दीवाने

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दीवाने
दीवाने.jpg
दीवाने का पोस्टर
निर्देशक हैरी बवेजा
निर्माता परमजीत बवेजा
पटकथा करण राज़दान
अभिनेता अजय देवगन,
उर्मिला मातोंडकर,
महिमा चौधरी,
परेश रावल,
गुलशन ग्रोवर,
शिवाजी साटम
संगीतकार संजीव-दर्शन[1]
प्रदर्शन तिथि(याँ) 11 अगस्त, 2000
देश भारत
भाषा हिन्दी

दीवाने 2000 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन हैरी बवेजा ने किया और इसमें दोहरी भूमिकाओं में अजय देवगन, उर्मिला मातोंडकर और महिमा चौधरी प्रमुख कलाकार है।

संक्षेप[संपादित करें]

विशाल (अजय देवगन), एक बहुत मेहनती अधिकारी है जो अपने परिवार की देखभाल करता है। वह सपना (उर्मिला मातोंडकर) से प्यार करता है। उसके चाचा लेखराज (परेश रावल), विशाल को मारने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि वह खुद अपराधी हैं जिसका विशाल पर्दाफाश करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन वह यह नहीं जानता कि उसके चाचा अपराधी हैं और उनका बहुत सम्मान करता है। फिर एक डकैती होती है और अरुण (अजय देवगन) डाकू होता है जो विशाल का हमशक्ल होता है। बाद में जब विशाल कमिश्नर (शिवाजी साटम) को अरुण और उसका हमशक्ल होने के बारे में बता रहा था, तब उसे लेखराज के बेटे ने गोली मार दी। फिर विशाल कोमा में चला जाता है और कमिश्नर अरुण के साथ एक योजना बनाता है। वह उसे दुनिया की नजरों में विशाल की तरह पेश करते हैं ताकि अपराधियों को विशाल का डर रहे।

जब कमिश्नर अरुण के साथ बात कर रहे थे, तो सपना आती है और आयुक्त अरुण से छुपने को कहता है। जब सपना आती है तो अरुण को पहली नजर में ही उससे प्यार हो जाता है। तब कमिश्नर विशाल के परिवार को बताते हैं कि अरुण विशाल है। अरुण के दो दोस्त, पूजा (महिमा चौधरी) (जो अरुण से प्यार करती है लेकिन अरुण उसे प्यार नहीं करता), और ओके (जॉनी लीवर) हैं। पूजा रोती है और अदम्य ढंग से कमिश्नर से कहती है कि उसे अरुण का ठिकाना बताए। समय बीतता है और विशाल कोमा से वापस आ जाता है। सपना हैरान हो जाती है और अरुण से नफरत करने लगती है क्योंकि वह विशाल नहीं है और उसने उसे नहीं बताया था। फिर जैसे-जैसे समय बीतता है, अरुण वापस आता रहता है क्योंकि विशाल को अपराधियों और सपना पर ध्यान केन्द्रित करने की आवश्यकता होती है इसलिए वह अरुण को सपना की देखभाल करने के लिए कहता है। सपना फिर अरुण से प्यार करने लगती है। तब पूजा को पता चलता है कि अरुण सपना से प्यार करता है और पूजा का दिल टूट जाता है। सपना अरुण के पास आती है और उससे पूछती है कि उसे क्या करना चाहिए। वह उसे बताता है कि वह उसके लायक नहीं है लेकिन है। विशाल और सपना की शादी की व्यवस्था होती है और कमिश्नर को पता चला कि विशाल का चाचा वही है जो शहर को आतंकित कर रहा है। फिर चाचा ने विशाल को गोली मारने की कोशिश में अरुण को गोली मार दी। उसके चाचा और उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया जाता है और अरुण बच जाता है। जैसे ही वह जा रहा होता है, उसे विशाल ने रोका और बताया कि वह सपना के बिना क्यों जा रहा है। तब विशाल ने अरुण और सपना को एकजुट किया। अंत में, विशाल अपने रास्ते चला जाता है, और ऐसा पूजा भी करती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत संजीव-दर्शन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."ऐ दिल इतना बता दे" (महिला)जसपिंदर नरूला5:39
2."ऐ दिल इतना बता दे" (पुरुष)हरिहरन5:36
3."चुराओ ना दिल"कविता कृष्णमूर्ति, उदित नारायण6:13
4."दीवाने प्यार के हैं हम"कुमार सानु, उदित नारायण, अलका याज्ञिक5:16
5."इश्क दा गुंजल"जसपिंदर नरूला, सुखविंदर सिंह5:59
6."जोगिया जोगिया जोगिया"अनुराधा पौडवाल, सुखविंदर सिंह5:12
7."कयामत कयामत कयामत"सुखविंदर सिंह, अलका याज्ञिक6:17
8."सजना ने फूल मारया"जसपिंदर नरूला, सुखविंदर सिंह6:00
कुल अवधि:46:12

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Kal, Aaj Aur Kal: The Musical dynasties of Bollywood" (अंग्रेज़ी में). डी एन ए. 22 अप्रैल 2016. अभिगमन तिथि 25 दिसम्बर 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]