काजली तीज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
काजली तीज
आधिकारिक नाम भाद्रपद कृष्ण तृतीया

काजली तीज भाद्रपद की कृष्ण तीज को में मनाई जाती है। इसे सातुड़ी या बड़ी तीज भी कहा जाता है इस दिन कन्याएं व सुहागिनें व्रत रखकर संध्या को नीमड़ी की पूजा करती हैं। कन्याएं सुन्दर,सुशील वर तथा सुहागिनें पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। वे तीज माता की कथा सुनती हैं। मन्दिरों में देवों के दर्शन करती हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]