लार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लार (राल , थूक , ड्रूल अथवा स्लौबर नाम से भी निर्दिष्ट) मानव तथा अधिकांश जानवरों के मुंह में उत्पादित पानी-जैसा और आमतौर पर एक झागदार पदार्थ है. लार मौखिक द्रव का एक घटक है. लार उत्पादन और स्त्राव तीन में से एक लार ग्रंथियों से होता है. मानव लार 98% पानी से बना है, जबकि इसका शेष 2% अन्य यौगिक जैसे इलेक्ट्रोलाईट, बलगम, जीवाणुरोधी यौगिकों तथा एंजाइम होता है.[1] भोजन पाचन की प्रक्रिया के प्रारंभिक भाग के रूप में, लार के एंजाइम भोजन के कुछ स्टार्च और वसा को आणविक स्तर पर तोड़ते हैं. लार दांतों के बीच फंसे खाने को भी तोड़ती है, और उन्हें उस बैक्टीरिया से बचाती है जो क्षय का कारण होते हैं. इसके अलावा, लार दांतों, जीभ और मुंह के अंदर कोमल ऊतकों को चिकनाई देती है और उनकी रक्षा करती है. लार मुंह में रहने वाले वात निरपेक्ष बैक्टीरिया के द्वारा गंध-मुक्त भोजन यौगिकों से उत्पादित थायोल्स (thiols) को फंसा कर भोजन का स्वाद चखने की महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. [2]

विभिन्न प्रजातियों ने लार के विशेष उपयोग विकसित किये हैं, जो पूर्वपाचन से परे हैं. कुछ अबाबील अपने चिपचिपे लार का उपयोग घोंसले का निर्माण करने के लिए करती हैं. चिड़िया के घोंसले के सूप के लिए छोटी हिमालयन अबाबील का घोंसला बेशकीमती है.[3] कोबरा, वाइपर, और कुछ विष क्लेड के अन्य सदस्य अपने नुकीले दांतों से विषैला लार डालकर शिकार करते हैं. मकड़ियों और केंचुओं जैसे कुछ संधिपाद प्राणी (arthropods) लार ग्रंथियों से धागा बनाते हैं.

कार्य[संपादित करें]

पाचन[संपादित करें]

लार के पाचन कार्यों में शामिल हैं भोजन को गीला करना और भोजन की लुग्दी बनाना, ताकि यह आसानी से निगला जा सके. लार में एंजाइम ऐमीलेस होता है (जिसे प्त्यालिन भी कहा जाता है) जो स्टार्च को शर्करा में तोड़ता है. इस प्रकार, भोजन का पाचन मुंह में शुरू होता है. लार ग्रंथियां वसा पाचन शुरू करने के लिए लारमय लाइपेस (लाइपेस का एक अधिक शक्तिशाली रूप) भी स्त्रावित करती हैं. लिपासे नवजात शिशुओं के वसा पाचन में बड़ी भूमिका निभाता है क्योंकि उनके अग्नाशयी लाइपेस को विकसित होने में अभी कुछ समय है.[4] इसका एक सुरक्षात्मक कार्य भी है, दांतों पर ऊपर बैक्टीरिया जमाव रोकने में मदद करना और चिपके हुए खाद्य कणों को धोना.

कीटाणुनाशक[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Wound licking

एक आम धारणा है कि मुंह में निहित लार प्राकृतिक कीटाणुनाशक होते हैं, जो लोगों की इस धारणा को बढ़ावा देते हैं को घावों को चाटना लाभकारी है. गैनेस्विल्ले स्थित फ्लोरिडा विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं ने चूहों के लार में एक तंत्रिका विकास कारक एनजीएफ (NGF) नामक प्रोटीन की खोज की है. एनजीएफ (NGF) साथ भिगोये गए घाव बिना इलाज किये और बिना चाटे हुए घावों के मुकाबले दुगनी तेजी से भरे; अतः लार कुछ प्रजातियों में घाव भरने में मदद कर सकती है. एनजीएफ (NGF) मानव लार में नहीं पाया जाता; हालांकि शोधकर्ताओं ने पाया कि मानव लार में ऐसे जीवाणुरोधी एजेंट के रूप शामिल हैं जैसे स्रावी आईजीए (IgA), लैक्टोफेरिन, लाइसोज़ाइम और पैरौक्सीडेज.[5] यह दिखाया नहीं गया कि मानव द्वारा घावों को चाटना उन्हें रोगाणुओं से मुक्त करता है, परन्तु संभावना है कि चाटना बड़े संदूषकों जैसे धूल को निकाल कर घाव को साफ करने में मदद करता है और रोगजनक पदार्थों को झाड़कर सीधे मदद कर सकता है. इसलिए, चाटना रोगाणुओं को साफ़ करने का तरीका है और यदि जानवर या व्यक्ति के पास साफ पानी उपलब्ध न हो तो यह उपयोगी भी है.

