनेता
सक्रिय वर्ष १९८८ - वर्तमान

अब्दुल रशीद सलीम सलमान खान (उर्दू: سلمان خان उच्चारण : səlmɑːn xɑːn, जन्म : २७ दिसंबर, १९६५) एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता हैं, जो बॉलीवुड की फिल्मों में दिखाई देते हैं। इन्होंने सन १९८८ में अभिनय की दुनिया में अपनी पहली फिल्म बीवी हो तो ऐसी से शुरूआत की। सलमान को अपनी पहली बड़ी व्यावसायिक सफलता १९८९ में रिलीज़ हुई मैंने प्यार किया से मिली, जिसके लिए इन्हें फिल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ नवीन पुरूष अभिनेता पुरस्कार भी दिया गया। वे बालीवुड की कुछ सफल फिल्मों में स्टार कलाकार की भूमिका करते रहे, जैसे साजन (१९९१), हम आपके हैं कौन (१९९४) व बीवी नं. १ (१९९९) और ये ऐसी फिल्में थीं जिन्होंने उनके करियर में पांच अलग सालों में सबसे अधिक कमाई की।

१९९९ में खान ने १९९८ में कुछ कुछ होता है में उनकी अतिथि-भूमिका के लिए फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार जीता और तबसे इन्होंने कई आलोचनात्मक और व्यावसायिक फिल्मों में स्टार के रूप में सफलता प्राप्त की हैं, जिनमें हम दिल दे चुके सनम (१९९९), तेरे नाम(२००३), नो एन्ट्री (२००५) और पार्टनर (२००७) शामिल हैं। इस तरह खान ने खुद को हिंदी सिनेमा[1][2] के प्रमुख अभिनेताओं में सबसे महान अभिनेता की छवि बनाई। बाद में बनी फ़िल्में, वांटेड (२००९), दबंग (२०१०), रेडी (२०११) और बॉडीगार्ड (२०११) उनकी हिन्दी सेने जगत में सर्वाधिक कमाई वाली फ़िल्में रही।

शुरूआती जीवन[संपादित करें]

खान कथानककार सलीम ख़ान और उनकी पहली पत्नी (प्रथम नाम सुशीला चरक) सलमा के ज्येष्ठ पुत्र है। उनके दादा अफगानिस्तान से आकार भारत में मध्य प्रदेश में बस गए थे। उनकी माँ मराठी हिंदू है।[3] खान ने एक दफ़ा खुद भी कहा है की वे आधे हिंदू व आधे मुस्लिम है।[4] उसकी सौतेली माँ हेलेन, एक पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री है जिन्होंने उनके साथ कुछ फ़िल्मों में साथ काम किया था। उनके दो भाई अरबाज खान और सोहेल खान है व बहनें अलवीरा और अर्पिता है। अलवीरा की शादी अभिनेता/निर्देशक अतुल अग्निहोत्री से हो चुकी है। खान ने अपने भाइयों अरबाज़ व सोहेल की ही तरह बांद्रा स्थित सेंट स्टेनिस्लॉस हाई स्कूल के माध्यम से अपनी स्कूली शिक्षा समाप्त की। इससे पहले, उन्होंने ग्वालियर स्तिथ सिंधिया स्कूल में अपने छोटे भाई अरबाज़ से साथ कुछ वर्ष पढ़ाई की।[5][6]

करियर[संपादित करें]

१९८० में[संपादित करें]

सलमान खान ने अपने अभिनय की शुरुआत १९८८ में फिल्म बीवी हो तो ऐसी से की जहां उन्होंने सहायक कलाकार की भूमिका निभाई है। बॉलीवुड फिल्म में उनकी पहली प्रमुख भूमिका सूरज आर. बड़जात्या की रोमांस फिल्म मैनें प्यार किया (1989) में थी। यह फिल्म भारत की सर्वाधिक कमाई वाली फिल्मों से एक फिल्म बन गई।[7] इस फिल्म को के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर का सर्वश्रेष्ठ नए अभिनेता का पुरस्कार मिला व फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए नामांकन भी प्राप्त हुआ।

१९९० में[संपादित करें]

