फिलिप लेनार्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
फिलिप लेनार्ड
Lénárd Fülöp (hu)

१९०० मे फिलिप लेनार्ड
जन्म 7 जून 1862
पोज़सोनी, हंगरी, ऑस्ट्रियन साम्राज्य
मृत्यु मई 20, 1947(1947-05-20) (उम्र 84)
मेसेलहौसेन, जर्मनी
नागरिकता हंगरी[1] ऑस्ट्रिया - हंगरी (१८६२-१९०७),
जर्मन (१९०७-१९४७)
राष्ट्रीयता हंगरी
जर्मन
जातियता जर्मन-हंगरी
क्षेत्र भौतिकी
संस्थान बुडापेस्ट विश्वविद्यालय
ब्रेसलौ विश्वविद्यालय
आकिन विश्वविद्यालय
हीडलबर्ग विश्वविद्यालय
कील विश्वविद्यालय
शिक्षा हीडलबर्ग विश्वविद्यालय
डॉक्टरी सलाहकार रॉबर्ट बनसेन
प्रसिद्धि कैथोड रे
उल्लेखनीय सम्मान भौतिकी में नोबेल पुरस्कार (१९०५)

फिलिप एडवर्ड एंटोन वॉन लेनार्ड (7 जून 1862 - 20 मई 1947), हंगरी मे Lénárd Fülöp Eduárd Antal,[2][2][3] एक हंगरी - जर्मन भौतिकशास्त्री और कैथोड किरणों पर अपने शोध और उनके गुणों से कई की खोज के लिए भौतिकी के लिए 1905 में नोबेल पुरस्कार का विजेता थे। वे नाजी विचारधारा के एक सक्रिय समर्थक भी थे।

प्रारंभिक जीवन और कार्य[संपादित करें]

फिलिप लेनार्ड पोज़सोनी, हंगरी, ऑस्ट्रियन साम्राज्य (वर्तमान ब्रटीस्लावा, स्लोवाकिया), मे ७ जुलाई १८६२ को एक वाइन व्यापारी के घर पैदा हुए थे। लेनार्ड के माता पिता जर्मन थे और उनका परिवार मूल रूप से १७ वीं सदी में टायरॉल से संबंधित था। [4] १८८० में उन्होने वियना और बुडापेस्ट में भौतिकी और रसायन शास्त्र का अध्ययन किया। [5] १९०५ में फिलिप लेनार्ड रॉयल स्वीडिश विज्ञान एकेडमी और १९०७ मे हंगरी विज्ञान अकादमी के सदस्य बन गए।

भौतिकी में योगदान[संपादित करें]

फोटोइलेक्ट्रिक अन्वेषण[संपादित करें]

एक भौतिक विज्ञानी के रूप में, लेनार्ड का प्रमुख योगदान कैथोड किरणों का अध्ययन है, जो उन्होंने 1888 में शुरू किया था। उन्होने जे जे थॉमसन के कुछ कार्यों की पुष्टि की, एवम् अंततः समझ में आ गया कि कैथोड रे नकारात्मक चार्ज कणों की ऊर्जावान धारा है।[6]

उनकी क्रुक्स ट्यूब जांच का एक परिणाम यह सामने आया की, पराबैंगनी प्रकाश के साथ एक शून्य में धातुओं पर विकिरण द्वारा उत्पादित किरण कैथोड किरणों के कई मामलों में समान थी। उनकी सबसे महत्वपूर्ण खोज यह थी कि किरणों की ऊर्जा प्रकाश तीव्रता से स्वतंत्र था, लेकिन प्रकाश की तरंग दैर्ध्य के लिए अधिक से अधिक कम किया गया था।

