दंगल (फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दंगल
Dangal Poster.jpg
दंगल का पोस्टर
निर्देशक नितेश तिवारी
निर्माता आमिर खान
लेखक नितेश तिवारी
अभिनेता आमिर खान
साक्षी तंवर
फ़ातिमा सना शेख
ज़ायरा वसीम
सान्या मल्होत्रा
सुहानी भटनागर
संगीतकार प्रीतम
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • 23 दिसम्बर 2016 (2016-12-23)
देश भारत
भाषा हिन्दी
कुल कारोबार 2026.55 करोड़[1]

दंगल एक भारतीय हिन्दी फिल्म है, जिसका निर्माण आमिर खान ने किया है। इसका निर्देशन और लेखन का कार्य नितीश तिवारी ने किया है। इस फ़िल्म में मुख्य किरदार में आमिर खान, साक्षी तंवर, फ़ातिमा सना शेख, ज़ायरा वसीम, सान्या मल्होत्रा और सुहानी भटनागर हैं।[2] यह फ़िल्म 23 दिसम्बर 2016 को सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई।

कहानी[संपादित करें]

महावीर सिंह फोगाट पहले एक पहलवान रहता है, लेकिन अच्छी नौकरी के लिए कुश्ती छोड़ दिया रहता है। इस कारण भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने का उसका सपना भी अधूरा रह जाता है। इसके बाद वह सोचता है कि उसका अधूरा सपना उसका बेटा पूरा करेगा। लेकिन उसके घर लगातार चार बेटियों के होने से वह निराश हो जाता है। क्योंकि उसे लगता है कि लड़कियों को कुश्ती नहीं बल्कि घर के कार्यों को सीखना चाहिए। लेकिन जब उसकी बड़ी बेटियाँ, गीता फोगाट और बबीता फोगाट मिल कर उन पर अपमानजनक टिप्पणी करने वाले लड़कों को पीट कर आ जाते हैं तो उसे उनमें भविष्य का पहलवान दिखाई देता है।

महावीर उन दोनों को कुश्ती सिखाने लगता है। उसके द्वारा कठोर तरीकों से सीखना, बाल छोटे-छोटे कटवाना, सुबह सुबह कसरत करना आदि से शुरू में उन लड़कियों को अपने पिता के ऊपर बहुत क्रोध आते रहता है, पर जल्द ही उन्हें यह एहसास हो जाता है कि उनके पिता उन्हें केवल गृहणियों के रूप में जीवन बिताने के लिए नहीं बल्कि देश के लिए कुछ कर दिखाने के लिए यह सब कर रहे हैं। इसके बाद वो दोनों खुशी से महावीर से कुश्ती के दांव-पेंच सीखते हैं। महावीर उनको प्रतियोगिता में भी ले जाता है, जिसमें गीता और बबीता मिल कर कई लड़कों को हरा देते हैं। प्रतियोगिताओं को जीतते हुए गीता को पटियाला में प्रशिक्षण लेने का मौका मिलता है। जिसके बाद वह कॉमनवैल्थ खेलों में हिस्सा ले सकेगी।

गीता उस संस्थान में जाने के बाद अपने दोस्तों के साथ मिल कर अनुशासन की उपेक्षा करने लगती है। वह हर समय टीवी देखती, सड़क पर मिलने वाले खाने खाती और लंबे बाल रखती थी। उस संस्थान के शिक्षक का तकनीक उसके पिता के तकनीक से थोड़ा अलग था, और गीता को लगता था कि उसके शिक्षक का तकनीक उसके पिता के तकनीक से बहुत अच्छा है जबकि उसके पिता की तकनीक पुरानी हो चुकी है। वह घर लौट आती है तो वह उसके पिता के सिखाये तकनीक के स्थान पर संस्थान में सिखाये तकनीक से मुक्केबाज़ी करती है। इसके बाद महावीर और गीता में मुक्केबाजी होती है और अपने बढ़ती उम्र के कारण महावीर उससे हार जाता है। बबीता अपने बहन गीता से कहती है कि वह अभी जिस स्थान पर है, वह उसके पिता के तकनीक के कारण है और उसे अपने पिता के तकनीक को नहीं भूलना चाहिए।

