इस प्यार को क्या नाम दूं?

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इस प्यार को क्या नाम दूं?
शैली ड्रामा
रोमांस
प्रारूप काल्पनिक
लेखक आकाश पांडे
वेद राज
सुधीर कुमार
गौतम हेगड़े
जानकी
हितेश केवल्या
जयनेश इजारदार
निर्देशक अरशद खान
ललित मोहन
निर्माण का देश भारत
भाषा(एं) हिन्दी
सत्र संख्या 02
प्रकरणों की संख्या 398
निर्माण
निर्माता गुल खान
निस्सार परवेज़
राजेश चड्ढा
स्थल नई दिल्ली
लखनऊ
छायांकन ऋषिकेश गांधी
कैमरा सेटअप बहु कैमरा
प्रसारण अवधि लगभग 24 मिनट
निर्माण कंपनी 4 लॉयन्स फिल्म्स
पंगलोसीन एंटरटेनमैंट
प्रसारण
मूल चैनल स्टार प्लस
मूल प्रसारण 06 जून 2011 – 30 नवम्बर 2012 [1]

इस प्यार को क्या नाम दूं? स्टार प्लस का एक अति लोकप्रिय कार्यक्रम था जो 06 जून 2011 से 30 नवम्बर 2012 तक प्रसारित हुआ था। कार्यक्रम की लोकप्रियता को देखते हुए कार्यक्रम का द्वितीय सत्र इस प्यार को क्या नाम दूं?-एक बार फिर नए पात्रों एवं कहानी के साथ स्टार प्लस पर प्रसारित किया गया।

कहानी[संपादित करें]

यह कहानी अर्णव और खुशी की एक प्रेम कहानी है, जिसमें खुशी लखनऊ में रहने वाली एक लड़की है जो प्यार, रिश्ते, और विश्वास की शक्ति में विश्वास रखती है। अर्णव एक व्यवसायी रहता है। वह एक दूसरे से को बिलकुल पसंद नहीं करते रहते हैं, लेकिन बाद में उन दोनों को मजबूरी में शादी करनी पड़ती है। बाद में जब उन लोगों को लगता है कि वह दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं तब भी वह इस बात को स्वीकार नहीं करते और अंत में जाकर वह इस बात को मान लेते हैं।

पात्र[संपादित करें]

अभिनेता / अभिनेत्री ! भूमिका
बरुन सोबती अर्नव सिंह रायजादा
सनाया ईरानी खुशी कुमारी गुप्ता सिंह रायजादा
दलजीत कौर भानोत अंजलि झा
दीपाली पंसारे पायल गुप्ता सिंह रायजादा
अक्षय डोगरा आकाश सिंह रायजादा
करन गोडवानी नंद किशोर
सना खान लावण्या कश्यप
विशेष बंसल अर्नव रायजादा
संजय बतरा शशि गुप्ता
तुहिना वोहरा गरिमा गुप्ता
आभा परमार मधुमती गुप्ता
जयश्री देवयानी रायजादा
उत्कर्ष नैक मनोरमा रायजादा
राजेश जायस महेन्द्र रायजादा
आभास मेहता श्याम मनोहर झा
श्वाति चिटनिश सुभद्रा देवी
मधुरा नायक शीतल कपूर

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "इस प्यार को क्या नाम दूं... 30 को खत्म". हिन्दी वन इंडिया. 28 नवम्बर 2012. अभिगमन तिथि 7 अक्टूबर 2014.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]