अल्बानिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अल्बानिया गणराज्य
Republika e Shqipërisë
अल्बानिया का ध्वज अल्बानिया का
ध्वज [[अल्बानिया का |]]
राष्ट्रवाक्य: "मुक्त और सशक्त"
राष्ट्रगान: Hymni i Flamurit
("ध्वज का गीत")
अल्बानिया की स्थिति
राजधानी
(और सबसे बड़ा शहर)
तिराना
28°34′ N 77°12′ E
राजभाषा(एँ) अल्बानियाई
सरकार संसदीय लोकतन्त्र
राष्ट्रपति
-प्रधानमंत्री
बामिर टोपि
साली बेरिशा
स्वतंत्र  
 - ऑटोमन साम्राज्य से २८ नवंबर, १९१२ 
 - संसदीय लोकतन्त्र २८ नवंबर, १९९८ 
क्षेत्रफल
 - कुल २८,७४८ किमी² (१३९ वां)
११,१०० मील²
 - जल(%) ४.७
जनसंख्या
 - २००९ अनुमान ३६,३९,४५३ (१३०)
 - जन घनत्व १२३/किमी² (६३)
३१८.६/मील²
सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) (पीपीपी) २००८ अनुमान
 - कुल २१.८१ अरब डॉलर[1] (११७ वां)
 - प्रति व्यक्ति ६,००० $ (१३२ वां)
मानव विकास सूचकांक  (२००७) ०.८०७ (उच्च) (६९ वां)
मुद्रा लेक (ALL)
समय मंडल सीईटी (यूटीसी +१)
 - ग्रीष्म (DST) सीईएसटी (यूटीसी +२)
इंटरनेट टीएलडी .al
दूरभाष कोड +३५५

अल्बानिया गणराज्य (अल्बानियाई: Republika e Shqipërisë) उत्तरपूर्वी यूरोप में स्थित एक देश है। इसकी भूसीमाएं उत्तर में कोसोवो, उत्तरपश्चिम में मोन्टेनेग्रो, पूर्व में भूतपूर्व यूगोस्लाविया, और दक्षिण में यूनान से मिलती हैं। तटीय सीमाएं दक्षिण पश्चिम में आड्रियाटिक सागर और आयोनियन सागर से मिलती हैं।

अल्बानिया एक संसदीय लोकतंत्र और अवस्थांतर अर्थव्यवस्था है। अल्बानिया की राजधानी, तिराना, लगभग ८,९५,००० निवासियों वाला नगर है जो देश की ३६ लाख की जनसंख्या का चौथाई भाग है, और यह नगर अल्बानिया का वित्तीय केन्द्र भी है। मुक्त बाजार सुधारों के कारण विदेशी निवेश के लिए देश की अर्थव्यस्था खोल दी गई है मुख्यतः ऊर्जा के विकास और परिवहन आधारभूत ढांचे में।

अल्बानिया संयुक्त राष्ट्र, नाटो, यूरोपीय सुरक्षा और सहयोग संगठन, यूरोपीय परिषद, विश्व व्यापार संगठन, इस्लामिक सम्मेलन संगठन इत्यादि का सदस्य है और भूमध्य क्षेत्र संघ के संस्थापक सदस्यों में से एक था। अल्बानिया जनवरी २००३ से यूरोपीय संघ में विलय के लिए एक संभावित प्रत्याशी रहा है, और इसने औपचारिक रूप से २८ अप्रैल, २००९ को यूरोपीय संघ की सदस्यता के लिए आवेदन किया।

इतिहास[संपादित करें]

दूसरी से चौथी सदी तक यह क्षेत्र रोमन साम्राज्य का भाग था। इसके अगले १००० वर्षों तक यह यूनानी भाषा बोलने वाले ओस्ट्रोमीरिज का भाग था। स्कान्दरबर्ग, जिसे बाद में अल्बानिया के राष्ट्रीय नायक होने का गौरव प्राप्त हुआ, ने अपनी मृत्यु तक तुर्कों को अल्बानिया से खदेड़े रखा। इसके बाद लगभग ५०० वर्षों का तुर्क आधिपत्य काल आया, जिसका अन्त बाल्कन युद्ध के बाद हुआ और अल्बानिया १९१२ में एक स्वतन्त्र देश बना।

