मानस शास्त्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साइकोलोजी या मनोविज्ञान (ग्रीक : Ψυχολογία,लिट."मस्तिष्क का अध्ययन",ψυχήसाइके"शवसन, आत्मा, जीव" , और -λογία-लोजिया (-logia) "का अध्ययन "[1]) एक अकादमिक (academic)और प्रयुक्त अनुशासन है जिसमें मानव के मानसिक कार्यों और व्यवहार (mental function) का वैज्ञानिक अध्ययन (behavior) शामिल है कभी कभी यह प्रतीकात्मक (symbol) व्याख्या (interpretation)और जटिल विश्लेषण (critical analysis)पर भी निर्भर करता है, हालाँकि ये परम्पराएँ अन्य सामाजिक विज्ञान (social science) जैसे समाजशास्त्र (sociology) की तुलना में कम स्पष्ट हैं.मनोवैज्ञानिक ऐसी घटनाओं को धारणा (perception), अनुभूति (cognition), भावना (emotion), व्यक्तित्व (personality), व्यवहार (behavior) और पारस्परिक संबंध (interpersonal relationships) के रूप में अध्ययन करते हैं.कुछ विशेष रूप से गहरे मनोवैज्ञानिक (depth psychologists) अचेत मस्तिष्क (unconscious mind) का भी अध्ययन करते हैं.

मनोवैज्ञानिक ज्ञान मानव क्रिया (human activity) के भिन्न क्षेत्रों पर लागू होता है, जिसमें दैनिक जीवन के मुद्दे शामिल हैं और -; जैसे परिवार, शिक्षा (education) और रोजगार और - और मानसिक स्वास्थ्य (treatment)समस्याओं का उपचार (mental health). मनोविज्ञानवेत्ता व्यक्तिगत और सामाजिक व्यवहार में मानसिक कार्य की भूमिका को समझने का प्रयास करते हैं, जबकि इसके तहत आने वाले शरीर कार्यिकी (physiological)तथा तंत्रिका (neurological)प्रक्रियाओं पर भी कार्य करते हैं.मनोविज्ञान में अध्ययन और अनुप्रयोग फके कई उपक्षेत्र भी शामिल हैं जैसे मानव विकास (human development), खेल (sports), स्वास्थ्य (health), उद्योग (industry), मीडिया (media) और कानून (law).मनोविज्ञान में प्राकृतिक विज्ञान (natural sciences), सामाजिक विज्ञान और मानविकी (humanities) के अनुसंधान भी शामिल हैं.

अनुक्रम

इतिहास[संपादित करें]

दार्शनिक और वैज्ञानिक जड़ें[संपादित करें]

दार्शनिक संदर्भ में मनोविज्ञान का अध्ययन मिस्र, ग्रीस (Greece), चीन और भारत की प्राचीन सभ्यताओं से सन्दर्भ रखता है. मनोविज्ञान ने मध्यकाल में अधिक नैदानिक (clinical)[2] और प्रयोगात्मक (experimental)[3] दृष्टिकोण अपना लिया जब मुस्लिम मनोवैज्ञानिकों (Muslim psychologists) और चिकित्सकों (physicians) ने ऐसे उद्देश्यों के लिए मनोरोग अस्पताल (psychiatric hospital) बनाने शुरू कर दिए.[4]

१८०२ में, फ्रांसीसी मनोविज्ञानी पियरे कबानीज (Pierre Cabanis) ने अपने निबंध रेपर्ट्स ड्यू फिजिक एट ड्यू मोरल डी आई 'होम (biological psychology)के द्वारा जैव मनो विज्ञान को आगे बढ़ाने की कोशिश की (मानव के शारीरिक और नैतिक पहलुओं के बीच संबंधों पर). कबानीज ने जीव विज्ञान के पूर्व अध्ययन के प्रकाश में मस्तिष्क के बारे में व्याख्या की, और तर्क दिया कि संवेदनशीलता (sensibility) और आत्मा (soul), तंत्रिका तंत्र (nervous system) के गुण हैं.

हालांकि मनोवैज्ञानिक प्रयोगों (experiment) का उपयोग अल्हाजन (Alhazen's)की प्रकाशिकी की पुस्तक (Book of Optics) से १०२१ में शुरू हुआ,[3][5] फिर भी एक स्वतंत्र प्रायोगिक क्षेत्र के रूप में मनोविज्ञान का अध्ययन १८७९ में शुरू हुआ, जब विल्हेम वुन्द्त (Wilhelm Wundt)ने जर्मनी में लीपजीज विश्वविद्यालय (Leipzig University)में विशेष रूप से मनोवैज्ञानिक अनुसंधान के लिए एक पहली प्रयोगशाला बनायी, जिसके लिए वुन्द्त "मनोविज्ञान के जनक " के रूप में जाने जाते हैं.[6] इसी लिए १८७९ को कभी कभी मनोविज्ञान की "जन्म तिथि" कहा जाता है. अमेरिकी दार्शनिक विलियम जेम्स (William James) ने १८९० में अपनी मौलिक पुस्तक मनोविज्ञान के सिद्धांत (Principles of Psychology)[7] में कई ऐसे प्रश्नों की नीव रखी जिन पर आने वाले कई वर्षों में मनो वैज्ञानिकों (psychologist)ने अपना ध्यान केन्द्रित किया.इस क्षेत्र में अन्य महत्वपूर्ण प्रारंभिक योगदानकर्ता हैं हरमन एब्बिनघस (Hermann Ebbinghaus) (१८५०-१९०९), जो बर्लिन विश्वविद्यालय (memory)में स्मृति (University of Berlin)पर अध्ययन करने में अग्रणी रहें हैं; और रुसी मनो विज्ञानी (physiologist) इवान पावलोव (Ivan Pavlov) (१८४९-१९३६) जिन्होंने सीखने की प्रक्रिया (learning)की खोज की जो आज क्लासिकल कंडिशनिंग (classical conditioning)के नाम से जाना जाता है

मनोविश्लेषण[संपादित करें]

१८९० से लेकर १९३९ में उनकी मृत्यु तक, ऑस्ट्रिया के चिकत्सक सिगमंड फ्रुड ने मनश्चिकित्सा (psychotherapy) की एक विधि का विकास किया जिसे मनोविश्लेषण (psychoanalysis)के नाम से जाना जाता है.मस्तिष्क के बारे में फ्राइड की समझ बड़े पैमाने पर व्यख्यानात्मक विधियों, आत्मनिरीक्षण (introspection) और नैदानिक टिप्पणियों पर आधारित थी, और इसने विशेष रूप से अचेत संघर्ष, मानसिक तनाव, और मनो रोग विज्ञान (psychopathology)पर ध्यान केन्द्रित किया.फ्रुड के सिद्धांत बहुत ही लोकप्रिय हो गए क्योंकि इन्होने कई विषयों जैसे कामुकता (sexuality), दमन (repression), और अचेत मस्तिष्क (unconscious mind)को मनो वैज्ञानिक विकास के सामान्य पहलुओं के रूप में नियंत्रित किया. इन्हें उस समय बड़े पैमाने पर पाबन्द (taboo)विषय माना जाता था, और फ्रुड ने सभी समाज में इस पर खुले तौर पर चर्चा करने के लिए इनके लिए एक उत्प्रेरक उपलब्ध कराया. हालाँकि फ्रुड को संभवतया उसके मस्तिष्क के त्रिपक्षीय मॉडल के लिए जाना जाता था, जिसमें आई डी (id), अहंकार (ego)और अति अंहकार (superego) और इडिपस जटिल (Oedipus complex)के बारे में उनके सिद्धांत शामिल हैं, उनकी सबसे स्थायी विरासत शायद उनके सिद्धांत नहीं हैं बल्कि उनके नैदानिक नवाचार हैं, जैसे मुक्त संघ (free association)की विधि और क्लिनिकल इनट्रस्ट इन ड्रीम्स.

फ्रुड ने एक स्विस मनोवैज्ञानिक कार्ल जंग (Carl Jung) पर गहरा प्रभाव डाला, जिसका विश्लेषणात्मक मनोविज्ञान (analytical psychology) गहरे मनो विज्ञान (depth psychology)के लिए एक विकल्पी विधि बन गया. मध्य बीसवीं सदी के अन्य प्रसिद्द मनो विश्लेषक विचारक जिसमें सिगमंड फ्रुड की बेटी मनोविश्लेषक ऐना फ्रुड (Anna Freud); जर्मन अमेरिकी मनो विज्ञानी एरिक एरिक्सन (Erik Erickson), ऑस्ट्रियाई-ब्रिटिश मनोविश्लेषक मेलानीक्लेन (Melanie Klein), अंग्रेजी मनोवैज्ञानिक और चिकित्सकडोनाल्ड विन्नीकोट (D. W. Winnicott), जर्मन मनोचिकित्सक करेन होर्नी (Karen Horney), जर्मन में जन्मे शामिल मनोवैज्ञानिक और दार्शनिकएरिच फ्रॉम (Erich Fromm)और अंग्रेजी मनोचिकित्सक जॉन बोल्बी (John Bowlby)शामिल हैं.समकालीन मनोविश्लेषण में विचारों के कई विद्यालय शामिल हैं इनके विषय हैं अहंकार मनोविज्ञान (ego psychology), उद्देश्य संबंधों (object relations), पारस्परिक (interpersonal), लेकेनियन (Lacanian), और संबंधपरक मनोविश्लेषण (relational psychoanalysis)जंग के सिद्धांतों के संशोधन ने मनोवैज्ञानिक विचारों के आद्य रूप (archetypal)तथा प्रक्रिया उन्मुख (process-oriented) स्कूलों का नेतृत्व किया.

ऑस्ट्रियाई-ब्रिटिश दार्शनिक कार्ल पोप्पर (Karl Popper) ने तर्क दिया कि फ्रुद के मनो विश्लेषक सिद्धांत जांच के अयोग्य (untestable)रूप में पेश किये गए.[8] अमेरिकी विश्विद्यालय में मनोविज्ञान के विभाग आज वैज्ञानिक उन्मुख (scientifically oriented) हैं, और फ्रुड का सिद्धांत हाशिये पर रख दिया गया है, इसे एक हाल ही के ऐ पी ऐ (APA) अध्ययन के अनुसार एक "डेसीकेटेड और मृत" ऐतिहासिक तथ्य मन जा रहा है .[9] हाल ही में, तथापि, दक्षिण अफ्रीकी तंत्रिका विज्ञानी मार्क सोल्म्स (Mark Solms)और तंत्रिका मनो विश्लेषण (neuro-psychoanalysis)के विकसित होते हुए क्षेत्र में अन्य अनुसन्धानकर्ताओं का तर्क है कि फ्रुड के सिद्धांत, फ्रुड की अवधारणा से सम्बंधित मस्तिष्क की संरंचनाओं की और इशारा करते हैं, जैसे लिबिडो (libido), ड्राइव्स (drives), अचेत (unconscious) और दमन (repression).[10]

व्यवहारिकता[संपादित करें]

व्यावहारिकता का आंशिक विकास प्रयोगशाला पर आधारित जंतु प्रयोगों की लोकप्रियता के कारण हुआ और आंशिक विकास फ्रुड की मनो गतिकी (psychodynamic)की प्रतिक्रिया में हुआ, जिसका मूल रूप से (empirically)परिक्षण करना मुश्किल था, क्योंकि, अन्य कारणों के बीच, यह मामलों के अध्ययन और नैदानिक अनुभवों पर bharosa करने की प्रवृति रखता था, और बड़े पैमाने पर अन्तर-मनो घटना से क्रिया करता था, जिसकी मात्रात्मक गणना करना या उसे घटनात्मक रूप (define operationally)से परिभाषित करना मुश्किल काम था. इसके अलावा, प्रारंभी मनो विज्ञानी विल्हेम वुन्द्त और विलियम जेम्स के विपरीत, जिन्होंने आत्मनिरीक्षण (introspection)के माध्यम से मस्तिष्क का अध्ययन किया, व्यव्हार विज्ञानियों का तर्क था कि मस्तिष्क के अवयव वैज्ञानिक जांच के लिए खुले नहीं थे, और वैज्ञानिक मनोविज्ञान को केवल प्रेक्षणीय व्यवहार से सन्दर्भ रखना चाहिए.आंतरिक प्रधिनिधित्व या मस्तिष्क के बारे में कोई विचार नहीं किया गया.व्यावहारिकता की शुरुआत २० वीं सदी में अमेरिकी मनोवैज्ञानिक जॉन बी वाटसन (John B. Watson) के द्वारा की गयी, इसका विस्तार अमेरिकियों एडवर्ड थोर्नडीके (Edward Thorndike), क्लार्क एल हुल (Clark L. Hull), एडवर्ड सी. टोलमन (Edward C. Tolman) और बाद में बी एफ स्किनर (B.F. Skinner)के द्वारा किया गया.

