वैरामुत्तु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वैरमुत्तु
जन्म वैरमुत्तु रामस्वामी
13 जुलाई 1953 (1953-07-13) (आयु 66)
मेट्टूर, मदुरई जिला, मद्रास स्टेट, भारत[1]
आवास चेन्नई
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय गीतकार
जीवनसाथी पोनमणि वैरमुत्तु
बच्चे मदन कार्की
कपिलन वैरमुत्तु

वैरमुत्तु रामस्वामी (तमिल: வைரமுத்து) (जन्म: जुलाई 13 1953) तमिल के नामी सुकवि, गीतकार और उपन्यासकार हैं जो तमिल फिल्म उद्योग में भी काम करते हैं और तमिल साहित्य जगत में एक प्रमुख हस्ती हैं। चेन्नई के पच्चय्यप्पा कॉलेज से स्नातकोत्तर पदवी लेके उन्होंने एक अनुवादक के रूप में काम शुरू किया, जबकि वे एक प्रकाशित, प्रशस्त कवि भी थे। उन्होंने भारतीराजा द्वारा निर्देशित फिल्म निलल्गल् (छायाएं) के साथ वर्ष १९८० में तमिल फिल्म उद्योग में प्रवेश किया। अपने ४० साल के सिनिमा उद्योग में उन्होंने ७५०० से अधिक गीत और कविताएँ लिखी हैं जो बहुत लोकप्रिय हुई हैं।[2] उन्हें सात राष्ट्रीय पुरस्कार दिए गए हैं जो किसी भी भारतीय गीतकार के लिए सबसे अधिक हैं। अपने प्रचुर साहित्यिक संरचना के लिए उन्हें पद्म श्री, पद्म भूषण और देश-विदेश के संस्थानों के साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

वैरमुत्तु १३ जुलाई १९५३ को रामस्वामी और उनकी पत्नी अन्गम्माल के सुपुत्र के रूप में पैदा हुए। उनके माँ-बाप तमिलनाडु के तेनी जिला के मेट्टूर गाँव में किसान परिवार के थे। १९५७ में उनके परिवार को वैगाई नदी के दूसरी ओर पर बाँध निर्माण के कारण थेनी जिले के एक अन्य गाँव वडगुपट्टी में स्थानांतरित करने के लिए मजबूर किया गया था जिसके कारण मेट्टूर सहित १४ गाँव खाली कर दिये गए थे। इस नये परिवेश में उन्होंने अपने विद्यालयी शिक्षा के अलावा कृषि कर्म को भी अपनाया जो उनका पारिवारिक काम था।

बहुत कम उम्र से ही वैरमुत्तु को तमिल भाषा और साहित्य की ओर आकर्षित किया गया था। १९६० के द्रविड़ आंदोलन ने तमिल युवाओं पर एक पुर असर छाप छोड़ी। वे पेरियार ई।वी।रामस्वामी नायकर, 'पेररिज्नर' अण्णादुरै, कलैनर एम्. करूणानिधि, सुब्रह्मण्य भारती, भारतीदासन, कन्नदासन जैसे भाषा प्रेमी प्रमुख व्यक्तियों से प्रेरित हुये थे। उन्होंने दस साल की उम्र में कविताएं लिखना शुरू कर दिया था और अपनी किशोरावस्था से ही उन्हें अपने स्कूल में एक प्रमुख वक्ता और कवि के रूप में मानते थे। चौदह साल की उम्र में उन्होंने तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल से प्रेरित होकर वेण्पा छंद की कविताओं का एक संकलन निकाला।

शिक्षा और नौकरी[संपादित करें]

चेन्नई के पचैयप्पा कॉलेज में अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के समय ही वे प्रभावी वक्ता और कवि के रूप में प्रशंसित हुए थे । उन्होंने अपने उन्नीस वर्ष की आयु में अपनी कविताओं का प्रथम संकलन वैगरै मेगंगाल (भोर के बादल) को प्रकाशित किया था । इस किताब को महिला क्रिश्चियन कॉलेज में पाठ्यक्रम में नियल किया गया था , जो वैरमुत्तु को एक लेखक का गौरव प्रदान करती है। जिसका काम एक पाठ्यक्रम का हिस्सा था, जबकि वह अभी भी एक छात्र था। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय में तमिल साहित्य के क्षेत्र में दो साल का स्नातकोत्तर अध्ययन पूरा किया।

अपनी कालेजी शिक्षा के बाद उन्होंने १९७० के दशक में तमिलनाडु राजभाषा आयोग में अपने पेशेवर करियर कानून की पुस्तकों के अनुवादक के रूप में शुरु किया, जब वे न्यायमूर्ति महाराजन के अधीन काम करते थे । इसके साथ ही उन्होंने कविता लिखना भी जारी रखा। १९७९ में उन्होंने कविताओं का एक दूसरा संकलन निकाला, जिसका शीर्षक था तिरुत्ति एषुदिय तीरपुगल (संशोधित न्याय निर्णय)।

पारिवारिक और व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

उन्होंने एक तमिल विदुषी पोनमणि से शादी की है जो मिनाक्षी कॉलेज फॉर वीमेन के प्रोफेसर थी। उनके दो बेटे हैं - मदन कार्की और कपिलन। दोनों तमिल फिल्मों में गीतकार और संवाद लेखक के रूप में काम करते हैं । उनके दो पोते - हाइकू और मेट्टूरी हैं।

फिल्मी उद्योग[संपादित करें]

प्रथम प्रवेश और प्रारंभिक वर्ष[संपादित करें]

