सर्वाधिकारवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सर्वाधिकारवाद वह राजनीतिक सिद्धांत है जो राज्य की शक्ति को एक ही जगह केंद्रित करने में विश्वास करता है। यह विचारधारा जनता के दैनिक जीवन के समस्त पक्षों पर पूर्ण या लगभग पूर्ण नियंत्रण स्थापित करने का समर्थन करता है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. राजनीति सिद्धांत की रूपरेखा, ओम प्रकाश गाबा, मयूर पेपरबैक्स, २०१०, पृष्ठ-२९, ISBN:८१-७१९८-०९२-९

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]