दिलवाले (1994 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दिलवाले
दिलवाले.jpg
दिलवाले का पोस्टर
निर्देशक हैरी बवेजा
निर्माता परमजीत बवेजा
लेखक करन राज़दान
अभिनेता अजय देवगन,
सुनील शेट्टी,
रवीना टंडन,
गुलशन ग्रोवर,
परेश रावल,
रीमा लागू,
नवनीत निशान,
सईद जाफ़री,
संगीतकार नदीम श्रवण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 4 फरवरी 1994
समय सीमा 165 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

दिलवाले 1994 की हैरी बवेजा द्वारा निर्देशित हिन्दी भाषा की प्रेमकहानी फ़िल्म है। मुख्य कलाकार अजय देवगन, सुनील शेट्टी, परेश रावल और रवीना टंडन हैं। दिलवाले 1994 की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली भारतीय फिल्मों में से एक बनी थी।

संक्षेप[संपादित करें]

यह फिल्म पागलखाने में शुरू होती है, जहां डॉक्टर अरुण सक्सेना (अजय देवगन) के अजीब मामले पर चर्चा करते हैं। उसका व्यवहार अन्य सभी मानसिक रोगियों से बहुत अलग है। अरुण अस्पताल से भागने की कोशिश करता है, लेकिन डॉक्टरों द्वारा उसे बंद कर दिया जाता है। अरुण की मां (रीमा लागू) हर रोज मंदिर के सामने बैठती है। इंस्पेक्टर विक्रम सिंह (सुनील शेट्टी) एक कठोर युवा ईमानदार पुलिसवाला है जिसे अरुण का मामला सौंपा गया है। वह अरुण की मां के पास जाता है जहां कहानी अतीत में जाती है: अरुण एक खुश उत्साही युवा व्यक्ति था जो हमेशा अपने जीवन में उत्साहित था। अपने कॉलेज के मित्र की जन्मदिन पार्टी में भाग लेने के दौरान, जब वह सपना (रवीना टंडन) को देखता है तो वह प्यार से मारा जाता है।

सपना के मामा ठाकुर (परेश रावल) पिछले 20 सालों से एक मुखौटा धारण कर रखे हैं क्योंकि उनके छिपे मकसद में सपना की संपत्ति का उपयोग करना है। पहली बार सपना सोचती हैं कि अरुण एक इश्कबाज है, लेकिन बाद में वो अपना प्यार कबूल करती है। ज्योति (नवनीत निशान) को इस पर ईर्ष्या होती है। वो अरुण को किसी भी कीमत पर चाहती है। ज्योति की हत्या कर दी जाती है। उसके साथ परिचित होने के कारण अरुण को दोषी माना जाता है। सपना उससे नफरत करना शुरू कर देती है। अरुण इस सदमे को नहीं झेल पाता और पागल हो जाता है।

विक्रम अरुण की मां से वादा करता है कि वह अरुण के न्याय के लिए लड़ेगा। विक्रम धीरे-धीरे मामा ठाकुर की अवैध गतिविधियों के लिए काँटा बन गया। उसने अरुण को अपने घर में आवास देकर रक्षा करना शुरू किया क्योंकि उसका जीवन खतरे में है। बाद में, विक्रम को पता चला कि वह लड़की जिसे वह प्यार करता था वास्तव में सपना है। अब विक्रम को अरुण को उसके प्यार से दोबारा जोड़ना है। वह हवलदार राम सिंह (जावेद ख़ान) से सपना के सामने सच्चाई उगलवाता है क्योंकि वह मौजूद था जब अरुण की मां और उसे यातना दी गई थी, लेकिन वह मामा ठाकुर के डर के कारण असहाय था। सपना ने अपनी गलती महसूस की।

विक्रम की देखभाल के कारण अरुण बेहतर हो गया। अरुण को अब अस्पताल से छुट्टी दी गई है। क्योंकि वह बेहतर होता है, अरुण को फाँसी की सजा सुनाई जाती है। लेकिन विक्रम की मदद से वो सपना के साथ मिलकर भाग जाता है। अरुण फिर प्रतिशोध मिशन पर जाता है और मामा ठाकुर के लगभग हर गोदाम को जलता है, जो कमिश्नर को परेशान करता है क्योंकि वह अरुण को आत्मसमर्पण करने के लिए राजी नहीं कर पाते। अरुण फिर पुलिस सुरक्षा वैन से मामा ठाकुर को पकड़ता है और उसे बुरी तरह पीटता है। विक्रम ने सपना को शंकर बिहारी (गुलशन ग्रोवर) से बचाया और उस जगह पर पहुंचे। तब सभी गुंडों को मार दिया जाता है। अरुण का बदला मामा ठाकुर के मृत्यु और सपना के उसके साथ फिर से आने से पूरा हो गया। क्योंकि वकील सिन्हा (अजीत वाच्छानी) गवाह बन जाता है, अरुण की सच्चाई सबके सामने आती है। लेकिन क्योंकि उसने मामा ठाकुर को मार डाला, उसे जेल जाना पड़ता है। अरुण ने जो शारीरिक और मानसिक तनाव झेला उसके कारण जेल में उसे छोटी सी सजा दी जाती है। विक्रम अरुण और सपना को अपनी गाड़ी में दूर ले जाता है, साथ ही गुप्त रूप से अपने चेहरे पर एक बहादुर मुस्कान डालता है क्योंकि वह सपना से प्यार करता था।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

गीत चार्टबस्टर थे और आज भी जनता के बीच लोकप्रिय हैं।

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत नदीम-श्रवण द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."कितना हसीन चेहरा"कुमार सानु5:53
2."जीता हूँ जिसके लिये"कुमार सानु, अलका याज्ञनिक6:09
3."मौका मिलेगा तो हम बता देंगे"उदित नारायण, अलका याज्ञनिक5:28
4."जीता था जिसके लिये"कुमार सानु, अलका याज्ञनिक8:18
5."जो तुम्हें चाहे"कुमार सानु5:29
6."सातों जनम में तेरे"कुमार सानु, अलका याज्ञनिक5:52
7."एक ऐसी लड़की थी"कुमार सानु4:05

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]