सलीम द्वितीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सलीम द्वितीय
سليم ثانى
उस्मानिया साम्राज्य के सुल्तान
क़ैसर-ए-रूम
ख़ादिम उल हरमैन अश्शरीफ़ैन
ख़लीफ़ा-ए-इस्लाम
11वें उस्मानी सुल्तान (पादिशाह)
शासनकाल 7 सितम्बर 1566 – 15 दिसम्बर 1574
पूर्वाधिकारी सुलेमान प्रथम
उत्तराधिकारी मुराद तृतीय
मुख्य मलिका नूरबानो सुल्तान
संताने
मुराद तृतीय
शहज़ादा अब्दुल्लाह
शहज़ादा उस्मान
शहज़ादा मुस्तफ़ा
शहज़ादा सुलेमान
शहज़ादा महमद
शहज़ादा जहाँगीर
इस्मिहान सुल्तान
शाह सुल्तान
फ़ातिमा सुल्तान
गौहरख़ान सुल्तान
आयशा सुल्तान
पूरा नाम
सलीम इब्न सुलेमान
शाही ख़ानदान उस्मानी राजवंश
पिता सुलेमान प्रथम
माता ख़ुर्रम सुल्तान
जन्म 28 मई 1524
क़ुस्तुंतुनिया, उस्मानिया
मृत्यु 12/15 दिसम्बर 1574(1574-12-15) (उम्र 50)
क़ुस्तुंतुनिया, उस्मानिया
कब्र आया सोफ़िया मस्जिद, इस्तांबुल
हस्ताक्षर
धर्म सुन्नी इस्लाम

सलीम द्वितीय (उस्मानी तुर्कीयाई: سليم ثانى सेलिम-इ सानी, तुर्कीयाई: II.Selim; 28 मई 1524 – 12/15 दिसम्बर 1574), सार्होश सेलिम, मेश्त सेलिम (Sarhoş Selim; Mest Selim - शराबी सलीम) या सारे सेलिम (Sarı Selim - सुनहरे बालों का सलीम) के नामों से भी मशहूर हैं, 1566 से 1574 में उनकी मौत तक उस्मानिया साम्राज्य के सुल्तान रहे। वे शानदार सुलेमान और ख़ासकी ख़ुर्रम सुल्तान के पुत्र थे। सलीम उस्मानी तख़्त के लिए उम्मीदवार नहीं थे। जब उनके भाई शहज़ादे महमद की मौत चेचक की वजह से हुई, उनके सौतेले भाई शहज़ादे मुस्तफ़ा को उनके पिता के हुकम पर गला घोंटने से मार दिया गया और उनके भाई शहज़ादे बायज़ीद को उनके और उनके पिता द्वारा रचित साज़िश में मार दिया गया था; तब उनके पिता के गुज़रने के बाद वे साम्राज्य के आख़री जीवित वारिस थे। 1566 में शानदार सुलेमान के देहांत के बाद उनकी मौत की ख़बर 50 रोज़ तक जनता से छुपाई गई जिसके बाद सलीम द्वितीय क़ुस्तुंतुनिया में तख़्त नशीन हुआ। उस वक़्त उनकी उम्र 42 साल थी। उस्मानिया साम्राज्य उस वक़्त अपना चरम उत्कर्ष पर पहुँच चुका था।

सन्दर्भ[संपादित करें]