गीता की तरह बबीता भी उस संस्थान में चले जाती है। गीता लगातार हर मैच हारते रहती है, क्योंकि वह अपने पिता द्वारा सिखाये गए तकनीक या कुश्ती में पूरी तरह ध्यान नहीं देते रहती है। उसने अपने नाखून बढ़ा लिए रहते हैं और रंग भी लगा रखा होता है साथ में अपने बालों को भी काफी लंबा रखें होने कारण भी उसे हार का सामना करना पड़ते रहता है। उसे अपनी गलती का एहसास हो जाता है और वह इस बात को महावीर को बताती है। महावीर उसके संस्थान में आ कर उन दोनों को प्रशिक्षण देने लगता है। लेकिन उस संस्थान में प्रशिक्षण सिखाने वाले को जब इस बात का पता चलता है तो वह उन दोनों को बाहर निकालने हेतु शिकायत कर देता है। उसके बाद यह निर्णय हुआ कि उन दोनों को संस्थान में तभी रखा जा सकता है जब महावीर संस्थान में न आए और उन दोनों को कहीं कोई प्रशिक्षण न दे। इसके बाद महावीर गीता के पुराने वीडियो को देखता है जिसमें वह हार जाये रहती है और फोन के द्वारा गीता को उसके गलती के बारे में बताता है।

कॉमनवैल्थ खेलों में गीता हिस्सा ले लेती है और महावीर उसके कोच के निर्देशों के विपरीत दर्शकों के साथ बैठ जाता है। गीता अपने कोच के सिखाए तरीकों से न लड़ कर अपने पिता के सिखाये तरीकों से लड़ती है और हर बार जीत जाती है। उस कोच को महावीर से जलन होने लगती है और इस कारण वह महावीर को एक कमरे में बंद कर देता है। महावीर के अनुपस्थिति में भी गीता स्वर्ण पदक जीत जाती है और भारत की पहली महिला पहलवान बन जाती है, जिसने स्वर्ण पदक जीता।

सही समय पर महावीर वहाँ से निकल आता है और समाचार मीडिया के सामने वह कोच अपना श्रेय नहीं ले पाता है। इसके बाद फिल्म के अंत होने से थोड़ा पहले दिखाया जाता है कि बबीता भी कॉमनवैल्थ खेल 2014 में स्वर्ण पदक जीत जाती है और गीता पहली महिला मुक्केबाज बनती है जो ओलिंपिक्स में हिस्सा लेती है।

कलाकार[संपादित करें]

निर्माण[संपादित करें]

पात्र चुनाव[संपादित करें]

अप्रैल 2015 को फातिमा साना शेख और सन्या मल्होत्रा को महावीर फोगत के पुत्री के किरदार के लिए चुना गया।[3][4][5] जून 2015 को बाल कलाकार में ज़रीना वसीम को जम्मू कश्मीर और सुहानी भटनागर को दिल्ली से लिया गया। आयुष्मान खुराना के भाई अपरशक्ति खुराना भी इस फ़िल्म से जुड़ गए। विक्रम सिंह इस फ़िल्म में एक खलनायक की भूमिका में दिखाई देंगे। दंगल के लिए आमिर ने अपना कुछ किलो वजन बढ़ाया और साथ ही हरियाणवी भाषा सीखी।

फिल्मांकन[संपादित करें]

इसके फिल्मांकन का कार्य 1 सितंबर 2015 से शुरू हुआ। इस फिल्म के स्थल को लुधियाना के गांवों में रखा गया और उसे हरियाणवी रूप दिया गया। इसके बाद फिल्माने का कार्य किला रायपुर, पंजाब और हरियाणा में किया गया। सितंबर 2015 और दिसंबर 2015 के मध्य आमिर खान ने अपना 9% चर्बी से बढ़ा कर 30% चर्बी करके अपना वजन 97 किलो कर दिया और वापस फिल्म के शुरुआत वाले दृश्यों के लिए जिसमे उन्हें युवा महावीर फोगाट को दर्शाना था उसके लिए अपना वजन वापिस 97 किलो से 70किलो कर लिया।

संगीत[संपादित करें]

