यातायात संकेत (ट्रैफिक साइन)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलिया में वारेगो राजमार्ग पर एक "मार्ग पुष्टि" संकेत, जो चालकों को सूचीबद्ध स्थानों से उनकी दूरी (किलोमीटर में) के बारे में जानकारी देता है.
चित्र:Speedlimitsign.jpg
संयुक्त राज्य अमेरिका में एक संकेत जो मील प्रति घंटे में स्थानीय गति सीमा के बारे में बताता है
आगे आने वाले एक दोहरे मोड़ की चेतावनी देने वाले एक ताइवान संकेत के डिजाइन विनिर्देश
एक स्तंभ पर दो या इससे अधिक संकेतों को प्रदर्शित किया जा सकता है.यहाँ एक कनाडाई सड़क-अंत का निशान एक ग्रामीण हवाई अड्डे के संकेत के साथ दिखाई देता है.

यातायात संकेत (ट्रैफिक साइन) या सड़क संकेत (रोड साइन) , सड़क का उपयोग करने वालों को जानकारी प्रदान करने के लिए सड़कों के किनारे लगाए गए संकेतों को कहते हैं. पिछले आठ दशकों में वाहनों की संख्या में वृद्धि के साथ कई देशों ने अंतरराष्ट्रीय यात्रा को सुविधाजनक बनाने (जहाँ भाषा संबंधी अंतर अवरोध पैदा करते हैं) तथा आम तौर पर यातायात सुरक्षा को बढ़ाने में मदद के लिए सचित्र संकेतों को अपनाया है या अन्यथा अपने संकेतों को सरलीकृत और मानकीकृत किया है. इस तरह के सचित्र संकेतों में शब्दों के स्थान पर चिन्हों (अक्सर छायाचित्रों) का उपयोग किया जाता है और ये आम तौर पर अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल पर आधारित होते हैं. ऐसे संकेतों को सबसे पहले यूरोप में विकसित किया गया था और इन्हें अधिकांश देशों द्वारा विभिन्न स्तरों पर अपनाया गया है.

अनुक्रम

श्रेणियां[संपादित करें]

काऊशुंग, ताइवान में राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 1 पर हरे रंग के दिशात्मक संकेतों का एक समूह.

यातायात संबंधी संकेतों को कई प्रकारों में बांटा जा सकता है. उदाहरण के लिए, सड़क संबंधी चिह्नों और संकेतों पर वियना सम्मेलन (1968) की अनुसूची 1, जहाँ 30 जून 2004 को 52 हस्ताक्षरकर्ता देश शामिल थे, इन संकेतों की आठ श्रेणियों को परिभाषित करती है:

  • क. खतरे की चेतावनी के संकेत
  • ख. प्राथमिकता संबंधी संकेत
  • ग. निषेधात्मक या प्रतिबंधात्मक संकेत
  • घ. अनिवार्य संकेत
  • च. विशेष विनियमन संबंधी संकेत
  • छ. सूचना, सुविधाएं या सेवा संबंधी संकेत
  • ज. निर्देशन, स्थिति या सांकेतिक चिह्न
  • झ. अतिरिक्त पैनल

अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में संकेतों को इस प्रकार वर्गीकृत किया जाता है:

  • विनियामक संकेत
  • चेतावनी संकेत
  • दिशा-निर्देश संबंधी संकेत
    • सड़क संबंधी संकेत (स्ट्रीट साइन)
    • मार्ग दर्शक संकेत
    • एक्सप्रेसवे के संकेत
    • मुक्तमार्ग (फ्रीवे) के संकेत
    • स्वागत संबंधी संकेत
    • सूचना के संकेत
    • मनोरंजन और सांस्कृतिक रुचि के संकेत
  • आपात प्रबंधन (नागरिक सुरक्षा) के संकेत
  • अस्थायी यातायात नियंत्रण (निर्माण या कार्य क्षेत्र) के संकेत
  • स्कूल के संकेत
  • रेल मार्ग और लाइट रेल संबंधी संकेत
  • साइकिल संबंधी संकेत

संयुक्त राज्य अमेरिका में यातायात के संकेतों और फुटपाथ के चिह्नों के लिए श्रेणियों, स्थान और ग्राफिक मानकों को फेडरल हाईवे एडमिनिस्ट्रेशन के मैनुअल ऑन यूनिफॉर्म ट्रैफिक कंट्रोल डिवाइसेस में मानक के रूप में वैधानिक तौर पर परिभाषित किया गया है.

दिशात्मक संकेतों में एक अपेक्षाकृत अनौपचारिक अंतर अग्रिम (एडवांस) दिशात्मक संकेतों, आदान-प्रदान वाले (इंटरचेंज) दिशात्मक संकेतों और आश्वासन संबंधी संकेतों के बीच का अंतर है. एडवांस दिशात्मक संकेत प्रत्येक दिशा की जानकारी देते हुए इंटरचेंज संकेतों से एक निश्चित दूरी पर दिखाई देते हैं. कई देश आगे सड़क है (रोड अहेड) (तथाकथित "पुल-थ्रू" संकेतों) के लिए जानकारी नहीं देते बल्कि केवल बायीं और दायीं ओर की दिशाओं की जानकारी देते हैं. अग्रिम दिशात्मक संकेत चालकों को निकासी के लिए सावधानी बरतने में सक्षम बनाते हैं (जैसे कि लेनों को बदलना, इस बात की दुबारा जाँच करना कि यह सही निकास है, रफ़्तार धीमी करना). ये अक्सर छोटी सड़कों पर नहीं दिखाई देते हैं लेकिन आम तौर पर इन्हें एक्सप्रेस-वे और मोटर-वे पर लगाया जाता है क्योंकि इनके बगैर चालक निकासी को भूल जाएंगे. हालांकि हर देश की अपनी खुद की एक प्रणाली होती है, एक मोटर-वे निकासी के लिए प्रथम पहुंच संबंधी संकेत अधिकांशतः वास्तविक इंटरचेंज से कम से कम 1000 मीटर की दूरी पर लगाया जाता है. उस संकेत के बाद वास्तविक इंटरचेंज से पहले विशेष रूप से एक या दो अतिरिक्त अग्रिम दिशात्मक संकेत और लगाए जाते हैं.

इतिहास[संपादित करें]

रोमन मील का पत्थर
मिट्टी की एक सड़क पर ग्रामीण नगरपालिका का वजन की सीमा की जानकारी देने वाला एक संकेत
कनाडा, साइप्रस, चेक गणराज्य, एस्टोनिया, फिनलैंड, जॉर्जिया, हांगकांग, आइसलैंड, आयरलैंड, लात्विया, माल्टा, यूक्रेन, और यूनाइटेड किंगडम में इस्तेमाल किया जाने वाला स्पीड कैमरा संकेत

सबसे पहले के सड़क संकेत मील के पत्थर (माइलस्टोन्स) के रूप में होते थे जो दूरी और दिशा की जानकारी देते थे; उदाहरण के लिए, रोमन लोग अपने संपूर्ण साम्राज्य में रोम से दूरी को निर्देशित करने वाले पत्थरों की पंक्तियां खड़ी करते थे. मध्य युग में चौराहों पर अनेक दिशाओं वाले संकेत आम हो गए थे जो शहरों और नगरों के लिए दिशाओं की जानकारी देते थे.

बड़े पैमाने पर लगाए गए पहले आधुनिक सड़क संकेतों को 1870 के दशक के उत्तरार्द्ध में और 1880 के दशक की शुरुआत में ऊंचे या "साधारण" साइकिल की सवारी करने वालों के लिए डिजाइन किया गया था. ये मशीन (साइकिल) तेज, शांत और नियंत्रित करने में मुश्किल प्रकृति वाले होते थे, इसके अलावा इनके सवार काफी दूरी तक यात्रा करते थे और अक्सर अनजान सड़कों पर यात्रा करना पसंद करते थे. इस तरह के सवारों के लिए साइकिल चालक संगठनों ने स्थानों के लिए सिर्फ दूरी और दिशाओं की जानकारी देने वाले संकेतों की बजाय आगे के संभावित खतरों ((विशेष रूप से खड़ी पहाड़ियों) की चेतावनी देने वाले संकेतों को लगाना शुरू किया, जिससे संकेतों का एक ऐसा प्रकार विकसित हुआ जो "आधुनिक" यातायात संकेतों को परिभाषित करता है.

