एडवांस एयर डिफेंस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एडवांस एयर डिफेंस
Advanced Air Defence (AAD)
AAD Launch Crop.jpg
एडवांस एयर डिफेंस
प्रकार इंडो वायुमंडलीय एंटी बैलिस्टिक मिसाइल
उत्पत्ति का मूल स्थान Flag of India.svg भारत
सेवा इतिहास
सेवा में उपपादन चरण
उत्पादन इतिहास
निर्माता रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन
उत्पादन तिथि 6 दिसंबर 2007
निर्दिष्टीकरण
वजन 1,200 कि॰ग्राम (2,600 पौंड)
लंबाई 7.5 मी॰ (25 फीट)
व्यास <0.5 मी॰ (1.6 फीट)

विस्फोट तंत्र काइनेटिक मार

इंजन एकल चरण[1]
फेंकने योग्य ठोस ईंधन
उड़ान छत 30 कि॰मी॰ (19 मील)

SAM operational range = 150 कि॰मी॰ (93 मील) - 200 कि॰मी॰ (120 मील)

गति मेक 4.5
मार्गदर्शन प्रणाली जड़त्वीय नेविगेशन प्रणाली
भूमि आधारित मध्य पाठ्यक्रम सुधार
सक्रिय रडार डाक (अंतिम चरण)
प्रक्षेपण मंच ट्रांसपोर्टर निर्माता लांचर 8 × 8

गतिशीलता g-सीमा= +25 से +30g के बीच[2]

एडवांस एयर डिफेंस या अश्विन बैलिस्टिक मिसाइल इंटरसेप्टर (Advanced Air Defence या Ashwin Ballistic Missile Interceptor) 30 किमी (19 मील) की ऊंचाई पर इंडो-वायुमंडल में आने वाली बैलिस्टिक मिसाइलों अवरोधन करने के लिए बनायीं गयी एक एंटी-बैलिस्टिक मिसाइल है।[3] एएडी एकल-चरण, ठोस-इंधन वाला मिसाइल है। इसकी मार्गदर्शन प्रणाली पृथ्वी एयर डिफेंस के समान है: इसमें जड़त्वीय नेविगेशन प्रणाली, जमीन के आधार पर रडार से मिडस्केस अद्यतन और टर्मिनल चरण में सक्रिय रडार आदि है। यह मिसाइल 7.5 मीटर (25 फीट) लंबा है, इसका वजन लगभग 1.2 टन और 0.5 मीटर (1 फीट 8 इंच) से कम का व्यास है।

6 दिसंबर 2007 को, एएडी ने सफलतापूर्वक एक संशोधित पृथ्वी-2 मिसाइल को अवरुद्ध कर दिया, जो दुश्मन देश की आने वाली बैलिस्टिक मिसाइल के लक्ष्य के रूप में अभिनय कर रही थी। एंडो-वायुमंडलीय अवरोध 15 किमी (9.3 मील) की ऊंचाई पर किया गया था। इंटरसेप्टर और सभी इसमे खरे उतरे। यह प्रक्षेपण दिल्ली में डीआरडीओ भवन के नियंत्रण कक्ष में एक वीडियो लिंक के माध्यम से दिखाया गया था।

परीक्षण की घटनाओं का क्रम इस प्रकार था: सुबह 11 बजे पृथ्वी (मिसाइल) को चंडीपुर ओडिशा में एकीकृत टेस्ट रेंज (आईटीआर) के लांच कॉम्प्लेक्स 3 से लॉन्च किया गया था। कोनार्क,पारादीप में रडार ने मिसाइल का पता लगाया और लगातार इसे ट्रैक किया। आगे की प्रक्रिया के लिए लक्ष्य सूचना को मिशन नियंत्रण केंद्र पर भेजा गया था। मिशन नियंत्रण केंद्र ने लक्ष्य को वर्गीकृत किया, मिसाइल के प्रक्षेपवक्र की गणना की और चांदीपुर से 70 किमी (43 मील) समुद्र के पार अब्दुल कलाम द्वीप (व्हीलर द्वीप) पर स्थित एएडी बैटरी को लक्ष्य सौंपा। एएडी लॉन्च किया गया। जब पृथ्वी मिसाइल 110 किमी (68 मील) के एक दूरतम बिन्दु पर पहुंच गया। एडवांस एयर डिफेंस ने 15 किमी (9.3 मील) की ऊंचाई पर और 4 मेक की गति से पृथ्वी (मिसाइल) को प्रत्यक्ष हिट किया। रडार ने बड़ी संख्या में पटरियों का गठन किया, जिससे पता चलता है कि लक्ष्य कई टुकड़ों में टूट गया था। अर्थात एडवांस एयर डिफेंस मिसाइल ने पृथ्वी (मिसाइल) के टुकडे-टुकडे कर दिए थे। व्हीलर द्वीप पर स्थित थर्मल कैमरों ने थर्मल इमेजेस के माध्यम से सीधे हिट करने की चित्र दिखाए।

भारत द्वारा किए गए दो सफल इंटरसेप्टर मिसाइल परीक्षणों के चलते। वैज्ञानिकों ने कहा है कि एडवांस एयर डिफेंस मिसाइल को एक नई विस्तारित सीमा (150 किमी (9 3 मील)) तक सतह से हवा वाली मिसाइल में संशोधित किया जा सकता है जिसका संभवतः 'अश्विन' नाम रखा जा सकता है।

15 मार्च 2010: सोमवार को ओडिशा तट से एडी इंटरसेप्टर मिसाइल परीक्षण निरस्त कर दिया गया था। चूंकि लक्ष्य मिसाइल अपने रास्ते से हट गई और समुद्र में गिर गई थी। एडी मिसाइल को समुद्र पर 15 से 20 किमी की ऊंचाई पर लक्ष्य को अवरुद्ध करना था। लक्ष्य पृथ्वी मिसाइल, सुबह 10:02 बजे चंडीपुर सागर में एकीकृत टेस्ट रेंज के लांच कॉम्प्लेक्स-3 के मोबाइल लांचर से लॉन्च किया गया था।11 किलोमीटर की यात्रा के बाद मिसाइल अपनी गति से विचलित हो गया और समुद्र में जा गिरा। इसे 15 किलोमीटर की यात्रा करनी थी।

26 जुलाई 2010: ओडिशा के पूर्वी तट से व्हीलर द्वीप पर एकीकृत टेस्ट रेंज (आईटीआर) से सफलतापूर्वक एएडी का परीक्षण किया गया।

6 मार्च 2011 को, भारत ने ओडिशा तट से अपनी स्वदेशी विकसित इंटरसेप्टर मिसाइल का लॉन्च किया। भारत ने अपने इंटरसेप्टर मिसाइल से सफलतापूर्वक परीक्षण किया, जिसने बंगाल की खाड़ी पर 16 किमी की ऊंचाई पर एक 'प्रतिकूल' लक्ष्य बैलिस्टिक मिसाइल, संशोधित पृथ्वी मिसाइल को नष्ट कर दिया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Aroor, Shiv (1 February 2007). "Another anti-missile test planned for June". द इंडियन एक्सप्रेस. अभिगमन तिथि 27 January 2008.
  2. https://www.youtube.com/watch?v=-pBQjJXQM7s
  3. "Prithvi Air Defence".