प्रथम बाल्कन युद्ध के बाद अल्बानिया ने ऑटोमन साम्राज्य से अपनी स्वतन्त्रता की घोषणा कर दी। देश में स्थिति अभी भी अशांत थी। द्वितीय विश्व युद्घ के दौरान इटली ने इसपर अधिकार कर लिया, लेकिन इसका लगातार एन्वर होक्ज़ा के नेतृत्व में साम्यवादी विरोध जारी रहा, और इतालवियों के देश छोड़ने के बाद साम्यवादियों ने सत्ता सम्भाली।

१९९० में एन्वर होक्ज़ा की मृत्यु के पाँच वर्षों बाद तक, अल्बानिया एक पृथक्कृत देश था।

देश में बहुदलीय व्यस्था को सुदृढ़ किया जा रहा है, लेकिन देश में अभी भी बहुत सी आर्थिक समस्याएं बनीं हुई हैं, जैसे निवेश की कमी और आधारभूत ढाँचे की कमी और अपर्याप्त बिजली आपूर्ती। इसके अतिरिक्त यहाँ भ्रष्टाचार, 'काली' अर्थव्यस्था और संगठित अपराध की भी भारी समस्या है। २००५ में इन समस्याओं का समाधान करने के लिए पहल की गई लेकिन उससे बहुत अधिक उत्साहवर्धक परिणाम नहीं निकले।

१९९७ में देश में सशस्त्र विद्रोह हो गया और सैन्य हथियार लूट लिए गए। इसका कारण था जिन कम्पनियों में लोगों ने पैसा निवेश किया था वह ढह गईं और अल्बानियाईयों का पैसा डूब गया। इटली के नेतृत्व में नाटो सेनाएं यहाँ तैनात की गईं ताकी शांति और कानून व्यस्था बनी रहे। सत्तारूढ राष्ट्रपति साली बेरिशा को अपदस्त होने के लिए बाध्य किया गया और इस बीच समाजवादी नेता फ़ातोस नानो को छोड़ा गया। संसदीय चुनावों के बाद समाजवादी सत्ता में आए।

सितम्बर १९९८ में एक प्रमुख नेता आज़ेम हज्दारी की हत्या का प्रयास किया गया जिसके बाद दंगे भड़क उठे। फ़ातोस नानो विदेश भाग गए और उनके स्थान पर एक अन्य समाजवादी नेता पान्देली माज्को सत्ता में आए।

अल्बानिया नाटो और यूरोपीय संघ का सदस्य बनना चाहता है और इसने अफ़्गानिस्तान और ईराक में अमेरिकी सेना का समर्थन किया है। यूरोपीय संघ, विश्व बैंक इत्यादि ने अल्बानिया की समस्याओं को लेकर इसकी आलोचना की है, लेकिन पिछ्ले कुछ वर्षों में यहाँ विकास हुआ है जिसके बाद यूरोपीय संघ ने अल्बानिया के साथ अब तक की स्थिति के उलट अधिक सहयोग किया है।

होक्ज़ा की सत्ता ढहने के बाद से अल्बानिया पर साली बेरिशा के अधीन लोकतन्त्रवादियों का शासन है। २००५ के आम चुनावों में समाजवादियों की हार हुई और लोकतन्त्रवादियों को पुनः सत्ता प्राप्त हुई और इस हार के बाद फ़ातोस नानो ने पार्टी चेयरमैन का पद त्याग दिया और तिराना के मेयर एदि रामा नए चेयरमैन बने।

राजनीति[संपादित करें]

अल्बानिया में राष्ट्रपति राष्ट्र प्रमुख होता है, जिसका चुनाव कुवेन्दी पॉपुल्लर या विधानसभा द्वारा किया जाता है। विधानसभा के १५५ सदस्यों का चुनाव प्रति पाँच वर्ष में होने वाले चुनावों द्वारा किया जाता है। राष्ट्रपति द्वारा सरकार के मन्त्रियों का चुनाव किया जाता है जिनका मुखिया अल्बानिया का प्रधानमन्त्री होता है।

