आयरिश भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आयरिश (Irish) भारोपीय परिवार की एक गोइदेलिक भाषा है, जिसका उद्भव आयरलैंड में हुआ और आयरिश लोगों द्वारा बोली जाती है। आज आयरिश भले ही केवल आयरिश जनसंख्या के एक छोटे समुदाय द्वारा बोली जाती हो, लेकिन यह आयरिश राज्य के निवासियों के जीवन में एक महत्वपूर्ण प्रतीकात्मक भूमिका अदा करता है, जिसका इस्तेमाल देश भर में मीडिया, निजी संदर्भों और सामाजिक स्थितियों में किया जाता है। इसे आयरलैंड गणतंत्र की राष्ट्रीय और पहली आधिकारिक भाषा के रूप में संवैधानिक दर्जा प्राप्त है, इसके अलावा इसे यूरोपीय संघ के एक आधिकारिक भाषा के रूप में दर्जा प्राप्त है। आयरिश को उत्तरी आयरलैंड में भी आधिकारिक तौर पर अल्पसंख्यक भाषा का दर्जा प्राप्त है।

आयरिश साहित्य[संपादित करें]

आयरिश आयरलैंड की भाषा तथा साहित्य को 'आयरिश' नाम से जाना जाता है। आयरलैंड में अंग्रेजों के प्रभुत्वकाल में तो अंग्रेजी की ही प्रधानता रही, पर देश की स्वाधीनता के बाद वहाँ की अपनी भाषा आयरिश (गैली) को फिर से महत्व दिया गया। गैली का साहित्य पाँचवी शताब्दी ई. तक का मिलता है। आयरिश भारत यूरोपीय कुल की केल्टिक शाखा के गोइडेली वर्ग से संबद्ध नहीं मानी जाती है।

विकास की दृष्टि से आयरिश भाषा के इतिहास को तीन कालों में विभक्त किया जाता है-

(१) प्राचीन आयरिश (सातवीं सदी नवीं सदी के मध्य तक)
(२) मध्यकालीन आयरिश ( नवीं से १२वीं सदी तक तथा )
(३) आधुनिक (१३वीं सदी के उपरांत)
(क) १७वीं सदी से पूर्व, तथा
(ख) १७वीं सदी के बाद।

राष्ट्रीय पुनर्जागरण के फलस्वरूप आयरिश को देश में फिर से स्थापित तो किया गया, परंतु आधुनिक आयरिश का कोई एक स्थिरीकृत रूप नहीं बन सका है। आयरिश की कई बोलियाँ अब भी महत्व की स्थिति लिए हुए हैं।

प्रारंभिक आयरिश साहित्य में शौर्यगाथाओं की प्रधानता रही है जो गद्य तथा पद्य के मिले जुले रूप में लिखी गई थीं। ऐसे गाथाचक्रों में 'अलस्टर' का नाम विशेष महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त आदिकालीन आयरिश कविता में गीत तत्व की भी प्रधानता थी। ऐसा काव्य प्रमुखत: धार्मिक तथा प्रकृति सम्बंधी प्रेरणाओं की पृठभूमि में लिखा गया था। इन धार्मिक गीतों में सेंट पैट्रिक का गीत तथा उल्टान का सेंट ब्रिजिट के प्रति गीत विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। नवीं तथा १०वीं सदी के आसपास ऐतिहासिक आभास देनेवाले साहित्य का सर्जन हुआ। धार्मिक साहित्य के अंतर्गत उपदेश, संतों के चरित्र तथा इलहाम आदि आते हैं। इस वर्ग के लेखकों में माइकेल ओ' क्लेरे (१७वीं सदी) का नाम महत्वपूर्ण है। फिर इस युग में ऐतिहासिक रचनाएँ भी लिखी गईं।

प्रारंभिक आधुनिक आयरिश साहित्य को क्लैसिकल युग कहकर भी अभिहित किया जाता है। १३वीं से १७वीं शताब्दी के बीच प्रमुखत: दरबारों में लिखा गया काव्य ऐसे कवियों द्वारा प्रस्तुत किया गया जिन्हें पेशेवर कहा जा सकता है। इन कवियों ने अपनी कुछ रचनाएँ गद्य में भी लिखीं। १७वीं सदी के अंत तक यह चारणकाव्य समाप्त हो जाता है। नए काव्यसंप्रदाय में स्वराघात पर आधारित छंदयोजना प्रचलित हुई। इस युग के प्रमुख कवि थे ईगन ओ' राहिली (१८वीं सदी का पूर्व) तथा धार्मिक कवि ताग गैले ओ' सुइलयाँ। रिवाइवलिस्ट आंदोलन के प्रमुख लेखकों में हैं-थॉमस ओ' क्रिओमथाँ (मृत्यु-१९३७), थॉमस ओ' सुइलयाँ, पैप्लेट ओ' कोनर तथा माहरे।