जानवरों का मुंह कई बैक्टीरिया का निवास स्थान है, जिनमें कुछ रोगज़नक़ भी होते हैं. दाद जैसे कुछ रोग मुंह के माध्यम से संक्रमित हो सकते हैं. सैप्टिसीमिया के जोखिम की वजह से पशु (मानव सहित) के काटने का विधिवत एंटीबायोटिक दवाओं के साथ नियमित इलाज किया जाता है.

हाल के शोध से पता चलता है कि पक्षियों की लार मल के नमूने की तुलना में एवियन इन्फ्लूएंजा की बेहतर सूचक है.[6]

हार्मोन संबंधी कार्य[संपादित करें]

लार गस्टिन (Gustin) हार्मोन का स्त्राव करती है जो माना जाता है कि स्वाद कलियों के विकास में एक भूमिका निभाती है.

गैर-शारीरिक उपयोग[संपादित करें]

लार कोहरा-विरोधी का कार्य करती है. स्कूबा ग़ोताख़ोर सामान्यतः धुंध से बचने के लिए अपने चश्मे की अंदरूनी सतह पर लार की एक पतली परत पोत लेते हैं.[7]

लार कला संरक्षण में प्रयुक्त एक प्रभावी सफाई एजेंट है. लार के साथ लेपित रुई के फाहे कलाचित्र की सतह पर फेरे जाते हैं जिससे संचित होने वाली धूल की पतली परत आराम से हट जाए.[8]

लार ग्रंथियों में आयोडीन और मौखिक स्वास्थ्य[संपादित करें]

पौष्टिकता संबंधी, ऑक्सीकरण रोधी और कोशिका विघटन प्रवर्तन जैसे कार्यों और संभावित ट्यूमर-विरोधी गतिविधियों के कारण आयोडाइड मौखिक और लार ग्रंथियों के रोगों की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है.

उत्तेजना[संपादित करें]

लार का उत्पादन संवेदी तंत्रिका प्रणाली और सहानुकम्पी दोनों से उत्तेजित होता है.[9]

संवेदी उत्तेजना से प्रेरित लार मोटी होती है, और सहानुकम्पा से उत्तेजित लार अधिक पानी-जैसा होता है.

सहानुकम्पी उत्तेजना से लार कोष्ठकी कोशिकाओं पर ऐसीटाईचोलीन एसीएच (ACh) का रिसाव होता है. एसीएच (ACh) मुस्कारिनिक रिसेप्टर्स से बंध जाता है और अंतर्कोशिका कैल्शियम आयन सघनता एकाग्रता की वृद्धि का कारण बनता है (आइपी3/डीएजी IP3/DAG दूसरी संदेशवाहक प्रणाली के माध्यम से). बढ़े हुए कैल्शियम के कारण कोशिकाओं में स्थित वेसिकल्स (vesicles) आगे की कोशिका झिल्ली के साथ मिल जाते हैं जिससे स्त्राव बनता है. एसीएच के कारण भी लार ग्रंथि एक एंजाइम कल्लिक्रेन स्त्राव करती है, जो किनिनोज़ेन को लैसिल-ब्रैदीकिनिन में परिवर्तित कर देता है. लैसिल-ब्रैदीकिनिन (Lysyl-bradykinin) रक्त वाहिकाओं और लार ग्रंथि की केशिकाओं पर क्रमशः वैसोदैलैशन (vasodilation) और बढी केशिका पारगम्यता उत्पन्न करने के लिए कार्य करता है. जिसके परिणामस्वरूप अग्र-कोशिकाओं में अधिक रक्त प्रवाह से अधिक लार का उत्पादन होता है. अन्त में, दोनों सहानुकम्पी और सहानुभूति तंत्रिका उत्तेजनाएं मैओपिथेलियम संकुचन का कारण बनती हैं जिससे स्त्राव थैलियों से स्त्राव का निष्कासन नलिकाओं में और अंततः मुख गुफा में होता है.

औषधशास्त्रीय उत्तेजना से भी तथाकथित सिआलागौग द्वारा लार उत्पादन हो सकता है. यह तथाकथित एंटीसिआलागौग द्वारा दबाया भी जा सकता है.

