थापा वंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माथवरसिंह थापा, नेपालका प्रधानमन्त्री (सन् १८४३ देखि १८४५)

थापा वंश (नेपाली: 'थापा खलक') नेपाल का एक क्षत्रिय राजवंश है [1] जिसने सन् १८०६ से १८३७ तक और सन् १८४३ से १८४५ तक नेपाल पर शासन किया।[2] राणा वंश के उदय के पूर्व इस वंश ने नेपाल के शाह वंश, बस्नेत परिवार और पाँडे वंश के साथ राजनैतिक शक्ति की प्रतिस्पर्धा किया।[1] पाँडे वंश और थापा वंश राजनैतिक रूप में सदा कट्टर दुश्मन रहे।[3]

उदय[संपादित करें]

मुख्तियार भीमसेन थापा के तस्वीर

थापा वंशका उदय नेपाल दरबारके काजी भीमसेन थापाने किया जो बादमें मुख्तियार अर्थात् प्रधानमन्त्री भी बनगए। [4] ये परिवार ने सत्ता में आने के बाद नेपालके राजपरिवार शाह वंशको कब्जेमें रखा था। ये परिवार बगाले थापा घरानेके सदस्य थे जो कुछ समय गण्डकी क्षेत्रमें शासक थे। मुख्तियार भीमसेन महाराजा जशोधर (धर्मराज) थापा क्षत्रीके २५ वें वंशज है। [5] भीमसेनने राजा रण बहादुर शाहके सल्लाहकार बनते हुए उनके बोहोत खास दोस्त बनगए। भीमसेनने राजा रणबहादुरको अपने वैचारिक मार्गमें रखा और उनसे सिफारिश निकलवाया। राजा रणबहादुरके हत्या पश्चात भीमसेनने भण्डरखाल पर्व (हत्याकाण्ड) मच्चाया जिसमें ५५ उच्च अधिकारीयोंकी हत्या कि गई और क्षत्रिय थापा नेपालके सत्तामेंं शीर्ष स्थानमें आगए। [6] भीमसेननें खुदको मुख्तियार (प्रधानमन्त्री), अपनी भतिजी महारानी ललित त्रिपुरा सुन्दरीको राजमाता एवम् नायबी बनाया और ३१ साल तक भीमसेन तानाशाह शासक बनगए। [6]

थापावंशके दरबार[संपादित करें]

बाग दरबार मुख्तियार भीमसेन थापा के निजी निवास

थापा वंशने पहिले थापाथली दरबार और बादमें बाग दरबारमें निवास किया। बाग दरबारके निर्माण मुख्तियार (नेपालके प्रधानमन्त्री) भीमसेन थापाने किया था। [7]

थापाथली दरबार

बागदरबारमे जनरल बाग और विभिन्न मन्दिर एवम् पोखरी थे। उक्त दरबार थापावंशको बादमें पुनः सत्तामें आनेके बाद प्रधानमन्त्री माथवरसिंह थापाने वापस लिया। [8] छाउनी राष्ट्रिय संग्रहालय किसी वक्तमें मुख्तियार भीमसेनके पूर्व निवास था। उक्त संग्रहालयमे काश्य चित्र, पौभा चित्र और हतियार है जिसमें फ्रान्सेली राजा नेपोलियन बोनापार्टद्वारा उपहार दिया हुआ तलवार भी सामिल है। [9]

छाउनी राष्ट्रिय संग्रहालय, मुख्तियार भीमसेनको पूर्व निवास

चित्रसंग्रह[संपादित करें]

सन्दर्भ साम्रगी[संपादित करें]

नोट[संपादित करें]

  1. Joshi & Rose 1966, पृ॰ 23.
  2. Joshi & Rose 1966, पृ॰ 25.
  3. "Thapa and Pande family animosity". पृ॰ 26.
  4. Pradhan 1966, पृ॰प॰ 22-23.
  5. थापा वंशावली; लेखक: योगी नरहरिनाथ
  6. Pradhan 2012, पृ॰ 16.
  7. JBR, PurushottamShamsher (2007). Ranakalin Pramukh Atihasik Darbarharu [Chief Historical Palaces of the Rana Era] (नेपाली में). Vidarthi Pustak Bhandar. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9994611027. अभिगमन तिथि 12 May 2017.
  8. "Baghdurbar – The Tiger Palace | The Tara Nights". thetaranights.com. अभिगमन तिथि 12 May 2017.
  9. http://www.fishtail.org/index.php?option=com_page&task=view&id=371

पुस्तक[संपादित करें]