आयरिश पुनर्जागरण का एक सशक्त रूप अंग्रेजी साहित्य में भी व्यक्ति हुआ है जहाँ आयरलैंड के अंग्रेजी लेखकों ने अपनी रचनाओं में आयरिश लोकतत्व, शब्दविधान तथा प्रतीकयोजना के अत्यंत सफल प्रयोग किए हैं। इस आंदोलन को आयरिश या केल्टिक पुनर्जागरण के नाम से जाना जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

व्याकरण एवं उच्चारण[संपादित करें]

शब्दकोश[संपादित करें]


विश्व की प्रमुख भाषाएँ पृथ्वी
मंदारिन भाषा | कैंटोरिन भाषा | वुव भाषा | मिन भाषा | होक्का भाषा | अंग्रेजी भाषा | हिन्दी भाषा | रूसी भाषा | अरबी भाषा | बंगाली भाषा | पुर्तगाली भाषा | जापानी भाषा | फ़्रांसीसी भाषा | जर्मन भाषा | उर्दू भाषा | पंजाबी भाषा | कोरियाई भाषा | तेलुगू भाषा | इटालियन भाषा | तमिल भाषा | मराठी भाषा | जवानीज भाषा | वियतनामी भाषा | तुर्की भाषा | थाई भाषा | उक्रेनियन भाषा | स्वाहिली भाषा | पोलिश भाषा | कन्नड़ भाषा | गुजराती भाषा | मलयालम भाषा | टागालोग भाषा | फ़ारसी भाषा | हौसा भाषा | बर्मी भाषा | उड़िया भाषा | सूडानीज भाषा | रोमानियन भाषा | पश्तो भाषा | डच-फ्लेमिश भाषा | सर्बी क्रोएशियन भाषा | असमी भाषा | योऊबा भाषा | सिंधी भाषा | इबो भाषा | अम्हारिक भाषा | हंगेरियन भाषा | अजेरी भाषा | नेपाली भाषा | चेक भाषा | सिंहली भाषा | सेबुआनो भाषा | फुला भाषा | उजबेक भाषा | मलागासी भाषा | ग्रीक भाषा | अफ्रीकांस भाषा | कुर्दिश भाषा | गाला भाषा | मदुरीसी भाषा | बाइलोरशियन भाषा | कैटलन भाषा | नियांगा भाषा | ओरोम भाषा | स्वीडिश भाषा | बुल्गारियन भाषा | मलिन्के भाषा | कजाक भाषा | रूवान्डा भाषा | कुएचुआ भाषा | शोना भाषा | ततार भाषा | ख्मेर भाषा | जुलू भाषा | उइगुर भाषा | सोमाली भाषा | लिंगाला भाषा | त्वाई-फान्टे भाषा | इलोकानो भाषा | जोशा भाषा | मिनान कबाऊ भाषा | यी (लोलो) भाषा | फिनिश भाषा | बोलोफ भाषा | रूंडी भाषा | नर्वेजियन भाषा | स्लोवाक भाषा | आर्मेनियन भाषा | तिब्बती भाषा | संथाली भाषा | अल्बेनियन भाषा | मियाओ भाषा | मंगोलियन भाषा | किकियू भाषा | जार्जियन भाषा | हिब्रू भाषा | मोरे भाषा | लाओ भाषा | नियाना भाषा | गुआरानी भाषा | बटक तोबा भाषा कनूरी भाषा | टिग्रीनिया भाषा | बाइकोल भाषा | बलूची भाषा | अचाइनीज भाषा | बुंडा भाषा बालानीज भाषा | मकुआ भाषा | कांगो भाषा बिलि भाषा | टर्पमैन भाषा | एबी भाषा | स्वाना भाषा | शान भाषा | कम्बा भाषा | लुओ भाषा | लैटनियन भाषा | स्लोवेनियन भाषा चुवाश भाषा | गोंडी भाषा | बेम्बा भाषा | मेसिडोनियन भाषा | किरगिज भाषा | टुलू भाषा | मेंडे भाषा | मार्डविन भाषा | करेन भाषा सिडाम भाषा | एस्तोनियन भाषा | बाश्किर भाषा | फोन भाषा