गुवाहाटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गुवाहाटी
—  महानगर  —
गुवाहाटी शहर का सिंहावलोकन
गुवाहाटी शहर का सिंहावलोकन
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य असम
महापौर
सांसद
जनसंख्या
घनत्व
808,021 (2001 के अनुसार )
• 3,935/किमी2 (10,192/मील2)
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 55 मीटर (180 फी॰)
आधिकारिक जालस्थल: guwahatimunicipalcorporation.com

निर्देशांक: 26°10′N 91°46′E / 26.17°N 91.77°E / 26.17; 91.77 गुवाहाटी असम राज्य की राजधानी शहर है। यह ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे बसा, पूर्वोत्तर भारत का मुख्य शहर है। यह नगर प्राचीन हिंदू मंदिरों के लिए भी जाना जाता है। इस आधुनिक संसार में, जहां सभी कुछ हाइटैक है, वहाँ पिकॉक द्वीप में बने सुंदर शिव मंदिर में छेनी की धार और हाथ के कौशल से वास्तुकला के आश्चर्यजनक काम की तुलना करना एक कठिन काम है। प्राचीन काल में इस महानगर को प्राग्ज्योतिश्पुर के नाम से जाना जाता था, जो की प्राचीन असम (कामरूप) की राजधानी थी। इस शहर में कामाख्या और उमानंद जैसे कई प्राचीन मंदिर मौजूद हैं जो इसे "मंदिरों के शहर" की उपाधि भी दिलाती है। दिसपुर, असम की राजधानी, नगर के सर्किट-क्षेत्र में है और यहाँ असम सर्कार की सीट है।

गुवाहाटी ब्रह्मपुत्र नदी और शिल्लोंग पठार के बीच स्थित है; इसके पूर्व दिशा में नारेंगी नगर है और इसका हवाई-अड्डा, लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई हवाई-अड्डा इसके पश्चिम दिशा में है। उत्तर गुवाहाटी, जो नदी के उत्तरी तट पर है, को इस शहर के सीमाओं में शामिल कर दिया जा रहा है। प्रसिद्ध मदन कामदेव गुवाहाटी से ३० कि.मी. (१९ मील) दूर है। गुवाहाटी नगर निगम (GMC) शहर का स्थानीय सर्कार है और ३२८ वर्ग कि.मी. के क्षेत्र पर प्रशासन करता है। वहीं, गुवाहाटी महानगर विकास प्राधिकरण (GMDA) बड़े गुवाहाटी महानगर क्षेत्र के आयोजन और विकास का विभाग है। यह पूर्वोत्तर भारत का सबसे बड़ा नगर है।

नाम[संपादित करें]

एक समय जिस नगर को प्रागज्योतिश्पुर कहा जाता था, गुवाहाटी का नाम असमीया शब्द "गुवा" (जो संसकृत शब्द "गुवक" से आता है), जिस का मतलब है "सुपारी", और "हाटी", जिस का मतलब है "पंक्ति", से आता है। इसका पूरा मतलब आता है "सुपारी की पंक्ति"।

इतिहास[संपादित करें]