उनकी कविताओं को पढ़ने के बाद प्रसन्न होकर उन्हें निर्देशक पी।भारतीराजा ने अपना लिया और उन्हें गीतकार के रूप में वर्ष १९८० में फिल्म निलल्गल् (छाया) के लिए चुना। अपने कैरियर में उन्होंने जो पहला गीत लिखा, वह “पोन मालै पोषुतु” (सुनहरी संध्या) था, जिसे 'संगीत निर्देशक' इलैयाराजा ने गीतबद्ध किया था और एस. पी.बालसुब्रह्मण्यम ने गाया था। उनके द्वारा प्रकाशित किया गया पहला गीत “भद्रकाली उत्तमशीली” (इलैयाराजा द्वारा रचित) भी था, जो फ़िल्म काली से चार महीने पहले रिलीज़ हुई थी। वैरमुत्तु ने फिल्म उद्योग में पूर्णकालिक काम करने के लिए अपना अनुवादक का काम छोड़ दिया।

निलल्गल् के बाद वैरमुत्तु और इलैयाराजा ने एक सफल सहयोग शुरू किया जो आधे दशक से अधिक समय तक चली। निर्देशक भारतीराजा के साथ उनके सहयोग से कुछ प्रशंसित, प्रशस्त साउंड ट्रैक भी प्रकाशित किया जिनमे प्रमुख हैं – लैगल ओय्वदिल्लै (जो वैरमुत्तु को अपना पहला तमिलनाडु स्टेट फिल्म अवार्ड फॉर बेस्ट गीतकार जीता), कादल ओवियम्, मण वासनै, पुदुमै पेण, ओरु कैदियिन डायरी, मुदल मारियातै ((जिसने सर्वश्रेष्ठ गीतकार के लिए वैरमुत्तु को पहला राष्ट्रीय पुरस्कार मिला) और कडलोर कवितैगल। जब वे इलैयाराजा के साथ काम करते थे उस समय वैरमुत्तु ने पहली बार निर्देशक मणिरत्नम् के साथ मिलकर १९८५ में “ईदय कोइल” (ह्रदय मंदिर) चित्र के “नान पाडुं मौनरागम” गीत को पेश किया जिसने रत्नम की सफलता मौन रागम के शीर्षक के रूप में अगले वर्ष दिला दी।

भारतीराजा के साथ उनके काम के अलावा गीतकार और संगीतकार के संयोजन ने और अधिक साउंडट्रैक के साथ सफलता का स्वाद चखा, जैसे राज पारवै, निनैवेल्लाम नित्या, नल्लवनककु नल्लवन, सलंगै ओली, और सिंधु भैरवीसलंगै ओली और सिंधु भैरवी के संगीत निर्देशन से इलैयाराजा ने अपने पहले दो राष्ट्रीय पुरस्कारों को प्राप्त किया।

वैरमुत्तु ने संगीतकार एम। एस।विश्वनाथन के साथ तन्नीर तन्नीर (पानी ही पानी) चित्र में गीतलेखक के रूप में काम किया और वी।एस। नरसिम्हन के साथ अच्छमिलै अच्छमिलै(कोई डर नहीं) और कल्याण अगतिगल् फिल्मो में काम किया । तीनों फिल्मों के निर्देशन के बालाचंदर ने किया था।

१९८६ में उन्होंने अमीरजान द्वारा निर्देशित फिल्म नट्पु (दोस्ती) के लिए पटकथा लेखक के रूप में काम किया। बाद में उन्होंने लेखक के रूप में तुलसी (१९८७), वणना कनवुगल (रंग सपने) (१९८७) और वणक्कं वादियारे (मास्टरजी सलाम!) (१९९१) में काम किया। उन्होंने अन्रु पेय्द मलैकल् (उस दिन की बारिश) (१९८९) फिल्म का संवाद भी लिखा जिसका निर्देशन राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता छायाकार अशोक कुमार ने किया।

इलैयाराजा के साथ मतभेद[संपादित करें]

के बालाचंदर की पुन्नगई मन्नन (मंदहासी महाराज)(१९८६) के बाद वैरमुत्तु और इलैयाराजा ने मतभेद हो जाने के कारण अलग हो गये। उनके बिछुड़ने के बाद वैरमुत्तु के कैरियर अगले पांच वर्षों तक रुका रहा, तब उन्होंने तमिल में डब की गई अन्य भाषा की फिल्मों के लिए बड़े पैमाने पर काम किया। निर्देशक भारतीराजा के साथ उनका जुड़ाव बराबर रहा क्योंकि दोनों ने १९८० के दशक के उत्तरार्ध में वेदम पुदित्तु (देवेंद्रन द्वारा रचित) और कोड़ी परककुतु (हंसलेख द्वारा रचित) में साथ काम किया था। उन्होंने बॉलीवुड के संगीतकार जैसे आर। डी। बर्मन के साथ फिल्म उलगम पिरंददू एनक्काग (दुनिया मेरे लिए पैदा हुई) और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के साथ उइरे उनककाग(यह जान तुम्हारे लिए) में भी काम किया।

इस समय उन्होंने शंकर गुरु, मक्कल एन पक्कम, मनिदन, कथा नायकन, थैमेल आणै, पाटटी सोल्लै तट्टादे, वसंती, राजा चिन्ना रोजा और सुगमान सुमैकल फिल्मों में संगीतकार चन्द्रबोस के साथ भी काम किया। उन्होंने आधिक्कम् में भी उनके साथ काम किया था जो २००५ में प्रकाशित हुई थी।

पुनरुत्थान[संपादित करें]

१९९१ में के बालाचंदर ने अपने तीन फिल्म निर्माणों के लिए गीतकार के रूप में वैरमुत्तु को चुना लिया जो अगले वर्ष रिलीज़ के लिए निर्धारित किये गये - वानमे एल्लै, अण्णामलै और रोजा। पहली फिल्म में (खुद बालचंदर द्वारा निर्देशित) एम.एम. किरवानी से गाने लिखे हुए थे। दूसरे फिल्म में (सुरेश क्रिस्ना द्वारा निर्देशित) देवा द्वारा संगीत संयोजन किया गया था, और तीसरा (मणिरत्नम्म द्वारा निर्देशित) ए. आर. रहमान ने किया था जो एक होनहार लोकप्रिय युवा गीतकार के रूप में उभर रहे थे। यह गीत बहुत लोकप्रिय हुआ।