मोटर वाहनों के विकास ने और अधिक जटिल संकेतक प्रणालियों को बढ़ावा दिया जिसमें सिर्फ अक्षर (टेक्स्ट) आधारित सूचनाओं से कहीं अधिक चीजों का इस्तेमाल किया गया था. आधुनिक-समय के सबसे पहले सड़क संकेतक प्रणालियों में से एक 1895 में इतालवी टूरिंग क्लब द्वारा तैयार किया गया था. सन 1900 में पेरिस में इंटरनेशनल लीग ऑफ टूरिंग ऑर्गेनाइजेशन के एक कांग्रेस में सड़क संकेतन के मानकीकरण के प्रस्तावों पर विचार किया गया था. 1903 में ब्रिटिश सरकार ने आकृति पर आधारित चार "राष्ट्रीय" संकेतों की शुरुआत की लेकिन ज्यादातर सड़क संकेतों की मौलिक पद्धतियों को रोम में आयोजित 1908 के इंटरनेशनल रोड कांग्रेस में निर्धारित किया गया. 1909 में नौ यूरोपीय सरकारों ने "टक्कर (बंप)" "मोड़ (कर्व)", "चौराहे" और "ग्रेड-स्तर की रेलमार्ग क्रॉसिंग" को निर्देशित करने वाले चार सचित्र संकेतों के इस्तेमाल पर सहमति व्यक्त की. 1926 और 1949 के बीच अंतरराष्ट्रीय सड़क संकेतों पर किये गए गहन अध्ययन से अंततः यूरोपीय सड़क संकेत प्रणाली का विकास हुआ. ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका दोनों ने अपनी सड़क संकेतक प्रणालियों को विकसित किया, दोनों को ही उनके संबंधित अधिकार क्षेत्रों में कई अन्य देशों द्वारा अपनाया या रूपांतरित किया गया. ब्रिटेन ने 1964 में यूरोपीय सड़क संकेतों के एक संस्करण को अपनाया और पिछले दशकों में उत्तर अमेरिकी चेतावनी संकेतक ने कुछ संकेतों और ग्राफिक्स को अंग्रेजी के साथ मिलाकर उपयोग करना शुरू किया.

वर्षों तक यह बदलाव क्रमिक रहा था. पूर्व-औद्योगिक संकेत पत्थर या लकड़ी के होते थे, लेकिन कोक का उपयोग कर लोहे को गलाने की डर्बी की विधि के विकास के साथ अठारहवीं सदी के उत्तरार्द्ध और उन्नीसवीं में पेंट किये गए ढलवां लोहे को पसंद किया जाने लगा. ढलवां लोहे को बीसवीं सदी के मध्य तक इस्तेमाल किया जाता रहा, लेकिन धीरे-धीरे इसकी जगह एल्यूमीनियम या अन्य सामग्रियों और प्रक्रियाओं जैसे कि कांच के रोग़न युक्त (विट्रियस एनामेल्ड) और/या दबाकर बनाए गए आघातवर्धनीय लोहे (प्रेस्ड मेलिएबल आयरन) या (बाद में) इस्पात (स्टील) का इस्तेमाल किया जाने लगा. 1945 के बाद से ज्यादातर संकेतों को एल्यूमीनियम की चादर पर चिपकने वाली प्लास्टिक की परत का इस्तेमाल कर बनाया गया है, ये रात के समय और कम-रोशनी की दृश्यता के लिए आम तौर पर रेट्रोरिफ्लेक्टिव होते हैं. परावर्तक प्लास्टिक के विकास से पहले परावर्तन की सुविधा लिखावट और संकेतों में काँच के परावर्तकों का इस्तेमाल कर प्रदान की जाती थी.

इलेक्ट्रॉनिक प्रदर्शन पर आधारित यातायात संकेतों की नयी पीढ़ियां ऑटोमेटिक ट्रैफिक सेंसरों या रिमोट मैनुअल इनपुट से जुड़ी "चतुर नियंत्रण (इंटेलिजेंट कंट्रोल)" प्रदान करने के लिए अपनी लिखावट को (या कुछ देशों में संकेतों को) बदल भी सकती हैं. 20 से अधिक देशों में वास्तविक-समय के ट्रैफिक मैसेज चैनल गतिविधि की चेतावनियों को एफएम रेडियो, 3जी सेलुलर डेटा और सैटेलाइट प्रसारणों के माध्यम से आवाज रहित संकेतों का उपयोग कर सीधे वाहन निगरानी प्रणालियों को भेज दिया जाता है. अंत में वीडियो नंबर-प्लेट स्कैनिंग का इस्तेमाल कर गाड़ियां (कार) पथ-कर का भुगतान कर सकती हैं और ट्रक सुरक्षा जाँच व्यवस्था से होकर गुजर सकते हैं, या ऑन-बोर्ड सिगनलिंग, पथ-कर संग्रह और यात्रा के समय की निगरानी के समर्थन में सड़कों पर एंटीना से जुड़े विंडशील्ड्स में आरएफआईडी ट्रांसपोंडर्स का उपयोग किया जा सकता है.

प्रत्यक्ष संकेतों के साथ सामान्य रूप से जुड़ी सूचनाओं के स्थानान्तरण के लिए एक अन्य "माध्यम" आरआईएएस (रिमोट इन्फ्रारेड ऑडिबल साइनेज) है, जैसे कि लिखावट को पढ़ने में अक्षम लोगों (दृष्टिहीन/कमजोर-दृष्टि वाले/अनपढ़ सहित) के लिए "बोलने वाले संकेत".

ये इन्फ्रा-रेड ट्रांसमीटर हैं जो किसी उपयुक्त उपकरण जैसे कि हाथ से पकड़ने वाले रिसीवर या किसी सेल फोन में लगे यंत्र द्वारा ग्रहण किये जाने पर सामान्य ग्राफ़िक संकेतों की तरह एक ही उद्देश्य को पूरा करते हैं.

उत्तरी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड[संपादित करें]

विकलांगों के संकेत
कैटस्किल पार्क का पीले अक्षरों से लिखा एक विशिष्ट ब्राउन टाउन संकेत जिसमें पाइन हिल के हैमलेट को दिखाया गया है.

कलर स्कीम (रंग योजनाएं)[संपादित करें]

उत्तर अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के रंगों के अर्थ आम तौर पर इस प्रकार हैं:

  • रुकने के संकेतों, प्राप्ति (यील्ड) और निषेधात्मक गतिविधियों (जैसे कि नो पार्किंग) के लिए सफ़ेद के साथ लाल रंग.
  • सूचना संबंधी संकेतों जैसे कि दिशाओं, दूरी और स्थानों के लिए सफ़ेद अक्षरों के साथ हरा रंग.
  • पार्कों, ऐतिहासिक स्थलों, स्कीइंग क्षेत्रों, वनों और शिविर-स्थलों के संकेतों के लिए सफ़ेद के साथ भूरा रंग.
  • आरामगाहों, भोजनालयों, गैसोलीन या पेट्रोल, अस्पतालों, आवासीय एवं अन्य सेवाओं के लिए सफ़ेद के साथ नीला रंग.
  • व्यावसायिक, मुक्त, विशेष और पहले इस्तेमाल किये जाने वाले संकेतों के लिए सफ़ेद के साथ काला रंग.
  • विनियामक संकेतों जैसे कि गति सीमाओं (या पार्किंग) के लिए काले (या लाल अक्षरों के साथ सफ़ेद रंग.
  • चेतावनी के संकेतों जैसे कि मोड़ों और स्कूल क्षेत्रों के लिए काले अक्षरों और संकेतों के साथ पीला रंग.
  • अस्थायी यातायात नियंत्रण क्षेत्रों और सड़क निर्माण से जुड़े चक्करदार मार्गों के लिए काले अक्षरों के साथ नारंगी रंग.
  • "केवल पंजीकृत इलेक्ट्रॉनिक पथ-कर संग्रहण (ईटीसी) खातों वाले वाहनों द्वारा इस्तेमाल तक सीमित लेनों" के लिए बैंगनी रंग.[1]

अमेरिकी मैनुअल ऑन यूनिफॉर्म ट्रैफिक कंट्रोल डिवाइसेस चार अन्य रंगों को निर्देशित करता है:[1]

  • स्कूल क्षेत्र, स्कूल बस स्टॉप, पैदल चलने वालों, खेल के मैदान और साइकिल संबंधी चेतावनी संकेतों के लिए फ्लोरोसेंट पीला-हरा रंग.
  • घटना प्रबंधन संकेतों के लिए फ्लोरोसेंट गुलाबी रंग.
  • अनिर्धारित उद्देश्यों के लिए कोरल और हल्का नीला रंग.

कभी-कभी विनियामक संकेतों को भी लाल या काले संकेतों पर सफेद अक्षरों के साथ देखा जाता है. क्युबेक में नीले रंग को अक्सर पर्यटक आकर्षणों के लिए और भूरे रंग को सार्वजनिक सेवाओं जैसे कि आरामगाहों के लिए इस्तेमाल किया जाता है; कई जगहों पर पीले-पर-काले संकेतों की बजाय सफ़ेद-पर-लाल रंग का प्रयोग होता है.

