अभिकेन्द्रिय बल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जब कोई पिण्ड वृत्तीय [गति]करता है तो [वृत] के केन्द्र की ओर एक [बल] लगता है इस [बल] को ही आभिकेन्द्र [बल] कहते हैं