फिल्म के लिए संगीत प्रीतम ने दिया है और बोल अमिताभ भट्टाचार्य ने लिखे हैं।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."हानिकारक बापू"सरवर खान, सरताज खान बरना4:22
2."धाकड़"रफ़्तार2:56
3."गिलहरियां"जोनिता गाँधी3:40
4."दंगल"दलेर मेंहदी4:59
5."नैना"अरिजीत सिंह3:45
6."धाकड़" (आमिर खान संस्करण)आमिर खान2:56
7."इडियट बन्ना"नूरां सिस्टर्स4:08
कुल अवधि:26:55

आलोचनात्मक स्वीकार्यता[संपादित करें]

समीक्षा एग्रीगेटर वेबसाइट रॉटेन टमेटोज़ की रिपोर्ट है कि फ़िल्म को 88% अनुमोदन रेटिंग प्राप्त है, जो आलोचकों द्वारा १७ समीक्षाओं के आधार पर, 10 में से 8.1 के औसत स्कोर के साथ है।[6] चीनी वेबसाइट डौबन पर चार लाख से अधिक उपयोगकर्ताओं द्वारा मूल्यांकन किए जाने पर, यह 10 में से 9.1 की रेटिंग रखता है।[7]

आलोचकों ने अक्सर दंगल में विषय वस्तु के चित्रण की प्रशंसा की। फिल्मफेयर पत्रिका के रचित गुप्ता ने फिल्म को "हर अर्थ में परिपूर्ण" बताते हुए इसे पूर्ण पांच सितारा रेटिंग दी। उन्होंने आगे कहा, "फिल्म का निर्देशन और लेखन इतना आकर्षक है कि यह दर्शकों को खड़े होने और तालियां बजाने के लिए प्रेरित करता है। शानदार संपादन और फिल्म निर्माण तकनीक के अलावा, दंगल में कुश्ती के मैच हैं जो प्रामाणिक और वास्तविक हैं।"[8] द टाइम्स ऑफ इंडिया की मीना अय्यर ने इसे "प्रेरणादायक और मनोरंजक" कहा और पांच सितारा रेटिंग में से साढ़े चार से सम्मानित किया।[9] द इंडियन एक्सप्रेस की शुभ्रा गुप्ता ने पांच में से तीन स्टार रेटिंग दी और कहा कि फिल्म ने दो मापदंडों पर काम किया: यह एक "एक लोकप्रिय खेल के बारे में एक सरल फिल्म है" और "लड़कियों के बारे में मजबूत नारीवादी बयान, यदि बेहतर नहीं है, तो एक ऐसे क्षेत्र में जो उन्हें कभी नहीं देखा गया है, अकेले ही स्वीकार किया जाता है।"[10] एनडीटीवी के सैबल चटर्जी ने फिल्म को पांच में से चार स्टार दिए और इसे "बेहद मनोरंजक खेल गाथा" कहा, यह बताया कि अन्य बॉलीवुड फिल्मों के विपरीत, दंगल "मेलोड्रामैटिक फलने-फूलने के मामले में टूट नहीं जाता" और वह यह "प्रदर्शनकारी छाती थपथपाने और झंडा लहराने" से परहेज करता है। उन्होंने महसूस किया कि यह "हास्य के साथ तीव्रता, और तमाशा के साथ अंतरंगता, पूर्णता के साथ मिश्रित है।"

इंडिया टुडे की अनन्या भट्टाचार्य ने पांच सितारा रेटिंग में से चार दिए और लिखा, "झगड़े, भावनात्मक उथल-पुथल, बाप-बेटी के झगड़े, दंगल में केंद्र-मंच लेते हैं।" उन्होंने आगे कहा, "तिवारी बॉलीवुड स्पोर्ट्स फिल्मों की किताब में हर एक ट्रॉप का उपयोग करते हैं... एक ताजगी और विशेषज्ञता के साथ जो शायद ही कभी देखी जाती है।"[11] फिल्म को पूर्ण पांच सितारों से सम्मानित करते हुए, डेक्कन क्रॉनिकल के रोहित भटनागर ने इसे "एक अपरिहार्य महाकाव्य" कहा। कथा को "मूल से आकर्षक" बताते हुए, उन्होंने चक दे! इंडिया ​​से तुलना की।[12] रीडिफ.कॉम की सुकन्या वर्मा ने महसूस किया कि दंगल "उन कुछ फिल्मों में से एक थी जो रणनीति और तकनीक पर इस तरह से चर्चा करती है जो समझने में आसान और मनोरंजक हो"। इसे "उत्साहजनक रचना" कहते हुए और अभिनय प्रदर्शनों की प्रशंसा करते हुए, उन्होंने लिखा, "झगड़ों की कच्ची, खुरदरी, आंत की कोरियोग्राफी ... बहुत विस्मय पैदा करती है"।[13] हॉलीवुड रिपोर्टर की लिसा त्सेरिंग ने महसूस किया कि फिल्म "भावनात्मक अनुनाद, तकनीकी कलात्मकता और सम्मोहक प्रदर्शन" से प्रेरित है, जबकि यह कहते हुए कि "यह देखना बहुत रोमांचकारी है। न केवल पारिवारिक दृश्य सच होते हैं, बल्कि तिवारी कुश्ती के दृश्यों को बुद्धिमत्ता के साथ देखते हैं और संवेदनशीलता।"[14]

