बुलन्द दरवाज़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(बुलंद दरवाज़ा से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
बुलन्द दरवाजा़

बुलन्द दरवाज़ा, भारत के उत्तर प्रदेश प्रांत में आगरा शहर से ४३ किमी दूर फतेहपुर सीकरी नामक स्थान पर स्थित एक दर्शनीय स्मारक है। इसका निर्माण अकबर ने १६०२ में करवाया था। बुलन्द शब्द का अर्थ महान या ऊँचा है। अपने नाम को सार्थक करने वाला यह स्मारक विश्व का सबसे बडा़ प्रवेशद्वार है। हिन्दू और फारसी स्थापत्य कला[1] का अद्भुत उदाहरण होने के कारण इसे "भव्यता के द्वार" नाम से भी जाना जाता है।[2]

अकबर द्वारा गुजरात पर विजय प्राप्त करने की स्मृति में बनवाए गए इस प्रवेशद्वार के पूर्वी तोरण पर फारसी में शिलालेख अंकित हैं जो १६०१ में दक्कन पर अकबर की विजय के अभिलेख हैं। ४२ सीढ़ियों के ऊपर स्थित बुलन्द दरवाज़ा ५३.६३ मीटर ऊँचा और ३५ मीटर चौडा़ है। यह लाल बलुआ पत्थर से बना है जिसे सफेद संगमरमर से सजाया गया है। दरवाजे के आगे और स्‍तंभों पर कुरान की आयतें खुदी हुई हैं। यह दरवाजा एक बड़े आँगन और जामा मस्जिद की ओर खुलता है। समअष्टकोणीय आकार वाला यह दरवाज़ा गुम्बदों और मीनारों से सजा हुआ है।

दरवाजे़ के तोरण पर ईसा मसीह से संबंधित कुछ पंक्तियाँ लिखी हैं जो इस प्रकार हैं: "मरियम के पुत्र यीशु ने कहा: यह संसार एक पुल के समान है, इस पर से गुज़रो अवश्य, लेकिन इस पर अपना घर मत बना लो। जो एक दिन की आशा रखता है वह चिरकाल तक आशा रख सकता है, जबकि यह संसार घंटे भर के लिये ही टिकता है, इसलिये अपना समय प्रार्थना में बिताओ क्योंकि उसके सिवा सब कुछ अदृश्य है" बुलंद दरवाज़े पर बाइबिल की इन पंक्तियों की उपस्थिति को अकबर को धार्मिक सहिष्णुता का प्रतीक माना जाता है।[3][4][5]

महत्वपूर्ण जानकारियाँ[संपादित करें]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "बुलंद दरवाज़ा" (अंग्रेज़ी में). मूल (एचटीएमएल/प्रकाशक=भारतऑनलाइन) से 7 फ़रवरी 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १९ मार्च २००९. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. "Fatehpur Sikri". Encyclopaedia Britannica. मूल से 2 जुलाई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 जुलाई 2020.
  3. "बुलंद दरवाज़ा" (अंग्रेज़ी में). मूल (एचटीएमएल/प्रकाशक=इंडिप्लेसेज़) से 5 नवंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १९ मार्च २००९. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  4. "prateek to Visit in India: Buland Darwaza". India Travel. मूल से 5 November 2014 को पुरालेखित.
  5. There is another memorial gate called the "Buland Darwaza" at the Dargah Sharif in Ajmer, Rajasthan, "Historical Monuments". Mission Sarkar Gharib Nawaz. मूल से 29 January 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 January 2015., and another in Hyderabad near the Golconda Fort.[कृपया उद्धरण जोड़ें]