संगीतकार इलैयाराजा से अलग हो जाने के बाद प्रशस्त निर्देशक मणिरत्नम्म द्वारा निर्देशित पहली फिल्म रोजा ने तमिल में ही नहीं, बल्कि पूरे भारतीय संगीत को प्रभावित किया। इस फिल्म के "चिन्न चिन्न आसै" गाना वैरमुत्तु को दूसरा राष्ट्रीय पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ गीतकार के रूप में दिलाया। इस गाने का संगीत संयोजन हो नहार युवा गीतकार ए. आर. रहमान ने किया था। इस आल्बम ने रहमान को सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार दिलाया।

रोजा फिल्म के बाद, रहमान और वैरमुत्तु की जोड़ी बहुत ही प्रसिद्ध हुयी जिसने अगले २५ सालों तक कई लोकप्रिय फिल्मों को बनाया। निर्देशक मणिरत्नम के साथ वैरमुत्तु और रहमान का जुड़ाव कई प्रसिद्ध फ़िल्मों को दिलाता रहा, जैसे तिरुड़ा तिरुड़ा (१९९३), बॉम्बे (१९९५), अलईपायुदे (२०००), कण्णत्तिल मुत्तमिट्ठाल (२००२), आयुद एलुततु (२००४), रावणन (२०१०), कडल (२०१३), ओह कादल कणमणि (२०१५), काटरु वेलियीदै (२०१७), और चेक्का चिवंद वानं (२०१८)। सर्वश्रेष्ठ गीतकार के लिए वैरमुत्तु के सात राष्ट्रीय पुरस्कारों में से चार उनके रहमान के जुड़ाव से मिले (रोजा, करुत्तम्मा, पवित्रा; १९९५ के दोनों फिल्मों में अपने कौशल के लिए वैरमुत्तु बहुत प्रसिद्ध हुए -संगमम और कण्णत्तिल मुत्तमिटटाल्)। रहमान के छह राष्ट्रीय पुरस्कारों में से चार उनके वैरमुत्तु (रोजा, मिंसारा कनवु, कण्णत्तिल मुत्तमिटटाल् और काटरु वेलियीदै फिल्मों) के सहयोग से आए। गायक पी उन्नीकृष्णन, एस.पी. बालसुब्रह्मण्यम, शंकर महादेवन, स्वर्णलता, के.एस. चित्रा और शशा तिरुपति- इस कलाकार जोड़ी के सहयोग से प्रदर्शित अपने कामों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं।

मणिरत्नम के साथ उनके जुड़ाव के अलावा रहमान और वैरमुत्तु की जोड़ी निर्देशक शंकर (जेंटलमैन, कदलन, इंडियन, जीन्स, मुदलवन, शिवाजी और एनदिरन) के साथ उनके सहयोग के लिए विख्यात है। भारतीराजा के साथ किलक्कु सीमैयिले, करुत्तम्मा, अंतिमंदारै, और ताजमहल, के. एस. रविकुमार के साथ मुत्तु, पड़ैयप्पा और वरलारु पर और राजीव मेनन के साथ मिनसारा कनवु (बिजली का सपना) और कंदुकॉन्डेन कन्दुकोंडेन (देख लिया) पर उन्होंने काम किया। उनकी कुछ अन्य लोकप्रिय फिल्मों पुठिया मुगम, डुएट, मे मदम, रिदम, कोचड़ैयान आदि २४ फ़िल्में शामिल हैं।

९० के दशक और २००० के दशक की शुरुवात में वैरमुत्तु ने गीतकार देवा के साथ अण्णामलै, बादशाह, आसै, वन्स मोर, अरुणाचलम, नेरुक्कु नेर, वाली, खुशी और पंचतंत्रम जैसे लोकप्रिय गानों के कारण भी जाना जाता है। उन्होंने हैरिस जयराज, डी. इम्मान, विद्यासागर, शंकर-एहसान-लॉय (अपनी दोनों तमिल परियोजनाओं, अलवन्धन और विश्वरूपम पर), एन. आर. रघुनाथन (जिसने उन्हें फिल्म तेनमेरक्कु पर्वकाटरू के लिए अपना छठा राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किया) और युवान शंकर राजा (इलैयाराजा के पुत्र) के साथ के काम करने से धर्म दुरै फिल्म के लिए अपना सातवाँ राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किया। अपने लगभग ४० साल के कैरियर में उन्होंने १५० से अधिक फिल्म संगीत निर्देशकों के साथ काम किया है जो एक अनूठा कीर्तिमान है।

गीतों के अलावा वैरमुत्तु ने कवितायेँ भी लिखी हैं जिन में प्रमुख हैं - डुएट, इरुवर (प्रकाश राज द्वारा निभाए गए चरित्र के लिए), और आलवन्दान (कमल हासन द्वारा निभाई गई नंदू के चित्रण के लिए)। उन्होंने कई तमिल टेलीविज़न शो के थीम गानों और विज्ञापनों के लिए जिंगल के लिए भी गीत लिखे हैं, जिनमें से सबसे उल्लेखनीय तमिल सोप ओपेरा चित्ती बहुत ही प्रसिद्ध है। अब भी वे गीतकार, कथाकार, सहनिर्देशकल के रूप में कार्यरत हैं । इनके जरिए उनकी ख्याति बढ़ती - फैलती रहती है। इस अधेड़ उम्र में इतनी विशाल- विपुल ख्याति पानेवाले विरले ही पाये जाते हैं।

साहित्य के लिए योगदान[संपादित करें]

वैरमुत्तु ने अब तक ३७ पुस्तकें लिखी हैं जिनमें कविता के संग्रह के साथ-साथ तमिल भाषा में बड़े उपन्यास भी शामिल हैं। उनमें से कई का अंग्रेजी, हिन्दी, मलयालम, तेलुगु, कन्नड़, रूसी और नॉर्वेजियन में अनुवाद किया गया है। उन्होंने विदेशी कवियों का परिचय तमिल पाठकों को अपने एल्ला नदियिलुम एन ओडम में दिया। उनके 2.6 मिलियन से अधिक प्रतियां बिकी हैं। १९९१ में पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि द्वारा मदुरई में उनकी चार पुस्तकों के प्रकाशन (लोकार्पण) भव्य तरीके से जारी किया गया था।