व्यावहारिकता अन्य दृष्टिकोणों से कई प्रकार से विभिन्न है.व्यवहार विज्ञानी व्यवहार-पर्यावरण संबंधों पर ध्यान केन्द्रित करते हैं, और खुले और निजी व्यवहार को को एक जीव के कार्य के रूप में विश्लेषित करते हैं, जो अपने वातावरण के साथ अंतर क्रिया करता है.[11] व्यवहार विज्ञानी, निजी घटनाओं के अध्ययन को अस्वीकृत नहीं करते हैं, (उदाहरण स्वप्न), लेकिन इस प्रस्ताव को अस्वीकृत कर देते हैं कि जीव के भीतर एक स्वायत्त संस्था खुले (उदाहरण चलना और बोलना)और निजी व्यवहार (उदाहरण सपने देखना और कल्पना करना)का कारण है."मस्तिष्क" और "सचेतता" जैसी अव्धार्नाओं को व्यव्हार विज्ञानियों के द्वारा प्रयुक्त नहीं किया जाता है, क्योंकि ऐसे शब्द वास्तविक मनो वैज्ञानिक घटनाओं का वर्णन नहीं करते हैं, (जैसे कि कल्पना) लेकिन ये जीव में कहीं पर छुपे हुए स्पष्टीकारक संस्थाओं के रूप में प्रयुक्त किये जाते हैं.इसके विपरीत, व्यावहारिकता निजी घटनाओं को व्यवहार मानता है, और उन्हें खुले व्यवहार के तरीके से ही विश्लेषित करता है.व्यवहार का उपयोग जीव की ठोस घटनाओं, खुली या निजी के लिए किया जाता है.

अमेरिकी भाषाविद् नोअम चोमस्की के भाषा अधिग्रहण (language acquisition) के व्यावहारिक मोडल की आलोचना को कई लोगों के द्वारा व्यावहारिकता की सामान्य प्रसिद्धि में कमी में एक मुख्य बिंदु माना जाता है.[12] लेकिन स्किनर की व्यावहारिकता शायद आंशिक रूप से अभी ख़त्म नहीं हुई है, क्योंकि इसने सफल प्रायोगिक अनुप्रयोगों का विकास किया है.[12] मनोविज्ञान के एक व्यापक माडल के रूप में व्यावहारिकता के आरोहण ने , हालाँकि, अगले प्रभावी उदाहरण, संज्ञानात्मक दृष्टिकोण को रास्ता दिया है.[13]

मानवता और अस्तित्ववाद[संपादित करें]

मानवता मनोविज्ञान (Humanistic psychology)का विकास १९५० में, व्यावहारिकता और मनो विश्लेषण दोनों की प्रतिक्रिया में हुआ. घटना विज्ञान (phenomenology), अंतर विषयता (intersubjectivity), और पहले व्यक्ति की श्रेणी का उपयोग करते हुए, मानवता दृष्टिकोण, पूरे व्यक्ति की झलक देता है-नकि केवल व्यक्तित्व या संज्ञानात्मक कार्य के कुछ खंडों की झलक.[14] मानवतावाद अद्वितीय मानव मुद्दों और जीवन के मूल मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करता है, जैसे अपनी पहचान, मृत्यु, अकेलापन, स्वतंत्रता, और अर्थ.ऐसे कई कारक हैं जो मानवीय दृष्टिकोण को मनो विज्ञान के अन्य दृष्टिकोणों से विभेदित करते हैं.इनमें शामिल हैं विषयात्मक अर्थ पर जोर, नियतत्ववाद की अस्वीकृति, और रोगविज्ञान के बजाय सकारात्मक विकास के लिए सन्दर्भ.विचारों के इस स्कूल के पीछे कुछ कुछ संस्थापक सिद्धांत वादी अमेरिकी मनो विज्ञानी थे अब्राहम मसलो (Abraham Maslow), जिन्होंने मानव आवश्यकताओं का पदानुक्रम (hierarchy of human needs)बनाया, और कार्ल रोजर्स (Carl Rogers)जिन्होंने ग्राहक- केन्द्रित चिकित्सा (client-centered therapy)का निर्माण और विकास किया; और जर्मन-अमेरिकी मनो चिकित्सक फ्रिट्ज पर्ल्स (Fritz Perls)जिन्होंने गेसटाल्ट चिकित्सा (Gestalt therapy)के निर्माण और विकास में योगदान दिया.यह इतना प्रभावी बन गया की मनोविज्ञान, व्यावहारिकता और मनोविश्लेषण में "तीसरा बल" कहा जाने लगा.[15]

जर्मन दार्शनिक मार्टिन हिदेगर (Martin Heidegger) और डैनीश दार्शनिकसोरेन कीरकेगार्ड (Søren Kierkegaard)के कार्य से प्रभावित होकर मनोविश्लेषक दृष्टि से प्रशिक्षित अमेरिकी मनो वैज्ञानिक रोलो मे (Rollo May)ने १९५० और १९६० के बीच मनोविज्ञान की एक अस्तित्व (existential) प्रजाति का विकास किया.अस्तित्व मनोवैज्ञानिकों ने तर्क दिया की लोगों को अपनी मरण शीलता को स्वीकार करना चाहिए. और ऐसा करने में लोगों को यह स्वीकार करना चाहिए कि वे मुक्त हैं; वे मुक्त इच्छा रखते हैं, वे उम्मीदें करने के लिए स्वतंत्र हैं, और अपने जीवन के दौरान उनके अपने अर्थ पूर्ण (meaningful)पथ की उपेक्षा कर सकते हैं.में का कि अर्थ निर्माण करने वाली प्रक्रिया का एक मुख्य तत्व, है, मिथक (myth)की खोज, या कथात्मक प्रतिरूप जिनमें कोई व्यक्ति फिट हो सकता है.[16]

अस्तित्व के दृष्टिकोण से, न केवल मरण शीलता की स्वीकृति से उत्पन्न अर्थ के लिए प्रश्न किये जाते हैं बल्कि अर्थ की प्राप्ति मृत्यु की सम्भावना को ढक सकती है.ऑस्ट्रिया के एक अस्तित्व मनोचिकित्सक और पूर्ण आहुति उत्तरजीवी विक्टर फ्रेंकल (Viktor Frankl)ने देखा,[17] "हम जो एकाग्रता शिविरों (concentration camps) में रहते थे, उन व्यक्तियों को याद रख सकते हैं जो दूसरों को आराम देते हुए झोपडियों में होकर जाते हैं, अपना रोटी का आखिरी टुकडा भी दूसरों को दे देते हैं.ये संख्या में बहुत कम हो सकते हैं, लेकिन वे इस बात का पर्याप्त प्रमाण देते हैं कि, एक व्यक्ति से सब कुछ वापिस लिया जा सकता है, लेकिन एक चीज: मानव की आखिरी स्वतंत्रता; परिस्थितियों के किसी भी दिए गए समुच्चय में किसी के रवैये का चयन, किसी के अपने रास्ते का चयन.[18]

मे ने अस्तित्व चिकित्सा (existential therapy) के विकास में अग्रणी होने में सहायता की , और फ्रेंकल ने इसकी कई किस्मों का विकास किया जो लोगो थेरेपी (logotherapy)कहलाती हैं.मे और फ्रेंकल के अलावा, स्विस मनोविश्लेषक लुडविग बिन्सवेंगर (Ludwig Binswanger)और अमेरिकी मनो चिकित्सक जॉर्ज केली (George Kelly) को अस्तित्व स्कूल से सम्बंधित कहा जा सकता है.[19] अस्तित्व और मानवता वादी दोनों प्रकार के मनो विज्ञानी तर्क देते हैं कि, लोगों को अपनी पूर्ण क्षमता तक पहुँचने के लिए भरपूर कोशिश करनी चाहिए, लेकिन केवल मानवतावादी मनोविज्ञानी विश्वास करते हैं कि, यह प्रयास सहज है.अस्तित्व मनोवैज्ञानिकों के लिए, यह प्रयास एक चिंताजनक मरणशीलता , स्वतंत्रता और उत्तरदायित्व का कारण होता है.[20]

संज्ञानात्मकता[संपादित करें]

व्यावहारिकता, २० वीं शताब्दी के पहले आधे भाग में अमेरिकी मनोविज्ञान में प्रभावी प्रतिमान था.हालांकि, मनोविज्ञान का आधुनिक क्षेत्र मुख्यतः संज्ञानात्मक मनोविज्ञान (cognitive psychology) से प्रभावित रहा.नोअम चोमस्की ने १९५९ में बी ऍफ़ स्किनर के मौखिक व्यवहार की समीक्षा की, जिसने उस समय प्रभावी भाषा और व्यवहार के अध्ययन के व्यावहारिक दृष्टिकोण को चुनौती दी. और मनोविज्ञान में संज्ञानात्मक क्रांति (cognitive revolution) में योगदान दिया.चोमस्की 'उत्तेजना', 'प्रतिक्रिया' और ' सुदृढीकरण' के मनमाने विचारों के बारे में जटिलता से सोचते थे, ये विचार स्किनर ने प्रयोगशाला में जंतु प्रयोगों के द्वारा प्राप्त किये.चोमस्की का तर्क था कि स्किनर के विचार केवल जटिल मानव व्यवहार जैसे भाषा अधिग्रहण पर एक अस्पष्ट और सतही तरीके से लागू किये जा सकते हैं.चोमस्की ने इस बात पर जोर दिया कि अनुसंधान और विश्लेषण के दौरान, भाषा के अधिग्रहण में एक बच्चे के योगदान की उपेक्षा नहीं करनी चाहिए, और प्रस्तावित किया कि मानव भाषा के अधिग्रहण (acquire language)की प्राकृतिक क्षमता के साथ पैदा हुए हैं.[21] मनो विज्ञानी अल्बर्ट बन्दुरा (Albert Bandura) से सम्बंधित अधिकंश कार्य, जिन्होंने सामाजिक शिक्षा सिद्धांत (social learning theory) की शुरुआत की और इसका अध्ययन किया, ने दर्शाया कि बच्चे अवलोकन अधिगम (observational learning) के माध्यम से अपने रोल मोडल से उग्रता सीख सकते हैं, इसके दौरान उनके खुले व्यवहार में कोई परिवर्तन नहीं आता और इसे उप आंतरिक प्रक्रिया माना जा सकता है.[22]

कंप्यूटर विज्ञान और कृत्रिम बुद्धि के विकास के साथ, मानव के द्वारा सूचना संसाधन (information processing) और मशीनों के द्वारा सूचना संसाधन के बीच समरूपता को चित्रित किया गया.यह, इस अनुमान के साथ संयोजित हो गया कि मानसिक अभिव्यक्ति उपस्थित होती है और ये मानसिक स्थितियां और क्रियाएँ, प्रयोगशाला में वैज्ञानिक प्रयोगों के द्वारा निष्कर्षित की जा सकती हैं. जिसने मस्तिष्क के एक लोकप्रिय मोडल के रूप में संज्ञानात्मक (cognitivism)को जन्म दिया.द्वितीय विश्व युद्ध के से लेकर हथियारों की क्रिया के बारे में एक बेहतर समझ विकसित करने के लिए संज्ञानात्मक मनोविज्ञान अनुसंधान किया गया.[23]

संज्ञानात्मक मनोविज्ञान अन्य मनोविज्ञानिक परिप्रेक्ष्यों से दो मुख्य तरीकों से अलग है.पहला, यह वैज्ञानिक विधि के उपयोग को स्वीकार करता है, और प्रतीकों का उपयोग करने वाले दृष्टिकोण जैसे फ्रुद की मनो गतिकी के विपरीत सामान्यतया आत्मनिरीक्षण को खोज की एक विधि के रूप में अस्वीकृत करता है. दूसरा, यह स्पष्ट रूप से आंतरिक मानसिक स्थिति के अस्तित्व को स्वीकार करता है और -जैसे विश्वास, इच्छा, और प्रेरणा और - जबकि व्यावहारिकता ऐसा नहीं करती है.हालांकि, फ्रुड और गहरे मनोविज्ञानियों की तरह संज्ञानात्मक मनोवैज्ञानिक दमन (repression) सहित अचेत प्रक्रिया में रूचि लेते हैं, लेकिन उन्हें प्रचालन-परिभाषित (operationally-defined) घटकों के शब्दों में स्पष्ट करना पसंद करते हैं, जैसे की अचेतन प्रसंस्करण (subliminal processing) और अंतर्निहित स्मृति (implicit memory) जो प्रयोगात्मक जांच के लिए उत्तरदायी होते हैं.oफिर भी संज्ञानात्मक मनोवैज्ञानिकों ने इन घटकों के अस्तित्व पर कई सवाल उठाये हैं.उदाहरण के लिए, अमेरिकन मनोवैज्ञानिक एलिजाबेथ लोफ्ट्स (Elizabeth Loftus)ने उन तरीकों के प्रदर्शन के लिए मूल विधियों का उपयोग किया है जिनमें प्रकट होने वाली यादों को दमन के उन्मूलन के बजाय छलरचना (fabrication) के माध्यम से स्पष्ट किया जा सकता है .f

संज्ञानात्मक क्रांति में आगे बढ़ते हुए, कई दशकों के दौरान, हरमन एब्बिनघास स्मृति के प्रायोगिक अध्ययन में अग्रणी रहे हैं, वे तर्क देते हैं की उच्चतर मानसिक प्रक्रियाएं, दृश्य से छुपी हुई नहीं है,लेकिन इसके बजाय प्रयोगों का उपयोग करते हुए उनका अध्ययन किया जा सकता है.[24] मनोवैज्ञानिक गतिविधि और मस्तिष्क (brain) और तंत्रिका तंत्र (nervous system) के कार्यों के बीच की कड़ियों को समझा गया, ऐसा आंशिक रूप से कुछ लोगों के प्रायोगिक कार्य के कारण हुआ जैसे अन्ग्रेज़ी मनो वैज्ञानिक औचार्ल्स शेरिंगटन (Charles Sherrington)और कनाडा के मनो चिकत्सक डोनाल्ड ओल्डिंग हेब्ब (Donald Hebb)तथा आंशिक रूप से मस्तिष्क क्षति (brain injury)से युक्त लोगों के अध्ययन से हुआ.ये मस्तिष्क-शरीर (mind-body)कडियाँ संज्ञानात्मक तंत्रिका मनो विज्ञानियों (cognitive neuropsychologists)के द्वारा लम्बाई में स्पष्ट की गयीं.मस्तिष्क के कार्यों के मापन के लिए तकनीकों के विकास के साथ, तंत्रिका मनो विज्ञान (neuropsychology)और संज्ञानात्मक तंत्रिका विज्ञान (cognitive neuroscience)समकालीन मनोविज्ञान के तेजी से बढ़ते हुए सक्रिय क्षेत्र बन गए हैं.संज्ञानात्मक मनोविज्ञान को अन्य विषयों के साथ शामिल किया गया है जैसे मन के दर्शन (philosophy of mind), कंप्यूटर विज्ञान (computer science), और संज्ञानात्मक विज्ञान (cognitive science)के अनुशासन के अधीन तंत्रिका विज्ञान (neuroscience).

