करौली जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{{About|जिला|जिला मुख्यालय|करौली} 26°18′N 26°29′E / 26.3°N 26.49°E / 26.3; 26.4976°21′N 77°16′E / 76.35°N 77.26°E / 76.35; 77.26

करौली ज़िला
karauli जिला
Rajastan Karauli district.png

राजस्थान में करौली ज़िले की अवस्थिति
राज्य राजस्थान, Flag of India.svg भारत
प्रशासनिक प्रभाग भरतपुर प्रभाग
मुख्यालय करौली
जनसंख्या 1458248[1] (2011)
शहरी जनसंख्या 218105
साक्षरता 66.22
लिंगानुपात 861
तहसीलें 7[2]
जिलाधिकारी श्री अभीमन्यु कुमार,IAS
विधानसभा में सीटें 4[3]
प्रमुख सड़कें 11B
आधिकारिक जालस्थल

अनुक्रम

संपादकीय[संपादित करें]

राजस्थान के पूर्वी भाग में स्थित करौली जिले का महत्व को कम आंका नहीं जा सकता है। 19 जुलाई, 1997 को 32 वें जिले के रूप में गठित इस भू-भाग में अनेक विभिन्नताएं पाई जाती हैं। जिले को प्राशासनिक दृष्टि से 6 उपखण्डों में विभाजित किया गया है तो भौगोलिक दृष्टि से भी इस भू भाग को तीन क्षेत्रों क्रमषः डांग क्षेत्र, पहाडी एवं सममतल भू भाग में विभाजित किया जा सकता है।

सांस्कृतिक दृष्टि से भी करौली जिले में अनेक विभिन्नताएं पाई जाती हैं। माड क्षेत्र, जगरोटी के नाम से सांस्कृतिक दृष्टि से विभाजित किया गया है। करौली जिले में सम्पूर्ण रूप बृज संस्कृति का प्रभाव देखने का मिलता है। यहां के मेले, त्यौहार सांस्कृतिक मूल्यों के संवाहक रहे है।

जिले के भू गर्भ में पाए जाने वाला खनिज से भी करौली जिले की पहचान देश-विदेश में है। मंडरायल, मासलपुर, सपोटरा, टोडाभीम एवं हिण्डौन क्षेत्र में अलग-अलग प्रकार के खनिज पदार्थों के भंडार पाए जाते है। यहां का सिलिका स्टोन से वाहनों के सीसे बनाने का कार्य बडे रूप से किया जा रहा है तो सेण्ड स्टोन से निर्मित अनेक ऐतिहासिक एवं आधुनिक इमारतें इसके महत्व को वयां करती है। करौली जिले में पर्वतीय हरियाली का वैभव है तो यहां स्थित सजलतामूलक झरनों, तालाब, जोहड, बांधों में पक्षियों की कलकलाहट सुरम्य वातावरण प्रदान करती है। यहां के भव्य राजप्रसादों के दरो-दीवार जहां इतिहास के उतार-चढाव की गाथा का बखान करते हैं वहीं आकृर्षित छतरियों, एतिहासिक किलों एवं स्मारकों में छुपा यहां का गौरवषाली अतीत अपने आप में अविस्मणीय दस्तावेज के समान परिलक्षित होता है।

यहां के साहित्यकारों और कलाकारों ने इस माटी की सुगंध को परवान चढाने और यहां के आचार-विचार एवं संस्कारों को राष्ट्रीय पहचान दिलाने में अपना प्रषंसनीय योगदान दिया है तो ग्रामीण परिवेश में पल-बढकर यहां के खिलाडियों एवं देश सेवा में सम्मिलित सैनिकों ने इस धरती का मान बढाया है। धार्मिक और साम्प्रदायिक सदभाव की अनूठी मिषाल पेश करते हुए नयनप्रिय पर्यटकीय वैभव से अंलकृत इस धरा पर चार धाम होना ईष्वरीय देन है।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि[संपादित करें]

जिला करौली का क्षेत्र पुराने करौली राज्य तथा जयपुर राज्य की गंगापुर एवं हिण्डौन निजामतों में आता है। कल्याणपुरी नामक इस क्षेत्र को वर्तमान स्वरूप प्रदान करने का श्रेय यदुवंसी राजाओं को जाता है। कार्ल मार्क्स और कर्नल टॉड ने अपनी पुस्तक में भी इसका वर्णन किया है। करौली राज्य अप्रैल 1949 को मत्स्य संघ में सम्मिलित हुआ बाद में जयपुर राज्य के साथ मिलकर वृहत संयुक्त राज्य राजस्थान का भाग बना। राजस्थान सरकार द्वारा 1 मार्च 1997 को सवाईमाधोपुर जिले की पांच तहसीलों को मिलाकर एक अलग जिला करौली का गठन किया। 15 जुलाई 1997 को करौली जिला निर्माण की अधिसूचना जारी करते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री भैरांेसिंह शेखावत ने 19 जुलाई 1997 को इस जिले का उद्धाटन किया। 2011 की जनगणना के अनुसार जिले की जनसंख्या 1458459 तथा क्षेत्रफल 5043 वर्ग किलोमीटर है। राज्य की प्रमुख नदी चम्बल इस जिले को मध्यप्रदेश राज्य से अलग करती है। इस जिले में बहुसंख्या में पाये जाने वाले किले एवं गढ इसके पुराने गौरव की ओर संकेत करते है। इनमें से तिमनगढ, उॅटगिरी, मण्डरायल के किलों का देश के मध्यकालीन इतिहास में प्रमुख स्थान रहा है। तिमनगढ के किले पर यदुवंश की प्रमुखता रही है। सन् 1093 से 1159 में राजा तिमनपाल इस वंश का शक्तिशाली राजा था, जिसने अपनी शक्ति को बढाकर तिमनगढ का निर्माण कराया। ऐतिहासिक महापुरूषों के नाम की अनेक छतरियां इस क्षेत्र में आज भी मौजूद है। तिमनगढ, करौली, हिण्डौन आदि स्थानों में पाये गये प्रारभ्भिक तथा मध्ययुग के मूर्तिकला एवं वास्तुकला के नमूने पुराने समय में भव्य मंदिरों का होना सि़द्ध करते है। राजा मोरध्वज की नगरी गढमोरा करौली जिले में है, जहां आज भी पुराने अवशेष मौजूद है।

प्रशासनिक व्यवस्था[संपादित करें]

प्रशासनिक व्यवस्था के अन्तर्गत जिला कलेक्टर जिले का सर्वोच्च अधिकारी होने के साथ-साथ समस्त प्रशासनिक एवं कानून व्यवस्थाओं के लिए उत्तरदायी है। जिले को छः उपखण्डो करौली, हिण्डौन, सपोटरा, मण्डरायल, टोडाभीम एवं नादौती में विभाजित किया हुआ है। इन उपखण्डों को 5 पंचायत समिति एवं 7 तहसीलों में विभाजित कर क्षेत्राधिकारी निर्धारण किया हुआ है। जिलें में करौली व हिण्डौन दो नगर परिषद  एवं टोडाभीम नगरपालिका हैं। जिले के प्रशासनिक स्वरूप में जनभागीदारी के रूप में एक लोकसभा सदस्य तथा चार विधानसभा सदस्य है।

