मध्य-पश्चिमाञ्चल विकास क्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र
क्षेत्र
Rara.jpg
देश Flag of Nepal.svg नेपाल
अंचल राप्ती, कर्णाली, भेरी
मुख्यालय बिरेंद्र्नगर
क्षेत्रफल 42,378 कि.मी.² (16,362 वर्ग मील)
आबादी 35,46,682 (2011) [1]
घनत्व 84 /km2 (218 /sq mi)
समय मण्डल NPT (UTC+5:45)
ISO 3166-2 NP-2
मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र की अवस्थिति
मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र की अवस्थिति

मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र नेपाल का एक प्रान्त है जो नेपाल के पाँच विकास क्षेत्रों में से एक विकास क्षेत्र है। यह नेपाल के मध्य-पश्चिम में स्थित है। इस के पूर्व में नेपाल का पश्चिमांचल विकास क्षेत्र तथा पश्चिम में नेपाल का सुदूर-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र तथा उत्तर में चीन का तिब्बत तथा दक्षिण में भारत का उत्तर प्रदेश स्थित है। मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र का मुख्यालय बिरेन्द्रनगर में स्थित है। इस प्रान्त में ३ अंचल तथा १५ जिलें हैं।

भूगोल[संपादित करें]

यह क्षेत्र नेपाल का सब से बड़ा प्रान्त है, जिसका क्षेत्रफल है: ४2,३७८ किमी२ (१६,३६२ वर्ग मील) पर जनसँख्या के हिसाब से चौथे अंक पर है, जिसका क्षेत्रफल: ३,५४६,६८२ है। इसका जनसँख्या घनत्व अन्य क्षेत्रो की अपेक्षा बहुत कम है, यहाँ ८३.७ व्यक्ति/किमी२ पर रहते हैं। इस क्षेत्र की सबसे महत्वपूर्ण नदी है कर्णाली या कौरियाला, जो भारत में घाघरा नाम से जानी जाती है। यह नदी गंगा नदी की मुख्य सहायक नदियों में से एक है जो गंगा नदी के बांये से आकर मिलती है, नेपाल में इस नदी की लम्बाई ५०७ किमी (३१५ मी) है जो नेपाल की सबसे लम्बी नदी है। कर्णाली नदी की कुछ सहायक नदियाँ हैं: पश्चिम-नदी, भेरी और सेती। नेपाल का सब से बड़ा ताल, रारा ताल इसी क्षेत्र में स्थित है, जो कर्णाली अंचल के जिले में पड़ता है।

कर्णाली नदी प्रणाली द्वारा कृतित है यह क्षेत्र। यहाँ की मुख्य नदियाँ हैं: हुम्ला कर्णाली, मुगू कर्णाली, ठुली कर्णाली, भेरी, राप्ती और बबई। यहाँ कुछ उच्च शिखर भी हैं जैसे: मुकुट हिमाल (६६३९ मी), पूतना हिमचुली (७२४६ मी), कांति हिमाल (६८५९), गोरख हिमाल (६०८८ मी), चांगला हिमाल (६५६३). यहाँ के २८.२% भूमी क्षेत्र जंगलों से ढका है, जहाँ विभिन्न प्रकार के पेड़-पौधे और वन्य-जन्तु पाए जाते हैं। यहाँ के अधिकांश क्षेत्र चट्टानी हैं तथा एकदम खड़े पहाड़ या पर्वत हैं। इसलिए इस क्षेत्र में विकास कम बहुत कम देखने को मिलता है। यह क्षेत्र बड़ी कठिनाई के साथ कच्चे सड़क के माध्यम से दुसरे क्षेत्र से जुड़े हुए हैं, पर यहाँ के कुछ क्षेत्र जैसे: सिमिकोट, जुमला, डोल्पा, सुर्खेत, तुलसीपुर, नेपालगंज आदि में क्षेत्रीय हवाई अड्डे हैं जो इन क्षेत्रों को अन्य क्षेत्र से जोड़ते हैं। यह क्षेत्र विकास के मामले में सब से पीछे है, पर पर्यटन के मामले में आगे है। राष्ट्रीय निकुंज, झीलें, विभिन्न धार्मिक स्थल, गहरी खाइयाँ, पहाड़ी स्थल, घाटियाँ और खड़े चट्टानी पहाड़ें देखने को मिल सकते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