विचारों का विद्यालय[संपादित करें]

विचारों के कई स्कूलों का तर्क है कि एक मार्गदर्शन सिद्धांत के रूप में एक विशेष मोडल का उपयोग किया जाता है, जिसके द्वारा सभी या अधिकांश मानव व्यवहार को स्पष्ट किया जा सकता है. इनकी लोकप्रियता समय के साथ बढती घटती रही है.कुछ मनो वैज्ञानिक (psychologist) अपने आप को विचारों के विशेष स्कूल से जोड़ते हैं जबकि अन्य स्कूलों को अस्वीकृत करते हैं, हालाँकि अधिकांश प्रत्येक को मस्तिष्क की समझ के लिए एक दृष्टिकोण मानते हैं. और जरुरी रूप से परस्पर अनन्य सिद्धांत के रूप में स्वीकार नहीं करते हैं.तिनबर्जन के चार सवालों (Tinbergen's four questions) के आधार पर मनोवैज्ञानिक अनुसंधान के सभी क्षेत्रों के रूपरेखा सन्दर्भ स्थापित किये जा सकते हैं.(जिसमें एन्थ्रोपोलोजी अनुसंधान और मानविकी शामिल है)

आधुनिक समय में, मनोविज्ञान ने सचेतता, व्यवहार और सामाजिक अंतर्क्रिया की समझ की दिशा में एक एकीकृत दृष्टिकोण को अपनाया है.इस परिप्रेक्ष्य को सामान्यतः जैव मनो सामाजिक (biopsychosocial)दृष्टिकोण कहा जाता है.जैव मनो सामाजिक मोडल का मूल सिद्धांत यह है कि कोई भी दिया गया सिद्धांत या मानसिक प्रक्रिया प्रभाव डालती है और गतिक रूप से अंतर सम्बंधित जैविक, मनोवैज्ञानिक, और सामाजिक कारकों को प्रभावित करती है.[25] मनोवैज्ञानिक पहलू एक भूमिका से सन्दर्भ रखता है जो अनुभूति और भावना एक दी गयी मनोवैज्ञानिक घटना में निभाते हैं; उदाहरण के लिए मूड का प्रभाव या एक घटना के लिए एक व्यक्ति से उम्मीदें या विशवास.जैविक पहलू, मनोवैज्ञानिक घटना में जैविक कारकों की भूमिका से सबंध रखता है और -; उदाहरण के लिए जन्म के पूर्व के वातावरण का मस्तिष्क विकास और संज्ञानात्मक क्षमताओं पर प्रभाव, या व्यक्तिगत स्वभाव पर जीनों का प्रभाव.सामाजिक, सांस्कृतिक पहलू उस भूमिका से सन्दर्भ रखता है जो सामाजिक और सांस्कृतिक वातावरण एकदी गयी मनोवैज्ञानिक घटना में निभाते हैं; उदाहरण के लिए एक व्यक्ति के लक्षणों में अभिभावकों या सहकर्मियों का प्रभाव.

उपक्षेत्र[संपादित करें]

मनोविज्ञान, एक विशाल डोमेन से बना है, और इसमें मानसिक प्रक्रिया और व्यवहार के अध्ययन के कई विभिन्न दृष्टिकोण शामिल हैं.नीचे पूछताछ के कई क्षेत्र दिए गए हैं जो मनोविज्ञान से युक्त हैं.मनोविज्ञान में क्षेत्रों और उपक्षेत्रों की एक व्यापक सूची को मनोविज्ञान विषयों की सूची (list of psychology topics)पर और मनो विज्ञान अनुशासनों की सूची (list of psychology disciplines)पर पाया जा सकता है.

असामान्य मनोविज्ञान[संपादित करें]

असामान्य मनोविज्ञान (Abnormal psychology) असामान्य व्यवहार (abnormal behavior) का अध्ययन है जिसमें क्रिया के असामान्य प्रतिरूप का वर्णन, अनुमान, स्पष्टीकरण और परिवर्तन किया जाता है.असामान्य मनोविज्ञान मनो रोग विज्ञान (psychopathology)और इसके कारणों की प्रकृति का अधययन करता है, और इस ज्ञान को मनोवैज्ञानिक विकृतियों से युक्त रोगियों के उपचार के लिए नैदानिक मनोविज्ञान (clinical psychology) में लागू किया जाता है.

सामान्य और असामान्य व्यवहार की बीच एक रेखा खींचना मुश्किल हो सकता है.सामान्यतया, असामान्य व्यवहार अन अनुकूलित होना चाहिए और यह एक व्यक्तिगत महत्वपूर्ण परेशानी का कारण होता है ताकि नैदानिक और अनुसंधान प्रक्रिया को लागू किया जा सके. डीएसएम-आईवी-टीआर के अनुसार व्यवहार को असामान्य माना जा सकता है यदि वे विकलांगता, व्यक्तिगत परेशानी, सामाजिक मानदंडों के उल्लंघन या गलत क्रियाओं से सम्बंधित हो.[26]

जैविक मनोविज्ञान[संपादित करें]

एमआरआई (MRI) मानव मस्तिष्क चित्रण करते हुए. तीर हाइपो थेलेमस (hypothalamus)की स्थिति को सूचित करता है .

जैविक मनोविज्ञान व्यवहार और मानसिक अवस्थाओं के जैविक सब्सट्रेट्स का वैज्ञानिक अध्ययन है.हर व्यवहार को तंत्रिका तंत्र (nervous system) से सम्बंधित मानते हुए, जैविक मनो विज्ञानी महसूस करते हैं कि व्यवहार को समझने के लिए मस्तिष्क (brain) की कार्य प्रणाली का अध्ययन समझदारी भरा है.यह वह दृष्टिकोण है जो व्यवहार तंत्रिका विज्ञान (behavioral neuroscience), संज्ञानात्मक तंत्रिका विज्ञान (cognitive neuroscience), और तंत्रिका मनो विज्ञान (neuropsychology)में प्रयुक्त किया जाता है.तंत्रिका मनो विज्ञान मनो विज्ञान की एक शाखा है जो इस बात को समझने में मदद करती है कि मस्तिष्क की संरंचना और कार्य किस प्रकार से विशेष व्यवहारिक और मनो वैज्ञानिक प्रक्रियाओं से सम्बंधित हैं. तंत्रिका मनो विज्ञान विशेष रूप से मस्तिष्क की क्षति को समझने से सम्बंधित है, ताकि सामान्य मनो वैज्ञानिक कार्यों को बनाये रखने के लिए प्रयास किया जा सके. मस्तिष्क और व्यवहार के बीच सम्बन्ध के अध्ययन के लिए संज्ञानात्मक तंत्रिका विज्ञान का दृष्टिकोण तंत्रिका इमेजिंग उपकरणों का उपयोग करता है, ताकि यह प्रेक्षण किया जा सके कि मस्तिष्क के कौन से क्षेत्र एक विशेष क्रिया के दौरान सक्रिय हैं.

संज्ञानात्मक मनोविज्ञान[संपादित करें]

संज्ञानात्मक मनोविज्ञान (Cognitive psychology) अनुभूति (cognition)का और व्यवहार के तहत आने वाली मानसिक प्रक्रियाओं (mental processes) का अध्ययन करता है, यह मस्तिष्क को समझने के लिए सूचना संसाधन (information processing) का उपयोग एक ढांचे के रूप में करता है.धारणा (Perception), सीख (learning), समस्या का हल (problem solving), स्मृति (memory), ध्यान (attention), भाषा और भावना (emotion) भी अनुसंधान के क्षेत्र हैं.संज्ञानात्मक मनोविज्ञान विचारों के एक स्क्कोल से सम्बंधित है जो अनुभूति (cognitivism)के नाम से जाना जाता है, जिसे मानने वालों का तर्क है कि मानसिक क्रिया का सूचना संसाधन (information processing) मोडल, यक़ीन (positivism) और प्रयोगात्मक मनोविज्ञान (experimental psychology) के द्वारा सूचित होता है.

एक व्यापक स्तर पर, संज्ञानात्मक विज्ञान (Cognitive science)संज्ञानात्मक मनोविज्ञानियों, तंत्रिका जैव विज्ञानियों (neurobiologists),तथा कृत्रिम बुद्धि, तर्कविदों (logicians), भाषाविदों और सामाजिक विज्ञानियों के अनुसंधानकर्ताओं का संयुक्त उद्यम है, और यह कम्प्यूटेशनल सिद्धांत व औपचारिकीकरण पर अधिक जोर डालता है.दोनों ही क्षेत्र कम्प्यूटेशनल मॉडल (computational models)का उपयोग रूची की घटना का अनुकरण करने के लिए करते हैं. क्योंकि मानसिक घटनाओं को प्रत्यक्ष रूप से प्रेक्षित नहीं किया जा सकता है, कम्प्यूटेशनल मॉडल मस्तिष्क के कार्यात्मक संगठन का अध्ययन करने के लिए एक औजार का उपयोग करते हैं.इस तरह के मॉडल संज्ञानात्मक मनोवैज्ञानिकों को एक ऐसा तरीका बताते हैं कि जिससे वे हार्डवेयर से स्वतंत्र रहकर मानसिक प्रक्रियाओं के सॉफ्टवेयर का अधययन कर सकते हैं, फिर चाहे वो मस्तिष्क हो या कंप्यूटर.

तुलनात्मक मनोविज्ञान[संपादित करें]

तुलनात्मक मनोविज्ञान (Comparative psychology)में मानव के अलावा जानवर (animal)में व्यवहार और मानसिक जीवन का अध्ययन किया जाता है.यह मनोविज्ञान के baahr अनुशासन से सम्बंधित है जिसमें जंतु व्यवहार जैसे इथोलोजी (ethology)का अध्ययन किया जाता है.हालाँकि मनोविज्ञान का क्षेत्र प्रारंभिक रूप से मानव से सम्बंधित है, जानवरों (animal)के व्यवहार और मानसिक प्रक्रियाओं का अध्ययन भी मनो वैज्ञानिक अध्ययन का एक मुख्य भाग है.यह अपने आप में एक अलग विषय हो सकता है (उदाहरण पशु अनुभूति (animal cognition) और इथोलोजी) या विकास की कड़ियों के बारे में महत्वपूर्ण हो सकता है, और विवादस्पद रूप से मानव मनो विज्ञान पर दृष्टि डालने का एक तरीका हो सकता है.इसे तुलना के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है या भावना और व्यवहार प्रणाली के पशु मोडल्स के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है. जैसा कि मनोविज्ञान के तंत्रिका विज्ञान में देखा गया है.(उदाहरण, प्रभावी तंत्रिका विज्ञान (affective neuroscience)और सामाजिक तंत्रिका विज्ञान (social neuroscience)).

परामर्श मनोविज्ञान[संपादित करें]

परामर्श मनोविज्ञान (Counseling psychology) जीवन के दौरान व्यक्तिगत पारस्परिक (interpersonal) क्रियाओं को बढ़ावा देने का प्रयास करता है, और सामाजिक, भावनात्मक व्यावसायिक (vocational), शिक्षा, स्वास्थ्य संबंधी, विकास और संगठनात्मक मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करता है.सलाहकार मुख्य रूप से चिकित्सक होते हैं, ये ग्राहकों के उपचार के लिए मनश्चिकित्सा और अन्य उपायों का इस्तेमाल करते हैं.परंपरागत रूप से, परामर्श मनोविज्ञान ने मनो रोग विज्ञान की तुलना में सामान्य विकास मुद्दों पर और दैनिक तनाव (stress) के मुद्दों पर अधिक ध्यान केन्द्रित किया है, लेकिन यह विभेदन समय के साथ कम हो गया है. परामर्श मनोविज्ञानी कई प्रकार के स्थानों पर कार्य कर रहे हैं जैसे विश्वविद्यालयों, अस्पतालों, स्कूलों, सरकारी संगठनों, व्यापार, निजी प्रैक्टिस और सामुदायिक मानसिक स्वास्थ्य केंद्र.