ब्लॉक पंचायत समिति तहसील ग्राम पंचायत
करौली करौली करौली,

मासलपुर

  • तुलसीपुरा
  • अतेवा
  • बीजलपुर
  • भावली
  • चैनपुर बर्रिया
  • चैनपुरगाधोली
  • डांडा
  • डुकावली
  • फतेहपुर
  • गेरई
  • गुवरेडा
  • गुडला
  • गुनेसरा
  • हरनगर
  • जहागीर पुर
  • जमूरा
  • कंचनपुर
  • करसाई
  • काशीपुरा
  • कैलादेवी
  • खेरिया
  • खोहरी
  • खूब नगर
  • खुंडा
  • कोंडर
  • कोटाछावर
  • कोटामामचारी
  • लौहरा
  • महोली
  • मामचारी
  • माँची
  • माशलपुर
  • नारायणा
  • परीता
  • पिपरानी
  • रघुवंशी
  • राजोर
  • रामपुर
  • रोंड कलां
  • रतिया पूरा
  • रूंध पूरा
  • सैंगरपुरा
  • सायपुर
  • ससेरी
  • सीलोती
  • सेमरदा
हिण्डौन हिण्डौन हिण्डौन
  • अकबरपुर
  • अलीपुरा
  • बरगमा
  • भंगो
  • भुकरावली
  • चांदनगांव
  • चिनायटा
  • दानालपुर
  • ढहरा
  • ढिढोंरा
  • गांवडा मीना
  • गांवडी मीना
  • घौसला
  • गुनसार
  • हुक्मीखेडा
  • इरनिया
  • जगर
  • जटनंगला
  • जटवाडा
  • झारेडा
  • कांचरौली
  • करसौली
  • कटकड
  • खरैटा
  • खेडा
  • खैडीहैवत
  • खेडलीगुर्जर
  • कोटरी
  • क्यारदाखुर्द
  • लहचौडा
  • महूइब्राहिमपुर
  • महूखास
  • मण्डावरा
  • मोठियापुरा
  • नंगलामीना
  • पालनपुर
  • पाली
  • पटौंदा
  • फुलवाडा
  • रेवई
  • सनेट
  • शेरपुर
  • श्रीमहावीरजी
  • सिकरौदामीना
  • सोमला रात्रा
  • सूरौठ
  • टोडूपुरा
  • बझेडा
  • बाजना कंला
सपोटरा सपोटरा सपोटरा
  • अमरवाड
  • अमरगढ
  • औडच
  • बदौडा
  • बगीदा
  • बाजना
  • बालौती
  • बापौती
  • भरतून
  • बूकना
  • चौडागांव
  • डाबरा
  • दौलतपुरा
  • डीकोली कलां
  • एकट
  • गज्जुपूरा
  • गोठरा
  • हाडौती
  • हरिया का मंदिर
  • इनायती
  • जाखौदा
  • जिरौता
  • जोडली
  • कालागुडा
  • कांचरौदा
  • खेडला
  • कुडगांव
  • लेदिया
  • लूलौज
  • महमदपुर
  • नारौली डांग
  • निभेरा
  • सलेमपुर
  • सपोटरा
नादौती नादौती नादौती
  • बागोर
  • बाड़ा
  • बड़ागॉव
  • बरदाला
  • भीलापाडा
  • चिरावडा
  • दलपुरा
  • दलपुरा
  • दलपुरा
  • दलपुरा
  • ढहरिया
  • ढहरिया
  • धौलेटा
  • गढखेड़ा
  • गढमोरा
  • गुढाचन्द्रजी
  • जीतकीपुर
  • कैमा
  • कैमरी
  • केमला
  • कुंजेला
  • मेंढे का पुरा
  • नादौती
  • पाल
  • रायसना
  • राजाहेडा
  • रौंसी
  • सलावद
  • शहर
  • सोप
  • तालचिड़ा
  • तेसगॉव
  • तिमावा
टोडाभीम टोडाभीम टोडाभीम
  • अजीजपुर
  • उरदेन
  • कटारा अजीज
  • कन्जोली
  • कमालपुरा
  • करीरी
  • किरवाड़ा
  • कुढावल
  • खेडी
  • खोहरा
  • गोरडा
  • जगदीशपुरा
  • जौल
  • झाड़ीसा
  • तिगरिया
  • देवलेन
  • धवान
  • नांगल मांडल
  • नांगल शेरपुर
  • निसूरा
  • पदमपुरा
  • पहाडी
  • पाडला खालसा
  • बालघाट
  • बौंल
  • भजेड़ा
  • भण्डारी
  • भनकपुरा
  • भोपुर
  • मण्डेरू
  • महमदपुर
  • महस्वा
  • मांचडी
  • मातासूला
  • मान्‍नौज
  • मुडिया
  • मोरडा
  • रानोली
  • लपावली
  • शहराकर
  • शेखपुरा
  • सिंघनिया
  • सॉकरबाड़ा
मंडरायल मंडरायल मंडरायल
  • बहादरपुर
  • भाँकरी
  • बुगडार
  • चंन्देलीपुरा
  • दरगमा
  • धौरेटा
  • गढी गाँव
  • गुरदह
  • करणपुर
  • कसेड
  • लांगरा
  • महाराजपुरा
  • मंडरायल
  • मौगेपुुरा
  • नानपुर
  • नीदर
  • औड
  • पांचौली
  • राहिर
  • रानीपुरा
  • रौधई
  • टाडा
  • वाटदा

वनस्पति, वन सम्पदा[संपादित करें]

Maheshvara ki kho

जिले मे पाये जाने वाले महत्वपूर्ण पेड़ नीम बबूल ,बेरी, धौंक, रोंझ,तेन्दु, सालर, खैर, सनथा, जामुन, आम, घनेरी, बॉस, खेजडा, बरगद, पीपल आदि है। इस क्षेत्र में पाई जाने वाली प्रमुख जडी बूटियॉ ओधीझाडा, चीचड़ा, पोलर, कालीलम्प, लपला, कैंच, गूगल आदि है। जिले में स्थित वनों से इमारती लकड़ी, ईधन, लकड़ी का कोयला, पशुओं के लिए चारा, घास-फूस, तेन्दूपत्ता, गोंद, धौक के पत्ते, शहद, मोम, जड़ी बूटियॉ फल, कत्था, कंरज तथा दूसरी अन्य उपयोगी वस्तुए  प्राप्त होती है।

जीव जन्तु[संपादित करें]

जिला करौली  वन्य प्राणियों के मामले में सम्पन्न है इसमें विभिन्न प्रकार के वन्य जीव पाये जाते है जिनमें तेन्दुए , जंगली कुत्ता, सांभर, नील गाय, चीतल, चिंकारा, जंगली सुअर, रीछ प्रमुख हैं। जिलें में कैलादेवी वन्य अभ्यारण्य सन 1983 में स्थापित किया गया था, जिसको सन 1991 में रणथम्भौर रिजर्व के नजदीक मानते हुए संरक्षित वन क्षेत्र एवं वन्य जीव अभ्यारण्य घोषित किया गया है जिसमे यदा कदा बाघ देखे जा सकते है। अभ्यारण्य का क्षेत्रफल 674 वर्ग कि0मी0 है।

फसल[संपादित करें]

