सामग्री पर जाएँ

स्थिराक्ष के परितः घूर्णन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
गोला के अपने एक व्यास के परितः घूर्णन
चिरसम्मत यांत्रिकी

न्यूटन का गति का द्वितीय नियम
इतिहास · समयरेखा
इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

स्थिराक्ष के परितः घूर्णन त्रिविम समष्टि में स्थिर घूर्णन अक्ष के परितः घूर्णन का एक विशेष स्थिति है। इस प्रकार की गति में घूर्णन के तात्क्षणिक अक्ष द्वारा अपना अभिविन्यास परिवर्तन की संभावना को शामिल नहीं किया जाता है और यह पुरस्सरण जैसी घटनाओं का वर्णन नहीं कर सकता है। ऑय्लर का घूर्णन प्रमेय के अनुसार, एक ही समय में कई स्थिराक्षों के साथ एक साथ घूर्णन असंभव है; यदि एक ही समय में दो घूर्णनों को बाध्य किया जाता है, तो घूर्तन की एक नूतन अक्ष का परिणाम होगा।

यह अवधारणा मानती है कि घूर्णन भी स्थिर है, जैसे कि इसे चालू रखने हेतु किसी बलाघूर्ण की आवश्यकता नहीं है। एक दृढ़ पिण्ड के एक स्थिराक्ष के परितः घूर्णन की शुद्ध गतिविज्ञान और गति विज्ञान एक दृढ़ पिण्ड के मुक्त घूर्णन की तुलना में गणितीय रूप से बहुत सरल होती है; वे पूर्णतः एक स्थिर दिशा के साथ रैखिक गति के अनुरूप हैं, जो एक दृढ़ पिण्ड के मुक्त घूर्णन हेतु असत्य है। वस्तु की गतिज ऊर्जा और वस्तु के भागों पर लगने वाले बलों हेतु व्यंजक भी सामान्य घूर्ण गति की तुलना में एक स्थिराक्ष के परितः घूर्णन हेतु सरल होती हैं।

सन्दर्भ

[संपादित करें]