साहित्य में उनके काम के लिए उन्हें पूर्व भारतीय प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी "कवि सम्राट", पूर्व भारतीय अध्यक्ष डॉ. अब्दुल कलाम उन्हें "महाकाव्य कवि" और पूर्व तमिलनाडु मुख्यमंत्री एम्। करुणानिधि उन्हें "कवी पेररासु" की उपाधियाँ दीं।

उल्लेखनीय कार्य[संपादित करें]

कल्लिकट्टु के इतिहास

कल्लिकट्टु इतिहास एक गाँव के लोगों की कहानी को दर्शाया है, जिन्होंने स्वतंत्र भारत में शरणार्थी बन गए हैं। १९५० के दशक में जब मदुरै जिले में वैगई बांध का निर्माण किया गया था, तब १४ गाँवों को जलग्रहण क्षेत्र बनाने के लिए खाली कर दिया गया था। यह उपन्यास उन शरणार्थियों की अशांत कहानी का बयान करता है, जिन्होंने पानी के नीचे अपनी जमीन खो दी थी। लेखक एक ऐसे परिवार में पैदा हुआ बच्चा है और बचपन में इस प्रवास के दुख से गुजरा था। कहानी ग्रामीणों के आँसू, रक्त और दर्द को चित्रित करती है जिनके परिवारों को आधुनिकीकरण हानिकारक बना। उपन्यास की आत्मा कृषि भारत के मूल्यों और किसानों के गुणों के पीछे की सच्चाई को जानती है जो शाश्वत हैं। इस गाथा ने वर्ष २००३ में वैरमुत्तु को सर्वश्रेष्ठ साहित्यिक कार्य के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार जीता और इसका २२ भाषाओं में अनुवाद किया गया।

करुवाची काव्यम

करुवाची काव्यम एक कमजोर भारतीय गाँव की महिला के इर्द-गिर्द घूमता है, जिसे अनपढ़ पुरुष चौहद्दी समुदाय द्वारा गुलाम बनाया गया है।

वैरमुत्तु की कवितायेँ

वैरमुत्तु की कवितावों का मूल मानव को प्रकृति की सराहना करने के लिए उसकी प्रार्थना को चित्रित करता है, यह अविश्वसनीय सत्य की ओर इशारा करता है कि जब तक यह जलता है तब तक आग जलती है। पृथ्वी तब तक पृथ्वी है जब तक वह घूमती है और जब तक वह संघर्ष करता है तब तक मनुष्य मनुष्य है।

थान्नेर थेसम

यह अरिवियल कावियम 'समुद्री यात्रा' के बारे में है। कलाइवनन नायक है; तमिलरोजा नायिका है।'समुद्र, पानी और ब्रह्मांड के बारे में बहुत से वैज्ञानिक तथ्यों को इस आधुनिक कविता (पुढुक कविधई) में पिरोया गया है। यह कविता समुद्र में मछुआरों के जीवन के साहसिक कारनामों को दर्शाती है। "read" (PDF).

तीसरा जागतिक युद्ध

वैश्वीकरण, उदारीकरण और ग्लोबल वार्मिंग के कारण भारतीय कृषि समुदाय के संघर्ष को इस उपन्यास में किसान बोली भाषा में चित्रित किया गया है। यह उपन्यास किसानों की आत्महत्याओं पर पांच साल पहले की भविष्यवाणी है। लेखक उस समय हतप्रभ था, जब गरीबी से जूझ रहे किसान, जो मानसून की विफलता, गंभीर सूखे की स्थिति, ऋण और निराशा के कारण अपने परिवार का भरण पोषण करने में असमर्थ थे, इसलिए उन्होंने आत्महत्या कर ली।

सम्मलेन समूह में भागीदारी[संपादित करें]

वे संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, रूस, ऑस्ट्रेलिया, जापान, कनाडा, हांगकांग, चिना, सिंगापुर, मलेशिया, थाईलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, कुवैत, ओमान, मालदीव, स्विट्जरलैंड और श्री लंका में कई प्रमुख तमिल सम्मेलनों में प्रमुख वक्ता भी रहे हैं।[3].

१९८७

  • मलेशिया - मलेशिया नानबन दैनिक: साहित्यिक घटना
  • सिंगापुर - सिंगापुर तमिल महासंघ
  • सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक का संघ - इंडो सोवियत सांस्कृतिक महोत्सव

१९८९

  • संयुक्त राज्य अमेरिका: डेटन, ओहियो - तमिलनाडु फाउंडेशन सम्मेलन
  • कनाडा - कनाडा तमिल संगम इवेंट
  • संयुक्त अरब अमीरात - साहित्य उत्सव

१९९३

  • हांगकांग - तमिल स्कूल का उद्घाटन
  • थाईलैंड: बैंकॉक - तमिल स्कूल का उद्घाटन
  • यूनाइटेड किंगडम - लंदन तमिल संगम साहित्यिक कार्यक्रम

१९९४

  • मलेशिया - विल्लू वा निलावे - पुस्तक प्रकाशन

१९९५

  • संयुक्त राज्य अमेरिका - साहित्य महोत्सव
  • श्रीलंका - तमिल संगम साहित्यिक कार्यक्रम
  • मालदीव - साहित्यिक भाषण

१९९७

  • इंडोनेशिया – तमिल साहित्यिक कार्यक्रम

१९९९

  • संयुक्त राज्य अमेरिका - तमिल संगम
  • यूनाइटेड किंगडम – साहित्यिक कार्यक्रम

२०००

  • ऑस्ट्रेलिया: सिडनी, न्यू साउथ वेल्स - तमिल सांस्कृतिक महोत्सव

२००२

  • सौदी अरबिया - तमिल संगम उद्घाटन
  • स्विट्ज़रलैंड - श्रीलंका महोत्सव, विशेष संबोधन
  • जापान - पुस्तक प्रकाशन कार्यक्रम