१९९० में खान की केवल एक फ़िल्म रिलीज़ की गई जिसका नाम था बागी: अ रिबेल फॉर लव। इसमें दक्षिण भारत की अभिनेत्री नग़मा मुख्य भूमिका में थी। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल रही थी और[8]इसके बाद वर्ष १९९१ इनके लिए सफल वर्ष साबित हुआ जब इन्होंने लगातार तीन सफल हिट फिल्मों में मुख्य भूमिका निभाई जिनमे ragini mms के फूल, BOSS और BA PASS शामिल है।[9]प्रारंभ में ही बॉक्स ऑफिस पर इन फिल्मों की जबरदस्त सफलता के बावजूद १९९२-१९९३ में रिलीज हुई इनकी तमाम फिल्में असफल रही।[9]

सूरज बड़जात्या के निर्देशन में दूसरी बार सहयोग करने से रोमांस फिल्म हम आपके हैं कौन में सह कलाकार माधुरी दीक्षित के साथ खान ने १९९४ में अपनी पहली सफलता का इतिहास पुन: दोहराया। उस साल की यह सबसे बड़ी हिट फिल्म थी और बालीवुड में सबसे व्यावसायिक सफलता के बावजूद इस फिल्म को दूर दूर से प्रशंसा मिलती रही और खान को भी उनके प्रदर्शन की तारीफ मिली जिसके चलते उन्हें दूसरी बार फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए नामांकन मिला। उस वर्ष खान की भूमिका वाली तीन और फिल्में रिलीज हुई लेकिन किसी ने भी इतनी सफलता नहीं दिलाई जितनी कि पहली वाली फिलम ने दिलाई थी। हालांकि सह कलाकार आमिर ख़ान के साथ इनकी फिल्म अंदाज अपना अपनाके रिलीज होने के बाद से ही इनके प्रदर्शन के लिए इन्हें प्रशंसा मिल गई थी। १९९५ में इन्होंने राकेश रोशन की ब्लॉकबस्टर फिल्म करण अर्जुन से अपनी सफलता को मजबूत किया जिसमें शाहरुख़ ख़ान[9] इनके सह कलाकार थे। यह फिल्म वर्ष की दूसरी सबसे बड़ी हिट फिल्म और इसमें करन की भूमिका ने उसके नाम को एक बार फिर फिल्मफेयर के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए नामित कर दिया गया जिसमें करन अर्जुन के सह कलाकार शाहरूख खान को यह पुरस्कार दे दिया गया था।

१९९६ के बाद दो सफल फिल्में दी हैं। इनमें से पहली संजय लीला भंसाली की दिशात्मक शुरूआतख़ामोशी: द म्यूज़िकल, थी जिसमें सह कलाकार के रूप में मनीषा कोइराला, नाना पाटेकर और सीमा बिस्वास थीं। हालांकि यह बॉक्स ऑफिस पर असफल रही फिर भी समीक्षकों द्वारा सराही गई थी। इनकी अगली सफलता सनी देओल और करिश्मा कपूर के साथ राज कंवर की एक्शन हिट फिल्म जीत से रही। १९९७ में इनकी दो फिल्में जुड़वां और औजार रिलीज़ हुई। पहली वाली फिल्म डेविड धवन के निर्देशन वाली एक हास्य फिल्म थी जिसमें जन्म के समय बिछुड़ जाने के कारण दोहरी भूमिका निभाई थी।

खान ने १९९८ में पांच अलग अलग फिल्मों में काम किया जिसमें उनकी पहली रिलीज प्यार किया तो डरना क्या वर्ष की सबे बड़ी सफल फिल्म साबित हुई इसमें इनकी सह कलाकार काजोल थीं। इसके बाद साधारण सी सफलता दिलाने वाली इनकी फिल्म जब प्यार किसी से होता है[9] आई। खान ने उस युवा पुरूष की भूमिका निभाई थी, जिसे ऐसे बच्चे को संरक्षण में रखना है, जो उसका बेटा होने का दावा करता है। इस फिल्म में खान का प्रदर्शन उनके लिए कई सकारात्मक सूचना एवं उनके आलाचकों से इनके पक्ष में खबरें लेकर आया। वे करन जौहर के निर्देशन वाली पहली

सन्दर्भ[संपादित करें]