खड्ग प्रसाद शर्मा ओली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
श्रीमान्
खड्ग प्रसाद शर्मा ओली
KP Oli.jpg
पूर्वा धिकारी सुशील कोइराला

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
15 फरबरी 2018
राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी
पद बहाल
12 अक्टूबर 2015 – 4 अगस्त 2016
राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी
पूर्वा धिकारी सुशील कोइराला
उत्तरा धिकारी पुष्पकमल दाहाल

नेपाल के उप प्रधान मंत्री
पद बहाल
11 फरवरी 2014 – 10 अक्टूबर 2015

जन्म 22 फ़रवरी 1952 (1952-02-22) (आयु 66)
तेर्हथुम जिल्ला, नेपाल
राजनीतिक दल कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ नेपाल (यूनिफाइड मार्क्सिस्ट –लेनिनिस्ट)
जीवन संगी राधिका शाक्य
धर्म हिन्दू धर्म
जालस्थल kpsharmaoli.com

खड्ग प्रसाद शर्मा ओली (जन्म :२२ फरवरी १९५२) नेपाल के ४१ वें प्रधान मंत्री हैं।[1] ओली इस से पहले १२ अक्टूबर २०१५ से २४ जुलाई २०१६ तक इस पद पर रहे थे । ओली नेपाल में के० पी० ओली के नाम से प्रसिद्ध हैं। नेपाल के नए संविधान के अंतर्गत ओली पहले प्रधान मंत्री बने। ओली व्यंग्यात्मक उखान टुक्कामेंं प्रवीण हैं। ओलीटिक्स शब्दावली यिनके राजनैतिक दृढता एवम् राष्ट्रिय प्रतिज्ञाके खातिर चयन किया था। [2][3][4]

शिक्षा[संपादित करें]

इन्होंने कक्षा १० (स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट ) वर्ष १९७१ ई ० ( वि० सं० -२०२८ ) में उत्तीर्ण की। पढ़ने में कमजोर तथा राजनीति में अति सक्रिय होने के कारण आगे की औपचारिक शिक्षा ग्रहण नहीं कर सके।। ओली को हिंदी और नेपाली भाषाओँ की पुस्तकें पढ़ने में रूचि है।

राजनीतिक सफर[संपादित करें]

जुलाई २०१४ में ओली कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (यूनिफाइड मार्क्सिस्ट -लेनिनिस्ट ) के अध्यक्ष चुने गए। यह अधिकारी कैबिनेट में १९९४-१९९५ में गृह मंत्री बने। वर्ष २००६ में अंतरिम सरकार में उप प्रधान मंत्री व विदेश मंत्री बने।[5] अक्टूबर २०१५ में सुशील कोइराला को पराजित कर नेपाल के प्रधान मंत्री बने। ओली को झापा जिले के कई संसदीय क्षेत्रों से साल 1991, 1994 और 1999 में संसद का सदस्य चुना गया। इसी जिले से 1966 में उन्होंने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। इन्होने सीपीएन-यूएमएल के उम्मीदवार के रूप में 2013 में संविधान सभा के चुनाव में झापा -७ सीट जीत ली। [2][6] ओली ४ फ़रवरी २०१४ को सी पी एन-यू एम एल के अध्यक्ष झलनाथ खनल को संसदीय दल के नेता के चयन में २३ मतों से पराजित कर संसदीय दल के नेता निर्वाचित हुए। [7]

प्रधानमंत्री[संपादित करें]

  • नेपाल का नया संविधान लागू होने पर ओली सुशील कोइराला को पराजित कर पहले प्रधान मंत्री बने और दिनांक १२ अक्टूबर २०१५ को प्रधान मंत्री के पद पर आसीन हुए।
  • २४ जुलाई २०१६ को अल्पमत में आ जाने पर राष्ट्रपति को अपना त्यागपत्र सौंप दिया। [8]

नेपाल में जनतंत्र[संपादित करें]

प्रथम बार नेपाल में लोकतान्त्रिक संविधान लागू होने पर सी पी एन -यू एम एल के उम्मीदवार के पी शर्मा ओली नेपाल के प्रधान मंत्री निर्वाचित हुए। ओली को १४ राजनीतिक दलों के ३३७ सांसदों और एक निर्दलीय संसद का समर्थन प्राप्त था। इस निर्वाचन में ओली को ३३८ और सुशील कोइराला को २४९ मत प्राप्त हुए। [9]

सन्दर्भ[संपादित करें]