२००३

  • बहरीन - तमिल संगम, तिरुवल्लुवर पर भाषण
  • संयुक्त राज्य अमेरिका: मैनहट्टन, न्यूयॉर्क - अमेरिका भारत विद्या भवन और साहित्य अकादमी, भारतीय साहित्य सम्मेलन

२००५

  • कनाडा - उधयन जर्नल, साहित्यिक कार्यक्रम
  • स्विट्जरलैंड - पुस्तक परिचय, तमिल संगम

२००६

  • ऑस्ट्रेलिया: सिडनी - ओपेरा हाउस तमिल सांस्कृतिक महोत्सव
  • यूनाइटेड किंगडम - साहित्य उत्सव, विशेष संबोधन

२००७

  • ऑस्ट्रेलिया: ब्रिस्बेन, क्वींसलैंड - तमिल सांस्कृतिक कार्यक्रम

२००९

  • चीन - तमिल संगम कार्यक्रम

२०१०

  • ऑस्ट्रेलिया - सांस्कृतिक महोत्सव

२०११

  • सिंगापुर - विश्व तमिल लेखकों के सम्मलेन का उद्घाटन

२०१३

  • नीदरलैंड - तीसरा विश्व युद्ध, यूरोपीय पुस्तक प्रकशन
  • फ्रांस - तीसरा विश्व युद्ध, पुस्तक परिचय
  • जर्मनी - तीसरा विश्व युद्ध, पुस्तक परिचय
  • स्विट्जरलैंड - तीसरा विश्व युद्ध, पुस्तक परिचय

२०१४

  • मलेशिया - तीसरा विश्व युद्ध के लिए विश्व का सर्वश्रेष्ठ तमिल उपन्यास' पुरस्कार

२०१५

  • संयुक्त अरब अमीरात: शारजाह - शारजाह अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला, शीर्ष भारतीय लेखकों की बैठक

२०१६

  • मलेशिया - मलेशियाई, भारतीय और दक्षिण एशियाई देशों के राजदूतों की पुस्तक प्रकाशन
  • श्रीलंका - श्रीलंका की राज्य सरकार द्वारा आयोजित पोंगल (संक्रांति) महोत्सव

२०१७

  • ओमान, मस्कट - तमिल संगम से, इंडियन पेरुंगवी (महाकवि) पुरस्कार प्राप्त करने के लिए

सेमिनार[संपादित करें]

वैरामुत्तु ने पिछले तीन दशकों में भारत और भारत के बाहर कई संगोष्ठियों का आयोजन किया है, और मदुरै के विश्वविद्यालयों में कई संगोष्ठियों का विषय रहा है।[4].

वैरमुत्तु से संचालित[संपादित करें]

  • सर्व भाषा कवि सम्मेलन- नई दिल्ली में ऑल इंडिया रेडियो द्वारा आयोजित कविता उत्सव (२५ जनवरी १९९२)
  • साहित्य अकादमी नई दिल्ली में भारतीय कवि समारोह (७ अगस्त १९९८)
  • भारतीय भाषा परिषद- कोलकाता (२१ मार्च २००९)
  • FETNA सेमिनार- अटलांटा (४ जुलाई २००९)
  • शास्त्रीय तमिल (सेंतमिल) सम्मेलन- कोयंबतूर (२५ जून २०१०)
  • उत्तर, पूर्व और दक्षिण भारतीय लेखकों का सम्मेलन- साहित्य अकादमी, चेन्नई (१ ९ जुलाई २०१६)
  • वार्षिक थुंचन साहित्य उत्सव- तिरूर, केरल (२५ जनवरी २०१७)
  • तमिलनाडु पोस्ट मॉडर्न राइटर एसोसिएशन का नि: शुल्क भाषण सम्मेलन- पांडिचेरी (२२ जून २०१८)
  • कन्नड़ साहित्य और संस्कृति पर संगोष्ठी- साहित्य अकादमी, मद्रास विश्वविद्यालय, चेन्नई (४ मार्च २०१९)
  • तमिल पेरायम स्पेशल सेमिनार- एसआरएम यूनिवर्सिटी, चेन्नई (२५ सितम्बर २०१९)

वैरमुत्तु की रचनाओं पर संगोष्ठी[संपादित करें]

  • कवि वैरमुत्तु की रचनाओं पर राष्ट्रीय सम्मेलन- मन्नार तिरुमलै नायककर कॉलेज, मदुरई (१४ फरवरी २००९)
  • स्टालिन गुनसेकरन द्वारा मदनम पर वैरमुत्तु की कविता का प्रभाव - मदुरै कामराज विश्वविद्यालय, मदुरै (२५ सितम्बर २०१३)
  • डॉ। तमिलच्ची तङ्गपंडियन द्वारा वैरमुत्तु के साहित्यिक कार्यों में अतियथार्थवाद और जादुई यथार्थवाद - मदुरै कामराज यूनिवर्सिटी (१३ मार्च २०१५)
  • कवि अरिवुमति द्वारा वैरमुत्तु की गीतों में उत्तर-आधुनिक काव्य तत्व - मदुरै कामराज विश्वविद्यालय (२० जनवरी २०१६)
  • वैरमुत्तु के उपन्यासों में महिला सशक्तिकरण और सामाजिक परिवर्तन -प्रो। विजया सुंदरी- मदुरै कामराज विश्वविद्यालय (१५ मार्च २०१७)
  • पूर्व मंत्री वेंकटपति द्वारा वैरमुत्तु के कल्लीकट्टू इत्तिकासम और करुवाची काव्यम् पर महाकाव्यों के रूप में प्रभावित नैतिकता - मदुरै कामराज विश्वविद्यालय (२८ मार्च २०१८)
  • डॉ। वैको द्वारा तमिल सामाजिक-राजनीतिक क्षेत्र पर वैरमुत्तु की लघु कथाओं के साहित्यिक तरंग - मदुरै कामराज विश्वविद्यालय (१२ दिसंबर २०१८)