नैदानिक मनोविज्ञान[संपादित करें]

नैदानिक मनोविज्ञान (Clinical psychology) में मनोविज्ञान का अध्ययन और अनुप्रयोग शामिल है जो मनोविज्ञान पर आधारित तनाव या रोग से आराम दिलाने के लिए, उसे रोकने या समझने के लिए किया जाता है, और व्यक्तिपरक जीवों के (well-being)व व्यक्तिगत विकास के लिए किया जाता है.इसके अभ्यास के केंद्र हैं मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन और मनश्चिकित्सा (psychotherapy) हालाँकि नैदानिक मनोचिकित्सक अनुसंधान, शिक्षण, परामर्श, न्यायालयिक गवाही में, और कार्यक्रम के विकास और प्रशासन में संलग्न हो सकते हैं.[27] कुछ नैदानिक मनोवैज्ञानिक मस्तिष्क की चोट (brain injury) के रोगियों में नैदानिक प्रबंधन पर ध्यान केन्द्रित कर सकते हैं- यह क्षेत्र नैदानिक तंत्रिका मनोविज्ञान (clinical neuropsychology) कहलाता है.अनेक देशों में नैदानिक मनोविज्ञान एक विनियमित मानसिक स्वास्थ्य पेशा (mental health profession)है .

नैदानिक मनोवैज्ञानिकों के के द्वारा किया गया कार्य कई चिकित्सा मोडल्स में किया जाता है, जिनमें से सभी में पेशेवर और ग्राहक के बीच एक औपचाnnnरिक सम्बन्ध होता है-सामान्यतया एक व्यक्ति, जोड़ा, परिवार, या एक छोटा समूह-जो चिकित्सा प्रक्रियाओं के एक समुच्चय से होकर गुजरता है, मनोवैज्ञानिक समस्योप्न की प्रकृति को स्पष्ट करता है, और सोच, अहसास, और व्यवहार के नए तरीकों को उत्साहित करता है.चार प्रमुख परिप्रेक्ष्य हैं मनो गतिकी (Psychodynamic), संज्ञानात्मक व्यवहार (Cognitive Behavioral), अस्तित्व-मानवतावाद (Existential-Humanistic), और तंत्र या परिवार चिकित्सा (Systems or Family therapy)इन विभिन्न चिकित्सा दृष्टिकोणों को एकीकृत करने के लिए एक बढ़ता हुआ आन्दोलन रहा है, विशेष रूप से संस्कृति, लिंग, आध्यात्मिकता और यौन उन्मुखता के मुद्दों के सम्बन्ध में एक बढ़ती हुई समझ के साथ.मनो चिकित्सा के सम्बन्ध में अधिक मजबूत शोध निष्कर्षों के आगमन के साथ, इस बात के प्रमाण बढ़ गए हैं की अधिकांश मुख्य चिकित्साएँ बराबर प्रभाविता की होती हैं, जिनमें एक प्रबल चिकित्सा गठबंधन के साथ सामान्य कुंजी तत्व होते हैं.[28][29] इस वजह से, और अधिक प्रशिक्षण कार्यक्रम और मनोविज्ञानी अब एक्लेक्टिक चिकित्सात्मक उन्मुखीकरण (eclectic therapeutic orientation) को अपना रहे हैं.

गंभीर मनोविज्ञान[संपादित करें]

गंभीर मनोविज्ञान (Critical psychology) मनोविज्ञान के गंभीर सिद्धांतों की विधियों पर लागू होता है.इस प्रकार, यह न केवल यथास्थिति के मानसिक सबसट्रेट्स की आलोचना करता है बल्कि मुख्यधारा मनोविज्ञान के तत्वों की भी आलोचना करता है, जो अपने आप में दमनकारी विचारधारा (ideologies)के योगदानकर्ताओं के रूप में देखे जाते हैं.[30] गंभीर मनोविज्ञान इस विश्वास पर कार्य करती है कि "मनोविज्ञान की मुख्यधारा ने मानव के कल्याण को बढ़ावा देने के लिए क्षेत्र के नैतिक जनादेश के एक संकीर्ण दृष्टिकोण को संस्थागत रूप से संचालित किया है"[31] इसमें सामाजिक बुराइयों को व्यक्तिगत रूप से दूर करने का प्रयास किया गया है, तुच्छ और महत्वहीन अनुसंधान को प्रोत्साहित किया गया है, और ऎसी प्रक्रियाओं में भाग लिया गया है कि गंभीर संवीक्षा के तहत सकारात्मक तरीके विफल रहे हैं.

एक गंभीर मनोविज्ञानी पूछ सकता है यदि एक "काम के तनाव का मामला" बडे स्तर के तंत्र को परिवर्तित करने के लिए प्रयास की वारंटी देता है जो कार्य का नियंत्रण करता है,[32] बजाय इसके कि कि उस व्यक्ति का इलाज करता है जो तनाव का अनुभव करता है और-; अधिक सही है कि, अनगिनत अन्य व्यक्तियों के साथ कौन तनाव को शेयर करता है.कोई यह भी पूछ सकता है कि युद्ध में तबाह हो गए समुदायों में "मुख्य धारा के आघात प्रयास, मानव के अधिकारों और सामाजिक न्याय पर ध्यान केन्द्रित करने में क्यों असफल हो जाते हैं"[33] संक्षेप में, गंभीर मनोविज्ञान, जहां यह समाज के लिए, एक व्यक्ति से विश्लेषण के मनोवैज्ञानिक स्तर को उठाने में उपयुक्त प्रतीत होता है,[34] और मनोविज्ञान को उन्नत के तुलना में अधिक रूपांतरणीय बनाता है.[35] गंभीर मनोविज्ञान, मनोविज्ञान के अन्य उपक्षेत्रों की विस्तृत सारणी पर लागू होता है, और इसके कई सिद्धांतवादी, मुख्यधारा मनोविज्ञानी पेशे में कार्यरत हैं.

विकासात्मक मनोविज्ञान[संपादित करें]

विकासात्मक मनोविज्ञान (developmental psychology) में मुख्य रूप से जीवन अवधि के माध्यम से मानव मस्तिष्क के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, इसमें यह बात समझी जाती है कि लोग कैसे दुनिया में होने वाली क्रियाओं को समझते हैं, उन पर प्रतिक्रिया करते हैं और यह प्रक्रिया उनकी उम्र बढ़ने के साथ कैसे बदल जाती है.यह बौद्धिक,सामाजिक, संज्ञानात्मक, . तंत्रिका , या नैतिक विकास (moral development)पर ध्यान केन्द्रित कर सकता है.शोधकर्ता जो बच्चों का अध्ययन करते हैं, वे प्राकृतिक सेटिंग्स में अवलोकन करने के लिए कई अद्वितीय अनुसंधान विधियों का प्रयोग करते हैं या उन्हें प्रयोगात्मक कार्यों में व्यस्त करते हैं.इस प्रकार के कार्य सामान्यतया विशेष रूप से डिजाइन किये गए खेल या गतिविधियाँ होती हैं, जो बच्चों के लिए मजेदार भी होती हैं और वैज्ञानिक रूप से उपयोगी भी होती हैं. और शोधकर्ताओं ने यहाँ तक कि छोटे शिशुओं की मानसिक प्रक्रियाओं को अध्ययन करने के लिए भी चतुराई पूर्ण तरीके तैयार किये हैं.बच्चों का अध्ययन करने के अलावा, विकासात्मक मनोविज्ञानी उम्र बढ़ने (aging) का व जीवन अवधि के दौरान होने वाली प्रक्रियाओं का भी अध्ययन करते हैं, यह अध्ययन विशेष रूप से तीव्र परिवर्तन के समय पर किया जाता है(जैसे किशोरावस्था और बुढ़ापे के समय).विकास मनोवैज्ञानिक अपने अनुसंधान की जानकारी देने के लिए वैज्ञानिक मनोविज्ञान में सिद्धान्तवादियों की पूरी रेंज को आकर्षित करते हैं.

शैक्षणिक मनोविज्ञान[संपादित करें]

शैक्षिक मनोविज्ञान (Educational psychology) में इस बात का अध्ययन किया जाता है कि मनुष्य कैसे शैक्षिक सेटिंग्स में सीखते हैं, साथ ही शैक्षिक हस्तक्षेप की प्रभावशीलता, शिक्षण के मनोविज्ञान, और विद्यालयों के संगठनों के सामाजिक मनोविज्ञान (social psychology) का अध्ययन भी किया जाता है.बाल मनोवैज्ञानिकों जैसे लेव वयगोटस्की (Lev Vygotsky), जीन पिअगेत (Jean Piaget), और जेरोम ब्रूनर (Jerome Bruner)का कार्य शिक्षण (teaching) तरीकों और शैक्षिक प्रथाओं के निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण रहा है.शैक्षिक मनोविज्ञान को अक्सर अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम में शामिल किया जाता है, कम से कम उत्तरी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में ऐसा किया जाता है.

विकासवादी मनोविज्ञान[संपादित करें]

विकासवादी मनोविज्ञान (Evolutionary psychology) मानसिक और व्यवहारिक प्रतिरूप के आनुवंशिक (gene) जड़ों को स्पष्ट करता है और बताता है कि सामान्य प्रतिरूप उत्पन्न हुए हैं क्योंकि वे उनके पिछले विकास शील वातावरण में मानव के लिए उच्च अनुकूली (adaptive)थे; यहाँ तक कि इनमें से कुछ प्रतिरूप आज के वातावरण में उपयुक्त अनुकूली नहीं हैं.विकासवादी मनोविज्ञान से निकट संबंधी क्षेत्र हैं पशु व्यवहार पारिस्थितिकी (behavioral ecology), मानव व्यवहार पारिस्थितिकी (human behavioral ecology), दोहरा आनुवंशिक सिद्धांत (dual inheritance theory), और सामाजिक जैव विज्ञान (sociobiology).मेमेटिक्स (Memetics)जिसकी खोज ब्रिटिश विकासवादी जीवविज्ञानी (evolutionary biologist) रिचर्ड डाकिंस (Richard Dawkins)के द्वारा की गयी, यह सम्बंधित लेकिन प्रतिस्पर्धी क्षेत्र है [36] जो बताता है की सांस्कृतिक विकास (cultural evolution) एक डार्विनी अर्थ में हो सकता है लेकिन यह मेंडल (Mendelian) की प्रणाली से स्वतंत्र होता है; इसलिए यह उन तरीकों की जांच करता है जिनमें विचार या मेमे (meme), संभवतया जीन से स्वतंत्र रूप से विकसित हो सकते हैं.

फॉरेंसिक मनोविज्ञान[संपादित करें]

फॉरेंसिक मनोविज्ञान (Forensic psychology) प्रथाओं की एक व्यापक रेंज को कवर करता है, जिसमें प्रतिवादी (defendant) का नैदानिकमूल्यांकन (evaluations) शामिल है, यह दिए गए मुद्दों पर अदालती गवाही , जजों और कानूनी प्रतिनिधियों के लिए रिपोर्ट देता है.फॉरेंसिक मनोवैज्ञानिकों को अदालत के द्वारा नियुक्त किया जाता है या कानूनी प्रतिनिधियों के द्वारा उन्हें हायर किया जाता है ताकि परीक्षण मूल्यांकन का संचालन किया जा सके, कार्यान्वित मूल्यांकन की प्रतिस्पर्धा का संचालन किया जा सके, विवेक मूल्यांकन, अस्वैच्छिक प्रतिबद्धता मूल्यांकन, यौन अपराधी मूल्यांकन और उपचार मूल्यांकन किया जा सके, तथा लिखित रिपोर्ट और गवाही के माध्यम से अदालत को सिफारिशें उपलब्ध करायी जा सकें.बहुत से प्रश्न जो अदालत फॉरेंसिक मनोवैज्ञानिकों से पूछती है, अंततः कानूनी मुद्दों (issues) पर जाते हैं ,हालाँकि एक मनोविज्ञानी कानूनी प्रश्नों का उत्तर नहीं दे सकता है.उदहारण के लिए, मनोविज्ञान में मानसिक संतुलन की परिभाषा नहीं है.बल्कि, मानसिक संतुलन एक कानूनी परिभाषा है जो दुनिया भर में अलग अलग जगह पर अलग अलग होती है.इसलिए, एक फॉरेंसिक मनोवैज्ञानिक की एक प्रमुख योग्यता व्यवस्था, कानून की, विशेष रूप से आपराधिक कानून की एक अभिन्न समझ है.