कई अमेरिकी राज्यों और कनाडाई प्रांतों में अब फ्लोरोसेंट नारंगी रंग का उपयोग निर्माण संबंधी संकेतों के लिए किया जाता है.[2]

राजमार्ग के संकेत और चिह्न[संपादित करें]

ग्रामीण राजमार्ग संकेत, सासकेश्वान

हर राज्य और प्रांत के पास अपने स्वयं के राजमार्गों के लिए अलग-अलग चिह्न (मार्कर) होते हैं लेकिन ये सभी संघीय राजमार्गों के लिए मानक चिह्नों का प्रयोग करते हैं. कई विशेष राजमार्गों - जैसे कि क्वीन एलिजाबेथ मार्ग, ट्रांस-कनाडा हाईवे और अमेरिका में विभिन्न ऑटो ट्रेल्स - में विशिष्ट संकेतों का प्रयोग किया गया है. अमेरिकी काउंटियों में नंबरयुक्त काउंटी मार्गों के लिए कभी-कभी पीले अक्षरों के साथ एक पंचकोणीय नीले संकेत का प्रयोग किया जाता है, हालांकि यह प्रयोग राज्यों के अंदर ही असंगत होता है.

इकाईयां (यूनिट्स)[संपादित करें]

यातायात संकेतों पर दूरियां आम तौर पर संबंधित देश के द्वारा प्रयोग की जाने वाली मापक प्रणाली का पालन करती हैं. ज्यादातर अमेरिकी सड़क संकेतों में माइल्स (या एक अंश) या यार्ड्स (ब्रिटिश "इंपीरियल मीजर सिस्टम" से भ्रमित नहीं होना चाहिए जिसे अमेरिकी क्रांति के बाद सभी ब्रिटिश संपत्तियों के साथ हर जगह अपनाया गया था) की "यू.एस. कस्टमरी यूनिट्स" प्रणाली का उपयोग किया जाता है, हालांकि संघीय परिवहन विभाग ने सभी संकेतों के लिए मीट्रिक मानकों को विकसित किया है. यूनाइटेड किंगडम के संकेतों में भी दूरियों को मीलों में दिखाया जाता है. अन्य स्थानों में मीट्रिक दूरियां व्यापक रूप से उपयोग की जाती हैं, हालांकि यह सार्वभौमिक नहीं है.

भाषाएं[संपादित करें]

मिस्तिसिनी, क्यूबेक में क्री, अंग्रेजी और फ्रेंच भाषा में बहुभाषी सड़क संकेत.

जहाँ संकेतों में किसी भाषा का प्रयोग होता है, वहाँ आम तौर पर उस क्षेत्र की मान्यता प्राप्त भाषा/भाषाओं का प्रयोग किया जाता है. अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के अधिकांश संकेत अंग्रेजी में होते हैं. क्युबेक वासी फ्रांसीसी भाषा का उपयोग करते हैं, जबकि मॉन्ट्रियल में (इसके साथ-साथ वेस्ट आइलैंड के कुछ हिस्सों में) न्यू बर्न्सविक, जैक-कार्टियर और चैम्पलेन ब्रिजेज अंगरेजी और फ्रांसीसी दोनों भाषाओं का प्रयोग करते हैं, साथ ही कई अन्य प्रांतों और राज्यों, जैसे कि ओंटारियो, मैनिटोबा और वरमोंट में कुछ ख़ास क्षेत्रों में फ़्रांसीसी-अंगरेजी दुभाषिया संकेतों का प्रयोग किया जाता है. मेक्सिको और स्पेन स्पेनिश भाषा का प्रयोग करते हैं. बेल्जियम में संकेत क्षेत्र के आधार पर फ्रांसीसी, डच और जर्मन में होते हैं. ब्रुसेल्स के राजधानी क्षेत्र में सड़क संकेत फ्रांसीसी और डच में होते हैं. फिनलैंड में संकेत फिनिश और स्वीडिश भाषा में हैं. जर्मनी और ऑस्ट्रिया में संकेत जर्मन भाषा में हैं. लक्ज़मबर्ग में ये संकेत फ्रांसीसी और जर्मन भाषा में हैं. स्विट्जरलैंड में यही संकेत फ्रांसीसी, जर्मन और इतालवी भाषाओं में हैं. अमेरिका-मेक्सिको की सीमा के कुछ मीलों के भीतर सैन डिएगो, यूमा और अल पासो जैसे स्थानों में सड़क संकेत अक्सर अंग्रेजी और स्पेनिश में होते हैं. स्वदेशी भाषाओं, मुख्य रूप से नहुआटल के साथ-साथ कुछ माया सभ्यता की भाषाओं का भी प्रयोग किया गया है.

टाइपफ़ेस (अक्षराकृति)[संपादित करें]

अमेरिका और कनाडा के संकेतों में मुख्य रूप से इस्तेमाल की जाने वाली अक्षराकृतियां एफएचडब्ल्यूए(FHWA) वर्णमाला श्रृंखला (श्रृंखला बी(B) से लेकर श्रृंखला एफ(F) तक और रूपांतरित श्रृंखला ई(E)) की हैं. अक्षरों की आकृति और इन वर्णमाला की श्रृंखलाओं के लिए स्पेसिंग के विवरण "स्टैण्डर्ड अल्फाबेट्स फॉर ट्रैफिक कंट्रोल डिवाइसेस" में दिए गए हैं जिसे सर्वप्रथम 1945 में ब्यूरो ऑफ पब्लिक रोड्स (बीपीआर) द्वारा प्रकाशित किया गया था और बाद में इसे फेडरल हाईवे एडमिनिस्ट्रेशन (एफएचडब्ल्यूए) द्वारा अपडेट किया गया था. अब यह एमयूटीसीडी(MUTCD) के सह-संस्करण, स्टैण्डर्ड हाईवे साइन्स (एसएचएस) का हिस्सा है जो संकेताकृतियों के लिए संपूर्ण डिजाइन का विवरण देता है.

प्रारंभ में सभी वर्णमाला श्रृंखलाएं केवल अपरकेस अक्षरों और अंकों की बनी होती थीं, हालांकि एसएचएस(SHS) की वर्ष 2000 की समीक्षा में प्रत्येक वर्णमाला श्रृंखला के लिए लोअरकेस विस्तार दिए गए थे. श्रृंखला बी(B) से लेकर श्रृंखला एफ(F) तक की उत्पत्ति एक समान नाम वाली वर्णमाला श्रृंखलाओं से हुई जिनकी शुरुआत 1927 में हुई थी.

1927 की श्रृंखला में सीधे-स्ट्रोक वाले अक्षर बाद में अपने आधुनिक समकक्षों के समान हो गए थे लेकिन बी, सी, डी, (B, C, D) आदि जैसे अक्षरों के लिए अगोलाकर ग्लिफ़ का प्रयोग किया गया था ताकि अनपढ़ चित्रकारों द्वारा संकेतों की कहीं अधिक समान संरचना तैयार की जा सके. विभिन्न राज्य राजमार्ग विभागों और फेडरल बीपीआर ने अगले दो दशकों में इन अक्षरों के गोलाकार संस्करणों के साथ प्रयोग किया.

आधुनिक, गोलाकार वर्णमाला श्रृंखलाओं को अंततः 1945 में मानकीकृत किया गया जब कुछ अक्षरों के गोलाकार संस्करणों (श्रृंखला सी या डी के लिए मोटे तौर पर उचित चौड़ाई के साथ) को 1935 के एमयूटीसीडी में एक विकल्प के रूप में निर्देशित किया गया और नवनिर्मित पेंटागन रोड नेटवर्क पर मार्गदर्शक चिह्नों के लिए 1942 में नयी अक्षराकृतियों के ड्राफ्ट संस्करणों का उपयोग किया गया था.

मिश्रित-केस वाली वर्णमाला को अब संशोधित श्रृंखला ई कहा जाता है जो फ्रीवे मार्गदर्शक संकेतों पर गंतव्य संबंधी लीजेंड के लिए एक मानक है, जो मूल रूप से दो भागों में होते थे: एक संपूर्ण अपरकेस संशोधित श्रृंखला ई, जो एक बड़ी स्ट्रोक संबंधी चौड़ाई को छोड़कर, अनिवार्य रूप से श्रृंखला ई के समान होते थे और दूसरा सिर्फ-लोअरकेस वर्णमाला. दोनों भागों को फ्रीवेज (स्वतंत्र रास्तों) पर इस्तेमाल के लिए कैलिफोर्निया डिविजन ऑफ हाइवेज (अब कैलट्रांस) द्वारा 1948-1950 में विकसित किया गया था.

प्रारंभ में डिवीजन ने जमीन पर बनाए गए संकेतों पर बटन-परावर्तनकारी (रिफ्रेक्टराइज्ड) अक्षरों के लिए सभी-अपरकेस संशोधित श्रृंखला ई का और बाहरी प्रकाशित ओवरहेड मार्गदर्शक संकेतों के लिए मिक्स्ड-केस लीजेंड (सीरीज डी कैपिटलों के साथ लोअरकेस अक्षर) का इस्तेमाल किया था. कुछ पूर्वी शुल्क मार्ग संबंधी अधिकारियों ने अपने मार्गदर्शक संकेतों पर गंतव्य संबंधी लीजेंडों के लिए लोअरकेस वर्णमाला के साथ सभी-अपरकेस संशोधित श्रृंखला ई को मिश्रित कर दिया.