गुवाहाटी के मिथक और इतिहास कई हजारों सालो की है। हालांकि शहर की शुरुआत की तारीख अज्ञात है, महाकाव्यों, पुराणों और अन्य परंपरागत इतिहास में संदर्भ, कई मान कि यह एशिया के प्राचीन शहरों में से एक का नेतृत्व करता है। उत्कीर्ण लेख संबंधी स्रोतों में गुवाहाटी को कई प्राचीन राज्यों की राजधानियों माना गया है। यह 'पौराणिक राजा नरकासुर और महाभारत के अनुसार भगदत्त् की राजधानी था। देवी कामाख्या के प्राचीन सक्ति मंदिर नीलाचल पहाड़ी (भी तांत्रिक वज्र्रयाना और बौद्ध धर्म के महत्वपूर्ण स्थान्), प्राचीन और अद्वितीय ज्योतिषीय मंदिर चईत्राच्हल पाहार् में स्थित नव्ग्रह, और वशिथ और अन्य स्थानों में पुरातात्विक बनी हुई है में स्थित शहर के प्राचीन पौराणिक दावे का समर्थन पिछले। आम्बारी खुदाई 6 वीं शताब्दी ई. के शहर का पता लगाने. शहर के अलग - अलग समय अवधि में (यानी प्रकाश के पूर्व) प्रगाज्योतिस्पुर् और दुर्जोय् के रूप में जाना जाता था और वर्मन और कामारुपा राज्य के पाला राजवंशों के तहत राजधानी थी। उआन जान ग् द्वारा विवरण है कि सबसे प्रभावशाली वर्मन राजा भास्कर वर्मन (7 वीं शताब्दी ई.) के दौरान, यह शहर 19 किमी फैला है और शायद जो अधिकारियों के जानकार थे साथ अपने मजबूत नौसैनिक बल (नौकाओं - तीस हज़ार युद्ध के लिए प्रमुख आधार था हिंद महासागर से चीन के लिए समुद्री मार्गों - उआन जान ग्)। शहर पाला राजवंश के शासकों के अधीन 10 - 11 वीं शताब्दी ई. तक असम की राजधानी के रूप में बने रहे। आम्बारी में खुदाई और ईंट की दीवार और घरों में उपस्थित कपास विस्वविदाल्य् सभागार के निर्माण के दौरान खुदाई का सुझाव है कि यह 9 11 वीं शताब्दी ई. तक आर्थिक और सामरिक महत्व के साथ महान आकार का एक शहर था।

उद्योग व व्यवसाय[संपादित करें]

गुवाहाटी असम का महत्त्वपूर्ण व्यापार केंद्र तथा बंदरगाह है। पूर्वोत्तर का प्रवेश द्वार गुवाहाटी आसपास के क्षेत्र की व्यवसायिक गतिविधियों का केन्द्र है। इसे विश्व का सबसे बड़ा चाय का बाज़ार माना जाता है। यहाँ एक तेलशोधन संयंत्र और सरकारी कृषि क्षेत्र है तथा उद्योगों में चाय तथा कृषि उत्पादों का प्रसंस्करण, अनाज पिसाई तथा साबुन बनाना हैं। यहाँ कोई अन्य बड़े उद्योग नहीं हैं। लगभग 17 प्रतिशत आबादी उद्योग, व्यापार तथा वाणिज्य में लगी हुई है तथा उद्योगों पर राजस्थान से आए मारवाड़ियों का एकाधिकार है।

संस्कृति[संपादित करें]

गुवाहाटी की आबादी मिलीजुली है, जिसमें असमी, बंगाली, पंजाबी, बिहारी, नेपाली, राजस्थानी तथा बांग्लादेशी शामिल हैं। इसके अलावा यहाँ सारे पूर्वोत्तर भारत के आदिवासी समुदायों के लोग भी बसते हैं। यहाँ गुवाहाटी विश्वविद्यालय (स्थापना 1948), अर्ल लॉ कॉलेज, राज्य उच्च न्यायालय तथा अनेक हिन्दू तीर्थस्थल हैं।

मनोरंजन[संपादित करें]

गुवाहाटी खेलों की दृष्टि से भी महत्त्वपुर्ण स्थान रहा है। गुवाहाटी में अनेक स्टेडियम स्थित है, यहाँ 2007 में 33 वें राष्ट्रीय खेल आयोजित हुऐ थे।

परिवहन[संपादित करें]

गुवाहाटी में हवाई अड्डा और छोटी तथा बड़ी लाइन के रेलमार्ग हैं। बोरझार हवाई अड्डा शहर से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नगर पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के साथ भली-भाँति जुड़ा हुआ है। राज्य परिवहन निगम की बसों के अलावा निजी बसें तथा टैक्सियाँ भी उपलब्ध हैं। वृहत्तर गुवाहाटी की नगरयोजना में 262 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र शामिल है।

वायु मार्ग[संपादित करें]