जिले मे तीनों  मौसमों में फसल की बुबाई का कार्य होता है खरीफ वर्षा पर आधारित है। जो जुलाई  माह में प्रारम्भ होता है । इसमें बोई जाने वाली मुख्य फसलें बाजरा, मक्का, तिल, ज्वार, ग्वार आदि हैं। रबी की बुवाई अक्टूबर से प्रारम्भ होती है, जिसमें मुख्यतया जौ, चना, गेहू , सरसों की बुवाई होती है। यहॉ के लोगो का मुख्य व्यवसाय कृषि एवं खनन कार्य है। भूमिगत पानी की कमी एवं सिंचाई सुविधा की कमी के कारण कृषि मुख्यतया वर्षा पर निर्भर है। कृषि विपणन के लिए जिले में हिण्डौन में कृषि उपज मण्डी एवं करौली, टोडाभीम में गौण मंडी हैं।

हस्तकला[संपादित करें]

करौली की हस्तकला में प्रमुख स्थान लाख की चूडियों का है लगभग एक लाख रूपये की चूडियों का प्रतिवर्ष अन्य प्रांतों में निर्यात किया जाता है। चूडियों बनाने का काराबार जिले में हिण्डौन एवं करौली शहरों में स्थानीय लखेरा एवं मुस्लिम सम्प्रदाय के लोगों द्वारा किया जाता है। इस कार्य में करीब पांच सौ लोगों को रोजगार मिला हुआ है। इसके अलावा करौली जिले में लकडी के खिलौने, घरेलू उपयोग की सामग्रियों में चकला-बेलन,  दही बिलौने की रई,  लकके चम्मच एवं चारपाई व दीवान आदि भी बनाएं जाते हैं। वर्तमान में पत्थर तराषी कर मूर्तियों एवं जाली झरोखे बनाने का कार्य भी रीको क्षेत्र हिण्डौन व करौली में किये जाने लगा है।

ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक स्थल[संपादित करें]

Rajvilas karauli

वर्तमान जिला मुख्यालय करौली राजपूतानें की प्राचीन रियासतों में से एक प्रमुख रियासत थी। यहां के शासकों का सन 1100 से लेकर सन 1947 तक का गौरवशाली इतिहास रहा है। रियासत के यदुवंशी राजाओं ने अपनी गरिमा की सुरक्षा, प्रजा के संरक्षण व प्राकृतिक आपदाओं के संधारण हेतु अनेक महल, किले व गढियों का निर्माण कराया। इन महलों किलों व गढियों में वास्तु विशेषज्ञता, स्थापत्य कला और चित्रकारी के दुर्लभ नमूने देखने को मिलते है। एक प्राचीन राज्य होने के कारण करौली में ऐतिहासिक, धार्मिक व पर्यटक महत्व के स्थानों की बहुलता के साथ क्षेत्र में पुरा वैभव विखरा पडा है।

करौली शहर[संपादित करें]

करौली जिला मुख्यालय पूर्व में करौली राज्य की राजधानी थी। करौली कस्बे की स्थापना 1348 में यादववंश के राजा अर्जुनपाल ने की थी। इसका मूलतः नाम कल्याणपुरी था जो कल्याणजी के मन्दिर के कारण प्रसिद्ध था। इसको भद्रावती नदी के किनारे होने के कारण भद्रावती नगरी भी कहा जाता था। करौली कस्बा चारों तरफ से लाल स्टोन से निर्मित है, जिसकी परिधि 3.7 कि0मी0 है जिसमें 6 दरवाजे 12 खिडकियॉ है। महाराज गोपालसिंह के समय का एक खूबसूरत महल है जिसके रंगमहल एवं दीवाने आम को शीशाओं से बडी खूबसूरती से बनाया गया है। इस कस्बे में काफी संख्या में मन्दिर है जिसमें प्रमुख मन्दिर मदनमोहनजी का है। यह मन्दिर सेन्दर बरामदे एवं सुसज्जित पेन्टिंग से निर्मित है तथा महाराजा गोपालसिंह जी के द्वारा जयपुर से लायी गयी काले मार्बल से निर्मित मदनमोहनजी की मूर्ति है। प्रत्येक अमावस्या को मेला लगता है, जिसमें हजारो की संख्या में लोग दर्शनार्थ आते है करौली मे जैन मन्दिर, जामा मस्जिद, ईदगाह अंजनी माता मन्दिर,गोविन्द देव जी मन्दिर आदि भी धार्मिक आस्था के स्थान है।

हिण्डौन सिटी[संपादित करें]

हिण्डौन नगर करौली जिले की सबसे बडी नगरी है। इस पौराणिक एवं ऐतिहासिक नगर की स्थापना किसने की इसके सम्बन्ध में इतिहासकार एकमत नही हैं। सम्भवतः यह भूमि हिरण्यकश्यप व भक्त प्रहलाद की कर्म भूमि रही है। यहां पर आज भी नृसिंह मन्दिर, प्रहलाद कुण्ड, हिरण्यकश्यप के महल, बावड़ियों के अवशेष हैं। यहां से कुछ दूरी पर कुण्डेवा, जगर, दानघाटी पौराणिक स्थान है। जनश्रुतियो के अनुसार महाभारत कालीन हिडिम्बा नामक राक्षसी की कर्मस्थली भी यही क्षेत्र रहा था। हिण्डौन वर्तमान में जिले का प्रमुख औद्योगिक वाणिज्यिक नगर है यहां से उत्तर-मध्य रेलवे का दिल्ली मुम्बई मार्ग गुजरता है साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग 11 से दूरी 41 कि0मी0 है। यहां पर पत्थर तरासी, स्लेट उद्योग का करोबार बडे स्तर पर किया जाता है। 

तिमनगढ का किला[संपादित करें]

तिमंगढ़ किला करौली राजस्थान

यह किला जिला मुख्यालय करौली से 42 किलोमीटर दूर मासलपुर कस्बे के पास स्थित है। यहां बेजोड़ पुरातत्व संबंधी मूर्तियॉ हैं। प्रचलित मान्यता के अनुसार संवत् 1244 में यदुवंशी शासक तिमनपाल ने इस किले का निर्माण कराया थां। कुछ इतिहासकार इस किले को 1000 वर्ष से अधिक प्राचीन बताते है किले के अन्दर कई शिलालेखो, उपलब्ध प्राचीन कृतियों से पता चलता है कि इसे किसी शिल्पी व कलाप्रेमी ने बसाया था, जो बाद में शासकों के कब्जे मे चला गया। किले के चारों ओर पांच फीट मोटा तथा करीब 30 फीट ऊंचा परकोटा स्थापत्य कला का अनूठा नमूना है। किले के भीतर बाजार, फर्श, बगीची, मन्दिर, कुंए कि अवशेष आज भी मौजूद हैं। पूरा किला अपने अन्दर एक पूरा नगर समेटे हुए हैं। प्रवेश द्वार पर अक्सर ब्रह्मा, गणेश की मूर्तिया नजर आती है, लेकिन यहॉ प्रेत व राक्षसों के चित्र देखने को मिलते है। किले मे जगह -जगह खण्डित मूर्तियो को देखने से ऐसा लगता है कि यहा मूर्तियों की बहुत बडी मण्डी थी। दुर्ग मे छोटे - छोटे कमरे भी हैं, जो संभवतः स्नानघर के काम आते होंगे।

मण्डरायल दुर्ग[संपादित करें]