आखिरकार इस संयोजन को अंतरराज्यीय उच्चमार्गों के संकेतन के लिए पहले मैनुअल में गंतव्य संबंधी लीजेंड के लिए स्वीकार कर लिया गया जिसे 1958 में अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ स्टेट हाइवे ऑफिशियल्स द्वारा प्रकाशित किया गया और बीपीआर द्वारा राष्ट्रीय मानक के रूप में अपनाया गया.

गैर-एफएचडब्ल्यूए अक्षराकृतियों का उपयोग[संपादित करें]

इस गैन्ट्री से लटकाए गए 'बायीं तरफ मुड़ना वर्जित है' जैसे कुछ यातायात संकेतों को रौशन रखा जाता है ताकि उन्हें बेहतर तरीके से देखा जा सके, विशेषकर रात में और खराब मौसम में.

यू.एस. नेशनल पार्क सर्विस द्वारा मार्गदर्शक संकेतन के लिए एक सेरिफ टाइपफेस (अक्षराकृति), एनपीएस रॉलिंसन रोडवे का प्रयोग किया जाता है; यह आम तौर पर एक भूरे रंग की पृष्ठभूमि पर दिखाई देता है. रॉलिंसन ने आधिकारिक एनपीएस टाइपफेस के रूप में क्लेयरडोन की जगह ली है लेकिन कुछ राज्यों में अभी भी मनोरंजक संकेतन के लिए क्लेयरडोन का प्रयोग किया जाता है.

जॉर्जिया द्वारा पहले अपने फ्रीवे मार्गदर्शक संकेतों पर एक पारंपरिक लोअरकेस वर्णमाला के साथ अपरकेस श्रृंखला डी का प्रयोग किया जाता था; इस टाइपफेस का सबसे विशिष्ट गुण लोअरकेस आई (i ) और जे (j ) पर बिंदी का नहीं होना है.[3] अभी हाल ही की संस्थापनाओं में बिंदियों को शामिल किया गया प्रतीत होता है.[4]

बेहतर स्पष्टता प्रदान करने के लिए अमेरिकी शोधकर्ताओं द्वारा विकसित किया गया क्लियरव्यू टाइपफ़ेस एफएचडब्ल्यूए की अंतरिम स्वीकृति के तहत गहरी पृष्ठभूमि पर हल्के लीजेंड के इस्तेमाल की अनुमति देता है. अरकंसास, इलिनोइस,[5] मिशिगन, पेंसिल्वेनिया, टेक्सास, और वर्जीनिया में राज्य परिवहन विभागों द्वारा क्लियरव्यू का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया है. कनाडा में ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत का परिवहन मंत्रालय अपने राजमार्ग मार्गदर्शक संकेतों (हाइवे गाइड साइन्स)[6] पर इस्तेमाल के लिए क्लियरव्यू को निर्देशित करता है. इसका उपयोग ओंटारियो में डॉन वैली पार्कवे पर, टोरंटो में गार्डिनर एक्सप्रेसवे पर और हैमिल्टन, हाल्टन एवं नियाग्रा में नयी 400-सीरीज हाइवे संस्थापनाओं के साथ-साथ प्रांत के विभिन्न हिस्सों में सड़क संकेतों पर देखा गया है. यह फ़ॉन्ट अल्बर्टा, मैनिटोबा और क्युबेक में नए संकेतों पर भी इस्तेमाल किया जा रहा है.

क्यूबेक में एक पुराने FHWA टाइपफ़ेस के पास एक नया क्लियरव्यू टाइपफ़ेस संकेत

स्थानीय सरकारों, हवाई अड्डे के अधिकारियों और ठेकेदारों के लिए एफएचडब्ल्यूए सीरीज से अलग अक्षराकृतियों का इस्तेमाल कर यातायात संकेतों का निर्माण करना आम है; हेलवेटिका और एरियल उनके आम विकल्प हैं.

अलास्का में किल-काउंटर के साथ मूस क्रॉसिंग वॉर्निंग

न्यूजीलैंड[संपादित करें]

न्यूजीलैंड के सड़क संकेत अमेरिकी और यूरोपीय दोनों के प्रचलनों से प्रभावित हैं.

स्थायी चेतावनियों के लिए चेतावनी के संकेत एक पीले रंग की पृष्ठभूमि के साथ और अस्थायी चेतावनियों के लिए एक नारंगी पृष्ठभूमि के साथ हीरे की आकृति वाले होते हैं. ये अपने अमेरिकी समकक्षों की तुलना में कुछ हद तक अधिक सचित्र होते हैं.

विनियामक संकेत यूरोपीय प्रचलन का अनुसरण करते हैं जिसमें निषेधात्मक कार्यों का संकेत देने के लिए लाल बॉर्डर के साथ सफ़ेद वृत्त का और अनिवार्य कार्यों का संकेत देने के लिए नीले वृत्त का प्रयोग किया जाता है. एक लाल बॉर्डर के साथ सफ़ेद आयताकार संकेत लेन के उपयोग संबंधी दिशाओं को निर्देशित करते हैं. सूचना और दिशा संबंधी संकेत आयताकार होते हैं जिसमें राज्य के राजमार्ग को निर्देशित करने के लिए एक हरी पृष्ठभूमि का, अन्य सभी सड़कों और सभी सेवाओं (कुछ जगहों को छोड़कर, जहाँ दिशात्मक संकेत सफ़ेद रंग के होते हैं) के लिए एक नीली पृष्ठभूमि का और पर्यटक आकर्षणों के लिए एक भूरे रंग की पृष्ठभूमि का उपयोग किया जाता है.

1987 से पहले ज्यादातर सड़क संकेतों में काले रंग की पृष्ठभूमि होती थी - हीरे की आकृति चेतावनी का संकेत देते थे और आयतों से विनियामक कार्यों (रास्ता देने के संकेत (एक उलटे समलम्ब), रुकने के संकेत और गति सीमा के संकेत (जो पहले भी आज ही की तरह थे) के अपवाद के साथ) का संकेत मिलता था. सूचना के संकेत पीले होते थे और दिशा के संकेत मोटर मार्गों पर हरे और अन्य सभी स्थानों पर काले होते थे.

यूरोप[संपादित करें]

1 नवंबर 1935 को चेकोस्लोवाकिया में स्थापित पहला सड़क चिन्ह: छह नीले-सफेद खतरे की चेतावनी के संकेत.बाद में उनकी जगह लाल-सफेद-काला संकेत लगा दिया गया.
ब्यूसेंट, फ्रांस में सड़क चिन्ह.
दायें चले, पुर्तगाल.
दक्षिणी जर्मनी में रोमेंटिक रोड साइन, पृष्ठभूमि में आल्प्स को देखें.

1968 में यूरोपीय देशों ने अंतरराष्ट्रीय सड़क यातायात को सुविधाजनक बनाने और सड़क सुरक्षा को बढ़ाने के क्रम में प्रतिभागी देशों में यातायात नियमों के मानकीकरण के लक्ष्य के साथ वियना कन्वेंशन ऑन रोड ट्रैफिक की संधि पर हस्ताक्षर किया था. वियना कन्वेंशन ऑन रोड साइन्स एंड सिगनल्स इस संधि का एक हिस्सा था जिसमें यातायात चिह्नों और संकेतों को परिभाषित किया गया था. इसके परिणाम स्वरूप पश्चिमी यूरोप में यातायात संकेत अच्छी तरह मानकीकृत हैं, हालांकि अभी भी कुछ देश-विशेषक अपवाद मौजूद हैं जिनमें से ज्यादातर 1968 से पूर्व के जमाने से संबंधित हैं.

यूरोपीय यातायात संकेत के मानक का सिद्धांत है कि आकारों और रंगों को एक समान उद्देश्यों को निर्देशित करने के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए. त्रिकोणीय आकारों (सफेद या पीले रंग की पृष्ठभूमि) को चेतावनी के संकेतों में इस्तेमाल किया जाता है. इसके अतिरिक्त वियना सम्मेलन चेतावनी संकेतों के लिए एक वैकल्पिक आकार, एक हीरे की आकृति के उपयोग की अनुमति देता है जिसे यूरोप में शायद ही प्रयोग किया जाता है. यूरोप में निषेधात्मक संकेत एक लाल बॉर्डर के साथ गोलाकार होते हैं. सूचना संबंधी और विभिन्न प्रकार के अन्य द्वितीयक संकेत आयताकार आकृति वाले होते हैं. चेतावनी संकेतों पर दिखाए गए जानवरों में मूस (अमेरिकी हिरन), मेंढक, हिरण, बत्तख, गाय, भेड़, घोड़े, ध्रुवीय भालू (स्वालबार्ड पर) और बंदर (जिब्राल्टर में) शामिल हैं. कन्वेंशन किसी भी जानवर की तस्वीर के इस्तेमाल की अनुमति देता है.