स्वास्थ्य मनोविज्ञान[संपादित करें]

स्वास्थ्य मनोविज्ञान (Health psychology) मनोवैज्ञानिक सिद्धांत का अनुप्रयोग है और स्वास्थ्य, बीमारी और स्वास्थ्य देखभाल के लिए अनुसंधान है.जबकि नैदानिक मनोविज्ञान मानसिक स्वास्थ्य, तंत्रिका विकार पर ध्यान केन्द्रित करता है, स्वास्थ्य मनोविज्ञान (health psychology) एक स्वास्थ्य संबंधी व्यवहार की एक अधिक व्यापक रेंज के मनो विज्ञान से सम्बंधित है जिसमें स्वस्थ भोजन, चिकित्सक रोगी संबंध, स्वास्थ्य सूचना के बारे में एक रोगी की समझ, और बीमारी के बारे में विश्वास शामिल हैं.स्वास्थ्य मनोवैज्ञानिक जन स्वास्थ्य अभियान में शामिल हो सकते हैं, ये बीमारी या स्वास्थ्य नीति के जीवन की गुणवत्ता (quality of life) पर प्रभाव की जांच करते हैं और स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा के मनोवैज्ञानिक प्रभाव पर अनुसंधान करते हैं.

औद्योगिक / संगठनात्मक मनोविज्ञान[संपादित करें]

औद्योगिक और संगठनात्मक मनोविज्ञान (Industrial and organizational psychology) (आई / ओ) कार्यस्थान पर मानव की क्षमता को अनुकूलित करने के लिए मनोवैज्ञानिक अवधारणाओं और विधियों को लागू करते हैं.कार्मिक मनोविज्ञान, आई / ओ मनोविज्ञान का एक उप क्षेत्र, मनोविज्ञान के सिद्धांतों और विधियों को श्रमिकों के चयन और मूल्यांकन पर लागू करता है. आई / ओ मनोविज्ञान का अन्य उपक्षेत्र, संगठनात्मक मनोविज्ञान (organizational psychology), काम के वातावरण और प्रबंधन शैलियों के कार्यकर्ता प्रेरणा, नौकरी से संतुष्टि और उत्पादकता पर प्रभाव की जांच करता है.[37]

कानूनी मनोविज्ञान[संपादित करें]

कानूनी मनोविज्ञान (Legal psychology) एक शोध उन्मुख क्षेत्र है जिसमें मनो विज्ञान की कई भिन्न क्षेत्रों से अनुसंधानकर्ता होते हैं (हालाँकि सामाजिक (social) और संज्ञानात्मक (cognitive) मनोवैज्ञानिक प्रारूपिक होते हैं.)कानूनी मनोवैज्ञानिक जूरी निर्णय , प्रत्यक्षदर्शी स्मृति, वैज्ञानिक सबूत, और कानूनी नीति जैसे विषयों को स्पष्ट करते हैं.शब्द "कानूनी मनोविज्ञान" हाल ही में उपयोग में आया है, और आम तौर पर किसी भी गैर नैदानिक कानून से संबंधित अनुसंधान के लिए प्रयुक्त किया जाता है.

व्यक्तित्व मनोविज्ञान[संपादित करें]

व्यक्तित्व मनोविज्ञान (Personality psychology) एक व्यक्ति में व्यवहार (behavior), सोच (thought), और भावना (emotion) के प्रतिरूप का अध्ययन करता है, इसका प्रयोग आम तौर पर व्यक्तित्व के लिए किया जाता है.व्यक्तित्व के सिद्धांत विभिन्न मनोवैज्ञानिक स्कूलों और संस्थाओं में अलग अलग हो सकते हैं.वे ऐसे मुद्दों के लिए भिन्न अनुमान लगा सकते हैं, जैसे अचेत (unconscious) की भूमिका और बचपन के अनुभव के महत्व.फ्रुड के अनुसार, व्यक्तित्व अहंकार, अति अहंकार,और आई डी की गतिक अंतर क्रियाओं पर निर्भर करता है.[38] इसके विपरीतविशेषता सिद्धांतवादी (Trait theorists) , कारक विश्लेषण (factor analysis) की सांख्यिकीय गतिविधियों के द्वारा कुंजी लक्षणों की असतत संख्या के शब्दों में व्यक्तित्व का विश्लेषण करने के प्रयास करते हैं.प्रस्तावित लक्षणों की संख्या व्यापक रूप से कई प्रकार कीहोती है.हंस आईजेंक (Hans Eysenck)के द्वारा प्रस्तावित एक प्रराम्भ्की मोडल बताता है कि तीन ऐसे गुण हैं जो मानव व्यक्तित्व का निर्माण करते हैं: बहिर्मुखी और अंतर मुखी होना (extraversion-introversion), तंत्रिका वाद (neuroticism), मनोवाद (psychoticism).रेमंड केटल (Raymond Cattell)ने 16 व्यक्तित्व कारकों (16 personality factors) का सिद्धांत प्रस्तावित किया. "बड़ा पांच (Big Five)" पांच करक मोडल, जो लुईस गोल्डवर्ग (Lewis Goldberg) के द्वारा प्रस्तावित किया गया, वर्तमान में उसे लक्षण सिद्धांत वादियों के बीच प्रबल समर्थन मिला है.

मात्रात्मक मनोविज्ञान[संपादित करें]

मात्रात्मक मनोविज्ञान (Quantitative psychology) में मनोवैज्ञानिक अनुसंधान में गणितीय और सांख्यिकीय मोडलिंग के अनुप्रयोग शामिल हैं, साथ ही व्यवहारिक आंकडों के विश्लेषण और स्पष्टीकरण के लिए सांख्यिकीय विधियों का विकास भी शामिल है.शब्द मात्रात्मक मनोविज्ञान अपेक्षाकृत नया है और बहुत कम इस्तेमाल किया जाता है, (हाल ही में मात्रात्मक मनोविज्ञान में पीएचडी प्रोग्राम किये गए हैं) और यह शिथिल रूप से मनोमीती (psychometrics)और गणितीय मनोविज्ञान (mathematical psychology)उपक्षेत्रों को कवर करता है.

मनोमिति (Psychometrics)मनो विज्ञान का एक क्षेत्र है जो मनो वैज्ञानिक मापन की तकनीक और सिद्धांत से सम्बंधित है, जिसमें ज्ञान, क्षमता (abilities), दृष्टिकोण (attitudes), और व्यक्तित्व के लक्षणों (personality traits) का मापन शामिल है.प्रेक्षण के लिए अयोग्य इस घटना (phenomena) का मापन मुश्किल है, और इस विषय में अधिकांश अनुसंधान और संचित ज्ञान का विकास हुआ है ताकि इसे ठीक प्रकार से परिभाषित किया जा सके और ऐसी घटना का मात्रात्मक अनुमान लगाया जा सके.मनोमीती अनुसंधान में प्रारूपिक रूप से दो मुख्य अनुसंधान कार्य शामिल हैं नामतः (i) यंत्रों (instruments)का निर्माण और मापन के लिए प्रक्रियाएं, और (ii) मापन के लिए सैद्धांतिक दृष्टिकोण के शोधन और विकास.

जबकि मनोमीति (psychometrics)मुख्य रूप से व्यक्तिगत मतभेद (individual differences) और जनसंख्या संरचना (population structure) से सम्बंधित है, और गणितीय मनोविज्ञान (mathematical psychology)औसत व्यक्ति कीमानसिक (mental) और प्रेरक प्रक्रियाओं (motor processes) की मोडलिंग से सम्बंधित है. मनोमीति (Psychometrics)शैक्षिक मनोविज्ञान, व्यक्तित्व (personality), और नैदानिक मनोविज्ञान से अधिक सम्बंधित है.गणितीय मनोविज्ञान (Mathematical psychology) अधिक निकट रूप से साइको नोमिक्स (psychonomics)/प्रयोगात्मक (experimental) और संज्ञानात्मक (cognitive), और शरीर क्रिया मनोविज्ञान (physiological psychology) और (संज्ञानात्मक (cognitive)) तंत्रिका विज्ञान (neuroscience) से सम्बंधित है.

सामाजिक मनोविज्ञान[संपादित करें]

सामाजिक मनोविज्ञान (Social psychology) सामाजिक व्यवहार की प्रकृति और कारणों का अध्ययन करता है.

सामाजिक मनोविज्ञान (Social psychology) सामाजिक व्यवहार और मानसिक प्रक्रियाओं का अध्ययन है, जिसमें इस बात पर जोर दिया जाता है की लोग कैसे एक दूसरे के बारे में सोचते हैं और कैसे एक दुसरे से सम्बंधित होते हैं.सामाजिक मनोवैज्ञानिक विशेष रूप से इस बात में रूचि लेते हैं, के लोग सामाजिक स्थिति के लिए कैसे प्रतिक्रिया करते हैं.वे ऐसे विषयों को एक व्यक्ति के व्यवहार पर दूसरों के प्रभाव के रूप में अध्ययन करते हैं (उदाहरण समनुरूपता (conformity), अनुनय (persuasion)), और साथ ही अन्य लोगों के बारे में विश्वासों के गठन, दृष्टिकोण (attitudes), और स्टीरियोटाइप (stereotype) पर दूसरों के प्रभाव के रूप में अध्ययन करते हैं.सामाजिक अनुभूति (Social cognition) में सामाजिक और संज्ञानात्मक मनोविज्ञान के तत्व संग्लित हो जाते हैं ताकि इस बात को समझा जा सके के लोग कैसे सामाजिक जानकारियों को याद रखते हैं, उन पर प्रतिक्रिया करते हैं और उन्हें विकृत करते हैं.समूह गतिशीलता (group dynamics)का अध्ययन नेतृत्व, संचार और वे घटनाएँ जो कम से कम सूक्ष्मदर्शीय (microsocial)स्तर पर विकसित होती हैं, के अनुकूलन की क्षमता और प्रकृति के बारे में जानकारी प्रकट करता है . हाल ही के वर्षों में, कई सामाजिक मनोवैज्ञानिकों ने अंतर्निहित (implicit) उपायों, मध्यस्थ (mediational)मोडलों, और व्यवहार के लेखांकन में व्यक्तियों और समाज की अंतर क्रिया पर बहुत अधिक रूचि दर्शायी है.

स्कूल मनोविज्ञान[संपादित करें]

स्कूल मनोविज्ञान (School psychology) में शैक्षिक मनोविज्ञान (educational psychology) और नैदानिक मनोविज्ञान (clinical psychology) दोनों के सिद्धांत शामिल हैं ताकि जिन विद्यार्थियों में सीखने की क्षमता का अभाव है, उनका उपचार किया जा सके और उन्हें समझा जा सके; "बहुत अच्छे" विद्यार्थियों के बौद्धिक विकास को बढ़ावा दिया जा सके; किशोरों में पूर्व सामाजिक व्यवहार को बढ़ावा दिया जा सके; और सुरक्षित, सहायक, और प्रभावी शिक्षण वातावरण का विकास किया जा सके.स्कूल मनोवैज्ञानिक शैक्षिक और व्यवहार मूल्यांकन, हस्तक्षेप, रोकथाम और परामर्श में प्रशिक्षित होते हैं, और अधिकांश अनुसंधान में व्यापक प्रशिक्षण लेते हैं.[39] वर्तमान में, स्कूल मनोविज्ञान एक मात्र क्षेत्र है जिसमें, एक पेशेवर को एक डॉक्टरेट की डिग्री के बिना एक "मनोवैज्ञानिक" कहा जा सकता है,स्कूल मनोविज्ञानवेत्ताओं का राष्ट्रीय संघ (National Association of School Psychologists) (एन ऐ एस पी) प्रवेश स्तर पर विशेषज्ञ की डिग्री (Specialist degree) देता है.यह एक विवादास्पद मामला है क्योंकि ऐ पी ऐ (APA)एक मनोवैज्ञानिक के लिए प्रवेश स्तर के रूप में एक डॉक्टरेट से नीचे कुछ भी नहीं मानता हैं.विशेषज्ञ स्तरीय स्कूल मनो विज्ञानी, जो आमतौर पर तीन साल का स्नातक प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं, वे स्कूल प्रणाली में विशेष रूप से कार्य करते हैं, जबकि डॉक्टरेट के स्तर के लोग अन्य सेटिंग्स में भी पाए जाते हैं, जिनमें विश्व विद्यालय, अस्पताल, क्लिनिक, और निजी प्रेक्टिस शामिल है.

अनुसंधान की विधियां[संपादित करें]

विल्हेम मेक्सीमिलियन वुन्द्त एक जर्मन मनोवैज्ञानिक था, सामान्य रूप से उसे प्रयोगात्मक मनोविज्ञान (experimental psychology)के संस्थापक के रूप में स्वीकार किया गया.