सामुदायिक पहुंच[संपादित करें]

तमिल भाषा में विपुल साहित्यिक व्यक्तित्व, वैरमुत्तु के काम ने अक्सर कई शैक्षणिक संस्थानों के पाठ्यक्रम में अपनी जगह बनाई है। उनके बहुत सारे प्रकाशन बेस्ट-सेलर भी रहे हैं।[5]

वैरमुत्तु के कृतियाँ पाठ्यक्रम में[संपादित करें]

  • इरुवतु कट्टलैगल - बैंगलोर विश्वविद्यालय, कर्नाटक के पाठ्यक्रम का हिस्सा २०१२ से
  • मरांगलै पाडुवेन – कविता प्री यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम, शिक्षा मंत्रालय, सिंगापुर २०१४ से
  • तन्नीर देशम - (महासागर का राष्ट्र): मन्नार तिरुमलै नाइकर कॉलेज, पसुमलाई, मदुरै (२०१६ -२०१८) के पाठ्यक्रम का हिस्सा
  • मरांगलै पाडुवेन और मलैक्काल पूक्कल- (बारिश में फूल): श्री एस। रामासामी नायडू मेमोरियल कॉलेज, सत्तूर, विरुदनगर (२०१८- २०२०) के पाठ्यक्रम का हिस्सा
  • ओह। एन।समक्काल तोलरगले (मेरे साथियों के लिए): स्कूल शिक्षा विभाग, तमिलनाडु, चेन्नई के अनुसार सातवीं कक्षा का सिलेबस (२०१८)
  • नान् कादल्क्काग वलक्काडुगिरेन (I Argue for Love): डॉ। एस.एस. राजलक्ष्मी आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज, कोयम्बत्तूर का प्रथम वर्ष का पाठ्यक्रम (२०१८ से)

अभिलेख[संपादित करें]

  • तमिल आट्रूपपडई: रिलीज के तीन महीने के भीतर, इस पुस्तक के १० संस्करण ५०००० प्रतियाँ बेची गई हैं।
  • कविताएँ: वैरमुत्तु का पहला काव्य संग्रह वैकरै मेगंगल (भोर के बादल) ३४ संस्करणों में १०२००० प्रतियाँ बिक चुकी हैं ।
  • समग्र कृतियाँ: वैरमुत्तु की साहित्यिक कृतियाँ दुनिया भर के लोगों तक 24.5 लाख प्रतियों के माध्यम से पहुंची हैं।
  • लघु कहानी संग्रह: सिल नेरम मनिदन आयिरुन्तवन शीर्षक से मातृभूमि द्वारा प्रकाशित उनकी लघु कहानियों का मलयालम अनुवाद, रिलीज़ होने के कुछ महीनों के भीतर दो संस्करण देख चुका है।

वैरमुत्तु पर उद्धरण[संपादित करें]

साहित्यिक क्षेत्र के भीतर और बाहर के कई प्रमुख व्यक्तियों ने वैरामुथु के कार्यों की अत्यधिक चर्चा की है।[6]

"वैरमुत्तु के गीत 'चिन्ना चिन्ना आसई' केरल की भूमि में पसंदीदा लोरी के रूप में बसा है। मैं मलयालम में 'थोड़ी देर के लिए इंसान था' शीर्षक से वैरमुत्तु की लघु कहानियों को जारी करने पर गर्व करता हूं। इन कहानियों का विषय विविध है और इससे भी बेहतर है कथा तकनीक।"~ एम। टी। वासुदेवन नायर, ज्ञानपीठ पुरस्कृत मलयालम उपन्यासकार ।

"कवि वैरमुत्तु तमिल भाषा में एक अद्वितीय कवि हैं। एक सामाजिक दृष्टिकोण के साथ, वे ऐसी कविताएँ लिखते हैं जो समाज को दर्शाती हैं।"~ चंद्र शेखर कम्बारा, साहित्य अकादमी के अध्यक्ष।

"कवि वैरमुत्तु का 'तीसरा विश्व युद्ध' समाज के लिए गहरी चिंता के साथ लिखा गया है। यह भारतीय कृषि में आधुनिक पद्धति का उपयोग करने के बारे में बात करता है। यह पर्यावरण प्रदूषण के कारण दुनिया के लिए खतरों के बारे में भी बात करता है।"~ जयकान्तन, ज्ञानपीठ पुरस्कृत लेखक ।

"वैरमुत्तु के ' तीसरा विश्व युद्ध' में, उन्होंने कुशलतापूर्वक वैज्ञानिक पद्धति से कृषि के अभ्यास के महत्व को रेखांकित किया है। यदि कृषि को उचित महत्व दिया जाता है, तो तीसरा विश्व युद्ध नहीं होगा।" ~ डॉ। ए। पी। जे। अब्दुल कलाम, भारत के पूर्व राष्ट्रपति ।

"एक बाग में, जैसे कि एक चमेली, गेंदा और गुलाब एक साथ मौजूद हैं, कहानी, कल्पना और विज्ञान अपने उपन्यास ' तीसरा विश्व युद्ध' में गठबंधन करते हैं। यह पाठक में रुचि पैदा करता है और अंधेरे को दूर भगाने के लिए प्रकाश प्रदान करता है।" ~ कलाइनर करुणानिधि, तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ।

"कवि वैरमुत्तु का सार्वभौमिक दृष्टिकोण आधुनिक युग के बाद के दौर को दर्शाता है। नई लहर की कल्पना, नवीन उपमाएं और काव्यात्मक उपकरण उनके सामर्थ्य का प्रदर्शन करते हैं।" ~ डॉ। बलदेव वंशी, कवि ।