दिशात्मक संकेतों को कन्वेंशन के तहत सुसंगत नहीं किया गया है, कम से कम आम सड़कों पर तो नहीं. इसके परिणाम स्वरूप पूरे यूरोप में दिशात्मक संकेतों में काफी भिन्नताएं देखी जाती हैं. ये भिन्नताएं टाइपफ़ेस, तीरों के प्रकार और सबसे उल्लेखनीय रूप से कलर स्कीम में लागू होती हैं. हालांकि कन्वेंशन (सम्मेलन) मोटरमार्गों और साधारण सड़कों के बीच एक अंतर को निर्देशित करता है और यह कि मोटरमार्गों में हरे-पर-सफ़ेद रंग का इस्तेमाल किया जाता है (जैसे इटली, स्विट्जरलैंड, डेनमार्क, स्वीडन, फिनलैंड, स्लोवेनिया, क्रोएशिया, चेक गणराज्य, ग्रीस, साइप्रस, बुल्गारिया, रोमानिया, स्लोवाकिया, सर्बिया, मैसेडोनिया गणराज्य, अल्बानिया) या नीले-पर-सफेद रंग (जैसे नॉर्वे, जर्मनी, आयरलैंड गणराज्य, फ्रांस, ब्रिटेन, स्पेन, नीदरलैंड, बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, लक्समबर्ग, पोलैंड, पुर्तगाल, लातविया). हंगरी ने 2000 के दशक की शुरुआत में मौजूदा मोटरमार्गों के पुनर्निर्माण और नए मोटरमार्गों के निर्माण के दौरान हरे-पर-सफ़ेद रंग की जगह नीले-पर-सफ़ेद रंग का इस्तेमाल किया.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

गैर-सड़कमार्गों के लिए भिन्नताएं बहुत अधिक हैं: इटली, स्विट्जरलैंड, स्वीडन, चेक गणराज्य, ग्रीस, साइप्रस, स्लोवाकिया, बुल्गारिया, रोमानिया, लातविया, एस्टोनिया, फिनलैंड और नीदरलैंड (इस मामले में मोटरमार्गों के ही समान) में नीले-पर-सफ़ेद रंग का, फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम, आयरलैंड गणतंत्र, पोलैंड और पुर्तगाल में हरे-पर-सफ़ेद रंग का, जर्मनी, लक्समबर्ग, नार्वे, स्लोवेनिया, सर्बिया और क्रोएशिया में पीले-पर-काले रंग का, डेनमार्क में सफेद-पर-लाल रंग का (हालांकि सभी मोटरमार्गों और सभी ओवरहेड ढांचों पर नीले-पर-सफ़ेद रंग का प्रयोग दिखाई देता है) और स्पेन में सफ़ेद-पर-काले रंग का प्रयोग किया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम, फिनलैंड, आयरलैंड गणराज्य, स्विट्जरलैंड और पुर्तगाल में द्वितीयक सड़कें प्राथमिक सड़कों से अलग होती हैं जहाँ दिशासूचक हमेशा सफ़ेद-पर-काले रंग का इस्तेमाल कर बनाए जाते हैं. जर्मनी, इटली, रोमानिया और स्वीडन में सफेद-पर-काले रंग का प्रयोग केवल शहरी सड़कों या शहरी गंतव्यों को निर्देशित करते हैं.

दिशासूचक सड़क संख्याओं में भी काफी अंतर होता है. दिशासूचक के रूप में प्रयोग किये जाने पर केवल यूरोपीय मार्ग संख्या ही हमेशा एक हरे आयत पर सफेद अक्षरों में अंकित होंगी. यूरोपीय मार्ग संख्याएं युनाइटेड किंगडम में बिलकुल भी अंकित (संकेतित) नहीं होती हैं.

"स्टॉप", "जोन" आदि जैसे कुछ संकेतों का प्रयोग अंग्रेजी में करने का सुझाव दिया गया है लेकिन स्थानीय भाषा के प्रयोग की भी अनुमति है. अगर भाषा में गैर-लैटिन वर्णों का उपयोग किया जाता है तो शहरों और स्थानों के नाम भी लैटिन प्रतिलेखन में होने चाहिएं. आयरलैंड गणराज्य में सड़क संकेत द्विभाषी होते हैं जहाँ आयरिश और अंग्रेजी का उपयोग किया जाता है. वेल्स में भी यही स्थिति है जहाँ द्विभाषी वेल्श-अंग्रेजी संकेतों का प्रयोग किया जाता है; स्कॉटलैंड के कुछ भागों में भी द्विभाषी स्कॉटिश गेलिक-अंग्रेजी संकेतों का इस्तेमाल होता है. फिनलैंड भी फिनिश और स्वीडिश में द्विभाषी संकेतों का उपयोग करता है.

यूरोपीय देश सड़क संकेतों पर मीट्रिक प्रणाली का उपयोग करते हैं (दूरियां किलोमीटरों या मीटरों में, ऊंचाई/चौड़ाई मीटरों में) जिसमें एक उल्लेखनीय अपवाद ब्रिटेन का है जहाँ दूरियां मेलों में निर्देशित की जाती हैं, और दूसरा 1977 से पहले आयरलैंड गणराज्य में लगाए गए शेष फिंगर पोस्ट संकेतों पर का है जहाँ दूरियों को मीलों में भी निर्देशित किया जाता है (जिन्हें आयरलैंड गणराज्य में 1977 से पहले सभी दिशात्मक संकेतकों के लिए और 2005 से पहले गति सीमाओं पर औपचारिक रूप से इस्तेमाल किया जाता था). बाईं ओर ड्राइव करने वाले देशों के लिए कन्वेंशन यह उल्लेख करता है कि यातायात संकेत दाहिनी ओर ड्राइव करने वाले देशों में इस्तेमाल किये जाने वाले संकेतों की आईना छवियां होनी चाहिएं. हालांकि बाईं ओर ड्राइव करने वाले चार यूरोपीय देशों, साइप्रस, आयरलैंड गणराज्य, माल्टा और युनाइटेड किंगडम में इस प्रचलन का व्यवस्थित रूप से अनुसरण नहीं किया जाता है. कन्वेंशन खतरे और निषेध संबंधी संकेतों के लिए दो पृष्ठभूमि रंगों, सफेद या पीले रंग के प्रयोग की अनुमति देता है. ज्यादातर देशों में सफ़ेद रंग का प्रयोग किया जाता है क्योंकि पीला रंग बर्फ की मौजूदगी वाले क्षेत्रों में कहीं अधिक स्पष्ट दिखाई देता है, इसमें स्वीडन, फिनलैंड, आइसलैंड और पोलैंड जैसे कुछ अपवाद भी हैं.

यूरोपीय यातायात संकेतों को मन पर हेरलड्री (कुलचिह्न-विद्या) के सिद्धांतों के साथ डिजाइन किया गया है[कृपया उद्धरण जोड़ें]; यानी संकेत को अनिवार्य रूप से स्पष्ट और एक ही नज़र में समझ लेने योग्य होना चाहिए. ज्यादातर यातायात संकेत हेराल्डिक टिंक्चर नियमों का पालन करते हैं और बेहतर लाक्षणिक स्पष्टता के लिए लिखित अक्षरों की जगह संकेतों का प्रयोग करते हैं.

युनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन)[संपादित करें]

ब्रिटेन का एक अधिक असामान्य सड़क संकेत, स्विंडन के मैजिक राउंडअबाउट पर

युनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) में यातायात संकेतन में मोटे तौर पर यूरोपीय मानदंडों का पालन किया जाता है, हालांकि कई संकेत ब्रिटेन में ख़ास हैं और दिशात्मक संकेत यूरोपीय मार्ग संख्याओं को छोड़ देते हैं. 1 जनवरी 1965 को शुरू की गयी वर्तमान संकेत प्रणाली 1950 के दशक के उत्तरार्द्ध और 1960 के दशक की शुरुआत में एंडरसन कमिटी द्वारा विकसित की गयी थी जिसने मोटरमार्ग संकेतन प्रणाली को स्थापित किया और जिसे वोरब्वाय कमिटी ने इसे सभी-उद्देश्य की सड़कों के लिए संकेतन के रूप में संशोधित किया. (अधिकांश ब्रिटिश सड़क संकेतों के विवरण के लिए, देखें हाईवे कोड वेबसाइट.)

