कडपा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(कड़प्पा से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कडपा (Kadapa)
కడప
Cuddapah
—  शहर  —
कडपा is located in आन्ध्र प्रदेश
कडपा (Kadapa)
निर्देशांक : 14°28′N 78°55′E / 14.47°N 78.92°E / 14.47; 78.92Erioll world.svgनिर्देशांक: 14°28′N 78°55′E / 14.47°N 78.92°E / 14.47; 78.92
Country भारत
State आन्ध्र प्रदेश
Region रायलसीमा
District वैएसआर
शासन
 • सभा Kadapa Municipal Corporation
क्षेत्र[1]
 • कुल 164.08
ऊँचाई 138
जनसंख्या (2011)
 • कुल 344
 • घनत्व <
Languages
 • Official तेलुगु, उर्दू[2]
समय मण्डल IST (यूटीसी +5:30)
PIN 516001
Telephone code 08562[3]
वाहन पंजीकरण AP-04
जालस्थल http://cdma.gov.in/KADAPA/ http://kadapa.nic.in/

कड़पा भारत के आंध्रप्रदेश राज्य के दक्षिण-मध्य में स्थित एक शहर है। यह कड़पा जिला का जिला मुख्यालय भी है। कड़पा शब्द की उत्पत्ति तेलुगु शब्द गडपा से हुई है जिसका अर्थ द्वार होता है। पहले ये कड़प्पा नाम से जाना जाता था बाद में कड़पा हो गया। मध्यकाल में कड़पा में अनेक महापुरूषों के लिए जाना जाता था। वेमना, पोथुलुरी वीर ब्रह्म, अन्नमाचार्य, पेम्मसानी तिम्मा नायुडु जैसे महापुरूष यहीं पैदा हुए. लेकिन दुर्भाग्यवश आजकल यह जातीय हिंसा के लिए जाना जाता है। कड़पा आंध्रप्रदेश के रायलासीमा क्षेत्र का मशहूर शहर है। यह आंध्रप्रदेश के दक्षिण मध्य में स्थित है। यह पेन्ना नदी से आठ किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यह शहर तीन ओर से नल्लमला और पालकोंडा पहाड़ियों से घिरा है। इस शहर को द्वार भी कहा जाता है। दरअसल यह उत्तर से तिरूपति स्थित भगवान श्री वेंकटेश्वर की पवित्र पहाड़ी पगोडा आने वाले लोगों के लिए द्वार जैसा है। रामायण के सात कांडों में एक किष्किंधकांड, कडपा के वोंटिमिट्टा में हुई घटना माना जाता है। वोंतमित्ता कड़पा शहर से बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां का आंजनेय स्वामी गांडी भी रामायण का हिस्सा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान श्री राम ने अपने बाण से गांडी पर आंजनेय स्वामी विग्रहम बनाया था, जो श्री सीता की खोज में आंजनेय हनुमान से सहायता मांगने का प्रतीक है।

इतिहास[संपादित करें]

ग्यारहवी से चौदवीं सदी तक कड़पा शहर रेनाटि चोला साम्राज्य का हिस्सा रहा। चौदवीं सदी के अंत में यह विजयनगर साम्राज्य का हिस्सा बन गया। दो दशकों तक यह विजयनगर के शासक गांडीकोटा नायक वंश के आधीन रहा है। यहां का सबसे मशहूर शासक पेम्मासानी थिम्मा नायुडु था (1422 सदी), जिसने इस क्षेत्र का खूब विकास किया। उसने कई टैंक और मंदिर बनवाए. 1565 ईस्वी में मुगलों ने गोलकुंडा पर कब्जा कर लिया। मीर जुमला ने गांडीकोटा किले पर छापेमारी की और चिन्ना थिम्मा नायुडु को धोखे से हरा दिया. 1800 ईस्वी में अंग्रेजों ने कड़पा को अपने कब्जे में ले लिया। यह शहर काफी पुराना है, लेकिन कुतुब शाही कमांडर नेकनाम खान ने शहर का विस्तार किया और इसे नेकनामाबाद नाम दिया. कुछ दिनों तक यह नाम प्रचलित रहा लेकिन अंग्रेजों ने इसे कड़पा कहना ही ज्यादा पसंद किया। अंग्रेजों के अधीन होने के बाद यह प्रधान समाहर्ता मेजर मुनरो के अधीन चार समाहर्ताओं में एक का मुख्यालय बन गया। कडपपा नबावों के स्मृति अवशेष अब भी शहर में मौजूद हैं। इनमें सबसे प्रसिद्ध टावर और दरगाह हैं। इस शहर के आसपास कई मंदिर और तीन चर्च हैं। कडपा बहुत ही प्रिय स्थान है। यहां कई दर्शनीय स्थल है। ओंतिमित्ता इन्हीं स्थलों में एक है। ओंतिमित्ता को यकशिला नगरम भी कहा जाता है।

भौगोलिक स्थिति[संपादित करें]

कड़पा 14 डिग्री 14°28′ और 14.47°N उत्तरी अक्षांश तथा 78°49′ और 78.82° पूर्वी देशांतर के बीच स्थित है। समुद्रतल से इसकी औसत ऊंचाई 138 मीटर (452 फीट) है। कड़पा जिले का क्षेत्रफल 8723 वर्ग किलोमीटर है। यह अनियमित समांतर चतुर्भुज आकार में पूर्वी घाट की पहाड़ियों से लंबवत बंटा हुआ है। दोनों भागों की आकृति बिल्कुल अलग है। जिले का उत्तर-पूर्व और दक्षिण-पूर्व भाग निम्न ढाल का समतल मैदान है। जबकि दूसरा भाग दक्षिणी और दक्षिण-पश्चिम भाग उच्च

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

लोकप्रियता[संपादित करें]

साहित्यिक पहचान[संपादित करें]

कड़पा में उर्दू[संपादित करें]

शिक्षा[संपादित करें]

कृषि और उद्योग[संपादित करें]

प्रसिद्ध व्यक्तित्व[संपादित करें]

रेफरेन्स[संपादित करें]

  1. "Brief about Kadapa Municipal Corporation". www.cdma.gov.in. Municipal Administration & Urban Development Department, Govt. of Andhra Pradesh. http://cdma.gov.in/KADAPA/. अभिगमन तिथि: 8 अक्टूबर 2013. 
  2. http://www.languageinindia.com/april2003/urduinap.html
  3. "STD Codes (Andhra Pradesh)". Sarkaritel. 2005. http://www.sarkaritel.com/codes/std_codes_andhrapradesh.htm. अभिगमन तिथि: 2009-10-19.