दैनिक लार उत्पादन[संपादित करें]

प्रतिदिन एक स्वस्थ व्यक्ति द्वारा उत्पादित किये गए लार की मात्रा के बारे में बहुत मतभेद हैं; अनुमान सीमा प्रतिदिन 0.75-1.5 लीटर है जबकि यह आम तौर पर स्वीकार किया गया है कि नींद के दौरान मात्रा लगभग शून्य तक गिर जाती है. मनुष्यों में, उप-जबड़े ग्रंथि स्राव का लगभग 70-75% योगदान देती है, जबकि कर्णमूलीय ग्रंथि 20-25% स्त्राव देती है और छोटी मात्रा में स्त्राव अन्य लार ग्रंथियों से होता है.

अंतर्वस्तुएं[संपादित करें]

स्त्राव ग्रंथियों में उत्पादित मानव लार 98% पानी है, लेकिन इसमें कई महत्वपूर्ण पदार्थ शामिल हैं, जैसे इलेक्ट्रोलाइट, बलगम, जीवाणुरोधी यौगिक तथा विभिन्न एंजाइम.[1]

यह एक तरल पदार्थ है जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • जल
  • इलेक्ट्रोलाइट:
    • 2-21 mmol/L सोडियम (रक्त प्लाज्मा से कम)
    • 10-36 mmol/L पोटेशियम (प्लाज्मा से अधिक)
    • 1.2-2.8 mmol/L कैल्शियम (प्लाज्मा के समान)
    • 0.08-0.5 mmol/L मैग्नीशियम
    • 5-40 mmol/L क्लोराइड (प्लाज्मा से कम)
    • 25 mmol/L बाईकार्बोनेट (प्लाज्मा से अधिक)
    • 1.4-39 mmol/L फॉस्फेट
    • आयोडीन (mmol/L सामान्यतः प्लाज्मा की तुलना में अधिक, लेकिन आहार के आयोडीन के अनुसार परिवर्तनीय)
  • बलगम. लार में बलगम मुख्य रूप से म्यूकोपौलीसैचरिद्स और ग्लाईकोप्रोटीन (glycoprotein) से बनी होती है;
  • जीवाणुरोधी यौगिकों थिओसाइनेट, हाइड्रोजन पराक्साइड, और स्त्रावित इम्मुनोग्लोबुलिन ए
  • एपिडर्मल वृद्धि कारक अथवा ईजीएफ (EGF)
  • विभिन्न एंजाइम. लार में तीन प्रमुख एंजाइम पाए जाते हैं.
    • α-अमीलेस (α-amylase) (ईसी 3.2.1.1). अमीलेस स्टार्च का और लिपासे वसा का पाचन खाना निगलने से पहले ही शुरू कर देते हैं. इसकी अधिकतम पीएच (pH) 7.4 है.
    • लिंगुअल लाइपेस. लिंगुअल लाइपेस का अधिकतम पीएच (pH) ~4.0 है इसलिए यह पेट के अम्लीय वातावरण में प्रवेश करने तक सक्रिय नहीं होता है.
    • रोगाणुरोधी एंजाइम जो जीवाणुओं को मारते हैं.
      • लाइसोज़ाइम
      • लारमय लैक्टोपैरोक्सीडेस
      • लैक्टोफेरिन[10]
      • इम्मुनोग्लोबुलिन ए[10]
    • प्रोलाइन-युक्त प्रोटीन (एनामेल निर्माण, Ca2+-बंधन, सूक्ष्मजीव संहार और स्नेहन)[10]
    • छोटे एंजाइमों में शामिल हैं लारमय अम्लीय फॉसफेट ए+बी, एन-असिटाइलमुरामोयल-एल-अलानाइन अमीडेस, एनएडी(पी)एच डीहाइड्रोजीनेस (क्विनोन), सुपरओक्स्साईड डाईमूटेस, ग्लूटाथिओन ट्रांसफेरेस, श्रेणी 3 एलडिहाइड डिहाइड्रोजीनेस, ग्लूकोस-6-फॉसफेट आइसोमेरेस, और ऊतक कल्लीक्रेन (कार्य अज्ञात).[10]
  • कोशिकाएं: संभवतः 80 लाख मानव और पचास करोड़ बैक्टीरियल कोशिकाएं प्रति मिली. बैक्टीरियल उत्पादों की उपस्थिति (छोटे कार्बनिक अम्ल, एमाइंस और थायोल्स) कभी-कभी दुर्गन्ध का कारण बनती है.
  • ओपिओर्फिन, एक नयी शोध की गया दर्द-निवारक पदार्थ मानव लार में पाया जाता है.