ब्रिटेन, दूरी और गति के लिए गैर-मीट्रिक (इम्पीरियल) मापों का प्रयोग करने वाला यूरोपीय संघ का एकमात्र सदस्य देश और एकमात्र प्रमुख राष्ट्रमंडल देश बना हुआ है, हालांकि मीट्रिक "अधिकृत-वजन" संबंधी संकेतों को 1981 में निर्धारित किया गया था और अब वहाँ प्रतिबंध के संकेतों के लिए एक दोहरी-इकाई (इम्पीरियल पहली) का विकल्प मौजूद है जिसे उन सुरक्षा स्थलों पर प्रयोग किया जाता है जहाँ विदेशी चालक मार्गों का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस विकल्प से वे आगे आने वाले किसी खतरे के बारे में प्रतिबंध और/या सलाह को बेहतर तरीके से समझ सकते हैं.

दिशा सूचक संकेतों के लिए तीन रंगों वाली स्कीम मौजूद है. कोई भी सड़क एक मोटरमार्ग (नीले-पर-सफेद रंग), एक प्राथमिक मार्ग (पीली मार्ग संख्याओं के साथ गहरे हरे रंग पर सफेद), या एक गैर-प्राथमिक मार्ग (सफेद-पर-काला रंग) हो सकता है. एक चौथा कलर स्कीम, पीले पर काला रंग अस्थायी संकेतों पर देखा जाता है, उदाहरण के लिए किसी बंद सड़क से बचने के लिए एक चक्करदार मार्ग का संकेत देना.

ब्रिटिश सड़क संकेतों के लिए दो अक्षराकृतियां(टाइपफेस) निर्दिष्ट की गयी हैं. ट्रांसपोर्ट मीडियम या ट्रांसपोर्ट हेवी (भारी) का प्रयोग निर्धारित स्थायी संकेतों पर सभी तरह की लिखावट के लिए किया जाता है और ज्यादातर अस्थायी संकेतन, संकेत के रंग और संबंधित लिखावट के रंग पर निर्भर करते हैं; एक सफेद पृष्ठभूमि पर गहरी लिखावट आम तौर पर हेवी के मामले में सेट किया जाता है जिससे कि यह बेहतर तरीके से मौजूद रहे. यह मोटरमार्ग के संकेतों पर मार्ग संख्याओं के अतिरिक्त है जिसके लिए मोटरवे कहलाने वाले एक लम्बे सीमित वर्ण आधारित अक्षराकृति (टाइपफ़ेस) का प्रयोग किया जाता है.

संकेत आम तौर पर अंग्रेजी में होते हैं, हालांकि वेल्स में द्विभाषी संकेतों (अंग्रेजी/वेल्श) का उपयोग किया जाता है और इन्हें स्कॉटलैंड की पहाड़ियों के कुछ हिस्सों (अंग्रेजी/स्कॉटिश गेलिक) में भी देखा जाने लगा है.

सभी संकेतों और उनके संबद्ध नियमों को "द ट्रैफिक साइन्स रेगुलेशंस एंड जनरल डायरेक्शन्स 2002" में पाया जा सकता है",[7] जिसे टीएसआरजीडी 2010 द्वारा अपडेट किया गया है और जिसमें "ट्रैफिक साइन्स मैनुअल" के विभिन्न अध्यायों को शामिल किया गया है.

नीदरलैंड[संपादित करें]

नीदरलैंड में सड़क संकेत वियना कन्वेंशन के निर्देशों का पालन करते हैं. दिशात्मक संकेतों (जिन्हें कन्वेंशन के तहत सुसंगत नहीं किया गया है) में हमेशा पृष्ठभूमि रंग के रूप में नीले रंग का प्रयोग किया जाता है. संकेतों पर गंतव्यों को सफेद रंग में प्रिंट किया जाता है. अगर गंतव्य एक शहर नहीं होता है (बल्कि शहर के भीतर एक क्षेत्र या कुछ अन्य प्रकार का आकर्षण होता है) तो उस गंतव्य को अन्यथा नीले संकेत के अंदर एक अलग सफेद पृष्ठभूमि पर काले रंग में प्रिंट किया जाएगा.

नीदरलैंड जहाँ कहीं भी लागू हो (यानी अग्रिम दिशात्मक संकेतों, आपस में बदलने वाले (इंटरचेंज) दिशा संकेतों और पुनर्पुष्टि (रीएश्योरेंस) संकेतों पर) हमेशा यूरोपीय सड़क संख्याओं का दिशासूचक के रूप में प्रयोग करता है. डच राष्ट्रीय सड़क संख्याएं एक आयत पर अंकित की जाती हैं, जहाँ मोटरमार्गों को एक लाल आयत पर सफ़ेद रंग में (एक एएक्सएक्स (Axx) के रूप में) और प्राथमिक सड़कों को एक पीले आयत पर काले रंग में (एनएक्सएक्स (Nxx) के रूप में) दिशासूचक के रूप में लगाया जाता है. जब कोई मोटरमार्ग एक प्राथमिक सड़क में बदलता है तो इसकी संख्या वही रहती है लेकिन ए की जगह एन का प्रयोग किया जाता है. इसलिए कुछ ख़ास जगहों पर ए2 बदलकर एन2 हो जाता है और जब इसे फिर से मोटरमार्ग में बदला जाता है तो यह वापस ए2 बन जाता है.

बाइक सवारों के लिए बनाए गए संकेतों में हमेशा लाल या हरे अक्षरों के साथ सफेद संकेतों का प्रयोग किया जाता है.

डच टाइपफेस, जिसे एएनडब्ल्यूबी-ईई (ANWB-Ee) के रूप में जाना जाता है, यह अमेरिका टाइपफ़ेस पर आधारित है. एएनडब्ल्यूबी-यूयू (ANWB-uu) नामक एक नया फ़ॉन्ट (जिसे रीडिजाइन के रूप में भी जाना जाता है), इसे 1997 में विकसित किया गया है और यह हाल ही के कई डच संकेतों पर दिखाई देता है. हालांकि मोटरमार्गों पर टाइपफेस एएनडब्ल्यूबी-ईई (ANWB-Ee) या इसी तरह का एक टाइपफेस बना हुआ है. संकेतों की भाषा आम तौर पर डच है, भले ही उस स्थिति में द्विभाषी संकेतों का इस्तेमाल किया जा सकता है जब सूचना पर्यटकों के लिए प्रासंगिक होती है.

स्वीडन[संपादित करें]

स्वीडिश एल्क चेतावनी संकेत

हालांकि स्वीडन में सड़क संकेत अधिकांशतः कुछ रूपांतरणों के साथ वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं, जिनकी कन्वेंशन के अंदर अनुमति दी गयी थी:

  • चेतावनी संकेतों की पृष्ठभूमि का रंग पीला होता है
  • एल्क और बारहसिंघा हिरन के लिए चेतावनी संकेत
  • दिशासूचक संकेतों की पृष्ठभूमि सफेद लिखावट के साथ नीले रंग की है
  • मोटरमार्ग के दिशासूचक संकेतों की पृष्ठभूमि सफेद लिखावट के साथ हरे रंग की होती है
  • जब लागू हो, स्वीडन में स्वीडिश भाषा का प्रयोग होता है.

स्वीडन में संकेतक टाइपफ़ेस ट्राटेक्स का विशेष रूप से प्रयोग किया जाता है और यह फ्रीवेयर के रूप में उपलब्ध है.[8]

क्रोएशिया[संपादित करें]

क्रोएशिया में यातायात संकेत, पूर्व के यूगोस्लाविया के बाकी हिस्सों में प्रयोग किये जाने वाले यातायात संकेतों के समान ही होते हैं. क्रोएशियाई सड़क संकेत वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं (एसएफआर यूगोस्लाविया क्रोएशिया के लिए मूल हस्ताक्षरकर्ता था जो अब स्वयं एक संविदा पक्ष है). दिशा के लिए सबसे आम संकेत पीले एवं काले संकेत हैं, सूचना के लिए नीले एवं सफ़ेद संकेत हैं और हाईवे पर हरे-पर-सफ़ेद रंग के संकेतों का इस्तेमाल किया जाता है.

आयरलैंड[संपादित करें]

आयरलैंड में एक राउंडअबाउट के लिए अग्रिम दिशात्मक संकेत.हरी पृष्ठभूमि इंगित करती है कि यह संकेत एक राष्ट्रीय मार्ग पर है, साथ ही दायें और बाएं नीले निशान एक मोटरवे (संकेत के साथ) को इंगित करते हैं और सफ़ेद निशान एक क्षेत्रीय या स्थानीय सड़क को इंगित करते हैं.
आयरिश चेतावनी संकेत

1922 में आयरलैंड के विभाजन और दक्षिणी आयरलैंड (अब आयरलैंड गणराज्य) की आजादी तक पूरे द्वीप में ब्रिटिश मानकों का प्रयोग किया जाता था. सन 1926 में ब्रिटेन में उस समय इस्तेमाल किये जाने वाले सड़क संकेत संबंधी मानकों के समान मानकों को आयरलैंड में अपनाया गया था.[9] कानून के अनुसार संकेतों को आयरिश और अंग्रेजी दोनों में लिखा जाना अनिवार्य था.