गुवाहाटी से 18 किलोमीटर दूर बोरझार में स्थित लोकप्रिय गोपीनाथ बरदलै अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र निकटतम हवाई अड्डा है। गुवाहाटी तक आने वाले सभी अंतर्राष्ट्रीय एवं आंतरिक विमानों के चलते यह हवाई अड्डा भारत का ग्यारहवाँ सबसे कार्यरत हवाई अड्डा है। इस हवाई अड्डे से दैनिक और साप्ताहिक विमान दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, विशाखापत्तनम, बेंगलुरु, हैदराबाद, अहमदाबाद, जयपुर, कोच्ची, बैंकॉक, सिंगापुर, ढाका, पारो, काठमांडू, कुआला लम्पुर, हनोई और यांगून जैसे महत्वपूर्ण लक्ष्यों तक उपलब्ध हैं।

रेल मार्ग[संपादित करें]

गुवाहाटी पूर्वोत्तर सीमान्त रेलवे के अंदर आता है, जिसका मुख्यालय नगर के उत्तर-पश्चिम दिशा में नीलाचल पहाड़ी के पास मालिगांव में है। इस नगर में और तीन रेलवे स्टेशन हैं - यात्री और माल-सेवा के लिए कामख्या रेलवे स्टेशन, माल सेवा के लिए नई गुवाहाटी रेलवे स्टेशन (नुनमाटी के पास) और अज़रा रेलवे स्टेशन। गुवाहाटी को दुसरे प्रमुख शहरों तक जोड़ने वाले नियमित ट्रेन उपलब्ध हैं। राजधानी एक्सप्रेस, पूर्वोत्तर संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, ब्रह्मपुत्र मेल, कामरूप एक्सप्रेस, पूर्वोत्तर एक्सप्रेस, सरायघाट एक्सप्रेस और गरीबरथ गुवाहाटी से और तक आने-जाने वाले को महत्वपूर्ण ट्रेन हैं। भारत में सबसे लंबे राह वाला ट्रेन, विवेक एक्सप्रेस, जो उच्चतर असं के डिब्रूगढ़ नगर से शुरू होती है और भारत के सब से दक्षिणी स्थान कन्याकुमारी तक जाती है, गुवाहाटी से हो कर गुज़रती है।[1]

सड़क मार्ग[संपादित करें]

शहर के अंदर के प्रचलित सड़को की कूल लंबाई 218 कि॰मी॰ (715,000 फीट) है। राष्ट्रीय हाइवे २७ गुवाहाटी को पश्चिम बंगाल, बिहार और बाकी के भारत से जोड़ती है। यह हाईवे गुवाहाटी को असम के बराक घाटी में स्थित सिल्चर से और मेघालय, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के राज्यों से भी जोड़ता है। पश्चिम बंगाल के सेवोके से शुरू होने वाली राष्ट्रिय हाईवे १७ जलुकबारी में ख़त्म होती है और गुवाहाटी को धुबरी और कूच बिहार के मुख्य नगरों से जोड़ती है।

राष्ट्रिय हाइवे १५ और इसके माध्यमिक सड़कें, जो ब्रह्मपुत्र नदी के दो तटों से हो कर गुज़रते हैं, गुवाहाटी को उच्चतर असम के शहर तेज़पुर, जोरहाट और डिब्रुगढ़, और अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड के राज्यों से जोड़ते हैं। सार्वजनिक परिवहन नगर में विकसित है। बस गुवाहाटी का मुख्य परिवहन का साधन है।

स्मारक एवं दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

गुवाहाटी नगर का दृश्य

कामाख्या मंदिर[संपादित करें]