लार की अंतर्वस्तुएं निर्धारित करने के लिए प्रयुक्त विभिन्न अभिकर्मक \1. मोलिश परीक्षण बैंगनी रंग का एक सकारात्मक परिणाम देता है कि कार्बोहाइड्रेट घटक की उपस्थिति है. प्राथमिक स्राव: अकीनी द्वारा स्त्रावित लार नलिकाओं की प्रणाली द्वारा संशोधन के पहले कोशिकाओं के बाह्य तरल पदार्थ जैसा लगता है. अंतिम स्राव: घुसी हुई नलिकाएं लार में बिकारबोनिट आयन डाल सकती हैं. साथ ही, धारीदार नलिकाएं (उनके सोडियम पंप के माध्यम से) अंतर्द्रव से सोडियम और क्लोराइड आयनों को हटाती हैं और सक्रिय रूप से इसमें पोटेशियम आयन पंप करती हैं.

नोट्स[संपादित करें]

  1. एमसीजी में शरीर रचना विज्ञान 6/6ch4/s6ch4_6
  2. क्रिस्चन स्टार्केनमैन, बेनेडिक्ट ले कालवे, वैन निकलस, इसैबेल कैयेक्स, सैबिन बेकुशी, और मरियम ट्रोकैज़. फलों और सब्जियों से सिस्टीन-एस-कान्ज्युगेट की घ्राण बोध. जे. एग्रिक. खाद्य रसायन, 2008; 56 (20): 9575-9580 डीओआई (DOI): 10.1021/jf801873h
  3. मार्कोन, एम्. एफ. (2005). "खाने योग्य पक्षी के घोंसले की विशेषताएं पूर्व के कैवियार ." फ़ूड रिसर्च इंटरनैशनल 38:1125–1134. doi:10.1016/j.foodres.2005.02.008 12 नवम्बर 2007 को पुनःप्राप्त सार
  4. Maton, Anthea; Jean Hopkins, Charles William McLaughlin, Susan Johnson, Maryanna Quon Warner, David LaHart, Jill D. Wright (1993). Human Biology and Health. Englewood Cliffs, New Jersey, USA: Prentice Hall. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-13-981176-1. 
  5. जोरमा टेनोवुओ: लार में एंटी-माइक्रोबियल एजेंट्स-प्रोटेक्शन फॉर द होल बॉडी. चिकित्सकीय अनुसंधान के जर्नल 2002, 81(12):807-809
  6. "बर्ड फ्लू के लिए लार के फाहे मल नमूनों की तुलना में अधिक कारगर" जर्मन प्रेस एजेंसी दिसंबर 11, 2006 नवंबर 13 2007 को पुनःप्राप्त
  7. "Mask Care - Have a clear view every dive". The Scuba Doctor. The Scuba Doctor. http://www.scubadoctor.com.au/care-mask.htm. अभिगमन तिथि: February 15, 2010. 
  8. "Techniques for Cleaning Acrylic". Golden Artist Colors. http://www.goldenpaints.com/justpaint/jp5article2.php. अभिगमन तिथि: 2008-09-12. 
  9. एमसीजी में शरीर रचना विज्ञान 6/6ch4/s6ch4_7
  10. Walter F., PhD. Boron (2003). Medical Physiology: A Cellular And Molecular Approaoch. Elsevier/Saunders. pp. 1300. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-4160-2328-3.  में पृष्ठ 928

संदर्भ[संपादित करें]

  • Venturi, S.; Venturi, M. (2009). "Iodine in evolution of salivary glands and in oral health". Nutrition and Health 20 (2): 119–134. PMID 19835108. 
  • Bahar, G; Feinmesser, R; Shpitzer, T; Popovtzer, A; Nagler, RM (2007). "Salivary analysis in oral cancer patients: DNA and protein oxidation, reactive nitrogen species, and antioxidant profile". Cancer 109 (1): 54–59. doi:10.1002/cncr.22386. PMID 17099862. 
  • "Peroxidase-catalysed iodotyrosine formation in dispersed cells of mouse extrathyroidal tissues". J Endocrinol. 2: 159–165. 1985. 
  • Banerjee, RK; Datta, AG (1986). "Salivary peroxidases". Mol Cell Biochem 70 (1): 21–29. PMID 3520291. 
  • "Radioiodine penetration through intact enamel with uptake by bloodstream and thyroid gland". J Dent Res 5: 728–733. 1951. 
  • "Use of radioactive iodine as a tracer in the Study of the Physiology of teeth". Science 106. 1947. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]