"फिल्मी गीतों में भी कविता की व्याख्या करते हुए, वैरमुत्तु ने तमिल फिल्म गीतों में एक साहित्यिक गुणवत्ता लाने के लिए कण्णदासन के नक्शेकदम पर चले। उनका नाम फिल्म जगत के लिए एक सम्मान की बात है।" ~ सिरिवेनेला सीताराम शास्त्री, कवि ।

"जैसा कि वह लोगों, भाषा, प्रकृति और उन दुर्लभ गुणों के बारे में लिखते हैं जो मनुष्य के पास होने चाहिए, उनकी तुलना प्रसिद्ध कवि रॉबर्ट बर्न्स के साथ की जा सकती है।" ~ रॉबिन वेल्स, लंदन के पूर्व मेयर ।

"इस समय की अवधि में, जब मानवता विभिन्न समस्याओं के बीच संघर्ष करती है, तो वैरमुत्तु के लेखन में देश, जाति, धर्म और भाषा जैसी बाधाओं को दूर करने की क्षमता होती है।" ~ स्टीफन टिम्स, लंदन के पूर्व शिक्षा मंत्री ।

"मुझे वैरमुत्तु की कई कविताओं पर मोहित किया गया है। वह विद्वानों और निरक्षर दोनों के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। कविता में उनका चरित्र और रुचि हमेशा उन्हें एक विशेष स्थान दिलाएगी। "~ अशोकमित्रन, साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता लेखक ।

"वैरमुत्तु की कविता में एक सौंदर्य गुण है। व्यंग्य है, धर्मी क्रोध है। शेली के शब्दों में, एक कवि को दया की संसद में मानवता की अंतरात्मा का रक्षक होना चाहिए। वैरमुत्तु एक ऐसा रक्षक है। "~ इंदिरा पार्थसारथी, साहित्य अकादमी और पद्मश्री से सम्मानित लेखक ।

"जो लोग तमिल कविता में वैरमुत्तु के योगदान को स्वीकार करने से इनकार करते हैं, वे समाज पर उनकी कविताओं के प्रभाव को खारिज कर रहे हैं। इस रवैये के दो कारण हैं। एक ईर्ष्या और दूसरा पूर्वकल्पित धारणा है कि एक व्यक्ति दो अलग-अलग क्षेत्रों में उत्कृष्टता प्राप्त नहीं कर सकता है। ऐसे लोग हमारे बहुआयामी समाज के अस्वाभाविक तत्व हैं। वैरमुत्तु के काव्य उनमें से उत्कर्ष करेगा। यह संदर्भित, पढ़ा, शोध और फिर से प्रकाशित किया जाएगा। "~ सुजाता रंगराजन, लेखक ।

"मेरे ख्याल से दुनिया में किसी भी अन्य निर्माता ने 40 लगातार हफ्तों में 40 लघु कहानियाँ प्रकाशित नहीं की हैं। मैं इसे एक वैश्विक रिकॉर्ड मानता हूं।"~ शिवसंकरी, लेखक ।

अन्य प्रयास और परोपकारी गतिविधियाँ[संपादित करें]

वैरमुत्तु ने एक नींव रखी है, वैरमुत्तु एजुकेशनल ट्रस्ट, जो गरीबबच्चों की शिक्षा के लिए उनके परिवारों को धन प्रदान करता है। उन्होंने इंडो-सोवियत कल्चरल एसोसिएशन के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। उन्होंने वेटरी तमिलर पैरवै के संस्थापक हैं, जिसका उद्देश्य समाज का उत्थान करना है[7]। उन्होंने अपने पैतृक गाँव करट्टुपट्टी के लोगों को एक अस्पताल की इमारत भी दान की, और आदरणीय कवि कन्नदासन के नाम पर उनके वड़गुपट्टी गाँव में एक पुस्तकालय शुरू किया। उन्होंने युद्ध से पीड़ितों के साथ-साथ प्राकृतिक आपदाओं में ग्रस्त लोगों के लिए आर्थिक योगदान दिया है।

  • हार्वर्ड तमिल चेयर (२०१८) के लिए वैरमुत्तु ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में तमिल के एक विशेष आसन की स्थापना के लिए पाँच लाख रुपये दिया था।
  • तीसरा विश्व युद्ध पुस्तक प्रकाशन के दिन वैरमुत्तु ने किसानों के ११ परिवारों को ११ लाख रुपये दिये थे । उन परिवारों में कई किसान आतमहत्या कर दिये थे। उस पुस्तक की ५०००० प्रतियों की बिक्री का जितना पैसा आया, उसे पूरा उन्होंने दान के रूप में दे दिया था।
  • वैरमुत्तु ने आयिरम पाडलगल (एक हज़ार गीत) पुस्तक के प्रकाशन के दिन १० लाख रुपये को फिल्म इम्प्लाइज़ फेडरेशन ऑफ़ साउथ इंडिया (FEFSI) - लाइब्रेरी फंड (2011) को दे दिये । उस संघ के कार्यकर्ताओं के लिए एक पुस्तकालय बनाने की दिशा में, अपनी पुस्तक के पूर्व-ऑर्डर की बिक्री से प्राप्त आय (राशि)को उन्होंने दे दिया था।
  • श्रीलंकाई तमिल शरणार्थी पुनर्वास (२००५) के लिए वैरमुत्तु ने अपने स्वर्ण पदक को दे दिया जो उन्होंने 2005 में एक साहित्यिक आयोजन के दौरान कनाडा में प्राप्त किया था । इस दान उन्होंने श्रीलंकाई तमिल शरणार्थियों के कल्याण और पुनर्वास के लिए किया था।
  • गुजरात भूकंप राहत कोष (२००१) के लिए वैरमुत्तु ने जब के तमिलनाडु मुख्यमंत्री एम्. करूणानिधि द्वारा ५२००० रुपये दिया था।
  • अपने पै एनरॉल पेय्युं मलै पुस्तक प्रकशन के दिन वैरमुत्तु ने पुस्तक की प्री-ऑर्डर बिक्री से २०८६६३ रुपये को कारगिल रिलीफ फंड को दे दिया था।
  • अपने पैतृक गाँव वडुगुपट्टी में पुस्तकालय के लिए एक नई इमारत के निर्माण के लिए वैरमुत्तु ने एक लाख रुपये दिए थे, जिसने उनमें साहित्य के प्रति उमंग -उत्साह बढ़ाये।
  • धार्मिक सद्भाव के लिए वैरमुत्तु ने 1998 में अपने जन्म स्थान पर एक मार्च का नेतृत्व किया, धार्मिक सहिष्णुता पर जोर दिया और समाज में शांति स्थापित करने की दिशा में काम किया है। उन्होंने धार्मिक सद्भाव पर अपनी कविता का पाठ किया और सेवाकार्यों के लिए धन दान किया ।
  • १९९५ के बाद से हर साल १३ जुलाई को अर्थात अपने जन्म दिन को वैरमुत्तु ने अपने सामाजिक मंच वेटरी तमिलर पैरवै के माध्यम से दुनिया भर के समकालीन तमिल कवियों को पहचानते और सम्मानित करते हैं, जिस पुरस्कार का नाम है समकालीन कवियों को पुरस्कार ।

