सूरजदास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सूरजदास एक प्राचीन संत एवं कवि थे। इन्होने भगवान श्रीराम पर आधारित संक्षित्प्त पुस्तक रामजन्म की रचना की थी। सूरजदास कृति ‘रामजन्म’ को सन १९६६ में बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् द्वारा प्रकाशित किया गया।[1][2]

अवधी में सूरजदास कृत ‘रामजन्म’ नामक पुस्तक के सम्बन्ध में डाॅ वासुदेव शरण अग्रवाल का एक महत्वपूर्ण शोध आलेख है। डाॅ. अग्रवाल लिखते हैं, गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरितमानस की रचना 1574 ईस्वी में की थी और फिर संत सूरजदास की रचना रामजन्म का कालखंड लगभग 1470-1475 ईस्वी का बताते हैं। सुराजदास तुलसीदास के पूर्व हुए थे।[3][4][5][6][7][8][9][10][11]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Omkar Nath Verma (2008). UGC-NET/JRF/SLET 'Hindi' (Paper II). Upkar Prakashan. पृ॰ 52. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788174826244.
  2. नागरी प्रचारणी पत्रिका, वॉल्यूम 70. Nāgarīpracāriṇī Sabhā (Vārānasi, Uttar Pradesh, India). 2010.
  3. "तुलसीदास से सैकड़ा साल पहले भी अवधि में हुई थी रामकथा की रचना".
  4. "अवधी की कमाई भोजपुरी ने खाई". १२ फ़रवरी २०१२.
  5. विश्वनाथ त्रिपाठी (१९९२). प्रारंभिक अवधी का अध्ययन. रचना प्रकाशन.
  6. गणपति चन्द्र गुप्त. हिंदी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास. राजकमल प्रकाशन. पृ॰ २१६. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8180312046, 9788180312045 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).
  7. Lamābama Kamala Siṃha, Devarāja (2006). Kamala: sampūrṇa racanāem̐ : Maṇipurī bhāshā ke mahāna lekhaka kā sāhitya. Rajkamal Prakashan Pvt Ltd. पृ॰ 31. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8183610544, 9788183610544 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).
  8. विभा सिन्हा (१९८६). मध्यकालीन प्रबंधरूप (३ पृष्ठ में सूरजदस का उल्लेख मिलता हैं). अनुपम प्रकाशन.
  9. सर्वेश कुमार दुबे (१९९२). मध्यकालीन रामभक्ति में सामाजिक चेतना. आर्य प्रकाशन मंडल. पृ॰ ४८, १५८ और १५९.
  10. बिहार राष्ट्रभाषा परिषद (१९८५). परिषद् पत्रिका (खंड २५). बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्. पृ॰ ४८, १५८ और १५९.
  11. जगदीश प्रसाद पाण्डेय (२००८). अवधी ग्रथावली (खंड ३). वाणी प्रकाशन. पृ॰ ४१, ४२ और ४५. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8181439031, 9788181439031 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).