मनोविज्ञान के अधिकांश क्षेत्रों में अनुसंधान वैज्ञानिक विधियों (scientific method)के मानकों के साथ संचालित किये गए हैं जिसमें गुणात्मक (qualitative)इथोलोजिकल (ethological) और मात्रात्मक सांख्यिकीय (quantitative statistical)दोनों प्रकार की रूपात्मकताये शामिल हैं, जो मनोवैज्ञानिक घटना (explanatory)के सम्बन्ध में स्पष्टीकरण (hypotheses) परिकल्पना (phenomena)का मूल्यांकन करता है और इसे उत्पन्न करता है.जांच को प्रयोगात्मक प्रोटोकॉल (experimental protocols)के द्वारा किया जा सकता है, लेकिन कभी कभी नुसंधान नैतिकता के कारण, एक दिए गए अनुसंधान डोमेन में विकास की अवस्था के कारण, और अन्य कारणों से वैकल्पिक तरीकों को प्राथमिकता दी जाती है.[40]

मनो विज्ञान एक्लेक्टिक (eclectic) प्रवृति रख सकता है, ताकि मनो वैज्ञानिक घटना को समझने के लिए और उसे स्पष्ट करने के लिए अन्य क्षेत्र से ज्ञान प्राप्त किया जा सके.उदाहरण के लिए, विकासवादी मनो विज्ञानी, मनोविज्ञान, जैव विज्ञान, और एन्थ्रोपोलोजी के कई उप क्षेत्रों से आंकडों का निर्माण कर सकते हैं.इसके अलावा, वे दो भिन्न प्रकार के कारणों का व्यापक उपयोग करते हैं.हालाँकि अक्सर सख्त धनात्मकता के निगमनात्मक-नोमोलोजिकल (deductive-nomological)तर्क को अपनाते हुए, वे आगमनात्मक तर्क (inductive reasoning)पर भरोसा करते हैं, ताकि शिकारी-संग्राहक (hunter-gatherer)जीवन के खाते बनाये जा सके, जो भिन्न विचारों व क्रियाओं के अनुकूली मूल्य को स्पष्ट कर सकेगा .

गुणात्मक मनोवैज्ञानिक अनुसंधान (Qualitative psychological research) प्रेक्षणीय तरीकों के एक व्यापक स्पेक्ट्रमका उपयोग करता है, इसमें क्रिया अनुसंधान (action research), नृवंशविज्ञान (ethnography), अन्वेषणत्मक आंकडे (exploratory statistics) , संरचित (structured) साक्षात्कार (interview) और भागीदार अवलोकन (participant observation)शामिल है, जो क्लासिकल प्रयोगों के द्वारा अच्छी जानकारी प्राप्त करने में मदद करते हैं.मानवता मनो विज्ञान में अनुसंधान, विज्ञान के बजाय अधिक प्रारूपिक रूप से नृवंशविज्ञान (ethnographic), ऐतिहासिक (historical), और इतिहास लेखन (historiographic)की विधियों से किया जाता है. मनो गतिकी अनुसंधान ने चिकित्सकीय मामलों के अध्ययन के अनुमान में पारंपरिक रूप से भाग लिया है, फ्रुड के मनो विश्लेषण से लेकर नव-जंगीय आद्य रूप मनो विज्ञान तक के उप स्कूलों ने व्याख्या के एक वाहन के रूप में मिथक (myth) पर कार्य किया है.हाल ही के विकास विशेष रूप से तंत्रिका मनो विश्लेषण में, विकास ने अपेक्षाकृत रूप से वैज्ञानिक निठरता के उच्च स्तर की मांग की है.

महत्वपूर्ण मनोविज्ञान के लिए एक अग्रदूतमुक्ति मनोविज्ञान (liberation psychology)ने अपने बंधन मुक्त प्रश्नों में पारंपरिक सर्वे किया है.[35] महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिकों के बीच एक विवाद है कि केवल उन्हें ही वे अनुसंधान लागू करना चाहिए जिसे वे संचालित करते हैंऔर- उन्हें कैसे क्रियोन्मुख या जागरूकता की और उन्मुख होना चाहिए.[41] सामान्य रूप में, हालाँकि, उनकी विधियां सकारात्मक से ज्यादा जटिल हो सकती हैं, और इसीलिए, उन्हें न केवल वैज्ञानिक विधियों से बचना चाहिए बल्कि उन तरीकों की भी पहचान करनी चाहिए जिसमें इस विधि का गलत तरीके से इस्तेमाल किया जाता है और उसका दुरूपयोग किया जाता है.[30] गंभीर मनो वैज्ञानिक अनुसंधान में एक मुख्य अवधारणा है रिफ्लेकसीविटी (reflexivity) या गंभीर आत्म निरिक्षण जो "इस बात का स्पष्टीकरण देता है कि (मनो विज्ञानी) मूल्य और मान्यताएं किस प्रकार से (उनके) सैद्धांतिक और विधिपूर्वक लक्ष्यों, क्रियाओं, और व्याख्याओं को प्रभावित करते हैं.[42] एक रिफ्लेकसिव दृष्टिकोण लेते हुए, गंभीर मनो विज्ञानी मनोवैज्ञानिक मामलों की वर्तमान अवस्था की जांच करते हैं और "पुराने प्रश्नों और - पर सुरक्षात्मक स्थिति को तलाश में रहते हैं; जैसे कि मुक्त इच्छा बनाम नियतत्ववाद (determinism), प्रकृति बनाम पोषण (nature vs. nurture), [और] चेतना (consciousness) बनाम अचेत (unconscious) बल".[43]

मनोवैज्ञानिक कार्यों के विविध पहलुओं का परीक्षण (testing) मुख्यधारा मनोविज्ञान का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है. मनोमितीय (Psychometric)और सांख्यिकीय विधियां प्रभावी होती हैं, इनमें भिन्न जाने माने मानक परिक्षण शामिल हैं और वे जो स्थिति या प्रयोग को आवश्यकता के अनुसार बनाये जाते हैं.

अकादमिक मनोविज्ञानी, शुद्ध रूप से अनुसंधान और मनो वैज्ञानिक सिद्धांत पर ध्यान केन्द्रित कर सकते हैं, जिनका उद्देश्य है विशेष क्षेत्र में अग्रणी मनोवैज्ञानिक समझ, जबकि मनो विज्ञानी अनुप्रयोग मनो विज्ञान (applied psychology)पर कार्य कर सकते हैं, ताकि इस प्रकार के ज्ञान को तात्कालिक और प्रायोगिक लाभ पर लागू किया जा सके.ये दृष्टिकोण परस्पर, विशिष्ट नहीं होते हैं, और कई मनो विज्ञानी करियर के दौरान किसी बिंदु पर मनोविज्ञान को लागू करने और इस क्षेत्र में अनुसंधान में लगे होते हैं.कई नैदानिक मनोविज्ञान के कार्यक्रमों का लक्ष्य होता है मनोविज्ञानियों के अभ्यास में ज्ञान का विकास और अनुसंधान व प्रायोगिक विधियों में अनुभव का विकास, जब वे मनो वैज्ञानिक मुद्दों से युक्त व्यक्तियों का इलाज करते हैं तब इन विकास के बिन्दुओं को रोगियों पर लागू करते हैं.

जब किसी क्षेत्र को विशेष प्रशिक्षण और विशेष ज्ञान को जरुरत होती है, खासकर अनुप्रयोग क्षेत्रों में, मनोवैज्ञानिक संघ सामान्य रूप से प्रशिक्षण को जरूरतों के प्रबंधन के लिए एक प्रशासन निकाय को स्थापना करते हैं.इसी प्रकार, मनोविज्ञान में विश्व विद्यालयी डिग्री को जरुरत हो सकती है, ताकि विद्यार्थी कई क्षेत्रों में उपयुक्त ज्ञान प्राप्त कर सकें.इसके अतिरिक्त, प्रायोगिक मनोविज्ञान के क्षेत्र, जहां मनो विज्ञानी दूसरों का उपचार करते हैं, उन्हें जरुरत हो सकती है कि उन्हें सरकार द्वारा विनियमित किसी ईकाई से लाइसेंस लेना पड़े.

नियंत्रित प्रयोग[संपादित करें]

प्रायोगिक मनोवैज्ञानिक अनुसंधान का सञ्चालन एक प्रयोगशाला में नियंत्रित स्थितियों में किया जाता है.अनुसंधान को यह विधि व्यवहार को समझने के लिए वैज्ञानिक विधि (scientific method) के अनुप्रयोग पर निर्भर करता है.प्रयोगकर्ता कई प्रकार के मापन का प्रयोग करते हैं, जिसमें प्रतिक्रिया की दर, प्रतिक्रिया का समय (reaction time), और भिन्न मनोमितीय (psychometric)शामिल हैं.प्रयोगों को विशेष परिकल्पना (test)के परीक्षण (hypotheses)के लिए (निगमनात्मक दृष्टिकोण) या कार्यात्मक संबंध के मूल्यांकन के लिए (आगमनात्मक दृष्टिकोण) डिजाइन किया गया है.वे शोधकर्ताओं को व्यवहार और वातावरण के भिन्न पहलूओं के बीच अनौपचारिक सम्बन्ध स्थापित करने की अनुमति देते हैं.एक प्रयोग में, रूचि के एक या अधिक चरों को प्रयोगकर्ता के द्वारा नियंत्रित किया जाता है (स्वतंत्र चर) और अन्य चर का मापन विभिन्न स्थितियों की प्रतिक्रिया में किया जाता है.(आश्रित चर)मनोविज्ञान के कई क्षेत्रों में प्रयोग प्राथमिक अनुसंधान विधियों में से एक हैं, विशेष रूप से संज्ञानात्मक (cognitive)/साइकोनोमिक्स (psychonomics), गणितीय मनोविज्ञान (mathematical psychology), मनोशरीरकार्यिकी (psychophysiology) और जैविक मनोविज्ञान (biological psychology)/संज्ञानात्मक तंत्रिका विज्ञान (cognitive neuroscience).

मानव पर प्रयोग कुछ नियंत्रण के अंतर्गत किये गए हैं, जो नाम के द्वारा सूचित किये गए हैं और स्वैच्छिक सहमति के हैं.द्वितीय विश्व युद्ध के बाद,प्रायोगिक विषयों के नाजी गलतियों की वजह से नुरेमबर्ग कोड (Nuremberg Code)की स्थापना की गयी.बाद में, अधिकांश देशों (और वैज्ञानिक पत्रिकाओं) ने हेलसिंकी की घोषणा (Declaration of Helsinki)को अपना लिया.अमेरिका में, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के (National Institutes of Health) ने १९६६ में संस्थागत समीक्षा बोर्ड (Institutional Review Board) की स्थापना की, और १९७४ में राष्ट्रीय अनुसंधान अधिनियम (National Research Act) (मानव संसाधन ७७२४ )को अपना लिया.इन सभी कारणों से अनुसंधानकर्ता प्रयोगात्मक अध्ययनों में मानव प्रतिभागियों से सूचित सहमति प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित हुए.कई प्रभावी अध्ययनों से इस नियम की स्थापना हुई; इन अध्ययनों में शामिल थे, एमआईटी और फर्नाल्ड स्कूल रेडियो आइसोटोप का अध्ययन, थेलीडोमाईड त्रासदी (Thalidomide tragedy), विलोब्रुक हेपेटाइटिस (hepatitis)का अध्ययन, और स्टैनले मिल्ग्राम (Stanley Milgram)का सत्ता के लिए आज्ञाकारिता का अध्ययन

सर्वेक्षण प्रश्नावली[संपादित करें]

सांख्यिकी सर्वेक्षणों का उपयोग, मनोविज्ञान में व्यवहार और लक्षणों के मापन के लिए, मूड में परिवर्तन के नियंत्रण के लिए, प्रयोगात्मक अभिव्यक्ती की वैद्यता की जांच के लिए किया जाता है. साथ ही कई अन्य मनोवैज्ञानिक विषयों में भी इसका प्रयोग किया जाता है.सबसे अधिक सामान्य रूप से, मनोविज्ञानी कागज और पेंसिल सर्वेक्षण का उपयोग करते हैं.बहरहाल, सर्वेक्षण फोन पर या ई मेल के माध्यम से भी किए जा सकते हैं.तेजी से बढ़ते हुए, वेब आधारित सर्वेक्षण अनुसंधान में प्रयोग किए जा रहे हैं.[44] समान विधी का उपयोग अनुप्रयोग सेटिंग में किया जाता है जैसे नैदानिक मूल्यांकन और आकलन कर्मियों का मूल्यांकन.

अनुदैर्ध्य अध्ययन[संपादित करें]

एक अनुदैर्ध्य अध्ययन (longitudinal study) अनुसंधान की एक विधी है जो समय के साथ एक विशेष जनसंख्या का प्रेक्षण करती है.उदाहरण के लिए, कोई एक समय अवधि के दौरान व्यक्तियों के एक समूह के प्रेक्षण के द्वारा, कुछ शर्तों के साथविशिष्ट भाषा हानि (specific language impairment) का अध्ययन करना चाह सकता है, इस विधी में यह लाभ होता है कि इससे पता चल जाता है कि कैसे लम्बे समय के दौरान परिस्थितियां एक व्यक्ति को प्रभावित करती हैं. हालांकि, ऐसे अध्ययनों में विषय की मृत्यु हो जाने पर या चले जाने पर मुश्किल हो जाती है.इसके अतिरिक्त, चूँकि समूह के सदस्यों के बीच अंतर नियंत्रित नहीं होता है, जनसंख्या के बारे में निष्कर्ष निकालना मुश्किल हो सकता है. अनुदैर्ध्य अध्ययन एक विकास अनुसंधान रणनीति है जिसमें कई वर्षों के दौरान बार बार एक आयु वर्ग की जांच की जाती है.अनुदैर्ध्य अध्ययन इस बारे में सजीव प्रश्नों का उत्तर देते हैं कि कैसे लोगों का विकास होता है.यह विकास अनुसंधान कई सालों के दौरान लोगों का अनुसरण करता है, और परिणाम, मनोवैज्ञानिक समस्याओं से विशेष रूप से सम्बंधित खोज की अविश्वसनीय सारणी होती है.