इतिहास में यह क्षेत्र खसदेश का एक हिस्सा था। बाद में यहाँ जब खसदेश कई क्षेत्रों में टूट गया तो यह क्षेत्र कर्णाली के दुल्लू (डोटी के राइक) के क्षेत्राधिकार में चला गया जिसका राज्य क्षेत्र कर्णाली से लेकर उत्तराखंड के उत्तर-गंगा तक फैला हुआ था। बाद में यहाँबाइसे राज्य तथा चौबीसे राज्य स्थापित हुए।

गोरखा के महाराज पृथ्वी नारायण साह के समय में जब नेपाल एकीकरण अभियान चला तो बहादुर शाह ने सन १७८९ में इस क्षेत्र पर आक्रमण किया और इसे नेपाल में मिला लिया।

१८१४-१६ के अंग्रेज-गोरखा युद्ध में हुए सुगौली संधि के तहत इस क्षेत्र का तराई भाग अंग्रेजों को चला गया था जो उन्होंने नेपाल को १८६० में पुनः वापस कर दिया।

मध्य-पश्चिम क्षेत्र का प्रशासनिक विभाजन[संपादित करें]

मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र में ३ अंचल तथा १५ जिले हैं।

प्रान्त मध्य-पश्चिमांचल विकास क्षेत्र
अंचल भेरी कर्णाली राप्ती
जिलें बांके डोल्पा दांग
हुम्ला बर्दिया रोल्पा
जुम्ला सुर्खेत रुकुम
कालिकोट जाजरकोट प्युथान
मुगू दैलेख ]सल्यान

देखने योग्य स्थान[संपादित करें]

बर्दिया राष्ट्रीय उद्यान एक संरक्षित क्षेत्र है, जिसकी स्थापना १९८८ में की गई थी जिसका नाम रखा गया था शाही बर्दिया राष्ट्रीय उद्यान। इस उद्यान ने ९६८ किमी२ (३७४ वर्ग मी) का क्षेत्र ढक रखा है। यह तराई क्षेत्र में नेपाल का सब से बड़ा तथा बहुत कम बाधित राष्ट्रिय उद्यान है। इसका पूर्वी किनारा कर्णाली नदी से लगा है और बर्दिया जिले में बबई नदी इस के बिच से होकर बह रही है जो इस उद्यान को दो भागों में बाँटती है।

बांके राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना २०१० में नेपाल के दसवें राष्ट्रीय उद्यान के रूप में हुई है। इस उद्यान का संरक्षित क्षेत्र ५५० किमी२ (२१० वर्ग मी) में फैला हुआ है जिसका अधिकांश भाग चुरिया क्षेत्र में है।

रारा राष्ट्रिय उद्यान नेपाल के हिमालय पर एक संरक्षित क्षेत्र है और इस को १९७६ में स्थापित किया गया था। १०६ किमी२ (४१ वर्ग मील) में फैला यह क्षेत्र मुगू और जुम्ला जिले में पड़ता है। यह देश का सब से छोटा उद्यान है।

रारा ताल नेपाल का सब से बड़ा ताल है। यह कर्णाली अंचल के मुगु जिले में पड़ता है तथा यह रारा राष्ट्रिय उद्यान के तहत आता है। रारा ताल समुद्र तल से २,९९० मीटर (९,८१० फीट) की ऊंचाई पर स्थित है जो १०.८ किमी (४.२ वर्ग मील) में फैला हुआ है। इसकी लम्बाई ५ किमी तथा चौड़ाई ३ किमी है, जिसकी गहराई १६७ मी (५४८ फीट) है।


  1. "National Population and Housing Census 2011" (pdf). Central Bureau of Statistics. Kathmandu, Nepal. November 2012. अभिगमन तिथि 12 अक्टूबर 2013.