अल्बानिया में १८ वर्ष से ऊपर के सभी अल्बानियाई नागरिक मतदान कर सकते हैं।

कार्यकारी शाखा
  • राष्ट्र प्रमुखः देश का राष्ट्रपति
  • सरकार प्रमुखः प्रधानमन्त्री
  • मन्त्रीपरिषदः मन्त्रीपरिषद प्रधानमन्त्री द्वारा सुझाई जाती है, राष्ट्रपति द्वारा नामित होती है, और संसद द्वारा स्वीकृत की जाती है।
विधान शाखा
  • एकविधायी विधानसभा या कुवेन्दी (Kuvendi)(१४० सीटें; १०० सदस्य लोकप्रिय मतों द्वारा और ४० सदस्य आनुपातिक मतों द्वारा चुने जाते हैं जिनका कार्यकाल ४ वर्षों का होता है।
  • चुनावः पिछले चुनाव ३ जुलाई, २००५ को हुए थे, अगले २००९ में।
न्यायिक शाखा

संवैधानिक न्यायालय, उच्चतम न्यायालय (चेयरमैन का चुनाव जन सभा द्वारा चार वर्षीय अवधि के लिए किया जाता है) और विभिन्न जिला स्तरीय न्यायालय।

प्रभाग[संपादित करें]

तिराना - अल्बानिया का सबसे प्रमुख नगर, तिराना जिले में स्थित है।

अल्बानिया ३६ प्रभागों में विभक्त है, जिन्हें अल्बानिया में रेथे (rrethe) कहा जाता है। राजधानी तिराना को विशेष दर्जा प्राप्त है। ये प्रभाग हैं:

  • बेरात (Berat)
  • बुलकीज़ (Bulqize)
  • डेल्वाइन (Delvine)
  • देवोली (Devoll)
  • डिबर (Diber)
  • डूरेस (Durrës)
  • इल्बासन (Elbasan)
  • फीएर (Fier)
  • जिरोकास्तर (Gjirokastër)
  • ग्राम्श (Gramsh)
  • हास (Has)
  • कावाजे (Kavaje)
  • कोलोन्जे (Kolonje)
  • कोर्से (Korçë)
  • क्रूजे (Kruje)
  • कूसोवे (Kuçovë)
  • कूकेस (Kukes)
  • कूर्बिन (Kurbin)
  • लेझे (Lezhe)
  • लिब्राझड (Librazhd)
  • लूश्न्जे (Lushnje)
  • मालेसि ई माधे (Malesi e Madhe)
  • मल्लाकास्तर (Mallakaster)
  • माट (Mat)
  • मिरदित (Mirdite)
  • पीकिन (Peqin)
  • पेरमेत (Permet)
  • पोग्राडेक (Pogradec)
  • पूके (Puke)
  • सारान्दे (Sarande)
  • श्कोदर (Shkodër)
  • स्क्रापर (Skrapar)
  • तेपेलीन (Tepelene)
  • तिराने (Tirane)
  • त्रोपोजे (Tropoje)
  • व्लोरे (Vlorë)

भूगोल[संपादित करें]

अल्बानिया का उपग्रह चित्र।

अल्बानिया का क्षेत्रफल २८,७४८ वर्ग किलोमीटर है। इसकी तटरेखा ३६२ किलोमीटर लंबी है और एड्रियाटिक और आयोनियन सागरों साथ लगती हुई है। पश्चिम की निम्नभूमि एड्रियाटिक सागर की ओर मुखातिब है। देश का ७०% भूपरिदृश्य पर्वतीय है और बाहर से अभिगमन प्रायः दुर्गम है। सबसे ऊँचा पर्वत कोराब पर्वत, दिब्रा जिले में स्थित है, और २,७५३ मीटर (९,०३० फुट) ऊँचा है। देश की ऊँचे क्षेत्रों में ठंडी सर्दियों और गर्मियों के साथ जलवायु महाद्वीपीय है। राजधानी तिराना के अतिरिक्त, जिसकी जनसंख्या ८,००,००० है, अन्य प्रमुख नगर हैं डूरेस (Durrës), कोर्से (Korçë), इल्बासन (Elbasan), श्कोदर (Shkodër), जिरोकास्तर (Gjirokastër), व्लोरे (Vlorë), और कूकेस (Kukës) हैं।