प्राकृतिक व्यवस्था में प्रेक्षण[संपादित करें]

उसी तरह जेन गुडाल (Jane Goodall)ने चिंपांज़ी (chimpanzee)की सामाजिक और पारिवारिक जीवन का अध्ययन किया, मनो विज्ञानी इसी प्रकार के अध्ययन मानव के सामाजिक, पेशेवर और पारिवारिक जीवन के लिए करते हैं.कभी कभी प्रतिभागी यह जानते हैं कि उनका प्रेक्षण किया जा रहा है, और कभी कभी यह गुप्त होता है: प्रतिभागियों को यह नहीं पता होता कि उन पर प्रेक्षण किया जा रहा है.नीतिशास्त्रीय दिशानिर्देश पर विचार किया जाना चाहिए जब गुप्त प्रेक्षण किया जा रहा है.

गुणात्मक और वर्णनात्मक अनुसंधान[संपादित करें]

मामलों की वर्तमान स्थिति, जैसे विचार, अहसास, और व्यक्ति के व्यवहार, के बारे में प्रश्नों के उत्तर देने के लिए डिजाइन किया गया अनुसंधान, वर्णनात्मक अनुसंधान कहलाता है.वर्णनात्मक अनुसंधान अभिविन्यास में मात्रात्मक या गुणात्मक हो सकता है.गुणात्मक अनुसंधान एक वर्णनात्मक अनुसंधान है जो घटनाओं के प्रेक्षण और वर्णन पर ध्यान केन्द्रित करता है, जब ये घटनाएँ घटती हैं, इसका उद्देश्य है प्रतिदिन के व्यवहार की गुणवत्ता को पकड़ना, और घटना को समझने और उसकी खोज की आशा के साथ, जो छूट सकता है यदि अधिक सरसरा परिक्षण किया जाये.

तंत्रिका मनोवैज्ञानिक विधियां[संपादित करें]

तंत्रिका मनोविज्ञान (Neuropsychology) में स्वस्थ व्यक्तियों और रोगियों दोनों का अध्ययन शामिल है, प्रारूपिक रूप से जो मस्तिष्क की चोट (brain injury) या मानसिक बीमारी से ग्रस्त हैं.

संज्ञानात्मक तंत्रिका मनोविज्ञान (Cognitive neuropsychology)और संज्ञानात्मक तंत्रिका मनो चिकित्सा (cognitive neuropsychiatry)में तंत्रिका और मानसिक कार्यों का अध्ययन किया जाता है, ताकि सामान्य मस्तिष्क व मन के सिद्धांतों का निष्कर्ष निकला जा सके.इसमें प्रारूपिक रूप से बची हुई क्षमता के प्रतिरूप में अंतर के लिए खोज शामिल है, (जो कार्यात्मक अ-संगठन कहलाता है) जो इस बात के सुराग दे सकता है कि यदि क्षमताएं छोटे कार्य से युक्त हैं या एकमात्र संज्ञानात्मक प्रणाली के द्वारा नियंत्रित की जाती हैं.

इसके अलावा, प्रयोगात्मक तकनीक अक्सर स्वस्थ व्यक्तियों के तंत्रिका विज्ञान के अध्ययन के लिए उपयोग किया जाता है.इसमें व्यवहारिक प्रयोग, मस्तिष्क की स्केनिंग, या कार्यात्मक तंत्रिका इमेजिंग (functional neuroimaging)शामिल है जिसका उपयोग, कार्य निष्पादन के दौरान मस्तिष्क की गतिविधियों की जांच करने के लिए किया जाता है, और उन तकनीकों जैसे परा क्रेनियम चुम्बकीय उत्प्रेरण (transcranial magnetic stimulation)की जाँच के लिए किया जाता है जो छोटे मस्तिष्क के क्षेत्रों के कार्य को सुरक्षित रूप से परिवर्तित कर सकते हैं ताकि मानसिक गतिविधियों में उनके महत्त्व को प्रकट किया जा सके.

कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग[संपादित करें]

दो परतों के साथ

कृत्रिम तंत्रिका नेटवर्क (Artificial neural network), नोड्स का एक आपस में जुड़ा हुआ समूह, मानव के मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं के बड़े जाल के सामान होता है.

कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग (Computational modeling)[45] का उपयोग अक्सर गणितीय मनोविज्ञान (mathematical psychology) और संज्ञानात्मक मनोविज्ञान (cognitive psychology) में किया जाता है, ताकि एक कंप्यूटर के उपयोग के द्वारा एक विशेष व्यवहार को उत्तेजित किया जा सके.इस विधि के कई फायदे हैं.चूंकि आधुनिक कंप्यूटर बहुत जल्दी प्रक्रिया करते हैं, कई उत्त्प्रेरण बहुत छोटे समय में किये जा सकते हैं, जो सांख्यिकीय क्षमता की बड़ी मात्रा की अनुमति देते हैं. मोडलिंग मनोविज्ञानियों को उन मानसिक घटनाओं के कार्यात्मक संगठन के बारे में परिकल्पना करने की अनुमति देता है जो मानव में प्रत्यक्ष रूप से प्रेक्षित नहीं की जा सकती हैं.

व्यवहार के अध्ययन के लिए मोडलिंग के कई प्रकारों का उपयोग किया जाता है.संबंधवाद (Connectionism)मस्तिष्क को उत्तेजित करने के लिए तंत्रिका नेटवर्क (neural network)का उपयोग करता है. एनी विधि है प्रतीकात्मक मोडलिंग, जो चरों और नियमों के उपयोग के द्वारा भिन्न मानसिक वस्तुओं का प्रतिनिधित्व करता है.मॉडलिंग के अन्य प्रकारों में शामिल हैं गतिशील प्रणाली (dynamic systems) और स्टोकेस्टिक (stochastic) मॉडलिंग.

पशु अध्ययन[संपादित करें]

पावलोव का एक कुत्ता जिसमें शल्य क्रिया के द्वारा केनुला (cannula)प्रत्यारोपित किया गया ताकि लार (saliva)के उत्पादन का मापन किया जा सके.

पशु अधिगम प्रयोग मनोविज्ञान के कई पहलुओं में महत्वपूर्ण हैं जैसे सीखना, स्मृति, और व्यवहार के जैविक आधार पर जांच. 1890 में मनो विज्ञानी इवान पावलोव (Ivan Pavlov)ने क्लासिकल कंडिशनिंग (classical conditioning)के प्रदर्शन के लिए कुत्तों का उपयोग किया जो काफी प्रसिद्व रहा.गैर मानव प्राइमेट्स (Non-human primates) बिलियन, कुत्ते, चूहे, और अन्य रोडेन्टस (rodents)अक्सर मनो वैज्ञानिक प्रयोगों में प्रयुक्त किये जाते हैं.नियंत्रित प्रयोगों में शामिल है एक समय में केवल एक चर (variable) को शामिल करना.इसीलिए, प्रयोगों में प्रयुक्त किये जाने वाले पशुओं को प्रयोगशाला सेटिंग्स में रखा जाता है.इसके विपरीत, मानव वातावरण और आनुवंशिक पृष्ठभूमि व्यापक रूप से भिन्न प्रकार के होते हैं, जो मानव विषयों के लिए महत्ववपूर्ण चरों के नियंत्रण को मुश्किल बनाता है.[46]

आलोचना[संपादित करें]

एक विज्ञान के रूप में स्तर[संपादित करें]

मनोविज्ञान की आलोचनाएँ अक्सर इस धारणा से आती हैं की यह एक "उलझन भरा " विज्ञान है.दार्शनिक थॉमस कुहन (Thomas Kuhn)के १९६२ के आलोचक ने मनोविज्ञान को एक पूर्व समग्र अवस्था पर लागू किया, जिसमें ऐसे समझोतों का अभाव था जो परिपक्व विज्ञान जैसे रसायन शास्त्र और भौतिकी में पाए जाने वाले सिद्धांतों तक पहुँच सके.मनोवैज्ञानिकों और दार्शनिकों ने विभिन्न तरीकों से इस मुद्दे को संबोधित किया है.[47]

क्योंकि मनोविज्ञान के कुछ क्षेत्र अनुसंधान विधियों जैसे सर्वेक्षण और प्रश्नावली (questionnaire) पर भरोसा करते हैं, आलोचकों का यह मानना है की मनोविज्ञान वैज्ञानिक नहीं है.अन्य घटना जिसमें मनोविज्ञानी रूचि लेते हैं, जैसे व्यक्तित्व (personality), सोच (thinking), और भावना (emotion), का मापन प्रत्यक्ष रूप से नहीं किया जा सकता है, और अक्सर इन्हें विषयी स्व-रिपोर्टों से मापा जाता है, जो समस्या जनक हो सकता है.

संभाव्यता (probability) की वैद्यता, जो सनुसंधान उपकरण के रूप में जांच करती है, उस पर प्रश्न उठते रहे हैं.इसमें सोचने की बात है कि सांख्यिकीय विधियां अर्थपूर्ण रूप में तुच्छ निष्कर्षों को बढ़ावा दे सकती हैं, विशेष रूप से जब बड़े नमूनों का उपयोग किया जाता है.[48] कुछ मनोवैज्ञानिकों ने प्रभावी आकार (effect size) सांख्यिकी के बढे हुए उपयोग के साथ प्रतिक्रिया दी है, इसके बजाय सांख्यिकीय परिकल्पना परिक्षण में यह केवल पारंपरिक पी <.०५ फैसले के नियम पर विश्वास नहीं करता है,

कभी कभी विवाद मनोविज्ञान से उत्पन्न होता है, उदाहरण के लिए, प्रयोगशाला उन्मुख शोधकर्ताओं और चिकित्सकों या प्रेकटिशनर्स के बीच. हाल के वर्षों, विशेष रूप से संयुक्त राज्य में, चिकित्सीय प्रभावकारिता की प्रकृति के बारे में विवाद (debate)बढा है, और साथ ही मनो चिकित्सकीय रणनीति की मूल जांच पर भरोसे के बारे में भी विवाद बढ़ गया है.[49] एक तर्क के अनुसार कुछ थेरेपियां बदनाम सिद्धांतों पर आधारित हैं, और इन्हें मूल प्रमाणों का समर्थन नहीं मिलता है.दूसरा पक्ष हाल ही के अनुसंधान की और इशारा करता है और बताता है कि सभी मुख्य धरा थेरेपियां सामान प्रभावित से युक्त होती हैं, जबकि इसका यह भी तर्क है कि नियंत्रित अध्ययन अक्सर वास्तविक दुनिया कि स्थितियों में विचाराधीन नहीं होते हैं.[50]

फ्रिंज नैदानिक प्रथाये[संपादित करें]

वैज्ञानिक सिद्धांत और उसके अनुप्रयोगों के बीच एक कथित अंतर के बारे में सोचने की बात है, विशेष रूप से ऐसी चिकित्सकीय प्रथाओं के लिए जिन्हें साबित नहीं किया गया है या वे उपयुक्त नहीं हैं.अनुसंधानकर्ता जैसे बेयर स्टीन (२००१) कहते हैं कि मानसिक स्वास्थ्य प्रशिक्षण कार्यक्रमों की संख्या में बहुत वृद्धि हुई है जो विज्ञान के प्रशिक्षण पर भारी नहीं है.[51] लीलिनफील्ड (२००२) के अनुसार" अमान्य और कभी कभी हानिकारक मनो चिकित्सकीय विधियों, की बहुत सी किस्में, जिसमें शिशु अटिस्म के लिए आसान संचार शामिल (facilitated communication) है...ऐसी तकनीकें जिनकी सलाह स्मृति में सुधार के लिए दी गयी है,(उदाहरण हिप्नोटिक आयु प्रतिगमन, निर्देशित कल्पना, शरीर का कार्य (body work)), उर्जा थेरेपियां, (उदाहरण विचार क्षेत्र थेरेपी (Thought Field Therapy), भावनात्मक स्वतंत्रता तकनीक (Emotional Freedom Technique))....और अंतहीन धारियों की तरह प्रतीत होती हुई नए युग की चिकित्साएँ,(उदाहरण रीबर्थिंग (rebirthing), री पेरेंटिंग (reparenting), पास्ट लाइफ रिग्रेशन (past-life regression), प्राइमल.......थेरेपी (Primal...therapy), तंत्रिकाभाषी प्रोग्रामिंग (neurolinguistic programming), अलाइन एबडकशन थेरेपी, एंजल थेरेपी )हाल ही के दशकों में या तो विकसित हुए हैं, या इन्होने अपनी लोकप्रियता को बनाये रखा है."[52] एलेन न्युरिन्जर ने १९८४ में व्यवहार के प्रयोगात्मक विश्लेषण के क्षेत्र में सामान बिंदु बनाये हैं.[53]

यह भी देखें[संपादित करें]

