पिनाक मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्चर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पिनाक
Pinaka
Pinaka MBRL
पिनाका ट्रक
प्रकार रॉकेट तोपखाने
उत्पत्ति का मूल स्थान Flag of India.svg भारत
सेवा इतिहास
द्वारा प्रयोग किया भारतीय सेना
युद्ध कारगिल युद्ध
उत्पादन इतिहास
डिज़ाइनर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन
डिज़ाइन किया 1986
निर्माता टाटा पावर एसईडी
लार्सन एंड टुब्रो
आयुध कारखानों बोर्ड[1]
इकाई लागत $ 5.8 लाख[3]
उत्पादन तिथि 1998[2] - वर्तमान
संस्करण 40 कि॰मी॰ (25 मील) मार्क-1
65 कि॰मी॰ (40 मील) मार्क-2
120 कि॰मी॰ (75 मील)
(विकास में)
निर्दिष्टीकरण
कैलिबर 214 मि॰मी॰ (8.4 इंच)
बैरल 12
आग की दर 12 राकेट 44 सेकंड से कम में
अधिकतम सीमा 65 कि॰मी॰ (40 मील)
वारहेड वजन 250 कि॰ग्राम (550 पौंड) तक

इंजन डीज़ल
गति लॉन्चर: 80 किमी/घंटा (50 मील/घंटा)

पिनाक (Pinaka multi barrel rocket launcher) भारत में उत्पादित एक बहुखंडीय रॉकेट लांचर है। और भारतीय सेना के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित किया गया है। इस प्रणाली में मार्क-1 के लिए 40 किलोमीटर और मार्क-2 के लिए 65 किलोमीटर की अधिकतम सीमा है। [4]और 44 सेकंड में 12 उच्च विस्फोटक रॉकेट के उपलक्ष्य फायर कर सकता है। प्रणाली गतिशीलता के लिए यह टाट्रा ट्रक पर आरोहित है। पिनाका कारगिल युद्ध के दौरान सेवा में रही थी। जहां यह पर्वत चोटियों पर दुश्मन पदों को निष्क्रिय करने में सफल रही थी। इसके बाद इसे बड़ी संख्या में भारतीय सेना में शामिल कर दिया गया है। [5][6]

2014 तक, हर वर्ष लगभग 5000 मिसाइल का उत्पादन किया जा रहा है, जबकि एक उन्नत संस्करण उन्नत श्रेणी और सटीकता के साथ विकास के अंतर्गत है।[7]

विकास[संपादित करें]

भारतीय सेना रूसी बीएम-21 'ग्रैड' लांचरों का संचालन करती थी। 1981 में एक लंबी दूरी की तोपखाने प्रणाली के लिए भारतीय सेना की आवश्यकता के जवाब में, भारतीय रक्षा मंत्रालय ने दो आत्मविश्वास निर्माण परियोजनाओं को मंजूरी दी। जुलाई 1983 में, सेना ने प्रणाली के लिए अपने जनरल स्टाफ क्वालिटेटिव की आवश्यकता (जीएसक्यूआर) तैयार की। और साथ ही 1995 से प्रति वर्ष एक रेजिमेंट बनाने की योजना बनाई। यह प्रणाली अंततः रूसी बीएम-21 ग्रेड की जगह लेगी।

पिनाक का विकास दिसंबर 1986 में शुरू हुआ, जिसमें 26.47 करोड़ रुपये का स्वीकृत बजट था। विकास दिसंबर 1992 में पूरा किया जाना था। आर्ममेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टाब्लिशमेंट, पुणे स्थित डीआरडीओ प्रयोगशाला, ने इस प्रणाली का विकास किया।[8]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Defence News - 5,000 Pinaka Rockets To Be Produced Every Year". अभिगमन तिथि 23 December 2014.
  2. "Pinaka Multibarrel Rocket Launcher". अभिगमन तिथि 23 December 2014.
  3. India developed and successfully tested cheapest indigenously developed multi-barrel Pinaka rocket launcher
  4. "Pinaka Mark-II Rocket Hits Target". The New Indian Express. अभिगमन तिथि 23 December 2014.
  5. "Pinaka rocket system wins DRDO award". Sakaal Times. 22 April 2013. अभिगमन तिथि 24 July 2013.
  6. "Union Government cleared 1500 crore Rupees Proposal for Pinaka Rockets". Jagran Josh. 25 March 2013. अभिगमन तिथि 24 July 2013.
  7. "Pinaka Rockets". PIB, Govt of India. अभिगमन तिथि 6 December 2014.
  8. Pinaka MBRL on GlobalSecurity.org

सन्दर्भ[संपादित करें]