बाल्कन प्रायद्वीप की तीन सबसे विशाल और गहरी टेक्टोनिक झीलें आंशिक रूप से अल्बानिया में पड़ती हैं। देश के उत्तर्पश्चिम में स्थित श्कोदेर झील की सतह ३७० किमी से ५३० किमी तक है, जिसमें से एक तिहाई अल्बानिया में और शेष मोंटेनेग्रो में आता है। झील से लगता अल्बानियाई तट ५७ किमी का है। ऑर्चिड झील देश के दक्षिण-पश्चिम में है यह अल्बानिया और मैसिडोनिया के बीच विभाजित है। इसकी अधिकतम गहराई २८९ मीटर है यहाँ पर विभिन्न प्रकार के अनूठे वनस्पति और जीव पाए जाते है, जैसे "जीवित जीवाश्म" और कई विलुप्त प्रजातियां। अपने प्राकृतिक और एतिहासिक महत्व के कारण ऑर्चिड झील यूनेस्को के संरक्षण में है।

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

अल्बानिया, पूर्वी यूरोपीय मानकों के आधार पर एक निर्धन देश है। वर्ष २००८ में इसका प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (पी पी एस में व्यक्त-व्यय शक्ति मानक) यूरोपीय संघ के औसत का २५ प्रतिशत था। फिर भी, अल्बानिया ने आर्थिक विकास की क्षमता दिखाई है, जबसे अधिक से अधिक व्यापार प्रतिष्ठान यहाँ स्थानांतरित हो रहे हैं और वर्तमान वैश्विक लागत-कटौती के चलते उपभोक्ता वस्तुएँ उभरते बाज़ारी व्यापारियों द्वारा यहाँ उपलब्ध कराई जा रही हैं। यूरोप में केवल अल्बानिया और साइप्रस ही ऐसे दो देश हैं जिन्होंने २००९ की प्रथम तिमाही में आर्थिक विकास दर्ज किया है।

देश में तेल और प्राकृतिक गैस के कुछ भण्डार पाए जाते हैं, लेकिन तेल उत्पादन केवल ६,४२५ बैरल प्रतिदिन है। प्राकृतिक गैस का उत्पादन, जो लगभग ३ करोड़ घन मीटर है, घरेलू माँग को पूरा करने के लिए पर्याप्त है। अन्य प्राकृतिक सन्साधन हैं कोयला, बॉक्साइट, ताँबा, और लौह अयस्क।

कृषि क्षेत्र सबसे प्रमुख है, जिसमें देश की ५८% कार्यशक्ति लगी हुई है और इससे सकल घरेलू उत्पाद का २१% भाग उत्पन्न होता है। अल्बानिया पर्याप्त मात्रा में गेहूँ, मक्काम तंबाकू, मछली (विश्व में १३ वें स्थान पर), और जैतून का उत्पादन करता है।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

१९६१ और २००३ के बीच जनसांख्यिकी परिवर्तन (आँकड़े एफएओ द्वारा, २००५)। जनसंख्या हजार में।

अल्बानिया एक सजातीय देश है: ९४% लोग मूल अल्बानियाई हैं, जो दो मुख्य समूहों में बँटे हैं - घेस (उत्तर) और तोस्क (दक्षिण), और भौगोलिक रूप से श्कुम्बिन नदी इस क्षेत्रों को अलग करती है। अन्य जातीय समूह हैं यूनानी (२%), आर्मेनियाई (३%), जिप्सी, सर्ब और मैसिडोनियाई (१%)।