करौली के दक्षिण में 40 किलोमीटर दूर चम्बल नदी के किनारे पर्वत श्रंृखलाओं के बीच एक छोटी सी पहाडी पर लाल पत्थरो से बना यह दुर्ग ग्वालियर राज्य के निकट होने के कारण सामरिक दृष्टि से महत्वर्पूण रहा है। दुर्ग के सूरज पोल में सूर्योदय से सूर्यास्त तक प्रकाष की किरणें रहती है। सन् 1327 में महाराजा अर्जुन देव ने इस किले पर कब्जा किया था जो अन्त तक करौली राजवंष के अन्तर्गत रहा।

उंट गिरि दुर्ग[संपादित करें]

15 वी शताब्दी में स्थापित यह दुर्ग करणपुर के कल्याण पुरा गांव की ऊंची पर्वत श्रृंखला की सुरंगनुमा पहाडी पर स्थित है। लगभग 4 कि0मी0 क्षेत्र में फेले इस दुर्ग में 100 फुट की ऊंचाई से नीचे षिवलिंगों पर पानी गिरता है। इस पानी में बडी मात्रा में षिलाजीत मिलता है। यह दुर्ग भी सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा है। 1506-07 ई. में सिकन्दर लोदी ने इस पर आक्रमण किया था उस समय इसे ग्वालियर किले की कुंजी कहा जाता था। अंतिम मुगल सल्तनत तक इस किले पर यदुवंषियों का ही आधिपत्य रहा।

देव गिरि[संपादित करें]

उंट गिरि के पूर्व में चम्बल नदी के किनारे स्थित यह किला खण्डहर होते हुए भी अतीत की अनेक घटनाओं का साक्षी है। परकोटे के नाम पर आज कुछ भी नही मिलता साथ ही अन्दर के सभी आवासीय भागों को नष्ट किया जा चुका है। सन् 1506-07 ई. में सिकन्दर लोदी के आक्रमण के समय इस किले को सबसे अधिक नुकसान पहुचाया गया। वर्तमान में यहां एक बावडी, जर्जर होता शिलालेख तथा कुछ हवेलियों के अवशेश है।

बहादुरपुर का किला[संपादित करें]

करौली जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर मण्डरायल मार्ग पर ससेड गांव के पास जंगल और सुनसान वातावरण में अटल योद्वा सा खडा बहादुरपुर का किला मुगलकालीन स्थापत्य कला का बेजोड नमूना है। दो मंजिला नृप गोपाल भवन, सहेली की बाबडी कलात्मक झरोखे 18 फीट लम्बी चीरियों की आमखास कचहरी, पंचवीर, मगधराय की छतरी दर्षनीय है। यदुवंशी राजा तिमनपाल के पुत्र नागराज द्वारा निर्मित इस किले का विस्तार सन 1566 से 1644 तक होता रहा। जयपुर के राजा सवाई जयंसिंह ने इस किले में तीन माह तक प्रवास किया था। 

शहर किला एवं छतरी[संपादित करें]

नादौती तहसील के ग्राम शहर में यह किला उंची पहाडी पर बना हुआ है तथा आज भी सुरक्षित एवं आबाद है। यहॉ के ठिकानेदार आमेर के राजा पृथ्वीराज के पुत्र पच्चाण के वंषज है। इसमें देवी का प्राचीन मंदिर है।

फतेहपुर किला[संपादित करें]

करौली जिला मुख्यालय से लगभग 30 कि.मी. दूर कंचनपुर जाने वाले मार्ग पर स्थित यह किला यदु शासकों के एक बडे जागीरदार हरनगर के ठाकुर घासीराम द्वारा 1702 ई. में निर्मित किया गया। यह किला सुरक्षित अवस्था में है।

किला नारौली डांग[संपादित करें]

सपोटरा उपखण्ड मुख्यालय से 12 दूरी पर स्थित यह किला  पहाडी के उपर बना हुआ है। तत्कालीन करौली एवं जयपुर रियासतों की सीमा पर स्थित नारौली डांग गांव में स्थानीय जागीरदार द्वारा इसका निर्माण कराया गया था।

भॅवरविलास पैलेस[संपादित करें]

करौली के पूर्व शासक रहे राजा भंवर पाल के नाम से पूर्व नरेषों का यह आवास उत्कृष्ट वास्तु एवं षिल्प समेटे हुए नगर के दक्षिण में मंडरायल रोड पर स्थित है। वर्तमान में इसे होटल का रूप दिया हुआ है।

रामठरा किला[संपादित करें]

भारत के प्रमुख वन्य जीव अम्भारण्य रगथम्भोर एवं घना पक्षी बिहार भरतपुर के बीच करौली जिले के सपोटरा उपखण्ड में स्थित रामठरा फोर्ट कैलादेवी राष्ट्रीय अम्भारण्य से मात्र 15 किलोमीटर दूर है।

हरसुख विलास[संपादित करें]

सर्किट हाउस हरसुखविलास

करौली में आने वाला प्रत्येक अतिथि हरसुख विलास की वास्तु एवं शिल्प से प्रभावित हुए बिना नही रह सकता इसमें वर्तमान में सर्किट हाउस स्थित है।

सुख विलास बाग एवं शाही कुण्ड[संपादित करें]

 जिला मुख्यालय स्थित भ्रदावती नदी के किनारे एक सुन्दर महलनुमा चारदिवारी के अन्दर बाग लगाया गया था जिसका उपयोग रानियॉ अपने आमोद-प्रमोद के लिए करती थी इसे सुख विलास बाग कहते है। शहर के पर कोटे के बहार सुखविलास के पास भव्य शाही कुण्ड बना हुआ है तीन मंजिला बावडीनुमा इस कुण्ड की बनावट अद्वितीय है इसमें प्रत्येक मंजिल पर बरामदे एवं उतरने हेतू चारो तरफ सिढियां बनी है। रियासत काल में इस कुण्ड का उपयोग शहर में पेयजल सप्लाई के लिए किया जाता था।

दरगाह कबीरशाह[संपादित करें]

Kabir shah ki Majar

करौली पश्चिमम द्वार पर वजीरपुर गेट एवं सायनाथ खिडकियां के मध्य आज से लगभग 120 वर्ष पूर्व बनाई गई एक सूफी संत की दरगाह उत्कृष्ट शिल्प का नमूना है। इसकी खासियत यह है कि इसमें दरवाजे भी पत्थर के बनाये हुए है। पत्थर पर की गई नक्कासी बरबस ही दर्शकोको का मन मोह लेती है।

कबीर शाह की दरगाह करौली

कबीर शाह का जन्म 13 वी शताब्दी में हुआ ,और वे अल्लाह के बन्दे थे |वे कहतें थे कि हम सभी अल्लाह के बेटे |                                                                   

कबीर शाह की दरगाह पत्थर की बनी हुई है और इसके दरवाजे पत्थर के बने हुए है ,और ऐसी  संसार में  कही भी नहीं है |इसका निर्माण 14 वी शताब्दी में हुआ ,इसमें चार दरवाजे पत्थर के बने हुए है और दरवाजे पर नक्काशी हो रही है जिसके कारण लोगो को बहुत पसंद आती है , और इसमें दरगाह के उपर पर सात धातुओ का गुम्बद बना हुआ है |इस दरगाह को बनवाने के लिए जयपुर से पत्थर मंगवाये थे और करौली  के ही कारीगरो ने ही इसे बनाया था ,इसमें विभिन्न प्रकार की कला आकृति बनी हुई है |इसमें बहुत सी कला आकृति की खिड़किया बनी हुई है और साथ में उनके शिष्य की भी कब्र बनी हुई है कुछ लोग बताते है की कबीर शाह पखीर थे और वे लोगो को अल्लाह के बारे में बताते थे |कबीर शाह की मृतु हुई तब उनकी कब्र को उसमे ही दफना दिया |       