सभी प्रमुख अभिनेताओं के अभिनय प्रदर्शन की सराहना करते हुए, अधिकांश आलोचकों ने खान के प्रदर्शन की प्रशंसा की। खलीज टाइम्स की दीपा गौरी ने लिखा है कि खान "इतना गंभीर और प्रेरित प्रदर्शन करते हैं कि [यह] भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे बेहतरीन में से एक के रूप में याद किया जाएगा।"[15] मैटलैंड मैकडोनाग ने फिल्म जर्नल इंटरनेशनल के लिए लिखा है, "गीता और बबीता का किरदार निभाने वाली सभी चार अभिनेत्रियां आश्चर्यजनक रूप से अच्छी हैं, और खान बेहद त्रुटिपूर्ण महावीर के रूप में सामने आते हैं। "वास्तव में शानदार प्रदर्शन", जबकि "दंगल' की लड़कियां एक वास्तविक खोज हैं।"[16] हिंदुस्तान टाइम्स के रोहित वत्स ने इसे "अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन" कहा।[17] रीडिफ.कॉम के राजा सेन ने महसूस किया कि खान का चरित्र "आकर्षक और त्रुटिपूर्ण दोनों" था और उन्होंने कहा कि वह "एक विजेता है जो अपने विश्वासों के बारे में पूरी तरह से आश्वस्त है जो उसके चारों ओर की दुनिया को उसकी इच्छा के अनुसार मोड़ देता है। यह एक जीवन भर का प्रदर्शन है"।[18] द हिंदू के बाराद्वाज रंगन ने अपने निजी ब्लॉग में उल्लेख किया कि खान ने चरित्र की विरोधाभासी प्रकृति को "खूबसूरती से" लाया और इसे "उनके बेहतरीन प्रदर्शनों में से एक" कहा। सलमान रुश्दी का मज़ाकिया संस्करण ... एक चुस्त-दुरुस्त मुखौटा के साथ, [वह] भावनाओं को संप्रेषित करने के सौ तरीके खोजता है।"

फिल्म में विरोधियों का हिस्सा था, जिन्होंने कथा और प्रदर्शन की प्रशंसा करते हुए महसूस किया कि फिल्म में चित्रित नारीवाद की अवधारणा त्रुटिपूर्ण थी। उन्होंने बताया कि पहलवान-पिता देश के लिए पदक जीतने के अपने लक्ष्य की खोज में अपनी बेटियों को उनकी इच्छा के विरुद्ध प्रशिक्षित करते हैं। द हिंदू के लिए समीक्षा करते हुए, नम्रता जोशी ने लिखा है कि फिल्म "नारीवादी कवच ​​में खामियों" को छिपाने के उद्देश्य के बावजूद, इसकी "कठिनाई और जटिलताओं" का पता नहीं लगाती है और केवल "आसान राष्ट्रवादी कालीन के नीचे ढक दिया" "व्यक्ति से पहले राष्ट्र" तर्क के साथ सब कुछ सही ठहराना। उन्होंने फिल्म में चित्रित "पितृसत्ता के कथित पतन के आसान उत्सव" की शिकायत की और कहा कि "पुरुष वास्तव में अभी भी बहुत अधिक नियंत्रण में हैं।"[19] इस विचार को वर्तिका पांडे ने अपने "फेमिनिस्ट रीडिंग" में प्रतिध्वनित किया था, जिसने लिखा, "दंगल अंत में एक कुलपति के बारे में एक फिल्म है जो महिलाओं को "सशक्त" करती है और जाहिर तौर पर सभी प्रशंसा लेती है।" ऑनलाइन ने देखा कि "महिलाओं का उत्थान अभी भी एक अधूरे पुरुष सपने की अभिव्यक्ति है। यह पुरुष कोच है जो सच्चे नायक के रूप में उभरता है, न कि महिला।" चीनी दर्शकों ने फिल्म से मुलाकात की, जहां रिलीज के बाद, नारीवाद पर एक नई बहस शुरू हुई।[20] एक दर्शक ने शिकायत की कि फिल्म "पितृसत्ता और पुरुष वर्चस्ववाद का प्रतीक है"।

