राणा वंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
श्रृंखला का भाग
नेपाल का इतिहास
Emblem of Nepal
किराँत काल
लिच्छवि काल
मल्ल काल
शाह काल
(राणा काल)
नेपाल का जनआन्दोलन १९९०
नेपाल का जनयुद्ध
नेपाल का जनआन्दोलन २००६
वर्तमान नेपाल
रुपरेखा
नेपाल प्रवेशद्वार
राणा वंशको निशानछाप (१८४६ - १९५१)

राणा वंश नेपाल का एक क्षत्रिय शासक वंश है।[1] सन् १८४६ से १९५१ तक नेपाल अधिराज्य में शाह वंश ने नाम मात्र के शासक बनाकर निरंकुश शासन जमाया था। [2][3] सन् १९५१ सालके क्रान्तिसे राणा शासनका अन्त्य हो गया और फिरसे राजा त्रिभुवन शक्तिशाली बनगए। [4] इस वंश को काजी बालनरसिंह कुँवर के पुत्र जंगबहादुर राणा ने स्थापित किया था। थापा वंशके माथवरसिंह थापाकी हत्या करने के पश्चात कोत पर्व और भण्डरखाल पर्व दोनो हत्याकांड के बाद कुँवर परिवार का उदय हुआ था। बाद में उन्होनें कुँवर से राणा नाम लिखना सुरु किया था।

स्रोत[संपादित करें]

  1. Greater Game: India's Race with Destiny and China by David Van Praagh
  2. Dietrich, Angela (1996). "Buddhist Monks and Rana Rulers: A History of Persecution". Buddhist Himalaya: A Journal of Nagarjuna Institute of Exact Methods. http://ccbs.ntu.edu.tw/FULLTEXT/JR-BH/bh117536.htm. अभिगमन तिथि: 17 September 2013. 
  3. Lal, C. K. (16 February 2001). "The Rana resonance". Nepali Times. http://nepalitimes.com/news.php?id=8741. अभिगमन तिथि: 17 September 2013. 
  4. Kraemer, Karl-Heinz. "Democratization and political parties in Nepal". Harvard University. http://nepalresearch.org/publications/harvard_9903.htm. अभिगमन तिथि: 2012-11-25.