यह करौली के पश्चिम गेट पर वजीरपुर गेट एवम सायनाथ खिडकिया के पास बनी हुई है |

 रावल पैलेस (राजमहल)[संपादित करें]

तेरहवी शताब्दी में स्थापित राजमहल (रावल पैलेस) लाल व सफेद पत्थर के शिल्प का बेजोड नमूना है। नक्कषी व कलात्मक चितराम से सुसज्जित विषाल द्वार, जालीदार झरोखे, तोपखाना, नाहर कटहरा, सुर्री गुर्ज, गोपालसिंह अखाडा, भॅवर बैंक, नजर बगीची, मानिक महल, फब्बारा कण्ड, बारह दरी, गोपाल मन्दिर, दीवान ए आम, फौज कचहरी, किरकिरी खाना, ज्ञान बॅगला, षीष महल, मोतीमहल, हरविलास, रंगलाल, गेंदघर, टेडा कुआ, जनानी ड्यौढी आदि कुषल स्थापत्य के साथ-साथ यहां की सभ्यता व संस्कृति के परिचायक है। 

अन्य[संपादित करें]

करौली में महाराजा गोपालसिंहजी की छतरी, रणगमा तालाब, सुख विलास कुण्ड, एवं शिकारगंज आदि करौली के पुरा वैभव प्रतीक है। साथ ही जिले के सपोटरा में नारौली डांग का किला, गढमोरा (नादौती) में राजा मोरध्वज का महल व मन्दिर, षहर सोप का ऊची पहाडी पर निर्मित किला, हिण्डौन की पुरानी कचहरी व प्रहलाद कुण्ड जैसे दर्षनीय ऐतिहासिक स्थल हमारी संस्कृति की पहचान है। 

धार्मिक स्थल[संपादित करें]

महावीर जी[संपादित करें]

Shri Mahavirji - left view

दिगम्बर जैन संप्रदाय का भारत का एक प्रमुख स्थान है। यहा पर भगवान महावीर की 400 वर्ष पुरानी मूर्ति है। महावीर जी में निर्मित मन्दिर आधुनिक एवं प्राचीन शिल्पकला का बेजोड़ नमूना है। मन्दिर को एक बहुत बडे प्लेटफार्म पर सफेद मार्बल से बनाया गया है। इसकी छतरी दूर से दिखायी देती है, जो लाल बलुआ पत्थर की है। मन्दिर पर नक्काशी का कार्य भी अति सुन्दर है। मन्दिर के ठीक सामने मान स्तम्भ बना हुआ है। जिसमें जैन तीर्थकर की प्रतिमा है। मन्दिर के पीछ कटला एवं चरण मन्दिर है, जहां पर दर्शनार्थी श्रद्वापूर्वक दर्शन को जाते है। प्रतिवर्ष चैत्र सुदी 11 से बैशाख सुदी 2 तक (मार्च-अप्रैल) मेला लगता है, जिसमें लाखों लोग विभिन्न क्षेत्रों से यहां आते हैं। मेले के अन्त में रथया़त्रा का आयोजन किया जाता है।

कैलादेवी मन्दिर[संपादित करें]

करौली से 24 कि0मी0 दूर यह प्रसिद्व धार्मिक स्थल है। जहां प्रतिवर्ष मार्च-अप्रैल माह में एक बहुत बडा मेला लगता है।इस मेले में राजस्थान के अलावा दिल्ली, हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश के तीर्थ यात्री आते हैं। मुख्य मन्दिर संगमरमर से बना हुआ है जिसमें कैला(महालक्ष्मी) एवं चामुण्डा देवी की प्रतिमाएंे हैं। कैलादेवी की आठ भुजाओं एवं सिंह पर सवारी करते हुए बताया हैं यहां क्षेत्रीय लांगुरियॉ के गीत विशेष रूप से गाये जाते है। जिसमें लांगुरिया के माध्यम से कैलादेवी को अपनी भक्ति -भाव प्रदर्शित करते है।

बालाजी[संपादित करें]

यह एक छोटा सा गांव टोडाभीम तहसील से 5 कि.मी. दूर है तथा जयपुर आगरा राष्ट्रीय राज्य मार्ग से जुडा हुआ है। हिन्दुों की आस्था का महत्वपूर्ण स्थान है। यहां पर पहाडी की तलहटी में निर्मित हनुमानजी का बहुत पुराना मन्दिर है। लोग काफी दूर-दूर से यहां आते है। ऐसी मान्यता है कि हिस्टीरिया एवं डिलेरियम के रोगी दर्शन लाभ से स्वस्थ होकर लौटते है। होली एवं दीपावली के त्यौहार पर काफी संख्या में लोग यहां दर्शन के लिए आते है।

मदनमोहन जी[संपादित करें]

Madanmohan-ji

श्री मदन मोहन देवालय मुख्यालय के आंचल से महलों के पास वृहद भव्य परिसर के घेरे में स्थित है जहां भगवान राधा मदन मोहन के साथ श्री गोपालजी की मनमोहनी प्रतिमाएं प्रतिष्ठित है। जिनकी सेवा गौड सम्प्रदायी गुसाईयों के माध्यम से बहुत सुन्दर तरीकों से होती आ रही है। मंगला से शयन तक हजारों भक्तों का समूह प्रत्येक झांकी पर उपस्थित रहता है। मदनमोहनजी की कुल आठ झांकी सकल मनोरथ पूर्ण करने वाली है।

शिल्प एवं उद्योग[संपादित करें]

करौली जिले में शिल्प के उत्कृष्ट नमूने पाये जाते है। वास्तुशिल्प के रूप में महाराजा गोपाल सिंह के शासन काल में शिल्प के क्षेत्र में भारी विकास हुआ है। जिसका साक्षात प्रमाण करौली राजमहल के रूप में है। 14वीं शताब्दी में निर्मित यह महल जहां साधारण दिखाई देते है। वहीं इस किले का बाहरी हिस्सा जो 17वीं शताब्दी में बनाया गया था, शिल्प का उत्कृष्ट उदाहरण है। बैहरदह में बौहरों की हवेली एवं करौली नगर के कई कलापूर्ण एवं भवनों का शिल्प दर्शन अपनी ओर आकर्षित कर लेता है। इनके अतिरिक्त मां साहब का मंदिर, दीवान साहब की हवेली, पदम तालाब की हवेलियां एवं रतियापुरा एवं कसारा की परेंडी विशेष शिल्पकला के नमूने है।

पर्यटन[संपादित करें]

Crocodile senture in chamble devghat

पर्यटन के क्षेत्र में करौली सुनहरे भविष्य की ओर इंगित करता है यहां पाए जाने वाले ऐतिहासिक, पुरातात्विक महत्व के किले, स्मारक, यहां की संस्कृति, कैलादेवी अभ्यारण्य क्षेत्र पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षिक करने के लिए पर्याप्त है। पर्यटन उद्योग को बिना लागत का उद्योग माना जाता है। इससे प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष रूप से स्थानीय नागरिक बडी संख्या में लाभान्वित होते है। यहां के मेले, चार प्रमुख आस्था स्थल बरवस ही पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। आने वाले समय में स्थानीय नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों को मिलकर एक नई सोच के साथ कार्य कर इस दिषा में आगे बढना होगा। जिले से लगती चम्बल नदी, पांचना बांध में नौका विहार, ग्रामीण पर्यटन, चम्बल रेवाइंस भ्रमण जैसे कार्यक्रम तैयार किए जा सकते है। करौली को पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए यहां एक प्रमुख पर्यटन मेले की भी आवष्यकता है। इसके साथ ही ऐतिहासिक शिवरात्रि पशु मेले को नागौर पशु मेले की तर्ज पर विकसित कर पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है।