विवाद[संपादित करें]

वैरमुत्तु कई विवादों में फंसे हुए थे। पत्रिका में प्रकाशित उनकी कविताओं में से एक कुमुदम् में ‘ओरु नडिगै मपिल्लै तेडुगिराल्’ शीर्षक से ९० के दशक में कई महिला अभिनेत्रियों के द्वेष को आकर्षित किया। १९८६ में इलयराजा के साथ उनके अलगाव की परिस्थितियों ने कई सिद्धांतों को जन्म दिया है, लेकिन इस घटना को तमिल फिल्म संगीत के लिए बड़ा नुकसान माना जाता है। समाचार पत्र दिनमणि में प्रकाशित उनके लेखों में से एक शोध लेख गोदा देवी आण्डाल पर लिखा हुआ था जिसमें वैरमुत्तु ने आण्डाल को देवदासी होने का दावा किया । वैरमुत्तु के खिलाफ अदालती मामले दर्ज किये गये।

अक्तूबर २०१८ में कुछ महिलाओं द्वारा मीटू आन्दोलन में (आरोपी आंदोलन) चिनमयी के साथ वैरमुत्तु का भी नाम लिया गया था जो सनसनोगेज था ।[8][9][10]

आंशिक फिल्मोग्राफी[संपादित करें]

  • एन्धिरन
  • रावनन
  • असल
  • मोढी विलायाडू (2009)
  • सिवप्पू मड़ई (2009)
  • आनंद तांडवम (2009)
  • आयन (2009)
  • दसावथारम (2008)
  • शिवाजी: द बॉस (2007)
  • मोड़ी (2007)
  • गुरु
  • वरलारू (2006)
  • अन्नियन (2006)
  • उल्लम केत्कुमाए (2005)
  • चेल्लमाए (2004)
  • अट्टगासम (2004)
  • आयुथा एड़ुथु (2004)
  • वसूल राजा_एमबीबीएस (2004)
  • अनबे सिवम (2003)
  • इयार्कई (2003)
  • कन्नातिल मुत्तममित्ताल (2002)
  • विलेन (2002)
  • जेमिनी (2002)
  • पोवलम उन वासम (2001)
  • मजुनु (2001)
  • शाहजहां (2001)
  • सिटिज़न (2001)
  • कुशी (2000)
  • रिदम (2000)
  • आलावंधन (2000)
  • मुगावारी (2000)
  • अलाईपयुथे (2000)
  • कंडुकोंडैंन कंडुकोंडैंन (2000)
  • पार्थेन रसिथेन (2000)
  • थुल्लथा मनमुम थुल्लम (1999)
  • वाली (1999)
  • अमरकालम (1999)
  • मुधल्वन (1999)
  • पड़यप्पा (1999)
  • संगमम (1999)
  • जोड़ी (1999)
  • निलावे वा (1998)
  • कादल मन्नन (1998)
  • जीन्स (1998)
  • इरुवर (1997)
  • इंडियन (1996)
  • मुथु (1995)
  • इंदिरा (1995)
  • बाशा (1995)
  • करुथम्मा (1994)
  • काधलन (1994)
  • पवित्रा (1994)
  • डुएट (1994)
  • पुड़िया मुगम (1993)
  • जेंटलमन (1993)
  • किलाकू चीमायिले (1993)
  • कोडी परकुथू (1989)
  • वेधम पुड़िथु (1987)
  • पुन्नगाई मन्नान (1986)
  • मुधलमरियथई (1985)


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.poetvairamuthu.com/about.html
  2. Srinivasan, Meera (2010-12-25). "Vairamuthu: earth, people my muse". The Hindu (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 2018-10-15.
  3. "வைரமுத்து- பயணங்கள்". Vairamuthu.in. November 12, 2019. अभिगमन तिथि November 12, 2019.
  4. "வைரமுத்து- கருத்தரங்குகள்". Vairamuthu.in. November 12, 2019. अभिगमन तिथि November 12, 2019.
  5. "வைரமுத்து- சிறப்புகள்". Vairamuthu.in. November 12, 2019. अभिगमन तिथि November 12, 2019.
  6. "வைரமுத்து- சான்றோர் கூற்று". Vairamuthu.in. November 12, 2019. अभिगमन तिथि November 12, 2019.
  7. "வைரமுத்து- சமூகப் பணி". Vairamuthu.in. November 12, 2019. अभिगमन तिथि November 12, 2019.
  8. "South cinema's MeToo moment: Singer Chinmay outs lyricist Vairamuthu". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2018-10-18.
  9. "#MeToo movement: Vairamuthu accused of sexual abuse - Times of India". The Times of India. अभिगमन तिथि 2018-10-18.
  10. "Singer Sindhuja backs Chinmayi: Vairamuthu sexually harassed me too". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2018-10-18.


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]