फिल्म के अन्य क्षेत्रों में भी आलोचना का निर्देशन किया गया था जैसे कि अकादमी में कोच का चरित्र चित्रण। मिंट के उदय भाटिया ने महसूस किया कि यह "अक्षम और प्रतिशोधी" था।[21] राजीव मसंद ने महसूस किया कि यह "घटिया" था और "फिल्म के अंतिम कार्य में मोड़ ... पूरी तरह से असंबद्ध" के रूप में सामने आया।[22] द वायर के तनुल ठाकुर ने भी महसूस किया कि कोच को "एक कैरिकेचर में कम कर दिया गया" और "वह केवल इसलिए मौजूद है क्योंकि आमिर एक नायक बन सकता है।" ठाकुर ने लिखा है कि फिल्म का दूसरा भाग "दोहराव और फूला हुआ" था और यह "घिसा-पिटा...अनावश्यक रूप से नाटक को इंजेक्ट करने की कोशिश" का उपयोग करता है।[23]

विवाद[संपादित करें]

राजनैतिक विवाद[संपादित करें]

दंगल की भारत में रिलीज पर राजनीतिक विवाद हुआ था। नवंबर 2015 में, खान ने भारत में बढ़ती असहिष्णुता के बारे में अपनी और किरण की भावनाओं को व्यक्त किया, जिसके कारण खान को हिंसक धमकियों सहित टिप्पणियों के लिए तीव्र प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा। खान की टिप्पणियों के खिलाफ निरंतर प्रतिक्रिया के हिस्से के रूप में, दंगल के खिलाफ विरोध और बहिष्कार का आह्वान किया गया था। अक्टूबर 2016 में, विश्व हिंदू परिषद ने फिल्म के खिलाफ विरोध का आह्वान किया। दिसंबर 2016 में रिलीज होने के बाद, ट्विटर पर #BoycottDangal ट्रेंड कर रहा था, और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने फिल्म के खिलाफ विरोध का आह्वान किया।

पाकिस्तान में इसकी रिलीज को लेकर भी विवाद हुआ था। इंडियन मोशन पिक्चर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईएमपीपीए) द्वारा पाकिस्तानी फिल्म कलाकारों और तकनीशियनों को भारतीय फिल्मों में काम करने से प्रतिबंधित करने के जवाब में, पाकिस्तानी थिएटर मालिकों और प्रदर्शकों ने अस्थायी रूप से भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगाकर प्रतिक्रिया दी। खान की लोकप्रियता के कारण, हालांकि, दंगल को पाकिस्तान में रिलीज करने के लिए तैयार किया गया था, लेकिन केंद्रीय फिल्म सेंसर बोर्ड ने मांग की कि भारतीय ध्वज और भारतीय राष्ट्रगान वाले दृश्यों को छोड़ दिया जाए। खान ने इनकार कर दिया, और इस तरह फिल्म पाकिस्तान में रिलीज नहीं हुई, जहां इसे ₹12 करोड़ तक की कमाई की भविष्यवाणी की गई थी।

पुरस्कार विवाद[संपादित करें]

2017 में 64 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार पर विवाद हुआ, जिसे समिति ने दंगल के लिए आमिर खान के प्रदर्शन के बजाय रुस्तम में उनके प्रदर्शन के लिए अक्षय कुमार को सम्मानित किया। समिति के सदस्य प्रियदर्शन, जिन्होंने कई फिल्मों में कुमार के साथ काम किया है, ने खान के बजाय कुमार को पुरस्कार देने के लिए निम्नलिखित स्पष्टीकरण दिया:

