भीमसेन थापा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
श्री मुख्तियार जर्नेल

भीमसेन थापा

भीमसेन थापा

भीमसेन थापा, नेपाल के मुख्तियार (प्रधानमन्त्री) १८०६ से १८३७ तक


कार्यकाल
१८०६ – १८३७
शासक गीर्वाणयुद्ध विक्रम शाह
राजेन्द्र विक्रम शाह
पूर्व अधिकारी रणबहादुर शाह
मुख्तियारको रूपमा
उत्तराधिकारी रणजंग पाण्डे

जन्म अगस्त 1775
बोर्लाङ के पीपल थोक गाउँ, गोरखा जिल्ला, नेपाल
मृत्यु 5 अगस्त 1839(1839-08-05) (उम्र 64)
भीम मुक्तेश्वर, काठमाडौं, नेपाल
राष्ट्रीयता नेपाली
संबंधी भतिजी महारानी ललित त्रिपुरा सुन्दरी, भतिजा प्र.म. माथवरसिंह थापा, नाति जंगबहादुर राणा
संतान ललिता देवी पाण्डे, जनक कुमारी पाण्डे, र दीर्घ कुमारी पाण्डे[1]
Military service
निष्ठा Flag of Nepal.svg नेपाल
शाखा/सेवा नेपाली सेना
पद नेपाल के प्रधान सेनापति
कमाण्ड नेपालका सेनापति
युद्ध नेपाल अंग्रेज युद्ध
पारितोषिक राष्ट्रिय विभूति

भीमसेन थापा नेपालके सर्वाधिक लम्बे समय तकके मुख्तियार (प्रधानमन्त्री) हैं। भण्डरखाल पर्वके बादमें उन्होंने सारे उच्च अधिकारियोंकी हत्या करते हुए थापा वंशकी उदय कराया। [2]


बचपना[संपादित करें]

भीमसेन थापाका जन्म वि.सं. 1832 सालमे गोरखाका बोर्लाङको पीपल थोक गावमे बगाले थापा[3] क्षेत्री परिवारमे हुवा था। अमरसिंह थापा (सानुकाजी) और सत्यरूपा मायाका जेष्ठ बेटा थे।

परिवार[संपादित करें]

पिता सरदार अमरसिंह और माता सत्यरूपा के ज्येष्ठ पुत्र के रूपमें उनका जन्म विक्रम सम्वत १८३२ में हुआ। [4]

वंश वृक्ष[संपादित करें]

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

वीरभद्र थापा

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

सत्यरुपा माया

 

अमरसिंह थापा

 
 
 
 
 
 
 
 

?

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

भीमसेन थापा

 

नैनसिंह थापा

 

बख्तावर सिंह थापा

 

अमृतसिंह थापा

 

रणवीर सिंह थापा

 

रणबम सिंह थापा

 

रणजावर सिंह थापा

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

? (छोरा)

 

ललिता देवी पाण्डे

 

जनक कुमारी पाण्डे

 

दीर्घ कुमारी पाण्डे

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Paudel, Punya Prasad (2006). Aatreya dekhi Paudel samma. Paudel Society for Cultural Promotion. पृ॰ 101.
  2. Pradhan 2012, पृ॰ 12.
  3. Pradhan 2012, पृ॰ 23.
  4. Pradhan 2012, पृ॰ 14.

ग्रन्थ[संपादित करें]