1956 में इस गणराज्य में सड़क संकेतों को ब्रिटेन के मानक से सुस्पष्ट रूप से अलग करने के लिए अमेरिकी-शैली के कई सड़क संबंधी खतरों की चेतावनियों (जंक्शनों, मोड़ों, रेलवे क्रॉसिंगों, ट्रैफिक लाइटों) के "डायमंड" संकेतों के रूपांतरण के साथ बदल दिया गया था.[10] कुछ स्थानीय संकेतों का भी आविष्कार किया गया था, जैसे कि बाएं-चलने का संकेत (ऊपर-बाईं और संकेत करता हुआ एक काले रंग के मुड़े हुए तीर का निशान, हालांकि कुछ यूरोपीय "नीले डिस्क पर सफ़ेद तीर" के संकेतों के समान थे), जबकि कुछ अन्य संकेतों को आयरलैंड के बाहर व्यापक रूप से नहीं अपनाया गया है, जैसे कि प्रवेश-निषेध (नो-इंट्री) का संकेत (लाल तिरछे घेरे के साथ एक सफ़ेद वृत्त में आगे की ओर संकेत करता हुआ एक काले रंग के तीर का निशान).

दिशात्मक संकेतक अभी भी युनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) के मानक पर दृढ़तापूर्वक आधारित है, हालांकि दिशात्मक संकेतों के मूल डिजाइन के साथ ज्यादातर मामलों में ब्रिटेन के समान ही बने हुए हैं. दिशात्मक संकेतों के लिए आयरलैंड में ब्रिटेन के समान ही रंगों का प्रयोग किया जाता है और यूके ट्रांसपोर्ट एवं मोटरवे फ़ॉन्ट का इस्तेमाल किया जाता है. हालांकि आयरलैंड गणराज्य में चेतावनी संकेतक द्विभाषी होते हैं जहाँ आयरिश लिखावट मिश्रित केस इटालिक में होती है जबकि अंग्रेजी लिखावट पूर्णतः अपरकेस में होती है.

इटली, जर्मनी, लातविया, और अन्य देशों में तथा सोवियत संघ के अन्य पूर्व गणराज्यों में इस्तेमाल किया जाने वाला 'वाइल्ड एनिमल (जंगली जानवरों)' चेतावनी संकेत

जनवरी 2005 में आयरलैंड ने मीट्रिक गति सीमाओं को अपनाया था. तकरीबन 35,000 मौजूदा संकेतों को प्रतिस्थापित किया गया और किलोमीटर प्रति घंटे की गति सीमा वाले 23,000 नए संकेतों को लगाया गया. पुराने संकेतों के साथ भ्रम से बचने के लिए प्रत्येक गति सीमा संबंधी संकेत पर अब अंकों के नीचे "किमी प्रति घंटा (km/h)" अंकित रहता है. इसके अलावा 1977 में वारब्वायज कमिटी मानक पर आधारित संकेतों के रूपांतरण के बाद आयरिश दिशात्मक संकेतों में मीट्रिक प्रणाली का प्रयोग किया गया है, हालांकि बाद की गति सीमा में बदलाव के विपरीत मौजूदा चेतावनी संकेत में बदलाव के लिए कोई भी प्रयास नहीं किया गया था. साथ ही 2007 के अनुसार  कई फिंगर पोस्ट में अभी भी ग्रामीण सड़कों पर दूरियों को मीलों में रखा गया है, हालांकि सड़कों में सुधार के साथ संख्याएं निरंतर कम होती रही हैं.

वर्ष 2007 के उत्तरार्द्ध में आयरलैंड ने संकेतों और पोस्टों को मौलिक रूप से बदलना शुरू कर दिया था. एम1 (डबलिन - डनडॉक) और एम50 (डबलिन) इसके बेहतर उदाहरण हैं. हालांकि ज्यादातर पुराने संकेतों की तरह ही हैं फिर भी यह बेहतर है क्योंकि बहुत सारे संकेत क्षतिग्रस्त/धब्बेदार हो गए थे. दुर्घटना की स्थिति में नुकसान को कम करने के लिए नए पोस्टों में से लगभग आधे में अब एक बड़े पोल की बजाय क्रॉसहेच्ड मेटल पोस्टों के बीच दो मध्यम पोस्टों को खड़ा किया जाता है.

आइसलैंड[संपादित करें]

आइसलैंड में सड़क संकेत मुख्य रूप से वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं लेकिन कलर स्कीम में एक भिन्नता और डिजाइन में मामूली बदलाव का प्रयोग किया जाता है.

लातविया[संपादित करें]

लातविया में सड़क संकेत मुख्य रूप से वियना कन्वेंशन के नियमों के अनुरूप हैं जहाँ केवल डिजाइन ही कई अन्य यूरोपीय देशों से अलग हैं. संकेतों में डिजाइन संबंधी कई बातें सोवियत संघ (यूएसएसआर) के समय से ही रूसी सड़क संकेतों के समान हैं.[11]

मैक्सिको, दक्षिण और मध्य अमेरिका[संपादित करें]

बेलीज में स्पीड बम्प (गति अवरोधक) साइन.

मैक्सिको, मध्य अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में सड़क संकेतों में एक देश से दूसरे देश में भिन्नता होती है. अधिकांश भाग के लिए, संकेतन की परंपरा यूरोपीय और एशियाई परंपराओं से कहीं अधिक संयुक्त राज्य अमेरिका की संकेतन परंपराओं के समान होती हैं. उदाहरण के लिए, चेतावनी के संकेत विशेष रूप से हीरे के आकार वाले और त्रिकोणीय एवं सफेद की बजाय पीले रंग के होते हैं. कुछ भिन्नताओं में "नो पार्किंग" संकेत शामिल है जिसमें पी ("पार्किंग" के लिए स्पेनिश शब्द स्टैशियोनैमिएन्टो (estacionamiento) और ब्राजीली पुर्तगाली में यह शब्द स्टैशियोनैमेंटो (estacionamento) है) अक्षर की बजाय का प्रयोग किया जाता है. साथ ही एक भिन्नता रुकने के संकेत (स्टॉप साइन) में भी है जिसे आम तौर पर "पेयर" या "ऑल्टो" पढ़ा जाता है. उल्लेखनीय अपवादों में शामिल हैं गति सीमा संबंधी संकेत, जो यूरोपीय परंपराओं का पालन करते हैं और "नो इंट्री" संकेत, जिसकी जगह अक्सर ऊपर की तरफ मुंह किये क्रॉस्ड तीर के निशान का प्रयोग किया जाता है.

कोलंबिया[संपादित करें]

कोलंबिया में यातायात संकेतों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है. इनके नाम हैं चेतावनी के संकेत, अनिवार्य संकेत और सूचना के संकेत.[12]

यहाँ चेतावनी के संकेत संयुक्त राज्य अमेरिका में चेतावनी के संकेतों के काफी समान होते हैं. ये एक काले संकेत के साथ पीले हीरे के आकार वाले होते हैं (निर्माणाधीन क्षेत्रों में पीले रंग को नारंगी रंग में बदल दिया गया है). कुछ ख़ास मामलों में पीले रंग की जगह फ्लोरोसेंट पीले रंग (स्कूली क्षेत्र के संकेत और फीते (शेवरन) के संकेत में) का प्रयोग किया जाता है.

अनिवार्य संकेत यूरोपीय संकेतों के समान होते हैं. ये एक लाल बॉर्डर के साथ वृत्ताकार, एक सफेद पृष्ठभूमि और एक काले रंग के संकेत वाले होते हैं. स्टॉप साइन और यील्ड साइन यूरोपीय संकेतों की तरह होते हैं जहाँ "स्टॉप" शब्द की जगह "पेयर" का प्रयोग होता है और यील्ड साइन में कोई अक्षर नहीं होता है, यह सफ़ेद केंद्र के साथ एक लाल त्रिकोण होता है.

सूचना संबंधी संकेतों के कई आकार और रंग होते हैं. मुख्यतः ये सफेद संकेतों के साथ नीले रंग के होते हैं और कई मामलों में इन संकेतों में प्रतीक चिह्न के नीचे एक सूचना संबंधी अक्षर मौजूद होता है.

एशिया[संपादित करें]

भारत में सडके बहुत पुरानी है और इनका भविष्य कभी भी खतेरे में पड सकता है

Woelsickendorf Verlauf Vorfahrtstrasse.jpg

भारत[संपादित करें]

ईरान[संपादित करें]

ईरान में सड़क संकेत मुख्य रूप से वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं. संकेत फ़ारसी और अंग्रेजी में होते हैं.

इज़रायल[संपादित करें]

इसराइल में सड़क संकेत मुख्य रूप से वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं लेकिन इसके कुछ भिन्न रूप भी हैं.

फिलीपींस[संपादित करें]

फिलीपींस में सड़क संकेत कानून के जरिये वियना कन्वेंशन का पालन करते हैं, हालांकि, वास्तव में ज्यादातर सड़क संकेत विभिन्न चरित्र वाले होते हैं और ये विभिन्न शैलियों और आकारों के हो सकते हैं. उदाहरण के लिए एमएमडीए (मेट्रो मनीला विकास प्राधिकरण) मेट्रो मनीला के अंदर गुलाबी रंग के यातायात संकेतों का उपयोग करता है.[13]

चीन[संपादित करें]

चीन में चेतावनी के संकेत एक काले रंग के घेरे, पीली पृष्ठभूमि और काले प्रतीक चिह्न के साथ त्रिकोणीय होते हैं. अनिवार्य संकेतों में कुछ स्थानीय भिन्नताओं के साथ आम तौर पर यूरोपीय परंपराओं (लाल बॉर्डर/नीले वृत्त के साथ वृत्ताकार स्वरूप) का पालन किया जाता है. एक्सप्रेसवे के लिए दिशासूचक संकेत हरे रंग के, पर्यटक आकर्षणों के लिए भूरे रंग के और अन्य सड़कों के लिए नीले रंग के होते हैं. कभी-कभी स्थानीय सुविधाओं की दिशाओं के लिए सफ़ेद पर काले रंग का प्रयोग किया जाता है.

शब्द टोमारे (止まれ) के साथ जापानी स्टॉप चिन्ह, जिसका अर्थ है रुको

जापान[संपादित करें]

जापान में सड़क संकेतों को या तो सड़क यातायात क़ानून (रोड ट्रैफिक लॉ) (道路交通法) के तहत स्थानीय पुलिस अधिकारियों द्वारा या फिर रोड लॉ (道路法) के तहत अन्य सड़क-नियंत्रक इकाइयों द्वारा नियंत्रित किया जाता है जिनमें भूमि, इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं परिवहन मंत्रालय, स्थानीय नगरपालिकाएं, नेक्सको (एनईएक्ससीओ) (एक्सप्रेसवे का नियंत्रण करने वाली कम्पनियां) शामिल हैं. जापान में सड़क संकेतों के ज्यादातर डिजाइन कुछ महत्त्वपूर्ण भिन्नताओं को छोड़कर वियना कन्वेंशन के संकेतों के समान हैं, जैसे कि एक नीचे की ओर झुके हुए लाल त्रिभुज के साथ स्टॉप का संकेत. मुख्य संकेतों को चार प्रकार के अर्थों में वर्गीकृत किया गया है: मार्गदर्शन (सामान्य रूप में नीले रंग पर सफेद अक्षर - एक्सप्रेसवे में हरे रंग पर), चेतावनी (पीले हीरे की आकृति पर काले अक्षर और प्रतीक चिह्न), विनियमन (लाल या नीले वृत्त, निषेध या विनियमन के आधार पर) और निर्देश (ज्यादातर सफेद अक्षर या नीले वर्ग पर प्रतीक चिह्न के रूप में).

स्वचालित यातायात संकेत की मान्यता[संपादित करें]

कारों में स्वचालित यातायात संकेत की मान्यता के साथ कैमरे की सुविधा दी जाने लगी है जिसकी शुरुआत ओपेल इन्सिग्निया के साथ हुई है. यह मुख्य रूप से गति सीमाओं और ओवरटेकिंग नहीं करने वाले क्षेत्रों की पहचान करती है.[14]

== स्ट्रीट साइन थेफ्ट (सड़क संकेतों की चोरी) ==

स्ट्रीट साइन थेफ्ट तब होती है जब सड़क संकेतों को चुरा लिया जाता है, जिसे अक्सर सजावटों के रूप में इस्तेमाल किया जाता है लेकिन कभी-कभी क़ानून का पालन करने से बचने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है ताकि बाद में यह दावा किया जा सके कि वहाँ संकेत मौजूद ही नहीं था.[कृपया उद्धरण जोड़ें] हालांकि ये चोरियां अक्सर अकारण ही होती हैं, असामान्य या अलग तरह के संकेतों को अधि बार चुराया जाता है. कभी-कभी इसे अपराधियों की एक शैतानी समझा जाता है और यह चोरी अक्सर उस संकेत को लगाने वाली नगरपालिका या एजेंसी के लिए महंगी और असुविधाजनक साबित होती है. संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रत्येक सड़क संकेत को बदलने की लागत आम तौर पर 100 डॉलर से 500 डॉलर के बीच होती है.[15][16]

लोकप्रिय संस्कृति सड़क संकेतों की चोरी के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य कर सकती है. लोकप्रिय बैंड द बीटल्स और लिन्यर्ड स्किन्यर्ड ने अनजाने में सड़क संकेतों की चोरी को बढ़ावा दिया था क्योंकि उनके गीतों और एलबमों में पेनी लेन, ब्लू जे वे, एबी रोड और ब्रिकयार्ड रोड जैसे वास्तविक स्थानों के नामों को शामिल रहते थे.

विलेज ऑफ फ़किंग, ऑस्ट्रिया के प्रवेश द्वार को चिन्हित करने वाला संकेत, आम तौर पर चोरी किया जाने वाला एक अन्य संकेत है. यह संकेत केवल गांव के नाम का उल्लेख करता है. "फकिंग" शब्द के अभद्र अर्थ की वजह से शरारती तत्वों द्वारा इस संकेत को बार-बार चुराया जाता रहा है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • बटन कॉपी
  • यूरोपीय यातायात संकेतों की तुलना
  • डक क्रॉसिंग
  • निकास संख्या
  • सार्वजनिक संकेतक टाइपफ़ेस की सूची
  • ऑफ-नेटवर्क टैक्टिकल डाइवर्श़न मार्ग
  • रोड सर्फेस मार्किंग
  • सड़क के नियम
  • स्ट्रीट साइन थेफ्ट
  • ट्रैफिक लाईट
  • ट्रैफिक साइन डिजाइन

संदर्भ[संपादित करें]

  1. सेक्शन 1A.12 कलर कोड, मैनुअल ऑन यूनीफोर्म ट्रैफिक कंट्रोल डिवाइसेस
  2. सेक्शन 6F.02 जनरल केरेक्टरस्टिक्स ऑफ साइन्स, [अस्थाई यातायात नियंत्रण], मैनुअल ऑन यूनीफोर्म ट्रैफिक कंट्रोल डिवाइसेस
  3. "Image". gribblenation.com. http://www.gribblenation.com/gapics/gallery/i20w-exit60-natsiatka.jpg. अभिगमन तिथि: 30 November 2010. 
  4. "Photo". gribblenation.com. http://www.gribblenation.com/gapics/gallery/albany-exit2-3-natsiatka.jpg. अभिगमन तिथि: 30 November 2010. 
  5. ईलिनोइस डिपार्टमेंट ऑफ ट्रांसपोर्टेशन
  6. 2006 इंटरनेट टेम्पलेट्स
  7. "The Traffic Signs Regulations and General Directions 2002". opsi.gov.uk. http://www.opsi.gov.uk/si/si2002/20023113.htm. अभिगमन तिथि: 30 November 2010. 
  8. Teckensnitt på vägmärken / Vägverket
  9. एस.आई. नंबर. 55/1926: रोड साइन्स एंड ट्रैफिक सिग्नल्स रेगुलेशन्स, 1926 - आयरिश अधिनियम बुक
  10. एस.आई. नंबर. 284/1956: ट्रैफिक साइन्स रेगुलेशन्स, 1956 - आयरिश अधिनियम बुक
  11. चिन्ह और उनके विवरणों को यहाँ देखा जा सकता है (लातवियन भाषा में, दिनांकित 5 अप्रैल 2008; 22 दिसंबर 2008 को देखा गया)
  12. कोलम्बिया ट्रैफिक साइन्स मैनुअल
  13. "Traffic signs". engineer-einjel.blogspot.com. http://engineer-einjel.blogspot.com/2009/10/traffic-signs.html. 
  14. "Opel Insignia to feature traffic sign recognition system". http://www.monstersandcritics.com/lifestyle/autos/news/article_1415817.php/Opel_Insignia_to_feature_traffic_sign_recognition_system. 
  15. Church, Zach (July 29, 2007). "The cost of Vandalism: Time, frustration and cash". Eagle-Tribune. http://www.eagletribune.com/punews/local_story_210093908?page=0. 
  16. Moeur, Richard C.. "Manual of Traffic Signs". http://www.trafficsign.us/signcost.html. 

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
signpost को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

कनाडा[संपादित करें]

यूरोप[संपादित करें]

एशिया[संपादित करें]

टाइपफ़ेस[संपादित करें]

अन्य[संपादित करें]

साँचा:Traffic signs