हमें आमिर खान को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार क्यों देना चाहिए था जबकि उन्होंने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह पुरस्कार समारोह में शामिल नहीं होते हैं? अगर वह सम्मान स्वीकार नहीं करना चाहते हैं, तो उन्हें सम्मानित करने का क्या मतलब है? आजकल, हमने लोगों को अपने पुरस्कार लौटाते देखा है। हम वह जोखिम नहीं उठाना चाहते थे।

इसी तरह 18वें आईफा अवॉर्ड्स में भी दंगल को अवॉर्ड नहीं दिया गया था, जहां कुमार को भी अवॉर्ड नहीं दिया गया था. IIFA अवार्ड्स के आयोजकों के अनुसार:

तो मूल रूप से, आइफा में, विभिन्न प्रोडक्शन हाउसों को फॉर्म भेजे जाते हैं। वे उन फॉर्मों को भरकर हमें वापस भेज देते हैं। फिर उन फॉर्मों को वोटिंग के लिए उद्योग में रखा जाता है और वहां से यह नामांकन बन जाता है। इसलिए, दंगल ने उनकी एंट्री नहीं भेजी है। हम चाहेंगे कि दंगल इसका हिस्सा बने। मुझे लगता है कि यह एक ऐसी फिल्म है जिसने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। हम आमिर खान और दो छोटी लड़कियों से प्यार करते हैं। उन्होंने बहुत अच्छा कार्य किया है। लेकिन दुर्भाग्य से, उन्होंने अपनी प्रविष्टि नहीं भेजी।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 4 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 जुलाई 2017.
  2. "दंगल गर्ल ज़ायरा के समर्थन में खुलकर आए आमिर ख़ान". मूल से 15 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 जून 2017.
  3. "MEET AAMIR KHAN'S WRESTLER DAUGHTERS". मूल से 25 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2015.
  4. "Aamir Khan's daughters in 'Dangal' finally revealed!". मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2015.
  5. "Aamir Khan has found his onscreen daughters for 'Dangal'?". मूल से 25 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2015.
  6. Dangal Yuddham (अंग्रेज़ी में), अभिगमन तिथि 2021-09-19
  7. "摔跤吧!爸爸 (豆瓣)". movie.douban.com. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  8. "Movie review: Dangal". filmfare.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  9. Dangal Movie Review {4.5/5}: Demonetisation be damned, watch Dangal, अभिगमन तिथि 2021-09-19
  10. "Dangal movie review: Aamir Khan, his Phogat girls show how blood, sweat, tears make champions". The Indian Express (अंग्रेज़ी में). 2016-12-24. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  11. December 22, Ananya Bhattacharya; January 2, 2016UPDATED:; Ist, 2017 02:55. "Dangal movie review: Aamir Khan proves why he is the sultan of great Indian cinema". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  12. bhatnagar, rohit (2016-12-22). "Dangal movie review: An unmissable epic". Deccan Chronicle (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  13. Verma, Sukanya. "Review: Dangal is the perfect finish to 2016". Rediff (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  14. Tsering, Lisa; Tsering, Lisa (2016-12-24). "'Dangal' ('Wrestling Match'): Film Review". The Hollywood Reporter (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  15. Gauri, Deepa. "Dangal review: Honest, intense and searingly real". Khaleej Times (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  16. "Film Review: Dangal | Film Journal International". archive.ph. 2017-05-24. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  17. "Dangal movie review: Aamir Khan and Phogat sisters' story win the bout". Hindustan Times (अंग्रेज़ी में). 2016-12-22. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  18. Sen, Raja. "Review: Dangal is India's best sports film". Rediff (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  19. Joshi, Namrata (2016-12-22). "Dangal: nationalism over feminism". The Hindu (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  20. "How a Bollywood film won over China and opened debate on feminism". South China Morning Post (अंग्रेज़ी में). 2017-05-21. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  21. Bhatia, Uday (2016-12-22). "Film review: Dangal". mint (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  22. "Benefit of bout | Rajeev Masand – movies that matter : from bollywood, hollywood and everywhere else". web.archive.org. 2017-05-24. अभिगमन तिथि 2021-09-19.
  23. "'Dangal' Aims High But Misses the Gold Medal". The Wire. अभिगमन तिथि 2021-09-19.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]