साँचा:Psychology portal

संदर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.etymonline.com/index.php?term=psychology
  2. इब्राहिम बी सैयद पीएचडी, "इस्लामी चिकित्सा :इसके समय से १००० साल आगे, " इस्लामी मेडिकल एसोसिएशन का जर्नल (Journal of the Islamic Medical Association), २००२ (२), पी. २ -९ .
  3. उम्र खलीफा (गर्मियां १९९९)"मनो भौतिकी और प्रायोगिक मनोविज्ञान का संस्थापक कौन है ?", इस्लामी सामाजिक विज्ञान की अमेरिकी जर्नल १६ (२).
  4. इब्राहिम बी सैयद पीएचडी, "इस्लामी चिकित्सा :इसके समय से १००० साल आगे, " इस्लामी मेडिकल एसोसिएशन का जर्नल (Journal of the Islamic Medical Association), २००२ (२), पी. २-९ [७-८].प्राचीन मनोविज्ञान की प्रारंभिक प्रथाओं में लोबोटोमी (lobotomy) जैसी प्रक्रियाएं शामिल हैं, जिसमें मस्तिष्क के उन विशेष उतकों को हटाया जाता है जो विशेष मानसिक समस्याओं का कारण होते हैं.लोबोटोमी का उपयोग (हालाँकि असामान्य रूप से ) मिस्र, चीन और फारस तथा कई अन्य प्राचीन सभ्यताओं में चिकित्सा पद्धतियों में किया जाता था.
  5. ब्राडली सटीफंस (२००६ ). इब्न अल हायथम: पहले वैज्ञानिक, अध्याय 5.मॉर्गन रेनॉल्ड्स प्रकाशन.आईएसबीएन १५९९३५०२४६ .
  6. विल्हेम मेक्सीमिलन वुन्द्त
  7. मनोविज्ञान के सिद्धांत (१८९०), जॉर्ज ए मिलर, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, के परिचय के साथ , १९८३ पेपरबेक , आई एस बी एन ० -६७४ -७०६२५ -० (संयुक्त संस्करण, १३२८ पेज)
  8. कार्ल पोपर, कंजेकटर्स एंड रेफ़ुतेशन्स, लन्दन: रुल्तेज और कागन पॉल, १९६३, पी पी ३३-३९; थियोडोर शिक से, संस्करण, विज्ञान के दर्शन में पठान, माउंटेन व्यू, सीए: मेफ़ील्ड प्रकाशन कंपनी, २०००, पीपी ९ -१३ . [1]
  9. २००८ का अध्ययन अमेरिकी मनोविश्लेषण संघ (American Psychoanalytic Association)के द्वारा जैसा कि न्यूयॉर्क टाइम्स में रिपोर्ट किया गया, " फ्रुड ने मनोविज्ञान विभाग को छोड़ कर विश्विद्यालयों में व्यापक रूप से शिक्षण का कार्य किया " पेट्रिसिया कोहेन के द्वारा २५ नवम्बर २००७. "पश्चिमोत्तर विश्वविद्यालय (Northwestern University) में मनो विज्ञान विभाग के चेयर मेन डा. ऐलिस] इग्ली ने कहा.......कि हालाँकि मनो विज्ञान ने वैज्ञानिक रूप से उनके दृष्टिकोण की प्रमाणिकता की जांच पर बहुत जोर दिया है, फिर भी मनो विश्लेषकों ने समान प्रमाणों पर आधारित आधार भूमि का विकास नहीं किया है.इसके परिणाम स्वरुप, अधिकांश मनो वैज्ञानिक विभाग मनोविश्लेषण पर बहुत अधिक ध्यान नहीं देते हैं.
  10. ऐसे तंत्रिका-मनोविश्लेषक अनुसंधान कर्ताओं में शामिल हैं ओलिवर सेक्स (Oliver Sacks)-सेक्स, ओ.(१९८४ ), अ लेग टू स्टेंड ओन , न्यू यार्क :शिखर सम्मेलन किताबें / साइमन और शुस्टर. मार्क सोल्म्स (Mark Solms)-kaplan सोल्म्स, के, और सोल्म्स, एम.(२०००).तंत्रिका मनो विश्लेषण में नैदानिक अध्ययन: एक गहरी तंत्रिका मनो विज्ञान का परिचय.लंदन: कार्नक पुस्तकें ; सोल्म्स, एम, और टर्नबुल , ओ (२००२ ), दी ब्रेन एंड दी इनर वर्ल्ड: व्यक्तिपरक अनुभव के तंत्रिका विज्ञान के लिए एक परिचय. न्यू यॉर्क: अन्य प्रेस.जाक पंकसेप (Jaak Panksepp), प्रभावी तंत्रिका विज्ञान: मानव और जंतुओं की भावनाओं की नीव, न्यू यार्क और ओक्स फोर्ड: ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस डगलस वाट (Douglas Watt).एंटोनियो दमासियो (António Damásio), डेसकार्टेस 'त्रुटि: भावनाएं, कारन और मानव मस्तिष्क (Descartes' Error: Emotion, Reason, and the Human Brain), १९९४; सोमेटिक मारकर परिकल्पना और प्रीफ्रोंटल कोरटेक्स के संभावित कार्य , १९९६ क्या होता है का अहसास सचेतता के निर्माण में शरीर और भावनाएं , १९९९; स्पिनोजा की खोज: ख़ुशी दुःख और मस्तिष्क का अहसास , २००३. एरिक कंडेल (Eric Kandel)जोसेफ ई ली डॉक्स (Joseph E. LeDoux), दी इमोशनल ब्रेन: भावनात्मक जीवन का रहस्यमयी आधार १९९६, साइमन और शुस्टर (Simon & Schuster), १९९८ टचस्टोन संस्करण आई एस बी एन ० -६८४ -८३६५९ -९
  11. स्किनर, बी एफ (१९७४) .व्यवहारिकता के बारे में.न्यूयार्क: रैंडम हाउस
  12. Schlinger, H.D. (2008). The long good-bye: why B.F. Skinner's Verbal Behavior is alive and well on the 50th anniversary of its publication. 
  13. जॉर्ज ए मिलर (George A. Miller) संज्ञानात्मक क्रांति: एक ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य, संज्ञानात्मक विज्ञान में रुझान, खंड ७, संख्या 3, मार्च २००३
  14. रोवान, जॉन.(२००१). साधारण आनंद: मानवतावादी मनोविज्ञान का द्वंद्ववाद.लंदन, ब्रिटेन: ब्रुन्नर-रुल्टेज आईएसबीएन ०४१५२३६३३९.
  15. बुगेंटल, जे.(१९६४).मनोविज्ञान में तीसरा बल.मानवता मनोविज्ञान की जर्नल, ४ (१),१९-२५.
  16. Hergenhahn BR (2005). An introduction to the history of psychology. Belmont, CA, USA: Thomson Wadsworth. pp. 523–532. 
  17. Hergenhahn BR (2005). An introduction to the history of psychology. Belmont, CA, USA: Thomson Wadsworth. pp. 529. 
  18. Frankl VE (1984). Man's search for meaning (rev. ed.). New York, NY, USA: Washington Square Press. pp. 86. 
  19. Hergenhahn BR (2005). An introduction to the history of psychology. Belmont, CA, USA: Thomson Wadsworth. pp. 528–536. 
  20. Hergenhahn BR (2005). An introduction to the history of psychology. Belmont, CA, USA: Thomson Wadsworth. pp. 546–547. 
  21. चोमस्की, एन ऐ.(१९५९ ), स्किनर के मौखिक व्यवहार की एक समीक्षा
  22. बन्दुरा, ऐ.(१९७३).आक्रामकता: एक सामाजिक अधिगम विश्लेषण.एंगलवुड क्लिफ्स, एन जे: प्रेन्टिस हॉल
  23. एडमेन, यूजीन, गलानीज, जोर्ज, मेंटन, जेरेमी, वोजो, अरमांडो और बोनार, माइकल (२००२) ' सैन्य प्रशिक्षण में मानव pranalii का मूल्यांकन' , मनोविज्ञान की ऑस्ट्रेलियन जर्नल, ,५४ :३ ,१६८ -१७३
  24. वोज्निअक, आर. एच.(१९९९).स्मृति को परिचय: हरमन एब्बिनघास (१८८५ /१९१३ ).मनोविज्ञान के इतिहास में उत्कृष्टता
  25. Richard Frankel, Timothy Quill, Susan McDaniel (2003). The Biopsychosocial Approach: Past, Present, Future. Boydell & Brewer. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1580461026, 9781580461023. 
  26. मानसिक विकार के नैदानिक और सांख्यिकी मैनुअल (Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders) डीएसएम-आईवी-टीआर चौथा संस्करण (पाठ संशोधन) अमेरिकी मनोरोग एसोसिएशन द्वारा.
  27. मस्तिष्क, क्रिस्टाइन (२००२ ). उन्नत मनोविज्ञान: आवेदन, मुद्दे और परिप्रेक्ष्य.चेल्तनहेम:नेल्सन थोर्न्स आईएसबीएन ०१७४९००५८९>
  28. लीचसेनरिंग, फाल्क और लीबिंग, एरिक. (२००३ ).व्यक्तिगत रोग के उपचार में मनोगतिकी चिकित्सा और संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा की प्रभाविता : एक मेटा-विश्लेषण.मनश्चिकित्सा के अमेरिकन जर्नल, १६० (७ ), १२२३ -१२३३ .
  29. रीज्नर, एंड्रयू.( २००५ ) .सामान्य कारक, मूल रूप से वैद्य उपचार, और उपचार परिवर्तनों के वसूली मोडल मनोवैज्ञानिक रिकार्ड, ५५ (३ ), ३७७ -४०० .
  30. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. pp. 3-19. 
  31. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. प॰ 3. 
  32. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. pp. 7-8. 
  33. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. प॰ 8. 
  34. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. pp. 5-8. 
  35. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. प॰ 16. 
  36. Aunger, R (2002). The electric meme: A new theory of how we think. New York, NY, USA: Simon & Schuster. pp. 3. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0743201507. 
  37. मायर्स (२००४ ).प्रेरणा और काम . मनोविज्ञान.न्यूयॉर्क, एनवाई: वॉर्थ प्रकाशक
  38. करवर, सी, और शियर, एम.(२००४).व्यक्तित्व पर परिप्रेक्ष्य (५ वां संस्करण ).बोस्टन: पियरसन.
  39. "National Association of School Psychologists". http://nasponline.org/about_sp/whatis.aspx. अभिगमन तिथि: June 1. 
  40. यूरी ब्रोनफेनब्रेनर (१९७९). मानव विकास की पारिस्थितिकी: प्रकृति और डिजाइन के द्वारा प्रयोग. केम्ब्रिज, एम ऐ:हार्वर्ड विश्वविद्यालय प्रेस (Harvard University Press).आई एस बी एन ० -६७४ -२२४५७ -४
  41. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. pp. 14-16. 
  42. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. प॰ 10. 
  43. Fox DR, Prilleltensky I, Austin S (Eds.) (2009). Critical psychology: An introduction (2nd ed.). London, UK: Sage Publications. प॰ 13. 
  44. "Paths to Happiness Survey - happiness study". http://www.happypsych.com. अभिगमन तिथि: June 1 2008. उपलब्ध२००७ -११ -०२ (2007-11-02).
  45. रॉन सन, (२००८).कम्प्यूटेशनल मनोविज्ञान की कैम्ब्रिज हैंडबुक कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, न्यूयॉर्क.२००८.
  46. "Ncabr.Org : About Biomedical Research : Faq". http://www.ncabr.org/biomed/FAQ_animal/faq_animal_8.html. अभिगमन तिथि: 2008-07-01. 
  47. ग्रेग हेनरिक्स (Gregg Henriques) , जो जेम्स मेडिसन विश्वविद्यालय (James Madison University)से थे, ने २००३ (Tree of Knowledge System)में ट्री ऑफ नोलेज सिस्टम को प्रकाशित किया, जो मनोविज्ञान के सैद्धांतिक एकीकरण के लिए एक प्रस्ताव के रूप में था.हेनरिक्स, जी आर ( २००३ ).दी ट्री ऑफ नोलेज सिस्टम और मनोविज्ञान के सैद्धांतिक एकीकरणसामान्य मनोविज्ञान की समीक्षा , २, १५०-१८२.
  48. कोहेन , जे (१९९४ ).पृथ्वी गोल है, पी < .०५ . अमेरिकी मनोवैज्ञानिक, ४९.
  49. इलियट, रॉबर्ट.(१९९८ ).एडिटर्स इंट्रोडकशन : मूल रूप से समर्थित उपचार विवाद के लिए एक मार्गदर्शिका. मनोचिकित्सा अनुसंधान, ८ (2), ११५.
  50. (उदाहरण चिकित्सावाद के अनुभव या उच्च सह रूग्णता दर)[तथ्य वांछित]
  51. बेयरस्टीन, बी, एल.(२००१).फ्रिंज मनो चिकित्सा: दी पब्लिक एट रिस्क वैकल्पिक चिकित्सा की वैज्ञानिक समीक्षा, ५, ७०-७९
  52. "SRMHP: Our Raison d’Être". http://www.srmhp.org/0101/raison-detre.html. अभिगमन तिथि: 2008-07-01. 
  53. न्यूरिन्जर, ऐ.:"मेलियोरेशन एंड सेल्फ एक्सपेरीमेनटेशन " व्यवहार के प्रयोगात्मक विश्लेषण की जर्नल http://www.pubmedcentral.nih.gov/articlerender.fcgi?artid=1348111

बाहरी सम्बन्ध[संपादित करें]

Psychology के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-en.png शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्त्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन
Wikiversity
विकिविश्वविद्यालय में आप मानस शास्त्र पर और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है: