जिब्राल्टर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जिब्राल्टर
जिब्राल्टर का ध्वज जिब्राल्टर का कुल चिन्ह
ध्वज कुल चिन्ह
राष्ट्रवाक्य: Nulli Expugnabilis Hosti  (लेटिन)
"कोई दुश्मन हमें नहीं निकाल सकता".1
राष्ट्रगान: जिब्राल्टर राष्ट्रगान
जिब्राल्टर की स्थिति
राजधानी
(और सबसे बड़ा शहर)
जिब्राल्टर
36°8′ N 5°21′ O
राजभाषा(एँ) अंग्रेजी
सरकार ब्रिटिश प्रवासी क्षेत्र
 - राज्य प्रमुख महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
 - राज्यपाल रॉबर्ट फुल्टन
 - मुख्यमंत्री पीटर कारुआना
घटना तारीख 
 - कब्जा 4 अगस्त 1704 
 - सत्तान्तरित 11 अप्रैल 1713 
 - राष्ट्रीय दिवस 10 सितंबर 
 - संविधान दिवस 29 जनवरी 
क्षेत्रफल
 - कुल 6.8 वर्ग किमी (229 वां)
2.6 वर्ग मील
 - जल(%) 0%
जनसंख्या
 - जनवरी 2008 अनुमान 28,875 (207 वां)
 - जन घनत्व 4,290/वर्ग किमी (5 वां)
11,154/वर्ग मील
सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) (पीपीपी) 2005 अनुमान
 - कुल $1066 मिलियन (197 वां)
 - प्रति व्यक्ति $38,200 (अनुपलब्ध)
मानव विकास सूचकांक  (अनुपलब्ध) अनुपलब्ध ({{{HDI_ref}}}) (अनुपलब्ध)
मुद्रा जिब्राल्टर पाउंड £2

(GIP)
समय मंडल सीईटी (यूटीसी +1)
 - ग्रीष्म (DST) सीईएसटी (यूटीसी +2)
इंटरनेट टीएलडी .gi3
दूरभाष कोड +3504

जिब्राल्टर औबेरियन प्रायद्वीप और यूरोप के दक्षिणी छोर पर भूमध्य सागर के प्रवेश द्वार पर स्थित एक स्वशासी ब्रिटिश विदेशी क्षेत्र है। 6.843 वर्ग किलोमीटर (2.642 वर्ग मील) में फैले इस देश की सीमा उत्तर में स्पेन से मिलती है। जिब्राल्टर ऐतिहासिक रूप से ब्रिटेन के सशस्त्र बलों के लिए एक महत्वपूर्ण आधार रहा है और शाही नौसेना (Royal Navy) का एक आधार है।

जिब्राल्टर की संप्रभुता आंग्ल-स्पेनी विवाद का एक प्रमुख मुद्दा रहा है। उत्रेच्त संधि 1713 के तहत स्पेन द्वारा ग्रेट ब्रिटेन की क्राउन को सौंप दिया गया था, हालांकि स्पेन ने क्षेत्र पर अपना अधिकार जताते हुए लौटाने की मांग की है। जिब्राल्टर के बहुसंख्यक रहवासियों ने इस प्रस्ताव के साथ-साथ साझा संप्रभुता के प्रस्ताव का विरोध किया।

यह चट्टानी प्रायद्वीप है, जो स्पेन के मूल स्थल से दक्षिण की ओर समुद्र में निकला हुआ है। इसके पूर्वं में भूमध्यसागर तथा पश्चिम में ऐलजेसियरास की खाड़ी है। १७१३ ई. से यह अंग्रेजी साम्राज्य के उपनिवेश तथा प्रसिद्ध छावनी के रूप में है।

जिब्राल्टर के चट्टानी प्रायद्वीप को चट्टान (दी रॉक) कहते हैं। चट्टान समुद्र की सतह से एकाएक ऊपर उठती दृष्टिगोचर होती है। यह चट्टानी स्थलखंड उत्तर-दक्षिण फैली हुई पतली श्रेणी द्वारा बीच में विभक्त होता है, जिसपर कई ऊँची चोटियाँ हैं। चट्टानें चूना पत्थर की बनी हैं, जिनमें कई स्थलों पर प्राकृतिक गुफाएँ निर्मित हो गई हैं। कुछ गुफाओं में प्राचीन जीव-जंतुओं के चिह्न भी पाए गए हैं।

जिब्राल्टर नगर नया बसा है। प्राचीन नगर की प्राय: सभी पुरानी महत्वपूर्ण इमारतें युद्ध (१७७-८३) में नष्ट हो गई। वर्तमान नगर 'राक' के उत्तरी-पश्चिमी भाग में ३/१६ वर्ग मील के क्षेत्रफल में फैला है। इसके अतिरिक्त समुद्र का कुछ भाग सुखाकर स्थल में परिणत कर लिया गया है। नगर का मुख्य व्यापारिक भाग समतल भाग में है। समतल के उत्तर की ओर ऊँचे असमतल भागों में लोगों के निवासस्थान तथा दक्षिण की ओर सेना के कार्यालय तथा बेरक हैं। यहाँ एक सैनिक हवाई अड्डा भी है। जिब्राल्टर कोयले के व्यापार का मुख्य केंद्र था, पर तेल से जलयानों के चलने के कारण इस व्यापार में अब अधिक शिथिलता आ गई है।

नाम[संपादित करें]

इसका नाम सातवीं सदी के बर्बर मुस्लिम सेनानी तारिक़ बिन ज़ियाद के नाम पर रखा गया था। यहाँ की चट्टानों को अरबी में जबल अल तारिक़ (तारिक का पहाड़) कहा गया जो स्पेनिश इलाकों में जिब्राल्टर के नाम से जाना गया।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]