उदगीर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
उदगीर
Udgir
उदगीर की महाराष्ट्र के मानचित्र पर अवस्थिति
उदगीर
उदगीर
महाराष्ट्र में स्थिति
निर्देशांक: 18°23′46″N 77°07′05″E / 18.396°N 77.118°E / 18.396; 77.118निर्देशांक: 18°23′46″N 77°07′05″E / 18.396°N 77.118°E / 18.396; 77.118
देश भारत
प्रान्तमहाराष्ट्र
ज़िलालातूर ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • कुल1,03,550
भाषा
 • प्रचलितमराठी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)

उदगीर (Udgir) भारत के महाराष्ट्र राज्य के लातूर ज़िले में स्थित एक तालुका है।[1][2]

शैक्षणिक विवरण[संपादित करें]

उदगीर शहर में संत तुकाराम लाॅ काॅलेज स्थापित हैं। वह स्वामी रामानंद तीर्थ मराठवाडा विद्यापीठ नांदेड और बार कौन्सिल ऑफ इंडिया के अंतर्गत आता हैं.यह शिक्षा एवं महान किले के लिये प्रसिद्ध है। शहर आज एक प्रमुख व्यापारिक केंद्र है। शहर जानवरों के बाजार के लिए भी जाना जाता है, ख़ासकर देवानी जाति के बैलों के लिए यह बाजार प्रसिद्ध है। यह शहर महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा पर स्थित है। यहाँ के शिवाजी विद्यालय, उदयगीरी विद्यालय और हवगीस्वामी विद्यालय आज पूरे देश मे अपनी अच्छी शिक्षा पद्धती के लिए जाने जाते है। भारतीय ध्वज के लिए लगने वाला सूती कपड़ा इसी शहर के खादी ग्रामोद्योग मे बनता है। इसी कपड़े से भारतीय ध्वज बनता है और देश मे हर जगह जहाँ ध्वजारोहण होता है, वहाँ यह ध्वज भेजा जाता है। इसके अलावा यहाँ साड़ी, कुर्ता-पायजामा, बेड शीट, सलवार, कुशन कवर और ढेर सारी खादी की चीज़े बनती है।

इतिहास[संपादित करें]

शाहजहाँ की मुग़ल सेना द्वारा उदगीर पर कब्जा का दृश्य।

उदगिर शहर को ऐतेहासिक महत्व प्राप्त है। शहर ८०० साल पुराने किले के लिये जाना जाता है। यह किला बहमनी शासकों ने बनाया था। शहर मराठों और निजाम के बीच हुए युद्ध के लिए भी जाना जाता है। १७५९ मे हुए इस युद्ध में पेशवा सदाशिवराव भाउ के अगुवाई मे मराठों ने निजाम को यही शिकस्त दी थी और दोनो के बीच यही संधि भी हुई थी। १९५६ तक यह शहर हैदराबाद राज्य मे था पर उसके बाद जब भाषानुसार राज्यो के पुनःनिर्माण मे यह शहर महाराष्ट्र मे सम्मिलित हो गया।अब यह शहर लातूर जिले का एक तालुका है।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

उदगीर महाराष्ट्र के लातूर जिले में स्थित एक तालुका है। यह लातूर जिले के 10 तालुकों में से एक है। उदगीर तालुका में 98 गाँव और 2 कस्बे हैं।

भारत की जनगणना 2011 के अनुसार, उदगीर तालुका में 56,806 परिवार हैं, जिनकी आबादी 3,11,066 है, जिनमें 1,61,568 पुरुष हैं और 1,49,498 महिलाएं हैं। 0-6 आयु वर्ग के बच्चों की जनसंख्या 41,456 है जो कुल जनसंख्या का 13.33% है।

उदगीर तालुका का लिंग-अनुपात लगभग 925 है जो कि महाराष्ट्र राज्य के औसत लिंग-अनुपात 929 के आसपास है। उदगीर तालुका की साक्षरता दर 68.71% है, जिसमें से 74.37% पुरुष साक्षर हैं और 62.6% महिलाएँ साक्षर हैं। उदगीर का कुल क्षेत्रफल 736.26 किमी2 है, जिसकी जनसंख्या घनत्व 422 प्रति किमी2 है।