त्यौहार एवं मेला[संपादित करें]

शक्तिपीठ कैलादेवी[संपादित करें]

कैला देवी मंदिर

 उत्तर भारत का प्रमुख शक्ति पीठ कैलादेवी इन दिनों श्रद्धालुओं के आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। पूर्वी राजस्थान के करौली जनपद में स्थित कैलादेवी में यूतो वर्ष पर्यन्त देवी भक्तों का आना जाना बना रहता है. लेकिन शारदीय नवरा़़त्रा के दौरान लगने वाला परम्परागत धार्मिक मेला विषेष महत्वपूर्ण है। राजस्थान, उत्तरप्रदेष, मध्यप्रदेष, हरियाणा, गुजराज एवं दिल्ली के आने वाले भक्तों की आस्था का यह स्थान चैत्र मास में तो जन सैलाव के कारण पूरी तौर से अटा रहता हैै।

राजस्थान, उत्तरप्रदेष एवं मध्यप्रदेष की संस्कृति से ओत-प्रोत कैलादेवी के भक्तों के स्वरों से गॅूजती लांगुरिया गीतों की ध्वनि मेले के दौरान जन-जन को शाक्ति एवं आसक्ति की ओर ले जाती है। बृजभाषा एवं खडी बोली में मुखरित लांगुरिया गीत इस मेले की पहचान कहे जा सकते है। होलिका दहन एवं शीतला माता के पूजन के बाद देवी भक्तों द्वारा लांगुरिया गीतों का गायन घर-बाहर शुरू हो जाता है। जो मेले के दौरान प्रत्यक्ष देखने को मिलता है। नृत्य के साथ लोक संगीत का आनन्द लेने के लिए मेले में पंहुचने वाले लोग सम्पूर्ण रात्रि जागरण में निकाल देते है। मेला अवधि में रात एवं दिन का अन्तर भी काफूर हो जाता है तथा लोगों के सैलाब एवं हलचल में कोई कमी नहीं आती है।

पुरानी देशी रियासत करौली से 23 किलोमीटर दक्षिण में अरावली पर्वत श्रृंखला के त्रिकूट पर्वत की चोटी पर बने कैलादेवी मंदिर का इतिहास भी पुराना है। गोस्वामी केदारगिरी द्वारा 1114 ई0 में कैलादेवी की प्रतिमा की स्थापना किए जाने के बाद इस क्षेत्र के तत्कालीन खीचीं राजा रधुनाथदास ने कैलादेवी के साथ इसी मंदिर में प्रति स्थापित किया। 1348 ई0 में करौली की स्थापना के बाद मंदिर की सार-संभाल करौली के यदुवंशी नरेशों द्वारा की जाने लगी। अकबर के दौलतवाद विजय अभियान पर करौली नरेश गोपालदास के साथ जाने से पूर्व कैलादेवी की मनौती मानने पर विजयी होने का प्रसंग मॉ पर अटूट श्रद्वा से जुडा हुआ है। कैलादेवी जहाँ शक्तिस्वरूपा है, वहीं उसका गण लांगुरिया भैरव स्वरूप है। इसकी प्रतिभा देवी मंदिर के सामने बनी हुई है। मेले के अवसर पर गाये जाने वाले लोक गीत लांगुरिया को ही सम्बोधित करके गाये जाते है।

मंदिर का प्रबन्ध एक ट्रस्ट द्वारा होता है, जिसके अध्यक्ष राजपरिवार के कृष्णचन्द्र पाल है। मेला अवसर पर मंदिर ट्रस्ट, जिला प्रशासन एवं स्थानीय ग्राम पंचायत की संयुक्त व्यवस्था के तहत यात्रियों को आवश्यक सुविधाऐं मुहैया कराई जाती है। कैला ग्राम मंे करीब 170 धर्मशालाऐं यात्रियों के ठहरने के लिए उपलब्ध है।

कैलादेवी से दो किलोमीटर दूर देवी के मूल प्राकृतिक स्थल केदार गिरि की गुफा पर भी नवरात्रा साधना चलती है। लगभग 900 वर्ष पुराना यह आस्था केन्द्र वन्य जी अभयारण्य क्षेत्र  घोषित होने के बाद भक्तों के साथ-साथ पर्यटकों का पहुँचाना भी शुरू हो गया है। कैलादेवी अब उत्तर भारत का प्रमुख धार्मिक पर्यटन स्थल बन चुका है।

जैन धर्म का प्रमुख केन्द्र श्री महावीरजी[संपादित करें]

श्री महावीरजी

सम्पूर्ण भारत के जैन मतावलम्बियों का आस्था केन्द्र श्रीमहावीरजी करौली जिले का प्रमुख धार्मिक पर्यटन स्थल है। यहां यात्रियों को ठहरने एवं भोजन की अच्छी व्यवस्था होने के कारण भक्तों का वर्ष पर्यन्त आना-जाना बना ही रहता है। राज्य एवं जिला स्तर के अनेक सरकारी सम्मेलन एवं गोष्ठियां भी यहां धार्मिक आकर्षण एवं आने-जाने की सुगम व्यवस्था के कारण आयोजित होते है।

लगभग 400 वर्ष पूर्व भूगर्भ से निकालकर भगवान महावीर की ताम्रवर्णी पद्मासन प्रतिमा को मुख्य मंदिर में स्थापित किया गया था। पुरातत्ववेत्ता इस प्रतिमा को एक हजार वर्ष से भी अधिक पुरानी मानते है।

श्रीमहावीरजी का मंदिर संगमरमर का बना हुआ है। मंदिर के अन्दर विराजमान मुख्य प्रतिमा के अलावा 12 अन्य प्रतिमाऐं है, जिन्हें समय-समय पर बाद में स्थापित किया गया है। मंदिर की दीवारों पर सुनहरी चित्रकारी है तथा परिक्रमा में भित्ति चित्रों पर जैन कलाओं को उभेरा गया है। दर्षन पूरे दिन रात्रि 10 बजे तक किये जा सकते है। सायंकाल की आरती का दृष्य बडा मनोहारी होता है।

श्रीमहावीरजी मंदिर एवं अतिषय क्षेत्र के विकास के लिए एक ट्रस्ट प्रतिमा एवं चौबीसा मंदिर है ब्रह्मचारिणी कमलाबाई द्वारा स्थापित आदर्ष महिला विद्यालय परिसर में पार्ष्वनाथ का कांच का जिनालय है। कमलावाई द्वारा संचालित महिला षिक्षण संस्था द्वारा महिलाओं के लिए आवासीय संस्कृत महाविद्यालय एवं विद्यालय, बी.एड.कालेज तथा एस.टी.सी. संचालित है। संस्कृत षिक्षा प्रसार की दृष्टि से यह षिक्षण संस्था राजस्थान में अपना स्थान बनायें हुए हैं।