देश के प्रत्येक मंदिर की भांति इस मंदिर का भी अपना महत्व है। कहा जाता है कि सती पार्वती ने अपने पिता द्वारा अपने पति, भगवान शिव का अपमान किए जाने पर हवन कुंड में कूदकर अपनी जान दे दी थी। भगवान शिव को आने में थोड़ी देर हो गई, तब तक उनकी अर्धांगिनी का शरीर जल चुका था। उन्होंने सती का शरीर आग से निकाला और तांडव नृत्य आरंभ कर दिया। अन्य देवतागण उनका नृत्य रोकना चाहते थे, अत: उन्होंने भगवान विष्णु से शिव को मनाने का आग्रह किया। भगवान विष्णु ने सती के शरीर के 51 टुकड़े कर दिए और भगवान शिव ने नृत्य रोक दिया। कहा जाता है कि सती की योनि (सृजक अंग) गुवाहाटी में गिरी। यह मंदिर देवी की प्रतीकात्मक ऊर्जा को समर्पित है।

गुवाहाटी से 7 कि॰मी॰ दूर पश्चिम में नीलाचल हिल पर स्थित यह मंदिर असम की वास्तुकला का एक उदाहरण है, जिसका गुम्बद मधुमक्खियों के छत्ते की भांति है। यहां देवी को बकरे की बली दी जाती है।

यहां पूरी धार्मिक श्रद्धा और विश्वास से मुख्य रूप से दो त्यौहार मनाए जाते हैं। जून/जुलाई माह के अंत में पृथ्वी के मासिक चक्र की समाप्ति पर अम्बूची पर्व का आयोजन किया जाता है। सितंबर में मनासा पर्व के दौरान श्रद्धालु पारंपरिक वेशभूषा में नृत्य करके देवी से दुआ मांगते हैं।

नवग्रह मंदिर[संपादित करें]

गुवाहाटी शहर की जीवनरेखा- ब्रह्मपुत्र नदी

चित्राचल हिल पर स्थित यह मंदिर नवग्रहों को समर्पित है, क्योंकि देश में नवग्रहों का बहुत महत्व है। माना जाता है कि ये ग्रह लोगों के भाग्य को प्रभावित करते हैं अत: उन्हें भगवान माना जाता है और उनकी पूजा की जाती है।

उमानन्दा मंदिर[संपादित करें]

नदी के बीच में पिकॉक हिल पर स्थित यह एक सुंदर मंदिर है। भगवान शिव के इस मंदिर का निर्माण 1594 में हुआ था। इस मंदिर में जाने के लिए आपको नाव से जाना पड़ेगा, जो प्रात: 7.00 बजे से सायं 5.30 बजे तक चलती हैं।

वशिष्ठ आश्रम[संपादित करें]

यह आश्रम वशिष्ठ मुनि की स्मृति में बना है, जो एक प्रसिद्ध संत और विचारक थे। इन्होंने महान धर्मग्रंथ रामायण की रचना की थी।

असम जू एवं बॉटनिकल गार्डन्स[संपादित करें]

असम के चिड़ियाघर में उन जानवरों को साक्षात देखिए, जिन्हें आप केवल टी.वी. चैनलों पर देख पाते हैं। इस चिड़ियाघर में भारतीय और अफ्रीकी गैंडे, सफेद शेर, चीते और पूर्वोत्तर भारत में पाई जाने वाली पक्षियों की कुछ दुर्लभ प्रजातियां देखने को मिलती है।

शंकरदेव कलाक्षेत्र[संपादित करें]

शंकरदेव कलाक्षेत्र असम का सांस्कृतिक संग्रहालय है। यह गुवाहाटी शहर के पंजाबाड़ी क्षेत्र में स्थित है।

हाजो[संपादित करें]

कुछ लोगों के अनुसार गुवाहाटी से 27 कि॰मी॰ दूर हाजो नामक स्थान पर ही भगवान बुद्ध ने निर्वाण प्राप्त किया था।

पाव मक्का मस्जिद[संपादित करें]

"पाव" का अर्थ है "एक चौथाई" - और ऐसा विश्वास है कि यह मस्जिद मक्का स्थित मुख्य मस्जिद के एक चौथाई के बराबर पवित्र है।

जनसंख्या[संपादित करें]

2001 की जनगणना के अनुसार गुवाहाटी शहर की जनसंख्या 8,08,021 है।

  1. "Public Transport in Guwahati". guwahationline.in. 17 October 2015. मूल से 17 अक्तूबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 October 2015.