बाद की इन टिप्पणियों को अल्बर्ट आइंस्टीन ने एक क्वांटम प्रभाव के रूप में समझाया। इस सिद्धांत ने भविष्यवाणी की कि कैथोड रे ऊर्जा बनाम प्लॉट की आवृत्ति प्लैंक स्थिरांक, एच के बराबर ढलान के साथ एक सीधी रेखा होगी। यह कुछ साल बाद मामला दिखाया गया था। 1921 में जब आइंस्टीन को भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, तब फोटो-इलेक्ट्रिक क्वांटम सिद्धांत का हवाला दिया गया था। आइंस्टीन के सामान्य आराधन के बावजूद, लेनार्ड सापेक्षता और आइंस्टीन के सिद्धांतों का एक प्रमुख संदेह बन गया था; हालांकि, उन्होंने फोटोइलेक्ट्रिक प्रभाव के आइंस्टीन के स्पष्टीकरण का विवाद नहीं किया। लेनार्ड ने विलहम कॉनरैड रॉटजन को दिए गए श्रेय से बेहद नाराजगी जताई, जिन्हें एक्स-रे की खोज के लिए 1901 में भौतिकी में पहला नोबेल पुरस्कार मिला,[7][8] इस तथ्य के बावजूद कि विल्हेल रॉन्टगन जर्मन थे और एक गैर- यहूदी। लेनार्ड ने लिखा है कि वह नहीं, Roentgen, "एक्स-रे की माँ" था, क्योंकि उसने उन उपकरणों का आविष्कार किया था जो उन्हें पैदा करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। लेनार्ड ने रॉन्जेन की भूमिका की तुलना एक "दाई" से की, जो केवल जन्म के साथ सहायता करती है।

मौसम विज्ञान मे योगदान[संपादित करें]

लेनार्ड 1892 में उसका अध्ययन करने वाले पहले व्यक्ति थे जिसे आज लेनार्ड प्रभाव कहा जाता है। जल बूंदों के साथ वायुगतिकीय अलगाव के साथ विद्युत प्रभार का विखंडन है। यह स्प्रे विद्युतीकरण या झरना प्रभाव के रूप में भी जाना जाता है।[9]

यहूदी विरोधी[संपादित करें]

लेनार्ड को आज एक मजबूत जर्मन राष्ट्रवादी के रूप में याद किया जाता है जिसने अंग्रेजी भौतिकी को तुच्छ माना और जो उसे जर्मनी से उनके विचारों के चोरी के रूप में देखते थे। वह नेशनल सोशलिस्ट पार्टी में तब शामिल हो चुके थे जब ऐसा करना राजनीतिक आवश्यक या लोकप्रिय बन गया।

एडॉल्फ हिटलर के लिए एक सलाहकार, लेनार्ड नाजियों के तहत आर्य भौतिकी के मुख्यमंत्री बन गए।

लेनार्ड सैद्धांतिक भौतिकी के प्रोफेसर के रूप में 1931 में हीडलबर्ग विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त हुऐ. उन्होने वहाँ एमेरिटस स्थिति हासिल किया, लेकिन मित्र देशों के कब्जे बलों द्वारा अपने पद से 1945 में निष्कासित कर दिये गये जब वे 83 वर्ष के थे। उनकी 1947 में मृत्यु हो गई।

सम्मान और पुरस्कार[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Lénárd Fülöp (1862-1947)". Sulinet (हंगेरियाई में). मूल से 16 नवंबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 फ़रवरी 2011.
  2. Restivo, Sal P. (2005). "Scientific Migration from Eastern Europe". Science, Technology, and Society. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. पृ॰ 503. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780195141931.
  3. Bernard S. Schlessinger, June H. Schlessinger (2001). The Who's who of Nobel Prize winners. Oryx Press. पृ॰ 150. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0897741935, 9780897741934 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद). अभिगमन तिथि 2009.06.06.. |pages= और |page= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  4. "Fizikai Szemle; ELEKTRON ÉS ÉTERFIZIKA: LÉNÁRD FÜLÖP (1862-1947)" (हंगेरियाई में). Hungarian Academy of Sciences, Physical Sciences Section. 1997. पृ॰ 116. मूल से 5 जून 2011 को पुरालेखित. Written in Hungarian by the autobiography of the famous physicist: फिलिप लेनार्ड |firstlast= missing |lastlast= in first (मदद)
  5. "Lénárd Fülöp". मूल से 5 मई 2005 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 फ़रवरी 2011.
  6. "लेनार्ड का नोबेल व्याख्यान (१९०६)" (PDF). मूल से 14 दिसंबर 2010 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 2 फ़रवरी 2011.
  7. "When science gets ugly – the story of Philipp Lenard and Albert Einstein". अभिगमन तिथि 2018-08-25.
  8. "Science Gets Political, Einstein Gets Fired in Nat Geo's 'Genius'".
  9. "अमेरिकी मौसम विज्ञान सोसायटी शब्दावली". मूल से 5 फ़रवरी 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 फ़रवरी 2011.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]