१९१३ के हुए बिभाजन के बाद से बहुत से अल्बानियाई पड़ोसी देशो जैसे कोसोवो, मैसिडोनिया के पश्चिम में, उत्तरी यूनान इत्यादि में रहते हैं। १९१२-१३ में लंदन में हुए राजदूत सम्मेलन में हुई सन्धि के कारण अल्बानिया के पड़ोसी देशों को अल्बानिया का ४०% भूभाग और जनसंख्या दिए गए।

यूरोप में अल्बानिया की प्रवासन दर सर्वाधिक है, लगभग एक तिहाई अल्बानियाई विदेशों में रहते हैं, २००६ में लगभग ९,००,०००, जिनमें से अधिकांश मुख्यतः दो सीमाई देशों - इटली और यूनान में बसे हुए हैं। इसका एक प्रमुख कारण अल्बानिया का शेष यूरोप की तुलना में जीवन स्तर कम होना है। परिणाम स्वरूप देश की कुल जनसंख्या में भी १९९१ और २००१ के बीच जन्म दर के सन्तुलित रहने के पश्चात भी १,००,००० की गिरावट आई है। अभी भी देश में प्रवासन जारी है भले ही आधिकारिक आँकड़ो में इसमें कमी दर्शायी जाती हो।

धर्म[संपादित करें]

बड़ी संख्या में अल्बानियाई लोग या तो नास्तिक हैं या अज्ञेयवादी। सरकारी आँकड़ों के अनुसार, अल्बानिया में धार्मिक कार्यकलापों में लगे हुए लोगों का प्रतिशत २५ से ४० के बीच है, अर्थात ६०% से ७५% तक अल्बानियाई अधार्मिक हैं (या कम से कम सार्वजनिक रूप से धार्मिक प्रदर्शनों में नहीं हैं)। यद्यपि अल्बानियाई बहुत अधिक धार्मिक नहीं हैं, लेकिन लगभग ७०% लोग सांस्कृतिक और धार्मिक रूप से मुसलमान है, अल्बानियाई ऑर्थडॉक्स २०% और कैथलिक १०% हैं।

आज के अल्बानिया में धार्मिक बनावट की बहुत कम भूमिका है, और लम्बे समय से यहाँ ईसाई और मुसलमान शान्तिपूर्ण रूप से रहते आए हैं।

भाषा[संपादित करें]

अल्बानिया की प्रमुख भाषा है अल्बानियाई, जो एक हिन्द यूरोपीय भाषा है। यह अल्बानिया के अतिरिक्त मैसिडोनिया, मोंटेनेग्रो, कोसोवो, और इटली के अर्बेरेश (Arbëresh) और यूनान के अर्वानितेस (Arvanites) में बोली जाती है। इसकी दो मुख्य बोलियाँ हैं:

  • घेग, जो श्कुम्बिन नदी के उत्तर में बोली जाती है
  • तोस्क, जो दक्षिणी अल्बानिया में बोली जाती है, श्कुम्बिन नदी के दक्षिण में

१९०९ में इस भाषा को औपचारिक रूप से लातिन लिपि में लिखा जाने लगा, और द्वितीय विश्व युद्ध के अन्त से लेकर १९६८ तक कोसोवो, मैसिडोनिया और मोंटेनेग्रो में रह रहे अल्बानियाईयों में इसे आधिकारिक रूप से प्रयुक्त किया। १९७२ में साम्यवाद के उत्त्थान के बाद से इस भाषा को और गति मिली और यह आज अल्बानिया की आधिकारिक भाषा है।

संस्कृति[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

अल्बानियाई लोक संगीत तीन समूहों में विभाजित है, अन्य महत्वपूर्ण संगीत क्षेत्र श्कोदर और तिराना के आसपास हैं; प्रमुख समूह हैं उत्तर के घेग और दक्षिण के लैब्स और तोस्क। उत्तरी और दक्षिणी परंपराओं में अन्तर है, उत्तरी संगीत "ऊबड़ और वीरतापूर्ण" और दक्षिणी संगीत "शांतिपूर्ण, मृदुल और असाधारण रूप से सुंदर" है। इन दो अलग शैलियों का एकीकरण तब होता है "जब दोनों, कलाकार और श्रोता ध्यानपूर्वक संगीत को देशभक्ति की अभिव्यक्ति के लिए एक माध्यम के रूप में प्रयुक्त करते हैं और मौखिक रूप से इतिहास का वर्णन करते हैं"। अल्बानियाई लोक संगीत का प्रथम संकलन प्जीतर दुन्गु (Pjetër Dungu) द्वारा १९४० में किया गया था।