इसकी कुल आबादी में से, 64.06% आबादी शहरी क्षेत्र में और 35.94% ग्रामीण क्षेत्र में रहती है।

उदगीर तालुका की आय का मुख्य स्रोत कृषि, दुकानों और लघु उद्योगों से आता है। यह शहर खाद्यान्नों में अपनी सूची के लिए लोकप्रिय है जो आस-पास के गांवों में उच्च अनाज फसल उत्पादन का परिणाम है।

उदगीर का किला[संपादित करें]

स्वामी उदयगीरी महाराज यह प्रभु राजा कामाजीवर्मन के दरबार में महान ऋषी थें, राजा कामाजीवर्मन यह प्रभु विष्णु के परम भक्त थें. पौराणिक ग्रंथों में उदगीर का प्राचिन नाम "उदयगिरी" हैं. ऋषी उदयगिरी महाराज एक सर्वोत्तम ऋषी थें.वह राजा कामाजीवर्मन कि सेवा करते थे. उदगीर का किला आज भी भारतीय इतिहास और भारतीय संस्कृति के बारे में बताता है। यह किला 40 फुट गहरी खाई से घिरा है, क्योंकि यह किला जमीनी स्तर पर बना है। किले में कई महल, दरबार बरामदा और उदयगिरि महाराज की समाधी है जो जमीनी स्तर से 60 फीट नीचे है। यह माना जाता है कि उदगीर किले से सीधा गहरा भूमिगत रास्ता है जो भालकी और बीदर किलों से जुड़ता है।

उदगीर का किला

आवागमन[संपादित करें]

रेल

उदगीर रेलवे स्टेशन हैदराबाद, औरंगाबाद, पुणे, मुंबई, बैंगलोर, लातूर, नांदेड़, उस्मानाबाद, काकीनाडा और तिरुपति से उपलब्ध ट्रेनों द्वारा जुड़ा हुआ है। उदगीर भारतीय रेलवे के दक्षिण मध्य रेलवे क्षेत्र के अंतर्गत आता है। यह दक्षिण मध्य रेलवे जोन के सिकंदराबाद रेलवे मंडल का हिस्सा है।

रोड

उदगीर महाराष्ट्र और आसपास के राज्यों के सभी प्रमुख गांवों और शहरों के साथ रोड़ के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। महाराष्ट्र राज्य बस सेवा जिसे आमतौर पर एसटी या महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम के रूप में जाना जाता है, दिन और रात बसों को कस्बे के भीतर और बाहर से संचालित करती है, जिससे आसान, रात भर और सुरक्षित पहुंच मिलती है। अंतर राज्य सरकार की परिवहन बसें बिदर और हैदराबाद से भी उपलब्ध हैं। मुंबई और पुणे जैसी प्रमुख जगहों से प्रतिदिन निजी बसें भी चलती हैं।

हवाई अड्डा

राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, हैदराबाद, तेलंगाना राज्य, भारत, उदगीर से सबसे निकटतम प्रमुख घरेलू और अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जोकि 225 किलोमीटर की दूरी पर है और दूसरा हवाई अड्डा लातूर में स्थित है, जोकि 80 किलोमीटर की दूरी पर है।

सरकारी दूध योजना[संपादित करें]

उदगीर ने 1978 में स्किम्ड मिल्क पाउडर प्लांट स्थापित किया है और इसकी प्रति दिन 1 लाख लीटर गाय के दूध की क्षमता है। यह उदगीर में सबसे लोकप्रिय दूध योजना में से एक है। यह दुधी हनुमान मंदिर के पास है।

इसकी रूपांतरण क्षमता 10 एम.टी. प्रतिदिन है।

नळगीर (Nalgir)[संपादित करें]

नळगीर मे हनुमान मारोती मंदिर , महादेव शिव मंदिर और बापुदेव मंदिर भी हैं.उदगीर तालुका में पवित्र नलगीर गांव स्थित है.उदगीर तालुका दक्षिण मराठवाडा प्रशासनिक विभाग में स्थापित है.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "RBS Visitors Guide India: Maharashtra Travel Guide Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Ashutosh Goyal, Data and Expo India Pvt. Ltd., 2015, ISBN 9789380844831
  2. "Mystical, Magical Maharashtra Archived 2019-06-30 at the Wayback Machine," Milind Gunaji, Popular Prakashan, 2010, ISBN 9788179914458