जॉलीग्राण्ट हवाई अड्डा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जॉलीग्रांट विमानक्षेत्र
देहरादून हवाई अड्डा
IATA: DEDICAO: VIDN
सार
विमानक्षेत्र प्रकार सार्वजनिक
संचालक भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण
स्थिति देहरादून
समुद्र तल से AMSL 1,831 फी. / 558 मी.
निर्देशांक 30°11′23″N 078°10′49″E / 30.18972°N 78.18028°E / 30.18972; 78.18028
उड़ानपट्टियाँ
दिशा लम्बाई सतह
फी. मी.
08/26 3,755 1,145 कांक्रीट

देहरादून विमानक्षेत्र देहरादून मेँ स्थित है। इसका ICAO कोडहै VIDN और IATA कोड है DED। यह एक नागरिक हवाई अड्डा है। यहां कस्टम्स विभाग उपस्थित है। इसका रनवे पेव्ड है। इसकी प्रणाली यांत्रिक नहीं है। इसकी उड़ान पट्टी की लंबाई 3700 फी. है।

वायुसेवाएं एवं गंतव्य[संपादित करें]

आधुनिकीकरण[संपादित करें]

देहरादून के जौली ग्रांट हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण और नवीनीकरण का कार्य पूरा हो गया है। हवाई अड्डे में टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण कार्य पूरा हो जाने के बाद यहां से 30 मार्च से उड़ानें फिर से शुरु हो जाएंगी। पिछले वर्ष यहां से अपनी उड़ान बंद करने के बाद अब एयर डेक्कन 30 मार्च से दिल्ली के लिए रोजाना दो उड़ानें शुरु करेगी। सूत्रों का कहना है कि आने वाले समय में दूसरी एयरलाइन्स भी यहां से अपनी उड़ानें शुरु करेंगी। जौलीग्रांट हवाई अड्डे के नवीनीकरण का कार्य एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ने पूरा किया है। अब इस हवाई अड्डे से बोंइग 737 जैसे हवाईजहाजों को उड़ाया जा सकेगा और रात के समय भी उड़ानें भरी जा सकेगी। सरकार ने हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण में 100 करोड़ रुपये खर्च किये है। हवाई अड्डे में बनाई गई नई हवाईपट्टी 7 किलोमीटर लंबी और 150 मीटर चौड़ी है। कुमाऊं के पंत नगर हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण में 75 करोड़ रुपये खर्च किये गए हैं। पिथौरागढ़ हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण के लिए विभिन्न कंपनियों से लगभग 12 आशय पत्र (ईओआईएस)भी प्राप्त हुए हैं।

बाहरी कडियाँ[संपादित करें]