खानपान[संपादित करें]

अल्बानिया का भोजन अन्य भूमध्य और बाल्कन देशों के ही समान, अपने इतिहास से दृढ़ता से प्रभावित है। अलग अलग समय में, अल्बानिया पर यूनान, इटली, और ऑटोमन तुर्को नें अधिकार किया और प्रत्येक ने अल्बानियाई खानपान पर अपनी छाप छोड़ी। अल्बानिया के लोगों का मुख्य भोजन दोपहर का भोजन है, और इसमें आमतौर हरी सब्जियों के सलाद जैसे टमाटर, खीरे, हरी मिर्च, और जैतून का तेल, सिरका और नमक लिया जाता है। दोपहर के भोजन में प्रमुख व्यंजन रे रूप में सब्जियाँ और मांस भी सम्मिलित है। तटीय क्षेत्रों जैसे डूरेस, व्लोरे, और सारान्दे में समुद्री-आहार भी विशेष रूप से प्रचलित है। लम्बे समय से अल्बानिया में यह परम्परा रही है की किसी सामाजिक सभा का संयोजक, जिसे पापि मूएजर (Papi Muejer) कहा जाता है, वहाँ उपस्थित लोगों के लिए किसी स्थानीय मधुशाला में प्रथम बार की मदिरा खरीदता है।

वेशभूषा[संपादित करें]


शिक्षा[संपादित करें]

साम्यवादी शासन से पहले, अल्बानिया में निरक्षरता दर ८५% थी। प्र्थम और द्वितीय विश्व युद्धों के बीच विद्यालय बहुत कम थे। १९४४ में साम्यवादी अधिग्रहण वाली सरकार ने निरक्षरता को समाप्त करने की ठानी। विनियामक इतने कड़े कर दिए गए की १२ से ४० वर्ष तक के आयुवर्ग में जो कोई भी पढ़ना या लिखना नहीं जानता था, के लिए विद्यालय जाना अनिवार्य कर दिया गया। संघर्ष के इस दौर के बाद से देश में साक्षरता की दर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। आज अल्बानिया की साक्षरता दर ९८.७% है, पुरूष साक्षरता ९९.२% और महिला साक्षरता दर ९८.३% है। १९९० के बाद से जनसंख्या के तेज़ी से नगरीय क्षेत्रों की ओर पलायन के कारण शिक्षा का भी पलायन हुआ है और हज़ारों शिक्षक अपने विद्यार्थियों के पीछे-२ नगरीय क्षेत्रों में चले गए हैं।sabhi kuch

स्वास्थ्य[संपादित करें]

समाजवाद के पतन के बाद से देश में स्वास्थ सेवाएं निरंतर चरमराई है, लेकिन २००० के बाद से इस क्षेत्र में आधिनिकीकरण किया गया है। आरंभिक २००० में देशभर में कुल ५१ अस्पताल थे जिन्में एक सैन्य अस्पताल और विशेषज्ञ सुविधाएं भी सम्मिलित हैं। अल्बानिया ने सफ़लतापूर्वक मलेरिया का उन्मूलन किया है।

जीवन प्रत्याशा ७७.४३ वर्ष है, जो विश्व में ५१ वें स्थान पर है, और बहुत से अन्य यूरोपीय देशों जैसे हंगरी और चेक गणराज्य से अधिक है।

आयुर्विज्ञान विद्यालय, तिराना विश्वविद्यालय का चिकित्सा संकाय, तिराना में है। देश के कई अन्य नगरों में भी नर्सिंग विद्यालय हैं।

प्रसिद्ध अल्बानियाई[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. सीआईए वर्ल्ड फैक्टबुक
  2. अल्बानियाई मूल की भारतीय नागरिक

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सरकार
पर्यटन
अन्य