चैत शुक्ला त्रयोदषी से वैषाल कृष्णा प्रतिपदा तक यहां विषाल मेला लगता है। मेले के अवसर पर आयोजित रथ यात्रा में उपजिला कलेक्टर, हिण्डोन राज्य के प्रतिनिधि के रूप में रथ के सारथी का स्थान ग्रहण करते है। मेले में जैन धर्मावलम्बियों के साथ-साथ क्षेत्रीय लोग भारी संख्या मे सम्मिलित होते हैं। मेले में जैन धर्मावलम्बियों के साथ-साथ क्षेत्रीय लोग भारी संख्या में सम्मिलित होते हैं। राजस्थान सरकार के पर्यटन एवं देवस्थान विभागों ने इस धार्मिक स्थल के विकास के लिए विषेष वित्तिय प्रावधान किया है।

श्रद्धा के पर्याय मेंहदीपुर बालाजी[संपादित करें]

महेन्दीपुर बालाजी

घाटा मेंहदीपुर बालाजी जिला मुख्यालय करौली से उत्तर पश्चिम की ओर 75 किमी दूर एवं राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 11 से दक्षिण दिशा की ओर तीन किमी तथा उपखण्ड मुख्यालय टोडाभीम से 5 किमी. दूर स्थित है। वर्तमान में यह धार्मिक स्थल उत्तर भारत ही नहीं बल्कि दक्षिण भारत के भक्तों का भी आस्था केन्द्र बना हुआ है। मंदिर में हनुमानजी की विशाल प्रतिमा है तथा इस प्रमुख मंदिर के इतिहास के विषय में किवदंती है कि प्राचीन काल में श्रीहनुमानजी महाराज ने बालरूप में जब सूर्य को खाने की वस्तु समझ अपने मुख मे रख लिया था, तब राजा इंद्र ने उन्हें छुडाने के लिए अपने वज्र से हनुमानजी पर प्रहार किया, तो वे भीषण गर्जना करते हुए माता अंजनी की गोद में जा गिरे। बताया जाता है कि इस भीषण गर्जना का प्रभाव करौली जिले की सीमा पर स्थित ग्राम मेंहदीपुर की घाटियों में पाषाण शिलाओं पर हुआ और उनका रूप का आकार एक पवित्र शिला पर उभर गया।

करीब डेढ सौ वर्ष पूर्व एक तपस्वी ऋषि इस स्थान से भ्रमण करते निकले, तो उन्हें अपने अलौकिक ज्ञान से ज्ञात हुआ कि यहां हनुमानजी का पवित्र स्थान है। उन्होने बरसों तक इस स्थान पर तप साधना की ओर भगवान की सेवा करने लगें। धीरे-धीरे यहां अनेक ज्ञानी ऋषि-मुनी आने लगे और इस स्थान की ख्याति दूर-दूर तक फैल गई। बाद में गोस्वामी वंश के पूर्वजों ने यहां सेवा-पूजा की और वे इस मंदिर के महंत कहलाने लगे। अभी तक बीस मंहत इस स्थान की सेवा -पूजा चुके है। देश के हर कोने से श्रृद्धालु यहां आते है, इनके ठहरने के लिए करीब ढाई सौ धर्मशालाएं बनी हुई है। भगवान श्रीराम का मंदिर भी यहां बनाया हुआ है। मंदिर की देखरेख के लिए श्रीबालाजी महाराज घाटा मेहंदीपुर ट्रस्ट का गठन किया हुआ है, जिसके अध्यक्ष महंत किशोरपुरी है। प्रत्येक पूर्णिमा पर मंदिर में छप्पन भोग की झांकी लगाई जाती है। ट्रस्ट द्वारा 300 बिस्तरों का चिकित्सालय, विकलांग आश्रम एवं महिला शिक्षा के प्रसार के लिए महाविद्यालय संचालित है।

लोक आस्था केन्द्र कैमरी का जगदीशजी मंदिर[संपादित करें]

जगदीश जी का मंदिर

करौली जिले की नादौती तहसील के कैमरी ग्राम में स्थित जगदीशजी का मंदिर क्षेत्रीय नागरिकों के श्रद्धा एवं भक्ति का प्रमुख केन्द्र है। वैसे तो यहां दर्शनार्थियों का आना-जाना वर्ष पर्यन्त रहता है, किन्तु बंसत पंचमी के अवसर पर विशेष मेले का आयोजन किया जाता है। मेले के अवसर पर गांव में जगदीशजी की शोभा यात्रा बैंड बाजे के साथ निकाली जाती हैं। शोभा यात्रा भगवान राधाकृष्ण की मूर्ति रथ पर आरूढ की जाती है तथा मंदिर के महंत सारथी के रूप में सवार रथ का संचालन करते है। परंपरागत तरीके के रथ को बारह गांवों के गुर्जर समाज के पटेल खींचते हैं। रथ यात्रा में भक्त गण बेण्डबाजे  कीधुन पर नाचते  एंव  गुलाल उडाते हुए आगे बढते हैं रथ यात्रा का समापन जनकपुरी  पहुंचने  पर होता है। जहां एक सभा  आयोजित की जाती है, सभा  में जगदीश जी की माला की बोली  लगाई  जाती है माला की बोली अनेक बार एक लाख रूपये से भी अधिक की लगती है। मेले में राजस्थान के अलावा उत्तर प्रदेश एवं मध्यप्रदेष के भक्त भी दर्षन लाभ लेने आते हैं।

कृषि[संपादित करें]

कृषि के क्षेत्र में करौली जिले में बागवानी एवं औषधीय फसलों की प्रबल संभावनाएं हैं। डांग क्षेत्र में आंवला, आम, नीबू एवं औषधीय फसलें व पषुपालन से दुग्ध उत्पादन तथा हिण्डौन, टोडाभीम, नादौती, सपोटरा क्षेत्र में परम्परागत खेती के साथ-साथ वैज्ञानिक तकनीकी का सहारा लेकर नए प्रयोग किए जा सकते है। जिले में मध्यम जोत का आकार होने से निजी एवं सहकारिता के रूप में कार्य कर प्रसंस्करण उद्योग भी स्थापित करने की प्रबल संभावनाएं है। जिले का नादौती क्षेत्र जिसे स्थानीय भाषा में ’माड’ कहते है यहां दलहनी एवं तिलहनी फसलों के उत्पादन की अपार संभावनाएं है। फार्म पौण्ड के क्षेत्र में किए गए प्रयासों से आज यह उपखण्ड प्रदेश भर में जल संरक्षण के क्षेत्र में मॉडल के रूप में उभर कर सामने आया है।

सिंचाई[संपादित करें]

जिले में वर्तमान में सिंचाई के स्त्रोतों में पांचना, कालीसिल, नींदर व जगर बांध बृहद स्त्रोत माने जा सकते हैं। आने वाले समय में चम्बल-पांचना जगर लिफ्ट परियोजना, गुडला-पांचना लिफ्ट परियोजना के पूरा हो जाने से करौली, हिण्डौन क्षेत्र का भू भाग भी सोना उगलने लगेगा। वर्तमान में सिंचाई के लिए ड्रिप एवं फब्वारा सिंचाई पद्धति अपनाकर भूजल उपलब्धता के अनुसार फसलों का चयन कर कृषि के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित किए जा सकते है।

उर्जा[संपादित करें]

उर्जा के क्षेत्र में करौली जिला सूर्य के प्रकाष की भांति उदीयमान होने जा रहा है जिले में गुढाचंदीला में 440 केवी विद्युत सबस्टेषन से करौली, दौसा, सवाईमाधोपुर, भरतपुर जिले  रोषन होंगे। करौली में राज्य सरकार की नीति के अनुसार 132 केवी सब स्टेषनों तथा प्रत्येक दो ग्राम पंचायतों के बाद बनने वाले 33 केवी सबस्टेषनों से कृषि, उद्योग एवं घरेलू क्षेत्र में निर्वाध विद्युत आपूर्ति मिलेगी। आने वाले समय में रहूघाट में पन बिजली परियोजना तथा डांग क्षेत्र में पवन ऊर्जा के उत्पादन की प्रबल संभावना है।

शिक्षा[संपादित करें]

शिक्षा को समाज के विकास की धुरी माना जाता है। करौली की प्रतिभाओं ने समय-समय पर देष की प्रशसनिक, इंजीनियरिंग एवं अन्य राजकीय सेवाओं में अपना परचम लहराकर इस जिले का नाम रोषन किया है। आने वाले समय में यहां प्रत्येक उपखण्ड स्तर पर राजकीय महाविद्यालयों, कन्या महाविद्यालयों, इंजीनियरिंग, पोलीटैक्निक महाविद्यालयों की स्थापना से स्थानीय स्तर पर ग्रामीण बालक-बालिकाओं को उच्च अध्ययन की सुविधा मिलेगी। चिकित्सा के क्षेत्र में जिला चिकित्सालय के नवीन भवन के साथ शैक्षणिक सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी।

उद्योग[संपादित करें]

औद्योगिक विकास की दृष्टि से करौली जिले को अभी उदीयमान नहीं कहा जा सकता लेकिन जो प्रयास किए जा रहे हैं अथवा खनिज सम्पदा को देखते हुए आने वाले समय में यह जिला औद्योगिक विकास का केन्द्र बनने की पूरी संभावनाएं रखता है। जिले में हिण्डौन एवं करौली रीको क्षेत्र औद्योगिक विकास की दृष्टि से निरन्तर गतिशील हैं। जिले में पत्थर तराषी के साथ.साथ सिकन्दरा की तर्ज पर मूर्ति निर्माणए कलाकृतियों का निर्माण हिण्डौन में स्लेट उद्य़ोगए प्लास्टिक पाईप उद्योगए दुग्ध उत्पादन एवं संग्रहण इकाईए कृषि.प्रसंस्करण उद्योगए लाख की चूडी उद्योग यहां के परम्परागत उ़द्योगों की श्रेणी में माने जाते हैं। आने वाले समय में करौली के हिण्डौन उपखण्ड में प्रस्तावित इफको का संयंत्रए मंडरायल क्षेत्र में सीमेन्ट उद्योग भविष्य के सुनहरे सपने की ओर इंगित करते हैं।

यातायात[संपादित करें]

यातायात की दृष्टि से करौली जिले में अभी बहुत कुछ होना बाकी है। जिला मुख्यालय को रेलवे लाईन से जोडने की परियोजना, चम्बल नदी पर मंडरायल को मध्यप्रदेष से जोडने वाले पुल का निर्माण, राष्ट्रीय राजमार्ग 11 बी, करौली-हिण्डौन-महवा मेगा हाईवे, करौली में वाईपास का निर्माण जैसे महत्वपूर्ण प्रोजेक्टों के पूरा होने से न केवल यहां बडे स्तर पर लोगो को रोजगार मिलेगा बल्कि एक नए करौली का उदय होगा।

पेयजल[संपादित करें]

पेयजल आपूर्ति की दृष्टि से जिले में वर्तमान में भूगर्भ जल पर आधारित परियोजनाएं ही हैं। गर्मी के मौसम में डांग क्षेत्र एवं पेयजल समस्याग्रस्त गांवों में टेंकरों से पेयजल सप्लाई कर नागरिकों को पेयजल आपूर्ति की जाती है। आने वाले समय में सतही जल पर आधारित परियोजनाएं तैयार करने हेतु नींदर बांध, कालीसिल, पांचना, जगर बांध बेहद उपयोगी सिद्ध होगें   राज्य सरकार द्वारा स्वीकृत चम्बल लिफ्ट परियोजना से जिले की हिण्डौन, नादौती, टोडाभीम एवं करौली उपखण्ड के सैंकडों गांवों में चम्बल का पानी मिलने से पेयजल समस्या से स्थाई छुटकारा मिल सकेगा। वर्तमान में स्थानीय नागरिकों, स्वायत्तषासी संस्थाओं को पेयजल के दुरूपयोग को रोक कर वर्षा जल के संरक्षण पर अधिक से अधिक ध्यान देना होगा।


करौली जिला एक ऐतिहासिक स्थान है। यह पाल राज्वन्श की राजधानी थी। श्री गोपाल सिंह जी यहाँ के पहले राजा थे। करौली रियासत के चार गावँ खास है जो राज दरबार से करीब है। मनोहरपुरा, खुवपुरा, इनायती और राम पुर। मनोहरपुरा, करौली जिले से 25 किलोमीटर दूर्, कैला देवी के मन्दिर के पास स्थित है। राजस्थान सरकार द्वारा 1 मार्च 1997 को सवाईमाधोपुर जिले की पांच तहसीलों को मिलाकर नविन जिले करौली का गठन किया गया|19 जुलाई 1997 को इस जिले का विधिवत उद्घाटन किया गया | जिले के गठन के बाद दो अन्य तहसील मंडरायल व मासलपुर, दो अन्य उपखंड नादौती एवं मंडरायल और एक पंचायत समिति मंडरायल का सृजन हो चुका है| इस प्रकार जिले मे अब कुल 6 उपखंड, 7 तहसील तथा 6 विकास खंड है|

करौली में दो प्रचीन मन्दिर है। कैला देवी और मदनमोहन जी के मन्दिर। कैला देवी का मन्दिर कालीसिल नदी के किनारे स्थित है। कैला देवी मन्दिर से 1 किलोमीटर कि दूरी पर केदार बाबा की गुफा है, यात्री यहाँ भी जाते हैं | कैला देवी मन्दिर मे लक्ष्मी जी, व कालीजी के दर्शन होते हैं और मन की मुराद पूरी होती है करौली में तीन प्रचीन मन्दिर ओर है। नंदे भोमिया,महावीर जैन मंदिर ओर मेहंदीपुर बालाजी मंदिर ओर करौली में मिट्टी से बना एक बिसाल पाचना बाध है नंदे भोमिया की जात पर लक्खी मेला भी भरता है और मंदिर पर आने से मन की मुराद पूरी होती है मंदिर करौली से 7 किलोमीटर दूर है

  1. "Name Census 2011, Rajasthan data". censusindia.gov.in. 2012. http://www.censusindia.gov.in/2011-prov-results/paper2/data_files/Raj/7-popu-10-19.pdf. अभिगमन तिथि: 28-Feb-2012. 
  2. तहसील. https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%A4%E0%A4%B9%E0%A4%B8%E0%A5%80%E0%A4%B2. 
  3. "Rajasthan Vidhansabha [राजस्थान विधानसभा क्षेत्र एवं विधायक]". http://www.rajassembly.nic.in/Const.asp.